न्यूज24 के पत्रकार की हरकत से दुखी मकान मालिक ने चैनल मालकिन अनुराधा को भेजा पत्र

Subject : HARASSMENT ON NAME OF NEWS24 CHANNEL

To

anurradha ji and Jacob Mathew ji

Dear Sirs,

Please refer the subjected matter,In continuation of same i wish to bring it to your kind Notice and expect your favorable action against same. Mr.Prashant Dev Shriwastav had taken our Flat in Indrapuram on rent in the month of August 2018 and now as we have sold this property and issued him the notice to vacate a month before but to our surprise his intentions seem not to be good and he is creating issue to follow the agreement term of vacating the property with notice of 1 month.

He is taking name of the reputed channel NEWS24 that he has back up of the Channel and he will not vacate to property.As we know and trust that for such matters a company of repute will never support the employee and will not tolerate too to if he is defaming the Channel in such manner.

With no option i was forced by the circumstances to keep you updated that using your name this gentleman is planing scam to absorb my property. He is arranging calls from various persons that “PATRKAAR SAHIB ki baat maan li jae”. He arrange calls from local goons,Crimebranch using the brand of NEWS24. He proudly says ki “mei News 24 kaa patrkaar hu, jo dil karega karunga.”

Next we have no option except logging FIR against him, if NEWS24 too will not help us to get the matter resolved,but prior that we it is our responsibility to bring in notice of the Management for the anti social activity he is doing and using the name of the Channel.

We expect you to kindly look into the same and stop him doing such activity and not to spoil the image of Channel.

Attached is the agreement for your reference and further if required we can submit his recordings too enabling management to be aware of the facts.

Awaiting your support in the matter, Hope to hear back from the managing committee.

Best Regards,
Rajesh Kadwe
Brother of property owner Mr.Lavlesh Kadwe
rajeshkadwe@gmail.com

इस खबर पर आरोपी पक्ष प्रशांत देव का बयान…

डिअर यशवंत ज़ी

जो आपने खबर छापी है वो राजेश कड़वे की ओर से वो पूरी तरह से निराधार है. राजेश कड़वे एक ब्लैकमेलर है. मैं एक वैलिड एग्रीमेंट के आधार पर इस फ्लैट में हु. राजेश ने ये फ्लैट बेचने की डील पहले मेरे साथ की और पैसे के लालच में मेरे साथ साथ किसी और को भी फ्लैट बेचने की डील कर दी. मुझे धोखे में रखकर मुझसे पैसे ऐठने की कोशिश कर रहा था. जब मैं इसके झांसे में नही आया तब इसने इस तरह से मुझे परेशान करना शुरू किया.

अब वो मेरे चैनल का नाम बदनाम कर मेरे ऊपर दबाव बनाने का काम कर रहा है, मुझे बदनाम कर रहा है. इस मामले का चैनल से कोई लेना देना नहीं है, लेकिन वो चैनल का नाम बदनाम करने की कोशिश कर रहा है. राजेश और उसके साथियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई पहले से ही चल रही है. चैनल को लिखे मेल में सभी बातें झूठ लिखी है. उसे कभी किसी ने धमकी नही दी, बल्कि उल्टा वो हमें इस बात की धमकी देता है कि वो हमें इस तरह से बदनाम करेगा, और वो कर रहा है.

प्रशांत देव श्रीवास्तव

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “न्यूज24 के पत्रकार की हरकत से दुखी मकान मालिक ने चैनल मालकिन अनुराधा को भेजा पत्र

  • Very strange to hear that…How can the owners of such reputed channel be so normal on such activity of their staff.This staff member is simply putting the Channel reputation on stake.Shameful

    Reply
  • Brajesh Pawar says:

    It is very bad for News24. Mr. Shriwastav doing very bad. This type of work very down the image of News24. News24 should take serious action against this type of person. If such type of work doing by employe of News24. So no body will trust on media. I request to management of News24 take serious action on Mr. Shriwastav.

    Reply
  • लीगल नोटिस भेजो भाई अनुराधा जी तो वाकई ईमनादार आदर्शो वाली महिला है लेकिन जिस जैकब का नाम आपने लिखा है वो तो न्यूज़ 24 की लोमड़ी है उसका दिमाग लोमड़ी के माफिक चलता है एक नंबर का दलाल है यूपी में हरदोई जैसे जिले से अपने रजिस्टर्ड दलालो को खनन की अवैध वसूली के लिए हमीरपुर का रिपोर्टर बना दिया जबकि सभी जानते है की न्यूज़ 24 या कोई और चैनल स्ट्रिंगर्स को क्या देता है शायद इतना नहीं की इंसान 4 वीलर और खाना खर्चा चला ले लेकिन अब ये लोमड़ी बुन्देलखण्ड से ही लाखो रूपए माहवार की शर्त पर अपने स्ट्रिंगर नियुक्त कर रहा है
    जैकब को लोमड़ी क्यों कहा जाता है चलिए आपको बताते है

    1 : बाते बनाने में एक्पर्ट है और हर खेल में इसको माल हिस्सा चाइये
    2 : फ़ोन काल पर बात नहीं करता व्हाट्सप्प कॉलिंग करता है रात में
    3 : केरल के बैंक एकाउंट्स में ट्रांजक्शन कराता है
    4 : अनुराधा जी के विरोधियो के साथ भी स्ट्रांग बॉन्डिंग है
    5 : सुधीर जी का नजदीकी शराब और शबाब का प्रबंधन जैकब के पास ही है

    Reply
  • News24 image fall down from this type of waste employee of News24. Immediate remove this employee from News24. Owner take legal action against News24.

    Reply
  • Don’t use the power of Media. Mr. Shriwastav misuse the News24 name. NEWS24 should take legal action against Mr. Shriwastav.

    Reply
  • Deepak Balde says:

    It is wrong. As per agreement he should vacant the flate. NEWS24 SHOULD taken strong action against such person who use the name of News24

    Reply
  • madan kumar tiwary says:

    भाई मकान खाली करवाने का नियम है न, कोई पत्रकार है या वकील, मकान मालिक उसके संस्थान को शिकायत करके खाली करवाने के लिए रौब जमाएगा ? मकान मालिक का रवैया गलत और आपराधिक है, उसे नियमानुसार कोर्ट में केस करना चाहिए, बजाय चैनल को पत्र लिखकर पत्रकार पर दबाव बनाने के,

    Reply
  • Vaibhav Sandalwar says:

    Patrakaar log hi aise karne lage to normal janata kaha jayegi. News pe to bharosa hi uth jayega sab ka. Aisi sakti nhi honi chahiye. Sab log ghar athawa flat kiraye se dena hi chod denge.

    Reply
  • Vivek singh says:

    I am shocking for reputed channel NEWS24 after reading this article .

    Its very vey shameful that this media channel is supporting this kind of activities .

    We citizens of India are having always a hope with the reporters to support in a better society and after reading this horrible.

    ITHANK YOU

    BEST REGARDS

    Reply
  • Shame on this type of media person because of these type of persons directly finger on media.
    Dear Mr. Kadwe we are with you.

    Reply
  • News24 must take action against such unsocial elements who is ruined its name, a media men doesn’t get the licence to do anything because of media person no one will stop him, i urge to police to support the owner, create an example to show the people that no one can do wrong thing whatever their posion and power they have, if a common men is right no one can threat him.

    Reply
  • prashant dev srivastava says:

    डियर, यशवंत ( भडास फार मिडिया)

    एक जॉर्नलिस्ट कि हैसियत से मैं पिछले करीब 20 सालों से मीडिया में काम कर रहा हु, आपने मुझे बदनाम कर, मेरे प्रोफेशनल carrier की इंटीग्रिटी पर सवाल खड़ा कर दिया है, जिससे मैं बहुत आहत हू।
    खबर लिखने का पहला सिद्धांत है कि दोनो पक्षो की बात आनी चाहिए , खासकर जिस पर आप आरोप लगा रहे है उसके बारे में उसका पक्ष जरूर लेना चाहिए, लेकिन आपने ऐसा नही किया, जब आपने पहली बार मेरे खिलाफ लिखा, लिखने के पहले आपने मुझसे बात करके मेरा पक्ष नही जाना। आपको इस बात का अंदाज़ा नही है कि आपके इस व्यवहार से मैं और मेरा परिवार किस प्रताड़ना के दौर से गुजर रहा है।
    मेरे जैसे साधारण पत्रकार के ऊपर इस तरह का हमला क्यो? ये मेरी समझ से बाहर है, .
    सालों की कड़ी मेहनत और लगन से मीडिया में ये जगह बनाई है , मेरा आपसे निवेदन है कि बिना पूरी बात जाने इस तरह से मुझे बदनाम ना करे।
    जहां तक फ्लैट के विवाद की बात है या जो आरोप आपने मेरे ऊपर लगाया है मकान कब्जा करने का वो पूरी तरह से बेबुनियाद है, मेरे खिलाफ माफियाओं का षड्यंत्र है . सोशल मीडिया पर आपके द्वारा दुष्प्रचारित की गई हर बात का जवाब मेरे पास है। लेकिन मैं आपको ये बताना चाहता हू की इस पूरे षड्यंत्र के पीछे बिल्डर माफिया, प्रॉपर्टी डीलर माफिया सक्रिय है, जिससे मैं और मेरा परिवार खौफ में है,।

    मैं भड़ास के पाठकों को ये बताना चाहता हूँ की मैं वैलिड रेंट एग्रीमेंट पर हू , और मकान मालिक ने खुद ये घर किराया पर मुझे दिया है, जिसका वो किराया लेता है, मैं जबरदस्ती इनके घर में नही घुसा हूँ। समय पर किराया देता हूं , और अपनी मजबूरी परेशानी को देखते हुए टेनेंसी एक्सटेंड करने की request भेजी है,। आपको हैरानी होगी ये जान कर की मुझे आज तक ये नही पता है कि लवलेश कड़वे कहाँ रहता है, उनका भाई कहाँ रहता है, उसका पता क्या है, सिर्फ फ़ोन पर सम्पर्क हो सकता है, वो भी जब वो करना चाहे।

    मैं ये बात साफ कर देना चाहता हूँ की रिकॉर्ड के हिसाब से इस मकान का मालिक लवलेश कड़वे है , मैं सिर्फ किरायदार हू। मुझे समझ नही आता कि मेरे मकान मालिक ने इसे इतना विवादित क्यो बनाया, ? जो बात बैठ कर आपस मे सुलझ सकती है उसके लिए इतना बवाल क्यो ?

    मैं इस बात से आशंकित हूँ की इसके पीछे बिल्डर माफिया का षड्यंत है, जो इसका मकान हड़पना चाहते है, । आश्चर्य की बात है कि मै अपने मकान मालिक लवलेश कड़वे को अप्रैल के महीने से फ़ोन कर रहा हूँ की आकर बात करिये , या फिर मुझे बताइये कहा आना है , लेकिन वो नही आये,। मुझे उलझा कर रखा सीधे कानूनी नोटिस भेज दिया जो मुझे मिला नही। मकान मालिक नोटिस भेजे तो कानून की बात और अगर मैं कानून की बात करूं तो एतराज क्यों? मैं अपने मकान मालिक ये यही कहना चाहता हूँ की या तो कानूनी रास्ता पकड़ो, या फिर आपस मे बैठ कर बात करो, किसी एक जगह रहो।

    अब मेरे खिलाफ राजेश कड़वे का षड्यंत्र और आतंक सुनिए…. जो खुद को लवलेश कड़वे का भाई बताता है। जानकारी के मुताबिक ये एक वैशाली का बदनाम प्रॉपर्टी डीलर रहा है, और लवलेश कड़वे ने ये बात कभी नही बताई की वो उसका भाई है। अप्रैल 2019 के महीने में लवलेश कड़वे प्रॉपर्टी डीलर के साथ मेरे घर मे घुस गया, बिना मेरी मौजूदगी में, घर मे पत्नी बच्चे अकेले थे …फ्लैट बेचेने की बात लेकर, ।
    मै शहर से बाहर था मैंने फौरन मकान मालिक लवलेश को फ़ोन पर ये बात बताई… लवलेश ने फोन पर जबाब में कहा कहा ” ऐसी कोई बात नही है.. मुझे फ्लैट नही बेचना है आप फ्लैट में आराम से रहिये”।

    ( हर फ़ोन रिकॉर्डिंग का दावा करने वाले इस बातचीत की रिकॉर्डिंग ऑडियो भी सुनाये )

    मैं निश्चन्त होकर रहने लगा क्योकि फ्लैट किराये पर देने के पहले मकानमालिक से ये बात हुई थी कि फ्लैट बिकने वाला नही है, और मैं इसमे शिफ़्ट हो गया। लेकिन राजेश कड़वे इस फ्लैट को बेचने पर आमादा था, चौकाने वाली बात ये है कि राजेश प्रॉपर्टी डीलरों को तभी भेजता था मेरे घर मे, जब मैं शहर से बाहर होता था, ऐसा कई बार हुआ मेरी गैरमौजूदगी में प्रॉपर्टी डीलर घर मे घुसते थे, परिवार परेशान होता था, और मैं शहर में नही होता था, और मेरा मकान मालिक लवलेश कड़वे मुझसे फ़ोन पर बात नही करता था। परेशान होकर मैन राजेश कड़वे को फ़ोन पर बताया कि फ्लैट बेचना चाहते हो तो मुझे ही दे दो, एक दो मीटिंग के बाद मेरी डील फ्लैट खरीदने की हो गई। इस बीच राजेश कड़वे ने फ़ोन पर मुझसे 2 लाख रुपए की मांग की, कहा एडवांस चेक से हमारे एकाउंट में जमा कर दो , मैने फ़ोन पर राजेश कड़वे को कहा मकान मालिक को तो बुलाओ, एग्रीमेंट पर sign तो मकान मालिक के ही होंगे। राजेश कड़वे ने हैरान करने वाला जवाब दिया

    “राजेश कड़वे ने फ़ोन पर मुझसे कहा कि 2 लाख एकाउंट में जमा कर दो मैं corrier भेजकर मकान मालिक का sign करा दूंगा ”

    क्या कभी सेल एग्रीमेंट ऐसे बनता है?

    क्या कोई इस तरह से घर खरीदने का एडवांस दे सकता है?
    मकान मालिक लवलेश चुप क्यों है?
    राजेश कड़वे मुझसे फ्रॉड करके पैसे हड़पना चाहता था। राजेश कड़वे की नीयत में खोट थी , राजेश ने फ़ोन पर मुझे बताया की उसने फ्लैट बेचने का अग्रीमेंट किसी और से कर लिया है… इस पर मैंने उसे निवेदन करते हुए कहा कि मैं प्राइस मैच करने के लिए भी तैयार हूं । मेरे परिवार को ये घर पसंद है हम इसे खरीद लेंगे । मैन सभी बात मकान मालिक लवलेश को भी बताई, तय कीमत से 5000 ज्यादा की रकम देने का निवेदन किया । फिर भी वो मुझे फ्लैट नही देना चाहते है तो ये उनका अधिकार है। मेरा निवेदन था, कोई जबरदस्ती नही।, क्योकि लवलेश मकान मालिक है उसको पूरा अधिकार है अपना फ्लैट किसे बेचे।

    ( ये बात अप्रैल 2019 के महीने की है। हर फ़ोन रिकॉर्डिंग का दावा करने वाले इस बातचीत की रिकॉर्डिंग ऑडियो भी सुनाये )

    महीनों मकान मालिक लवलेश ने मुझसे बात नही की.. और अचानक दो दिन पहले फ़ोन किया और मेरी बातचीत की रिकॉर्डिंग सोशल मीडिया में वायरल कर दी। और खुद एक्सपोज़ हो रहा है, मुझे अपशब्द बोलकर। इस विवाद के बीच किराया भी लेता रहा, आज की तारीख में जितना किराया बनता है उससे ज्यादा की रकम उसके खाते मे मेंरी ओर से जमा है। फिर भी मेरी ओर से कोई विवाद नही है, सज्जनता से बैठ कर बार करने से समस्या तुरंत सुलझ जाएगी।

    डिअर, यशवंत ,
    मेरे खिलाफ एक तरफा मत लिखो, और सच लिखो। मैं एक पत्रकार हू , एक रेपुटेड संस्था में काम करता हु, इसकी आड़ लेकर मुझे और मेरी संस्था को बदनाम मत करिये। आपको ये बता दूँ मेरे साथ हो रहे अन्याय के खिलाफ मैं लड़ूंगा, हर हाल में लड़ूंगा, ..…. ये जानते हुए की इसमे बिल्डर माफिया सक्रिय है, मेरी जान को भी खतरा हो सकता है , लेकिन एक पत्रकार के लिए इजज्जत और सम्मान सबसे बड़ी चीज है। इस पर हमला बोलने वालों के खिलाफ कानूनी आवाज जरूर बुलंद करूँगा।

    प्रशांत देव श्रीवास्तव
    (पीड़ित )

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *