चैनल और एंकर डरे हुए हैं या फिर नतमस्तक हैं, देखें ये वीडियो

फ़ायर ब्रांड एंकर हो या सबसे तेज़ और बोल्ड माने जाना वाला चैनल हो, इस वीडियो के ज़रिए आप समझ जाएँगे कि या तो चैनल और एंकर डरे हुए हैं या फिर नतमस्तक हैं… Share on: 20 20

एंकर अब चैनल के नहीं होते, वे पार्टी के होते हैं!

Amitaabh Srivastava : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बीजेपी को टीवी पर बहस के लिए चुनौती देते हुए कह रहे हैं कि एक एंकर उनकी (बीजेपी की) पसंद का हो और एक हमारी (यानि आम आदमी पार्टी की) पसंद का हो। Share on: 20 20

अगर आप दिल्ली के वोटर हैं तो आप पर बड़ी जिम्मेदारी है

Sanjaya Kumar Singh : शाहीनबाग अगर प्रयोग है तो दिल्ली की जनता के पास मौका है… शाहीनबाग का आंदोलन चलने देना अगर प्रयोग न हो तो मेहरबानी है ही। कट्टा चलाने वाले को तमाशबीनों की तरह देखने वाली दिल्ली पुलिस निहत्थी औरतों को खदेड़ने में कितना टाइम लगाती? महिलाओं को न पीटने या उन्हें राहत …

आज के ‘टेलीग्राफ’ में मोदी और बीजेपी का पोस्टमार्टम है!

Sanjaya Kumar Singh : गांधी के आदर्श से प्रेरित होना और गोली मारो का प्रयोग… प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कल दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए आयोजित एक रैली में शाहीनबाग के विरोध प्रदर्शन को प्रयोग कहा। उन्होंने कहा कि यह (दिल्ली चुनाव के मौके पर) संयोग नहीं प्रयोग है। प्रधानमंत्री का ऐसा कहना शायद …

दीपक चौरसिया शाहीनबाग ‘प्यास’ बुझाने गए थे!

दीपक चौरसिया का एक ट्वीट चर्चा में है. इसमें उनने शाहीनबाग अब न जाने की घोषणा की है. पर इस घोषणा से पहले उनने अपनी बात कुछ प्रतीकों-भावों के जरिए कहने की कोशिश की है. इसी कोशिश को लोगों ने अपने अपने तरीके से समझा-महसूसा है. Share on: 20 20

अमेरिका में जेलों के अंदर का हाल भयावह है, देखें कुछ तथ्य

Prakash K Ray : निजी जेलों व डिटेंशन सेंटर की कल की पोस्ट को आगे बढ़ाते हुए कुछ और सूचनाएँ. चूँकि भारत में भी यह सब होने लगा है, सो ऐसे तथ्यों को देखने से अपने देश के भविष्य का एक पहलू देखा जा सकता है. Share on: 20 20

मीडिया में बदमाशों की भरमार हो गई है!

मीडिया में काल बोध : कलयुग बोध पत्रकारिता में भी सालता है। इस बोध के चलते लगता है कि वर्तमान बहुत खराब जमाने के रूप में सामने है। अतीत में जो लोग पत्रकारिता में थे वे बहुत पवित्र आत्माएं थीं, आज सबकी सोच बहुत गंदी है। नेता की बात चले, पुलिस की बात चले इसी …

कैंसर के मरीजों को इस तरह लूट रहे हैं ड्रग माफिया!

Sunil Singh Baghel : कैंसर से ज्यादा दर्दनाक निजी अस्पतालों, दवा कंपनियों डॉक्टर का घिनौना गठजोड़ है। दवा के दलालों ने मनमानी MRP की आड़ मे इसे पटाखा बाजार जैसी मुनाफाखोरी में बदल दिया है। Share on: 20 20

मनोज तिवारी औरतों के प्रति पूरी ईमानदारी से जहर उगलते हैं!

Deepali Das : एम जे अकबर को पार्टी से ससपेंड न करने का कारण पूछने पर मनोज तिवारी अपने स्कूपव्हूप के इंटरव्यू में कहते हैं कि “अब चार पाँच साल के बाद आकर कोई भी इल्जाम लगा देता है.. महिला सुरक्षा के कानून का मैक्सिमम दुरूपयोग ही हो रहा है.” Share on: 20 20

घबराइए कि आप योगी राज के लखनऊ में हैं!

एक के बाद एक हुई हिन्दू नेताओं की दिनदहाड़े हुई हत्याओं से शर्मसार हुई राजधानी… कट्टर हिंदूवादी नेता और हिन्दू महासभा के अध्यक्ष रणजीत श्रीवास्तव की राजधानी के हजरतगंज जैसे वीवीआईपी इलाके में दिनदहाड़े हुई हत्या ने योगी राज और उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को एक बार फिर शर्मसार कर दिया है। Share on: …