A+ A A-

कैबिनेट सचिवालय, भारत सरकार द्वारा लखनऊ स्थित एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर को आरटीआई में दी गयी सूचना के अनुसार भारत सरकार के कैबिनेट मंत्री को कार्यालय के कार्यों के लिए 01 वरिष्ठ चपरासी और 04 चपरासी यानी कुल 05 लोग मिलते हैं. यह व्यवस्था 25 अक्टूबर 1975 को जारी शासनादेश के अनुसार है. इसी आदेश के अनुसार राज्य मंत्री को 01 वरिष्ठ चपरासी और 03 चपरासी अर्थात 04 लोग तथा उप मंत्री को 01 वरिष्ठ चपरासी तथा 01 चपरासी अर्थात 02 लोग कार्यालय में सहायता के लिए दिए जाते हैं.

अफसरों में सचिव से ले कर संयुक्त सचिव स्तर के अफसरों को मात्र 01 चपरासी अनुमन्य है जबकि उप सचिव तथा अनु सचिव स्तर के अफसरों को  02 अफसर पर 01 चपरासी अनुमन्य है.   इसी आरटीआई सूचना के अनुसार सचिव स्तर के अधिकारी को 03 स्टेनोग्राफर तथा 01 व्यक्तिगत सहायक, अतिरिक्त तथा संयुक्त सचिव स्तर पर 02 स्टेनोग्राफर तथा 01 व्यक्तिक सहायक एवं निदेशक स्तर पर 01 स्टेनोग्राफर दिया जाता है.

5 Peons to Cabinet Ministers

As per the RTI information provided by Cabinet secretariat, Government of India to Lucknow based activist Dr Nutan Thakur, Cabinet Ministers in Union Government are provided 01 Senior peon and 04 peon, i.e. 05 persons for office assistance. This arrangement was made through Office Memorandum passed on 25 October 1975. As per this Memorandum, State Ministers are given 01 Senior Peon and 03 peons and Deputy Ministers are given 01 Senior peon and 01 peon each.

Among the officers, right from Secretary to the Joint secretary rank officers are allowed 01 Senior peon or Peon while 01 peon is given to 02 Deputy Secretary and Under Secretary. As per the same RTI information, Secretary rank officers are provided 03 stenographer and 01 Personal assistant (PA), while Additional and Joint Secretary rank officers get 02 Stenographers and 01 PA and Director rank officers are given 01 stenographer.

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 100 > Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000

Tagged under RTI,

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found

Latest Bhadas