A+ A A-

  • Published in दिल्ली

Asrar Khan : दिल्ली के राजौरी गार्डन विधान सभा उप चुनाव में सत्ताधारी आम आदमी पार्टी की शर्मनाक हार और भाजपा की जीत तथा कांग्रेस का दूसरे स्थान पर आना शायद इस बात का संकेत हो सकता है कि आम आदमी पार्टी जल्द ही ख़त्म हो जाएगी और कांग्रेस एवं भाजपा फिर से यहां की मुख्य पार्टियां बन जाएंगी...

इस पराजय के लिए केवल केजरीवाल और सिसोदिया जिम्मेदार हैं जो झूठ के बल पर अपनी बात को सही साबित करने की इतनी घटिया कोशिश करते हैं कि इनका समर्थक भी इनसे गहरी एलर्जी फील करने लगता है... केजरीवाल ने 'आप' की स्थापना के सारे मूल्यों को जिस तरह रौंद दिया और खुद एक तानाशाह बनकर उभरे उससे भी लोग आहत हुए ..जरूरत से ज्यादा विज्ञापन और फ्लैट में रहने का वादा करके शीला दीक्षित से भी ज्यादा आलीशान कोठी में रहने से भी केजरीवाल बेनकाब हुए और लोगों ने इनको नटवरलाल समझ लिया ...

जनसत्ता अखबार में काम कर चुके और सोशल मीडिया पर बेबाक टिप्पणी के लिए मशहूर वरिष्ठ पत्रकार असरार खान की एफबी वॉल से.

Rana Yashwant :  राजनीति में भारी जीत- उम्मीदों और भरोसे से भरी होती है. और उसी जगह पर शर्मनाक हार उनके टूटने का नतीजा होती है. आम आदमी पार्टी की दो साल पुरानी सरकार की छोटी सी कहानी यही है. बाकी दलों की तरह आप के मंत्री भी दफ्तरों, गाड़ियों, कमजोरी छिपाने के लिये दूसरे की कमजोरियों को उकेरने और गाल बजानेवाली राजनीति का शिकार हो गए. बिजली पानी से आगे बढ ही नहीं सके. मोहल्ला क्लीनिक फरेब साबित होने लगे, विकास की लंबी अवधि की योजनाओं की जगह प्रचार पर पैसा बहाने और दूसरे राज्यों में गोटी लाल करने की लालसा जोर मारने लगी. नतीजा एक ही सीट मगर राजौरी गार्डेन की हार बहुत कुछ कहती है. योगी शायद ऐसी स्थितियों का नतीजा समझते हैं, इसलिए वो काफी सक्रिय हैं और लोगों की जरुरतों-मुश्किलों को पहले निपटाने के साथ विकास की लंबी योजनाओं पर भी काम कर रहे हैं.

इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग एडिटर राणा यशवंत की एफबी वॉल से.

Tagged under aap,

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found