A+ A A-

योगी के हाथों पुरस्कार लेने पर वामपंथी खेमे के कुछ पत्रकारों द्वारा विरोध किए जाने का यशवंत ने कुछ यूं दिया विस्तार से जवाब...

Yashwant Singh : लोकमत अखबार के यूपी के संपादक आनंदवर्द्धन जी का एक दिन फोन आया. बोले- ''हर साल की तरह इस बार भी लोकमत सम्मान का आयोजन करने जा रहे हैं हम लोग. हमारी जूरी ने 'जनक सम्मान' के लिए आपको चुना है क्योंकि भड़ास4मीडिया एक बिलकुल अनोखा प्रयोग है, मीडिया वालों की खबर लेने-देने के वास्ते जो भड़ास4मीडिया की शुरुआत हुई है, उसके लिए आप सम्मान योग्य हैं.''

ऐसे तारीफ भरे शब्दों को सुनने के दौरान मेरी हालत कैसे रिएक्ट करूं टाइप हो जाती है. आनंद वर्द्धन जी से मैंने वादा किया कि आऊंगा आपके सम्मान समारोह में. उनने आने जाने का जहाज का टिकट मेल करा दिया.

जबसे लखनऊ में नई सरकार आई, एक बार भी मेरा लखनऊ जाना न हुआ. एकाध मेरे निजी-पारिवारिक काम थे, जिसके लिए लखनऊ जाना था, पर टलता जा रहा था. जहाज का टिकट मिलने के बाद लखनऊ का दौरा मेरा पक्का हो गया. एक पंथ दो काज.

लखनऊ से पत्रकारिता और शराबखोरी, दोनों ही क्षेत्रों में करियर की शुरुआत की थी. इसलिए इस जगह से मेरा लगाव कुछ ज्यादा है. बड़ा अपनापा सा लगता है लखनऊ से. प्रेस क्लब में जुए की सजी हुई टेबल, चारबाग में देर रात तक दारू की उपलब्धता, खाने को किसिम किसिम का स्वाद, घूमने भटकने को ढेर सारी जगहें. इसी कारण दस जून के सम्मान समारोह के लिए लखनऊ 7 जून को ही पहुंच गया.

कार्यक्रम के दिन नियत समय पर संगीत नाटक अकादमी में हाजिरी दी. आयोजकों ने मंच पर बैठने के लिए बुलाया तो वहां चला गया, अन्य पुरस्कारार्थियों के साथ. योगी बाबा आए और एक एक कर सबको पुरस्कार थमाने लगे. मैं तय करके आया था कि योगी से रुबरु होने के इन चंद सेकेंड्स में मुझे उनसे क्या कह देना है. मेरी बारी आई तो पहुंचते ही योगी जी से कहने लगा- ''शाहजहांपुर वाले जगेंद्र सिंह हत्याकांड में कुछ नहीं हुआ. हत्यारे आजाद हैं और पीड़ित का परिवार धमकी व प्रलोभन के कारण चुप है. इसे संज्ञान लीजिए. ''

मैं कहता रहा और योगी बाबा पुरस्कार देने वाली मुद्रा में मुस्कराते हुए मुझे देखते सुनते रहे. इस दौरान लोकमत यूपी के संपादक आनंदवर्द्धन जी भी मौजूद थे. योगी तक अपनी बात पहुंचाते हुए पुरस्कार सम्मान लेते फोटो खिंचाने के बाद वापस अपनी सीट पर आ गया. मुझे संतोष था मैंने यूपी के पत्रकारों के माथे पर पुती गहरी कालिख को मिटाने हेतु एक कदम चल सका. मुझे संतोष था एवार्ड समारोह में सीएम के होने का लाभ उठाते हुए उनका ध्यान पत्रकारों के एक बड़े मामले की ओर खींचने का. मुझे संतोष था जिस जगेंद्र हत्याकांड के कारण हम लोगों ने सपा को वोट न देने की अपील की थी, उस मुहिम को नई सरकार में आगे बढ़ा पाने का.

कार्यक्रम खत्म होते ही कई साथियों ने मुझसे मिलकर और कुछ ने फोन करके पूछा कि मैं योगी जी के कान में क्या कह रहा था? मैंने सभी को बताया कि जगेंद्र हत्याकांड में इंसाफ न होने की बात बताई योगी जी को.

संबंधित वीडियो देखने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें.. इस वीडियो में पुरस्कार लेते वक्त यशवंत लगातार योगी से कुछ कह रहे हैं और तब योगी जी सहमति में सिर हिलाते दिख रहे हैं...

https://www.youtube.com/watch?v=y9AS48U_WcY

योगी के हाथों पुरस्कार लेने के बाद कुछ कामरेड लोगों के बिफरने का मुझे अंदाजा था. पर हमने कब परवाह की है जमाने की. जो करना है, वह करके रहता हूं, गलत या सही. इंडियन एक्सप्रेस के कार्यक्रम में मोदी बतौर प्रधानमंत्री जाते हैं. लोकमत के कार्यक्रम में योगी बतौर मुख्यमंत्री जाते हैं. आप हम कुर्सी का सम्मान करते हैं, व्यक्ति का नहीं. वैसे भी मेरे जैसे आध्यात्मिक व्यक्ति के लिए हर नेता एक सरीखा होता है. मैं मोदी और मनमोहन, योगी और मुलायम में बहुत ज्यादा फरक नहीं कर पाता. आप अगर कर पाते हैं तो आप महान हैं और आप का राशि कुंडली में राजनीति सर्वोच्च स्थान पर है. पर जब मैं गौर से देखता हूं तो सत्ता तंत्र का चरित्र हमेशा एक सा दिखता है. बस थोड़ा बहुत हेरफेर होता है. केवल चेहरे और व्यक्ति बदल जाते हैं. पार्टियों के नाम बदल जाते हैं. सत्ता के चलने का अंदाज वही रहता है. हां, हमारी जातीय क्षेत्रीय धार्मिक पृष्ठभूमि की वजह से सत्ता तात्कालिक तौर पर कभी करीब तो कभी दूर लग सकती है.

आपकी रुचि अगर राजनीति में है तो आप जिंदाबाद मुर्दाबाद करते रहिए, इनके उनके या मेरे पक्ष विपक्ष में खड़े रहिए. लेकिन मुझे राजनीति में कतई रुचि नहीं. इसलिए मेरे सामने एवार्ड देने वाला कोई योगी हो या कोई मुलायम या कोई मनमोहन, मुझे कोई फरक नहीं पड़ता.

विचारधाराएं इस दुनिया में दम तोड़ रही हैं, काफी समय से. तकनालजी और बाजार ने बहुत कुछ बदलने को मजबूर किया है. विचारधाराओं के जरिए औसत दिमाग से नीचे के लोगों को बरगलाया भरमाया जाता है या फिर लूट में शामिल होने का प्रलोभन देकर इरादतन मिलाया जाता है. विचारधाराओं के नाम पर अब केवल भीड़ की गोलबंदी की कवायद की जाती है ताकि लोकतंत्र में ज्यादा वोट पाने के नाटक को जस्टीफाई करते हुए सत्ता शीर्ष पर कब्जा जमाया जा सके. मुझे तो कई दफे ये चुनाव ही ढेर सारी समस्याओं की जड़ लगने लगे हैं. भीड़ हमेशा मूर्खतापूर्ण सोच रखती है और ऐसी ही सोच से उपजे नेता कहां से तार्किक और वैज्ञानिक विचार वाले होंगे. भीड़ हमेशा अपने जैसा मूर्ख व्यक्ति नेता के रूप में खोजती है और नेता हमेशा एक भीड़ की तलाश में रहता है, जो किसी एक नारे या एक बोली से सक्रिय हो जाए. भीड़ और भेड़ में ज्यादा फरक नहीं है. भेड़चाल ही है लोकतंत्र.

इन सम्मान समारोहों और वैचारिक विमर्श जैसे कार्यक्रमों में शिरकत करना मेरे लिए भड़ास4मीडिया की ब्रांडिंग का एक मौका होता है, साथ ही उन सभी वेब पत्रकारों के माथे पर जीत व गर्व की एक लकीर दर्ज कराना होता है जो अपने-अपने मीडिया हाउसों से लड़कर अपने दम पर अपनी वेबसाइटों वेब चैनलों ब्लागों सोशल मीडिया जैसे उपक्रमों के माध्यम से साहसपूर्ण पहल करते हुए पत्रकारिता को करप्ट व कारपोरेट महासागर में विलीन होने से बचाए हुए हैं.

भड़ास4मीडिया डाट काम की शुरुआत के वक्त मठाधीश टाइप पत्रकार लोग वेबसाइटों और ब्लागों को हिकारत भरी नजर से देखते थे और इसको संचालित करने वालों को छोटा पत्रकार / हारा हुआ पत्रकार / मुख्यधारा से तड़ीपार पत्रकार मानते बोलते थे. लेकिन बीते नौ साल में तस्वीर पलट गई है. मठाधीश लोग या तो नष्ट हो गए, या कर दिए गए या चुप्पी साधे नौकरी बजा रहे हैं और भड़ास4मीडिया टाइप पोर्टल के संचालक सत्ता शीर्षक की छाती पर अपनी धमक पहुंचाने में कामयाब रहे हैं.

नौ वर्षों में हर किस्म के अनुभव से रुबरू हुआ. हर किस्म के लोगों से पाला पड़ा. अपने और पराये लोगों को नजदीक से महसूस किया. इस सबसे मेरी मानसिक बुनावट में काफी कुछ बदलाव आया. सैद्धांतिक ज्ञान में बहुत कुछ नए अध्याय जुड़े और कई सारे चैप्टर डिलीट हुए. हम लोग तभी से मानते थे कि सारी मीडिया नष्ट हो जाएगी, ये डिजिटल ही बचा रहेगा. यही कारण है कि हम भड़ास वालों ने एक भी मैग्जीन या अखबार न शुरू किया. क्योंकि तय कर रखा था कि युद्ध डिजिटली ही लड़ेंगे.

इस भड़ास4मीडिया ने मुझे धरती से आसमान तक की यात्रा कराई, अनुभव समझ संवेदना सामाजिकता के लेवल पर. और, इसी ने इन यात्राओं के जरिए एक आंतरिक, आध्यात्मिक यात्रा की शुरुआत कराई. कह सकता हूं कि मैं भड़ास में एक क्लर्क से ज्यादा कुछ नहीं हूं. कह सकता हूं कि प्रकृति ने मुझे जरूर कुछ अदभुत अनुभव करने और जीने के लिए भेजा है, जो कर रहा हूं, जो जी रहा हूं. मैं अब चीजों को अच्छे या बुरे के फ्रेेम में नहीं देखता न ग्रहण करता. इसे संपूर्णता के भाव से देखता, भोगता और महसूस करता हूं. अच्छा मेरा है तो बुरा भी मेरा है. सब मेरा है और कुछ भी मेरा नहीं है.

काफी समय से मैंने महत्वाकाक्षाएं-इच्छाएं पालने और योजनाएं बनाने का काम छोड़ दिया है. तत्क्षण में जीने का आदी हो गया हूं. देर तक और दूर तक का प्लानिंग न के बराबर है. अतीत में बिलकुल नहीं जाता. भविष्य के लिए परेशान नहीं क्योंकि न कोई महत्वाकांक्षा है और न कोई योजना. इसलिए मुझे जो कुछ मिल जाता है, जो कुछ मेरे संग हो जाता है, अच्छा बुरा, उसे सब ईश्वरीय नियोजन / प्रकृति की देन मानकर ग्रहण कर लेता हूं.

ये मजेदार नहीं है कि पिछली सरकार जब यूपी में आई थी, नई नई, अखिलेश यादव के नेतृत्व में तो मुझे शुरुआती तीन महीने के भीतर, शायद मई लास्ट का समय था, अरेस्ट करके जेल भेज दिया गया और कई मीडिया हाउसों ने फिर ताबड़तोड़ मुकदमें लिखवाए, सत्ता सिस्टम से दबाव बनवाकर घरों आफिसों पर छापे डलवाए. मुझे जेल भेजे जाने के बाद भड़ास के तत्कालीन संपादक अनिल सिंह को अरेस्ट कर जेल में भिजवाया गया क्योंकि सबकी चिंता थी कि आखिर यशवंत के जेल जाने के बाद भड़ास कैसे चल रहा है. जेल के अधिकारियों को फोन कर जेल के अंदर प्रताड़ित करने के लिए उकसाया गया. पर प्रकृति ने मेरे लिए कुछ और प्लान कर रखा था. जेल मेरे लिए जानेमन जगह सिद्ध हुई. वहां से निकला तो 'जानेमन जेल' किताब की रचना हुई.

और, अब ये जो नई सरकार आई है, यूपी में, योगी के नेतृत्व में, तो इसके मुखिया योगी ने बतौर सीएम अपने कार्यकाल के तीन महीने के भीतर ही मुझे अपने हाथों सम्मानित किया. माध्यम भले बना लोकमत अखबार. माध्यम भले ही बने आनंदवर्द्धन जी.

न जेल जाने की योजना मैंने बनाई थी और न सम्मान पाने की. दोनों ही चरम विपरीत स्थितियों को खुद आना था, खुद होना था. मेरे को तो बस दोनों ही हालात में आनंद की अनूभित करनी थी जो की. दोनों ही प्रकरणों में मुझे सकारात्मक और सहज रहना था, जो रहा. इन दोनों के लिए ही मुझे नेचर / परम / अदृश्य / सृष्टि को धन्यवाद कहना था, कृतज्ञ होना था, जो मेरे को निमित्त बनाए हुए जाने क्या क्या खेल तमाशा रचे हुए है. .

जो लोग विचारधाराओं के चश्मे से अब भी चलते हैं, और इसी आधार पर अगर हमको आपको कोसते हैं, तो ध्यान से देखिएगा, उनके जीवन में कोई न कोई फांस, द्वंद्व, दुख, गुलामी, वासना, उत्तेजना, घृणा, अवसाद, ब्रेन वाश आदि में से कुछ न कुछ भयंकर है जो उन्हें एक खास स्टाइल में जीने सोचने को मजबूर किए रहता है. बहुत मुश्किल होता है एक खास किस्म की स्कूलिंग और खास किस्म से तैयार किए गए दिमाग से उबरते हुए सहज मौलिक शांत सुंदर दिमाग की तरफ बढ़ पाना.

जो लोग गब्बर के डकैत गिरोह के इमानदार खजांची बन गुलामी का जीवन काट रहे हैं वे अगर दूसरों को इमानदारी का पाठ पढ़ाने लगें तो क्या कहिएगा. उनसे क्या पूछिएगा कि आप अच्छा खासा नक्सल वाला जीवन जी रहे थे, उधरे जंगल में शहीद हो गए होते तो ढेर सारे नौजवान लौंडों को प्रेरणा मिली होती नक्सलाइट बनने के वास्ते. पर आप तो भाग आए जान बचाकर दिल्ली और यहां पाल लिए हैं टाइम्स आफ इंडिया वालों की बिल्ली. सो, सौ सौ चूहे खाने के बाद हज की ओर काहें जा रहे हैं महाराज.

खैर.

अब अपने पास दूसरों की आलोचना के लिए ज्यादा वक्त नहीं रहता, इसीलिए यहीं बात समाप्त कर रहा हूं और उम्मीद करता हूं उन तक बात पहुंच गई होगी. मनुष्य को इस या उस खांचे में देखने वाले लोग ज्यादा बड़े फासिस्ट हैं. इन्हें एक बार फिर ब्रह्मांड विज्ञान जीवन की क्लासेज में दाखिला लेकर सिर्फ इस या उस खांचे की जगह संपूर्ण जीवन जीव सुर लाय ताल को समझना बूझना चाहिए. मने नौकरी करते करते एकदम्मे गड़बड़ा गए हों तो होलटाइमर वाला काम शुरू कर दीजिए क्योंकि कामरेड वाली पार्टियों में अच्छे कामरेडों का बड़ा अकाल है. पर ये न करेंगे क्योंकि आप मूलत: अवसरवादी और बकचोद हैं. जीवन एक पूंजीपति की सेवा करते गुजार दी और गरीब लौंडों से नक्सली बनने की इच्छा पाले रहेंगे. धत तेरी हिप्पोक्रेसी की.

मुझे तो अब किसी हत्यारे में भी कोई अपराधी नहीं दिखता. बस यही सोचता हूं कि नेचर ने इसे इस काम के लिए क्यों प्रोग्राम किया हुआ है? मैं हत्यारे के भीतर रुह बनकर प्रवेश कर जाना चाहता हूं और उसकी तरह सोचते हुए जानना चाहता हूं कि आखिर एक हत्यारे को आनंद कब आता है, दुख कब होता है, डर कब लगता है और वह रोता कब है. मुझे मुश्किल और उलझे हुए लोग ज्यादा संभावना से भरे लगते हैं. जो पीएफ सीएल डीए की गणना करता हुए इस बिल्डिंग से उस बिल्डिंग के बीच आते जाते जीवन के दिन वर्ष खर्च कर रहे हैं, उनमें क्या नया दिखेगा, उनमें क्या मौलिक दिखेगा. वह एक घटिया मास्टर की तरह रटी रटाई पुरानी पर्ची को पढ़ कर सिलेबस पूरा जान मान लिया करेंगे.

सीएम योगी के हाथों एवार्ड लेते हुए पहली फोटो डाली तो उसमें पांच दास के बीच निगेटिव कमेंट्स हैं. मेरे खयाल से इतना जेनुइन है. जो हार्डकोर कामरेड हैं और उसी शब्दावली के बीच जीवन जीते गुजारते हैं, उन्हें कष्ट तो होना ही चाहिए, योगी या मोदी के हाथों एवार्ड लेते देखकर, वह भी किसी पूर्व कामरेड को. और, मुझे लगता है कि ये जरूरी भी था. आप अगर मुझे किसी खांचे सांच में बांधकर देखते हैं, देखते थे, तो गलत थे. आप अपना जीवन और अपना खांचा दुरुस्त रखिए. मेरी चिंता छोड़ दीजिए. मैं एक जीवन में सौ किस्म का जीवन जीता हूं, अराजक, अवसरवादी, वामपंथी, दक्षिणपंथी, साहित्यिक, आध्यात्मिक, अभिनेता, गायक, कुक, ड्राइवर, माली, खिलाड़ी, साधक, घुमक्कड़, प्रेमी, अभिभावक, लीडर, विद्रोही, गरीब, अमीर, अभद्र, अशिष्ट, शराबी, कबाबी, क्रूर.... और, किसी क्षण मैं इनमें से कुछ भी नहीं होता हूं, इस देह से परे होता हूं.

क्या करिएगा, कैसे किसी खोल में हमको भरिएगा. पर असल में जिन लोगों का काम ही सिर्फ खोल में भरना है, वो तो भरेंगे. आप भले न भराएं, लेकिन वो खोल खांचे में जबरन आपको भरेंगे. इसलिए इनकी भराई की परवाह न करिए, उन्हें अपना काम करने दीजिए और हमें अपना. क्या कहेंगे लोग, सबसे बड़ा रोग... वाला नारा यूं ही नहीं दिया गया है. आप जब भी कुछ करेंगे तो उसके सहज स्वाभाविक दस विरोधी और दस प्रशंसक पैदा हो जाएंगे. यह प्रकृति का विभिन्नता का सिद्धांत है. यह जो प्रकृति प्रदत्त बहुलता, विविधता और अनेकता है, यही सबसे खास चीज है जो हमें आपको अलग अलग चश्मे, अलग अलग अनुभव जन्य सिद्धांत थमाए रहती है और सबके जरिए अलग अलग किस्म का तमाशा बनाए रहती है. तो इसका मौज लेना है और मस्त रहना है.

जिन्हें सीएम योगी के हाथों जनक सम्मान से मुझे सम्मानित किया जाना अच्छा लगा, उन्हें नमस्ते प्रणाम. जिन्हें यह अच्छा नहीं लगा, उन्हें प्यार भरा सलाम. मैं उचक कर न सेल्फी लेने गया और न मैंने कोई निजी काम बताया. मैं लपलपाया भी नहीं. मैं एक बड़े मुद्दे, जगेंद्र हत्याकांड का जिक्र कर सीएम का ध्यान खींचने की कोशिश की. मैं सीएम के हाथों सम्मान पाकर न गर्व से भरा हूं और न योगी के सीएम होने और इनके हाथों सम्मानित होने से किसी अवसाद या दुविधा में पड़ा. मैं तब भी मस्त था, आज भी मस्त हूं. मेरे पास इतना सोचने के लिए वक्त नहीं होता क्योंकि मेरे स्वभाव में दुनियादारी, चुगलखोरी, रणनीति, साजिश, प्रोपेगंडा आदि के लिए कोई जगह है ही नहीं. इसी दुनिया में सब कुछ हर क्षण है. आप जिस दृष्टि और सोच से देखेंगे, दुनिया और लोग वैसे ही दिखेंगे. किसी रोज चश्मा हटाकर और दिल दिमाग खोलकर एक एक चीजों को देखिए और उसे चूमिए.

लखनऊ यात्रा के दौरान खूब आनंद आया. बहुत सारे नए पुराने पत्रकारों साथियों से मिलना हुआ. हर दिन हर शाम हर रात जै जै रही... आप सभी चाहने वालों को ढेर सारा प्यार प्यार और प्यार... सभी आलोचक चश्मेधारी दिग्गजों का भी हूं दिल से शुक्रगुजार .... :D आलोचक न होते तो ये पोस्ट न लिखता... इसलिए समझ लीजिए... चैलेंज, आलोचना, सवाल ही आपको बड़ा होने, क्रिएट करने, रचने के मौके मुहैया कराते हैं.... इसकी अगली स्टेज ये है कि न तारीफ से प्रसन्न होने वाला हूं और न आलोचना पर भौहें तानने वाला... अब इस अगली अवस्था में पहुंंचने ही वाला हूं... फिर मैं खुद कहूंगा आप सबों के साथ...

मार मार पापी यशवंत को... अरे उसी भड़ास वाले को ही... :)

जैजै

भड़ास के संपादक यशवंत के उपरोक्त एफबी पोस्ट पर आए ढेरों कमेंट्स में से कुछ प्रमुख इस प्रकार हैं....

Shrimaan एक साँस में पढ़ गया, दिल को सुकून आया कि आँच अभी भी बाक़ी है, सब कुछ बर्बाद नहीं हुआ है। आप जैसे और तो अब दिखते नहीं पर आप जुटे रहिएगा। आप ने मेरे जैसे कई लोगों को फिर से उम्मीद दिखाई है। कोशिश कीजिएगा कि आप ऐसे ही रहें।

Dinker Srivastava ग़जब.....धोते पछारते आपकी यूँ ही गुजरती रहे.....लोग जलते रहें आप जलाए रखें उनकी भी और मशाल भी.....बात थोड़ा लंबी सरक गई लेकिन मौक़े और समय के मुताबिक कही गयी...अच्छा बहुत अच्छा.....शुभकामनाएं

Divakar Singh अभी और ऊंचाइयां पानी हैं. आध्यत्मिक और व्यावसायिक दोनों.

Arun Sathi कामरेडों का हाजमा ही ख़राब है....इसीलिए हाशिये पे है...आप बिंदास है

Yogesh Bhatt कुछ लाइन याद हो आई हैं..जिसकी जैसी नजर उसने वैसा समझा मुझे

Vishal Ojha चलो भाई अब आनंद लो सब चीजों का..और हाँ कभी याद भी कर लिया करो

Sushil Dubey उस दिन 1 पैग का क्या हुआ बाबा,,,

Rohit Bisht बधाई, खरी कहने और सुनने का माद्दा बना रहे,बचा रहे यही शुभकामनाएँ

Rajshekhar Vyas Aap sachmuch videh Janak ho rahe hain ! Hardik badhai

Sangam Pandey क्या कहने....
''मुझे तो कई दफे ये चुनाव ही ढेर सारी समस्याओं की जड़ लगने लगे हैं. भीड़ हमेशा मूर्खतापूर्ण सोच रखती है और ऐसी ही सोच से उपजे नेता कहां से तार्किक और वैज्ञानिक विचार वाले होंगे. भीड़ हमेशा अपने जैसा मूर्ख व्यक्ति नेता के रूप में खोजती है और नेता हमेशा एक भीड़ की तलाश में रहता है, जो किसी एक नारे या एक बोली से सक्रिय हो जाए. भीड़ और भेड़ में ज्यादा फरक नहीं है. भेड़चाल ही है लोकतंत्र''

Ganesh Dubey Sahaj पूर्वांचल के खून में है साफगोई।। साधुवाद।।

Sunayan Chaturvedi भड़ास पुरुष की जय।

Sanjeev Kumar Badhai. Aapko janta bahut pahle se tha. Lakin is post ko padhne ke bad aapke vyaktitva ke bare me kuchh aur janne ko mila.

Anand Kumar हर कोई यशवंत नहीं बनता।

Dilip Clerk आप इस सम्मान के योग्य है दादा मैं भी भड़ास एक मुहिम

Sanjaya Kumar Singh बधाई। पुरस्कार के लिए और जोरदार लिखने के लिए भी।

Surendra Trivedi यशवंत जी, आपने तो सब कुछ लिख डाला। खैर, उम्मीद है कि आप बहुत आगे जाओगे।

Ramesh Chandra Rai देखो यशवंत तुम जो भी पोस्ट करो उससे मेरा कोई मतलब नहीं है। पूरे पत्रकारिता के जीवनकाल में मैं बहुत खुश था कि एक पत्रकार अपनी सुख सुविधा छोड़कर लड़ रहा है। तुम इसके लिए जेल यात्रा भी किए। मैं तुम पर गर्व करता था। लोगों को बताता था कि एक होनहार पत्रकार अपने कैरियर को दांव पर लगा दिया। सम्मान मिलने से सबसे अधिक खुश हूं लेकिन योगी के हाथ लेने से मुझे दुख हुआ। तुम मेरी भावना समझ गए होंगे। बाकी बात मिलोगे तो होगी। फिर भी तुम मेरे अनुज हो इसलिए मैं तुम्हें बधाई दे रहा हूँ।

Pradeep Surin कंटेंट पर ध्यान दीजिए। इतना लंबा नहीं चल पाएगा। बाकी बधाई हो आपको। :)

डॉ. अजित हार्दिक बधाई सर।आप अपने किस्म के अनूठे और अकेले पत्रकार है

Shrikant Asthana Should I say anything? You've risen above these things! Keep it up. Live happily as free as you feel right at any given moment.

Vivek Garg आपको आज तक नहीं पढ़ा और नहीं सुना, बस विकास अग्रवाल जी आपको यहाँ विजिट किये | फेसबुक पर साइड कॉलम में फ्रेंड्स की activity दिख जाती है | हम भी आपके पेज पर आ गए| आपको अवार्ड मिला ख़ुशी हुयी लेकिन में आपको यह बधाई आपकी लेखनी को दे रहा हूँ जो आपने इतना सटीक और स्वच्छ अक्षरों में बात को इतनी सरलता से लिखा ,आप भी मेरी तरह अपनी भावनाऔ का पूरा सम्मान करते हुए पूरी बात लिखते हैं , यह नहीं सोचते की पढने वाला निबंध समझ कर सो तो नहीं जाएगा | Such a confidence is necessary to remain alive within bowl(India) of so many school of thoughts whether needed or not in present time period . आपसे बहुत कुछ सिखने को मिलेगा | आपको अपना डिजिटल गुरु मित्र कह सकता हूँ , हिंदी बचपन से जानता हूँ , कई सालो से लिख रहा हूँ लेकिन वो पैनापन नहीं आया | आपको साधुवाद

Ajay Rai यंशवत हमारे साथ आपने गरीबो के बीच काम भी किया लेकिन दुख हुआ योगी के हाथो पुरस्कार लेने पर इस समय जब छात्र नौजवान योगी जी के कारण दमन का सामना कर रहे हो सफाइ जो दे !

Devendra Verma मोदी की भांड मीडिया तो सबने देखी अब योगी की जातिवादी और चापलूस मीडिया के दिन भी बहुरने लगे,

Arvind Singh सर आपको और आपकी पूरी टीम को बहुत बहुत बधाई

Govind Badone शानदार, बेबाक।

Rajesh Rai आप ने तो पूरी गीता को आत्मसात कर लिया है ।

A.P. Soni Akash बधाई भड़ासी भाई यशवंत जी

Ram Ashrey Yadav भाई यशवंत जी लेख में आपने गज़ब की भड़ास निकाली है, बधाई!

Bhawna Vardan बधाई बधाई बधाई ....और आपकी इस पोस्ट के लिए तो क्या कहूँ .....नि:शब्द हूँ ...हमेशा की तरह

इसे भी पढ़ें-देखें...

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 100 > Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.

People in this conversation

  • Guest - Vijay Sharma

    Yashwant ji you are doingva great job. You are the real hero. No one want to write or speak against media. These people think themselves above the law, but you frankly told the world their actual image. Good, keep it up always.
    Thanks

  • Guest - Vijay Sharma

    You are doing a great job. No one want to write against media. These people think that they are above the law but you tell the world their actual image. Great job. Keep it up.

Latest Bhadas