A+ A A-

हरियाणा के महेंद्र सिंह नामक जी न्यूज के रिपोर्टर की इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब चर्चा है और सब लोग इनकी सराहना कर रहे हैं. साथ ही जी न्यूज की तलवाचाट पत्रकारिता पर छी छी भी कर रहे हैं. दरअसल जी न्यूज के रिपोर्टर महेंद्र ने भाजपाई सीएम खट्टर से जनहित से जुड़े कुछ सवाल पूछ लिए तो खट्टर भन्ना गए और जी न्यूज के मालिक से शिकायत कर दी. इसके बाद जी न्यूज प्रबंधन ने महेंद्र को नौकरी से निकाल दिया.

महेंद्र ने फेसबुक पर संबंधित वीडियो और अपना पक्ष रखा है जिसे लोग खूब शेयर और लाइक कर रहे हैं. वीडियो ये है : https://www.youtube.com/watch?v=EKsqSO0u5rw

क्या थे सवाल और क्या मिले जवाब...

रिपोर्टर महेन्द्र सिंह- सर नोटबंदी से लोग दुखी हैं। देश लाइनों में खड़ा है। सब परेशान हैं।

मुख्यमंत्री खट्टर- नार्थ ईस्ट से बच्चे हरियाणा घूमने आए हैं। उनसे मिलकर बड़ी खुशी हुई। आयोजकों, खासकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को बधाई।

रिपोर्टर- सर नोटबंदी पर तो बताईये..

मुख्यमंत्री- ऐतिहासिक निर्णय, देश मोदी जी के साथ।

रिपोर्टर- लाइन में लगे लोगों को आपने कहा था कि ये लोग नोटों की अदला बदली के धंधे में लगे हैं।

मुख्यमंत्री -30 दिसंबर के बाद सब सही हो जाएगा।

रिपोर्ट- सर SYL पर आपने राष्ट्रपति से मिलके ड्यूटी पूरी कर दी। प्रधानमंत्री से क्यों नहीं मिलते? करना तो उन्हें है..

मुख्यमंत्री -बस बस बहुत हो गया

कमांडो -हटो हटो..

इसके बाद रिपोर्टर महेन्द्र सिंह की जी न्यूज से छुट्टी कर दी गई।

इस प्रकरण से संबंधित कुछ फेसबुकिया पोस्ट देखें...

Ghanshyam Kaushik :  Zee News रिपोर्टर महेंद्र सिंह ने हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री खट्टर से एक साधारण सा सवाल क्या किया कि चैनल ने महेंद्र भाई से इस्तीफ़ा ही मांग लिया...... अब और क्या सुबूत दें कि Zee News और सुधीर चौधरी ने अपनी आत्मा को नरेंद्र मोदी के पैरों में गिरवी रखा हुआ है. Mahender Singh भाई, हमें आपकी पत्रकारिता और जज़्बे पर गर्व है।

Iam Kabir : Mahender Singh is my frnd and a reporter. He was asked to quit his job from Zee News because of asking fruitful questions to CM of Haryana instead of praising Govt on demonetization.  Hats off to u Bro for ur step. soon u will get a new opportunity in another organization. Best of Luck. PS: koi aisa channel to hoga jo sachchai dikhaye na ki trp k piche ho. Share if u belive in the truth instead of #mitronnnn........

Sumit Singh Dhull : क्योंकि हुकुमत को तीखे सवाल पसंद नहीं... महेंद्र भाई आपको सलाम. इस इंटरव्यू के बाद resign देना तो सीएम खट्टर का बनता था न की ज़ी न्यूज़ रिपोर्टर Mahender Singh भाई का! जनता के हितों से जुड़े सवाल पूछने के कारण सीएम खट्टर के दबाव में बीजेपी के निजी चैनल ज़ी न्यूज़ ने रिपोर्टर को ही नौकरी से निकाल दिया! मैं कहता था, ये ज़ी न्यूज़ नहीं, छी न्यूज़ है.

Suren Sawant : ये लो जी।।  बस यही कमी रह गयी थी। खुद कहते है इनकी सरकार में ये होता था उनकी सरकार में वो होता था। तो जनाब आपकी सरकार में ये क्या हो रहा है? बड़े भाई Mahender ने तो जनता के हित के सवाल किए थे , कमी तो जवाब देने वालों में थी, लेकिन भई वो बड़े आदमी है कुछ भी कर सकते है, भूल गए है जनता ने ही उन्हें बनाया है। Well done bhai mahender.. तूफान किसी दिवार से नही रुक सकता, सिर्फ दिवार को वहम है।

Deepkamal Saharan : "तुम फलां न्यूज से हो ना ?"
"हां"
"ABC है ना तुम्हारे चैनल का हैड तो"
"वो भी हैं"
"ओके ओके... तु्म्हारा वाला चैनल तो XYZ देखता है, जानता हूं बहुत अच्छे से"
...
हरियाणा सीएम स्टाफ के एक शख्स ने रिपोर्टर को कुछ ऐसे ही तेवर दिखाए थे इस इन्टरव्यू के बाद। उसी दोपहर चैनल पर इन्टरव्यू चल भी गया लेकिन रात होते होते सब संवाददाता के ही पीछे पड़ गए मानो गलती सवालों में हो, जवाबों में नहीं।

खैर, अच्छी बात यह है कि अगले ही दिन पहले रिपोर्टिंग बंद करने और फिर Resign भेजने के आदेश मिलने के बावजूद Mahender Singh हतोत्साहित या निराश नहीं है। जब गलती नहीं की तो क्या अफसोस।

हिम्मत-ए-मर्दा, मदद-ए-खुदा।

फिर वही बात -
हम तो छोटे हैं, अदब से सर झुका लेंगे
बड़े तय कर लें, उनमें बड़प्पन कितना है।

Have a look at the video & share your views whether the CM staff should react in threatening tone ? or the channel should be ashamed of its correspondent ?

Mohitsingh Prince : "पसीने की स्याही से जो लिखते हैं इरादों को, उनके मुक़द्दर के सफ़ेद पन्ने कभी कोरे नहीं होते."  Mahender Singh भाई आपके लिए इतना ही कहेंगे। हम आपके साथ हैं।  नोटबंदी और SYL के मुद्दे पर सवाल किया जिसका जवाब तो नहीं मिला लेकिन रिमूव्ल लैटर जरूर मिल गया। या यू कहूं खट्टर साहब नौकरी खा गए।

Ravi Kaliraman : वाह मेरे भाई. Zee News ने Mahender Singh को अपने चैनल से इसलिए निकाल दिया, क्योंकि उन्होंने हरियाणा की जनता से जुड़े सवाल खट्टर साहब से किये थे और मुख्यमंत्री जी के पास हर बार की तरह उन सवालो के जवाब नहीं थे।

Sahil Khatri : ज़ी न्यूज़ ने Mahender Singh को अपने चैनल से इस लिए निकाल दिया, क्योंकि उन्होंनेे हरियाणा की जनता से जुड़े सवाल खट्टर साहब से किये थे और मुख्यमंत्री जी के पास हर बार की तरह उन सवालो के जवाब नहीं थे। मुख्यमंत्री से SYL के मुद्दे पर सीधा सा सवाल पूछने और उन्हें जवाब के किए बार बार आग्रह करने के कारण महेंद्र सिंह को रिलीव कर दिया। पूरी विडियो देखें और आगे लोगो तक शेयर करे। जिन के भी कहने पर ऐसा किया गया उनको एक बार फिर याद करवाना चाहूंगा- "पसीने की स्याही से जो लिखते हैं इरादों को, उनके मुक़द्दर के सफ़ेद पन्ने कभी कोरे नहीं होते."

Surender Nain : अगर दिलेर पत्रकार एकजुट हो जाए तो तलवे चाट पत्रकारों को उनकी औकात बताने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा.भाई Mahender Singh हमें आप पर गर्व है, आपका छोटा भाई आपके साथ खडा है Salute You Dear. वीडियो को देखकर ये लगता है कि हरियाणा के इतिहास में इससे कमजोर मुख्यमंत्री कभी नहीं हुआ और बात सिर्फ नौकरी की नहीं है बल्कि बात है अणख की, ईज्जत की जो आपने पाई है और किसी ने खोई है. बाकि अगर प्रदेश के मुख्यमंत्री को अपनी ईज्जत बचाने के लिए किसी की नौकरी खानी पडे तो इससे बडा पाप और शर्म की बात क्या हो सकती है।

राजेश कुण्डू पाबड़ा : मुख्यमंत्री महोदय से अपने सवालो के जवाब पाने का खामियाजा zee न्यूज़ के रिपोर्टर Mahender Singh को अपनी नौकरी गवां कर भुगतना पड़ा। हालाँकि मैने उस दिन भी कहा था कि एक ऐसे चैनल का प्रतिनिधित्व करते हुए जो दिन रात अपना कर्तव्य भूल कर सिर्फ सरकार की जिंदाबाद व् दुसरो की मुर्दाबाद करने में लगा हुआ है, सरकार को और उनके मुखिया को कठघरे में खड़ा करना महेन्द्र सिंह का वास्तव में बहुत ही ज्यादा हौसले का कदम था। जहाँ तक बात उनको हटाने की है यह कोई अप्रत्याशित घटना नही है। इनकी नींव उसी दिन रखी जा चुकी थी जिस दिन उन्होंने मुख्यमंत्री से ऐसे सवाल पूछे कि उन्हें अपना पीछा छुड़वाकर भागना पड़ा। zee ग्रुप के मालिक जो खुद 100 करोड़ रूपये की रिश्वत के आरोप में जमानत पर घूम रहे है उनसे ऐसा ना करने की उम्मीद भी बेनामी है। वास्तव में किसी मीडिया घराने के गिरने का यह न्यूनतम स्तर है। जनता की तकलीफ पर सियासी लोगो से जवाब मांगने का कर्तव्य हमेशा पत्रकारिता का रहा है और भाई महेन्द्र सिंह ने इसे बखूबी निभाया भी। इनके लिए उन्हें दिल से सलाम। रही बात अपने आप को स्वम्भू मीडिया किंग कहलाने वाले zee ग्रुप के मालिकों और मुख्यमंत्री जी की, तो उन्हें मैं इतना बता दूँ कि उनके इस फैसले से महेन्द्र सिंह आज कुछ ही पलों में हीरो और उनके गले की फांस बन गया है।

आगे पढ़ें...

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.

People in this conversation

  • Guest - G Kabat

    Aajkal Neta ko pokdo to sab ho jayega. Aajkal netao ne to media chala rehai hai. Matlum media ka remote unke haaton me to hai. Mere reporter bhai log app neta ki chamchagiri koro to Media me job asani se mil jayega. Agar poltical ka reference nehin to job vi nehin. Mere jitne vi bhai behen journalisim ka padhai kar rehe hai, krupaya dhyan de padhai ke saath saath Netaon ke pairabi kar na suru kar de, taki padhai ke baad or job kar ne ke baad apko naukri ki tension nehin rehega.

    from Bhubaneswar, Odisha, India
  • Guest - सुभाष सिंह यादव

    भड़ास4मीडिया को निष्पक्ष होकर अपना रुख रखना चाहिये, न की चिरकुट राहुल गांधी की चाटुकारिता करते हुए।

    from Jaynagar, Bihar, India
  • Guest - सुभाष सिंह यादव

    REG SUBHASH 22 PATNA

  • Guest - KAMLESH TRIPATHII

    I KNOW VERY WELL, EVERYBODY KNOW ALSO- GOD IS GREAT. HE MADE CREATURE BINDING THEM TO END NAMELY, DEATH. RAJA HO YA RANK, HOGA TERA ANT.....................GOD IS GREAT.

  • Guest - Sanjeev kumar singh

    Mahendra singh ko nikalna lajmi tha. Mahendra singh ko sochna aur samajhna chayia zee news ke malik ke upar B J P sarkar ki anupam kripa hai. Ek taraf zee ke malik ko raj sabha ka sandad banaya dusri traf zee news ke malik ki company ESSEL group ko LED light ka theka diya. Ye sari chijen to samne ke darwaje se mila hai pichhle darwaje se pata nahi aur kya kya mila hoga. Ab jab sarkar zee walon par itna meharwan hai to mahendra singh jaise payrakar ko zee news ko nikalna hi chahiye. Pata nahi iske ewaj me khattar sahab zee ke malik ko koi aur taufa de de. Thanks zee news

    from Munger, Bihar 811201, India
  • Guest - Gaurav

    मूर्खता है रिपोर्टर की ।