A+ A A-

Ravish Kumar : यूपी के शिक्षामित्रों सुनिये मेरी भी बात... सुबह से यूपी के शिक्षा मित्रों ने मेरे फोन पर धावा बोल दिया है। मेरा एक तरीका है। जब अभियान चलाकर दबाव बनाने की कोशिश होती है तो मैं दो तीन महीने रूक जाता हूँ। स्टोरी नहीं करता। मैं समझता हूं आपकी पीड़ा और परेशानी। कुछ साथियों के आत्महत्या करने की ह्रदयविदारक ख़बर देखी है। विचलित भी हूँ। सोच भी रहा था कि कुछ करता हूँ।

अकेला आदमी हूं विषय को पढ़ने समझने में न्यूज की डेडलाइन जैसी पात्रता ख़त्म हो जाती है फिर भी ध्यान में था ही। बात ये है कि किस हक से फोन पर धावा बोला गया? क्या मुझे शिक्षा मित्रों ने सांसद चुना है? विधायक चुना है? जिनको चुना है उनसे क्यों नहीं पूछते पहले। मैंने तो नहीं देखा इनमें से कभी किसी को मेरे लिए बोलते हुए। बल्कि ज़्यादातर गाली ही देते होंगे या जब गालियों से मुझे धमका कर चुप कराया जा रहा था तब चुप रहते होंगे। इस तरह से आप जनता ने ही पहले इस लोकतंत्र को कमज़ोर किया। सरकार से पूछने पर जब आप मुझे कमज़ोर करेंगे तो जब आप सरकार से पूछेंगे तो आपको कोई कमजोर कैसे नहीं करेगा।

पूरा जीवन लगाकर मैं यही कहता रहा कि सरकार चुनने के बाद मतदाता बन जाइये। किसी चिरकुट का फैन मत बनिये। न पत्रकार का न नेता का। आप किसी नेता का फैन बनकर खुद का विलय सरकार और विचारधारा में करेंगे तो जनता नहीं रह जाएंगे। आपका जनता के रूप में सरकार पर प्रभाव और दबाव ख़त्म हो जाता है। जैसे ही आप सरकार के समक्ष खड़े होंगे, आपको अल्पसंख्यक बना दिया जाएगा। अल्पसंख्यक होना धर्म से मुसलमान या सिख होना नहीं है। यह प्रक्रिया है उस आवाज़ को कुचलने की, जो अपनी मांग को लेकर सरकार के सामने खड़ी होती है।

बार-बार कहा मगर आप या आप जैसे लोग नहीं माने।गाय बकरी को लेकर जनता तेज़ी से जनता होने की अपनी पहचान छोड़ कर पार्टी विचारधारा में समाहित होती चली गई। जनता अल्पसंख्यक बनती चली गई । इसी के लिए अब विचारधारा की सरकार का मॉडल चलाया जा रहा है। पार्टी और सरकार की विचारधारा एक हो गई है। इस मॉडल में जनता के पास विचारधारा से अलग होने का अवसर नहीं रहता। गुजरात में जब पटेल समाज को पुलिस ने पीटा तो बाकी जनता इसलिए चुप रही कि विचारधारा की सरकार कमज़ोर न हो जाए। पटेल के पैसे और समर्थन से भाजपा ने राज ज़रूर किया मगर वे पुलिस से इसलिए पीट गए क्योंकि वे जनता नहीं रहे। वो पीटने के बाद भी विचारधारा में ही रहेंगे। जैसे ही आप मेजारिटी की ताकत कायम करते हैं, माइनॉरिटी बन जाते हैं।

इसलिए सूरत के कपड़ा व्यापारियों का आंदोलन बड़ी संख्या के बाद भी संघर्ष का मनोरंजन बन गया और बेअसर रहा। वो विरोध की जगह भजन करने लगे। सविनय अवज्ञा की जगह अनुनय-विनय करने लगे। आप समझते हैं कि हिंदू हिंदुत्व के लिए गोलबंद हो रहे हैं लेकिन असलीयत में आप जनता होने की पहचान खो रहे हैं। जब जनता अपनी हैसियत खो देती है तो सरकार को अथॉरिटेरियन बनने की छूट मिल जाती है। सेवक सेवक बोल कर सरकार मास्टर हो जाती है। पिछले तमाम आंदोलन और आवाज़ की यही हालत हुई है। सूरत के कपड़ा व्यापारी हों या मंदसौर के किसान या यूपी के शिक्षा मित्र। सब लड़कर थक गए मगर मिला कुछ नहीं।

मेरे पास कोई सीएमओ पीएमओ नहीं है।

अकेले ही आपके फोन उठाता हूँ, रोज़ बीस पत्रों के जवाब देता हूं और इतने ही पत्र पढ़ता हूँ। गोदी मीडिया का विज्ञापन भकोस कर आपने मुझे और सवाल पूछने की पंरपरा को कमज़ोर होने दिया। जब आपकी बारी आई तो कोई मीडिया आपके लिए नहीं है। यह कैसा समाज है कि लोग मुझ पर हंस रहे हैं कि अब तुम्हारी नौकरी चली जाएगी? आप क्यों तब चुप रहते हैं?

मैं आपके मसले को समझने में लगा हूँ। मैं ही उम्मीद हूँ, कहकर मेरा भावनात्मक शोषण न करें। मुझे आपकी पीड़ा का अहसास है। जो बात कह रहा हूँ पहले समझिये। अगर आप वाक़ई एक लाख हैं तो सड़क पर आकर दिखाइये। लड़िए। हिन्दू मुस्लिम टापिक पर लड़ लड़ कर आपने समाज को पगला दिया है, उसे ठीक कीजिए। मुझे फोन करने से कुछ नहीं होगा।

आपकी उम्मीद,

रवीश कुमार

एनडीटीवी से जुड़े एंकर रवीश कुमार की एफबी वॉल से.

इसे भी पढ़ सकते हैं...

xxx

xxx

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 100 > Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000

Tagged under ravish kumar,

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.

People in this conversation

  • Guest - debashis

    यही हाल रहा तो दो पाँच साल में बिपक्ष में भी रहने के लिए RSS को एक पार्टी बनानी पड़ेगी
    अभी तीन साल में ही ये हाल हो गया है बिपक्ष का तो सोचिए अभी तो सात साल मोदी को रहना है ; इन आने वाले सात सालों में क्या होगा
    एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए मजबूत बिपक्ष बहोत जरुरी है; पर ये दायित्व सत्तापक्ष का नहीं बरन बिपक्ष का खुद है;
    पर यहाँ तो बिपक्ष रोटी रोजगार स्वास्थ्य बिजली ; सुरक्षा जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को भूलकर गाय काटना; लींचिंग ; सेना को गाली देना; देशद्रोह ; और मुस्लिम तुष्टीकरण जैसे मुद्दे में ही उलझा है
    सही कहा नीतिश कुमार ने कि बिपक्ष के पास ना तो कोई एजेंडा है और ना ही प्रोग्राम
    केवल मोदी को गाली देने से वोट नहीं मिलने वाला; जनता दिनों दिन होशियार और जागरूक होती जा रही; अब केवल जाति के नाम बरगलाकर वोट लेना आसान नहीं रह गया
    जातिगत राजनीति अब केवल यूपी और बिहार में ही बची है; यूपी से भी इसका सफाया शुरू हो गया है बहोत जल्दी बिहार से भी हो जाएगा;

    from Patna, Bihar, India

Latest Bhadas