A+ A A-

  • Published in टीवी

हिंदू सांप्रदायिकता की आड़ में धंधेबाजी और व्यभिचार करने वाला सुरेश चह्वाणके को राज्यसभा की तरफ से नोटिस भेजा गया है. इस नोटिस में कहा गया है कि 28 सांसदों ने लिखित शिकायत की है कि सुदर्शन न्यूज चैनल ने उनकी मानहानि करते हुए धमकाया. नोटिस में 28 जुलाई तक सुदर्शन न्यूज चैनल को अपना पक्ष रखने को कहा गया है. अगर पक्ष नहीं रखा जाता है तो एकपक्षीय रूप से ही राज्यसभा के चेयरमैन इस मामले को देखकर अपना फैसला सुनाएंगे.

सांसदों की शिकायत और राज्यसभा की तरफ से भेजे गए नोटिस की कापी यूं है :

उधर, इस मामले में बेशर्म सुरेश चह्वाणके ने खुद को पीड़ित की तरह प्रस्तुत कर धार्मिक भावनाओं को भड़काते हुए पूरे मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश करने लगा है. सुरेश चह्वाणके का इस मामले पर कहना है-  ''नरेश अग्रवाल के ख़िलाफ़ बोलने के कारण मुझे और सुदर्शन न्यूज के ख़िलाफ़ राज्यसभा का गंभीर नोटिस मिला है। धर्म के अपमान पर आमादा व पद के मद में चूर नरेश अग्रवाल, दिग्विजय सिंह, सहित कुल 28 सांसदों ने राज्यसभा में दबाव बनाया जिसके बाद मुझे और चैनल के खिलाफ दबाव में राज्यसभा ने नरेश अग्रवाल की अवमानना का विशेषाधिकार नोटिस भेजा है. प्रभु श्रीराम के सम्मान लिए मैं मृत्यु से भी टकराने को तैयार हूँ, ये 28 सांसद तो बहुत छोटी चीज़ हैं... मुझे आशा है कि प्रभु राम के अलावा मेरे साथ आप भी हैं .... यही धर्मयुद्ध है और मैं ये चुनौती स्वीकार करता हूँ.''

इसे भी पढ़ें...

xxx

xxx

xxx

xxx

xxx

xxx

xxx

xxx

xxx

xxx

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.

People in this conversation

  • Guest - Gopal

    सही है संरक्षण तो सिर्फ उनको मिलना चाहिए जो जिहादियों की दलाली करते हैं|और आपसे भी अच्छा सबक मिला रिपोर्टिंग करने पर किसी को सजा मिल रही हो और पत्रकारिता का दावा करने वाले भी उसी के विरोध में बोल रहे हो तो समझ में आता है कि अंदरखाने क्या चल रहा है|

Latest Bhadas