A+ A A-

  • Published in टीवी

Priyabhanshu Ranjan : दैनिक जागरण ने कानून को ठेंगा दिखाकर अपनी वेबसाइट पर Exit Poll प्रकाशित किया, लेकिन चैनलों ने जागरण की खिंचाई करने वाली कोई खबर नहीं दिखाई। चुनाव आयोग ने जागरण की करतूत का 'संज्ञान' लिया, लेकिन चैनल चुप रहे।

चुनाव आयोग ने जागरण के संपादकों और MD के खिलाफ FIR दर्ज करने का आदेश दिया, लेकिन चैनलों की चुप्पी नहीं टूटी। देश का एक बड़ा अखबार चुनाव प्रक्रिया के बीच में Exit Polls प्रकाशित कर कानून तोड़ता है, क्या चैनलों के लिए ये NEWS नहीं है?

मूल खबर ये है :

तेजतर्रार पत्रकार प्रियभांशु रंजन की एफबी वॉल से.

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.

People in this conversation

Latest Bhadas