A+ A A-

प्रभात खबर का ग्रुप संपादक बनने तथा हरिवंश के दायित्व मुक्त होने के बाद प्रधान संपादक आशुतोष चतुर्वेदी ने दूसरी बार रेज़िडेंट एडिटर लेवल पर बड़ा बदलाव किया है। अगस्त महीने में जीवेश रंजन सिंह को देवघर एडिशन का संपादक तथा अजय कुमार को बिहार में स्टेट एडिटर बनाया गया था। दो महीने बीतते बिताते जीवेश रंजन को देवघर से चलता कर दिया गया। हालांकि जीवेश ने यहां बदलाव के कई काम किये। अखबार को माइलेज भी मिला। किन्तु दो दिन पूर्व उच्च प्रबंधन स्तर पर एक बड़ा निर्णय लिया गया।

कई लोग इधर-उधर किये गए हैं, तो कुछ का पर कतर दिया गया है। कुछ लोगों की जिम्मेदारी भी बढ़ी है। जीवेश रंजन को देवघर से हटाकर एकबार फिर भागलपुर भेजा गया है। जीवेश इससे पूर्व भी यहां संपादक रह चुके हैं। वर्तमान संपादक ब्रजेंद्र दुबे को यहां से हटाने के बाद कोई नई जिम्मेदारी नहीं दी गयी है। संभवतया उन्हें मुख्यालय से अटैच किया जाएगा।

देवघर में संपादक पद पर पंचायतनामा के संपादक तथा डिजिटल विंग के प्रमुख संजय मिश्रा को भेजा गया है। श्री मिश्रा इससे पूर्व भी देवघर के स्थानीय संपादक रह चुके हैं। मुजफ्परपुर एडिशन के संपादक शैलेंद्र पर भी गाज गिरी है। उन्हें हटाकर पटना में ब्यूरो प्रमुख मिथिलेश को जिम्मेदारी दी गयी है। शैलेन्द्र की अभी कहीं तैनाती नहीं हुई है। अब तक ग्रुप में अहम ओहदा संभालने वाले कॉर्पोरेट एडिटर राजेन्द्र तिवारी को डिजिटल विंग का प्रमुख बनाया गया है।

झारखंड के स्टेट एडिटर अनुज सिन्हा का उत्तरदायित्व बढ़ाया गया है। उन्हें पंचायतनामा का दायित्व सौंपा गया है। आने वाले दिनों में सीनियर लेवल पर कई बदलाव होने की संभावना है। साथ ही जूनियर लेवल पर भी बदलाव के संकेत हैं। बीते कई वर्षों से जूनियर लेवल पर कोई फेरबदल नहीं हुआ है। नए प्रधान संपादक इस स्तर पर भी बदलाव को लेकर गंभीर हैं।

प्रभात खबर में कई वर्षों से कर्मियों का प्रमोशन बंद

प्रभात खबर ग्रुप में पिछले सात-आठ वर्षों से एडिटोरियल सेक्शन के कर्मियों का प्रमोशन नहीं हो रहा है। जिनकी बहाली सब एडिटर, सीनियर सब एडिटर या चीफ सब में हुई थी, आज भी उसी पद पर काम कर रहे हैं। हरिवंश के प्रधान संपादक रहते प्रमोशन की कवायद शुरू हुई थी, लेकिन बाद में ठंडे बस्ते में चला गया। इसका खमियाजा कर्मियों को उठानी पड़ रही है। कर्मी क्षुब्ध हैं। नए प्रधान संपादक आशुतोष चतुर्वेदी के राजकाज में रुका पड़ा प्रमोशन होने की आशा एकबार फिर जगी है।

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found

Latest Bhadas