Categories: सुख-दुख

कोरोना टेस्टिंग पर ये कैसा नियम बना दिया! इससे कोरोना रुकेगा या फैलेगा? कहीं चुनावी चक्कर तो नहीं?

Share

गिरीश मालवीय-

कोरोना एक ऐसी बीमारी है जिसे सरकारें जब चाहे जैसा चाहे अपनी मर्जी से मोल्ड कर सकती है…

आज शाम को सरकार ने नई गाइडलाइंस जारी की है इसके मुताबिक संक्रमण की चपेट में आए मरीजों के संपर्क में आने वाले सभी लोगों को कोरोना टेस्टिंग की जरूरत नहीं है…

जबकि पहले हर व्यक्ति को जो कोरोना संक्रमित है उसे कहा जाता था कि वह अपने संपर्क में आए सभी लोगो को जांच कराने को कहे…

बहुत से लोग इस विषय पर सार्वजनिक रूप से घोषणा भी करते थे लेकिन अब ऐसी सूचना आपको पढ़ने को नही मिलेगी क्योंकि सरकार अब से ऐसा चाहती है….

केंद्र सरकार अब कह रही है कहा कि किसी भी व्यक्ति को कोरोना मरीज के संपर्क में आने के बाद तब तक कोविड टेस्ट की जरूर नहीं है जब तक वह व्यक्ति की पहचान हाई रिस्क वाले व्यक्ति के तौर पर न हो…

केंद्र सरकार ने कहा कि यहां ज्यादा हाई रिस्क यानी ज्यादा जोखिम से मतलब व्यक्ति की ज्यादा उम्र या फिर किसी बड़ी बीमारी के शिकार लोगों से है…

शायद सरकार चाहती है कि अब केस अधिक न निकले ताकि 15 जनवरी के बाद 5 राज्यो के चुनाव में रैली ओर रोड शो करने में कोई दिक्कत न आए…

View Comments

  • ee chunav hai bhaieeya, Bharat ka chunav... Dekh tamasha dekh.
    Ek post aaya tha mere paas.. "COVID se bachne ke tariko ka khud palan kare kyonki sarkar ke liye ham sirf ek aankada (number) hai................."

    Baaki kahawat hai "ye public hai sab janti hai" . Dekhna ye hai ki public kya janti hai our kya samjhti hai"

Latest 100 भड़ास