देहरादून सहारा के यूनिट हेड मृदुल बाली ने अखबार छोड़ा

देहरादून राष्ट्रीय सहारा के यूनिट हेड मृदुल बाली ने गत दिनो आधिकारिक तौर पर बता दिया कि वह सहारा छोड़ रहे हैं। हालाँकि उनके जाने की चर्चा पहले से जोरों पर थी, जिसे उन्होंने बातचीत के दौरान हड़ताली कर्मचारियों से स्वीकार किया था। हड़ताल समाप्त होने वाले दिन से अवकाश पर चले गए थे । 

बाली शुरुआती दौर से ही सहारा से जुड़े थे । दिल्ली के आलावा लखनऊ, कानपुर और देहरादून में उन्होंने अपनी सेवाएं दीं। वे सहारा के कर्मठ अधिकारियों में से एक थे । अपने मिलनसार स्वभाव, नेतृत्व क्षमता और वाकपटुता के कारण वे हमेशा स्टॉफ के प्रिय रहे ।



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करें-  https://chat.whatsapp.com/JYYJjZdtLQbDSzhajsOCsG

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Comments on “देहरादून सहारा के यूनिट हेड मृदुल बाली ने अखबार छोड़ा

  • Pankaj ji…jitne bakwass yahan kar rahe ho iska 1 percent bhi kamm haridwar bureau office mein kar lete na peece laat nahi padti. Kaam karo kaam rajneeti mat kro is field mein bacche ho tum…

    Reply
  • 😮 😥 😛 सुनने में आया है कि पटना में हुए एक घोटाले में बाली जी को दोषी पाया गया है. उनकी यह विदाई उसी का नतीजा लगती है. वैसे बाली साहब सहारा की मीटिंगों में ‘सहाराश्री’ के जितने गुणगान कर-करके अपने आप को बचाने का प्रयास कर रहे थे, वो बेकार ही गए.

    Reply
  • पितामह भीष्म says:

    मृदुल बाली साहब ने जितना टाइम स्टाफ को प्रवचन दिया उसका 1/4 काम करते तो यूनिट डाउन ना जाती। हर एक स्टाफ को सहारा की मजबूती बताते और खुद ही समय से पहले बाहर, वाह कर्तव्ययोगी।

    Reply
  • द्रोणाचार्य says:

    बाली साहब को सहारा का अंतिम प्रणाम
    बाली साहब आपने जिस प्रकार देहरादून यूनिट के कर्मचारियों की मेहनत की कमाई नोएडा भेज भेज कर अपने नंबर कमाने चाहे, वो कबीले तारीफ था। … पर न ही नंबर कमा पाये और न ही नौकरी। । अब जय राम जी की बोलूं या सहारा प्रणाम

    Reply
  • अच्छा हुआ चले गये।पूरे यूनिट के नाक मे दम कर रखा था।काम तो कुछ करते नहीं थे बस भाषणबाजी और पूरे दिन सहारा का बखान करके टाइम काटते थे।

    Reply
  • वैसे देहरादून यूनिट मै बाली जी धमाल करने आये थे पर कुछ करने का जज्बा भासण बाजी तक ही सीमित रह गया. जो थोड़ा बहुत अखबार बाजार मै बिक भी रहा था वो भी नीचे आ गया.

    Reply

Leave a Reply to pankaj Cancel reply

Your email address will not be published.

*

code