गौरव सहाय जी न्यूज पहुंचे, सुशील सिंह और विद्याशंकर ने ए2जेड छोड़ा, न्याय सेतु से शशि भूषण हटे

गौरव सहाय के बारे में सूचना मिली है कि उन्होंने जी न्यूज के साथ नई पारी की शुरुआत की है. गौरव सहाय ने डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट सेल्स के पद पर ज्वाइन किया है. ए2जेड न्यूज चैनल से सूचना मिली है कि न्यूज हेड सुशील सिंह और पोलिटिकल एडिटर विद्याशंकर तिवारी ने इस्तीफा दे दिया है. ए2जेड न्यूज चैनल को आसाराम एंड कंपनी का चैनल माना जाता है. ये चैनल एकतरफा तौर पर आसाराम का गुणगान करता रहता है. चैनल के सीईओ कोई वेद शर्मा बताए जाते हैं.

हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर से प्रकाशित हिंदी दैनिक न्याय सेतु से शशि भूषण पुरोहित ने इस्तीफा दे दिया है. वे अमर उजाला छोड़कर न्याय सेतु से जुड़े थे और मंडी संसदीय क्षेत्र का प्रभार देख रहे थे. बताया जाता है कि उन्होंने प्रबंधन की गलत नीतियों से तंग आकर न्याय सेतु का साथ छोड़ दिया. कुल्लू जिला के प्रभारी मुकेश मेहरा ने भी अभी हाल ही में अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. इससे पूर्व भी सेतु के काँगड़ा जिला प्रभारी मुनीश बन्याल समेत पत्रकार विरेन कुमार और राकेश भारद्वाज दैनिक न्याय सेतु की कार्य प्रणाली को कोस कर इसका साथ छोड़ चुके हैं. पत्रकारों पर विज्ञापन के अतिरिक्त दवाब का असर ऐसा है कि इस समाचार पत्र में कई और  विकेट गिरने को तैयार हैं.

आपको भी कुछ कहना-बताना है? हां… तो bhadas4media@gmail.com पर मेल करें.



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करें-  https://chat.whatsapp.com/JYYJjZdtLQbDSzhajsOCsG

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Comments on “गौरव सहाय जी न्यूज पहुंचे, सुशील सिंह और विद्याशंकर ने ए2जेड छोड़ा, न्याय सेतु से शशि भूषण हटे

  • NAVJEEVAN sharma says:

    media line is a one way trafic so no body can knows when he/she kicked out. if somebody join media line such as a reporter u should must be know that u survive all the time but u did not get good response from media in future. my message to all indian new generation dont join media line. because in media u do good urside its ok for u but when u diappointed from media then u totaly hopeless.

    Reply
  • kishan shrimaan says:

    वाह! क्या रणनीति है दैनिक न्याय सेतु की। पेपर शुरू करने से पूर्व इस बात पर मंथन चलता रहा कि किस प्रकार से प्रदेश में अच्छे-खासे चल रहे समाचार-पत्रों के जुझारू पत्रकरों को तोड़कर अपने ग्रुप में शामिल किया जाए। इसके लिए उन्हें कई सबजबाग दिखाए गए। लेकिन इतने कम समय में ही कुछ लोगों का ग्रुप छोड़कर जाना दुःखद घटना है। इस घटना से कुछ लोग तो निपट लेंगे लेकिन कुछ का क्या हो!

    Reply

Leave a Reply to kishan shrimaan Cancel reply

Your email address will not be published.

*

code