A+ A A-

  • Published in सुख-दुख

Nitin Thakur : भड़ास एक महाप्रयोग था, Yashwant Singh का. जो सबकी खबरें लेते थे उनकी खबरें लेने-देने का मंच. पत्रकारों को कोसने के दौर में उनकी बदहाली को भड़ास ने खूब उठाया. अब तीन ही दिन पहले यशवंत के साथ दो लोगों ने इसलिए मारपीट कर दी क्योंकि उन्होंने दोनों के खिलाफ अलग-अलग मौकों पर खबर छाप दी थी. वैसे तो उन दोनों को पत्रकार कहना ही गलत है क्योंकि उन्होंने कलम छोड़ हाथ उठाया लेकिन पेशेगत पहचान की वजह से उनको पत्रकार ही कहा जाएगा.

हमलावर नंबर एक- भूपेंद्र नारायण सिंह भुप्पी

हमलावर नंबर दो- अनुराग त्रिपाठी

एक को किसी चैनल ने पहले ही इसलिए बाहर कर दिया था क्योंकि वो वसूली करने लगा था तो दूसरा अभी Newslaundry में काम कर रहा है. पत्रकारों के प्रति असहिष्णु दौर में पत्रकारों के दुख सुख का हिसाब रखनेवाले यशवंत पर यूं हमला किया जाना बताता है कि सहनशीलता चारों ओर कम हो रही है. यशवंत जो करेंगे सो करेंगे लेकिन हम सबको इस खबर का प्रसार करके संबंधित संस्थानों तक उनके कर्मचारियों के गैर कानूनी बर्ताव की जानकारी पहुंचानी चाहिए. हमले के आरोपियों के नाम तस्वीर पेश है.

फेसबुक के चर्चित युवा लेखक नितिन ठाकुर की एफबी वॉल से.

संबंधित खबरें....

xxx

xxx

xxx

Tagged under nitin thakur,

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.

People in this conversation

  • Guest - Shahnawaz

    Dear yashvant ji hum apke sath hai.ap patrakaron ki ldai avm patrkarita peshe ko pak saf bnane ka kam kar rhe hain

Latest Bhadas