हमला निंदनीय है लेकिन पत्रकारिता के नाम पर अरनब जो कुछ कर रहे वह बहुत शर्मनाक है!

अमिताभ श्रीवास्तव

Amitaabh Srivastava : रिपब्लिक चैनल के संपादक अरनब गोस्वामी पर हमला निंदनीय है। पिछले कुछ समय से पत्रकारिता के नाम पर वो जो कुछ भी कर रहे हैं, वह बहुत शर्मनाक है।

अरनब गोस्वामी और उनके जैसे कुछ एंकर दरअसल पिछले कुछ समय से मीडिया की अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर स्वस्थ और स्वच्छ पत्रकारिता को कलंकित ही कर रहे हैं लेकिन उस सबका जवाब किसी भी तरह की शारीरिक हिंसा नहीं हो सकती।

अरनब ने पालघर में साधुओं की पीट-पीटकर हत्या के बाद अपने कार्यक्रम में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उन पर हमला इसी से जोड़ कर देखा जा रहा है। महाराष्ट्र सरकार को इस मामले में कड़ी जांच-पड़ताल और कार्रवाई करनी चाहिए।

उम्मीद के मुताबिक बीजेपी और उसके समर्थक अरनब गोस्वामी के समर्थन में बोल रहे हैं और इस हमले की निंदा के बहाने कांग्रेस पर निशाना साध रहे हैं।

मेरी राय में कांग्रेस को भी बड़प्पन दिखाते हुए इस हमले की निंदा करनी चाहिए‌। अरनब गोस्वामी पत्रकारीय अभिव्यक्ति की आज़ादी के आदर्श नहीं है , न ही उन्हें इस हमले के बहाने हीरो बनने का मौक़ा देना चाहिए।

वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ श्रीवास्तव की एफबी वॉल से.


मूल खबर-

अर्णब गोस्वामी के बुरे दिन शुरू, छत्तीसगढ़ में ताबड़तोड़ एफआईआर के बाद मुंबई में हमला

ये भी पढ़ें-

अर्णव ने सोनिया के लिए जिन शब्दों का इस्तेमाल किया वो पत्रकारिता नहीं हो सकती

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

One comment on “हमला निंदनीय है लेकिन पत्रकारिता के नाम पर अरनब जो कुछ कर रहे वह बहुत शर्मनाक है!”

  • Manish Tambat says:

    दरअसल ये अर्णव नहीं ये , पिछले तीन दशकों से बोई जाने वाली अलगाव की फसल है। ये सोचते हैं कि जिस तरह पाकिस्तान से हिन्दुओं का सफाया किया गया, वैसे ही हिंदुस्तान से मुस्लिम का भी होना चाहिए। और ये भाजपा का मूल उद्देश्य है। लेकिन ये भूल जाते हैं कि हिन्दू , पिछले दो हजार साल से लगातार पतन कि तरफ ही बढ़ रहे हैं। बड़ीमुश्किल से गुलामी की जंजीरों से जिन महान आत्माओं की वजह से आज हम विश्व में इस स्थिति में पहुंचे आज ये उन का ही मजाक उड़ाया करते हैं। अगर हिंदू मुस्लिम विभिजन हुआ तो वो दिन दूर नहीं जब बाकी सब भी विभाजित हो जाएंगे।

    Reply

Leave a Reply to Manish Tambat Cancel reply

Your email address will not be published.

*

code