A+ A A-

Onkareshwar Pandey : वरिष्ठ पत्रकार शशांक शेखर त्रिपाठी का असमय चले जाना कचोट रहा है। साथियों ने खबर दी है कि वे गुरुवार को लखनऊ मे अपने घर के बाथरूम में फिसलकर गिर गए थे। अस्पताल में तीन दिनों तक मौत से जंग लड़ने के बाद आखिरकार वे उस सफर पर चल पड़े, जहाँ से कोई वापस नहीं आता। हिंदी पट्टी के प्रखर पत्रकार शेखर त्रिपाठी दैनिक जागरण के संपादक थे। वे राष्ट्रीय सहारा दिल्ली और अन्य कई अखबारों में भी रहे। मेरे अच्छे मित्र थे। बेहतरीन इंसान। मुश्किलों में दोस्तों की आगे बढ़ कर मदद करने वाले । ईश्वर उनकी आत्मा को शांति और मोक्ष प्रदान करें और उनके परिवार को यह दुख सहने की शक्ति।

Zafar Irshad : दैनिक जागरण के पूर्व संपादक शशांक शेखर त्रिपाठी जी नही रहे.यारों के यार हमेशा मुस्कुराते रहने वाले.एक बार उनके ऑफिस पहुंचा मैं उनसे मिलने शाम को..उन्होंने मेरी गाड़ी अपने ऑफिस में खड़ी करवाई और अपनी कार से लेकर निकल पड़े लखनऊ की सड़कों पर, रात भर खूब खिलाया पिलाया..2 बजे मुझे छोड़ा फिर सुबह 5 बजे मैं कानपुर वापिस गया..बहुत याद आएंगे त्रिपाठी सर जी. Love you हमेशा..

Hafeez Kidwai :  कितना आसान है RIP लिखना,कितना मुश्किल है किसी के न होने को बर्दाश्त करना।क़ाबिल और मशहूर सम्पादक शशांक शेखर त्रिपाठी टहलते घूमते चले गए।उर्दू पर उनसे वह बहस और इंक़िलाब अख़बार में मेरे न जाने की उनकी ख़ुशी, दोनों मनो मिटटी में दब चुकी है। आज जब उनके न रहने का दुःखद समाचार मिला,लगा की दूर कहीं घूमने ही तो गए होंगे,लौटेंगे तो मिलेंगे वरना जहाँ होंगे जाकर मिल लिया जाएगा। अब ज़्यादातर लोग साथ के जा ही तो रहें हैं।उम्र नही बल्कि मिजाज़ की वजह से साथ के लोग।परसों जोशी जी और आज त्रिपाठी भाई इनकी क्या क्या बातें याद करें।बस इतना ही की आज आप जहाँ हैं कल वहीं आकर मिलते हैं, वहाँ का आप बताइयेगा,यहाँ का हम बताएँगे....बेचैनी है, बेहद

Utkarsh Sinha : शेखर सर, यानी शशांक शेखर त्रिपाठी । हिंदी पत्रकारिता में सीखाने वाले कुछ चुनिंदा लोगो में से एक थे। अनुजवत स्नेह मिला आपसे । स्मृतियां हमेशा जिंदा रहेंगी सर। श्रद्धांजलि...

वरिष्ठ पत्रकार ओंकारेश्वर पांडेय, ज़फर इरशाद, हफीज किदवई और उत्कर्ष सिन्हा की एफबी वॉल से.

इन्हें भी पढ़ें...

xxx

अब PayTM के जरिए भी भड़ास की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9999330099 पर पेटीएम करें

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 100 > Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found

Latest Bhadas