A+ A A-

...व्यक्तिगत समस्याओं से जूझ रहे क्लाइंट से सवाल-जवाब करने के दौरान वह धीरे-धीरे, एक-एक कर अपने कपड़ों की परत उतारती जाती हैं...  किसी मनोचिकित्सक के पास अपने क्लाइंट से उसकी दबी भावनाओं, बातों को उगलवाने के लिए कई तरीके हो सकते हैं लेकिन न्यूयार्क की 24 वर्षीय सराह व्हाइट के पास जो है, वह शायद ही कोई और इस्तेमाल करता हो.... मनोविज्ञान की इस विशेषज्ञ ने इसके लिए नई किस्म की थेरेपी ईजाद की है जिसने इंटरनेट पर लोगों में दिलचस्पी जगाई है. व्यक्तिगत समस्याओं से जूझ रहे क्लाइंट से सवाल-जवाब करने के दौरान वह धीरे-धीरे, एक-एक कर अपने कपड़ों की परत उतारती जाती हैं.

उसका विश्वास है कि ऐसा करने से वह अपने क्लाइंट के अवचेतन में दबी परतों को आसानी से बाहर निकाल लेती हैं. सराह का कहना है 'सत्र के दौरान मैं 'उत्तेजना शक्ति' का इस्तेमाल करती हूं जिससे आप अपनी जिंदगी पर ज्यादा से ज्यादा कंट्रोल कर सकें. मैं अपनी थेरेपी में इसलिए निर्वस्त्रता का इस्तेमाल करती हूं ताकि आप खुद को और अपनी दुनिया को बेहतर ढंग से समझ सकें. ऐसे में आप 'ग्रेट' और 'पावरफुल' महसूस करते हैं. इस उत्तेजना को आप सत्र के दौरान और बाद में भी महसूस करते हैं.'

इस निर्वस्त्र थेरेपिस्ट की इस अजीबोगरीब थेरेपी का लाभ उठाने वाले कलाइंट्स में पुरुष ही ज्यादा हैं. सराह ने अंडरग्रेजुएट स्तर पर न्यूयार्क की यूनिवर्सिटी में मनोविज्ञान की पढ़ाई की और इस दौरान महसूस किया कि इसमें काफी कुछ नीरस और निरुत्साही है. इस कमी को पूरा करने के लिए वह 'ओपन सेक्सुएलिटी' की तरफ मुड़ गई. न्यूयार्क डेली को दिए इंटरव्यू में सराह ने बताया, 'महिलाओं की तुलना में पुरुष इस थेरेपी को ज्यादा पसंद करते हैं और एक या दो सेशन में अपनी मनोवैज्ञानिक समस्याओं से पूरी तरह निजात पा लेते हैं.' एक घंटे के सत्र के दौरान सराह जब बातचीत शुरू करती है, तब उसके शरीर पर पूरे कपड़े होते हैं लेकिन जैसे-जैसे सेशन आगे बढ़ता है, वह सवाल पूछते-पूछते अपने कपड़े भी उतारने शुरू कर देती हैं. आखिर में उसके शरीर पर एक भी कपड़ा नहीं होता.

सराह एक सेशन के 150 डॉलर लेती हैं और यह सत्र कंप्यूटर स्क्रीन पर वेब कैमरे तथा  टेक्स्ट चैट के जरिए 'वन वे'  (एक तरफा) संपन्न होता है. एक बार जब क्लाइंट से घनिष्ठता हो जाती है, तब यह सेशन स्काईप वीडियाो अप्वाइंटमेंट के जरिए दो तरफा होता है. उसके बाद कई मामलों में यह सजीव यानी आमने-सामने होता है. सराह ने इसके लिए बाकायदा अपनी वेबसाइट (सराहव्हाइटलाइव.कॉम) पर विज्ञापन भी दिया है जिसमें उसके कई एंगल से मॉडलिगं शॉट्स हैं. अब तक वह दर्जनों क्लाइंट की समस्याओं को सुलझा चुकी हैं जिसमें शामिल हैं कॉलेज स्टूडेंट्स और प्रौढ़ावस्था वाले पुरुष. ये सभी अपनी रिलेशनशिप की समस्याओं को सुलझाने के लिए इस थेरेपिस्ट की मदद लेते हैं.

सराह का कहना है, 'मेरा लक्ष्य अपने मरीजों को यह दिखाना होता है कि देखो, मेरे पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है, इसलिए आप भी मेरी तरह ईमानदारी से खुलकर अपनी बात कहो. फ्रायड ने मुक्त साहचर्य का इस्तेमाल  किया था, मैं निर्वस्त्रता का प्रयोग करती हूं.' फिलहाल, सराह ने इस बात को माना है कि उसकी इस 'नेकेड थेरेपी' को किसी मेंटल हेल्थ एसोसिएशन द्वारा मान्यता नहीं है और न वह लाइसेंसशुदा थेरेपिस्ट है. सराह का ब्वॉयफ्रेंड जहां उसकी इस थेरेपी का जोरदार समर्थन करता है, वहीं सराह के माता-पिता इस बात से अनभिज्ञ हैं. दूसरी तरफ प्रोफेशनल मनोचिकित्सकों को यह थेरेपी जरा भी नहीं भा रही है और उन्होंने इसे 'इंट्रैक्टिव सॉफ्ट-कोर इंटरनेट पोर्न' करार दिया है.

अब PayTM के जरिए भी भड़ास की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9999330099 पर पेटीएम करें

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 100 > Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000

Tagged under health news,

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found

Latest Bhadas