अपने-अपने युद्ध (7)

भाग (6) से आगे… नीला लंबी छुट्टी पर चली गई। पर अचानक महीने भर में ही छुट्टियां कैंसिल कर वह वापस आ गई। क्या तो, वह लीव विदआउट पे हो रही थी। लगातार बच्चे पैदा करने में छुट्टियां पहले ही खत्म हो चुकी थीं। और घर वालों को उसकी तनख्वाह की आदत पड़ गई थी। सो उसे वापस डयूटी पर आना पड़ा। इस बीच अपने हसबैंड को राजी कर वह कापर टी भी लगवा चुकी थी।

“तो अब तो हमसे मिल लो।”

“नहीं।”

“क्यों?”

“‘टाइम कहां है?”

“लंच में।”

“यह कैसे हो पाएगा?”

“तो किसी दिन छुट्टी मार दो!”

“नहीं।”

“अब इसमें क्या दिक्कत है?”

“है न!”

“क्या?”

“अब क्या बताऊं?”

“बताओ नहीं, मिलो।”

“अच्छा!”

“तो कब मिलोगी?”

“बताऊंगी!”

“कैसे?”

“फोन करूंगी।”

पर वह फिर गायब!

एक दिन संजय ने उसे फोन किया, “तुम्हारा फोन तो आता रह गया?”

“अब क्या बताऊं?”

“क्यों?”

“मैं नहीं मिल सकती?”

“हद है।”

“असल में मेरे हसबैंड शक्की हैं।”

“यह तो तुमने पहले नहीं बताया।”

“अब क्या बताती!”

“क्या बेवकूफी है?”

“असल में जब से कापर टी लगवाया है तबसे ज्यादा शक्की हो गए हैं।”

“यह सब मैं कुछ नहीं जानता। तुम किसी भी तरह हमसे मिलो। अब रहा नहीं जाता।”

“पर मैं नहीं मिल सकता।”

“क्यों?”

“मेरे हसबैंड दफ्तर में जब तब मुझे चेक करने आ जाते हैं। आप समझा करिए।”

“बड़ा दुष्ट है साला।”

“क्या कह रहे हैं आप।”

“कुछ नहीं, कुछ नही। बस एक बार दस मिनट के लिए सही तुम समय निकालो।”

“अच्छा बताऊंगी।”

पर महीनों बीत गए नीला ने कुछ नहीं बताया।

संजय ने उसे एक दिन फिर घेरा और कहा, “आखिर कब समय निकालोगी, और कब बताओगी?”

“आप समझा कीजिए।”

“यह तो कोई बात नहीं हुई।”

“मैं खुद भी आपसे मिलना चाहती हूं।”

“गुड!” वह खुश होता हुआ बोला “अब तक तो चेंज का मन तुम्हारा भी करने लगा होगा?”

“हां, पर संभव नहीं है।”

“क्यों?”

“मेरे हसबैंड इधर बहुत शक्की हो गए हैं। देवर तक से बात करने में उन्हें शक हो जाता है।”

“लगता है उसे अपने पौरुष पर विश्वास नहीं है।”

“अब मैं क्या बताऊं?”

“अच्छा तुम मिलो तो मैं बताता हूं।”

“मैं नहीं मिल सकती। बिलकुल नहीं।”

“ऐसा भी क्या है कि दस मिनट के लिए भी नहीं मिल सकती?”

“ऐसा ही है।”

“क्या तुम्हारे हसबैंड को मुझ पर शक है?”

“नहीं तो!”

“फिर क्या बात है?”

“बताना जरूरी है?”

“हां।”

“मेरे हसबैंड ने मुझे कसम दिलाई कि अगर ऐसा वैसा कुछ किया या कुछ सुनाई भी दिया गलत या सही तो मेरा मरा मुंह देखोगी।” कह कर वह फोन पर फफक कर रोने लगी।

“ऐसी बात थी तो तुम्हें पहले बताना चाहिए था। और इस कीमत पर मैं कभी तुमसे नहीं मिलना चाहूंगा। यह तुम्हें बहुत पहले बताना चाहिए था। मैं कभी तुमसे नहीं कहता।” संजय सकते में आ गया। उसे ऐसी उम्मीद तो कतई नहीं थी।

“आप प्लीस माइंड मत करिएगा।” वह बोली।

“नहीं बिलकुल नहीं। बल्कि आई एम वेरी सॉरी। तुम मुझे माफ करना।” कह कर संजय ने फोन रख दिया।

इसके बाद भी नीला संजय के घर अपने हसबैंड के साथ कई बार आई। पर संजय ने उसकी ओर से बिलकुल चुप्पी साध ली थी।

उसने देखा, नीला को यह अच्छा लगा था।

नीला!

और अब चेतना!

चेतना संजय की उम्मीद से उलट कोई एक महीने बाद हाजिर हो गई। बेहिसाब बदहवास! पर बोली कुछ नहीं। संजय ही बोला, “कहिए मीरा जी कैसे राह भूल गईं?”

“नहीं इधर से गुजर रही थी। सोचा आपसे भी मिलती चलूं।”

“जेहे नसीब!”

“क्या?”

“कुछ नहीं।” संजय समझ गया कि चेतना जेहे नसीब का मतलब नहीं समझ पाई।

“नहीं, कुछ नसीब जैसा कह रहे थे आप।”

“अरे यही कि मेरी खुशकिस्मती जो “आप” आईं।”

“ओह!”

“तो तुम क्या समझी थी?”

“आप कब क्या कह बैठें। कुछ ठिकाना है?”

“बिलकुल है।”

वह चुप रही।

“कहीं चलें?”

“चलिए।”

“कहां चलें?”

“जहां आप चाहें।”

चेतना का “जहां आप चाहें?” कहना संजय को उत्साहित कर गया। पूछा, “पिक्चर?”

“पिक्चर नहीं देखती मैं।”

“तो?”

“वैसे ही कहीं चल कर बैठते हैं।”

“ठीक है।” कह कर संजय चेतना को लेकर चिड़िया घर चला गया। चिड़िया घर में थोड़ी देर बैठते ही चेतना उकता गई। बोली, “कोई जगह नहीं मिली थी आपको?”

“क्यों?”

“बस यहां से चलिए?”

“कहां?”

“कहीं भी। पर यहां नहीं।” कहती हुई वह उठ खड़ी हुई।

“दिलकुशा चलें।”

“चलिए।”

“यहां चिड़िया घर में तुम्हें क्या दिक्कत हो रही थी?” रास्ते में संजय ने चेतना से पूछा।

“देख नहीं रहे थे। वहां कितनी फेमिली थीं।”

“तो?”

“कोई जान पहचान का मिल जाता। आपके साथ देख लेता तो?”

“ओह!” संजय समझ गया था कि अब चेतना उससे दूर नहीं है।

दिलकुशा दोनों पहुंच तो गए। पर बैठने की कोई कायदे की जगह नहीं मिली। बेंचों पर धूप थी और खंडररों में घुसने लायक नहीं था। भीतर गंदगी थी और बाहर खेलते हुए बच्चे।

फिर भी दोनों दिलकुशा के खंडहरों के बाहर टूटी दीवार पर बैठ गए। चेतना पहले तो बे-सिर पैर की बतियाती रही। इस बीच संजय ने उसकी बगल में आकर बैठने को दो-तीन बार कहा। पर वह नहीं मानी। बल्की छिटक कर और दूर हो गई। बहुत कहने पर बोली, “ठीक हूं यही।”

बावजूद इसके संजय ने देखा कि वहां खेलते हुए लड़के खेलते-खेलते संजय और चेतना के इर्द-गिर्द आ गए और वहीं पास ही खेलने लगे। खेलते-खेलते वह सब बीच-बीच में अजीब सी, ललचाई सी नजरों से चेतना को देखते रहते। और चेतना फूल, जंगल और पेड़ों के बारे में बेवजह बोलती जा रही थी। उस कि संजय उससे प्यार, इसरार और सेक्स की बातें करना चाहता था। वह उसे बढ़ कर चूम लेना चाहता था। पर एक तो चेतना फूलों, पड़ों और पत्तों में उलझी हुई थी और दूसरे, खेलते हुए बच्चे लगातार वहीं मंडरा रहे थे। संजय उकता गया। बोला, “तुमने भी क्या जगह चुनी है?” हुंह दिलकुशा!

“क्यों ठीक तो है। कितना शांत-शांत।”

“क्या बेवकूफी की बात करती हो।”

“क्या मतलब है आपका?”

“कुछ नहीं। चलो तुम कोई गाना सुनाओ।”

“गाना?”

“हां।”

“पर मेरा मूड नहीं है।”

“क्यों?”

“बस कह दिया कि मूड नहीं है।” वह उखड़ने लगी।

“तो चलें?”

“कहां?”

“कहीं भी। पर यहां से चलो।”

“नहीं। यहीं बैठिए। मुझे अच्छा लग रहा है। प्लीज।”

“तो गाना सुनाओ।”

“नहीं, प्लीज ये बच्चे क्या सोचेंगे?”

“क्या सोचेंगे? गाना कोई चोरी तो नहीं।”

“फिर भी आज नहीं गाऊंगी।”

“क्यों भला?”

“इसके पहले जब दिलकुशा आया था तो यहीं, बिलकुल यहीं,” संजय जगह दिखाते हुए बोला, “क्लासिकल जुगलबंदी रात भर सुन कर गया था। गिरिजा देवी का गायन और पंडित हनुमान मिश्र की सारंगी। और गाते-गाते गिरिजा देवी इतनी विभोर हो गईं कि पंडित जी से कहा कि छोड़िए यह सारंगी और गाइए आप भी।”

“तो गाया उन्होंने?”

“हां। और ऐसी जमी जुगलबंदी कि पूछो मत। उनकी गायकी का जो रस बरसा, उसमें श्रोता इतना भींज गए कि रात ढाई बज गए और कोई उठने का नाम नहीं ले। संगत करने वाले कलाकार थक गए, पंडित हनुमान मिश्र हाथ जोड़ने लगे, पर श्रोता “नहीं-नहीं, अभी नहीं” बोलते रहे और गिरिजा देवी भी गायकी की कसक कूतती बड़े इसरार से पंडित जी को मना लेतीं। इस मनाने में गिरिजा देवी की लोच, खटका, खनक, और मस्ती भरा पंडित जी से इसरार का अंदाज देखने लायक था। ‘अमवा बउरलैं पिया नाहीं-अइलैं हो रामा’ चइता की गायकी में जो दोनों की लय थी, एक अजीब सा सुरूर भर गई थी। सुनकर मन बउरा गया। और कई बार तो लगा कि पंडित जी सारंगी बजाने से अच्छा गाते हैं। बल्कि वह दो टुकड़ों में गिरिजा देवी पर बुरी तरह भारी पड़ गए। जिसे गिरिजा देवी ने अपनी ठिठोली से, मुसकान से जैसे तैसे कंपलीट किया। और जब गिरिजा देवी की ठिठोलियां काफी चढ़ गईं तो पंडित हनुमान मिश्र बोले, “जब यह बनारस में गाना सीख रही थीं तो हमारे सामने लड़की थीं!” पंडित जी का कहने का अंदाज इतना रसीला था कि गिरिजा देवी इस उमर में भी किसी षोडषी की तरह लजा कर हंस पड़ीं। और समां मदमस्त हो गया। इस तरह पंडित जी ने गिरिजा देवी की ठिठोली जैसे छांट कर रख दी। बिलकुल किसी माली की तरह। गोया वह गिरिजा देवी की ठिठोली नहीं, किसी पौधे की बेतरतीब पत्तियां छांट रहे हों। पर गिरिजा देवी भी हार मानने वाली नहीं थीं। ‘सेजिया चढ़त डर लागे’ गुहार कर जैसे उन्होंने पंडित जी को ललकार दिया पर पंडित जी ने जब ‘लागे-लागे डर लागे’ कह कर तान ली तो एक बार लगा कि गिरिजा देवी अब संभल नहीं पाएंगी। लेकिन गिरिजा देवी ने पंडित जी के पूरे सुर को आधे सुर में नरमी और पन से बांधा कि वह लाजवाब हो गए। हालांकि पिछली रात जसराज आ गए थे, उनकी गायकी की गूंज, गूंज की याद इस दिलकुशा के खंडहरों में वैसे ही तिर रही थी। पर यह जुगलबंदी तो अनूठी थी। अप्रितम, और लाजवाब। गिरिजा देवी के गायन और पंडित हनुमार मिश्र के सारंगी वादन की जुगलबंदी नहीं, दोनों के गायन की जुगलबंदी। सेजिया चढ़त डर लागे की पौन घंटे की गायकी खत्म होते ही पंडित जी उठ खड़े हुए। गिरिजा देवी को इंगित किया और बोले, “अब तो मेरा हार्ट फेल हो जाएगा!” कहते हुए वह मंच से उतर कर श्रोताओं के बीच आकर बैठ गए। पर गिरिजा देवी का गायन चल रहा था। लेकिन दोनों की जुगलबंदी में जो रस और गंध गमका था, जो मन लहका और बहका था, वह महक अब नहीं रह गई थी, शायद मर गई थी। संजय यह सब बताते मुग्ध था और उसने देखा, चेतना भी मंत्रमुग्ध, एकटक उसकी ओर देखती हुई सुन रही थी।

“आपने तो पूरी जुगलबंदी का दृश्य ही परोस दिया।”

“सच?”

“बिलकुल।”

“तो अब तो गा दो।”

“अच्छा कोशिश करती हूं। क्लासिकल टुकड़े तो नहीं गा सकती। पर एक फिल्मी गीत सुना दूं?”

“हां जानता हूं तुम फिल्मी ही गाती हो। सुनाओ।”

“कहां गिरिजा देवी और कहां मैं?” वह सकुचाती हुई बोली।

“तो क्या हुआ? यह फर्क भी तो है कि कहां उतने सारे सुधी श्रोता और कहां मुझ जैसा मूढ़ अकेला श्रोता।” सुन कर वह पहली बार हंसी। और गाने लगी, “तुम नाचो रस बरसे!”

“तुम नाचो रस बरसे” चेतना ने सुर तो ठीक ही पकड़ा था। पर पहले ही अंतरे में उसका गला रूंध गया। वह रोने लगी। फूट-फूट कर। ऐसे जैसे कोई पका हुआ फोड़ा फूट कर बह चला हो, जैसे कोई हरहराती नदी बांध तोड़कर निकली हो, जैसे कोई हरा पेड़ बढ़ई की आरी से कट कर औंधा गिर पड़े, ऐसे ही वह बेसुध होकर रोने लगी। रोते-रोते सुबुकने लगी। सुबुकते-सुबुकते हिचकियां लेने लगी।

कोई आधा घंटा लग गया उसे सामान्य होने में। जब वह सामान्य हुई तो संजय ने पूछा, “अचानक रोने क्यों लगी! बात क्या है?”

“बस ऐसे ही।” वह उदास स्वर में बोली।

“फिर भी?”

“क्या करेंगे जान कर?”

“कुछ नहीं। पर जब कोई बात मन को दुखी करे उसे किसी और से कह देने से मन का बोझ कुछ हलका हो जाता है। इसीलिए कह रहा हूं कि अगर मुझ पर जरा भी यकीन हो तो कह डालो अपने मन का बोझ। कह लेने से मन हलका हो जाएगा।”

“कह लेने भर से अगर किसी के मन का बोझ हलका हो जाता तो दुनिया में कोई दुखी नहीं होता। सभी कह-कह कर मन का बोझ उतार कर खुश रहते।” वह फिर सुबुकने लगी थी।

“सही है। पर कह लेने से सचमुच पूरा न सही, थोड़ा ही सही, मन हलका हो जाता है।”

वह चुप रही।

“बताओ न क्या बात है?”

“कुछ नहीं। बस, सुकेश की याद आ गई थी।” वह फिर जोर-जोर से सुबुकने लगी, “उसे यह गाना बहुत अच्छा लगता था।”

“यह सुकेश कौन है?”

“मैं सुकेश से प्यार करती हूं।”

“प्यार करना तो बुरी बात तो नहीं है। अच्छी बात है। प्यार करना और उसे पाना सबकी किस्मत में नहीं होता। और फिर प्यार तो पूजा है।” कहते हुए संजय ने उसे नूर लखनवी का वह मशहूर शेर, “मैं तो चुपचाप तेरी याद में बैठा था, घर के लोग कहते हैं सारा घर महकता था।” सुनाया और कहा कि, “तुम बड़ी खुशकिस्मत हो।”

“नहीं, ऐसा नहीं है।” कहते हुए वह तिलमिलाई।

“क्यों?”

“क्योंकि सुकेश ने अब किसी और से शादी कर ली है।” वह डिप्रेस हो रही थी।

“कब?”

“पिछले हफ्ते।” बताते-बताते उसकी आवाज फिर रूंध गई।

“क्यों?” पूछते हुए संजय ने सिगरेट सुलगा ली थी।

“इधर मैंने उससे बोलना बंद कर दिया था। पर क्या पता था कि वह किसी और से शादी कर लेगा?” उसकी रूलाई रुक नहीं रही थी।

“बोलना क्यों बंद कर दिया था?”

“यह तो हम लोगों के बीच अक्सर होता था।”

“क्यों?”

“यूं ही छोटी-छोटी बात पर।”

“आप ही बताइए कि जिसको मैं तन-मन-धन से चाहती थी। उससे कुछ दिनों का बोलना बंद कर देना भी कोई मायने रखता था क्या?”

“मैं क्या कह सकता हूं?”

“मैंने बोलना ही तो बस बंद किया था। उसे मनाती तो मैं फिर भी थी।”

“करता क्या है सुकेश?”

“आर्टिस्ट है।”

“ड्रामा आर्टिस्ट?”

“नहीं।”

“तो?”

“चित्र बनाने वाला आर्टिस्ट।”

“नौकरी कहां करता है?”

“टी.वी. में।”

“क्या मतलब?”

“इसमें मतलब की क्या बात है?”

“मतलब यह कि टेलीविजन में चित्रकार की क्या जरूरत?”

“क्यों नहीं है। ग्राफिक्स का काम है। नाम लिखना, डिजाइन करना।”

“अच्छा-अच्छा।”

“आप इतना भी नहीं जानते?”

“जानता हूं। पर समझ नहीं पाया।”

“आप भी बस!” चेतना अब तक सहज होने लगी थी।

“कब से जानती हो सुकेश को। मलतब तुम लोगों के प्यार की उम्र कितने दिनों की है?”

“अब कहां हमसे प्यार करता है वह?”

“फिर भी कुछ तो उम्र होगी।”

“हां, यही कोई तीन-साढ़े तीन साल।”

“मिले कैसे थे, पहली बार?”

“एक सहेली के मार्फत। बस यूं ही रूटीन।”

“बात आगे कैसे बढ़ी?”

“मैंने तो बढ़ाई नहीं। वही आगे पीछे होने लगा। बाद में घर भी आने लगा। टी.वी. का ग्लैमर तो उसका था ही मैं भी उसके चक्कर में आ गई। नीच, कमीना, कुत्ता कहीं का।”

“इतनी घृणा हो गई उससे। इसका मतलब तुम प्यार भी बहुत करती थी। उससे।”

वह चुप रही।

“क्यों है न?” संजय ने उसे कुरेदा।

“हां, करती थी।” वह झिझकी, “अब भी करती हूं। शायद हमेशा करती रहूंगी पर सिर्फ मेरे प्यार करने से क्या होता है। उसने तो मुझसे प्यार नहीं किया।” वह भावुक होती जा रही थी “उसको अगर किसी से शादी करनी ही थी तो कर लेता। पर कम से कम मुझे बताता तो।”

“तुम करने देती उसे शादी? अगर तुम्हें बता कर करता?”

“क्यों नहीं। अगर उसकी खुशी इसी में थी तो मैं यह भी करती। एक नहीं दस शादियां करता वह। पर मुझसे पूछ कर करता। मैं कभी मना नहीं करती। उसकी खुशी में मेरी खुशी थी।”

“बहुत बड़ा दिल है तुम्हारा!”

“पर सुकेश ने तो यह नहीं समझा।” वह किसी मछली की तरह छटपटा रही थी।

“पर तुम्हारा दिल जब इतना बड़ा है तो झगड़ा किस बात पर हो गया?”

“बताना जरूरी है?” वह खीझी।

“इसीलिए पूछ रहा हूं। क्योंकि जो तुम कर रही हो कि सुकेश एक नहीं दस शादियां करता पर तुमसे पूछ कर करता तो तुम मान जाती। मुझे नहीं लगता। क्योंकि यह बात सिर्फ नारी मनोविज्ञान से परे हैं बल्कि मानव स्वभाव से भी विपरीत है।”

“जो भी हो पर मेरे साथ तो ऐसे ही है। मैं तो ऐसे ही सोचतू हूं।”

“तुम झूठ बोलती हो।”

“क्या?” वह चौंकी।

“यही कि तुमसे पूछ कर सुकेश दस शादियां करता और तुम करने देती।”

“बिलकुल करने देती।”

“बिलकुल झूठ। सुकेश की एक शादी तो तुमसे हजम हो नहीं रही। बिना पानी की मछली की तरह छटपटाती घूम रही हो। अगर वह दस कर लेता तो क्या करती?”

“जी नहीं, पूछ कर करता, दस नहीं दस हजार भी तो मैं खुश रहीती।”

“अच्छा। तो तुमसे पूछता और तुम शादी करने देती?”

“हां। और नहीं तो क्या?”

“तुम फिर झूठ बोल रही हो। हमसे ही नहीं अपने आप से भी।”

“नहीं, मैं झूठ नहीं बोल रही।”

“तो बार-बार यह रट क्यों लगाई हुई हो कि वह तुमसे पूछ कर ही शादी करता। वह तुमसे पूछता औ तुम हां कर देती?”

“बिलकुल।” वह उत्तेजित होकर बोलने लगी, “उसे अपने बेटे की तरह सजा कर, दुल्हा बना कर भेजती शादी करने।”

“मतलब यह कि वह शादी तो करता पर तुम्हारे पल्लू में बंध कर, यह कहो ना।”

“हां बिलकुल यह!” वह चिढ़ कर बोली।

“बस इसीलिए उसने तुम्हें नहीं बताया।”

“क्या?”

“हां। इसीलिए।” संजय जैसे चेतना के अहंकार को पटक कर रख देना चाहता था, “अब मैं समझ गया कि तुम सुकेश से प्यार नहीं करती थी। सिर्फ उसे पल्लू से बांधे रखना चाहती थी।”

“यह कैसे कह सकते हैं आप।”

“ऐसे कि प्यार में स्वार्थ नहीं होता। रत्ती भर भी नहीं। पर तुम्हारे प्यार में स्वार्थ था।”

“कौन सा स्वार्थ?”

“सुकेश को पल्लू से बांधे रखने का स्वार्थ। और यही तुमसे गलती हो गई।”

“कैसे?”

“वो ऐसे कि औरत को पाने से पहले पुरुष चाहे उसके लाख फेरे लगाए पर औरत को पाने के बाद भी वह उसके इर्द-गिर्द चक्कर काटता रहे, जरूरी नहीं है। कुछ अपवादों को छोड़ दो तो पुरुष मानसिकता यही है। मानव स्वभाव यही है।” संजय ने उसे समझाते हुए बोला, “मेरा खयाल हो तुम यहीं चूक कर बैठी। तुमसे गलगी यहीं हो गई।” वह रुका और बोला, “तुम बुरा मत मानना पर जैसा कि तुम थोड़ी देर पहले बता रही थी कि तुम तन-मन-धन से उसे चाहती थी तो मैं समझता हूं तुम दोनों के बीच देह संबंध भी रहे होंगे? और उसके बाद से जाहिर है तुम उम्मीद करती रही होगी कि वह उसी तरह तुम्हारे इर्द गिर्द नाचता रहे। और उसने ऐसा किया नहीं होगा। तुम्हारी ओर से उदास रहने लगा होगा। और तुम उसे पल्लू से बांधने की फिराक में। गांठ यहीं पड़ी होगी, तुम दोनों के संबंधों में। अंतत: देह संबंध ही तुम दोनों के मिलने और बिछड़ने का सबब बन गया होगा। देह संबंध!”

देह संबंध शब्द पर संजय ने जरा ज्यादा जोर दिया पर चेतना चुप रही। और पैर की अंगुलियों से दीवार की ईंटे कुरेदने लगी।

“बोलो न? देह संबंध थे कि नहीं तुम्हारे। “वह किसी दरोगा की तरह तफतीश कर रहा था।

“हां।” वह सिर झुकाए ही धीरे से बोली।

“रेगुलर या कैजुअली?”

“आप हमें गलत मत समझिए।”

“मैं गलत कहां समझ रहा हूं। मैं देह संबंध नहीं मानता। यह तो एक जरूरत है। ठीक भोजन, हवा और पानी की तरह। एक बायलाजिकल जरूरत।”

“वो तो ठीक है।” कहते हुए उसने सिर झटके से ऊपर उठाया और बोली, “हमने यह सब शादी के बाद किया।” वह बोली ऐसे जैसे संजय को तमाचा मार रही हो।

“कब शादी की तुम लोगों ने?”

“मिलने के कुछ दिनों बाद ही।”

“घर वालों की मर्जी से?”

“नहीं।”

“तो फिर?”

“मंदिर में।”

“तुम्हारे घर वाले साथ थे?”

“नहीं।”

“और सुकेश के?”

“नहीं।” वह खीझ भी रही थी और उदास भी हो रही थी।

“तो?”

“मनकामेश्वर मंदिर में वही ले गया था। वहीं शादी की थी।”

“और कोई साथ था?”

“नहीं।”

“तो शादी की इतनी जल्दी क्या थी?”

“मुझे नहीं, उसे थी।”

“क्यों?”

“वह मेरे साथ सोना चाहता था। और मैंने साफ कह दिया था कि बिना शादी के नहीं।”

“तो तुम अपने घर वालों को बता सकती थी। मना सकती थी शादी के लिए।”

“वह समय देता तब न?” वह उदास होती हुई बोली, “उसके पास तो जैसे टाइम ही नहीं था। बोला आज मंदिर में कर लेते हैं फिर घर वालों की मर्जी से बैंड बाजे के साथ भी बाद में करेंगे।”

“फिर?”

“बैंड बाजा तो बजवाया उसने पर मेरे लिए नहीं, किसी और से शादी कर ली।” वह फिर रोने लग पड़ी थी, “जब कि मंदिर में हमारी शादी की बात सुकेश के घर वाले भी जानते थे। उसके भईया-भाभी तो मुझे घर की बहू की ही तरह मानते थे।”

“और तुम्हारे घर वाले?”

“सिर्फ इतना जानते थे कि सुकेश मुझसे शादी करना चाहता है।”

“वो कैसे? तुमने बताया था क्या?”

“नहीं।”

“तो?”

“वह बेरोक टोक मेरे घर आता जाता था। मैं भी उसके घर जाती रहती थी।”

“फिर उसने तुमसे बैंड बाजे वाली शादी क्यों नहीं की?”

“पता नहीं।”

“तुमने उससे कभी कहा नहीं।”

“मैं तो हरदम कहती रहती थी। पर वही बार-बार “करेंगे-करेंगे” कह-कह कर टालता रहता था।”

“फिर?”

“फिर क्या? अब सब कुछ तो बता दिया आपको?” कह कर वह बुरी तरह रोने लग गई।

“तुम्हारे पास मंदिर वाली शादी के फोटो हैं क्या?”

“खिंचवाई ही नहीं थी।”

“वह पंडित गवाही दे देगा? जिसने शादी करवाई थी।”

“पता नहीं कौन पंडित था, मुझे तो यह भी याद नहीं।”

“तब तो उस पर कोई दबाव भी नहीं डाला जा सकता। बिना किसी सुबूत के, गवाह के कुछ हो भी तो नहीं सकता?”

“मुझे यह सब नहीं करना।” वह जैसे चेतावनी देती हुई बोली, “तो फिर गवाह या सुबूत की क्या जरूरत है?”

“चलो फिर बात ही खत्म हो गई।”

पर बात सचमुच खत्म नहीं हुई थी। अलबत्ता सांझ घिर आई थी। खेलते हुए बच्चे चेतना को देख-देख कर, थक कर वहां से जा चुके थे। कहीं कोई नहीं था। था तो सिर्फ दिलकुशा का खंडहर, झाड़ियां, अपने आप में खोए हुए पेड़, थोड़ी दूर पर सांझ में सोते हुए घर, अपने नीड़ को वापस लौटते हुए झुंड को झुंड पक्षी, संजय और चेतना। माहौल तो अच्छा था। पर संजय ने देखा चेतना अभी भी सुबुक रही थी। धीमे-धीमे। वैसे ही जैसे आकाश में पक्षियों में झुंड धीमे-धीमे उड़ रहे थे। वह चाहता तो बढ़ कर चेतना को चूम सकता था, उसे चुप कराने के बहाने उसकी पीठ, उसके बाल सहला सकता था, उसे बांहों में भर सकता था, वह तो इतनी बेसुध थी कि वह कुछ भी कर सकता था। पर सारा खयाल ही उसे सिरे से सतही और नीचता पूर्ण लगा। उसने एक बार चेतना को गौर से देखा वह घुटनों में सिर घुसाए सुबकती जा रही थी।

संजय को उस पर बरबस दया आ गई। एक अजीब सी सहानुभूति उसके प्रति उमड़ आई। एक ठंडी सी सांस उसने छोड़ी, भारी कदमों से चलता हुआ वह चेतना के पास पहुंचा उसकी पीठ पर धीरे से हाथ रखा तो वह चौंक पड़ी। झटके से सिर ऊपर उठाया। बोली, “क्या है?”

“कुछ नहीं। अब यहां से चलें?” संजय ने पूछा तो चेतना की जान में जान आई, “मन तो अभी नहीं हो रहा है।”

“सांझ घिर आई है। अंधेरा छाने वाला है। देखो मच्छर काटने लगे हैं।” मच्छर मारते हुए संजय बोला।

“तो क्या हुआ।” वह इसरार करती हुई बोली, “थोड़ी देर और नहीं बैठ सकते?”

“क्यों नहीं?” कहते हुए संजय चेतना के पास बैठ गया। बैठ तो वह गया पर सोचने लगा कि या तो चेतना उठ कर दूर छिटक जाएगी या फिर उससे दूर बैठने के लिए कहेगी। पर उसने ऐसा कुछ नहीं किया, कुछ नहीं कहा। तो संजय का मन उसके प्रति एक बार फिर डोला। पर चेतना के दुख से एक बार फिर संजय का मन विवश हो गया। और खुद को धिक्कारने लगा।

“आप ठीक कह रहे थे कि दुख कह लेने से हलका हो जाता है।”

“दुख ही नहीं मन भी हलका हो जाता है।”

“हां, यही बात कहना चाह रही थी, मेरा मन हलका हो गया है।” वह अपने बाल ठीक करती हुई बोली, “नहीं, जब से सुकेश की शादी की बात सुनी है तब से बहुत ही अन-इजी फील कर रही थी।”

अपने सूखे आंसुओं को गाल से छुड़ाती हुई वह बोली, “अब जाके थोड़ी इजी फील हो रहा है।” वह रुकी और बोली, “नही, लगता था कि कितना बड़ा पत्थर मन पर पड़ गया है। लग रहा था जैसे अब जी नहीं पाऊंगी। आत्महत्या कर लूंगी।” वह भावुक हुई ऐसे बोले जा रही थी कि सामने की पगडंडी से जा रहे आदमी ठिठक कर उसे अजीब नजर से घूरने लगे। उनका घूरना देखकर चेतना झट से उठ खड़ी हुई। बोली, “अभी थोड़ा और रुकना चाहती थी। यहां की शांति देख कर अच्छा लग रहा था। पर अब लोग जाने क्या समझ लें। इसलिए चलिए।”

“चलो।” कह कर संजय भी उठ खड़ा हुआ, “मैं तो तुमसे कब का कह रहा था चलने को।”

“हां, तभी मान लेना चाहिए था।” अपने खुल गए बाल बांध कर चिमटी लगाती हुई वह बोली।

“खैर चलो, तुम्हारा मन तो कुछ हलका हुआ।”

“हां, हुआ तो।” कहते हुए वह आगे बढ़ी।

“मैं तुमसे उसी दिन कह रहा था कि तुम प्यार में मार खाई हुई हो।” संजय स्कूटर स्टार्ट करते हुए बोला।

“किस दिन?”

“जिस दिन तुमने रजनीगंधा वाला गाना सुनाया था।”

“कैसे जान गए थे आप?”

“तुम्हारे गाने के अंदाज और लय से।”

“पर मैं तो हमेशा ऐसे ही गाती हूं। वह गीत ही ऐसा है।”

“हां, पर मुझे ऐसा लगा। खास कर “अधिकार तुम्हारा” शब्द जिस तरह तुम उच्चार रही थी। जिस तनाव में तुम उसे गा रही थी, उसमें दर्द छिपा था। उससे ही लग गया था।”

“पर तब तो मुझे पता ही नहीं था कि सुकेश की शादी हो गई है। और तब तो उसकी शादी सचमुच हुई भी नहीं थी।”

“पर झगड़ा तो तुम्हारा चल रहा था?”

“हां। यह जरूर था। पर फिर भी कैसे भाप गए आप?”

“बस यही तो बात है!” संजय ने जैसे खुद को दाद दी।

“अब चलेंगे भी?” चेतना ने टोका।

“क्यों डर लग रहा है?”

“हां।”

“किससे? मुझसे?”

“नहीं।”

“फिर?”

“अंधेरे से।”

“अंधेरे से क्यों?”

“इसलिए कि अंधेरे में मुझे डर लगता है। बस, अब आगे और मत पूछिएगा कि अंधेरे से क्यों डर लगता है। क्योंकि आप तो जवाब हो या सवाल हर जगह से सवाल निकाल लेते हैं।”

“अच्छा चलो। अब मुझसे भी प्रेस जाना है। आज कहीं गया भी नहीं। लगता है आज किसी उड़ते से मसले पर जलेबी बनानी पड़ेगी?”

“आप अखबार में काम करते हैं कि हलवाई की दुकान में?”

“है तो दुकान ही पर, अखबार की दुकान!”

“तो ये जलेबी बनानी पड़ेगी क्यों बोल रहे थे।”

“तुम नहीं समझोगी।”

“क्यों नहीं समझूंगी?”

“पर यह तो ट्रेड सीक्रेट है। नहीं बताऊंगा।” संजय मजाक के मूड में आ गया।

“मैं आपको अपने दिल का राजदार बना सकती हूं और आप अखबार की जलेबी नहीं बता सकते।”

“अखबार की बातें न जानो तो ही अच्छा। सब कुछ जान जाओगी तो घिन आएगी।”

“सब कुछ न सही, जलेबी वाली बात तो बता ही दीजिए।” चेतना जिद पर अड़ गई थी।

“असल में क्या है कि हम लोग जब कोई ठीक-ठाक खबर नहीं होती और फिर भी नौकरी करने के लिए अखबार का पेट भरने की बात आती है तो शब्दों का एक जाल सा बुनते हैं जिसका इन टोटल कई मतलब नहीं होता, कोई अर्थ, कोई ध्वनि, कोई मकसद नहीं होता पर पढ़ने में लोगों को मजा सा आ जाता है, उसी को जलेबी बनाना कहते हैं।” वह बोला, “कुछ लोग इस जलेबी को और सतह पर ला देते हैं और कह देते हैं, क्या लंतरानी मारी है।”

“यह तो धोखा है जनता के साथ।”

“जनता नहीं, पाठकों के साथ। अपने साथ।”

“पाठक जनता नहीं क्या। आप पत्रकार लोग भी नेताओं की तरह जनता को छलते हैं।”

“नेताओं से कहीं ज्यादा छलते है जनता को पत्रकार।” संजय हकीकत बयानी पर उतर आया।

“वो कैसे?”

“ऐसे कि नेताओं पर से जनता का विश्वास उठ गया है। जानते हैं लोग कि नेता छल रहा है। पर सारी गिरावट के बावजूद लोग अखबारों पर भरोसा करते हैं। ठीक वैसे ही जैसे बाजार में बिकने वाली दवाओं पर करते हैं। देश में ऐसे लोगों की तादाद कम नहीं है जो हर छपे अक्षर को सच मानते ही नहीं, पूरा श्रद्धा के साथ सच मानते हैं। और उनके साथ हम लोग छल करते हैं, सच की चादर ओढ़ कर सच की चादर बिछा कर, एक खोखला सच उनके दिल दिमाग पर तान कर।”

“क्यों करते हैं ऐसा आप लोग?”

“आप लोग?” संजय तंज करता हुआ बोला, “हम लोग तो छोटे-छोटे पुरजे मात्र हैं। नियंता लोग तो और हैं। जो कदम-कदम पर छल की बिसात बिछाए बैठे हैं।”

“नियंता लोग कौन हैं?”

“पूंजीपति साले!” संजय जैसे फूट रहा था, “बड़े-बड़े उद्योगपति। यही अखबारों के मालिक हैं। ये जो बेचना चाहते हैं, जो कूड़ा कचरा जनता को परोसना चाहते हैं वह सब कुछ सच का बाना पहना छपवाते हैं, बेचते हैं। ये पूंजीपति कोई देश हित में, समाज हित में अखबार नहीं छापते, बेचते। अखबार जब मिशन था तब था, अब तो उद्योग है। और उद्योगपति किसी के नहीं होते। वह तो सिर्फ अपने हितों को पोसते हैं, अपनी तिजोरी भरते हैं, अखबार की आड़ में पोलिटिसियनों और ब्यूरोक्रेटों को डील करते हैं। इस तरह समूचे देश को अपने पैर की जूती बनाए फिरते हैं। पर जनता कहां जानती है यह सब?” संजय अपने को रोकते हुए बोला, “अब ज्यादा नहीं बोलवाओ। नहीं, तुम्हारा दुनिया पर से यकीन उठ जाएगा। और मैं आज जलेबी भी नहीं बना पाऊंगा।” बोलते-बोलते वह चेतना की ओर मुड़ा और बोला, “सच बताऊं इस पत्रकारिता के पेशे में आकर पछताता हूं। पर अफसोस कि अब वापस भी नहीं हो सकता। किसी और नौकरी की उम्र नहीं रही। कोई और काम करने लायक नहीं रहा, कर ही नहीं सकता अब तो विवशता है इस पेशे को ढोते रहने की। ठीक वैसे ही जैसे मेहतरानी मैले की बालटी सिर पर ढोते रहने को अभिशप्त हो। मेहतरानी को तो फिर किसी न किसी दिन इस काम से बिलकुल छुट्टी मिल जाएगी। लगभग मिल भी चुकी है। क्योंकि समाज बदल रहा है, सुविधाएं और दृष्टि बदल रही है। पर पत्रकारिता और इसकी अभिशप्तता नहीं बदलने वाली। कम से कम मुझे तो ऐसा ही लगता है। इस तंत्र में तो कभी नहीं। आगे की राम जाने। पर अभी और बिलकुल अभी तो कतई नहीं।”

“अजीब बात है। मैं तो आप प्रोफेशन को बड़ा पाक साफ जानती थी। समझती थी पत्रकार देश की रीढ़ हैं। और आप लोगों की जो ग्लैमरस जिंदगी है उससे तो सच कहूं रश्क होता था।”

“नहीं, मैं यह नहीं कह रहा कि पत्रकारिता ऐज ऐ प्रोफेशन गंदी चीज है। पत्रकारिता का प्रोफेशन तो सचमुच जो तुम कह रही हो कि पाक साफ वैसा ही है, देश की रीढ़ भी होते हैं पत्रकार, यह भी सच है। और सिद्धांतत: अपने देश में यह सब कुछ है भी। चौथा स्तंभ माना जाता है प्रेस को। पर यह सब बातें जो तुम्हारे दिमाग में हैं वह सब तब की बातें हैं जब पत्रकारिता मिशन थी। पर अब पत्रकारिता मिशन नहीं व्यवसाय है। व्यवसायीकरण के वह सारे दबाव पत्रकारिता पर तारी हैं। जो किसी व्यवसाय पर हो सकते हैं। और पूंजीपति जाहिर सी बात है कि कोई भी चीज बनता है, बाजार में उतारता है तो अपने मुनाफे के लिए। समाज को उसका क्या-नफा नुकसान होता है यह सोचना उसका काम नहीं है। उसका काम अपना मुनाफा सोचना है सिर्फ अपना मुनाफा। तो वह गलत क्या सोचता है?” संजय कंधे उचकाते हुए बोला, “त्रासदी यह है चेतना कि अखबार भी पूंजीपतियों के मुनाफे में कैद हो गए हैं। और यह जो तुम्हारी जनता है कि चेत नहीं रही है।” वह व्यंग्य करता हुआ बोला, “आखिर चेते भी कैसे तुम्हारी जनता। जनता को जागरूक करने, उसे चेताने की जिम्मेदारी भी अखबारों के कंधे पर है!”

“हद हो गई। इस तरह देश कहां जाएगा?”

“यह तो मुझे अभी नहीं पता। और जाएगा भी तो ज्यादा से ज्यादा रसातल। पर अब टाइम बिलकुल नहीं है सो यह बंदा अब अपने अखबार के दफ्तर जरूर जाएगा।” संजय चेतना को सड़क के एक ओर छोड़ता हुआ बोला, “मायूस मत होओ। यह बहस अगली मुलाकातों में भी जारी रह सकती है। क्योंकि यह कभी खत्म न होने वाली बहस है।”

“ठीकह है” चेतना बोली, “पर आज तो चलती हूं।”

“ओ के.।”

“दफ्तर आकर संजय ने पहले तो टेलीप्रिंटर पर नजर डाली। पर वहां कुछ काम का नहीं था। जनरल डेस्क पर मगजमारी की। पर वहां से भी कुछ छापने लायक नहीं मिला। थक हार कर वह अपनी सीट पर आ गया। और जिस मसले पर वह जाने कितनी बार लिख चुका था वही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के बदले जाने की खबर पर एक नया एंगिल खोंसते हुए, “सूत्रों के मुताबिक,” “समझा जाता है” “बताया जाता है” “पता चला है” वगैरह-वगैरह जैसी भरमाने वाली और निरर्थक शब्दावालियों के घालमेल से आधे घंटे में ही स्टोरी लिख कर संपादक को थमा आया। स्टोरी देखते ही संपादक बोला, “गुड! आज की बाटम यही बनाते हैं।” और जैसे एहसान जताते हुए बोला,”बाई लाईन भी दे देता हूं।”

“अरे नहीं!” कहता हुआ संजय संपादक के कमरे से फूट लिया। यह सोच कर कि कहीं खुद उसकी मुंह से न निकल जाए कि, “टोटल जलेबी है, बाई लाईन क्या दीजिएगा!”

वापस अपनी सीट पर आकर उसने सिगरेट सुलगा ली।

“बच्चा-बच्चा राम का, क्या प्रबंध है शाम का।” उच्चारता हुआ राकेश संजय की सीट से गुजरता हुआ बोला, “अभी तक यहां बैठे-बैठे सिगरेट फूंक रहे हो। क्या आज अभी तक कहीं इंतजाम नहीं हुआ?”

“क्यों? मेरा क्या है, तुम अपना बताओ।”

“भई अपनी तो इन दिनों चांदी है। सुबह ब्रेकफास्ट, दिन को बीयर वाला लंच और रात की काकटेली डिनर वाली सारी प्रेस कांफ्रेंस अपने ही को एसाइन हो रही हैं।”

“तो आज रात को काकटेली डिनर कहां है?” संजय मुसकुराते हुए बोला।

“क्लार्क!” राकेश सटाक से बोला।

“पर क्लार्क होटल वाला एसाइनमेंट तो मुझे दिया गया है?”

“तो क्या फर्क पड़ता है बॉस। तुम भी चलना, हम भी चलेंगे।”

“नहीं, यार। एक अखबार से दो-दो! नहीं-नहीं। तुम चले जाना मैं नहीं जाऊंगा।”

“बड़े भारी कार्टून हो। डग्गे वाली काकटेली डिनरों में देखते नहीं हो और अखबारों का पूरा का पूरा ब्यूरो ही पहुंच जाता है। और तुम दो ही में भुड़कने लगते हो।” राकेश बोला।

“फिर भी संकोच होता है।”

“संकोच को मारो गोली। चल के भरपेट दारू और मुर्गा काटो। हमें भी काटने दो। और कौन साले महात्मा गांधी की प्रेस कांफ्रेंस है जो तुम नैतिकता बघार रहे हो। इंडस्ट्रियलिस्ट की प्रेस कांफ्रेंस है। कोई झांटू सी गिफ्ट देगा और लाखों की पब्लिसिटी बटोर लेगा। तो ऐसे सालों से क्या रियायत, कैसी नैतिकता? चल के स्कॉच पियो, मुर्गा खाओ, डग्गा लो, ऐश करो।” कहता हुआ राकेश निकल गया। संजय बड़ी देर तक सोचता रहा कि वह काकटेली डिनर वाली प्रेस कांफ्रेंस में जाए कि नहीं। रही बात खबर की तो उसकी तो विज्ञप्ति दूसरे दिन आ ही जाती। संजय अंतत: क्लार्क होटल चला गया। राकेश उवाच का पालन करते हुए उसने भरपेट स्कॉस पी, मुर्गा खाया, डग्गा लेकर, झूमता-झामता घर पहुंचा तो रात के बारह बजे थे।

“दूसरी शाम चेतना के साथ वह शहीद स्मारक पर गोमती नदी के किनारे एक बेंच पर बैठा था। चेतना आज उसे अजनबी सी लग रही थी। उसने गौर किया कि वह आज हलका सा मेकअप भी किए हुए थी। वह कोई फिल्मी गाना गुनगुना रही थी। जाने गाने की शोखी थी, उसके मेकअप का सुरूर था कि रात की स्कॉच की खुमारी जो अभी तक टूटी नहीं थी, संजय ने बढ़ कर चेतना को अचानक चूम लिया। संजय के चूमते ही वह उठ कर खड़ी हो गई। बोली, “यह क्या हरकत है?”

“मैं समझा नहीं।” संजय अनजान बन गया।

“बड़े भोले बन रहे हैं?” वह अभी भी नाराज थी।

“क्या मतलब?”

“मतलब यह है कि आपने मुझे चूमा क्यों?”

“क्या कोई अपराध कर दिया है?”

“हां अपराध है।”

“चूमना अपराध नहीं है।”

“चूमना अपराध नहीं है। पर जबरदस्ती चूमना गलत है। अपराध है।”

“मैंने जबरदस्ती नहीं की।”

“तो क्या मैंने कहा कि मुझे चूम लीजिए।”

“नहीं।”

“तो जबरदस्ती नहीं हुई?”

“क्या कोई लड़की किसी से कहती है कि आओ मुझे चूमो। कि तुम मुझसे कहती?”

“तो क्या मैं आपको ऐसी लगती हूं कि आप सरेआम मेरे साथ जो चाहे हरकत करें?” वह हाथ जोड़ते हुए बोली, “माफ करिए मैं “वैसी” नहीं हूं।”

“मैंने कब कहा कि तुम “वैसी” हो।”

“तो आपने चूमा क्यों?”

“यूं ही।”

“यह क्या बात हुई?”

“अच्छा चलो बात खत्म हुई।”

“बात खत्म नहीं हुई।”

“तो?”

“आइंदा नोट कर लीजिए, मेरे साथ अब दोबारा ऐसी हरकत मत कीजिएगा।”

“क्यों?” संजय की आंखों में शरारत थी और इसरार भी।

“अब बता दिया आपको। और आपने ने फिर दुबारा ऐसा कुछ किया तो न आप सो बोलूंगी, न फिर कभी मिलूंगी।”

“अच्छा?”

“हां, मजाक मत समझिएगा।”

“तो लो!” कह कर संजय ने उसे पकड़ कर भरपूर चूम लिया। इस चूमा चाटी में चेतना के बालों क क्लिप संजय की आंखों में धंसते-धंसते बची। क्योंकि चेतना बराबर प्रतिरोध दर्ज करती रही। पर संजय पर जैसे उसे चूमने का भूत सवार था।

यह सब कुछ क्षण में ही घटित हो गया। चेतना गुस्से ले लाल हो गई। पैर पटकती हुई वह वहां से चल पड़ी। संजय चुपचाप बेंच पर बैठा रहा। उसने गौर किया कि नदी में नाव पर बैठे कुछ लोग यह सारा नजारा देख रहे थे। पीछे से दो बुढ़े भी इधर ही नजर गडा़ए हुए थे। हार कर संजय भी चेतना के पीछे-पीछे “सुनो तो सही, सुनो तो सही” कहता हुआ चल पड़ा। पर चेतना ने संजय की एक नहीं सुनी। खट-खट, खट-खट सीढ़ियां चढ़ती गई। सीढ़िया उतरते-उतरते सड़क पर संजय ने उसे घेर लिया, “यहां तमाशा करने की जरूरत नहीं है। चुपचाप मेरे साथ चलो।”

“तमाशा मैं नहीं आप कर रहे हैं। आप शादीशुदा हैं। परिवार वाले हैं। आपको शर्म आनी चाहिए। और अब मैं आपके साथ यहां नहीं बैठूंगी।”

“मैं बैठने के लिए नहीं साथ चलने के लिए कह रहा हूं। आगे चल कर फिर भले कहीं चली जाना। अकेली। पर यहां से साथ चलो। तमाशा मत बनो।” संजय उसे मनाते हुए बोला, “लोग जाने क्या तुम्हारे बारे में सोचें, इस तरह अकेले जाने से।”

“सोचा करें। मुझे उसकी परवाह नहीं।” वह तमकी।

“अच्छा ठीक है। आओ थोड़ी दूर साथ चल अकेली कर चली जाना।”

“चेतना मान गई।” और स्कूटर पर बैठती हुई बोली, “कालीबाड़ी चलिए।”

“यह कालीबाड़ी कहां है?”

“यह सब फालतू बातें जानते हैं। और कालीबाड़ी नहीं जानते?”

“नहीं जानता, तभी तो कह रहा हूं।”

“अच्छा चलिए।”

“संजय समझ गया कि चेतना टाइम टेकिंग लड़की है। लाइन पर आएगी तो, पर जरा देर से। संजय को यही नहीं सुहाता था। जाने क्यों लड़कियों को मनाने में, ज्यादा टाइम खर्च करना वह बेहयाई मानता था। यही बेहयाई वह नहीं पे कर पाता था। पर चेतना के मामले में वह जरा बेहयाई से लगा रहा। क्योंकि वह देख रहा था कि सिर्फ वही नहीं चेतना भी उसके पीछे लगी पड़ी थी। कायदे से जब पहली बार रजनीश कथा के ही मार्फत सही सीधे-सीधे सेक्स की बात संजय ने उठाई तभी उसे बुरा मान जाना चाहिए था। पर वह बुरा मानने के बजाय मीरा बनने लगी। चलिए कोई बात नहीं। बातचीत, बहस मानकर टाल गई। पर जब शहीद स्मारक पर चूम लिया। विरोध के बावजूद एक नहीं, दो-दो बार चूम लिया। तब तो वह पिंड छोड़ या छुड़ा सकती थी। पर नहीं, वह फिर भी मिलती रही। और अक्सर खुद ही आती और कहती, “कहीं चलिए।”

“कहां चलें?” स्कूटर स्टार्ट करता हुआ संजय पूछता।

“कहीं भी। जहां आप चाहें।” ऐसा अक्सर जब वह करने लगी तो एक दिन नींबू पार्क में उसका हाथ थामते हुए संजय ने चेतना से कहा, “तुम बुरा न मानो तो एक बात कहूं।” यह संजय का पेट डायलाग था। जो किसी लड़की के साथ सोने के लिए सीधा प्रस्ताव रखने की भूमिका में इस्तेमाल करता। जरा भी समझदार लड़की उसके इस कहने का अर्थ, उसकी ध्वनि, इस ध्वनि से उपजते संकोच और आंखों से टपक रही वासना का संकेत समझ जाती। कुछ सती सावित्री टाइप लड़कियां संजय के इस डायलाग को समूचा पी जातीं और कोई जवाब देने के बजाय कन्नी काट कर निकल जातीं। फिर कभी मिलने से कतरातीं। तो कुछ “क्या कहना चाहते हैं?” जैसे सवाल आंखों में आग डाल कर पूछ बैठतीं। पर धीरे-धीरे लाइन पर आ जातीं। कुछ नहीं भी आतीं। कुछ कहती, “कहिए।” कुछ कहतीं, “बुरा मानने वाली बात कहना ही क्यों चाहते हैं?” और बुरा मानते-मानते भी वह संजय के वश में हो जातीं। पर दिल्ली में यह तरीका ज्यादा मुफीद पड़ता था। लखनऊ में वह आलोक की तरह कभी पिटा तो नहीं पर एकाध बार पिटते-पिटते जरूर बचा। पर लड़कियां उसकी कमजोरी बन चुकी थीं। वह इस आदत से बाज नहीं आता। फिर जब लड़कियां खुद ही उसकी ओर लार टपकाती चली आतीं तो वह उन्हें मना नहीं कर पाता था। ऐसे ही जब एक बड़े नेता की बेटी उसके गले पड़ गई तो वह चाहते हुए भी “नहीं” नहीं कह पाया। पर वह जल्दी ही संजय से ऊब गई कि संजय उससे ऊब गया। वह कुछ समझता कि उसकी शादी तय हो गई। शादी तय होते ही संजय को कुछ गुंडों ने एक दिन घेर लिया और धमकाते हुए कहा कि, “पढ़े-लिखे आदमी हो। उसका चक्कर छोड़ दो।” पर उसने जब शादी का कार्ड भिजवाया तो वह गए बिना भी नहीं रह पाया। गया वह रीना की शादी में।

हां, रीना ही नाम था उसका।

संजय को याद है एक दिन जब वह निढाल हो गया तब भी वह उसकी बांहों में कसमसाती रही और, “एक बार और-बार और” फुसफुसाती रही।

“तुम शादी क्यों नहीं कर लेती?”

“तुम कर लो न?” रीना बोली।

“मुझसे शादी करोगी? मैं गरीब आदमी।”

“हां ये प्राब्लम तो है।” वह रुकी, छाती पर सवार होती हुई बोली, “पापा भी किसी आई.ए.एस. से शादी करना चाहते हैं।”

“तब बताओ!”

“पर तुम हां करो तो सही। मैं पापा को मना लूंगी।”

“पर तुम्हारे खर्चे, तुम्हारे नखरे, मेरी औकात से तो बाहर हैं।”

“क्यों?”

“जो तुम्हारा चार दिन का खर्चा है वो मेरे महीने भर की तनख्वाह है।”

“क्या फिल्मी सीन लिखने बैठ गए।” वह चिकोटती हुई बोली, “पापा इतना दे देंगे कि तुम्हें इसकी फिकर करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।”

“पर मेरा जमीर!”

“मेरे साथ इस तरह चोरी छुपे सोने में तुम्हारा जमीर नहीं मरता?” वह दांत भींचती हुई बोली, “मिडिल क्लास मेंटालिटी।” फिर वह बेतहाशा चूमते हुए बोली, “यह मेंटालिटी छोड़ दो।” वह उचकती हुई बोली, “मेरे गोद में बैठ जाओ।”

“सिंबालिक वे में तमाचा मार रही हो, सीधे मारो न।” संजय उसके बाल खींचता हुआ बोला।

“ओह, यू स्टुपिड!” कराहती हुई वह बोली, “कहा न यह मेंटालिटी छोड़ दो। बी प्रैक्टिकल।” कह कर वह संजय की छातियों पर हाथ फेरने लगीं। संजय उसके जादू में आ गया। पर गोद में फिर भी नहीं बैठा। हां, सिर उसकी गोद में जरूर रख दिया। वह संजय के बालों को सहलाती हुई बोली, “देखो जब मुझसे तुम्हारी शादी हो जाएगी तो पापा तुम्हें ऐसे रिपोर्टर ही थोड़े रहने देंगे। हो सकता है तुम्हें एडीटर लगवा दें।”

“क्या बेवकूफी की बात करती हो?”

“देखो तुम्हारी प्रेस लाइन की कुछ बातें मैं भी जानती हूं।”

“क्या जानती हो?” वह जैसे गुर्राया।

“इसमें फेड अप होने की क्या बात है। हकीकत यही है कि जर्नलिस्ट पोलिटिसियंस के तलवे चाटकर ही कायदे के जर्नलिस्ट बन पाते हैं।”

“माइंड योर लैंग्वेज रीना। माइंड योर लैंग्वेज!” संजय उसकी छातियों के निप्पल दबाता हुआ बोला।

“उस्स!” कह कर वह उसे काटने को झुकी तो उसने उसके होंठ हाथों में ले लिए, “ऐसी ही तकलीफ मुझे भी हुई।”

“पर मैंने यह तुम्हारे लिए तो कहा नहीं।”

“फिर?”

“तुम कायदे के जर्नलिस्ट हो क्या?” वह आंखों में शरारत डाल कर बोली।

“तो तुम क्या समझती हो। संसद में मेरी खबरों पर यों ही हंगामा होता है। तुम्हारे पिता जैसे पोलिटिसियंस यूं ही भाव देते हैं।”

“जिंदगी भर बेवकूफ ही रहोगे।”

“ह्वाट यू मीन?”

“कब तक खुशफहमी में रहोगे तुम संजय?” तुम क्या समझते हो मैं इतना भी नहीं जानती।

“क्या जानती हो?”

“देखो मेरी राय में,” वह रुकी और बोली, “जरूरी नहीं तुम भी इत्तफाक करो मेरी बात से!” वह बोलती गई, “मेरी राय में और मैं समझती हूं दुनिया की राय में भी कायदे का जर्नलिस्ट वह जो हवाई जहाज से चले, अपनी ए.सी. कार हो, बंगला हो, नौकर चाकर हो।” बोलते बोलते वह ऐंठी, “कायदे का जर्नलिस्ट वह है जो साल में छ: बार विदेश यात्राएं करे, कम से कम संसद कवर करे। यह नहीं कि संसद में हंगामा कराने वाली खबरें लिखे।” और संजय को वह भिगोती हुई बोली, “कायदे का जर्नलिस्ट वह नहीं है जो दिन रात कलम घिसे, कायदे का जर्नलिस्ट वह है जिसकी कलम उसकी जेब में रहे, हाथ में नहीं।” कह कर वह जैसे खुश हो गई।

“वाह क्या बात है! तुम तो जर्नलिस्टों की पूरी जन्म कुंडली जानती हो!” वह उसकी जांघ पर उंगलिया फिराते हुए बोला।

“मैं और भी बहुत कुछ जानती हूं।” वह जांघ चादर से ढंकती हुई बोली।

“पर कैसे?”

“पापा के पास क्या कम जर्नलिस्ट आते हैं,” वह इतराई, “एंड फार योर काइंड इनफार्मेशन तुम्हारे एक्सप्रेस ग्रुप में चार महीने मैं भी अप्रेंटिस रही हूं। और वो जो सोनू वालिया जिसकी मांसलता, मादकता, आंखों और अभिनय की आह रिव्यू में पिछले हफ्ते तुमने टपकाई थी वह भी मेरे साथ ही अप्रेंटिस थी!” कह कर वह संजय को ऐसे देखने लगी गोया लाल किला जीत लिया हो।

“क्या उमर है तुम्हारी?” संजय हैरान होते हुए बोला।

“क्यों हो गई न सीनियर यहां भी तुमसे”

“अप्रेंटिस सीनियर नहीं होते।” संजय बोला। पर वह जैसे सफाई पर उतर आई, “उम्र में ही सीनियर सही पर तुमसे बहुत ज्यादा नहीं। दो चार साल बस।” फिर वह जैसे अपनी बढ़ी उम्र की सफाई देने पर उतर आई, “पर क्या फर्क पड़ता है। सुनील दत्त नरगिस से चौदह साल छोटे थे। आदित्य पंचोली जरीना वहाब से कोई दस बारह साल छोटा है।”

“और डिंपल राजेश खन्ना से अठारह साल, सायरा बानो दिलीप कुमार से बाइस साल छोटी हैं।” संजय जैसे काउंटर करता हुआ बोला।

“ओह, तो तुम्हें लड़की नहीं गुड़िया चाहिए।” वह मटकती हुई बोली।

“जी नहीं बुढ़िया!” संजय ने उसे चिढ़ाया तो वह विलख कर रोने लगी, “मैं तुम्हें बुढ़िया लगती हूं?” वह रुकी और बिफरी, “जरा सा मुंह क्या लगा लिया, मुझे बुढ़िया कहने की हिम्मत हो गई तुम्हारी?”

“मुंह नहीं लगाया तुमने मुझे।”

“तो?”

“देह लगाया है। पूरा-पूरा। बिलकुल साबुन की बट्टी की तरह।” संजय ने उसे फिर चिढ़ाया।

“यू चीट!” कह कर वह उस पर टूट पड़ी, “तब तो कहते थे, एक बात कहूं, बुरा तो नहीं मानिएगा! बड़े मासूम बनते थे।” वह उसके बाल नोचने लगी, “और आज ये हिम्मत कि जो मुंह में आता है बक जाते हो।” वह जैसे रोने लगी।

“सॉरी, मेरा ये मतलब नहीं था।”

“तो?” वह बिसूरती हुई बोली।

“मैं तो मजाक कर रहा था।”

“ओह, श्योर!”

“एक्जेक्टली!”

“यू नॉटी!” कह कर वह उस पर जैसे सवार हो गई, “तो आज तुम्हें कच्चा खा जाऊंगी।”

“रुको तो सही, रुको तो सही।” संजह कहता रहा पर वह भला कहां मानने वाली थी। और जब शांत हुई तो फिर से शादी की बात पर वापस आ गई।

“हमारी तुम्हारी शादी नहीं निभ पाएगी।” संजय बोला।

“क्यों?”

”मैं ठहरा लोवर मिडिल क्लास, तुम ठहरी अपर क्लास। अंततः मैं न तो कार्टून बन कर जीना चाहता हूं, न ही बेचारा बन कर तुम्हारी चाकरी करता हुआ जीना चाहता हूं।”

“तुम मिडिल क्लास!” वह उसका हाथ थाम कर बोली, “इससे क्यों नहीं उबर पाते।” वह रुकी, “आज तक हम भी वही थे जो तुम हो। पापा अगर मिनिस्टर नहीं रहे होते तो हम भी वहीं थे, जहां तुम हो। हमारे भी वही संस्कार हैं जो संस्कार तुम्हारे हैं।” वह जैसे फैल गई, “और तुम भी छलांग मार सकते हो। जरूरी है मिडिल क्लास के खूंटे से किसी गाय की तरह बंधे रहो?”

“नहीं मुझे यह छलांग मंजूर नहीं है।”

“यह कहो न कि मुझसे शादी मंजूर नहीं है।”

“नहीं, कहो तो शादी अभी कर लूं। इसी वक्त। पर बात यह नहीं है।”

“तो क्या है?”

“मैं पैरासाइट बनकर नहीं जीना चाहता।” उसने जोड़ा, “स्वाभिमान की कीमत पर तो कतई नहीं।”

“कौन खा रहा है तुम्हारा स्वाभिमान?” वह जैसे मरहम लगाती हुई बोली, “तुम मुझे समझने की कोशिश क्यों नहीं करते।”

“क्या समझूं? कैसे समझूं? चलो देह संबंध की बात और है पर शादी!”

“हां, शादी!”

“शादी असंभव है!”

“चलो जब तुमने यह सोच ही लिया है तो कोई बात नहीं।” वह उसका चेहरा हाथ में लेती हुई बोली, “तुम्हारे मन में जब इतना कांपलेक्स था तो मेरे पास आना ही नहीं था। क्या अधिकार था तुम्हें मेरे साथ इस तरह खेलने का?”

“मैं तुम्हारी जिंदगी में कोई पहला पुरुष तो नहीं हूं।”

“तुम कहना क्या चाहते हो?”

“यही कि देह संबंध का मतलब किसी से खेलना नहीं है। हां, अगर तुम्हारे साथ जबरदस्ती करता, तुम्हारा शोषण करता, तुम्हें अंधेरे में रखता, तुमसे झुठे वादे करता तो खेलता। और ऐसा मैंने कुछ भी नहीं किया तुम्हारे साथ!”

“किया तो है। खेले तो हो!”

“क्या किया है। किससे खेला हूं?”

“मेरे मन के साथ, मेरी देह के साथ, मेरी भावनाओं के साथ।”

“गलत। खेला नहीं, जिया है, भोग है, तुम्हारे मन को, तुम्हारी देह को, तुम्हारी भावना को। और तुम्हारी मर्जी से। तुमसे पूछ कर। हर बार तुम्हारी सहमति से। तुमने जब मना किया तो मान भी गया हूं। कभी जबरदस्ती की हो तुम्हारे साथ, मुझे याद नहीं। तुमने जरूर यह कभी-कभार किया है। फिर कैसे कह रही हो कि तुम्हारी देह, तुम्हारे मन, तुम्हारी भावना के साथ खेला।”

“पहल मैंने की थी कि तुमने?”

“एक्जेक्टली मैंने।”

“तो?”

“मैं इसे क्या समझूं?”

“तुम नारी स्वातंत्र्य की बात जरूर करते हो पर नारी मन को नहीं समझते।”

“समझता हूं। इसीलिए!”

“खाक समझते हो।”

“यही तो तुम्हारे सात दिक्कत है।”

“तुम क्यों नहीं समझते, मैं तुम्हें प्यार करने लगी हूं। पहले तुम्हारे लिखे को पसंद करती थी, अब…”

“तुम्हारी देह को। संजय उसकी बात पूरी करता हुआ बोला।”

“हां, तुम्हारी देह भी शामिल है उसमें, तुम्हारा मन भी शामिल है, तुम्हारी ईमानदारी, तुम्हारी निश्छलता, तुम्हें…तुम्हें इन टोटल चाहती हूं।”

“नहीं, तुम झूठ बोलती हो।”

“सच कह रही हूं।”

“तो कहो ने तुम्हारे मिडल क्लास कांपलेक्स को, तुम्हारी मिडल क्लास मुफलिसी को, तुम्हारी मिडल क्लास नौकरी, मेंटालिटी वगैरह-वगैरह से भी प्यार करती हूं।” कहते-कहते संजय तल्ख हो गया।

“नहीं।” वह नरमी से बोली, “क्यों झूठ बोलूं। मैं तुम्हारी इन चीजों से चिढ़ती हूं।” वह भावुक हो गई, छाती से चिपट गई, “पर मैं तुम्हें चाहती हूं।”

“ओह रीना!” संजय उसकी भावुकता के वशीभूत उसे बांहों में भरता हुआ बोला, “जानता हूं।”

“फिर?”

“आज इस बात को यही मुल्तवी कर दें तो?”

“जैसा तुम्हारा हुक्म।” कहते हुए रीना ने उसे चूम लिया, बोली, “पर एक बात बताओ कि कहीं ऐसा तो नहीं तुम पोलिटिसियंस से चिढ़ते हो इसलिए?”

“पोलिटिसियंस से चिढ़ता हूं पर उनकी बेटियों से नहीं।” कहते हुए संजय ने रीना की नाक पर चिकोटी काटी और कहा कि, “मेरा फिर मन हो रहा है और अब बहस मत करो प्लीज।” कह कर वह उसे मथने, मसलने लगा।

“भालू कहीं के।” वह बुदबुदाई। पंडारा रोड के उस बंगले में रीना ने उसे रात भर सोने नहीं दिया। रात भर वह कुछ न कुछ करती रही। कुछ न कुछ बतियाती रही। शादी जबरदस्ती नहीं करेगी, यह भी जताती रही। अपनी अखबारी जिंदगी के चारों महीने का लेखा-जोखा बताती रही। संजय यह जान कर हैरत मे था कि रीना उस चार महीने में अप्रेंटिस की हैसियत के बावजूद अखबारी जिंदगी के लगभग सारे स्याह-सफेद से वाकिफ हो गई थी। न सिर्फ वाकिफ हो गई थी, एनालिसिस भी उसकी गौरतलब थी।

वह कहने लगी, “ये मीनिंगफुल जर्नलिज्म की वकालत करने वाले लोग भीतर से कितने खोखले, बेशर्म और मीनिंगलेस जर्नलिज्म करते थे उसे देख कर घिन आती थी।” कहते-कहते वह पूछ बैठी, “ये डेस्क रिपोर्टिंग वालों का झगड़ा हरदम क्यों होता रहता है मैं तो सब समझ नहीं पाई। तुम बताओ क्यों होता है?”

“बड़ी लंबी बहस है।”

“फिर भी।”

“छोड़ो भी क्या फायदा है।”

“नुकसान क्या है?”

“है।”

“इसलिए कि तुम रिपोर्टर हो?”

“इसलिए कि तुम्हारे साथ इस मुलाकात का समय बेवकूफी के बहस में नहीं गुजारना चाहता।”

“तुम बेवकूफी की बात कर रहे हो।” वह बोलती गई, “जैसे झुग्गी वाली औरतें पानी के लिए या किसी भी छोटी मोटी बाले के लिए झौं-झौं करके लड़ती रहती हैं, ठीक वैसे ही ये डेस्क वाले रिपोर्टरों से उलझ पड़ते थे और रिपोर्टर्स, डेस्क वालों से। गलाकाट लड़ाई ऐसे होती थी जैसे वह एक अखबार के जर्नलिस्ट न हों। लड़ते ऐसे थे जैसे हिंदुस्तान-पाकिस्तान।”

“झुग्गी वालों को जानती हो तुम?”

“हां, पापा जब मिनिस्टर थे तब उनके साथ दो-चार बार झुग्गी बस्तियों में गई हूं।”

“बस!”

“और नहीं तो क्या?” वह उसके हिप पर पैर फेंकती हुई बोली, “तुम क्या समझते हो वहां रहने गई थी। तुम तो बस!”

“हां, तुम वहां कैसे रहती।” वह जांघो की ओर इशारा करते हुए बोला, “वहां रह जाती तो यहां कौन रहता?”

“तुम्हें हर वक्त सेक्स ही क्यों सूझता रहता है।”

“इसलिए कि तुम सेक्सी हो।” वह उसकी जांघों पर जांघ रखता हुआ बुदबुदाया, “सेक्स ही जीवन है।” और उसे चूम लिया।

“तुम तो सरकारी स्लोगन की तरह बोल रहे हो।”

“कौन सा स्लोगन?”

“जल ही जीवन है।”

“बिलकुल ठीक पकड़ा तुमने।” सुनते ही रीना ने हड़बड़ा कर उसकी जांघों से बीच से हाथ हटा लिया। उसकी इस हड़बड़ाहट पर संजय हंस पड़ा, “तुमने हाथ क्यों हटा लिया। मैं तो स्लोगन “जल ही जीनव” पर कमेंट कर रहा था कि तुमने ठीक पकड़ा है।” वह उसे गुदगुदाता हुआ, हाथ खींचता हुआ बोला, “वैसे वो भी ठीक था।” उसे खींच कर अपनी देह से सटाता हुआ बोला, “आखिर भोजन पानी के बाद आदमी को क्यो सूझता है?” उसने जैसे सवाल किया और खुद ही जवाब दिया, “सेक्स ही तो सूझता है।” उसने जोड़ा, “सेक्स न होता हो हम तुम न होते। कमसे कम इस समय यहां तो नहीं होते। यह सृष्टी ही नहीं होती।” वह जैसे दार्शनिक हुआ जा रहा था, “पर जाने क्यों सेक्स को लोगों ने इतना सतही, बुरा, चोरी और लुका छिपी का खेल बना दिया है। पाप बना दिया है।”

“तो तुम क्या चाहते हो सरेआम सड़क पर ही सेक्स की इजाजत दे दी जाए। परदा, लिहाज कुछ भी न रह जाए।”

“यह किसने कहा!”

“तो?”

“खाना तो तुम चोरी छुपे नहीं खाती?”

“नहीं।”

“सड़क पर खाती हो?”

“नहीं।”

“तो क्या खाना खाकर पाप करती हो, चोरी करती हो?”

“नहीं।”

“तो सेक्स के बाबत भी ऐसा क्यों नहीं सोचती?”

“पर खाना तो लोगों के सामने खा सकते हैं, सेक्स नहीं हो सकता सबके सामने।”

“किसने कहा सब के सामने। परदा, लिहाज करने को किस ने मना किया। पर पाप तो न समझो। पिता के सामने मत करो ठीक। पर पिता के आगे, सबके आगे इसके लिए सिर झुकाओ यह ठीक नहीं है। सेक्स चोरी नहीं है, पाप नहीं है। सेक्स एक आदिम जरूरत है। एक नैसर्गिक जरूरत।” वह बोलता रहा, “जिस दिन सेक्स को लोग सामान्य अर्थ में लेने लगेंगे बिलकुल भोजन और पानी की तरह, देखना, ज्यादातर समस्याएं, ज्यादातर अपराध पृथ्वी से खुद-ब-खुद खत्म हो जाएंगे। क्योंकि ज्यादातर अपराध और जटिलताएं सेक्स, दमित सेक्स की उपज हैं। क्योंकि सेक्स एक टैबू बन कर रह गया है हमारे समाज में। हम हर क्षण जीते हैं पर सार्वजनिक जीवन में हर क्षण सेक्स को धकियाते रहते हैं।”

“शाबास!” वह अपनी हिप खुजलाती हुई बोली, “अलका बताती तो थी कि तुम रजनीश के दीवाने हो, पर रजनीश दर्शन बघारते भी हो यह नहीं बताया था।”

“वह क्या बताती!” संजय करवट बदलते हुए बोला, “जरा सा भर आंख देख क्या लिया राखी बांधने पर आमादा हो गई।”

“अच्छा! यह तो उसने नहीं बताया। पर बताओ राखी बंधवाई क्या तुमने?” चुहुलबाजी करती वह बोली।

“हद हो गई। इतनी नैतिकता तो मुझमें है।”

“तो बंधवा ली?”

“सवाल ही खड़ा नहीं होता!”

“क्यों?”

“राखी की पवित्रता कैसे तोड़ता भला?” वह बोला, “जब उसे एक बार ही सही देह की नजर से देख लिया तो यह तो अपने साथ छल होता।”

“तो क्या अलका के साथ भी तुम्हारा लफड़ा चला?” उसकी जिज्ञासा जागी।

“नहीं।”

“क्यों?”

“वह मेरे दोस्त की बीवी थी आखिर। और इतनी नैतिकता तो मुझमें हमेशा शेष रहेगी।”

“ओह! लक्की।” वह बोली, “पर रजनीश तो फिर यहां फेल हो गए।”

“कैसे?”

“तुमने अलका को चाह कर भी जो नहीं गहा।”

“कहा न नैतिकता।” वह बोला, “ऐसा भी नहीं था। चाहता तो गह सकता था। पर कहा न फिर वही नैतिकता।”

“पर रजनीश के सेक्स दर्शन में नैतिकता का बखान तो है नहीं।”

“तुमने रजनीश को पढ़ा है?”

“हां, थोड़ा बहुत।”

“तभी!” वह रुका और बोला, “अच्छा रजनीश ने यह कहां लिखा कि सेक्स में नैतिकता नहीं बरतनी चाहिए।”

“मैंने यह तो कहीं नहीं पढ़ा। पर यह भी कहां लिखा है कि सेक्स में नैतिकता बरतनी चाहिए।”

“पता नहीं।” वह रीना के तर्क से लाजवाब होता हुआ बोला, “देखो कायदे से सेक्स न तो नैतिक होता है न अनैतिक। सेक्स सिर्फ सेक्स होता है। और जो आफर खुद अलका का होता तो मैं नहीं, नहीं कहता।” वह उसके बालों में अंगुलियां फिराता हुआ बोला, “जैसे तुम्हें नहीं, नहीं कहा।”

“बड़े मुंहफट हो।”

“बट कम आन द प्वाइंट कि सेक्स में नैतिकता बरतनी चाहिए। मैंने भी अक्षरशः यह कहीं नहीं पढ़ा। पर रजनीश का सारा दर्शन ही संभोग से समाधी का है।” संभोग यानी सम-भोग, वह उसकी छातियां मसलता हुआ बोला, “जो यहां भोग रहे हैं।”

“स्टाप योर नानसेंस।” वह कुढ़ती हुई बोली।

“क्या मतलब?”

“सम-भोग का दर्शन बखान रहे हो। और मुझे पीड़ा भी दे रहे हो।” वह उसकी ओर मुड़ी, “कितनी बार कहा कि कसके मत दबाया करो दुखता है।”

“सॉरी!” वह बोला, “दबाया तो अनायास ही था पर रेफरेंस अच्छा मिल गया। अलका के साथ सेक्स संबंध मैं कायम करता तो शायद उसे पीड़ा होती। उसे तो भर आंख देख लेना ही पीड़ा दे गया था। फिर सम-भोग कैसे हो सकता था भला?”

“चलो मान गई रजनीश बाबा!”

“मैं रजनीश नहीं, संजय हूं।” उसने रीना के गाल पर चिकोटी काटी।

“उफ! तुम्हारी यह आदत कब जाएगी?”

“जब तुम चाहो!” कहते हुए वह उसकी देह पर चढ़ गया।

“तुम्हारा पेट जल्दी से नहीं भरता?”

“किस चीज से?”

“सेक्स से।”

“पेट सेक्स से नहीं, भोजन और पानी से भरता है।”

“आई मीन दिल नहीं भरता?”

“किससे?”

“सेक्स से?”

“गाना नहीं सुना है अभी न जाओ छोड़ के, कि दिल अभी भरा नहीं।”

“यह तो मुहम्मद रफी ने गाया है देवानंद के लिए, तुम्हारे लिए नहीं।”

“यह तुम्हें किसने बताया?” बुदबुदाता हुआ वह हांफने लगा। थोड़ी देर बाद फिर बुदबुदाया, “मतलबवा एक है नैनन पुकार का।” उसकी देह पर से उतरते हुए वह धीरे से बोला, “मुकेश ने यह तो मेरे लिए गाया है।”

“तुम भी!” कह कर रीना हंसी और तकिए में मुंह धंसा लिया। थोड़ी देर बाद संजय उठा, बाथरूम गया, आकर पानी पिया और आकर रीना जो चादर ओढ़ कर पेट के बल लेटी हुई थी, चादर हटा कर उसकी पीठ पर लंबा लेट गया।

“तुम भी अजीब शै हो।” तकिए पर सिर मोड़ती हुई बोली, “कहां से ट्रेनिंग ली?”

“किस चीज की?”

“इसी चीज की।”

“किस चीज की।”

“अरे, यही।” वह फुसफुसाई।

“क्या यही।” वह बुदबुदाया। वह समझ तो गया था। पर उससे स्पष्ट कहलवाना चाहता था।

“क्या रजनीश आश्रम हो आए हो?”

“नहीं तो।”

“फिर कहां से ट्रेनिंग ली?”

“क्या इसकी भी ट्रेनिंग ली जाती है?” कहते हुए वह उसके बालों से खेलने लगा।

“क्या पता?”

“तुमने ली है क्या?” संजय फुसफुसाया।

“ली तो नहीं थी, पर आजकल ले रही हूं।”

“किससे?” उसने छेड़ा।

“है एक आदमी!”

“क्या मतलब?”

“कोई और भी है इस समय तुम्हारी जिंदगी में?” वह जैसे चौंका।

“बस!” वह खुश होती हुई बोली, “इतने में ही रजनीश दर्शन धूल चाट गया?”

“नहीं तो, नहीं तो!” संजय जैसे सफाई पर उतर गया। वह रीना की देह पर से भी उतर औंधा लेट गया।

“सारा सेक्स दर्शन एक क्षण में भहरा गया?” वह संजय को चिकोटती हुई बोली, “एक छोट सा छेद नहीं बर्दाश्त कर पाया तुम्हारा सेक्स दर्शन। तिस पर कहते हो सम-भोग।” कहती हुई वह उसकी पीठ पर लद गई। बोली, “तुम्हारा दोष नहीं, पुरुष मानसिकता का “प्रताप” है यह। जो औरत को एकाधिकार की वस्तु मानता रहता है। पुरुष जिस-तिस औरत के साथ सोए तो वह “सम-भोग” है। पर स्त्री जो कहीं गलती से भी किसी और के बारे में सोच ले तो, और न भी सोचे तो भी, वह “सम-भोग” नष्ट हो जाता है। ऐसा क्यों होता है? वह जैसे चिरौरी करती हुई बोली, “सच-सच बताना संजय। ठीक वैसा ही सच जैसा महाभारत में धृतराष्ट्र को संजय ने सच-सच बताया था। ठीक वैसा ही सच संजय! वैसा ही सच!”

संजय निरुत्तर था।

“बोलो संजय!”

“ऐसा नहीं है।” वह कुछ रीना के सवाल के बोझ से, कुछ रीना की देह के बोझ से कसमसाता हुआ बोला, “ऐसा नहीं है।”

“ऐसा नहीं तो कैसा है?”

“सच बताऊं।”

“बिलकुल सच!” वह बोली, “और तुम अब यह मत पूछना कि बुरा तो नहीं मानोगी। सच मानो मैं बुरा नहीं मानूंगी। बुरा मानने की बात भी नहीं है। यह तो जस्ट ए डिवेट!”

“तो सुनो।” संजय रीना को अपने ऊपर से हटाता हुआ बोला, “मेरे पास उस संजय सी दिव्य दृष्टि तो नहीं है पर एक सोच है, एक समझ है एक साधारण सी दृष्टि है उसके हिसाब से पुरुष मानसिकता एक सच हा, सम-भोग दूसरा सच!” अब की उसने न तो रीना के गाल में चिकोटी काटी, न छाती मसली, न जांघ में चिकोटी काटी बल्कि उसने एक हाथ उसकी हिप पर थपथपाया दूसरे हाथ से उसके बालों को सहलाया और बोला, “पर सारा सच यह है कि पुरुष मानसिकता का सच एक हद के बाद छद्म है, छद्म सच है, शीशे में देखने वाला सच है, शीशे के पार का सच नहीं है, शीशा टूटने के बाद का सच नहीं है।” संजय बोलता गया, “एक गढ़ा हुआ सच है पुरुष मानसिकता, जिसको आज कल सुविधा के तौर पर ह्मूमन बीइंग मान लिया गया है, बना लिया गया है। पर सम-भोग का सच पार ब्रह्म है, अलौकिक और अनूठा। पुरुष मानसिकता का सच शायद कोई ऐसा समय आए जिसमें वह भस्म हो जाए। पर संभोग का सच तो अमिट है, अतुलनीय है, चाहे जितना समय आए-जाए, सृष्टियां बदल जाएं पर सम-भोग का सच नहीं बदलेगा, कभी नहीं बदलेगा।” उसने जोड़ा, “और सम-भोग कोई सिर्फ सेक्स ही नहीं है। सम-भोग बराबर का आनंद। चाहे वह जिस भी क्रिया में हो। सम-भोग का विस्तार बहुत है। पर एक सच यह भी है कि हमारे यहां सम-भोग को सिर्फ देह और उसके भोग से जोड़ कर उसका सतहीकरण कर लिया गया है। बस दिक्कत यही है। सतहीकरण की दिक्कत।”

“तो तुम सचमुच संभोग को उसके विराट अर्थ में मानते हो?”

“आफकोर्स!”

“सच!”

“फिलहाल तो यही सच है। आगे की राम जानें।”

“कि रजनीश जानें?”

“नहीं, अभी जो मैंने कहा वह रजनीश के किसी प्रवचन का अंश नहीं है। रजनीश से अनुप्रेरित बात हो सकती है। पर सोच समूची मेरी है।”

“क्या मतलब?”

“तो अब पूरा भाष्य समझाना पड़ेगा तुम्हें?” कहते हुए उसका हाथ शरारतन संजय की जांघों के बीच पहुंच गया तो संजय छिटक गया।

“अच्छा, अच्छा।” कहते हुए संजय बोला, “मैंने कहा न सेक्स ही जीवन है।” अब की संजय का हाथ रीना की जांघों के बीच पहुंच गया। जिसे रीना ने दोनों जांघों में हलके से दबा लिया और बोली, “सेक्स और पत्रकारिता, पत्रकारिता और सेक्स। इसके अलावा भी तुम्हें कुछ आता है?”

“जिसको सेक्स की समझ हो, पत्रकारिता की समझ हो, समझो वह दुनिया जानता है।”

“कैसे?”

“सेक्स दुनिया का सबसे बड़ा सच है।” उसने रीना की कमर पर हाथ फिराते हुए पूछा, “यह तो मानती हो?”

“माना।” अभिनेत्री फरीदा जलाल की तरह गालों में गड्ढ़ा डाल कर, आंखों में शरारत भरकर जबान पर कैंची रख कर वह फुदकती हुई बोली “माना।”

“तो जैसे सेक्स दुनिया का सबसे बड़ा सच है वैसे ही पत्रकारिता दुनिया का सबसे मासूम झूठ।”

वह हंसा, “अब इसके बाद जानने को रह क्या जाता है?” वह विस्तार में आ गय, “जैसे सेक्स के बना सृष्टि नहीं संवरती, जैसे सेक्स के बिना जीवन नहीं चलता, सेक्स के बिना कोई घोटाला, कोई कांड नहीं होता वैसे ही दुनिया की कोई भी छोटी बड़ी घटना हो, घोटाला हो, सेक्स हो, खेल हो, व्यापार हो, फिल्म हो, राजनीति हो, कूटनीति और अपराध हो पत्रकारिता के ही कंधे पर बैठ कर देश दुनिया में उसे पहुंचाना होता है।” संजय बिलकुल मजाक के मूड में था।

“तुम तो खेलने लगे।” वह मायूस सी बोली।

“झूठ, बिलकुल झूठ।” वह राजेश खन्ना स्टाइल में बोला, “अभी-अभी तो आऊट हुआ हूं। विश्वास न हो तो ‘इनसे’ पूछ लो।”

“क्या डबल मीनिंग वाले डॉयलाग बोलने लगते हो।” वह बोली, “मजा खराब हो जाता है।” वह जैसे नींद से जागी, “अच्छा सेक्स का सच बहुत हो गया अब पत्रकारिता के कुछ सच भी बता दो।”

“प्रश्न करो!” वह बिलकुल मजाक के मूड में था।

“प्रश्न पुराना है गुरुदेव!” वह भी मूड में आ गई।

“क्या?”

“वही जिज्ञासा कि डेस्क और रिपोर्टिंग के लोग भारत-पाकिस्तान की तरह क्यों लड़ते हैं?”

“क्या बेवकूफी का सवाल ले बैठी। वह भी बासी।”

फिर भी जिज्ञासा तो जिज्ञासा!

“अच्छा बताओ भारत-पाकिस्तान के बीच क्या झगड़ा है?”

“मेरी समझ से तो कुछ नहीं। बस इगो का झगड़ा है?”

“करेक्ट!” संजय बोला, “तुमने ठीक पकड़ा।”

“क्या?” वह चुटकी काटते हुए बोली, “फिर डबल मीनिंग?”

“हद है!” संजय बोला, “मुझ पर आरोप लगाती हो और खुद हरदम सेक्स ही सोचती रहती हो, वही करती रहती हो तो मैं क्या करूं?” वह उसका हाथ पकड़ता हुआ बोला, “हटाओ नहीं, अच्छी आदत है। मुझे भी अच्छा लगता है।”

“स्टुपिड!” वह उसका बाल नोचते हुए बोली, “तो बार-बार प्वाइंट आऊट करने की क्या जरूरत है।”

“मैं तुम्हारा भारत-पाकिस्तान के बीच इगो वाला प्वाइंट पकड़ने को प्वाइंट आउट कर रहा था।” उसके हाथों से अपने बालों को छुड़ाता हुआ बोला, “एंड डोंट बी सिली, लेट मी कंपलीट! इन फैक्ट डेस्क और रिपोर्टिंग क्य है? अखबार की दोनों दो भुजाएं हैं। पर जो इगो प्राब्लम भारत-पाकिस्तान के बीच है, जो एक पट्टीदारी की लड़ाई है, मुझे ऐसा लगता है कि अखबारों में डेस्क और रिपोर्टिंग के बीच भी जो झगड़ा है, वह यही इगो प्राब्लम है, यही पट्टीदारी है। एक कुंठा है जिसके तहत दोनों एक दूसरे से सुपीरियर मानते हैं और दिलचस्प यह कि दोनों एक दूसरे को गधा समझते हैं।” संजय रुका और बोला, “बाई द वे चार महीने सही, तुम डेस्क पर थी कि रिपोर्टिंग में?”

“बट नेचुरल डेस्क!”

“तब तो तुमने यह भी देखा होगा कि अंततः इस लड़ाई में डेस्क ही जीतता रहता है।” वह बोलता रहा, “इसलिए नहीं कि डेस्क कोई सुप्रीमो होता है। बल्कि इसलिए कि बाई नेचर डेस्क पर जिम्मेदारियां ज्यादा होती हैं। पूरे अखबार की जिम्मेदारी डेस्क की ही होती है। अखबार ठीक छपा डेस्क की क्रेडिट, खराब छपा, कहीं कुछ गलत छपा तो डेस्क की रिस्पांसिबिलिटी। दूसरे कौन सी खबर कहां जाएगी, कितनी जाएगी यानी डमी, पूरा डिसप्ले डेस्क को ही तय करना होता है। यहां तक तो ठीक है। पर सिद्धांततः। व्यावहारिक पक्ष यह कि अमूमन डेस्क अपनी रिस्पांसिबिलिटी की आड़ में रिपोर्टरों से पर्सनल हो जाती है। रिपोर्टर से कोई सिफारिश या काम कराने को कहा, रिपोर्टर नहीं किया, नहीं करवा पाया तो उसकी “सेवा” शुरू। उसकी खबरें कट पिट कर गलत जगह पेस्ट होने लगती हैं, या कोयरी लग कर संपादक की मेज पर पहुंच जाती हैं; बाद में भले छप जाए, पर उस दिन तो वह खबर रुक ही गई न! रिपोर्टर की सबसे बड़ी कमजोरी है बाई लाइन। मतलब कोई अच्छी खबर हो तो उसके साथ उसका नाम छपे। पर यहां भी डेस्क की मेहरबानी पर ही बाई लाइन मिलती है। इसलिए तुमने देखा होगा बड़ा से बड़ा रिपोर्टर जो बाहर फिल्ड में तो बड़ा तोप बना फिरता है, तीसमार खां बनता है, डेस्क पर आते ही खाली कारतूस बन जाता है, किसी पालतू कबूतर की तरह गुटर गूं करने लगता है। क्योंकि रिपोर्टर की कोर डेस्क से हमेशा दबी रहती है। एक प्राब्लम यह भी है कि ग्रेड, फेसेल्टी सब कुछ एक होते हुए भी डेस्क वाले जर्नलिस्ट और रिपोर्टिंग वाले जर्नलिस्ट की सामाजिक हैसियत में काफी फर्क रहता है। कभी-कभी आर्थिक भी। फिल्ड में रहने के नाते रिपोर्टिंग के लोगों को दस लोग जानने लगते हैं, वह चार काम भी कर लेता है, कुछ तो दलाली पर भी उतर जाते हैं। उधर डेस्क के लोगों को कंपरेटिवली कम लोग जानते हैं। वह छोटा-मोटा काम करानें में भी असफल रहते हैं। तो फ्रस्ट्रेशन भी डेस्क वालों को खाए रहता है कि मेहनत हम करें और मजा यह लूटें। यह कुंठा भी कम नहीं होती।” संजय बोला, “पत्रकारिता की यह सब बड़ी पुरानी समस्याएं हैं। प्राचीनतम शब्द ज्यादा ठीक है। डेस्क अपने को सुपीरियर समझता है, रिपोर्टिंग वाले अपने को सुपीरियर समझते हैं। डेस्क वालों का तर्क है कि हम न हों तो अखबार न निकले। वे जब-तब कहते ही रहते हैं कि लगा दो चार रिपोर्टरों को एक दिन डेस्क डयूटी पर, अखबार निकल नहीं पाएगा। तो रिपोर्टिंग वाले कहते हैं, भिड़ा दो हफ्ते भर के लिए सारी डेस्क को रिपोर्टिंग में, छठी का दूध न याद आ जाए तो कहना, नौकरी छोड़ के भाग जाएंगे और पूरे देश की डेस्क लग गई रिपोर्टिंग में तो अखबार ही नहीं निकल पाएंगे। क्योंक डेस्क वाले कोई खबर ही नहीं भेज पाएंगे तो छपेगा क्या?” संजय बोला, “ऐसे ढेर सारे तर्क, वितर्क और कुतर्क हैं जिनका कोई पार नहीं है। और यह लड़ाई न कभी खत्म हुई है, न किभी खत्म होगी। और यह कोई अकेले दिल्ली के किसी एक अखबार किसी एक भाषा की नहीं, सभी भाषाओं सभी अखबारों को देशव्यापी समस्या है।” वह बोला, “यह कभी खत्म न होने वाली लड़ाई है। डेस्क वाले रिपोर्टरों को और रिपोर्टस डेस्क वालों को गधा साबित करने का मौका भले न चूकें। पर एक नंगा सच यह भी है कि एक रिपोर्टरों की कोर हमेशा डेस्क वालों के हाथ में रहेगी।” वह चद्दर ओढ़ता हुआ बोला, “अब मेरे ही अखबार का मामला ले लो। जो समाचार संपादक है, महाजाहिल। अव्वल तो उसे खबर से कोई खास सरोकार नहीं रहता। उसकी सारी दिलचस्पी स्टोर से साबून, फाइल, कागज वगैरह मंगाने में रहती है। न्यूज को आर्डिनेटर तो उसे न्यूज एडीटर स्टोर खुलेआम कहता फिरता है। हफ्ते भर का एक डयूटी चार्ट बनाने में उसे चार दिन लग जाते हैं। जो बमुश्किल आधे घंटे का काम है। पर वही न्यूज एडीटर स्टोर कभी कभार रिपोर्टरों की खबर पास करने का काम पा जाता है तो पहला काम वह दांत किचकिचा कर रिपोर्टर का नाम यानी बाई लाइन काटने का करता है। नाम काट कर वह इस तरह खुश होता है जैसे कोई खुजली खुजा कर। फिर दूसरा काम वह यह करता है कि लाल पेन लेकर पूरी खराब रंग डालता है। रंगने के नाम पर भी करता यह है कि अगर कोई फिगर शब्दों में लिखा है तो उसे काट कर अंकों में लिखेगा, या फिर अंकों में लिखा है तो उसे काट कर शब्दों में कर देगा। पानी लिखा है तो उसे काट कर जल कर देगा। जल लिखा है तो उसे काट कर पानी कर देगा। पूरी खबर में वह ऐसा ही कुछ काट पीट मचाएगा और अंत में रिपोर्टर को बुलाएगा, उसे लाल रंगी उसकी खबर दिखाएगा, सीना फुलाते हुए जताएगा कि उसकी बाई लाइन काट दी गई है और फिर कहेगा, हेडिंग लगाइए। सजेस्टिव हेडिंग। हेडिंग लगाने तक में उसे पसीने आते हैं। पर जब कभी एकाध हेडिंग वह लगा लेगा, दूसरे दिन, दिन भर बैठा अपनी लगाई हेंडिंग को मंत्रमुग्ध निहारता रहेगा। जिस तिस को बताता रहेगा, मैंने हेडिंग लगाई है। फोन कर-कर के लोगों को बताता रहेगा कि फला हेडिंग मैंने लगाई है। अब उस उल्लू के पट्ठे से कौन बताए कि अगर अपनी लिखी हेडिंग छपी देख कर उसे इतनी खुशी होती है तो जिसने वह खबर लिखी है, उसके साथ अगर उसका नाम भी छपे तो उसे कितनी खुशी होगी।”

“हां, मुझे भी अक्सर यही लगता था कि रिपोर्टरों को डेस्क वाले बिलकुल दरिद्रों की तरह ट्रीट करते थे।”

“रिपोर्टरों की भी गलती है। साले ज्यादा पढ़ते लिखते नहीं हैं। इसलिए डेस्क वाले दौड़ाए रहते हैं।”

“तुम तो ऐसे कर रहे हो जैसे डेस्क वाले बड़ा लिखते-पढ़ते है।?”

“अब काबुल में भी तो गधे होते हैं।” संजय बोला, “सच कहो तो जर्नलिस्टों में ज्यादातर गधे ही भर्ती हैं। पढ़े लिखे कम लोग हैं।”

“चलो तुमने माना तो। नहीं, यही मैं कहती तो बुरा मान जाते तुम!”

“चलो बहुत घिसाई हो गई। अब सो लेने दो जरा देर।”

“तुम फिर डबल मीनिंग पर आ गए?”

“क्या कह दिया भई?”

“ये “घिसाई” क्या है?”

“ओफ मैं तो बातचीत के लिए घिसाई बोल रहा था।” वह हंसा, “पर तुम्हारा दोष नहीं है। रजनीश का वह सन्यासी और कपड़े वाला किस्सा पढ़ा है न तुमने?”

“हां, पढ़ा है। तो?”

“तो यही कि ‘वस्त्र’ के बारे में कोई बातचीत नहीं। पर मैं क्या करूं जब तुम्हारे दिमाग में ‘वस्त्र’ ही घूम रहा है।” रीना को छेड़ते हुए संजय बोला, “वस्त्र जो ज्यादा घूम रहा हो तो बोलो वस्त्र उतार दूं?”

“नहीं!” वह जोर देकर बोली।

“क्यों?”

“तुम्हारी तरह कोई जानवर नहीं हूं। कि जब देखो तब वही।”

“तो देवी जी, फार योर काइंड इनफार्मेशन यह काम हरदम जानवर नहीं, आदमी करते रहते हैं जब-तब। जानवरों का तो कोई मौसम, कोई वक्त तय रहता है, प्रकृति की ओर से। यह जब-तब की छूट आदमियों को ही रहती है। अब कहिए तो ‘वस्त्र’ के बारे में बातचीत शुरू करूं?”

“नहीं!” वह फिर जोर देकर बोली और चादर को अपने चारों ओर कस कर लपेट लिया। बोली, “पता नहीं क्या करते हो, जलन हो रही है।”

“कहां?” वह मजाक में बोला।

“तुम्हारे मुंह में।” वह खीझ कर बोली।

“डॉक्टर तो नहीं दिखाना पड़ेगा?”

“क्या पता?” कह कर संजय की छाती से चिपटती हुई बोली, “क्यों तंग करते रहते हो?”

“एक जोक सुनोगी?”

“सुनाओ।” वह बोली, “पर घिसा पिटा न हो।”

“नहीं, नहीं बिलकुल नया है। सेक्स और पत्रकारिता फील्ड का।”

“इंटरेस्टिंग।” वह बोली, “मींज नानवेज।” कह कर वह चहकी, “अलका से तुम्हारे कुझ नानवेज जोक सुन चुकी हूं।”

“अलका को तो कभी नानवेज जोक सुनाया नहीं, जरूर अजय के मार्फत….! बाई द वे अलका ने तुम्हें और क्या-क्या सुनाया है?”

“बोर मत करो। बाद में अलका और अपने डिटेल ले लेना। अभी तो तुम वह ताजा जोक सुनाओ।”

“कौन सा?”

“वही।”

“वही, मींस?” उसने भूलने का नाटक करना चाहा।

“सेक्स और पत्रकारिता के फील्ड का।”

“अच्छा, अच्छा। बहुत मुख्तसर सा है और तुम्हें मैं जानता हूं, बड़े में लुफ्त आता है।”

वह उसकी हिप में चिकोटी काटता हुआ बोला।

“शैतानी नहीं। अच्छे बच्चों की तरह जोक सुनाओ।” वह उसकी हाथ हटाती हुई बोली, “फटाफट।”

“तो सुनो।” एक हिंदी पत्रिका के नामी संपादक एक अंग्रेजी अखबार की नामी विशेष संवाददाता से संभोग के बाद बोले, “आज मेरी सेंचुरी पूरी हो गई।”

“मतलब?”

“मतलब यह बालिके कि संपादक जी उन विशेष संवाददाता महोदया समेत सौ महिलाओं को भोगने का रिकार्ड बना गए थे।”

“इंटरेस्टिंग! फिर तो यह सुन कर मोहतरमा नाराज हो गई होंगी।”

“इसीलिए कहा गया है कि जोक के बीच में नहीं बोलना चाहिए।”

“आल राइट!”

तो जब संपादक जी ने बहुत विह्हव होकर उन विशेष संवाददाता मोहतरमा को अपनी सेंचुरी बताई और बड़ी मासूमियत से पूछा, “तुम्हारा स्कोर क्या है?” मोहतरमा ने ठंडी सांस छोड़ी। बोलीं, “कुछ याद नहीं।” संपादक जी की जिज्ञासा हुई, नहीं माने। पूछा, “फिर भी?” मोहतरमा जी बोलीं “जब सेंचुरी बनाई थी, तबसे गिनना छोड़ दिया।”

“मजा आया?” जोक सुनकर संजय ने रीना से पूछा।

“बोर भी नहीं हुई। पर जोक है कि सच?”

“लगता तो सच ही है।” वह बोला, “बुरा मत मानो तो तुमसे एक बात पूछूं?”

“अब क्या बाकी है जो बुरा मानूंगी? पूछो।” वह झटके से बोली।

“पूछूं?”

“सचमुच बुरा नहीं मानोगी?”

“नहीं मानूंगी। कह तो दिया।”

“तो बताओगी, तुम्हारा स्कोर क्या है?”

“तुम शैतानी से बाज नहीं आओगे?” कहते हुए वह उसके ऊपर चढ़ गई।

“मैंने स्कोर पूछा था, बैटिंग करने को नहीं कहा था।”

“अभी बताती हूं स्कोर।” कह कर वह स्टार्ट हो गई।

“पर अबकी वह सिर्फ उधम मचा कर ही रह गई। संजय अभी उसकी गुदाज देह का आनंद ले ही रहा था कि वह उचक कर बिस्तर से उतरी और खड़ी हो गई, माई गाड चार बज गए।” घड़ी देखती, गाऊन पहनती हुई बोली, “अब तुम जाने की तैयारी करो।”

“क्यों?”

“पापा आज सुबह की फ्लाइट से आने वाले हैं।” वह घबराती हुई बोली, “अगर वह जान गए कि रात तुम यहीं रहे हो तो मुश्किल हो जाएगी।”

“क्यों, क्या खा जाएंगे?”

“बहस नहीं, जल्दी से कपड़े पहनो और निकल लो।”

“हां, भई, रात गई-बात गई।”

“तुम हर बात को निगेटिव एप्रोच से ही क्यों देखते थे।” कहते हुए वह खूंटी से उसकी टी शर्ट और कुर्सी पर से पैंट बिस्तर पर फेंकती हुई बोली, “बी क्विक।”

“अच्छा अगर सर्वेंटस ने बता दिया?”

“उन्हें क्या मालूम कि तुम रात यहां रहे हो?”

“क्यों रात आते समय देखा तो था।”

“ओफ, इस डिटेल्स में मत पड़ो। इट्स माई हेडेक। बट नाऊ यू प्लीज गो।”

“फिर कब मिलोगी?” पैंट पहनते हुए उसने पूछा।

“आई विल कांटेक्ट यू।” वह बालों में क्लिप लगाती हुई बोली, “बट यू डोंट।”

“तुम्हारी यहा अदा दुखी करती है।”

“इसीलिए शादी के लिए कहती हूं।”

“रह-रह कर तुम भी क्या रिकार्ड बजा देती हो।” वह उसकी हिप पर हाथ मारते हुए बोला, “वो जो तुम्हें आज कल ट्रेनिंग दे रहा है उससे क्यों नहीं कर लेती।”

“कौन सी ट्रेनिंग? कौन दे रहा है ट्रेनिंग?”

“तुम्हीं तो रात बता रही थी।”

“क्या?”

“क्या कई चीजों की ट्रेनिंग ले रही हो आज कल?”

“ओह!” वह फिर फरीदा जलाल की तरह शरारती हंसी हंसी। बोली, “तो तुम्हारी भी यही राय है!”

“हां, कर लो।” वह पैरों में जूते की जिप बंद करते हुए बोला।

“तो पक्का रहा।” कहती हुई वह बोली, “पापा से बात करूं?” वह खुश हो गई थी।

“शादी का कार्ड हमें भी भेजना।”

“पर क्यों?”

“अच्छा तो शादी में बुलाओगी भी नहीं?” वह कंधे उचकाता हुआ बोला, “होता है, होता है!”

“बुलाऊंगी तो पर कार्ड देकर नहीं।” वह उछल कर उसके गले से लटक कर झूल गई, “क्योंकि वो ट्रेनिंग मास्टर तुम ही हो।”

“क्यों फिल्मी स्टाइल का सतही सस्पेंस क्रिएट करती रहती हो?” वह उसे बिस्तर पर पकड़ कर बैठाता हुआ बोला, “आखिर क्या है ऐसा जो तुम मुझ पर इतना मेहरबान होना चाहती हो?”

“बस, पढ़ चुकी कसीदा!” वह उठा और बोला, “अब चलूं?”

“अभी चले जाना।” कहती हुई उसे पास की बेंत वाली कुर्सी पर बिठा कर खुद उसकी गोद में बैठती हुई बोली, “तुम्हारी तरह मुझमें वो एक्सप्रेशन पावर नहीं है। जिससे ठीक-ठीक शब्दों में अपनी बात कह सकूं।” वह संजय के बालों में उंगलियां उलझाती हुई बोली, “बस कुछ ऐसा है तुममें। नहीं, मेरे इर्द गिर्द घूमने वालों की कमी नहीं है। पर मैं किसी को लिफ्ट नहीं देता हूं।”

“ऐसा!” वह लापरवाही से बोला।

“ऐसा!” वह भी उसी लापरवाही से बोली, “रही बात पोलिटिसियंस से तुम्हारी एलर्जी की तो तुम्हें मालूम है नैय्यर जैसे लोग भी राजनीति को गाली राजनीति की बैसाखी पर ही खड़े होकर देते हैं?” वह टेंस होती हुई बोली, “यू नो नैय्यर की तरक्की का राज क्या है?”

“क्या है?”

“उनके ससुर।” वह जैसे राज खोलती हुई बोली, “जो पंजाब गवर्मेंट में मिनिस्टर रहे हैं।” वह जैसे संजय को टेंस कर देना चाहती थी, “जिस देश में आदमी की पहली लड़ाई भी रोटी दाल हो और आखिरी लड़ाई भी रोटी दाल। वहां का आदमी कैरियर क्या खाक बनाएगा? वह भी पत्रकारिता में, बनियों की चाकरी करके?”

“खूब! मेरा डायलाग, मुझी को सुना रही हो?”

“कोई कॉपीराइट है इस डायलाग पर तु्म्हारा? यह तो एक नंगी सच्चाई है, जिसे कोई भी बयान कर सकता है।”

“सचमुच?”

“बिलकुल।”

“तो नंगी सच्चाई यह है कि अपने देश में कोई एक भी पत्रकार नहीं है।” वह बोला, “मैं तो कहता हूं कि कोई एक पत्रकार तुम्हें मिले तो मुझे भी बताना!”

“क्या?” वह जैसे चौंक पड़ी।

“हां। क्योंकि पत्रकारिता के नाम पर अब सिर्फ दो प्रजातियां मुझे दिखती हैं। एक पूंजीपतियों के चाकरों की जिनमें हमारे जैसे लोग शुमार होते हैं।”

“और दूसरी?”

“दूसरी प्रजाति है भड़वों और दलालों की। बस! जो पूंजीपतियों से लगायत राजनीतिज्ञों और अफसरों के आगे दुम हिलाते, तलवे चाटते फिरते हैं।” वह तमतमाता हुआ बोला, “और ये राजनीतिज्ञ, ये अफसर इन्हें कुत्तों से ज्यादा अहमियत नहीं देते।” वह बोलता रहा, “ज्यादा से ज्यादा कोई अल्सीसियन ब्रांड का कुत्ता होता है तो कोई गली वाला! बस ब्रीड का फर्क होता है।” वह बोला, “किसी ‘कुत्ते’ के आगे वह पुचकार कर सुविधाओं की हड्डी फेंक देते हैं तो किसी के आगे हिकारत से। पर यह तय है कि इन राजनीतिज्ञों, अफसरों के आगे इन सो काल्ड पत्रकारों की हैसियत एक कुत्ते से ज्यादा नहीं है।” उसने फिर से जोड़ा हथौड़ा मार कर कील को पूरी तरह ठोंक देना चाहता हो, “क्या नेता, क्या अभिनेता सब पत्रकारों को कुत्ता समझते हैं। कु्त्ते से ज्यादा कुछ नहीं। वह अपनी सुविधा और जरूरत के ही मुताबिक ही ‘पत्रकार’ को कोई खबर या सुविधा देते हैं।”

“बड़ी तल्खी है तुममें अपने पेशे को लेकर!” वह ऊबती हुई बोली।

“पेशा है न क्या करें?” उसने ‘पेशा’ शब्द पर ज्यादा जोर दिया और बोला, “अभिशप्त हैं अशवत्थामा की तरह इस पेशे को झेलने के लिए क्या करें?” वह बोला, “नहीं तुम भी जानती हो कि पढ़ने-लिखने वालों के इस पेशे में पढ़ने-लिखने वालों की कितनी कदर है और दलालों भड़ओं की कितनी?” उसने जोड़ा “अखबार मालिकों को भी अब एडीटर या रिपोर्टर नहीं पी.आर.ओ. चाहिए होता है। नाम भर एडीटर, रिपोर्टर का होता है!”

“हां, डिवैल्यूवेशन तो हुआ है!” वह बोली।

“मैं नहीं कह रहा कि यह अवमूल्यन सिर्फ पत्रकारिता में हुआ है। हो तो हर हलके में रहा है। पर जितना यहां हुआ है इतना कहीं और नहीं!”

“ये तो है!”

“अब क्या करोगी यह इस देश का दुर्भाग्य ही है कोई सांसद संसद में अपनी परफार्मेंस के बूते वोट नहीं पाता। वोट पाता है तो जोड़-तोड़ से गुण-दोष से नहीं। कोई बहुत काबिल मंत्री है और कहे कि मैंने देश के लिए यह-यह और ऐसी-ऐसी योजनाएं बनाईं, यह-यह किया तो मुझे वोट दो! तो कोई वोट नहीं देगा उसे। क्योंकि वोट तो अब हिंदू, मुसलमान, पिछड़ों और दलितों के खाने में बंट गया है!” वह कहने लगा, “तो देश में सही मायने में कोई एक नेता नहीं है!” वह बोला, “नेता ही क्यों मैं तो कहता हूं देश में कोई एक जज नहीं है, कोई एक वकील नहीं है! कोई एक डॉक्टर, कोई एक शिक्षक नहीं है! तो अगर देश में कोई पत्रकार नहीं है तो हम क्या कर सकते हैं! क्योंकि सब कुछ तो गुण-दोष के बजाय जोड़-तोड़ में फिट हो गया है।”

“तो क्या अब तुम सबको सुधार लोगे?” वह बोली, “नहीं न!”

“बिलकुल नहीं।” वह बोला, “और बंद कमरे में इस एकालाप से तो कतई नहीं।”

“चलो यह सब किसी सेमिनार के लिए संभाल कर रखो। काम आएगा!”

“तुम्हारी ऊब को मैं समझ सकता हूं। पर सारी चीजें सब सेमिनारों से तय नहीं होने वाली न नपुसंक अखबारों से।” वह बोला, “इसके लिए तो सिस्टम को ही तोड़ना होगा!”

“तो तोड़ो!”

“पर दिक्कत यह है कि सिस्टम टूटता दिखाई नहीं देता और मेरे जैसे इक्का दुक्का सिस्टम तोड़ने जो चलते भी हैं तो सिस्टम उन्हें तोड़ देता है। मान लिया गया है कि सिस्टम नहीं, सिस्टम तोड़ने वाल व्यक्ति ही टूटेगा!”

“यह तो है। पर कुछ क्रांति आगे की मुलाकातों के लिए छोड़ो।” कह कर वह मुसकुराई।

“ओ.के.!” वह उसे गोद में उठाता हुआ बोला, “अब चलूं? नहीं, तुम्हारे पापा आ जाएंगे।” कह कर वह खड़ा हुआ तो वह उसे पीछे से पकड़ कर लिपट गई। उसकी बड़ी-बड़ी छातियां जैसे उसकी पीठ को कुचल देना चाहती थीं। थोड़ी देर वह दोनों ऐसे खड़े रहे। फिर संजय ने उसका हाथ छुड़ाया, उसे आगे किया और पीछे से खुद लिपट कर खड़ा हो गया। जांघों, से उसके भारी हो रहे नितंबों को रगड़ते हुए, पीछे से ही उसे चूमते हुए बोला, “अच्छी सी रात गुजारने के लिए शुक्रिया।” कह कर जब वह कमरे के दरवाजे पर आ गया तो रीना दौड़ कर फिर चिपट गई और उसे बेतहाशा चूमने लगी। संजय भी उसे चूमने लगा। इस चूमा चाटी में उसका फैंसी झुमका संजय की नाकों में खरोंच लगा गया। संजय खीझ गया, कितनी बार कहा यह सब मत पहना करो।” वह झल्लाता हुआ बोला, “मेरे जाने के बाद भी पहन सकती हो।” तब तक वह ड्रेसिंग टेबिल से कोई क्रीम ट्यूब निकाल कर उसकी नाक पर मलने लगी। क्रीम मल कर वह सेंट स्प्रे करने लगी। बोली, “तुम्हारी सिगरेट और पसीने की गंध मेही देह में जैसे चिपक गई हैं।” वह सेंट उस पर भी स्प्रे करती हुई बोली, “कितनी बार कहा है मेरे पास आया करो तो सिगरेट सुलगा कर नहीं, बुझा कर आया करो।”

“अब चलूं?” वह दरवाजा खोलते हुए बोला, “तुम्हारे कुत्ते तो बंधे होंगे?”

“रुको, एक मिनट मैं चेक कर लेती हूं।”

“हां, नहीं कहीं साले दौड़ा लें तो सुबह-सुबह मुसीबत!”

“संजय पैर नीचे कर बिस्तर पर लेट गया। जरा देर बाद वह गाउन की बेल्ट बांधती हुई आई। बोली, “खुले थे, पर मैंने बांध दिया है। पर तुम दबे पांव जाना माली जाग गया है।” फिर जब संजय चलने लगा तो बोला, “जरा झुमके और बालों की चिमटियां निकालो।”

“क्यों?”

“निकालो तो सही।” उसके झुमके निकालते ही वह उसे आहिस्ता-आहिस्ता चूमने लगा। रीना ने भी उसका माथा धीरे से चूम लिया। संजय चल ही रहा था कि वह बुदबुदाई, “मेर प्रपोजल पर मन करे तो एक बार फिर गौर करना।”

“ठीक है सोचूंगा। पर तुम एक बात अच्छी तरह नोट कर लो।” वह जरा सख्ती से बोला।

“क्या?”

“मैं नैय्यर नहीं हूं।” वह पूरी सख्ती से बोला, और बाहर आ गया।

बहुत दिनों बाद वह ऐसी सुबह देख रहा था। पौ फटती सुबह। रीना के देह की मादक गंध, उसके सेंट की गमक, सड़क के दोनों ओर के बंगलों में लगे फूलों की दिल को बहका देने वाली सुगंध भी तिर रही थी इस सुबह में।

सड़क पर आकर संजय ने सिगरेट सुलगा ली थी।

पंडारा रोड पर।

….जारी…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *