A+ A A-

आयरलैंड के ट्रिनिटी कॉलेज, डबलिन में भारतीय पीएचडी छात्र लखनऊ निवासी आईआईटी कानपुर के बी टेक स्नातक गोकरण शुक्ला के मामले में यूपी कैडर आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर द्वारा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और आयरलैंड में भारतीय एम्बेसी को शिकायत करने के बाद संत विन्सेंट अस्पताल, डबलिन के मनोविज्ञान विभाग से मुक्त कर दिया गया है.

गोकरण ने 20 मार्च 2017 को अमिताभ से फोन पर संपर्क कर कहा कि उनके गाइड डॉ स्तेफानो संवितोस ने उनके अध्ययन हेतु पूरी तरह फर्जी मॉडल सामने रखा है जो पूरे अकादमिक संसार के साथ धोखा है, जिसका विरोध करने पर उन्हें पैरानॉयड घोषित करा कर अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.

गोकरण ने आज अमिताभ को फोन कर धन्यवाद् दिया जबकि उनके गाइड डॉ संवितोस ने अमिताभ को कानूनी नोटिस भेज कर कहा कि वे नैनो-साइंस तथा नैनो टेक्नोलॉजी के प्रमुख स्तंभों में हैं और अमिताभ द्वारा उनकी शिकायत से उनकी ख्याति पर प्रतिकूल असर पड़ा है, अतः वे इस मामले में अविलम्ब निशर्त माफ़ी मांगें.

अमिताभ ने उन्हें जवाब में कहा कि उन्होंने अपनी शिकायत मात्र गोकरण द्वारा बताये गए तथ्यों के आधार पर की थी और उनकी नीयत डॉ सविंतोस को बदनाम करने के नहीं थी. उन्होंने कहा कि वे तभी माफ़ी मांगेंगे जब विदेश मंत्रालय या आयरलैंड में भारतीय दूतावास सहित किसी सक्षम प्राधिकारी द्वारा उनकी शिकायत गलत बताई जायेगी.

After Foreign Minister complaint,  student in Ireland  gets help

After complaint by UP Cadre IPS officer Amitabh Thakur to External Affairs Minister Sushma Swaraj and the Indian Embassy in Ireland, the Ph D student in Ireland, Gokaran Shukla, an IIT Kanpur Graduate belonging to Lucknow (UP), has been released from Psychiatric wing of Saint Vincent Hospital, Dublin.

Gokaran had contacted Amitabh on 20 March 2017 on phone saying that his Guide Dr Stephano Sanvito, Professor of Physics at Trinity College, Dublin proposed a completely fallacious model for his study which Mr Shukla vehemently opposed, which has resulted in his harassment.

Gokaran today thanked Amitabh for support but meanwhile Dr Sanvitos sent him a legal notice saying that he is a leading scientist in nanoscience and nano-technology and Amitabh’s complaint against him has caused him immense mental distress.

The legal notice sought unconditional written apology from Amitabh which he refused by saying that his complaint is based solely on the facts presented by Gokaran on phone and he had no intent to malign the Professor. He said he would apologize only when the facts stated by Gokaran are declared incorrect by a competent authority, including the Ministry of External Affairs and Indian Embassy in Ireland.

Tagged under amitabh thakur,

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found