डॉक्यूमेंट्री ‘शपथ’ को मिला नेशनल अवॉर्ड

नई दिल्ली : वरिष्ठ पत्रकार और निर्देशक विनोद कापड़ी की डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘शपथ’ को नेशनल अवॉर्ड मिला है. इसमें महिलाओं के लिए देश में शौचालय की कमी का मुद्दा उठाया गया था. विगत 8 मार्च को महिला दिवस के मौके पर एबीपी न्यूज ने इस डॉक्यूमेंट्री का प्रसारण किया था. इस डॉक्यूमेंट्री फिल्म में महिलाओं …

गांधी की टेक

भारतीय समाज में पिता की मौजूदगी जितनी जरूरी होती है, शायद उनका नहीं रहना उन्हें और भी जरूरी बना देता है. ऐसे ही हैं हमारे बापू. बापू अर्थात महात्मा गांधी. आज बापू को हमसे बिछड़े बरसों-बरस गुज़र गये लेकिन जैसे जैसे समय गुजरता गया, उनकी जरूरत हमें और ज्यादा महसूस होने लगी. एक आम आदमी के लिये बापू आदर्श की प्रतिमूर्ति बने हुये हैं तो राजनीतिक दल वर्षों से उन्हें अपने अपने लाभ के लिये, अपनी अपनी तरह से उपयोग करते दिखे हैं. अब तो गांधी के नाम की टेक पर सब नाम कमा लेना चाहते हैं. मुझे स्मरण हो आता है कि कोई पांच साल पहले कोई पांचवीं कक्षा की विद्यार्थी ने सूचना के अधिकार के तहत जानना चाहा था कि महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता का दर्जा किस कानून के तहत दिया गया? बच्ची का यह सवाल चौंकाने वाला था लेकिन तब खबर नहीं थी कि उसने अपने एक बेहूदा सवाल से पूरे समाज को गांधी की एक ऐसी टेक दे दी है जिसे सहारा बनाकर नाम कमाया जा सकता है अथवा विवादों में आकर स्वयं को चर्चा में रखा जा सकता है. 

महाराष्ट्र विधानसभा में उठी पत्रकारों को पेंशन और स्वास्थ्य सहायता की मांग

मुंबई : देश के अन्य राज्यों की तरह महाराष्ट्र में भी पत्रकारों को सरकार द्वारा पेंशन दिए जाने और उनके लिए स्वास्थ्य बीमा योजना शुरू किए जाने की मांग मंगलवार को विधानसभा में उठी। बजट पर बोलते हुए बीजेपी के वरिष्ठ विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा ने सरकार से मांग की कि पत्रकार सरकार के कार्यों को जनता तक पहुंचाने का काम करते हैं, इसलिए सरकार को उनके बारे में भी नई योजनाएं शुरू करनी चाहिए।

दिनकर कुमार को रूस का अन्तरराष्ट्रीय पूश्किन सम्मान

मास्को : मानवीय सरोकारों के पैरोकार हिन्दी के जाने-माने कवि और अनुवादक दिनकर कुमार को रूस का अन्तरराष्ट्रीय पूश्किन सम्मान-2012 दिए जाने की घोषणा की गई है। रूस के ‘भारत मित्र समाज’ की ओर से प्रतिवर्ष हिन्दी के एक प्रसिद्ध कवि-लेखक को मास्को में हिन्दी-साहित्य का यह महत्वपूर्ण अन्तरराष्ट्रीय सम्मान दिया जाता है। इस क्रम में समकालीन भारतीय लेखकों में अपना विशिष्ट स्थान रखने वाले और कविता के प्रति विशेष रूप से समर्पित दिनकर कुमार को जल्द ही यह सम्मान मास्को में आयोजित होने वाले गरिमापूर्ण कार्यक्रम में दिया जाएगा।

‘राजस्थान खोज खबर’ में एक और पत्रकार की नौकरी गई

बाड़मेर : पत्रकारों से काम करवाकर उन्हें सैलेरी न देना और जलील कर नौकरी से हटा देना राजस्थान खोज खबर की पुरानी आदत है। एक और पत्रकार को इसी तरह सेवामुक्त कर दिया गया है। इस बार पत्रकार तरुण मुखी पर राजस्थान खोज खबर की बिना किसी पूर्व सूचना के गाज गिरी है। पीड़ित पत्रकारों …

तारकेश कुमार ओझा को श्रीमती लीलावती स्मृति सम्मान​

मथुरा : पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ हिंदी पत्रकार तारकेश कुमार ओझा को मथुरा से प्रकाशित हिंदी साप्ताहिक विषबाण ने श्रीमती लीलावती स्मृति सम्मान से सम्मानित किया है। यह सम्मान समारोह विगत 28 फरवरी को मथुरा में आयोजित किया गया था। यद्यपि इस अवसर पर ओझा उपस्थित नहीं हो सके लेकिन संस्थान की ओर से उन्हें …

नेशनल हेराल्ड अखबार मामले पर अब सुनवाई अप्रैल में, सोनिया ने समन अवैध करार दिया

नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मंगलवार को दिल्ली उच्च न्यायालय में कहा कि नेशनल हेराल्ड मामले में उनके, राहुल गांधी और पांच अन्य लोगों के खिलाफ जारी समन अवैध थे और उन्होंने दावा किया कि अधिग्रहण प्रक्रिया में किसी के साथ धोखा नहीं किया गया।

अभिव्यक्ति की आजादी के लिए उठ खड़ी हुईं ये हैं दिल्ली की छात्रा श्रेया सिंघल

दिल्ली : कौन हैं श्रेया सिंघल? दिल्ली यूनिवर्सिटी में क़ानून की पढ़ाई कर रही हैं। उन्होंने वर्ष 2012 में सूचना प्रौद्योगिकी क़ानून के सैक्शन 66ए के ख़िलाफ़ याचिका दायर की थी। उन्हीं की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को अभिव्यक्ति की आजादी पर मंडरा रहे खतरे से सोशल मीडिया को बचाया है।

अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार के अंतिम 10 में अमिताभ घोष

लंदन : इस साल के मैन बुकर अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार के लिए अंतिम 10 लेखकों में अमिताभ घोष का नाम शामिल है। इसमें वह एकमात्र भारतीय लेखक हैं। अंग्रेजी भाषा के लेखन में योगदान के लिए उनको इसमें शामिल किया गया है।

अरुंधती रॉय की प्रशंसक भारतीय मूल की लेखिका पर साउथ अफ्रीका में हमला

साउथ अफ्रीका में अरुंधती रॉय और सलमान रश्दी की प्रशंसक एक भारतीय मूल की महिला साहित्यकार जैनब प्रिया डाला पर हमला कर दिया गया। हमले की वजह एक कार्यक्रम में सलमान रश्दी की प्रशंसा कर देना बताया जा रहा है। अपनी किताब ‘व्हॉट अबाउट मीरा’ लॉन्च करने जाते समय होटल से उनका पीछा कर रहे हमलावरों ने रास्ते में उनको भद्दी गालियां देते बुरी तरह पीटा.

मजीठिया के कारण सैलरी रोककर तीन माह से टरका रहा इंडिया न्यूज

अंबाला : ‘इंडिया न्यूज’ में कार्यरत हरेंद्र सिंह को पिछले 25 दिसंबर 2014 से आज तक अपनी सैलरी का एक धेला नहीं मिला है। उन्होंने बताया कि प्रबंधन का दायित्व संभाल रहे कोई राबीन सर उनसे कहते हैं- ‘आदेश कर दिया गया है, जाकर ऑफिस से सैलरी ले लो’ और ऑफिस में एचआर वाले एकाउंट वालों से बात करने के लिए कहते हैं। अब कैसे अपनी सैलरी प्राप्त करें।

कूपनदुनिया.इन और रफ़्तार.इन ने मिलकर लांच किए हिंदी में कूपन

मुंबई : भारत की अग्रणी कूपन वेबसाइट कूपनदुनिया.इन ने देश के हिंदी इंफोटेनमेंट पोर्टल रफ़्तार.इन के साथ मिलकर एक अनोखी पहल करते हुए हिंदी भाषा में ऑनलाइन कूपन लॉन्च किये हैं। रफ़्तार.इन के यूजर्स “होमपेज” पर “कूपन टैब” के माध्यम से ऑनलाइन शॉपिंग की डील्स, कूपन और ऑफर्स का लाभ ले सकते हैं। रफ़्तार पर उपलब्ध कराये जा रहे कूपन से यूजर्स मोबाइल रिचार्ज, सौंदर्य, फैशन, खेल, ट्रैवल आदि कई प्रकार के ऑफर्स अपनी जरूरत के हिसाब से चुन सकते हैं। कूपन का चुनाव करने के बाद यूजर्स ई-कॉमर्स साइट्स पर जा पाएँगे और दिए गए कोड के जरिये कम कीमत पर खरीदारी कर सकेंगे।

उधार खाए पत्रकार का आखिरी जवाब – ‘जो नंबर आपने डायल किया है, वह गलत है’ !

यह दुखद आपबीती है एक ऐसे शख्स की, जिसका कम्प्यूटर ऑपरेटर की नौकरी करते समय किसी सौरभ कुमार नाम के लंपट पत्रकार से पाला पड़ गया। जब कम्प्यूटर ऑपरेटर बसंत गांगले ने कुछ वर्ष पहले मोबाइल रिचार्ज करने की दुकान खोल ली तो सौरभ वहां से अपने और अपनी बहन के मोबाइल रिचार्ज कराने लगा। रिचार्जिंग की उधारी का यह सिलसिला वर्षों चलता रहा और अंततः गांगले की दुकान बंद हो गई। आखिरी बार उधारी मांगते समय गांगले के फोन पर सौरभ के मोबाइल से जवाब मिला – ‘जो नंबर आपने डायल किया है, वह गलत है।’ लंपट पत्रकार से पीड़ित बसंत गांगले ने अपनी दुखद आपबीती इन शब्दों में भड़ास4मीडिया को प्रकाशनार्थ प्रेषित की है…..  

दिल्ली से हिंदी की मासिक पत्रिका ‘द्वंद्व’ का प्रथम संस्करण लांच

दिल्ली : यहां से विगत पंद्रह मार्च को लांच हुई हिंदी की सुपठनीय मासिक पत्रिका ‘द्वंद्व’ का प्रथम संस्करण बाजार में आ चुका है। पत्रिका की सीएमडी हैं सुजाता सिंह और दस वर्षों तक न्यूज चैनल में काम कर चुके दिनेश कुमार इसके संपादक हैं। 

हिंदी की मासिक पत्रिका ‘द्वंद्व’ के प्रथम संस्करण का मुखपृष्ठ

मजीठिया आंदोलन : केस के बाद सेवामुक्ति पर मिलता है स्टे

मजीठिया वेज बोर्ड की लड़ाई लड़ रहे पत्रकारों के साथ दुर्व्यवहार और नौकरी से निकालने की खबरें बेचैन कर देने वाली हैं। प्रेस मालिकों की ये गुस्ताखी कि पहले तो मजीठिया वेतनमान न दें और जो अपने हक के लिए लड़े, उसे परेशान करें।

रंग ला रही मेगा क्राइम शो WANTED की मुहिम, दबोचा गया कुख्यात जुगला

लखनऊ : सूबे में बढ़ रहे क्राइम के खिलाफ ‘समचार प्लस’ (samacharplus.com) की मुहिम और मेगा क्राइम शो WANTED के खाते में एक और कामयाबी दर्ज हो गई है. WANTED में शिकंजा कसने के बाद खूंखार अपराधी जुगेंद्र उर्फ जुगला को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया है. जुगला की गिरफ्तारी नोएडा में हुई. जुगला पर 302 के तीन और 307 के सात मामले दर्ज हैं. 

गैंगरेप के आरोपी पत्रकार की जमानत मंजूर

मुंबई : मुबंई हाईकोर्ट ने धारावी क्षेत्र में चलती कार में एक महिला से गैंग रेप के मामले में गिरफ्तार एक पत्रकार की जमानत मंजूर कर ली। न्यायमूर्ति रेवती धेरे ने आदेश दिया है कि आरोपी एम. अंसारी को 15 हजार रूपये के मुचलके पर रिहा किया जाए. अदालत ने आरोपी को इस मामले में …

‘मीडिया विमर्श’ के गुजराती पत्रकारिता विशेषांक का विमोचन

रायपुर : भारतीय नववर्ष के उपलक्ष्य में छत्तीसगढ़ प्रदेश के कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने अपने निवास पर जनसंचार के सरोकारों पर केन्द्रित पत्रिका “मीडिया विमर्श” के गुजराती पत्रकारिता विशेषांक का विमोचन किया। इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैयर, पत्रिका के प्रबंध सम्पादक प्रभात मिश्र, संपादक मंडल की सदस्य डॉ सुभद्रा राठौर, वरिष्ठ पत्रकार अनिल द्विवेदी सहित युवा पत्रकार हेमंत पाणिग्राही, बिकास कुमार शर्मा, मनीष शर्मा एवं रोहित साहू उपस्थित थे।

मदन मोहन जोशी और श्यामलाल यादव को गणेश शंकर विद्यार्थी सम्मान

भोपाल : माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय द्वारा वर्ष 2012-13 के लिए दिये जाने वाले प्रतिष्ठित गणेश शंकर विद्यार्थी सम्मान की घोषणा कर दी गई है.  वर्ष 2012 के लिए यह सम्मान देश के जाने-माने पत्रकार मदन मोहन जोशी को एवं  वर्ष 2013 के लिए यह पुरस्कार प्रख्यात पत्रकार श्यामलाल यादव को प्रदान किया जायेगा। सम्मान समारोह का आयोजन 7 अप्रैल 2015 को भोपाल में किया जाएगा।

लेबर कमिश्नर की सुनवाई में भास्कर प्रबंधन फिर गैरहाजिर

जयपुर : लेबर कमिश्नर के यहां 24 मार्च को सुनवाई के दौरान भास्कर प्रबंधन की ओर से लीगल ऑफिसर सुमित व्यास ही पेश हुए। उन्होंने लेबर कमिश्नर से जवाब के लिए अप्रैल तक का समय मांगा। इस पर लेबर कमिश्नर ने मामले की गंभीरता को देख़ते हुये अधिक समय देने से इनकार कर दिया।

छह माह से सैलरी न मिलने पर सहारा के डिप्टी मैनेजर ने टॉवर से कूदकर जान दी

लखनऊ : राजधानी के कपूरथला स्थित सहारा टॉवर से सहाराकर्मी ने कूदकर आत्महत्या कर ली। मृतक का नाम प्रदीप मंडल है। वह सहारा में डिप्टी मैनेजर की पोस्ट पर थे। वह सहारा इंडिया भवन में क्रेडिट सहकारी सोसाइटी की शाखा में कार्यरत थे। उन्हें पिछले छह माह से सैलरी नहीं मिली थी और कर्ज से लदे हुए थे। घर में भारी आर्थिक संकट के कारण वह गहरे तनाव में थे।

दिल्ली में शोरूम के चेंजिंग रूम में लड़कियों के वीडियो बनाने वाला मैनेजर गिरफ्तार

नई दिल्ली : यहां लाजपत नगर में पुलिस ने एक शोरूम मैनेजर को गिरफ्तार किया है। उसने अपने शोरूम के चेंजिंग रूम में कैमरा लगा रखा था और वह महिलाओं के वीडियो बनाता था।

खुफिया सेवा कर्मियों ने भारतीय मूल के अमेरिकी पत्रकार की बचाई जान

अमेरिकी खुफिया सेवा के कर्मचारियों ने त्वरित कार्रवाई करते हुये व्हाइट हाउस में भारतीय मूल के एक अमेरिकी पत्रकार की जान बचा ली। पत्रकार को दिल का दौरा पड़ा था। व्हाइट हाउस में ‘व्हाइट हाउस साइंस फेयर’ कार्यक्रम को कवर करने गये सिख पत्रकार मंकू सिंह राष्ट्रपति बराक ओबामा के भाषण से ठीक पहले ईस्ट …

फेसबुक पर पोस्ट इसी कार्टून पर गिरफ्तार हुए थे असीम त्रिवेदी

अन्ना आंदोलन से जुड़े असीम त्रिवेदी को फेसबुक पर यूपीए सरकार के घोटालों को लेकर एक कार्टून पोस्ट करने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया था। ‘भ्रष्टमेव जयते’ शीर्षक वाले इस कार्टून में संसद और राष्ट्रीय प्रतीक का मजाक उड़ाया गया था। असीम के खिलाफ पुलिस ने देशद्रोह का मामला भी दर्ज किया था। इस धारा के तहत गिरफ्तारी पर सबसे पहले विवाद 2012 में हुआ था, जब महाराष्ट्र के पालघर की रहने वाली शाहीन नाम की एक फेसबुक यूजर्स ने बाला साहेब ठाकरे की अंतिम यात्रा पर कमेंट किया था और उसे उसकी सहेली रीनू ने इसे लाइक किया था। दोनों को इस मामले में गिरफ्तार कर लिया गया था। बाद में दोनों को जमानत मिल गई।

असीम त्रिवेदी का विवादित कार्टून

तिब्बत को राजनैतिक सपोर्ट की जरूरत : जिग्मे

भोपाल : तिब्बत से चीन के कब्जे के हटाने को लेकर 136 तिब्बती आत्मदाह कर चुके हैं और इसी विस्तारवादी चीन ने तिब्बत के बाद भारत में भी समस्याएं पैदा करना शुरू कर दिया है। आग अभी आपके घर से दूर है, लेकिन सतर्क नहीं हुए तो यह आग आपके घर तक भी पहुंच जाएगी। इसलिए भारत की तरफ से तिब्बतियों को राजनैतिक सपोर्ट की जरूरत है। चीन के प्रति भारतीय नागरिकों को आगाह करते हुए उक्त उद्गार भारत-तिब्बत समन्वय कार्यालय के संयोजक जिग्मे त्युल्ट्रीम ने भोपाल में भारत-तिब्बत सहयोग मंच के बैनर तले आयोजित संगोष्ठी में व्यक्त किए।

बलात्कार मामले की फाइलें मिलने पर ही विकीलीक्स संस्थापक असांज पूछताछ को सहमत होंगे

जिनेवा : विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज के वकील ने कहा है कि उनका मुवक्किल लंदन में स्वीडन के अभियाजकों की पूछताछ के लिए सहमत होगा, लेकिन ऐसा उन्हें बलात्कार के मामले की जांच से संबंधित फाइलें मुहैया कराने के बाद ही हो पाएगा।

अधिकारियों के पीछे हटने से ‘खबरें अभी तक’ चैनल की हड़ताल टूटी

आखिरकार, “खबरें अभी तक”चैनल का वही हुआ, जिसका अंदेशा था। दो दिनो तक हड़ताल में शामिल होने के बाद चैनल के अधिकारियों ने दांव खेल दिया। प्रबंधन से कथित सांठ-गांठ कर आउटपुट हेड नितेश सिन्हा, इनपुट हेड मनीष मासूम, आउटपुट डिप्टी हेड पंकज कुमार आदि हड़ताल से पीठ दिखा गए। इससे पूर्व एडिर-इन-चीफ उमेश जोशी प्रबंधन से हिसाब-किताब निपटाकर संस्थान से अलग हो चुके हैं। मजबूरी वश अब बाकी आंदोलनकारियों ने भी समझौते का मूड बना लिया है।

भोपाल में पत्रकार मनोज वर्मा पर चार बाइकर्स ने किया जानलेवा हमला

भोपाल : एक स्थानीय अखबार में काम खत्म कर घर लौट रहे राजधानी के वरिष्ठ पत्रकार मनोज वर्मा पर चार बाइक सवारों ने सुभाष फाटक के पास डंडों से जानलेवा हमला कर दिया। उनके सिर में गंभीर चोटें आई हैं और दोनो हाथ टूट गए हैं। पुलिस मामला दर्ज कर घटना की छानबीन कर रही है।

हमले में घायल पत्रकार मनोज वर्मा

आठ साल बाद एमपी सरकार पत्रकार पवन विद्रोही हत्याकांड पर गंभीर, फैसले की उम्मीद जागी

भोपाल : आठ साल बाद पत्रकार पवन विद्रोही हत्याकांड के अभियुक्तों को सजा दिलाने के लिए प्रदेश की भाजपा सरकार ने एनआईए के अभियोजन अधिकारी सुभाष भट्टाचार्य को विशेष अभियोजन अधिकारी नियुक्त किया है। गौरतलब है कि पवन और उनके वाहन चालक की 31 जुलाई 2007 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

शहीद दिवस के बहाने ‘भगत, गांधी, अंबेडकर और जिन्ना’ पर सुमंत भट्टाचार्य ने छेड़ी गंभीर बहस

‘एक भी दलित चिंतक ने भगत की शहादत को याद नहीं किया’, अपने इन शब्दों के साथ शहीद दिवस के बहाने संक्षिप्ततः अपनी बात रखकर वरिष्ठ पत्रकार सुमंत भट्टाचार्य ने फेसबुक पर ‘भगत, गांधी, अंबेडकर और जिन्ना’ संदर्भित एक गंभीर बहस को मुखर कर दिया। भगत सिंह की शहादत को याद न करने के उल्लेख के साथ उन्होंने लिखा- ”गोडसे को तब भी माफ किया जा सकता है..क्योंकि गांधी संभवतः अपनी पारी खेल चुके थे। पर गांधी को इस बिंदु पर माफ करना भारत के साथ अन्याय होगा। भगत सिंह पर उनकी चुप्पी ने नियति का काम आसान कर दिया, ताकि नियति भारत के भावी नायक को भारत से छीन ले। यहीं आकर मैं गांधी के प्रति दुराग्रह से भर उठता हूं। पर जिन्नाह और अंबेडकर तो हिंसावादी थे..एक मुंबई में गोलबंद होकर मारपीट करते थे, दूसरे डायरेक्ट एक्शन के प्रवर्तक। इनकी चुप्पी पर भी सवाल उठने चाहिए। शाम तक इंतजार के बाद अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है, एक भी दलित चिंतक ने भगत की शहादत को याद नहीं किया…..क्यों..?”

बड़ा फैसला : सोशल मीडिया पोस्‍ट पर अब तुरंत जेल नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने धारा 66ए को खत्म किया

 नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने आईटी एक्ट की धारा 66ए को खत्म कर दिया है। अब सोशल मीडिया पर कुछ भी लिख देने पर तुरंत गिरफ्तारी नहीं होगी। सुप्रीम कोर्ट ने आईटी ऐक्ट के प्रावधानों में से एक 66 ए को निरस्त कर दिया। यह धारा वेब पर अपमानजनक सामग्री डालने पर पुलिस को किसी व्यक्ति को गिरफ्तार करने की शक्ति देती थी। जस्टिस जे चेलमेश्वर और जस्टिस आर एफ नरीमन की बेंच ने अपने फैसले में कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 66 ए से लोगों की जानकारी और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार साफ तौर पर प्रभावित होता है। कोर्ट ने प्रावधान को अस्पष्ट बताते हुए कहा, ‘किसी एक व्यक्ति के लिए जो बात अपमानजनक हो सकती है, वह दूसरे के लिए नहीं भी हो सकती है।’ सर्वोच्च अदालत ने केंद्र के उस आश्वासन पर विचार करने से इनकार कर दिया, जिसमें कहा गया था कि कानून का दुरुपयोग नहीं होगा। बेंच ने कहा कि सरकारें आती हैं और जाती रहती हैं, लेकिन धारा 66 ए हमेशा के लिए बनी रहेगी।

मीडिया और सरकार दोनो कॉरपोरेट के कब्जे में, अभिव्यक्ति की आजादी पर खतरा

गोरखपुर : 10वें गोरखपुर फिल्म फेस्टिवल में प्रसिद्ध लेखिका अरुंधति राय ने देश में अभिव्यक्ति की आजादी पर खतरों की ओर इशारा करते हुए सरकारी सेंसरशिप को जनविरोधी करार दिया। उन्होंने महात्मा गांधी संबंधी अपने बयान के समर्थन में डॉ.अंबेडकर की किताब के कुछ अंश पढ़े। उन्होंने कहा कि गांधी हिंदुस्तान के पहले कॉरपोरेट एनजीओ थे। 

धारा 66-ए : सोशल मीडिया की आजादी पर आज फैसला सुनाएगा सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली : सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक कमेंट करने के मामले में लगाई जाने वाली आईटी एक्ट की धारा 66-ए का भविष्य (आज) मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट तय करेगा। सोशल मीडिया पर अभिव्यक्ति की आजादी से जुड़े इस विवादास्‍पद कानून के दुरुपयोग की शिकायतों के बाद इस कानून के खिलाफ याचिका दायर की गई थी।

अब तो सारे संचार माध्यम बड़बड़िया बकैतों के कब्जे में

अब लगता है, सारे संचार माध्यम पूरी तरह से बकैतों के कब्जे में आ गए हैं। टीवी का कोई भी चैनल खोल लीजिये, वहां कोई न कोई आपको ज्ञान देता मिल जाएगा। ज्ञान मतलब, आध्यात्मिक से लगायत सांस्कृतिक और विज्ञान से लेकर खेल,राजनीति, खेती किसानी, यहां तक की खाना बनाने और कपड़े पहनने तक का।

भगत सिंह के विचारों को जन-जन की आवाज बनाने का संकल्‍प

लखनऊ : आज जब देश में कारपोरेट लूट और समाज को बाँटने वाली शक्तियों का बोलबाला है तो ऐसे में भगतसिंह के विचार आज पहले से कहीं ज़्यादा प्रासंगिक हो गये हैं और उन्‍हें जन-जन तक ले जाने की ज़रूरत है। पूँजीवादी विकास ने भगतसिंह की चेतावनी को सही साबित किया है कि गोरे अंग्रेज़ों की जगह काले अंग्रेज़ों के आ जाने से देश के मेहनतकशों की ज़िन्‍दगी में कोई बदलाव नहीं आयेगा।

ऋण अदा न करने पर नागार्जुन के अन्नपूर्णा स्टूडियोज़ पर बैंकों का कब्जा

मुंबई : तेलुगू अभिनेता नागार्जुन और उनके परिवार के स्वामित्व वाले अन्नपूर्णा स्टूडियोज़ को सार्वजनिक क्षेत्र की दो बैंकों ने अपने कब्ज़े में ले लिया है। स्टार इंडिया, प्रसारण कंपनी मा टीवी के अधिग्रहण के लिए सहमत हो गया है। 

बिजनेस टेलिविजन इंटरनेशनल की संपत्ति कुर्क करने का आदेश

दिल्ली : एडीशनल डिस्ट्रिक्ट जज जी. के. गौर ने बिजनेस टेलिविजन इंटरनेशनल लिमिटेड की दक्षिण दिल्ली के उदय पार्क स्थित संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया है।  कंपनी सन 2000 में बंद हो गई थी। बाद में उसने कर्मचारियों को वेतन देने के आदेश का ठुकरा दिया था।

सुनंदा पुष्कर मर्डर केस में दिल्ली पुलिस के हाथ लगे महत्वपूर्ण कॉल रिकॉर्ड

नई दिल्ली : सुनंदा पुष्कर हत्याकांड की छानबीन के दौरान पुलिस को 100 घंटों के फोन रिकॉर्ड के रूप में एक अहम जानकारी हाथ लगी है। कॉल रिकॉर्ड को जांच के लिए भेजा गया है। आशंका है कि फोन से कुछ महत्वपूर्ण एसएमएस डिलिट किए जा चुके हैं। जांच में सब पता चल जाएगा। 

इंटरव्यू छापने का झांसा देकर जी न्यूज के रिपोर्टर ने झटक लिए ढाई हजार रुपए

नैनीताल (उत्तराखंड) : फिंगर पेंटर योगेश सिंह अधिकारी अधिकारी को उनका इंटरव्यू प्रकाशित कराने का झांसा देकर कथित जी न्यूज संवाददाता राजू पांडे ने ढाई हजार रुपए ले लिए। न इंटरव्यू छपा, न उसके रुपए वापस किए जा रहे हैं। योगेश अधिकारी बड़ा बाजार, 197/4, थाना मल्लीताल, नैनीताल के रहने वाले हैं।

यादव सिंह केस : यूपी सरकार ने स्वीकारी सीबीआई जांच की चिट्ठी

लखनऊ : यादव सिंह मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर द्वारा दायर पीआईएल में उत्तर प्रदेश सरकार ने वित्त मंत्रालय, भारत सरकार के मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश को भेजे पत्र दिनांक 24 फ़रवरी 2015 की प्राप्ति मंजूर कर ली है, जिसमें भारत सरकार ने उत्तर प्रदेश सरकार से काले धन पर बने एसआईटी के आदेशों पर यादव सिंह मामले के सभी अभिलेख सीबीआई को देने के निर्देश दिए हैं.

एस्सार-मीडिया सांठ-गांठ मामले पर केंद्र और सीबीआई को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

नई दिल्ली: एस्सार कंपनी के ई-मेल लीक मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार, सीबीआई और एस्सार को नोटिस जारी करते हुए छह हफ़्ते में जवाब मांगा है। एस्सार मामले में दायर जनहित याचिका के खुलासे ने कई दिग्गज पत्रकारों को इस्तीफा देने पर मजबूर कर दिया था। एस्सार की सुविधाएं भोगने को लेकर कई वरिष्ठ पत्रकार संदेह के घेरे में आ गए थे।

असीमित दीवानी क्षेत्राधिकार के लिए शुरू हुआ अनोखा सत्याग्रह

दिल्ली : पिछले दिनो से दिल्ली जिला अदालतों में दीवानी मामलों के क्षेत्राधिकार को लेकर हड़ताल चल रही है। दूसरी ओर, कॉमर्शियल डिवीजन एंड कॉमर्शियल अपीलेट डिविजन ऑफ हाई कोर्ट्स एंड कॉमर्शियल कोर्ट्स बिल, 2015 को लागू करने पर अड़ी है। सरकार के इस रवैये के खिलाफ कड़कड़डूमा कोर्ट में एक अनोखे सत्याग्रह की शुरुआत की गई है। इस सत्याग्रह को नाम दिया गया है- ‘गेट वेल सून मिस्टर पीएम’ (GET WELL SOON Mr. PM)।

हुजूर! उन बयालीस लोगों के कातिल कौन?

 

वर्ष 1987 में मेरठ दंगे के दौरान हुए बहुचर्चित हाशिमपुरा कांड में 42 लोगों की मौत पर दिल्ली की तीस हजारी अदालत ने सबसे पुराने पेंडिंग केस में फैसला देकर सभी 16 आरोपियों को बरी कर दिया। 3 आरोपियों की मौत फैसले से पहले ही हो गई। फैसला हैरानी व नाखुशी दे रहा है।

राष्ट्रीय सहारा से दो ने नाता तोड़ा

देहरादून : दैनिक समाचारपत्र ‘राष्ट्रीय सहारा’ छोड़ कर जाने वालो का सिलसिला कब थमेगा, ये तो उसका प्रबन्धन भी नहीं जानता है । बहरहाल, ताजा मामला देहरादून से छपने वाले राष्ट्रीय सहारा का है । आठ साल हो गया अखबार को शुरू हुए । इन आठ वर्षों में जितने लोग इससे जुड़े नहीं, दोगुने से ज्यादा लोगों ने इसको अलविदा कह दिया है । वैसे भी अच्छे लोग यहां टिके नहीं क्योकि इन्हें टिकाऊ लोग मसलन कमलेश्वर, नामवर सिंह नहीं, रणविजय और मनोज तोमर चाहिए ।

चर्च के साम्राज्यवाद का खुलासा करती किताब – ‘ऊँटेश्वरी माता का महंत’

मदर टैरेसा पर उठा विवाद अभी थमा भी नहीं है कि एक ईसाई संगठन से जुड़े कैथोलिक विश्वासी पी.बी.लोमियो की हाल ही में आई पुस्तक ‘ऊँटेश्वरी माता का महंत’ ने ईसाई समाज के अंदर चर्च की कार्यशैली पर कई गंभीर सवाल उठा दिये हैं। यह पुस्तक एक यीशु समाजी (सोसाइटी ऑफ जीजस) कैथोलिक पादरी (फादर एंथोनी फर्नांडेज), जिन्होंने अपने जीवन के 38 वर्ष कैथोलिक चर्च की भेड़शालाओं का विस्तार करने में लगा दिए, चर्च की धर्मांतरण संबधी नीतियों का परत दर परत खुलासा करती है और साथ ही चर्च नेतृत्व का फरमान न मानने वाले पादरियों और ननों की दुर्दशा को बड़ी ही बेबाकी से उजागर करती है।

रीता जोशी केस में गिरफ्तार निर्दोष लड़ेंगे न्याय की लड़ाई

लखनऊ : रीता बहुगुणा जोशी के घर आगजनी मामले में फर्जी फंसा कर गिरफ्तार किये गए पूर्णतया निर्दोष लोग अब अपनी न्याय की लड़ाई के लिए पूरी तरह तैयार हैं. उन्होंने यह निर्णय आज आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर और सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर द्वारा उनके नीलमथा, कैंट स्थित आवास पर जा कर मुलाकात करने के बाद किया.

मजीठिया मांगने वाले पत्रकारों को ‘हिंदुस्तान’ सबक सिखाने लगा, दो को बाहर का रास्ता दिखाया

नई दिल्ली : दैनिक हिंदुस्तान अब मजीठिया वेजबोर्ड की सिफारिशें लागू करने की मांग करने वाले पत्रकारों को सबक सिखाने पर उतर आया है। सूत्रों से पता चला है कि दो मीडिया कर्मियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। चार और को निकालने की तैयारी है। इस अंदर ही अंदर पत्रकारों में गुस्सा उबल रहा है।

पत्रकारों का चुनाव और ‘कत्ल की रात’ !

आपने अखबारों में अक्सर पढ़ा होगा, फलां चुनाव में बंटने के लिए आई दारू पकड़ी गई… मतदाताओं को रिझाने के लिए उम्मीदवारों ने दारू बांटा… कंबल बांटा…साड़ी, बिछिया और न जाने क्या क्या बांटे..। हर खबर के बाद चिंतन करने का मन भी किया होगा कि क्या हो गया है, लोकतंत्र का? मतदान के एक दिन पहले यह सारा खेल होता है…. इस एक रात को ‘कत्ल की रात’ कहा जाता है!

भारत के कथित स्‍वतंत्र मीडिया के लिए दो शब्‍द

माफ करेंगे । लोकशाही ,जनसत्‍ता और जनसरोकारों के कथित पहरुवे चौथा खंभा शायद अब लोकतंत्र को बचाने के लिए जरूरी अपने को पांचवां खंभा भी घोषित करने वाले मीडिया और मीडिया वाले राज्‍य सभा टीवी में मजठिया वेतन बोर्ड की सिफारिशों और माननीय सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर बहस चलाने के बाद आप भी जागोगे कि अभी भी मालिकों के डंडे से डरते ही रहोगे। 

मजीठिया मुद्दे पर भड़ास की लड़ाई जारी : जागरण, पत्रिका समेत कई मामलों पर 27 को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

मजीठिया वेतनमान न देने और सुप्रीमकोर्ट की अवमानना करने के कुछ और मामले 27 मार्च को अदालत में आने वाले हैं। इन मामलों में दो मामले आरसी अग्रवाल और एक मामला महेंद्र मोहन गुप्‍ता के खिलाफ है। मजीठिया वेज बोर्ड को लेकर दायर सभी नई याचिकाओं, जिनमें भड़ास की तरफ से दायर याचिकाएं भी शामिल हैं, को एक जगह करके सुप्रीम कोर्ट में इनकी सुनवाई के लिए 27 मार्च तारीख तय किया जा चुका है.

संजय गुप्‍ता प्रकरण : क्या मीडिया मालिकों का चुनावी कदाचार अपराध नहीं?

राजनैतिक पार्टियाें और अधिकारियों के खिलाफ कानून का डंडा फटकारने वाला चुनाव आयोग जब मीडिया के खिलाफ कार्रवाई करने का समय आता है तो बंगले झांकने लगता है। पेड न्‍यूज के मामले में तो गजब तर्क का सहारा ले रहा है।

फेसबुक पर हुआ मनचलों को सबक सिखाने का इंतजाम

तिरुअनंतपुरम : फेसबुक पर महिलाओं को अभद्र ट्रॉल और आपत्तिजनक प्राइवेट मेसेज भेजने वाले अब सावधान हो जाएं। इस तरह का कारनामा आप पर उल्टा पड़ सकता है। केरल का एक फेसबुक पेज ‘सेक्सुअली फ्रस्ट्रेटेड मल्लू’ या SFM अभद्रता का शिकार हुई महिलाओं को एक मौका दे रहा है, ऐसे लोगों को लाइन पर लाने का। 

डिजिटल मीडिया की चुनौती महज ख़याली नहीं

पिछले एक दशक से पारंपरिक मीडिया को एक नए मीडिया से चुनौती मिल रही है जिसका डिलीवरी मैकेनिज़्म अलग है। जो इंटरनेट के जरिए पाठक और दर्शक तक पहुँचता है और प्रिंट तथा टेलीविजन से ज्यादा सक्षम है, खास तौर पर अपनी इंटरएक्टिविटी की वजह से। यह है नया मीडिया या डिजिटल मीडिया।

अरविन्द ‘आप’ को क्या हो गया ? – अब राकेश पारिख के निशाने पर केजरीवाल

AC कमरों और गाडियों का आराम छोड़कर जंतर मंतर पर बिना गद्दे और तकिये के बिताये वो दिन सचमुच यादगार है. ये वो दिन थे जब नींद 16 घंटे के बजाय 70 घंटे काम करने के बाद आती.

हाशिमपुरा : बेगुनाह कौन है इस शहर में कातिल के सिवा

निकल गली से तब हत्यारा, आया उसने नाम पुकारा, हाथ तौल कर चाकू मारा, छूटा लोहू का फव्वारा, कहा नहीं था उसने आखिर उसकी हत्या होगी? ( रघुवीर सहाय)। क्या दिव्य संयोग है कि जब कई हाई प्रोफाइल केसों में सरकार की पैरवी कर चुके वकील उज्ज्वल निकम खुलासा कर रहे थे कि सरकार ने अजमल आमिर कस्साब को कभी बिरयानी नहीं खिलाई, बल्कि उसके पक्ष में बन रहे माहौल को रोकने के लिए उन्होंने (निकम) ने यह कहानी फैलाई थी, ठीक उसके बाद मेरठ के हाशिमपुरा जनसंहार के 16 आरोपियों को दिल्‍ली की तीस हजारी कोर्ट ने बरी कर दिया। अदालत ने कहा कि इस मामले में आरोपियों के खिलाफ कोई भी सबूत पेश नहीं किए जा सके।

‘अब भारत में ब्राह्मणों और बनियों के मीडिया की भूमिका तय होनी चाहिए’

गोरखपुर : फिल्म फेस्टिवल में भारतीय मीडिया पर उठे सवालों ने पहली बार इतनी गंभीरता से लोगों का ध्यान आकृष्ट किया है। पहले दिन अरुंधति रॉय ने भारतीय मीडिया को ब्राह्मणों और बनियों का मीडिया कहा तो दूसरे दिन सेंसरशिप और मीडिया पर गंभीर बहस में कई नामचीन फिल्मकारों, पत्रकारों  का कहना था कि आधुनिक मीडिया हमसे बहुत कुछ छिपा रहा है। इसमें सरकारें भी शामिल हैं। सच कहने से रोका जा रहा है। सजा दी जा रही है। दूसरे देशों की तरह भारतीय मीडिया की भूमिका तय होनी चाहिए। 

गोरखपुर फिल्म फेस्टिवल में अरुंधति राय और तरुण भारती

पत्रकार ने लिखी सीएम शिवराज सिंह चौहान पर किताब

भोपाल : पत्रकार कृष्णमोहन झा ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर एक किताब लिखी है- ‘संकल्प सेवा समर्पण की त्रिवेणी शिवराज’। पुस्तक का प्रकाशन  सुदित पब्लिकेशन्स द्वारा किया जा रहा है। पुस्तक में अलग-अलग लेखों में मुख्यमंत्री के नौ वर्ष के कार्यकाल की उपलब्धियों का चित्रण किया गया है।

पीएम-सीएम से आईपीएस अमिताभ की मांग, हाशिमपुरा कांड के पीड़ितों को मिले न्याय

लखनऊ : आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर ने प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी और यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से हाशिमपुरा के पीड़ितों को न्याय देने के लिए हर संभव कदम उठाने का निवेदन किया है.

न्यूज चैनल से जुड़े आरोपी की करीबी महिला ने पीड़ित छात्रा के पिता पर ही दुष्कर्म का मामला दर्ज करा दिया

जयपुर/रांची : जयपुर के प्रतिष्ठित मेडिकल विश्वविद्यालय निम्स के चेयरमैन एवं एक न्यूज चैनल से जुड़े डॉ बी.एस. तोमर के खिलाफ रांची की एक लड़की ने यौन शोषण के गंभीर आरोप लगाते हुए रांची के चुटिया थाने में मामला दर्ज कराया था. अब पता चला है कि डॉ तोमर की करीबी एक महिला ने पीड़ित छात्रा के पिता पर ही दुष्कर्म का मामला दर्ज करा दिया है. 

‘खबरें अभी तक’ के मीडिया कर्मियों ने संघर्ष तेज किया, मांगें पूरी होने तक मोर्चे पर अडिग

”खबरें अभी तक”  चैनल के मीडिया कर्मी अपने हक के लिए दो दिनों से संघर्ष कर रहे हैं लेकिन जिस संपादक पर चैनल कर्मियों का भरोसा होता है, उसने ही उन्हें रंग दिखा दिया है। एडिर-इन-चीफ उमेश जोशी अब अपने साथी कर्मियों का फोन भी नहीं उठा रहे हैं और साथ देने की जगह परिवारिक कार्यक्रम में मौज मस्ती ले रहे बताये गये हैं। कर्मचारियों को अंदेशा है कि वह बिजली के खोपचे के मालिक सुदेश अग्रवाल के साथ समझौता कर खिसक लिये हैं। छोटे कर्मी शोषण के खिलाफ रणनीति बनाकर रोजाना ऑफिस आ रहे हैं और प्रबंधन से अपने हक के लिए लड़ रहे हैं। 

लेबर कमिश्नर को अपनी समस्या सुनाने के बाद आगे की रणनीति पर विचार विमर्श करते ‘खबरें अभी तक’ के कर्मी

इस्लामोफोबिया से भारतीय मीडिया को बचाने की जरूरत

संवाद के अवसर हों, तो बातें निकलती हैं और दूर तलक जाती हैं। मुस्लिम समाज की बात हो तो हम काफी संकोच और पूर्वग्रहों से घिर ही जाते हैं। हैदराबाद स्थित मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूर्निवर्सिटी में पिछली 17 और 18 मार्च को ‘मुस्लिम, मीडिया और लोकतंत्र’ विषय पर हुए सेमीनार के लिए हमें इस संस्था का आभारी होना चाहिए कि उसने इस बहाने न सिर्फ सोचने के लिए नए विषय दिए, बल्कि यह अहसास भी कराया कि भारत-पाकिस्तान की सामूहिक इच्छाएं शांति से जीने और साथ रहने की हैं।

हाशिमपुरा नरसंहार- उत्तर प्रदेश पुलिस के इतिहास का एक काला अध्याय

जीवन के कुछ अनुभव ऐसे होते हैं जो जिन्दगी भर आपका पीछा नहीं छोडते। एक दु:स्वप्न की तरह वे हमेशा आपके साथ चलतें हैं और कई बार तो कर्ज की तरह आपके सर पर सवार रहतें हैं। हाशिमपुरा भी मेरे लिये कुछ ऐसा ही अनुभव है। 22/23 मई सन 1987 की आधी रात दिल्ली गाजियाबाद सीमा पर मकनपुर गाँव से गुजरने वाली नहर की पटरी और किनारे उगे सरकण्डों के बीच टार्च की कमजोर रोशनी में खून से लथपथ धरती पर मृतकों के बीच किसी जीवित को तलाशना- सब कुछ मेरे स्मृति पटल पर किसी हॉरर फिल्म की तरह अंकित है।

हाशिमपुरा के आरोपियों का बरी होना लोकतंत्र के लिए काला दिन

लखनऊ : रिहाई मंच ने 22 मई 1987 को मेरठ के हाशिमपुरा सांप्रदायिक हिंसा में पीएसी के जवानों द्वारा 42 बेगुनाह मुस्लिम युवाओं की हत्या के आरोपियों को तीस हजारी कोर्ट द्वारा बरी किए जाने की घोर निंदा करते हुए इसे लोकतंत्र के लिए एक काला दिन बताया है। मंच ने कहा है कि इस फैसले ने एक बार फिर से यह साफ कर दिया है कि सामाजिक न्याय के नाम पर मुसलमानों का वोट लेकर समाजवादी पार्टी की सरकार जब भी सत्ता में आई, उसने सबूत इकट्ठा करने के नाम पर पीडि़तों से न केवल लफ्फाजी की, बल्कि आरोपियों का ही हित संरक्षण करते हुए इंसाफ का गला घोंटा। हाशिमपुरा के आरोपियों के बरी होने के इस फैसले ने सपा सरकार के अल्पसंख्यक विरोधी चरित्र को एक बार फिर से बेनकाब कर दिया है।

पत्रकार महेंद्र पाठक सम्मानित

भोपाल : बाल विवाह रोकने के लिए चलाए जा रहे ‘लाड़ो अभियान’ के तहत गठित कोर ग्रुप के माध्यम से अधिनयम का कड़ाई से पालन कराने वाले उड़नदस्ता प्रभारी पत्रकार महेंद्र पाठक को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गत दिनो आयोजित राज्य स्तरीय समारोह में सम्मानित किया। उनको प्रशंसा पत्र व स्मृति चिह्न भेंट किया गया। इस दौरान परीयोजना अधिकारी चित्रा यादव और बालिका मुस्कान को भी सम्मानित किया गया।

सियासत तले दबे किसानों का दर्द कौन समझेगा ?

किसानों के हक में है कौन, यह सवाल चाहे अनचाहे भूमि अधिग्रहण अध्यादेश ने राजनीतिक दलों की सियासत तले खड़ा तो कर ही दिया है। लेकिन देश में किसान और खेती का जो सच है उस दायरे में सिर्फ किसानों को सोचना ही नहीं बल्कि किसानी छोड़ मजदूर बनना है और दो जून की रोटी के संघर्ष में जीवन खपाते हुये कभी खुदकुशी तो कभी यू ही मर जाना है। यह सच ना तो भूमि अध्ग्रहण अध्यादेश में कही लिखा हुआ है और ना ही संसद में चर्चा के दौरान कोई कहने की हिम्मत दिखा रहा है। और इसकी बडी वजह है कि 1991 के आर्थिक सुधार के बाद से कोई भी राजनीतिक दल सत्ता में आयी हो किसी ने भी कभी ग्रामीण अर्थव्यवस्था को लेकर कोई समझ दिखायी नहीं और हर सत्ताधारी विकास की चकाचौंध की उस धारा के साथ बह गया जहा खेती खत्म होनी ही है । फिर संयोग ऐसा है कि 91 के बाद से देश में कोई राजनीतिक दल बचा भी नहीं है, जिसने केन्द्र में सत्ता की मलाई ना खायी हो।

‘खबरें अभी’ तक चैनल पर लटका ताला, सभी कर्मचारियों की छुट्टी

आखिरकार ‘खबरें अभी’ तक चैनल पर पिछले दिनो ताला लटका ही दिया गया। शाम को दफ्तर पर एक नोटिस चस्पा कर चैनल बंद करने की सूचना कर्माचारियों को दे दी ही गई। जिस चैनल ने नवंबर में यह कह कर कर्माचारीयों को निकाल दिया था कि कंपनी का फिर से पुनर्गठन हो रहा है और इधर उधर कर कुछ चतुरसुजानों ने अपनी नौकरी बचा ली थी लेकिन इस बार मालिक ने ऐसे चाटुकारों को भी नहीं छोड़ा।

चैनल कार्यालय पर चस्पा प्रबंध का नोटिस 

उमेश डोभाल स्मृति एवं सम्मान समारोह 24-25 मार्च को पौड़ी में

रुद्रपुर (उत्तरांचल) : इस बार उमेश डोभाल स्मृति एवं सम्मान समारोह पौड़ी में होगा। 1989 में शराब माफिया ने प्रखर पत्रकार उमेश डोभाल की हत्या कर दी थी। उनकी याद में उमेश डोभाल स्मृति ट्रस्ट हर साल राज्य के अलग-अलग क्षेत्रों में समारोह का आयोजन करता है। इसमें पत्रकारिता, जनसरोकारों, साहित्य, कला, रंगकर्म आदि से जुड़े लोग सम-सामयिक और अन्य मुद्दों पर गंभीर विचार-विमर्श करते हैं और विविध क्षेत्रों में जनसरोकारी कार्य करने वालों को सम्मानित, पुरस्कृत किया जाता है। 24 एवं 25 मार्च को आयोजित होने वाले पत्रकार उमेश डोभाल रजत जयंती समारोह में गिरीश तिवारी ‘गिर्दा ’ जन कवि सम्मान  कवि निरंजन सुयाल को दिया जाएगा। इसके अलावा प्रिंट, इलैक्ट्रोनिक मीडिया में दिया जाने वाला पुरस्कार नेहा पंत, पंकज गैरोला और सोशल मीडिया में चंद्रशेखर कगरेती को विशिष्ठ सम्मान से सम्मानित किया जाएगा। 

किसानों की तबाही पर यूपी सरकार संजीदा नहीं : रिहाई मंच

लखनऊ : रिहाई मंच ने बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि के कारण फसलों की बर्बादी से आहत किसानों द्वारा की जा रही आत्महत्या, दिल का दौरा पड़ने व सदमे से हो रही मौतों और मुआवजे के संदर्भ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को मांग पत्र भेजा है। 11 सूत्रीय सवालों और 14 सूत्रीय मांगों वाले इस पत्र के माध्यम से प्रदेश सरकार की फसलों की बर्बादी की मुआवजा नीति और किसानों की आत्महत्या के बाद प्रदेश सरकार के गैरजिम्मेदाराना कार्यशैली पर सवाल उठाया गया है।

मीडियाकर्मी और उनके पत्नी-बेटे पर रॉड से हमला, गंभीर घायल, अस्पताल में भर्ती

जबलपुर (म.प्र.) : बेटे का मोबाइल चोरी जाने की शिकायत लेकर सपरिवार पहुंचे मीडिया कर्मी पर स्कूल प्रबंधन ने हमला कर दिया। रॉड से हुए वार से मीड़िया कर्मी, उसकी पत्नी तथा बेटा बुरी तरह घायल हो गए। घायल मीडिया कर्मी को इलाज के लिए विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। 

दूरदर्शन ने जीता मीडिया क्रिकेट का खिताब

लखनऊ : केडी सिंह बाबू स्टेडियम पर हिमांशु शुक्ला मेमोरियल मीडिया ट्वेंटी. 20 क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल में सुधीर अवस्थी (69) और सी एस आजाद (नाबाद 45) की शानदार बल्लेबाजी की बदौलत दूरदर्शन स्पोर्टस क्लब ने टाइम्स ऑफ इंडिया को 8 विकेट से पराजित कर खिताब अपने नाम कर लिया।

आत्महत्या के दिन डीके रवि ने 44 बार की थी अपनी महिला मित्र से बात

कर्नाटक के चर्चित आइएएस अधिकारी डीके रवि की रहस्यमय मौत के मामले ने आज एक नया मोड ले लिया. मीडिया में जिस तरह की खबरें आ रही हैं, उसके संकेत हैं कि एक मजबूत इच्छाशक्ति वाला अधिकारी भावुकता के भंवर में फंस गया. खबर है कि उन्होंने अपनी रहस्यमय मौत से पहले अपनी एक बैचमेट महिला आइएएस अधिकारी से फोन पर 44 बार बात की. यहां तक कि आत्महत्या से पहले रवि ने जो अंतिम टेक्स्ट मैसेज किया, उसमें भी लिखा, वी विल मीट इन ऑवर नेक्स्ट लाइफ यानी हम अब अपने अगले जीवन में मिलेंगे. हालांकि  उनकी मौत के बाद यह संदेह हो रहा था कि एक मजबूत शख्स जिसने माफियाओं के खिलाफ कभी कदम पीछे नहीं खीचे वह उनकी धमकी से कैसे जान दे देगा?

न्यूज चैनल एंटी-टेरर ऑपरेशन को लाइव न दिखाएं – आईबी

नई दिल्ली। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने टीवी चैनल्स से आतंकीयों से निपटने वाले ऑपरेशन्स को लाइव नहीं दिखाने को कहा है। साथ ही बताया है कि इस तरह के आतंकियों से निपटने वाले ऑपरेशन्स पर जानकारी इसके पूरी होने के बाद ही दी जाए।

कोटा भास्कर गंदी हरकत पर उतरा, मजीठिया मांग रहे कर्मियों पर दर्ज कराई चोरी की रिपोर्ट

कोटा (राजस्थान) : मजीठिया मामले पर समझौता वार्ता के लिए श्रम कार्यालय में उपस्थित आधा दर्जन से अधिक कर्मचारियों के खिलाफ दैनिक भास्कर प्रबंधन ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करा दी है। एफआइआर से पहले श्रम कार्यालय में प्रबंधन पक्ष के वकील ने उनसे दुर्व्यवहार करते हुए उन पर चोरी के आरोप लगाए। इससे कर्मचारियों में रोष है, साथ ही अपने साथ उन्होंने किसी बड़ी अनहोनी का अंदेशा भी जताया है। 

23 मार्च शहीद दिवस पर विशेष : निर्णायक संघर्षों के साथी बने रहेंगे भगत सिंह

भगत सिंह निर्णायक संघर्षों के साथी हैं। वह कल भी एक बेहतर मागदर्शक थे, आज भी है। संघर्ष हमारे व्यक्तिगत जीवन में बदलाव के लिए हो या राजनीतिक-सामाजिक व्यवस्था में आमूल-चूल परिवर्तन के लिए, शहीदेआजम हमेशा हमारे साथ कदम ताल करने के लिए तैयार खड़े दिखते हैं। उनका इंकलाब सड़ी-गली समाज-व्यवस्था में सब कुछ बदलने की बात करता है। खुद के व्यक्तिगत जीवन में वह कभी निराश नहीं रहे।

हमारे देश में ईमानदार अधिकारियों का हश्र

हमारे देश में ईमानदार अधिकारियों का क्या हश्र होता है, यदि इस पर गौर करें तो लगता है कि भारतीय लोकतंत्र में ईमानदारी सबसे बड़ा अपराध है। यह स्थिति शर्मनाक  तो है ही भयानक भी है बल्कि यह आतंकित करने वाली स्थिति है। यह न केवल भ्रष्टाचार बल्कि क्रूरता की पराकाष्ठा है। जिस देश में कानून के संरक्षक ही ऐसे हों उस देश का विकास कैसे सुनिश्चित हो सकता है। 

प्रदीप श्रीवास्तव और विनोद शील का विरोध करने के कारण मैं निशीकांत ठाकुर का चहेता बन गया

: दैनिक जागरण के चिंटू, मिंटू और चिंदीचोर : अवधी की एक कहावत है-केका कही छोटी जनी, केका कही बड़ी जनी। घरा लै गईं दूनौ जनी। अर्थात किसे छोटी बहू कहूं और किसे बड़ी बहू कहूं। घर तो दोनों बहुओं ने बर्बाद किया है। यह बात दैनिक जागरण पर सटीक बैठती है। 1995 की बात है, जब टीवी चैनलों की धूम मची थी। अखबार इस बात से डर गए थे कि कहीं इलेक्ट्रानिक मीडिया उन्हें निगल न जाए। ऐसे समय में मैं इलेक्ट्रानिक मीडिया से काम छोड़ कर दैनिक जागरण में नौकरी के लिए आ गया था।

महिला अफसर के यौन शोषण का प्रयास, आरोपी अधिकारी का तरफदार बना अमर उजाला

बुलंदशहर (उ.प्र.) : ‘अमर उजाला’ एक ओर जहां बेटियों को बचाने की आवाज उठा रहा है, वहीं बुलंदशहर में उसने यौन उत्पीड़न की शिकार एक महिला को दोषी ठहराते हुए अफसर को क्लीन चिट दे दी है. इस वाकये से अखबार की पूरे जिले में खूब किरकिरी हो रही है.

उपजा ने शासन-प्रशासन को लगाया लाखों का चूना

लखनऊ : उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट एसोसिएशन (उपजा) पदाधिकारियों के कारनामे अब आए दिन सुर्खियां बनने लगे हैं। इसी क्रम में संगठन के नाम पर लखनऊ और बरेली में उत्तर प्रेदश शासन से  लाखों रुपये लेकर उसका ब्योरा सार्वजनिक न किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। बताया गया है कि वर्ष 2005 में उपजा से जुड़े रहे जिस रमेश जैन ने मृत पंजीयन संख्या-2946 वाले यूपी जर्नलिस्ट्स एसोसियशन के बी-ब्लाक दारुलशफा, लखनऊ स्थित कार्यालय पर लाखों की धोखाधड़ी कर लिए जाने का आरोप उछाला था, वही, वर्तमान में संगठन महामंत्री होते हुए भी उस प्रकरण पर अब चुप्पी साध गए हैं।

हिमाचल में मजीठिया संघर्ष मंच ने सीएम को ज्ञापन सौंपा, कर्मचारियों से एकजुटता का आह्वान

धर्मशाला (हिमाचल) : प्रदेश में मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिशें लागू करने की लड़ाई तेज करने के लिए मजीठिया वेज बोर्ड क्रियान्वयन संघर्ष मंच का गठन किया गया है। रविंद्र अग्रवाल ने अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाली है। बाकी आंदोलनकारियों के नाम फिलहाल गोपनीय रखे गए हैं। मंच ने पूरे प्रदेश के मीडिया कर्मियों से एकजुट होने के आह्वान के साथ ही मुख्यमंत्री से वेज बोर्ड की सिफारिशें लागू करने की गुहार लगाई है। 

रुद्रपुर में सांध्य दैनिक ‘वसुंधरा दीप’ का विमोचन

रुद्रपुर (उत्तराखंड) : केंद्रीय कपड़ा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) संतोष गंगवार ने कहा कि चैनलों के आने के बाद तेजी से खबरें लोगों तक पहुंच रही हैं, लेकिन अखबारों का अपना महत्वपूर्ण स्थान है। आज भी लोग अखबार पढऩा चाहते हैं। वह गत दिनों सिटी क्लब हाल में सांध्य दैनिक वसुंधरा दीप के विमोचन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि समाज और तकनीकी में कितना भी परिवर्तन हो, लेकिन अखबारों को जीवन से अलग नहीं किया जा सकता। आज हम जिस दौर में जी रहे हैं, उसमें अखबारों को अलग नहीं किया जा सकता।

मजीठिया वेतनमान की मांग पर दिव्य भास्कर ने 20 को बाहर किया, चार टर्मिनेट, मामला हाईकोर्ट में

मेहसाना (गुजरात) : बीते माह दो फरवरी को जब गुजरात हाईकोर्ट में मेहसाना यूनिट के 20 कर्मचारियों ने ‘दिव्य भास्कर’ के खिलाफ मजीठिया का हक न देने का केस दायर किया था, उसी वक्त छह फरवरी को मेहसाना यूनिट हेड गौरव बिसारिया और एचआर हेड राहुल खेमानी ने 20 कर्मियों में से चार को टर्मिनेट कर अपना रंग दिखा दिया था। बाकी सोलह कर्मियों को मौखिर रूप से ऑफिस आने से मना कर दिया गया। उनसे ये कहा गया कि कंपनी के सामने सर ऊंचा करने की कोशिश की है तो यहां आने की कोई जरूरत नहीं है। आपको अभी से नौकरी से निकाल दिया जा रहा है। टर्मिनेशन लेटर दो दिन में आपके घर पहुंच जाएगा।

पत्रकार ताबीना अंजुम को नेशनल अवॉर्ड

जयपुर : सूचना और प्रसारण मंत्रालय के फोटो डिवीजन विभाग ने गत दिनो चौथा राष्ट्रीय फोटोग्राफी अवॉर्ड-2013 घोषित किया। इसके तहत पांच पेशेवर और शौकिया श्रेणी में विजेताओं का चयन किया गया। 

गर्भवती महिला पत्रकार से क्यों होता है भेदभाव?

महाराष्ट्र की एक अदालत ने एक टीवी चैनल को आदेश दिया है कि ‘गर्भवती होने के बाद कंपनी की नौकरी से निकाली गईं’ पत्रकार को वापस काम पर रखा जाए और बक़ाया वेतन भी दिया जाए. पत्रकार ने अदालत से गुहार की थी कि उन्हें साल 2012 में गर्भवती होने के कुछ समय बाद ही कंपनी से निकाल दिया गया था. उनका दावा था कि ऐसा उनके गर्भवती होने की वजह से हुआ. लेकिन टीवी कंपनी का कहना है कि पत्रकार को ख़राब काम की वजह से बाहर किया गया था.

इंडियन एक्सप्रेस में छपा रिबेरो का लेख हर पाठक को हिला गया : ओम थानवी

1989 में जब मैंने चंडीगढ़ जनसत्ता का कार्यभार संभाला, जूलियो रिबेरो आतंकवाद से जूझ रहे पंजाब में राज्यपाल के सलाहकार थे। राष्ट्रपति राज में राज्यपाल और उनके सलाहकार ही शासन चलाते थे। राजभवन के एक आयोजन में जब मैं रिबेरो से मिला, वे कहीं से ‘सुपरकॉप’ नहीं लगते थे; उनमें अत्यंत सहजता और विनम्रता थी, खीज या उत्तेजना उनसे कोसों दूर नजर आती थी। मेरी जिज्ञासा पर अपने पर हुए एक जानलेवा हमले का किस्सा उन्होंने हंसते हुए सुनाया था।

मजीठिया, मालिक, पत्रकार और एक मेढक की कहानी

(यह कहानी उन लोगों के लिए सबक है, जो मानते हैं कि अखबार मालिकों के शक्तिशाली तंत्र के चलते मजीठिया वेज बोर्ड के लिए लड़ी जा रही लड़ाई की सफलता नामुमकिन है। चारों ओर फैली भीतरी नकारात्मकता उनके हौसले तोड़ती है। इस कहानी को पढि़ए और अपने भीतर झांक कर सफलता का मार्ग ढूंढिए, क्योंकि हिम्मत करने वालो की कभी हार नहीं होती…)

सभी में होती है काबिलियत 

एक  सरोवर में बहुत सारे मेंढक रहते थे। सरोवर के बीचोबीच पुराना धातु का खंभा भी था, जिसे सरोवर बनवाने वाले राजा ने लगवाया था। उसकी सतह चिकनी थी। एक दिन मेंढकों के दिमाग में आया कि क्यों न एक रेस करवाई जाए। प्रतियोगियों को खंभे पर चढऩा होगा और जो पहले ऊपर पहुंच जाएगा, वही विजेता होगा।

पंजाब केसरी से मजीठिया संबंधी जानकारी के लिए गिड़गिड़ा रही महिला श्रम निरीक्षक

पालमपुर (हिमाचल) : मजीठिया वेज बोर्ड लागू करने के मामले में श्रम विभाग के इंस्पेक्टर किस तरह अखबार वालों से खौफजदा होकर अपनी ड्यूटी को अंजाम दे रहे हैं, इसका उदाहरण पंजाब केसरी की परौर स्थित हिमाचल यूनिट है। मजीठिया की लड़ाई लड़ रहे पत्रकार रविंद्र अग्रवाल की आरटीआई पर यहां के श्रम निरीक्षक को भी पंजाब केसरी में वेज बोर्ड लागू किए जाने संबंधी रिपोर्ट देनी थी। अखबार के कथित दबाव में श्रम निरीक्षक ने अभी तक जानकारी नहीं दी है। पत्रकार अब इस संबंध में श्रमायुक्त से शिकायत का मन बना रहे हैं। 

जाति, जेंडर और क्लास, दलित स्त्रीवाद की धुरी : सुजाता

गया (बिहार) : जातिवाद के विरोध में हर समय में अपने यहां लड़ाई लड़ी गईं। सबसे पहले बुद्ध ने यह लड़ाई लड़ी। फिर कर्नाटक में बशेश्वर ने, ज्योतिबा फुले ने 18वीं सदी में और डा. भीमराव आंबेडकर ने 19वीं सदी में इसके खिलाफ आंदोलन किया। इन सब की जाति और वर्ग अलग-अलग थे। बुद्ध क्षत्रीय कुल से थे, बशेश्वर ब्राहमण और फुले की पृष्ठभूमि व्यापारी वर्ग से थी। जाति व्यवस्था और गुलामी पर प्रहार का ऐसा उदाहरण विश्व में कहीं नहीं मिलता। 

आईएएस रविकुमार की रहस्यमय हालात में मौत की सीबीआई जांच का अनुरोध

लखनऊ : आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने आईएएस डी. के. रविकुमार की रहस्यमय स्थितियों में मौत की सीबीआई जांच की मांग की है। 

पंकज श्रीवास्तव ने ‘अमर उजाला’ को कहा बॉय-बॉय, पहुंचे ‘आज तक’

‘अमर उजाला डॉट कॉम’ के साथ लंबे समय से काम कर रहे पंकज कुमार श्रीवास्तव ने संस्थान को अलविदा कह दिया है। उन्होंने सोमवार से अपनी नई पारी ‘आज तक’ के साथ शुरू कर दी है। वह ‘आजतक’ के आनलाइन पोर्टल पर बतौर असिस्टेंट एडिटर काम करेंगे। पंकज पिछले नौ वर्षों से ‘अमर उजाला’ से जुड़े …

छात्र-छात्रा का अश्लील वीडियो वायरल, चार गिरफ्तार, दो की तलाश

हाथरस (उत्तर प्रदेश) : क्षेत्र के एक गांव में दबंगों द्वारा बनाई गई किशोरी छात्रा की छात्र के साथ अश्लील वीडियो क्लिपिंग वायरल होने पर सीओ नरेंद्र देव और प्रभारी निरीक्षक मनोज शर्मा ने किशोरी के गांव और आसपास के संभावित ठिकानों पर दबिश दी। पुलिस दो अभियुक्तों संजय और रवि को खोज रही है। इस पूर्व चार आरोपी जेल भेजे जा चुके हैं। किशोरी की क्लिपिंग बनाने के आरोपियों ईलू, दारा सिंह, पंकज, रामू, संजय और रवि के विरुद्ध यूपी गुंडा एक्ट 2/3 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

फेसबुक पर आजम खां पर टिप्पणी करने वाला 11वीं का छात्र गया जेल

रामपुर : स्थानीय पुलिस ने उत्तर प्रदेश के शहरी विकास मंत्री आजम खान के खिलाफ फेसबुक पर टिप्पणी करने वाले बरेली के वुडरो स्कूल के 11वीं के छात्र गुलरेज खान उर्फ विक्की (18) को गिरफ्तार  जेल भेज दिया। 

तमिल लेखकों पर हमलों के पीछे कौन?

अभिव्यक्ति की आज़ादी की लड़ाई में सरकार से किसी भी रूप में जुड़े लोगों की आक्रामक भूमिका की बात छोड़ दी जाए तो पेरुमल मुरुगन और पुलियुर मुरुगेसन जैसे तमिल लेखकों पर हुए हालिया हमलों में कोई नई बात नहीं दिखती है.

झालावाड़ ‘भास्कर’ झुका, सभी कर्मचारी काम पर लौटे

झालावाड़ (राजस्थान) : दैनिक भास्कर झालावाड़ के कर्मचारियों की गत 16 मार्च को झालावाड़ लेबर आफिस में समझौता वार्ता के दौरान अखबार के वकील ने मजीठिया को लेकर संघर्षरत कर्मचारियों को झूठा और कामचोर कहा। गाली की भाषा में वकील के आग बबूला होने पर लेबर इंस्पेक्टर ने हस्तक्षेप करते हुए कहा कि – हमें पता है, आप लोगों की हकीकत क्या है। आप चुप रहें तो ही अच्छा होगा। अंतत: भास्कर प्रबंधन को सशर्त झुकना पड़ा। बताया गया है कि समझौते के बाद सभी कर्मचारियों ने काम करना शुरू कर दिया है।

हमलावर हाथ हिन्दुत्व के साथ, हिन्दू बनो संविधान तोड़ो

हिसार में चर्च पर हमले से दो काम हुए हैं, पहला 1857 के शहीदों का अपमान हुआ है, दूसरा धार्मिक हमलावरों की अंतर्राष्ट्रीय बिरादरी में हमलावरसेना शामिल हुई है। अब उनके आईएसआईएस और अलकायदा के बराबर दर्जा मिलने की संभावनाएं बढ़ गयी हैं। सारी दुनिया में मीडिया गौरवगुरु का पद उनको मिल गया है। अब वे अलकायदा आदि के बराबर 56 इंच का सीना तानकर खड़े हो सकते हैं। 

पी7 न्यूज और उसके अफसरों को जो सड़क पर उतर कर गरियाएगा, वो फुल एंड फाइनल पेमेंट पाएगा !

पी 7 न्यूज के बंद होने के बाद बकाया भुगतान को लेकर रोजाना नई नई कहानियां सामने आ रही है। चैनल बंद करते समय प्रबंधन ने सभी का फुल एंड फायनल पेमेंट करने का लिखित में वादा किया था, लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ तो पत्रकारों ने धरना प्रदरेशन से कोर्ट में प्रबंधन के लोगों को घसीटा। तब करीब 160 लोगों का भुगतान किया गया। डायरेक्टर केसर सिंह, बिधु शेखर के खिलाफ गाली गलौज और मोर्चा खोलने वालों को ही पेमेंट किया गया।

मनरेगा की मजदूरी हड़पने वाले अफसरों को बचा रही सरकार

लखनऊ : रिहाई मंच ने बलरामपुर जिले के सोहेलवा वन्य जीव प्रभाग के अन्तर्गत बनकटवा रेंज के मनरेगा मजदूरों की मजदूरी वन विभाग द्वारा हड़पे जाने के मामले पर प्रदेश सरकार पर भ्रष्टाचार को संरक्षण देने का आरोप लगाया है।

दूरदर्शन, आकाशवाणी के 3067 पद बहाल

मुंबई : सरकार ने दूरदर्शन (डीडी) और ऑल इंडिया रेडियो (एआईआर) में आवश्यक श्रेणी के 3067 पदों को बहाल कर दिया है। सूचना व प्रसारण मंत्री का भी प्रभार संभाल रहे वित्त मंत्री अरुण जेटली ने संसद में प्रश्नकाल के दौरान एक पूरक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी।

जागरण के भरोसे अपना भविष्य तय करने से पहले जरा सोच लेना

बहुत से लोग इस समय दैनिक जागरण में नौकरी कर रहे होंगे, तो कुछ नौकरी छोड़ चुके होंगे या कुछ को नौकरी छोड़ने के लिए बाध्य कर दिया गया होगा। यहां तक कि कुछ को तो क्रूरतापूर्वक निकाल दिया गया होगा। कुछ ऐसे भी होंगे जो नौकरी के लिए प्रयास कर रहे होंगे। नौकरी आपका पूरा भविष्य तय करती है। इसलिए नौकरी में आने से पहले कंपनी की प्रोफाइल जानना बहुत जरूरी होता है। आपको बताना चाहता हूं कि दैनिक जागरण की ब्रांडिंग पर भरोसा करके अपना भविष्य तय करने से पहले एक बार जरूर सोचें।

टीवी चैनलों की ‘सुरक्षा मंज़ूरी’ को सरकार ने सुगम बनाया

मुंबई: सरकार ने केबल टीवी कंपनियों, टेलिविज़न चैनलों और सामुदायिक रेडियो स्टेशनों से जुड़ी सुरक्षा मंजूरी की प्रकिया को सुगम कर दिया है। सुरक्षा मंजूरी तीन साल के बजाय अब 10 साल तक के लिए वैध होगी। 

इंद्रजीत गुप्ता ने लांच किया डिजिटल कंटेंट प्लेटफार्म ‘फाउंडिंग फ्यूल’

मुंबई: ‘फोर्ब्स इंडिया’ के पूर्व संपादक इंद्रजीत गुप्ता ने पियर्सन के ऑनलाइन शिक्षण उपक्रम ट्यूटर विस्टा के पूर्व प्रमुख सीएस स्वामीनाथन के साथ एक डिजिटल कंटेंट प्लेटफार्म फाउंडिंग फ्यूल लॉन्च किया है़। फाउंडिंग फ्यूल सोल्यूशन अत्याधुनिक डिजिटल उपकरणों का उपयोग करेगा और प्रोडक्ट्स के लिए बाज़ार मुहैया कराएगा। अंग्रेज़ी अखबार मिंट और डिजिटल टीवी नेटवर्क पिंग के साथ कंटेंट संबंधी समझौतों पर इसका हस्ताक्षर हो चुका है।

आधी आबादी पर फिर उसी विमर्श को हवा

भारत को अंग्रेजी शासन से आज़ाद हुए छह दशक से भी अधिक का समय बीत चुका है, लेकिन आज भी लिंग आधारित भेदभाव और महिलाओं पर अत्याचारों में कोई कमी नहीं आई है। महिला सशक्तिकरण और महिला उत्थान के लिए आज भी ज्यादा कुछ नहीं किया जा रहा है। निर्भया कांड पर बीबीसी की वृत्त फिल्म ‘इंडिया डॉटर’ के औचित्य पर कई तरह के सवाल उठ खड़े हुए हैं। फिल्म के प्रसारण को रोकने की सरकारी स्तर पर की गई कोशिश ने उसे इतना प्रचारित कर दिया कि बलात्कार की समस्या पर एक बार फिर वैचारिक और सैद्धांतिक विमर्श का लंबा सिलसिला शुरू हो गया। संसद में भी आवाजें उठीं। वृत्त फिल्म में निर्भया कांड के दोषी से बातचीत और उसमें अपनी कायराना हरकत को जायज ठहराने की उसकी कोशिश ने एक कड़वा सच सामने ला दिया। 

‘गोजए’ के रंगोत्सव में कवि-कलाकारों का जलवा

जौनपुर। गोमती जर्नलिस्ट एसोसिएशन (गोजए) की ओर से शकुंतला सेण्ट्रल एडकेमी में आयोजित हिन्दी नव संवत्सर व होली मिलन समारोह में कलाकारों ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत कर लोगों को जमकर थिरकाया और गुदगुदाया। 

टीडीसैट ने ताज टीवी पर एक लाख रुपए प्रतिदिन जुर्माना ठोका

मुंबई: दूरसंचार विवाद निपटान व अपीलीय ट्राइब्यूनल (टीडीसैट) ने टीवी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी ताज टेलिविज़न पर एक लाख रुपए प्रतिदिन का जुर्माना लगा दिया है। जुर्माने की गिनती 3 फरवरी से शुरू होकर तब तक चलेगी, जब तक ताज अपने सिग्नल फास्टवे को देना नहीं शुरू कर देता। 

ताजमहल पर मंडराया पैराशूट, एजेंसियां जांच में जुटीं

आगरा। आगरा में ताजमहल के ऊपर पैराशूट मंडराने से खलबली मच गई है। नो फ्लाइंग जोन में ताजमहल के ऊपर पैराशूट दिखने से सुरक्षा एजेंसियों में खलबली मच गई है। अब एजेंसियां इसे लेकर जांच में जुटी हुई हैं। आखिर पैराशूट इसके उपर कैसे पहुंच गया। ताजमहल की सुरक्षा का जिम्मा देख रही सीआईएसफ ने थाना ताजगंज में इस संबंध में तहरीर दे दी है।

मंगलवार को आगरा में ताजमहल पर मंडराता पैराशूट

एप्पल कंपनी जल्‍द शुरू करेगी ऑनलाइन टेलीविजन सर्विस

आईफोन निर्माता कंपनी एप्‍पल जल्‍द ही अपनी टेलीविजन शुरू करने जा रही है. जिसके द्वारा अब यूजर एप्‍पल सर्विस के द्वारा टीवी पर अपना मन पसंदीदा शो देख पाएंगे. लेकिन इस सर्विस को इस्‍तेमाल करने के लिए अभी आपको कुछ समय इंतजार करना पड़ेगा क्‍योंकि यह इस साल सितंबर तक शरू हो सकता है.

जनसंसद में देशव्यापी संघर्ष का आह्वान, 23 मार्च से भूमि-अधिकार अभियान

दिल्ली : अखिल भारतीय लोक मंच (ऑल इंडिया पीपुल्स फोरम- एआईपीएफ) के दो दिवसीय स्थापना सम्मेलन के बाद जंतर-मंतर पर जन-संसद को वामपंथी-समाजवादी नेताओं, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों ने संबोधित किया।

दिल्ली में जंतर-मंतर पर जन-संसद 

छत्तीसगढ़ में चिटफंड कम्पनियां बेलगाम

रायपुर : जशपुर प्रशासन कब नींद से जागेगा! रायपुर में सरकार ने भी चिटफंड कम्पनियों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए हैं। समिति का गठन भी हो गया है लेकिन कोई ठोस कदम नहीं उठाए जाने से चिटफंड कम्पनियां सक्रिय हैं।

श्रीटाइम्स के कर्मचारियों को सैलरी मांगने पर मिल रहीं धमकियां

लखनऊ : दैनिक समाचार पत्र श्री टाइम्स के कर्मचारियों को सैलरी की जगह धमकियां मिल रही हैं। यहां कार्यरत कर्मचारियों को चार माह से सैलरी नहीं दी गई है, जिससे कर्मचारियों के सामने घोर आर्थिक संकट खड़ा हो गया है।

सोशल मीडिया पर छा गई एंकर की जैकेट

‘चैनल टेन’ के एक लाइव न्यूज शो में उतरीं ऑस्ट्रेलियाई न्यूज एंकर नतार्शा बेलिंग की जैकेट सोशल मीडिया पर छा गई। सारी कुदृष्टि जैकेट की ‘नेकलाइन’ में जा फंसी। इंटरनेट पर फोटो अपलोड होते ही कैप्शन पढ़कर प्रतिक्रिया परोसने वालों की लाइन लग गई। फोटो पर 110,000 से ज्यादा लाइक्स और 6000 से शेयर ने पूरी दुनिया में इसे सबसे रोचक खबरों में शुमार कर दिया। 

ऑनलाइन पत्रकार सुप्रिया को चमेलीदेवी पुरस्कार

नई दिल्ली : मीडिया फाउंडेशन ने सर्वश्रेष्ठ महिला पत्रकार को दिया जाने वाला प्रतिष्ठित चमेली देवी जैन पुरस्कार इस साल एक ऑनलाइन पत्रकार सुप्रिया शर्मा को दिए जाने की घोषणा की है। यह पुरस्कार ऑनलाइन न्यूज पोर्टल पर काम करने वाली किसी पत्रकार को पहली बार दिया जा रहा है। ‘स्क्रॉल डॉट इन’ की समाचार …

सहारा पर 40 करोड़ डॉलर का दावा ठोंकेगी ‘मिराच’ कंपनी

न्यूयार्क : अमेरिका की कंपनी मिराच कैपिटल ने मंगलवार को कहा कि वह सहारा समूह के खिलाफ 40 करोड़ डालर का मानहानि मुकदमा दायर करने की तैयारी कर रही है। मिराच का आरोप है कि सहारा समूह के साथ वित्तीय सौदा नाकाम रहने के कारण उसने अपूरणीय क्षति हुई है और उसके निवेशकों का भरोसा हिला है।

अब मीडिया की अदालत में अंशु : सुहाग लुटा फिर पूरी वसीयत, ‘मेरे मासूम की मदद करिए’ !

आगरा : ससुराल में पांव रखते ही किसी नवविवाहिता को पता चले कि उसके पति को तो कैंसर है….कुछ दिन बाद पति उसे हमेशा के लिए इस दुनिया में अकेला छोड़ जाए ! और उस पर लगातार वक्त कुछ ऐसी मार पड़ती जाए कि सुहाग लुट जाने से कुछ माह पूर्व वह संतान को जन्म दे, और फिर, उसे नवजात के साथ ससुराल से मायके खदेड़ दिया जाए !..उसके बच्चे के नाम बैंक में जमा सारे रुपये निकालने के साथ ही जालसाजी कर उसकी पूरी वसीयत उसके ही ननद-देवर एक कॉलेज के नाम पर हड़प लें तो ? और वह लाचार नवविवाहिता दस साल से न्याय की गुहार लगाते हुए हाईकोर्ट की चौखट तक पहुंच जाए….!! 

अमर उजाला ने लखनऊ में दैनिक जागरण को पटका, बना नंबर वन

लखनऊ : हिंदी दैनिक ‘अमर उजाला’ ने दावा किया है कि उत्तर प्रदेश के लखनऊ जिले में उसकी प्रसार संख्या अन्य समाचारपत्रों की प्रसार संख्या की तुलना में सबसे अधिक हो गई है। अपने 17 मार्च 2015 के अंक में प्रथम पृष्ठ पर अखबार ने लखनऊ के पाठकों का शुक्रिया अदा करते हुए लिखा है कि ‘जुलाई से दिसंबर 2014 तक की ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन (एबीसी-ABC) की रिपोर्ट के अनुसार अमर उजाला अपने सभी प्रतिद्वंद्वियों की तुलना में आगे निकल गया है।’

फेसबुक सामग्री पर पाबंदी की मांग करने वालों में भारत नंबर वन

नई दिल्ली : सोशल नेटवर्किग वेबसाइट फेसबुक ने जुलाई दिसंबर 2014 की अवधि में भारत सरकार के आदेश पर सबसे ज्यादा 5,832 सामग्री को अपनी वेबसाइट से हटाया है। इसमें धर्मविरोधी सामग्री तथा भड़काऊ भाषण शामिल हैं।

रेडियो तरंगों पर अब राज्य नहीं, जनता का अधिकार

नई दिल्‍ली : विज्ञान भवन में सामुदायिक रेडियो स्‍टेशनों के पांचवें राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन का उदघाटन करते हुए वित्‍त एवं सूचना और प्रसारण मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सामुदायिक रेडियो, संचार के एक माध्यम के रूप में बोलने तथा अभिव्यक्ति की आजादी के अधिकार का आतंरिक तत्व है। सूचना के प्रसार के माध्यम के रूप में इसकी ‘रेडियो तरंगें’ राज्य नहीं, बल्कि लोगों के अधिकार क्षेत्र में आती हैं, ये तरंगें सार्वजनिक होती हैं और सरकार का इस पर एक छत्र अधिकार होने का मुद्दा अब समाप्त हो गया है। 

तेलंगाना के केबलवाले टीडीसैट में, सुनवाई 19 मार्च को

मुंबई: तेलंगाना केबल ऑपरेटर्स फेडरेशन अनधिकृत तरीके से स्टार इंडिया के चैनलों को बंद करने के कारण मल्टी सिस्टम ऑपरेटर इंडसइंड मीडिया एंड कम्युनिकेशंस लिमिटेड (आईएमसीएल) के खिलाफ दूरसंचार विवाद निपटान व अपीलीय ट्राइब्यूनल (टीडीसैट) में चला गया है।

प्राइवेट न्यूज चैनल प्राइम टाइम पर सिर्फ चिल्लपों मचाते हैं : ए.सूर्य प्रकाश

दिल्ली : पब्लिक रिलेशंस काउंसिल ऑफ इंडिया की कम्युनिकेशन इंडस्ट्री बॉडी के ग्लोबल कम्युनिकेशन कॉन्क्लेव में प्रसार भारती के चेयरमैन ए. सूर्य प्रकाश ने प्रेस काउंसिल को और अधिक अधिकार मिलने वकालत करते हुए कहा कि उसे न सिर्फ अधिक प्रतिनिधित्व बल्कि उसे ज्यादा हक भी दिए जाने चाहिए। प्राइवेट न्यूज चैनल प्राइम टाइम पर सिर्फ चिल्लपों मचाते हैं। न्यूज से उनका कोई ताल्लुक नहीं होता। प्रसार भारती में हर भारतीय की हिस्सेदारी है।

जश्ने-रेख्ता में शख्सियतों का मेला… इस तरह बरसात का मौसम कभी आया न था

दिल्ली : दो दिवसीय ‘जश्ने-रेख्ता’ में पाकिस्तान, भारत, अमेरिका, कनाडा आदि देशों के 60 से अधिक उर्दू शायर, लेखकों और फ़नकारों ने शिरक़त की. जश्ने-रेख्ता के जरिए उर्दू के कई दिलचस्प पहलू देखने को मिले. दास्तानगोई, शायरी, कव्वाली, ग़ज़ल और क़िस्सागोई ने उर्दू के चाहने वालों के दिल खुश कर दिए. जश्ने-रेख्ता में उर्दू किताबों के बुक स्टाल, कैलीग्राफ़ी, शायरी की महफ़िल और खाने पीने के इंतजाम भी थे. पैनल डिस्कशन और इंटरैक्टिव सत्र के माध्यम से उर्दू के विभिन्न पहलुओं को जानने का और चर्चा करने का मौका मिला. उर्दू नाटकों ने दर्शकों को खूब लुभाया.

यादव सिंह प्रकरण : सीबीआई जांच आदेश का हलफनामा दायर

लखनऊ : यादव सिंह मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. नूतन ठाकुर द्वारा पीआईएल में आज महाधिवक्ता विजय बहादुर सिंह की अनुपस्थिति के कारण सुनवाई नहीं हो सकी. मामले में अगली सुनवाई 23 मार्च को होगी.

एचटी की एडिटर सुनीता एरन के पति की हार्ट अटैक से मृत्यु

लखनऊ : इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट उत्तर प्रदेश के चेयरमैन एवं हिंदुस्तान टाइम्स लखनऊ की संपादक सुनीता एरन के पति कंचन एरन की आज हार्ट अटैक से मौत हो गई। वह 62 वर्ष के थे। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एरन परिवार में पहुंच कर परिजनों को ढांढस बंधाने के साथ ही मृतात्मा की शांति की …

प्रिंट एंड इलेक्ट्रानिक्स जर्नलिस्ट एसोसिएशन’ से 21 पत्रकारों का इस्तीफा

अंबाला : यहां के पत्रकारों की संस्था ‘प्रिंट एंड इलेक्ट्रानिक्स जर्नलिस्ट एसोसिएशन’ की आपसी फूट अब खुलकर सामने आने लगी है। 21 पत्रकारों ने एसोसिएशन से इस्तीफा दे दिया है। 

‘आज समाज’ कर्मियों को अभी तक नहीं मिली जनवरी, फरवरी की सेलरी

‘आज समाज’ कर्मचारियों को अभी तक जनवरी और फरवरी माह की सेलरी नहीं मिली है।  इससे कर्मचारियों में भारी असंतोष है। आज समाज अख़बार की माली हालत पिछले काफी समय से ख़राब बताई जा रही है।