A+ A A-

  • Published in बिहार

बिहार के मुजफ्फरपुर से खबर है कि 'जेएनयू स्पीक्स' नामक कार्यक्रम पर भाजपा के छात्र विंग अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यकर्ताओं ने हमला कर दिया. इसके कार्यक्रम में शामिल कई लोगों को चोटें आई हैं. जेएनयू से जुड़ी रहीं महिलावादी और भाकपा माले नेता कविता कृष्णन ने इस बारे में जानकारी अपने फेसबुक वॉल पर दी है. उन्होंने बोलने के अधिकार पर लोकतांत्रिक तरीके से किए जा रहे कार्यक्रम पर हमला करने की संघी गुंडों की हरकत को बेहद शर्मनाक करार दिया. 

कविता ने फेसबुक पर लिखा है कि पत्थरबाजी और हमले से कार्यक्रम में शामिल एक बुजुर्ग व्यक्ति के सिर पर चोट आई है और वह घायल हुए हैं. प्रबीर पुरकायस्थ और खुद कविता कृष्णन को भी चोटें आई हैं. इस हमले के बावजूद कार्यक्रम में शामिल लोग डटे रहे और एकजुट होकर मुकाबला किया. बाद में सभी लोगों ने इस हमले के विरोध में जुलूस निकाला और प्रदर्शन किया. कविता कृष्णन ने मौके से कई वीडियो अपने एफबी वॉल पर पोस्ट किए हैं.

एबीवीपी कार्यकर्ताओं द्वारा हमले के वीडियो को देखने के लिए नीचे दिए गए यूट्यूब लिंक पर क्लिक करें :

ABVP throwing stones at JNU Speaks program in Muzaffarpur

https://www.youtube.com/watch?v=Q3SsNwHogqg

हमले के विरोध में किए गए प्रदर्शन के वीडियो देखने के लिए नीचे दिए गए यूट्यूब लिंक्स पर क्लिक करें :

'JNU will speak' program : march against Sanghi goons (1)

https://www.youtube.com/watch?v=3JwaEvQTm3g

संबंधित अन्य वीडियोज देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें :

https://www.youtube.com/bhadas4media

इस प्रकरण पर कविता ने अपने वॉल पर जो कुछ लिखा है, वह इस प्रकार है....

Kavita Krishnan : ABVP throwing stones at JNU Speaks program in Muzaffarpur, yet they could not disperse the crowd. JNU will speak! One person using a helmet to avoid the huge stones being flung. Ashutosh could speak and I too spoke when stones, small bombs were being thrown. One old man injured in the head. Several of us, including Prabir Purkayastha and I got stone injuries on our arms, hands. But we haven't dispersed!

We marched in protest against Sanghi goons, getting support from Muzaffarpur streets.. Videos of the March below. Comrade Ashutosh and the voice of JNU and HCU was heard on the streets of Muzaffarpur, calling to free Umar, Anirban, Geelani, calling for azaadi... The Nitish Laloo Grand Alliance Govt showed less courage in the face of Sanghi goons than the women and men of Muzaffarpur did, as you can see.

Shame on Bihar Govt, permission for JNU Speaks program in Muzaffarpur cancelled in last minute by Admin under VHP pressure. But JNU will speak to the people of Muzaffarpur nevertheless. Several alumni and students and teachers of JNU are here from many generations - including Kanhaiya's guide SN Malakar, Prabir Purkayastha, who was picked up during Emergency, Ashutosh Kumar the ex JNUSU President and one of the targeted JNU students, Ish Mishra, Qaiser Shamim and several others are here, and I'm glad to be here with them all. I'm so glad that so many people are here in spite of the Admin cowardliness, and saying they will ensure that JNU Speaks.

Tagged under jnu, attack,

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.

People in this conversation

  • Guest - SHEEBA

    कन्हैया-फैन नितीश कुमार की पुलिस कहाँ है अब?

    from Delhi, India

Latest Bhadas