मुख्यमंत्री अखिलेश उवाच- नकल करके सिर्फ बन सकते हैं पत्रकार

बीते हफ्ते शुक्रवार के दिन यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्रकारों पर की गई एक टिप्पणी यूपी के मीडियावालों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है. कार्यक्रम अमर उजाला की तरफ से आयोजित था. इसमें प्रदेश के मेधावी छात्रों को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में लैपटॉप दिया. अमर उजाला के इसी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पत्रकारों को एक टिप्पणी करके भरपूर बेइज्जत किया. लैपटॉप वितरण के दौरान मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मंच से बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि बच्चों, पढ़ने-लिखने में मन लगाना क्योंकि नकल करके आईएएस तो नहीं बन सकते, हां पत्रकार बन सकते हो.

अखिलेश यादव ने कोई पहली बार मीडिया को टारगेट नहीं किया है. यूपी में फैले जंगलराज को जब मीडिया वाले लिखते दिखाते हैं तो अखिलेश चिढ़कर मीडिया वालों को ही बुरा बुरा कहने लगते हैं. नकल करके सिर्फ बन सकते हो पत्रकार वाले बयान को कई पत्रकारों ने गंभीरता से लिया लेकिन लखनऊ के ज्यादातर पत्रकार प्रदेश सरकार के खिलाफ खुलकर न कुछ लिख सकते हैं और न बोल सकते हैं और न ही कोई धरना-प्रदर्शन कर सकते हैं. ऐसे में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का मीडिया को टारगेट करते रहने का अभियान निरापद भाव से चल रहा है.

इसे भी पढ़ सकते हैं…

विज्ञापन देकर यूपी सरकार की किरकिरी रोकने में जुटे मुलायम और अखिलेश

भड़ास के माध्यम से अपने मीडिया ब्रांड को प्रमोट करें. वेबसाइट / एप्प लिंक सहित आल पेज विज्ञापन अब मात्र दस हजार रुपये में, पूरे महीने भर के लिए. संपर्क करें- Whatsapp 7678515849 >>>जैसे ये विज्ञापन देखें, नए लांच हुए अंग्रेजी अखबार Sprouts का... (Ad Size 456x78)

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें- Bhadas WhatsApp News Alert Service

 

Comments on “मुख्यमंत्री अखिलेश उवाच- नकल करके सिर्फ बन सकते हैं पत्रकार

  • pushpranjan says:

    जाली डिग्री जुगाड कर बन सकते हैं मंत्री, और मुख्यमंत्री !

    पुष्परंजन

    Reply
  • Anil Dwivedi says:

    निंदनीय और आपत्तिजनक बयान. जो जैसा बनेगा, वैसा ही दूसरों के बारे में भी सोचता है. वैसे जिस अमर उजाला के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने यह बयान दिया है, उसने इस पर कुछ लिखा-कहा या नहीं. किसी को जानकारी हो तो बतायें. अगर उस कार्यक्रम में पत्रकार या संपादक मौजूद थे तो उन्होंने आपत्ति क्यों नहीं की?

    Reply

Leave a Reply to RK Singh Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *