Categories: प्रिंट

भास्कर के डायरेक्टर्स और मैनेजर्स का कराया गया सच से सामना!

Share

भास्कर ग्रुप पर पड़े छापों की विस्तृत खबरें भोपाल के अखबार पीपुल्स समाचार में प्रकाशित हो रही हैं. दो दिन पहले के अखबार में एक बड़ी खबर छपी है. भास्कर ग्रुप की कंपनियों को भारी मात्रा में कर्ज दिया गया है. ये कर्ज की राशि अट्ठाइस हजार करोड़ रुपये है.

कर्ज की वास्तविक स्थिति क्या है, ये पता नहीं चल पाया है. अट्ठाइस हजार करोड़ का लोन किस आधार पर दिया गया है, यह भी जांच का विषय है.

पीपुल्स समाचार अखबार में पूरी लिस्ट है कि किस कंपनी को किस बैंक से कितने पैसे का लोन मिला है. नीचे देखें टेबल.

उधर, भास्कर ग्रुप के डायरेक्टरों और मैनेजरों को भास्कर के एमपी नगर स्थित हेड आफिस लाया गया और इनका सच से सामना कराया गया. पहले सबसे अलग अलग पूछताछ की गई. फिर एक दूसरे के सामने बिठाकर पूछताछ की गई ताकि सच और झूठ का पता चल सके.

पीपुल्स समाचार में छपी विस्तृत खबर देखें-

Latest 100 भड़ास