अपने-अपने युद्ध (6)

पार्ट (5) से आगे…. एक बार राजेश खन्ना नाइट दिखाने की तल्ख ने उसे पेशकश की। वह खुशी-खुशी मान गई। तल्ख ने राजेश खन्ना नाइट में दो मिले कार्डों में से एक उसे दिया। दोनों पर सीट नंबर थे। दोनों ही सीटें साथ की थीं। तल्ख मगन था टेलीफोन आपरेटर को कार्ड देकर कि बगल में बैठेगी। पर सुरेंद्र मोहन तल्ख की बदकिस्मती देखिए, उस शाम टेलीफोन आपरेटर की रिलीवर ने छुट्टी की अप्लीकेशन भेज दी। सो उस टेलीफोन आपरेटर को ओवरटाइम और राजेश खन्ना नाइट में से एक चुनना था। उसने ओवरटाइम चुना। फिर अचानक उसे लगा कि राजेश खन्ना नाइट का कार्ड वह बेवजह क्यों खराब करे, क्यों न किसी को दे दे। और देने के नाम पर उसे मिला भी तो आलोक। आलोक से टेलीफोन आपरेटर हंस कर बोली, ‘कहिए तो आज आपकी रात रंगीन करा दूं?’ आलोक भी लस गया- नेकी और पूछ-पूछ? पर जब रात रंगीन करने के नाम पर उसने उसे राजेश खन्ना नाइट का कार्ड थमा दिया तो आलोक मायूस हो गया।

बोला, “शुक्रिया! चला जाऊंगा।” पर तल्ख की बदकिस्मती यहीं खत्म नहीं हुई। आलोक को भी अचानक एक खबर में उलझ जाना पड़ा। जिसमें आधी रात भी हो सकती थी। इसी खयाल में उससे सुजानपुरिया टकरा गया।

“क्या हाल हैं सुजानपुरिया जी?” आलोक ने पूछा।

“कुछ नहीं ड्यूटी खत्म। घर जा रिया हूं।”

“कहीं और तो नहीं?”

“ना भइया अब नहीं।” कह कर वह कान पकड़ने लगे।

सुजानपुरिया ताजा ताजा जी.बी. रोड पर पूरी तनख्वाह गंवा आए थे। हुआ यह था कि सुजानपुरिया के बीवी बच्चे आगरा गए हुए थे। सो उनको कुछ “चेंज” की सूझी। जिस-तिस से वह, “कहां मिलेगी,” “कोई जुगाड़ कराओ,” “कुछ चक्कर चलाओ,” जैसी बाते करते थे। एक प्रूफ रीडर ने एक दिन उनसे कह दिया, “क्या मुंह बाए हर दम भुखाए घूमते रहते हैं। माल जेब में डालिए और गांधी बाबा रोड निकल जाइए। न हाय, न किच-किच।”

“गांधी बाबा रोड?” सुजानपुरिया की जिज्ञासा बढ़ गई थी।

“अरे वही जी.बी. रोड। उसका असली नाम गांधी बाबा रोड है।”

सुजानपुरिया ने उस प्रूफ रीडर से जी.बी. रोड का पूरा खाका लोकेशन ले लिया। पहली तारीख को तनख्वाह मिली। उन्होंने अजमेरी गेट की बस पकड़ी और पहुंच गए जी.बी. रोड।

सुजानपुरिया को रंडियों के पास जाने का तजुर्बा पहले से था। आगरा में कई बार जा चुके थे। सो जानते थे कि रंडियां जामा तलाशी से सारा पैसा निकलवा लेती हैं। सो वह पूरे एहतियात के साथ पहुंचे। फुटकर सौ रुपए दो जेबों में रखा और बाकी तनख्वाह पैरों के मोजों में ठूंस कर छुपा ली। गए छांटा बीना और यहां भी सबसे सस्ती औरत तय की। जब मौका हाथ आया तो वह पायजामा उतार कर खड़े हो गए। पर जूता पहने रहे। उस औरत ने इन्हें डांटा, “जूते भी उतारो।”

“नहीं जूते नहीं।” कहते हुए सुजानपुरिया ने हाथ जोड़ लिए। औरत तड़ गई। उसने बड़ी फुर्ती से इनका जूता उतार कर मोजा टटोल लिया। बोली, “बड़ी बदबू आ रही है। इसे भी उतार देते है।” सुजानपुरिया का सारा मजा खराब हो गया। वह उस औरत के पैरों पर गिर पड़े। बड़ी मिन्नत की, “नहीं मोजे नहीं।” पर उनके दोनों मोजे उसने निकाल कर पैसे ब्लाउज में खोंस लिए। सुजानपुरिया गिड़गिड़ाते रहे। पर उसने उनकी एक न सुनी और कमरे से बाहर कर दिया। सुजानपुरिया बिना कुछ किए धरे बेरंग तनख्वाह गंवा कर बाहर हो गए। अब तक कई औरतों ने उन्हें घेर लिया था। कोई गुदगुदा रही थी, कोई चुटकी काट रही थी तो कोई टीप मार रही थी। सुजानपुरिया रोने लगे। पैसे मांगने लगे। सभी औरतों के पैर पड़-पड़ के गिड़गिड़ाएं, “बहन जी ऐसा मत करिए।” पर बहन जी लोगों ने सुजानपुरिया को हड़का लिया। सुजानपुरिया चीखते चिल्लाते रहे, “बहन जी ऐसा मत करिए। बहन जी मेरे पैसे दे दीजिए।” पर कोई फायदा नहीं हुआ। सुजानपुरिया अंतत: हार गए और जान गए कि अब पैसा वापस नहीं मिलने वाला तो उन्होंने एक कोशिश और की “तो फिर बहन जी कर लेने दीजिए।” “कर लेने दीजिए” सुनना था कि औरतों ने सुजानपुरिया को सीढ़ियों पर ढकेल दिया और कहा कि, “बहन जी बोलता है और करेगा भी। भाग भड़ुए साले।”

सुजानपुरिया ने फिर भी बड़ी मिन्नतें की सीढ़ियों पर खड़े-खड़े। पर न उन्हें करने को मिला, न पैसा ही मिला। बहुत रोने-पीटने पर उनका पायजामा, जूता और घर वापस जाने के लिए पांच रुपए उन्हें मिल पाए। सुजानपुरिया रोते पीटते उसी रात दफ्तर आए। सारा किस्सा सुनाया। एक रिपोर्टर, एक सब एडीटर उन्हें साथ लेकर अजमेरी गेट थाने गए। पुलिस अखबार वालों के नाम पर मदद करने को न सिर्फ तैयार हुई बल्कि इंस्पेक्टर ने तुरंत एक सब इंस्पेक्टर, दो सिपाही भी साथ भेजे। पर अफसोस कि कई कोठों की सीढ़ियों पर चढ़ते-उतरते सुजानपुरिया यही नहीं शिनाख्त कर पाए कि वह गए कहां थे और लुटे कहां थे? दो घंटे की मशक्कत के बाद थक हार कर सब लोग वापस आ गए। सुजानपुरिया ने फिर कुछ उधार, कुछ एडवांस लेकर महीना गुजारा।

आलोक यही सोच कर उन्हें चिढ़ा बैठा, “कहीं और तो नहीं?” और जब सुजानपुरिया, “ना भइया, अब नहीं” कह कर कान पकड़ने लगे तो आलोक ने सोचा कि क्यों न राजेश खन्ना नाइट का पास सुजानपुरिया को थमा दे।

“राजेश खन्ना नाइट देखेंगे?” आलोक ने सुजानपुरिया से पूछा।

“कब?” सुजानपुरिया अफनाए।

“आज ही।”

“आज ही?”

“हां, आज ही। जाना हो तो बताइए।”

“इंतजाम हो जाएगा क्या, इंतजाम हो गया है।” कहते हुए आलोक ने सुजानपुरिया को राजेश खन्ना नाइट का पास थमा दिया। सुजानपुरिया पास पाते ही खिल उठे। जाने के लिए बस नंबर, बस स्टैंड की जानकारी ले वह बड़ी फुर्ती से निकल गए। जाते-जाते बोले, “आज तो मजा आ गया।”

सुजानपुरिया पहुंचे तो हाल के बाहर सुरेंद्र मोहन तल्ख बड़ी बेचैनी से टहलता नजर आया। सुजानपुरिया ने उन्हें लपक कर नमस्कार किया। पर तल्ख ने सुजानपुरिया को कोई तबज्जो नहीं दी, न कोई जवाब दिया नमस्कार का। सिगरेट फूंकते हुए वह दूसरी ओर देखने लगा। सुजानपुरिया भी उसकी परवाह किए बिना पायजामा उठा कर दूसरे हाथ से बंद कालर की बटन टटोली और हाल में घुस गए। अंदर कार्यक्रम चालू था। बड़ी मुश्किल से वह अपनी सीट ढूंढ पाए। क्योंकि तब हाल में अंधेरा था। पर स्टेज की लाइट से वह ढूंढते ढूंढते अपनी सीट पर बैठ गए। पूरा हाल भरा था। पर उनके बगल की सीट खाली थी। कोई आधे घंटे बाद अंधेरे में ही तल्ख आया और उस खाली सीट पर बैठ गया। सुजानपुरिया ने उसे देखा तो पर तन कर कंधा उचका कर वह कार्यक्रम देखने में मशगूल हो गए पर तल्ख से बोले नहीं। थोड़ी देर बाद तल्ख ने सुजानपुरिया के हाथ की उंगुलियों को धीरे से छुआ। सुजानपुरिया ने सोचा यूं ही छू गया होगा। पर जब तल्ख ने छूते-छूते हलके-हलके दबाना शुरू किया तो सुजानपुरिया बिदक गए और कर्कश आवाज में कुछ ऐसे बोले जैसे खौलता पानी, “ये क्या कर रिया है?”

सुनते ही तल्ख छटक कर खड़ा हो गया, “तुम यहां कैसे आ गए?”

“पास है मेरे पास।” अकड़ते हुए सुजानपुरिया तल्ख को सफाई देते हुए जेब से पास निकाल कर दिखाने लगा।

“पर तुम्हें ये पास मिला कैसे?” तल्ख अपना आपा खो बैठा था।

“तुमसे मतलब?” कह कर सुजानपुरिया ने तल्ख का दिमाग बिलकुल ही खराब कर दिया। तल्ख तुरंत उठ गया और पैर पटकते हुए हाल से बाहर चला गया।

दूसरे दिन तल्ख ने उस टेलीफोन आपरेटर की ऐसी तैसी कर डाली। उसको रंडी, छिनार जैसे सारे विशेषण सरेआम दे डाले। और कहा, “क्यों नहीं आ सकती थी मेरे साथ राजेश खन्ना नाइट देखने?”

“सुनिए तो तल्ख साहब!”

“क्या सुनूं?” तल्ख कुछ सुनना नहीं, कहना ही चाहता था, “मैंने देखा है होटलों में लोगों के साथ तुम्हें जाते। और कई बार देखा है। फिर मेरे साथ बैठने में, देखने में क्या दिक्कत थी और जो बड़ी सती सावित्री बनती है तो बन, पर उस चूतिए सुजानपुरिया को क्यों पास दे दिया? मारा साले ने सारा मजा खराब कर दिया। जायका बिगाड़ दिया।” तल्ख हांफने लगा था, “क्या लगता है सुजानपुरिया तेरा?”

“पर मैंने सुजानपुरिया को पास नहीं दिया।” वह बिफरी।

“तो मेरा दिया पास उसके पास कैसे पहुंचा?”

“पता नहीं। पर मुझे ओवर टाइम मिल गया था तो पास आलोक को दे दिया था कि क्यों खराब करूं पास।”

“ओवर टाइम मिल गया था कि कोई ग्राहक?”

“देखिए तल्ख साहब तमीज से बात करिए।”

“क्यों क्या कर लेगी? आलोक से कह देगी। क्या कर लेगा वह लौंडा मेरा!”

“देखिए तल्ख साहब!” वह रूआंसी हो गई।

“क्या देखूं कि आज कल आलोक से साथ रातें गुजार रही हो? काल गर्ल साली।”

“तल्ख साहब आप प्लीज यहां से जाइए।” कहते-कहते वह फफक कर रो पड़ी।

तल्ख चला गया।

बाद में कुछ लोगों के उकसाने पर टेलीफोन आपरेटर तल्ख की बदतमीजी की लिखित शिकायत लेकर संपादक के पास चली गई। संपादक ने तल्ख को तुरंत बुलवाया और बहुत डांटा। कहा कि अपनी उम्र पर शर्म कीजिए और इस महिला को अपनी बेटी, बहन जो कह पाइए, कह कर माफी मांगिए। तल्ख कसमसाया तो बहुत। पर कोई और चारा भी नहीं था। उसने एक बार सोचा कि माफी मांगने के बजाय इस्तीफा लिख दे। लेकिन इस बुढ़ौती में कहां नौकरी ढूंढता फिरेगा भला? तल्ख ने “माफ कर दीजिए गलती हो गई।” कहा और जाने लगा।

संपादक ने उसे टोका कि, “ऐसे नहीं। मैंने कहा था कि बहन या, बेटी कह कर माफी मांगिए।” तो तल्ख की जबान जैसे रूंध गई। बोला, “बहन जी, माफ कर दीजिए।”

तल्ख दिन भर अनमना बैठा सिगरेट फूंकता रहा। शाम को जाते समय चपरासी को छुट्टी की अर्जी लिख कर देता गया। और फिर हफ्ते भर नहीं आया। उधर इत्तफाक ही था कि टेलीफोन आपरेटर भी हफ्ते भर की छुट्टी पर चली गई।

राजेश खन्ना नाइट और सुजानपुरिया, तल्ख तथा टेलीफोन आपरेटर दोनों को भारी पड़ गए थे। पर आलोक को गपियाने के लिए एक नया किस्सा मिल गया था। दृश्य-दर-दृश्य वह लोगों को मिर्च मसाला लगा कर यह किस्सा सुनाता और कहता, “तल्ख भी साला बहन चोद हो गया। अपनी जमात में आ गया। बहन जी माफ कर दीजिए। बुड्ढा साला!” कह कर वह हंसने लगता, “चूतिया राजेश खन्ना नाइट दिखा रहा था। अरे, सीधे “आफर” करता जैसे मैं करता हूं। आखिर मकसद तो वही था, “सेक्स!”

चेतना के साथ संजय का मकसद भी साफ था- सेक्स! जिसकी गंध ने कोई ओछी हरकत करके देने के बजाय सीधी बातचीत में दे दी थी। उसने सोच लिया कि अव्वल तो चेतना अब उससे मिलेगी नहीं। और दूसरे जो मिलेगी तो वह सीधा-सीधा प्रस्ताव रख देगा। जैसे दिल्ली में नीला के साथ रख दिया था।

नीला!

उन दिनों वह फिल्म समीक्षाएं भी लिखा करता था। तब वी.सी.आर. या केबिल का इतना जोर नहीं था। टीवी चैनल नहीं थे। पिक्चरें सिनेमा हाल में ही देखनी पड़ती थीं। वह टाइपिस्ट उसकी फिल्म समीक्षाएं टाइप किया करती थी। वह जब उसके पास जाता तो वह झट से मुसकुरा पड़ती। एकाध बार उसने कहा भी, “संजय जी हमको पिक्चर दिखा दीजिए।” पर वह टाल गया। उसने सोचा वह पास मांगना चाहती होगी। शक्ल सूरत में भी वह कोई खास नहीं थी कि संजय उससे लाइनबाजी करता। दुबली-पतली, सांवली सी काया थी उसकी। सो वह उसे “क्लिक” नहीं करती थी और फिर संजय उन दिनों खाली भी नहीं था। दूरदर्शन की एक कैजुअल एनाउंसर के साथ उसकी उन दिनों लाइनबाजी चल रही थी। पर उसने हर बार सिनेमा दिखाने की बात कहनी शुरू की तो संजय ने उससे पूछ लिया, “कितने लोग जाएंगे देखने?”

“क्या?” वह चौंकी।

“मतलब आपके परिवार में जितने लोग हों लोगों का पास ला दूं। शो और तारीख भी बता दीजिए।”

“संडे को मैटनी रख लीजिए। छुट्टी भी रहेगी!” कहती हुई वह अर्थपूर्ण हंसी, हंसी। पर संजय ने इसकी नोटिस नहीं ली।

“पर कितने लोग?”

“पांच ले लीजिए।” कहते हुए वह टाइप करने लगी। दूसरे दिन संजय ने उसे पांच फ्री पास लाकर दे दिया और बता दिया, “इस पर कोई पैसा नहीं देना पड़ेगा।”

“क्यों आप साथ नहीं रहेंगे?” उसने बेधड़क पूछा तो संजय शरमा गया बोला, “पास पांच ही हैं न।”

“पर हमने तो आप को भी गिन कर पांच बताया था। हम तो चार ही लोग हैं।”

“फिर भी सॉरी!” कहते हुए संजय ने उसे बताया, “संडे को आपकी छुट्टी है, मेरी नहीं। मुझे तो खबर लिखनी ही है। और संडे को साइंटिस्टों का एक सेमिनार है प्रदूषण पर। उसे कवर करना है।”

“फिर भी कोशिश कीजिएगा।”

“अच्छा देखेंगे।” कह तो दिया संजय ने। पर संडे को वह नीला नाम की उस टाइपिस्ट के साथ सिनेमा देखने नहीं जा पाया।

मंडे को दफ्तर में जब नीला मिली तो संजय ने उससे औपचारिकतावश पूछ लिया कि, “पिक्चर कैसी थी?”

“पिक्चर तो अच्छी थी पर मजा नहीं आया।”

“क्यों?”

“आप जो नहीं थे?” वह इठलाई, “मैं तो आपके साथ पिक्चर देखना चाहती थी।” सुनकर संजय हकबका गया।

वह समझ गया कि अभी लड़कियों को वह टपाता था पर अबकी यह लड़की उसे टपाने में लग गई है।

वह बोला, “तो ऐसी बात है?”

“और नहीं तो क्या?” वह फिर इठलाई और खिस्स से हंस पड़ी।

“तो ठीक है। कल मंगल है और मेरा आफ है। कल पिक्चर देख लें?”

“पर मेरी तो छुट्टी नहीं है।”

“कोई बात नहीं इवनिंग शो देख लेते हैं।”

“इवनिंग शो?”

“क्यों? क्या बात है?”

“घर जाने में देर हो जाएगी।” कहते हुए वह चिंतित सी हुई पर बोली, “खैर कोई बात नहीं मैं मैनेज कर लूंगी।”

“तो कल शाम यहीं दफ्तर से ले लूं?”

“नहीं-नहीं। यहां ठीक नहीं रहेगा।” वह टालती हुई बोली।

“तो फिर?”

“आप जहां कहिए मैं वहीं पहुंट जाऊंगी।” फिर उसने खुद ही तय किया कि, “दरियागंज में गोलचा टाकीज पर ही सवा पांच बजे मिलते हैं।”

“पर पिक्टर तो साढ़े छ: बजे शुरू होगी?”

“पर मेरी छुट्टी तो पांच बजे हो जाएगी। दफ्तर में बैठने से अच्छा आपके साथ बैठूंगा।”

“तो ठीक है।” संजय बोला।

दूसरे दिन संजय शाम पांच बजे ही गोलचा पर पहुंच गया। नीला भी सवा पांच से पहले आ गई। आज वह और दिनों की अपेक्षा बन ठन कर आई थी, कलफ लगी साड़ी पहन कर।

“अभी तो काफी टाइम है पिक्चर में।” संजय ने अब तक तय कर लिया था कि पिक्चर देखने में वक्त खराब करने से कोई फायदा नहीं। खास कर तब जब लड़की खुद ही तैयार दिखती हो। सो उसने तुरंत तीन प्रस्ताव रख दिया, “कहीं और चलें, काफी पिएं, कि अपने घर चलें?”

“कहां रहते हैं आप?”

“गोल मार्केट में।”

“किधर है ये?”

“कनॉट प्लेस के पीछे।”

“अच्छा अच्छा।” कहते वह बोली, “अपना है?” संजय ने बताया, “नहीं किराए का।” फिर उसने पूछा, “कौन-कौन है आपके घर में?”

“फिलहाल अकेला हूं।” सुनकर वह एक अर्थपूर्ण मुसकान फेंक कर रह गई। पर बोली कुछ नहीं। उसकी चुप्पी तोड़ते हुए संजय फिर बोला, “तो कहां चलें?”

“आपके घर ही चलते हैं।”

“ओ.के.।” संजय खुश हो कर बोला।

घर पहुंच कर संजय ने उसे चाय बना कर पिलाई। फिर बेडरूम में नीला को ले जाकर एक कुर्सी पर बिठा दिया। और खुद भी एक कुर्सी लेकर उसकी बगल में बैठ गया। बड़ी देर तक दोनों फिल्म, दफ्तर की पालिटिक्स और इधर-उधर की बातें करते रहे। इस बीच संजय ने तीन चार बार जानबूझकर अपना पैर उसके पैर से सटाने की कोशिश की। पर जताया यही कि यह अनायास हो गया है। पर जब-जब उसने नीला का पैर अपने पैर की अंगुलियों से छूने की कोशिश की तब-तब उसने अपना पैर धीरे से पीछे खिसका लिया। पर न तो विरोध किया, न ही मुंह से कुछ कहा। पर पैर हटाने के थोड़ी देर बाद अपना पैर फिर वहीं रख देती। और संजय फिर पैर की अंगुलियों से उसे टटोलने लगता। यह अंगुलियों का खेल खेलते-खेलते जब सवा घंटे से भी ज्यादा हो गया तो संजय के मन में आया कि वह उठे और नीला को बांहों में भर ले। पर यह हरकत उसे ओछी लगी। सो उसने ऐसा नहीं किया और तय किया कि क्यों न सीधा प्रस्ताव रख कर पूछ ले। और नीला से कहा, “अगर बुरा न मानो तो एक बात कहूं?”

“कहिए।” वह गंभीर होती हुई बोली।

“नहीं, बुरा मान जाओगी।”

“बुरा मानने वाली बात होगी तो जरूर मानूंगी।”

“तब रहने दो।”

“पर बात क्या है?”

“अब जाने दो।”

“क्यों ऐसी क्या बात है?”

“कहा न बुरा मान जाओगी।”

“कौन सी बात है जो मैं बुरा मान जाऊंगी?”

“बुरा मानने वाली भी बात है और नहीं भी।”

“तो कह डालिए।”

“पहले वादा करो कि बुरा नहीं मानोगी।”

“चलिए, नहीं बुरा मानूंगी।” कहते हुए वह इठलाई।

“मैं तुम्हारे साथ सोना चाहता हूं।” वह अटका, “मतलब तुम्हारी देह।” वह फिर अटका, “मतलब सेक्स!”

कह कर संजय चुप हो गया। ऐसे जैसे उसने कोई अपराध कर दिया हो। नीला भी चुप रही। उसके चेहरे पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं थी।

“आखिर बुरा मान गई?” थोड़ी देर बाद संजय बोला।

“कौन सी बात बुरा मान गई?” नीला ने अपने पैर की अंगुलियों से फर्श कुरेदते हुए पूछा।

“वही सेक्स वाली।”

“बस! यही कहने के लिए तबसे बैठे थे?”

“नहीं मैं….मैं….”

“और यह कहने में इतनी देर लगा दी?” नीला अब संजय की आंखों में आंखें डाल ऐसे झांक रही थी जैसे उसे लील जाना चाहती हो। पूरा का पूरा।

“तो उधर क्या बैठी हो, इधर आओ!” कुर्सी से बिस्तर पर जाते हुए उसने नीला को भी कुर्सी पर से उठा लिया। दोनों बांहों से उठाते हुए संजय ने नीला को चूम लिया। और बिस्तर तक आते आते चुंबनों की बौछार कर दी। नीला को बिस्तर पर लिटाते-लिटाते वह उस पर पूरा का पूरा लद गया। वह फुसफुसाई, “पर आज ही यह सब नहीं प्लीज!”

“क्यों?” वह भी फुसफुसाया।

“आज मन नहीं है। फिर कभी!” पर संजय अब कहां रुकने वाला था। अब तक वह उसके ब्लाउज के हुक खोलने में लग गया था।

“अच्छा, ऊपर से जरा उतर जाइए। प्लीज!” संजय उसके बगल में होते हुए उसे अपनी ओर भींच कर जब एक हाथ से उसकी ब्रा के हुक खोलते हुए साड़ी पेटीकोट पार करते हुए दूसरे हाथ से उसके नितंबों को सहला रहा था तो वह कहने लगी, “साड़ी खराब हो रही है।” वह किसी भालू की तरह उसे दबोचते जा रहा था पर बोला, “तो साड़ी उतार दो ना।”

“आप छोड़िए तो सही।” पर संजय तो जैसे अफनाया हुआ था। उसने उसका गाल काटना चाहा। पर नीला ने उसके मुंह पर हाथ रख दिया, “नहीं। काटिएगा नहीं।”

“अच्छा तो साड़ी उतारो।” संजय बुरी तरह उत्तेजित था, “जल्दी, जल्दी।”

“पर मैं तो कह रही थी, आज मान जाते!”

“क्या बेवकूफी है? जल्दी उतारो।” कह कर संजय खुद उसकी कलफ लगी साड़ी खोलने लगा तो वह फिर फुसफुसाई, “प्लीज।”

“चुप्प!” संजय फुसफुसाया। तो वह उठ कर साड़ी उतारती हुए बोली, “मैं फिर रिक्वेस्ट कर रही हूं कि आज नहीं।”

“अच्छा ठीक है। आज नहीं। पर साड़ी तो उतारो। वह नहीं तो बाकी बात तो हो सकती है?”

“हां ये ठीक है।” नीला अभी बोल ही रही थी कि काल बेल बजी। घंटी की आवाज सुनते ही वह घबरा गई। और संजय का सारा नशा, सारी उत्तेजना टूट गई। पर उसने नीला से कहा, “घबराओ नहीं। तुम यहीं रहों। मैं अभी देख के आता हूं।” बाहर दरवाजा खोला तो धोबी कपड़े लेकर आया था जो उसने सुबह उसे प्रेस करने को दिया था। उसने कपड़े लिए और धोबी से कहा, “पैसे बाद में लेना।” और भड़ से दरवाजा बंद कर दिया। वापस आया तो देखा कमरे से नीला गायह थी। वह हैरत में पड़ गया। कहां गायब हो गई? अभी संजय सोच ही रहा था कि नीला की आवाज आई, “कौन था?”

“धोबी। पर तुम हो कहां?”

“यहां।” कहते हुए वह दरवाजे के पीछे से निकली। उसने देखा वह आल्मारी और दरवाजे के बीच छुपी थी।

उसकी साड़ी, पीठ और बाहों पर चूने लग गए थे और जाले भी। उसने देखा, वह सचमुच डर गई थी।

“अच्छा आओ। और साड़ी उतार दो।”

“प्लीज!”

“अब और मूड आफ मत करो।” कह कर संजय ने पैंट कमीज उतारते हुए नीला को बिस्तर में खींच लिया। नीला ने साड़ी उतार दी थी।

“अब ये कौन उतारेगा?” वह नीला से उसका ब्लाउज दिखाते हुए बोला।

“आप भी बस! मानेंगे नहीं।”

“खुद उतार लो तो अच्छा है, नहीं कोई हुक टूट गया तो तुम्ही को मुश्किल होगी।” कह कर वह ब्लाउज के हुक खोलने लगा तो वह बोली, “रहने दीजिए।”

उसने ब्लाउज उतार दिया। ब्रा नहीं उतारा तो संजय उसकी हुक खोलता हुआ बोला, “चलो इसमें हुक टूटने का खतरा नहीं है। इसे मैं ही उतार देता हूं।”

“सब कुछ उतार देना जरूरी है?”

“और नहीं तो क्या?” संजय फिर उत्तेजित हो गया। ब्रा उतार कर जब वह पेंटी पर आ गया तो नीला फिर “प्लीज-प्लीज, नहीं-नहीं” पर आ गई। पर संजय कहां मानने वाला था। पेटीकोट उतारने के बाद संजय ने पाया कि “आज नहीं, आज नहीं फिर कभी।” की रट लगाने वाली नीला तो उसे रोक रही थी पर खुद पानी-पानी हो रही थी। अब संजय उसपर सवार हो गया तो वह रह-रह पैर सिकोड़ने लगी।

“क्या नाटक लगा रखा है?” कह कर संजय ने उसके दोनों पैर कस-कस के फैला कर झटके से ऊपर उठा दिए तो वह, “हाय मम्मी” कह कर चीख पड़ी। पर संजय की उत्तेजना में उसकी चीख दब कर रह गई।

संजय जब हांफता हुआ निढाल हुआ तो फोन की घंटी बज रही थी। उसे बड़ा बुरा लगा। बड़ी देर तक घंटी बजती रही पर उसने रिसीवर नहीं उठाया। घंटी अपने आप बंद हो गई। फोन की घंटी बंद हो गई तो नीला उसके सीने में सिमटते हुए बोली, “यह क्या कर दिया आपने?” अभी वह कुछ बोलता, कि घंटी बजने लगी। हार कर उसने फोन उठाया तो फोन पर एक एम. पी. साबह थे। एक खबर ब्रीफ करना चाहते थे। संजय ने फोन पर “हूं” “हां” कर एम.पी. से छुट्टी ले ली और फोन काट कर रिसीवर भी आफ कर दिया। क्योंकि इस समय वह कोई घंटी वंटी सुनने के मूड में नहीं था। न ही किसी की बात सुनने के मूड में। पर नीला लगातार रह-रह कर “यह क्या कर दिया आपने?” फुसफुसाती रही। आखिर जब आजिज होकर उसने नीला से कहा, “अब चुप भी करोगी, प्लीज!”

“और जो कहीं कुछ गड़बड़ हो गया तो?”

“क्या मतलब?”

“आपने जो किया उससे कहीं गड़बड़ हो गया तो मैं क्या करूंगी? कैसे मुंह दिखाऊंगी किसी को?”

“घबराओ नहीं। एक बार में कुछ नहीं होता। होता भी है तो सिर्फ हिंदी फिल्मों में। हकीकत में नहीं।”

“फिर भी अगर चार आने का तीन ले लिए होते हो अच्छा रहता।” उसका इशारा निरोध की तरफ था।

“अच्छा ठीक है। अगली बार से ले लेंगे।” कह कर अब वह उठना चाहता था। पर नीला उससे चिपटती जा रही थी। उसने घड़ी देख कर बताया कि, “साढ़े आठ बज गए हैं।” पर वह अनसुना कर गई। और तब तक संजय से चिपटी रही जब तक वह उस पर फिर सवार नहीं हो गया। हांफते-हांफते संजय जब उसे पेट के बल उंकड़ कर पीछे से शुरू हो गया तो वह बोली, “अब यह क्या कर रहे हैं?”

“बस चुपचाप रहो।” संजय ने कहा तो बावजूद घुटना दुखने के वह न सिर्फ चुप रही, बल्कि कोआपरेट भी करती रही। बाद में वह बोली, “बड़े एक्सपर्ट हैं आप? क्या-क्या जानते हैं? कहां से सीखा?” जैसे सवालों पर वह आ गई। जाहिर है इस स्टाइल से वह पहली बार परिचित हुई थी, इसीलिए कुछ-कुछ चकित भी थी और खुश भी।

फिर अक्सर हर दूसरी, तीसरी शाम वह संजय के साथ उसके घर में बिताने लगी। और बिना दो तीन बार के वह जाती नहीं थी। चाहे जितना टाइम लग जाए। एक दिन संजय के सीने से चिपकी, उसके बालों को सहलाती हुई बोली, आप जात-पात में विश्वास करते हैं।

“नहीं, बिलकुल नहीं।”

“और आपके घर वाले?”

“मिला जुला रुख है। क्यों?”

“नहीं बस वैसे ही।”

“फिर भी?”

“नहीं कोई बात नहीं।” कह कर वह साड़ी बांधने लगी। साड़ी बांध कर बालों में कंघी करते हुए बोली, “आप की बात मैंने मानी। मेरी एक बात आप भी मान जाइए।”

“बोलो।”

“नहीं, पहले वादा करिए कि मान जाएंगे।”

“चलो, वादा!”

“बिलकुल पक्का!”कहते हुए उसने पीछे से बांहों में भर लिया।

“आप मुझसे शादी कर लीजिए।”

“शादी?” संजय की पकड़ उस पर ढीली पड़ गई।

“देखिए आपने पक्का वादा किया है।”

संजय चुप रहा।

“बोल क्यों नहीं रहे?” वह पलटी और संजय का चेहरा अपने दोनों हाथों में लेती हुई बोली, “बोलिए करेंगे न मुझसे शादी? देखिए आपने पक्का वादा किया है।”

“पर मेरी शादी तो हो गई है। मेरा एक बेटा भी है।” संजय सफाई देते हुए बोला। तो वह जैसे आसमान से गिर पड़ी।

“पर आपने पहले कभी नहीं बताया?” वह बिलकुल हिल गई थी।

“तुमने पूछा ही नहीं।” संजय भी उसकी उदासी से उदास हो रहा था।

“फिर भी आप बता सकते थे।”

“पर इससे क्या फर्क पड़ता है?”

“आपको न सही। हमको तो पड़ता है।” वह ऐसे बोल रही थी जैसे उसके सपनों का गुब्बारा किसी ने जबरिया फोड़ दिया हो।

“ऐसा मत कहो।” कह कर संजय उसे चूमने लगा।

“पर आपकी मिसेज हैं कहां?”

“मायके गई हुई हैं।”

“क्यों?”

“बाथरूम में गिर कर उसका बायां पैर टूट गया था। प्लास्टर के बाद उसकी देख रेख कौन करता यहां। उसका भाई आकर ले गया।”

“कब तक वापस आएंगी आपकी मिसेज?”

“क्या पता?”

“आप मिलने नहीं जाते?”

“अरे कोई दिल्ली में तो हैं नहीं। कि जब मन आए पहुंच जाऊं?”

“अच्छा-अच्छा।” कह कर वह जाने लगी।

“चलो तुम्हें छोड़ दूं।”

“नहीं मैं चली जाऊंगी।”

“चला चलता हूं।”

“नहीं प्लीज!”

इसके बाद वह तीन चार दिनों तक दफ्तर नहीं आई। संजय को उसके घर का पता भी नहीं मालूम था। दफ्तर में पता मालूम करने में वह हिचक गया। आखिर किससे पूछे कि वह कहां रहती है? पता नहीं कौन क्या सोचे।

कोई हफ्ते भर बाद वह दफ्तर में दिखी। उसने जाकर उसे “हलो” किया। तो वह ऐसे पेश आई जैसे उसे जानती ही न हो। संजय को बड़ी तकलीफ हुई। उस वक्त तो वह चला गया। पर थोड़ी देर बाद फिर उसके पास पहुंच गया। फुसफुसाया, “शाम को घर आओगी?”

“क्या?”

“घर!”

“आऊंगी।” संक्षिप्त सा बोल कर वह अपने काम में लग गई।

शाम को वह संजय के घर आई तो खुश थी। पर जाने क्या हुआ कि फफक कर रोने लगी।

“क्या बात हो गई है?” संजय उसे अपनी बाहों में भरता हुआ बोला। पर नीला कुछ नहीं बोली। संजय इस बीच उसके एक-एक करके कपड़े उतारता रहा पर वह सुबकती रही। संजय जब निढाल हुआ तब भी वह रह-रह कर सुबक रही थी। लगातार सुबकती रही थी। आज वह पहली बार के बाद ही कपड़े पहनने लगी।

“आज बात क्या है?” संजय ने पूछा।

“कुछ नहीं।” वह अब भी सुबक रही थी। सीढ़ियां उतरते समय भी वह सुबक रही थी।

दूसरे दिन उसने बताया कि उसकी मम्मी को कुछ शक हो गया है। उसके घर देर से पहुंचने को लेकर भी घर में हंगामा हुआ। मम्मी और भाई दोनों ने उसे मिल कर बहुत मारा था। मार के निशान होंठों पर, मुंह, हाथ और पैर पर भी थे। इसलिए निशान छूटने तक उसे छुट्टी लेनी पड़ी।

“तो जल्दी चली जाया करो न!”

“बात जल्दी जाने भर की नहीं है।”

“फिर क्या है?”

“शक!”

“कैसा शक?”

“मम्मी कहती हैं, अब तू लड़की नहीं लगती। तेरी देह बदल रही है।”

“अब इसका क्या किया जा सकता है?”

“क्यों नहीं किया जा सकता?”

“क्या?”

“आप मुझसे शादी कर लीजिए।”

“पर मैंने तुम्हें बताया कि मेरी शादी हो चुकी है।”

“तो दूसरी भी तो कर सकते हैं?”

“ना!”

“क्यों?”

“अच्छा चलो इस पर फिर कभी सोचेंगे।”

नीला की शामें फिर संजय के साथ रंगीन होने लगीं। शनिवार की शाम वह काफी देर तक संजय की बांहों में पड़ी रही। बोली, “आज जाने का मन नहीं कर रहा।”

“तो मत जाओ।”

“नहीं जाना तो पड़ेगा।” वह रुकी और बोली, “कल तो संडे है। कल आप क्या कर रहे हैं?”

“कुछ खास नहीं।”

“तो कल छुट्टी ले लीजिए। कल दिन भर मैं आपके साथ रहना चाहती हूं।”

“ठीक है। ले लेता हूं कल छुट्टी।”

दूसरे दिन नीला सुबह-सुबह आ धमकी। तब आठ बज रहे थे। पर उसकी सारी योजना पर पानी फिर गया था। संजय की बीवी रात ही आ गई थी। संजय की बीवी को देखते ही नीला को जैसे डंक मार गया। उसका चेहरा बिलकुल फीका पड़ गया और संजय ने नोट किया कि उसका व्यवहार भी असहज, एब्नार्मल हो गया था। वह संजय के घर की एक-एक चीज ऐसे घूर रही थी जैसे वह सब उसका ही है और किसी ने उससे वह जबरिया छीन लिया हो। चाय की प्याली भी पीते-पीते उसने ऐसे छलकाई कि उसकी साड़ी भींग गई।

संजय समझ गया कि अब कुछ अनर्थ होने वाला है। क्योंकि नीला तो एब्नार्मल हो ही रही थी, संजय ने देखा कि उसकी पत्नी भी नीला के व्यवहार से कुछ शंकालु नजरों से उसे घूरने लगी थी।

“घबराओ नहीं वह छूट जाएगा।” संजय बोला तो पत्नी ने पूछा, “कौन छूट जाएगा?” नीला भी अचकचा कर कुछ कहने ही जा रही थी कि संजय फिर बोल पड़ा, “इसका भाई। कल रात मुहल्ले के कुछ लोगों के झगड़े में पुलिस ले गई।” संजय ने जोड़ा, “तभी तो बेचारी सुबह-सुबह आई है।” उसकी ओर लापरवाही से देखते हुए वह बोला, “लगता है रात भर सोई भी नहीं है।”

“हां, हां।” हड़बड़ा कर बोलती हुई नीला जैसे जान में जान आ गई।

“घबराओ नहीं, अभी चलते हैं जरा नहा धो लें।” संजय ने नीला को इशारे से ढाढस दिया।

“पर घटना रात की है। यह अभी आ रही हैं। आपको कैसे पता पड़ा कि इनका भाई बंद है?” संजय की पत्नी फिर शंकालु हुई।

“अरे भाई इसने रात को फोन करके बताया था।”

“पर रात तो मैं आ गई थी। कब फोन आया इनका?”

“तुम्हारे आने से पहले।” संजय ने जैसे सफाई दी, “रात हमने पुलिस कमिश्नर से भी बात की थी पर उन्हें थाने का इंस्पेक्टर नहीं मिल पाया था। अब उनकी बात हो गई होगी सो जाते हैं, छुड़वा देते हैं।”

“पर जब बात हो गई होगी और वह छूट ही गया होगा तो आपको जाने की क्या जरूरत है?”

“तुम्हारे पैर का प्लास्टर तो कट गया है पर तुम्हारे दिमाग पर भी कोई प्लास्टर लगा हो तो उसे कटवा डालो।”

“क्या मतलब?”

“ये औरत होकर अकेले थाने कैसे जाएंगी?”

“कोई और नहीं है इनके घर में?”

“जी नहीं, एक बूढ़ी मां हैं और एक ही भाई।”

“तो वह भाई जाए न?”

“अरे वही तो बंद है।”

“ओह!” कह कर वह किचेन की ओर दौड़ी, “लगता है दूध उबल रहा है।”

जलते दूध की महक सचमुच आ रही थी।

तो क्या नीला की आर्द्र और डरी आंखों में भी कुछ ऐसा उबल रहा था जिसकी गंध संजय की बीवी के नथुनों में किचन में उबलते, जलते दूध की गंध की तरह फड़क रही थी और वह सवाल पर सवाल ऐसे फेंके जा रही थी जैसे कपिलदेव का बाउंसर।

उस दिन संजय ने किसी तरह से बीवी से छुटकारा लिया और नीला को लेकर निकल पड़ा। घर से निकलते ही नीला बोली, “सोचा था आज दिन भर आपके साथ इनज्वाय करेंगे पर क्या बताएं?”

“घबराओ नहीं। फिर भी इनज्वाय करेंगे।”

“कैसे?”

“चलो तो सही।”

“संजय ने पहाड़गंज के एक सस्ते से होटल में कमरा लिया। दरवाजा बंद कर नीला को बाहों में भरे ही था कि कोई दरवाजा नॉक कर रहा था। उसने खोला तो देखा होटल का कोई कर्मचारी खड़ा था।”

“क्या बात है?” संजय ने उसे डपटा।

“सामान कहां है?”

“सामान वामान कहां है। जरा समझा करो।” संजय नरम हुआ।

“तो साहब डबल चार्ज पड़ेगा। बोलो दोगे?”

“चलो तुम्हारे मैनेजर से बात करते हैं।” संजय भड़क रहा था।

“चलो कर लो।”

“तुम चलो मैं अभी आता हूं।” कह कर संजय कमरे का दरवाजा अंदर से बंद करने लगा तो वह कर्मचारी अड़ कर खड़ा हो गया। बोला, दरवाजा अभी मत बंद करो।

“क्यों?”

“पहले डबल पेमेंट कर दो।”

“क्या बदतमीजी है?” कहते हुए संजय मैनेजर के पास पहुंचा और कर्मचारी की शिकायत की।

“वह ठीक बोल रहा है।” मैनेजर उसकी शिकायत खारिज करते हुए बोला, “तुम नहीं जानते। अभी पुलिस रेड पड़ जाएगा तो हम क्या करेंगे?”

“अच्छा चलो, पुलिस आई तो हम संभाल लेंगे। पुलिस कुछ नहीं करेगी।”

“ऐसे ही सभी बोलते हैं। पर पुलिस के आगे कभी किसी की नहीं चलती।”

“पर मेरी चलेगी।”

“कुछ नहीं चलेगी। तुमको भी पुलिस बंद कर देगी, हमको भी और तुम्हारे साथ आई उस लड़की को भी।”

“पर हमारा विश्वास तो करो।”

“कुछ नहीं। हम तो सिर्फ पैसे पर विश्वास करते हैं। और पुलिस भी पैसा ही मानती है सिफारिश-सोर्स नहीं।”

“तो नहीं मानेंगे आप?” संजय ने आखिरी बार कोशिश की।

“नहीं साहब!”

“लूटते हैं साले!” कहता हुआ संजय नीला को लेकर होटल से बाहर आ गया।

“अब कहां चल रहे हैं?” नीला बिलकुल नर्वस हो रही थी।

“कहां चलें, तुम बताओ?”

“हम क्या बताएं।”

“गांधी समाधि चलें?”

“चलिए।”

उस रोज दिन भर गांधी समाधि के पीछे झाड़ की आड़ में और जोड़ो की तरह संजय नीला भी एक दूसरे से चिपकते रहे, एक दूसरे को चूमते रहे। जब कोई आता दिखता तो छिटक जाते। नीला हरदम आशंकित रहती, “कोई आ रहा है।” और दूसरे ही क्षण फिर चिपक जाती।

कुछ दिनों तक दोनों ऐसे ही किसी न किसी सार्वजनिक स्थान, निर्जन सड़क, गांधी समाधि, शांति वन की झाड़ियों में मिलते और चिपकते रहते। वह पीछे वाली स्टाइल बड़े काम आती। वह किसी भी निर्जन सड़क पर पेड़ के पीछे स्कूटर पर झुक कर खड़ी हो जाती और काम बन जाता। और दिल्ली में ऐसी निर्जन सड़कें ढेर थीं। बस थोड़ी हिम्मत चाहिए थी। जो नीला में थी। एक दिन दफ्तर की कैंटीन में गप्प गोष्ठी चल रही थी। अचानक सुरेश आया और बोला, “संजय की तो अब खैर नहीं है।” वह बहुत गंभीर था।

“पर हुआ क्या?” आलोक ने पूछा।

“अरे, ये आजकल लगातार एड्स के साथ देखे जा रहे हैं।” उसने अपनी दाढ़ी पर हाथ फेरा, “रिपोर्टिंग पर तो इनके असर पड़ ही चुका है। अब यह देह से भी कब बीमार होते हैं, यही देखना है।”

“क्या मतलब है तुम्हारा?” संजय ने पूछा।

“मतलब साफ है।” सुरेश बोला।

“माजरा क्या है?” आलोक ने संजय के कंधे पर हाथ रखते हुए पूछा।

“पता नहीं – हमें तो कुछ समझ नहीं आ रहा।”

“मर जाऊं इस मासूमियत पर।” सुरेश ने टांट किया।

“तो तुम्हीं बता दो। खामखा रहस्य बुनने से क्या फायदा?”

“नीला!” सुरेश ने चुटकी ली।

“अच्छा, अच्छा! तो आजकल उस घाट पर पानी तुम्हीं पी रहे हो।” आलोक मेज थपथपाते हुए बोला, “वही मैं कहूं। क्योंकि वह तो कभी खाली रह ही नहीं सकती।”

“अच्छा, यह बताओ अभी शादी का प्रस्ताव उसने किया कि नहीं?” सुरेश अब ब्यौरों में आ रहा था।

“वह तो हर लड़की कर देती है।” संजय मायूस होकर बोला।

“बड़ा तजुर्बा है।” वह रूका और बोला “अच्छा वह प्रिगनेंट अभी हुई कि नहीं?”

“क्या मतलब?”

“मतलब कि एबार्शन के लिए पैसे मांगे कि नहीं?”

“क्या बदतमीजी है?” संजय भड़का।

“अच्छा मांग लेगी।” आलोक बोला, “सुना है सरकुलेशन मैनेजर से दो हजार मांगे थे। उसकी बीवी को खबर लग गई। बेचारे की ठुकाई हो गई।”

“ठोंकेगा तो ठुकाई तो होगी!” आलोक उसे एलर्ट करता हुआ बोला, “बुरे काम के लिए बुरी नहीं है पर जाने झूठ है कि सच, वह चपरासी से लेकर जनरल मैनेजर तक के साथ रपट चुकी है।”

संजय को बड़ा बुरा लगा यह सब सुन कर। वह उठ कर चलने लगा तो सुरेश बोला, “बुरा मत मानना। दोस्त हूं। एक सलाह ले लो। हो सके तो निरोध का इस्तेमाल कर लिया करो। क्योंकि वह तो एक चलती फिरती एड्स की दुकान है।”

क्या सचमुच नीला ऐसी है?

संजय तीन चार दिनों तक यही सोचता रहा और नीला से मिलने से बचता रहा।

तो क्या वह नीला से प्यार करने लगा था?

नहीं ऐसी बात तो नहीं थी। इस हद तक तो वह कभी गया भी नहीं। नीला और उसके बीच सिर्फ देह थी, प्यार नहीं। क्योंकि ऐसा कभी नहीं हुआ कि वह नीला को देखने के लिए बेकरार हुआ हो। एक क्षण के लिए भी नहीं। और शायद नीली भी नहीं। वह दोनों सिर्फ देह जी रहे थे और शायद मन से, पूरे मनोयोग से। वह मिलते और मौका पाते ही एक दूसरे पर टूट पड़ते।

तो क्या सिर्फ देह की भूख ही दोनों को जोड़ती थी?

नीला को तो समझ में आता था।

पर संजय?

नीला तो शादी की उम्र पार कर रही थी। और शादी हो न हो, देह की अपनी जरूरत, अपनी भूख तो होती ही है। आखिर शादी के इंतजार में कब तक वह अपनी देह, अपनी इच्छा भस्म करती रहती। और वह पाता कि दिल्ली में कोई साठ प्रतिशत लड़कियां शादी की उम्र पार करती, नौकरियां करती जिंदगी गुजार रही थीं। कुछेक प्रतिशत को छोड़ कर ज्यादातर किसी न किसी के साथ “अटैच्ड” ही हो जाती थीं। कोई मन से, कोई देह से, कोई देह-मन दोनों से तो कोई मन-देह दोनों से। संजय इस हालत पर बात-बात में मजबूर का एक शेर भी कोड करता, “पूछा कली से कुछ कंवारपन की सुनाओ हजार संभली खुशबू बिखर जाती है।” और कहता है, “परवीन बाबी तो कहती है कि चौदह साल के बाद अगर कोई लड़की यह कहती है कि मैं कुआंरी हूं तो वह झूठ बोलती है।” पर वह खुद अपनी सोच को जब तब सही करार देता और कहता असल समस्या तो दहेज की है। अगर दहेज के भूखे भेड़िये अपने मुंह और पेट पर लगाम चढ़ा लें तो ये बेचारी लड़कियां इस तरह देह जीने को विवश नहीं होती। और फिर वह अचानक दहेज, दांपत्य का बिखराव, कभी पूरी न पड़ पाने वाली आर्थिक जरूरतों को लड़की के फिसलने के मुख्य कारणों में गिना जाता। वह पाता कि दिल्ली में ज्यादातर मध्यवर्गीय, निम्न मध्यवर्गीय खास कर पंजाबी परिवारों की लड़कियां इंटर, बी.ए. करते न करते सरकारी, गैर सरकारी नौकरियों में जबरिया लगा दी जाती कि जुटाओ अपना दहेज, पांच साल, सात साल, दस साल जो भी लगे। और इस फेर में लड़की कहां-कहां से गुजर जाए, इसकी परवाह अमूमन नहीं होती थी।

तो क्या नीला भी इसी विसंगति की उपज है?

क्या पता?

वह फिर भी कतराता रहा। पर लाख कतराने के बावजूद एक शाम वह टकरा गई। बातचीत के लिए उसने एक मशहूर फिल्मी गीत का एक मिसरा इस्तेमाल किया, “बदले-बदले से मेरे सरकार नजर आते हैं।”

“सच!”

“और नहीं तो क्या?” नीला ने एक मादक मुसकान फेंकी।

“तुम बदली होगी। मैं तो नहीं बदला।”

“सच?” नीला ने उसका सवाल दुहरा दिया था।

“बिलकुल!” संजय ने उसका जवाब नहीं दुहराया।

“चलिए खुशी हुई।” वह उसके स्कूटर के पीछे की सीट को छूती हुई बोली, “आइए कहीं काफी पीते हैं।”

“चलो।”

काफी पीने के बाद दोनों घूमते घामते आखिर फिर देह के मकसद पर आ गए। और फिर वही पुराना रूटीन! ऐसी ही एक शाम वह बोली, “कल मेरे घर आ जाइए।”

“क्यों?”

“बस यों ही।”

“कोई खास बात?”

“नहीं। ऐसी कोई बात नहीं।”

“अच्छा चलो आऊंगा। पर पता तो बताओ।”

उसने गांधी नगर का पता दिया।

“कब आऊं?”

“कल। कह तो रही हूं।”

“अरे, किस समय?”

“दोपहर बाद।”

“कल आफिस नहीं आओगी?”

“नहीं। छुट्टी ले रखी है।”

“ठीक है।”

दूसरे दिन कोई दो बजे वह जब गांधी नगर की उस तंग गली में पहुंचा तो नीला का मकान ढूंढ़ने में बड़ी परेशानी हुई। तब तक होजरी का कारोबार वहां इतना नहीं फैला था। नीला के मकान पर जब वह पहुंचा तो उसने देखा वह छत की खिड़की से चुपचाप ऊपर आने का इशारा कर रही थी और स्कूटर वहीं कहीं खड़ी कर देने को भी वह इशारों में समझा रही थी। संजय ने ऐसा ही किया। संजय ने पाया कि गली से भी ज्यादा तंग नीला के घर की सीढ़ियां हैं। सीढ़ियां चढ़ कर ज्यों ही वह ऊपर उसके कमरे में पहुंचा, वह उस पर एकदम भुखाई हुई शेरनी की तरह टूट पड़ी। वह कुछ कहने को हुआ पर उसके होंठ उसके होंठों को बंद कर चुके थे। संजय को एक बार लगा कि यह तो आज उलटा हो गया। एक महिला पुरुष के साथ बलात्कार पर आमादा थी। पर सच यही है कि पुरुष के साथ बलात्कार हो नहीं सकता क्योंकि टांग उठा कर शुरू हो जाना वाला खेल इस गेम में होता नहीं। बल्कि संजय तो आज तक यह भी नहीं समझ पाया कि कोई पुरुष भी स्त्री की बिना सहमति के बलात्कार कैसे कर लेता है। स्त्री की, डर से ही सही, स्वार्थ, लालच या किसी और कारण से ही सही परोक्ष या अपरोक्ष उसकी सहमति तो होती ही होगी, तभी पुरुष उसके साथ पशुवत व्यवहार करता होगा। नहीं स्त्री चीखती, चिल्लाती रहे और जाहिर है उसके हाथ पांव बंधे हों तो भी कैसे लोग स्त्री देह पर बलात्कार की इबारत लिख देते हैं, संजय यह भी नहीं समझ पाता।

हां, यह स्थिति तो हो सकती है कि स्त्री मानसिक रूप से, मन से तैयार न हो पर देह उस बलात्कारी के हवाले कर दे, डर या लालच से तो चाहे संभव है। नहीं बात बेबात ही डिस्टर्ब हो जाने वाला पुरुष, टेलीफोन की घंटी, कालबेल या किसी आहट भर से ही शिथिल हो जाने वाला उसका पुरुष अंग आखिर लाख विरोध के बावजूद कैसे बलात्कार कर लेता है, संजय की समझ से हमेशा परे रहा है। वैसे ही आज नीला की उस पर चढ़ाई उसे पहले तो बेअसर जान पड़ी। पर नीला पर तो जैसे भूत सवार था। उसने संजय को भी उत्तेजित कर लिया।

थोड़ी देर बाद उसने पूछा, “घर में कोई नहीं है क्या?” तो अबकी उसने होंठों के बजाय उंगलियां उसके होंठों पर रख दी। संजय ने देखा, कमरे का दरवाजा खुला हुआ है। वह फुसफुसाया, “कम से कम दरवाजा तो बंद कर दो। तो नीला ने बिन बोले सिर हिला कर मना कर दिया। और इशारे से बताया परदा तो है। वह इस बीच चुपचाप काफी बना कर लाई और ढेर सारे बिस्किट, भुने काजू। खाने पीने के बाद फिर संजय से चिपट गई। और अचानक वह मुख मैथुन पर उतर आई।”

चार बजते-बजते उसने संजय को चार राउंड चूस लिया था।

फिर अक्सर वह संजय को दिन में घर बुलाने लगी। और खुद छुट्टी ले लेती। पर उसके देह का ज्वार फिर भी नहीं थमता।

नीला की मां टीचर थीं। पिता का निधन हो चुका था। बड़ी बहन की शादी हो चुकी थी। छोटा भाई फैक्ट्री में था। सो घर में कोई नहीं रहता था। मकान अपना था और नीचे का सारा हिस्सा किराए पर था। नीचे उन किराएदारों तक बात न पहुंचे, इसलिए न वह बोलती, न बोलने देती। पर एक दिन क्या हुआ कि नीला संजय जूझे पड़े थे कि एक छोटा लड़का, “आंटी-आंटी” करता आ धमका। नीला बड़ी फुर्ती से चद्दर लपेट बिस्तर से कूद पड़ी और संजय पर दूसरा वाला गद्दा पलट दिया। बोली, “भइया अभी जाओ, मैं जरा नहाने जा रही हूं।”

“अच्छा आंटी!” कह कर लड़का भागता हुआ नीचे चला गया।

अब निर्जन अंधेरी सड़कों की जगह नीला के घर ने ले ली थी। कोई दो महीने बाद उसने संजय को फोन किया, “जरूरी बात करनी है”

“बोलो”

“फोन पर ही?”

“हां, क्यों क्या हुआ?”

“मिलिए तो बताऊ।”

“बोल तो दफ्तर से ही रही हो?”

“हां।”

“तो मेरे पास आ जाओ।”

“नहीं।”

“तो फोन पर ही बताओ न!”

“कैसे बताऊं?”

“क्यों?”

“कुछ समझ में नहीं आ रहा क्या करूं?”

“दिक्कत क्या है?”

“मिलिए तो बताऊं।”

“फोन पर ही बता दो न!”

“क्या बताऊं।”

“जो बताना चाहती हो।”

“असल में कुछ गड़बड़ हो गई है।”

“क्या?”

“नहीं फोन पर नहीं बता सकती। फिर कल ही बताऊंगी।”

“गांधी समाधि पहुंचें?”

“ठीक पांच बजे।”

“ओ. के.।”

उस शाम पहले तो वह चिपट-चिपट कर रोई फिर बोली, “मैं प्रिगनेंट हूं।”

“क्या?”

“हां।”

संजय चुप हो गया। उसे सुरेश और आलोक की बातें याद आ गईं।

“आप चुप क्यों हो गए?”

“तो कल डॉक्टर के यहां चलें?” नीला उसके बाल सहलाती हुई बोली।

“क्या करने?”

“दिखाना तो पड़ेगा?”

“पहले कनफर्म तो होने दो।”

“तो आप क्या चाहते हैं मैं उलटियां करने लगूं। घर-दफ्तर सब लोग जान जाएं तब डॉक्टर के यहां चलेंगे?”

“नहीं ऐसी बात नहीं है।”

“फिर?”

“तुम जैसा चाहो।”

“तो ठीक है। कल दो हजार रुपए का इंतजाम कर लीजिएगा।”

“क्या मतलब?” संजय सुलगता हुआ बोला।

“डॉक्टर की फीस।”

“इतनी?”

“जी हां, एबार्शन में इतना तो लग ही जाएगा?”

“पर एबार्शन की जरूरत क्या है?” संजय घाघ बनते हुए बोला।

“तो किसकी जरूरत है?”

“तुम प्रिगनेंट हो तो बच्चा पैदा भी कर सकती हो।”

“अनाथालय में पलने के लिए। अपनी थू-थू कराने के लिए।”

“नहीं। तुम बच्चा पैदा करो। मैं अपना नाम दूंगा।”

“शादी के नाम पर बीवी का भूत खड़ा हो जाता है। और बच्चे को नाम देंगे!” वह बिफरी।

“मैं सच कह रहा हूं।” संजय तौल-तौल कर बोल रहा था।

“तो चलिए शादी कर लेते हैं।”

“अभी कैसे?” संजय हकबका गया।

“आप सभी मर्द एक जैसे ही होते है।”

“कितने मर्दों का तजुर्बा है?” संजय अब बेहयाई पर आमादा था।

“क्या मतलब है आपका? कहना क्या चाहते हैं?”

“मैं नहीं दफ्तर वाले कहते हैं।”

“ओह!” वह उसे अगियाई आंखों से देखती हुई बोली, “कितना जहर भरा है आपके दिमाग में?”

“हो सकता है।”

“आप इतने गिरे हुए हैं। मैं नहीं जानती थी।”

“अब तो जान लिया।”

“आज क्या हो गया है आपको?” वह फिर बिफरी, “प्लीज आप मुझे समझने की कोशिश करिए।”

संजय चुप ही रहा।

“मैं जानती हूं आप औरों जैसे नहीं हैं। आप सबसे अलग हैं।”

“तो?”

“आप यकीन मानिए, मैं सच कह रही हूं।” वह रुकी, “और मेरे पेट में आपका ही बच्चा है।” कह कर वह संजय के गले से लिपट गई और सुबकने लगी।

“मैं भी तो अपनाने को तैयार हूं। अपना नाम देने को तैयार हूं।” संजय ने उसे ढाढस बंधाते हुए, उसे बाहों में भर कर कहा।

“पर यह संभव कैसे है?”

“क्यों नही है संभव?”

“आपका अपना परिवार है।”

“तो क्या हुआ?”

“और यह दकियानूसी दुनिया?”

“मैं सबको देख लूंगा।”

“पर मैं नहीं देख सकती।”

“ठीक है, कल देखते हैं।”

“देखते हैं का क्या मतलब?” वह बोली, “डॉक्टर के यहां चलना ही चलना है। मैं और रिस्क नहीं ले सकती।”

“रिस्क क्या है?”

“रिस्क तो है ही। मैं पहले ही रिस्क नहीं ले रही थी।” वह ताना देती हुई बोली, “मैं हमेशा ही निरोध के लिए कहती। पर जनाब को मजा ही नहीं आता था।” वह फिर सुबकने लगी, “अब तकलीफ तो मैं भुगतूंगी।” वह सुबकती जा रही थी।

“अच्छा-अच्छा चुप हो जाओ। कल ही डॉक्टर के यहां चलते हैं। पर नर्सिंग होम के बजाय किसी सरकारी अस्पताल में।”

“नहीं सरकारी अस्पताल नहीं। वहां कुछ भी सीक्रेट नहीं रहता।” उसने फौरन विरोध किया।

“सीक्रेसी की क्या जरूरत है?”

“मुझे है।”

“अच्छा किसी दूर के अस्पताल में चलते हैं।”

“नर्सिंग होम जाने में क्या दिक्कत है?”

“अभी इतने पैसे नहीं हैं मेरे पास।”

“अभी मैं इंतजाम कर लूंगी, आप बाद में दे दीजिएगा।”

“नहीं।” वह चीखा।

“आपको हो क्या गया है?”

“कुछ नहीं।” लज्जित होते हुए उसने हाथ जोड़ लिए।

दूसरे दिन वह दोनों दूर दराज के एक फेमली प्लैनिंग वाले अस्पताल में पहुंचे। वहां ज्यादा नहीं तो तीन औरतें ही थीं। एक दाई किस्म की औरत से नीला ने जाने क्या बातचीत की और वापस आकर संजय से बोली, “चलिए यहां से।”

“क्यों?””

“उनको पति के दस्तख्त भी चाहिए फार्म पर।”

“तो?”

“पति मैं कहां से लाऊं?”

“मैं दस्तख्त कर देता हूं।”

“पर मैं तो आपको जीजा बता चुकी हूं उससे। और बता दिया है कि पति बाहर हैं।”

“फिर क्या! चलो!” कह कर संजय ने लंबी सी सांस भरी।

तीसरे दिन वह दोनों फिर एक दूसरे सरकारी अस्पताल पहुंचे। कोई पांच मिनट ही हुए होंगे कि नीला एकदम से हड़बड़ा गई, “प्लीज तुरंत चलिए।”

“बात क्या हुई?”

“बहस बाद में।” वह अफनाई, “तुरंत चलिए।”

“हुआ क्या था?” अस्पताल से बाहर आकर थोड़ी दूर निकल आने के बाद संजय ने पूछा।

“मेरे मुहल्ले की एक औरत दिख गई थी।”

“अच्छा-अच्छा।”

इतना कुछ होने के बाद वापसी में भरी दोपहरी में घना पेड़ और सुनसान देख कर संजय ने स्कूटर रोक दिया।

“क्या है?” नीला मुसकुराते हुए बोली।

“कुछ नहीं पेशाब करना है।”

“सिर्फ पेशाब?”

“तुम बड़ी बदमाश हो।” कहते हुए उसने नीला का गाल ऐंठ दिया।

“क्या करते हैं आप?” हाथ हटाते हुए बोली, “यही सब अच्छा नहीं लगता।”

“सच?”

“नहीं अच्छा तो लगता है।” कहते हुए वह लजाई पर अचानक साड़ी उठा कर जांघ पर बना नीला निशान दिखाने लगी, “पर इन काले नीले निशानों से डर लगता है।”

“यह कैसे हो गया?” संजय ने पूछा।

“ओ-हो-हो।” वह मटकी, “कितने मासूम बन गए हैं। जैसे कुछ जानते ही नहीं!”

“मतलब?”

“जो यहां वहां चिकोटी काटते रहते हैं आप। उन चिकोटियों का सर्टिफिकेट हैं ये निशान।” वह रुकी और बाल ठीक करती हुई बोली, ”जांघों और चेस्ट पर तो कोई देखता नहीं पर चेहरे पर जरा भी कुछ हो जाता है तो लोग घूरने लगते हैं और मां तो जैसा जीना हराम कर देती हैं।” वह पैर हिलाती हुई बोली, “इसलिए बता देती हूं, हां!”

कहते हुए वह खुद संजय के बालों को दोनों हाथों से ऐंठने लगी।

“क्या कर रही हो?”

“क्यों मैं नहीं कर सकती क्या?” वह इतराई, “क्या यह सब करने का कॉपीराइट सिर्फ पुरुषों के ही पास रहना चाहिए।”

“क्या बदतमीजी है।” कहते हुए संजय ने जब उसके गाल काटने चाहे तो वह छिटक कर खड़ी हो गई। तभी एक कार और डी.टी.सी. बस सड़क से गुजरी तो वह सहम सी गई। फिर वह बड़ी देर तक उकताई बैठी रही। संजय के बहुत खींचने खांचने पर वह जैसे-तैसे मान पाई।

फिर कुछ ऐसा हुआ कि संजय को हफ्ते भर के लिए अचानक गांव जाना पड़ गया।

वापस आया तो दफ्तर की चिट्ठियों में उसे एक ऐसी चिट्ठी मिली जिस पर न किसी का नाम पता था, न दस्तखत। सिर्फ दो लाइन की टाइप की हुई चिट्ठी, “आपने यह अच्छा नहीं किया। आप माफ करने लायक भी नहीं हैं।”

संजय पहले तो कुछ समझा नहीं। पर दूसरे ही क्षण वह समझ गया कि चिट्ठी नीला की है। पर टाइप का फेस उसकी टाइप मशीन का नहीं था। लिफाफे पर डाकघर की मुहर भी साफ नहीं थी। जिससे पता लग सके कि कहां से पोस्ट की गई होगी यह चिट्ठी। और यह पता करने के लिए पोस्ट आफिस जाना भी उसे ठीक नहीं लगा।

वह सीधे नीला की सीट पर गया। वह नहीं थी।

तीन दिन बाद वह मिली। बिलकुल बिलबिलाई हुई। मरा हुआ सा चेहरा। संजय उसके पीछे हो लिया, “सुनो तो।” वह फुसफुसाया।

“मुझे कुछ नहीं सुनना।” वह जोर से बोली। और पैर पटकती आगे बढ़ गई। संजय निराश सा, उदास और हताश सा अपनी सीट पर जाकर बैठ गया।

वह फिर सोचने लगा क्या वह नीला से प्यार करने लगा है? पर अंतत: वह इसी निष्कर्ष पर पहुंचा कि यह प्यार नहीं, लगाव है। देह का ही सही, नेह है। आखिर इतने दिन साथ जुड़े रहने को, वह उसकी तरह एक झटके से कैसे तोड़ सकता है। वह बजाय खबर लिखने के यही सब सोचता रहा। कि तभी न्यूज एडीटर ने उसकी मेज पर आकर पूछा, “अंतर्कथा तैयार हो गई?”

“नहीं, अभी एक दो वर्जन लेना बाकी है। मिलते ही लिखना शुरू कर दूंगा।” वह झूठ बोल गया। सच यह था कि सभी वर्जन उसे मिल चुके थे पर लिखने का उसका मन नहीं हो रहा था। न्यूज एडीटर ने घड़ी देखी, “पर तुम कब लिखोगे, कंपोज कब होगा? ऐसे तो आज खबर जा नहीं पाएगी। और तुम लिखोगे भी पचनारा। जल्दी करो। जल्दी” कह कर वह चला गया। पर वह तो लिख नहीं पा रहा था। कलम उठा कर ज्यों वह डेटलाइन लिखता, झल्लाती हुई नीला उसके सामने खड़ी हो जाती, “मुझे कुछ नहीं सुनना।” और जब ऐसा कई बार हो चुका तो उसने सारे कागज मरोड़ कर बास्केट में फेंके और, “तो मुझे भी कुछ नहीं लिखना।” बुदबुदाता हुआ उठ खड़ा हुआ।

“क्यों पागल हो रिया है। नहीं लिखना है तो मत लिखो।” सुजानपुरिया उसका बुदबुदाना सुन कर सलाह देने लगा।

“आप जाकर चुपचाप अपना बाजार भाव बनाइए सुजानपुरिया जी।” संजय ने हड़काया, “और आप रिपोर्टर्स रूम में इस समय क्या कर रहे हैं?”

“नाराज क्यों हो रिया है? जा रिया हूं।” कालर बंद करते हुए सुजानपुरिया चला गया।

संजय कैंटीन में आकर बैठ गया। और चुपचाप सिगरेट सुलगा ली।

“यह तो ऐसे उदास बैठा है जैसे इसने ही एबॉर्सन करवाया हो।” उमेश चाय सुड़कते हुए बोला।

संजय कुछ नहीं बोला। सिर्फ उमेश को घूर कर रह गया।

“नहीं-नहीं डांट खाके आ रिया है।” सुजानपुरिया यहां भी आ गया था, “डबल डांट।”

“क्या मतलब?” सुरेश बोला।

“किससे किससे? उमेश ने पूछा।”

“दोनों एन.एन. ने।” सुजानपुरिया अभी बोल ही रहा था कि संजय ने उसे घूरा और वह चुप हो गया।

“दोनों एन.एन.? मैं समझा नहीं। जरा ठीक से खुलासा करिए सुजानपुरिया जी। नाड़ा खोल के।” सुरेश मूड में था।

“अब मैं क्या बोलूं। वो तो गुस्सा हो रिया है।” कहते हुए सुजानपुरिया ने आंख मटकाई।

“डरते क्यों हैं सुजानपुरिया जी। कोई खा थोड़े ही जाएगा। हम लोग हैं न! बेधड़क बोलिए।” सुरेश ने ताव खिलाया।

“मैंने देखा तो नहीं पर चरचा है कि नीला ने संजय को लंबी झाड़ पिलाई। पर न्यूज एडीटर को तो मैंने ही डांटते देखा।” सुजानपुरिया ऐसे बोल रहा था जैसे संजय से कोई बदला ले रहा हो।

“नहीं सुजानपुरिया जी आप झूठ बोल रहे हैं।” सुरेश बोला।

“क्या?”

“यही कि संजय नीला या एन.ई. की डांट बर्दाश्त कर सकता है!” सुरेश फिर बोला।

“और अव्वल तो एन.ई. या नीला दोनों ही इसे डांटने की स्थिति में नहीं है।”

यह बहस अभी जारी थी कि संजय बिन बोले सिगरेट फूंकते हुए कैंटीन से बाहर आ गया। सीट पर आकर जैसे तैसे खबर घसीटी, न्यूज एडीटर को थमाया। और सीधा नीला के घर जा पहुंचा।

तब रात के काई नौ बजे थे।

नीला संजय को अचानक देख कर चौंकी पर तुरंत ही सहज हो गई। निरीह से भाई और गाय सी मां से परिचय कराया और मुसकुराने की कोशिश करती हुई बोली, “कहिए कैसे आना हुआ?”

“नहीं, कोई खास बात नहीं। इधर आया था तो सोचा तुम्हारे यहां भी हो लूं।”

“अच्छा-अच्छा।” कहते हुए नीला ने आंखों ही आंखों में संकेत दे दिया कि कोई ऐसी वैसी बात वह न करे।

“बेटा तुम्हारे बड़े गुन गाती है यह। आज तुम्हें देख भी लिया।” नीला की मां बोली।

“ऐसा क्या कर दिया भाई, जो तुम तारीफ कर गई।” उसने तंज किया, “मैं तारीफ के लायक तो नहीं हूं।”

नीला कुछ बोली नहीं पर आंखों से ऐसा घूरा कि संजय हिल गया। और इसी हड़बड़ाहट में वह चलने के लिए उठ खड़ा हुआ।

“खाना खा कर जाओ बेटा।” नीला की मां बड़े प्यार से बोली।

“नहीं, फिर कभी।”

“अच्छा कम से कम काफी तो पी लीजिए।”

“हां, हां।” कहते हुए संजय बैठ गया।

“आपका नाम तो अक्सर अखबार में छपा देखता हूं। पर आपको भी आज देख लिया।” नीला का भाई बोला।

“आप लोगों से मिल कर मुझे भी बड़ी खुशी हुई।” काफी खत्म करते हुए संजय ने बोला, “खास कर इस बात से कि दिल्ली में रह कर भी आप सबकी बोली खराब नहीं हुई।” नहीं, “आ जा, ले-ले, बैठ जा, खा-ले, परे हट जैसी बोली से मजा खराब हो जाता है।” बोलते-बोलते वह रूका, “अच्छा तो अब आज्ञा दीजिए।”

संजय जब सीढ़ियां उतरने लगा तो नीला की मां बोली, “संभल के बेटा!” नीला भी बोली, “अगली बार भाभी को लेकर आइएगा।”

“हां, बेटा।” नीला की मां बेटी के सुर में सुर मिला कर बोली।

“अच्छा।” कह कर संजय नीला के घर से चला तो आया पर रास्ते भर, “भाभी को लेकर आइएगा।” उसके कानों में चुभता रहा। “भाभी!” मतलब मैं भइया हो गया!

क्या हो गया है नीला को!

पर दूसरे दिन जब वह मिली तो सामान्य थी। शाम को पालिका बाजार के ऊपर घास पर बैठे आइसक्रीम खाते हुए सारे गिले शिकवे दोनों ने दूर किए। भाभी वाली बात पर उसका कहना था, “आखिर मां के सामने भला और क्या कहती?”

“तो अब आइंदा मत कहना।”

“ठीक है।”

फिर वह मुख्य मसले पर आई। नीला समझी थी कि पैसे देने के डर से वह गायब हो गया था और कि जब इतनी छोटी सी जिम्मेदारी से वह कतरा गया था तो अगर वह बिन ब्याही बच्चा जनती तो वह इतनी बड़ी जिम्मेदारी कैसे निभाता? आखिर उसने एबार्शन करवा लिया था। वह इस ब्यौरे में भी गई कि उसे इस एबार्शन में कितनी तकलीफ उठानी पड़ी। और कोई शक न करे इसलिए दफ्तर भी आती रही। बल्कि ठीक एबार्शन के दीन भी वह दफ्तर आई। ब्लीडिंग हो रही थी, डबल पैड बांध रखा था, चक्कर आ रहा था, काम नहीं किया जा रहा था, जैसे ब्यौरे भी उसने दिए।

संजय ने भी अपने मन का पाप उससे कह डाला। बता दिया सुरेश, उमेश और आलोक के ताने। यह भी बताया कि गांव वह जानबूझ कर नहीं गया था। उसका जाना जरूरी ही था वगैरह वगैरह। उसने यह भी कहा कि, “तुम्हारी देह के कष्ट में तो मैं भागीदार नहीं हो सकता पर पैसे जितने भी खर्च हुए हैं, इंतजाम करके सारे के सारे दूंगा।”

“नहीं इस मद में आप से एक पैसा स्वीकार नहीं है। और न दीजिएगा। आपको कसम है मेरी। और भगवान के लिए इन सब बातों की चर्चा आप कहीं मत करिएगा।”

“क्या तुम मुझे इतना सतही और घटिया समझती हो?”

“नहीं। समझती तो नहीं। पर पुरूष का क्या ठिकाना। यही सोच कर कह दिया। आप माइंड मत करिएगा प्लीज।”

“नहीं, नहीं।” कहते हुए उसने उसका पैर अपने पैर से छू दिया।

“नहीं, यहां कोई शैतानी नहीं।” कहते हुए उसने अपने फैलाए पैर समेट लिए।

“कुछ और खाओगी?”

“नहीं।” वह अपनी चोटी ठीक करती हुई बोली, “यह बताइए उमेश भी यह सब कह रहा था?”

“छोड़ो उस साले नपुंसक की बात।” कहते हुए संजय बिफरा, “वह क्या बोलेगा।” और जब बात-बात में कई बार संजय ने उमेश को नपुंसक, इंपोटेट उच्चारा तो नीला बोली, “उसको नपुंसक क्यों कह रहे हैं?”

“मैं क्या सभी कहते हैं?”

“मतलब?”

“यही कि साले की स्तंभन शक्ति गायब है। मतलब औरत के काबिल नहीं है।”

“नहीं, वह नपुंसक नहीं है।”

“क्या?” संजय चौंका।

“हां, मैं जानती हूं।”

“कैसे?”

“यूनिवर्सिटी में हम लोग साथ पढ़ते थे। हमसे शादी का वादा किया उसने। और मुझे खराब करके रख दिया।”

“फिर शादी क्यों नहीं की उसने?”

“बहुत घटिया और गंदा आदमी है वह?”

“वो तो है।”

“एक बार मुझसे कहने लगा कि अगर बिना शादी के तुम मेरे साथ लेट सकती हो तो किसी और के साथ भी नहीं लेटती हो इसकी क्या गारंटी है? मैं भला क्या गारंटी देती। कहती रही कि ऐसा नहीं है। पर वह नहीं माना। और एक दूसरी लड़की के साथ घूमने लगा।”

उस दिन वह नीला को उसके घर छोड़ने पहली बार गया। वह अपने घर से थोड़ी दूर पहले ही उतर गई। बोली, “संभल कर जाइएगा।”

गांधी नगर के पास जमुना नदी के पुराने लोहे वाले पुल पर तब कि दिनों में सुबह लालकिले की तरफ आने और शाम को गांधी नगर वापस जाने में भारी भीड़ होती थी। और कभी-कभी घंटों ट्रैफिक जाम हो जाता। ट्रैफिक जाम से बचने के लिए संजय नीला को आई.टी.ओ. पुल से पुश्ते की तरफ से गांधी नगर पहुंचाने लगा।

पुश्ते पर उन दिनों-दिन में ही न के बराबर ट्रैफिक होती। शाम को तो बिलकुल नहीं। इक्का दुक्का कोई सवारी निकल जाती। संजय और नीला के देह लीला की नई स्थली बन गई यह पुश्ते की राह।

पुश्ता, संजय और नीला!

पर ज्यादा दिनों यह नहीं चला। अचानक एक दिन वह बताने लगी, “अब आपसे जुदाई के दिन करीब आ गए हैं।” वह भावुक हो रही थी। बहुत ज्यादा।

“क्यों?”

“मेरी शादी की बात चल रही है।”

“कहां?”

“यहीं दिल्ली में ही।”

“मैं तो तमसे पहले ही कहता था, तुम्हें शादी कर लेनी चाहिए। मुबारक हो!”

“लड़के वाले देख गए हैं। पसंद भी कर गए हैं।” वह सुबकने लगी थी।

“अरे, यह तो खुशी की बात है। इसमें रोने की क्या जरूरत है?” कहते हुए संजय ने उसे बांहो में भरा और चूम लिया।

नीला चुप रही। सुबकती रही।

एक दिन उसने शादी का कार्ड दिया। बोली, “आपसे एक बार ठीक से मिलना चाहती हूं।”

“जब कहो।”

“ठीक है, बताऊंगी।”

कोई हफ्ते भर बाद उसका फोन आया। किसी पब्लिक बूथ से बोल रही थी, “आज ही, और अभी मिल सकेंगे आप?”

“हां, क्यों नहीं?”

“पर पूरी फुर्सत से आइएगा। छुट्टी वुट्टी लेकर।”

“क्यों?”

“कहा तो था कि एक बार से ठीक से मिलना चाहती हूं।”

“अच्छा-अच्छा। पर आज शाम को यू.पी. के चीफ मिनिस्टर की प्रेस कांफ्रेंस है।”

“जरूरी है कि आप ही कवर करें।”

“हां यू.पी. मेरी बीट है।”

“पर कोई और भी तो कर सकता है। प्लीज, देखिए मैं फिर नहीं मिल पाऊंगी।”

“क्यो?”

“कल से मेरा घर से निकलना बिलकुल बंद।”

“ओह!”

“ओह, ओह मत कीजिए। छुट्टी लीजिए और आ जाइए।”

“ठीक है।”

“हां, सुनिए। कहीं कमरा नहीं अरेंरज हो जाएगा?”

“अब तुरंत-तुरंत कहां हो पाएगा।”

“अच्छा आप छुट्टी लीजिए और जंतर-मंतर पर मिलिए ठीक सवा बारह बजे।”

“ओ.के.।”

जंतर मंतर से वह वेस्ट पटेल नगर ले गई। वहां उसकी सहेली थी, उसके हसबैंड आसिफ गए थे और बच्चे स्कूल। और खुद वह उन दोनों को छोड़ कर, “अभी आती हूं।” कह कर निकल गई।

जैसी कि संजय को उम्मीद थी कि नीला अब उस पर टूट पड़ेगी, वैसा नहीं हुआ। वह उससे चिपट कर रोने लगी। वह रोती रही और संजय उसके कपड़े उतारता रहा। पर जब उसका अंतिम वस्त्र पैंटी उतारने लगा तो वह बोली, “अब यह सब रहने दीजिए!”

पर संजय नहीं माना और, “एक बार बस, एक बार प्लीज।” कह कर स्टार्ट हो गया।

थोड़ी देर बाद संजय बोला, “शादी के बाद भी मिलोगी न?”

“क्या मालूम?”

“फिर भी?”

“अब ससुराल का जैसा माहौल होगा देखूंगी। पर आप अपनी ओर से मिलने की कोशिश मत करिएगा। कोई सूरत निकलेगी तो मैं खुद ही मिल लूंगी।”

“ठीक है। यही ठीक रहेगा।”

इसके बाद वह बड़ी देर तक उससे चिपटी रही, “पर आप मुझे मत भूलिएगा।” वह यह बार-बार बुदबुदाती रही।

नीला अपनी शादी के एक महीने बाद आफिस आई। खूब सजी संवरी, बनी ठनी, ठुमक-ठुमक करती हुई। पायल छमकाती हुई। ऐसे जैसे वह पुरानी वाली नीला नहीं हो।

सचमुच यह नीला वह नीला नहीं थी।

तो कौन थी यह?

संजय यह जानने की बिलकुल कोशिश नहीं की। वादे के मुताबिक उसने कोई पहल नहीं की। उसकी पहल का इंतजार किया। ऐसा भी नहीं कि नीला, संजय से बोली नहीं हो इस बीच। वह अपने पति जिसको वह बार बार “मेरे हसबैंड, मेरे हसबैंड” कहती रहती उस हसबैंड को लेकर संजय के घर भी कई बार आई। एक बेटी की मां बन गई। पर संजय उसकी पहल का इंतजार करता रहा जो नहीं हुआ।

होना ही नहीं था।

एक दिन उसने नीला को फोन किया और कहा कि, “मिल नहीं सकती मुझसे?”

“क्यों नहीं? अभी आती हूं।”

“ऐसे नहीं अकेले में।”

“नहीं यह तो नहीं हो सकता।”

“क्यों?”

“मैं प्रिगनेंट हूं।”

“फिर तो और मजा आएगा। तुम्हें मालूम नहीं प्रिगनेंसी के दौरान सेक्स का मजा बढ़ जाता है?”

“नहीं।”

“तो मिलो तो मजा चखाऊं!”

“नहीं, अभी नहीं।” वह बड़ी बेरूखी से बोली।

“तो फिर?”

“ठीक है मैं फिर बताऊंगी।”

नीला का दूसरा बच्चा बेटा हुआ। अब वह तीसरे बार प्रिगनेंट थी। संजय ने उसे एक दिन घेर लिया तो उसने बताया, “मैं फिर प्रिगनेंट हूं।”

“पर तुम औरत हो कि मशीन?” कि हर साल एक माडल निकालती जा रही हो?

“चाहती तो मैं भी नहीं हूं पर ससुराल की मर्जी से चलना पड़ता है।” वह दुखी होती हुई बोली।

“हद है। बेटी और एक बेटा तुम्हारे हो ही गया है। अब कौन सा सन कांपलेक्स है?”

“उन्हें एक बेटा और चाहिए।”

“बड़ा जाहिल है तुम्हारा पति।”

“नहीं मेरे हसबैंड नहीं, मेरी सास और जेठानी।”

“तो इतने सारे बच्चे और आफिस। कैसे निभाओगी?”

“मैं खुद परेशान हूं। पर क्या बताऊं?” कहती हुई वह चलने लगी। बोली, “जरा देर से पहुंचो तो सास चिल्लाने लगती हैं।”

“मैं छोड़ दूं।”

“नहीं।” कह कर वह तेजी से भागी कि कही संजय सचमुच उसे स्कूटर पर न बैठा ले।

नीला के तीसरा बच्चा बेटी हुई। सास ने बड़े ताने दिए। पर अबकी नीला ने स्पष्ट मना कर दिया कि वह “अब और बच्चा पैदा नहीं करेगी।”

“क्यों?” सास ने पूछा।

“नौकरी और बच्चा दोनों एक साथ नहीं हो पाएगा।”

“नौकरी छोड़ दो।” सास गरजी।

नीला ने संजय को फोन पर यह सब कुछ बताया और पूछा कि, “क्या करूं?”

“नौकरी तो हरगिज मत छोड़ना।” संजय ने उसे सलाह दी।

“पर घर में तो जैसे आग लगी हुई है।”

“ऐसा करो तुम कुछ दिनों के लिए छुट्टी ले लो। मन करें तो लंबी छुट्टी।”

“लंबी छुट्टी कहां मिलेगी?”

“मैं जी.एम. से रिक्वेस्ट करके स्वीकृत करा दूंगा। पर तुम नौकरी मत छोड़ना। आज की तारीख में नौकरी औरत का सबसे बड़ा हथियार है।”

“हां, ये तो है।”

“और फिर दुबारा ठीक-ठाक नौकरी मिल जाय कोई जरूरी नहीं।” तुम खुद सोचो कि अगर तुम नौकरी में नहीं होती तो क्या तुम्हारे ससुराल वाले तुम पर और जुल्म नहीं ढाते?”

“ये तो है।”

“अच्छा ये बताओ तुम्हें कहीं मारते तो नहीं हैं सब?”

“नहीं। नीला संक्षिप्त सा बोली।”

“सच-सच बताओ।”

“हां, कभी-कभी।”

“कौन?”

“सास!”

“और हसबैंड?”

“नहीं।”

“सच बोल रही हो?”

“हां।”

“नहीं तुम सच नहीं बोल रही हो।”

“अब आपसे क्या छुपाऊं। कभी-कभी वह भी।”

“हद है।” संजय बड़बड़ाता रहा, “सोचो अगर तुम नौकरी में नहीं रहोगी तब क्या होगा? इसलिए मेरी मानो, छुट्टी ले लो। और पति तुम्हारा दिखने में सीधा दिखता है। उससे कहो परिवार निजोयन के उपाय अपनाए।”

“कहा तो मैंने भी। पर आपकी तरह वह भी नहीं मानते।”

“क्या मतलब?”

“कंडोम से उन्हें भी मजा नहीं आता।”

“तो ठीक है। कापर टी लगवा लो। गोलियां ले लो।”

“गोलियां सास खाने नहीं देंगी। वह हरदम तलाशी लेती रहती हैं, मेरे कमरे, बिस्तर, ट्रंक सबका।”

“तो चुपचाप कापर टी लगवा लो।”

“देखिए,” वह बोली, “पर मेरी छुट्टी स्वीकृत करवा दीजिएगा।”

“करवा दूंगा।”

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *