मकान कब्जाने के आरोपी न्यूज24 वाले प्रशांत देव के स्पष्टीकरण का मकान मालिक ने दिया जवाब, पढ़ें

डिअर यशवंत जी,

संपादक, भड़ासमीडिया

आपको और आपकी पत्रकारिता को जय हिन्द। आपका तहे दिल से धन्यवाद कि इस दौर में मुझसे बिना मिले आप मेरे सत्य के लिए मेरे साथ खड़े हैं। मुझे पत्रकारिता का अनुभव नहीं लेकिन आपने सत्यता की जांच कर मेरा पक्ष रखा है। मैं यह नहीं जानता कि आपके ऊपर किस तरह का दबाव होगा पर आपने मेरी आवाज को उठाया और सत्य का साथ दिया, इसके लिए आभारी हूं। प्रभावशाली और अनुभवी पत्रकार प्रशांत देव श्रीवास्तव को 3 महीने लग गए अपना पक्ष रखने में। क्यों? क्योंकि उनके झूठ का पुलिंदा भड़ासमीडिया के द्वारा सबके सामने आ गया।

प्रशांत ने अपनी 20 साल की पत्रकारिता के अनुभव के बाद जो कुछ लिख कर आपके यहां छपवाया है, वह सरासर झूठ है। अगर ये साधारण-सा पत्रकार होते तो किसी के मकान पर कब्ज़ा नहीं करते। समय पर सुचना मिलने के बाद बहाने से टेनेन्सी बढ़ाने की बात नहीं करते। अपने परिवार की दुहाई देकर मेरे जैसे आम आदमी का मानसिक शोषण नहीं करते। मुझे और मेरे भाई को अलग-अलग बताकर अनर्गल आरोप नहीं लगाते। आपने आडियो में सुना होगा कि ये पत्रकार प्रशांत मकान खाली करने के लिए तैयार नहीं है। प्रशांत जी ने सारे मनगढ़ंत आरोप प्रत्यारोप कर लिए पर ये कहीं नहीं कहा कि वे मकान खाली कर देंगे।

प्रशांत जी पत्रकार हैं इसलिए उनको कहानी बनानी खूब आती है। उन्होंने शब्दों के मायाजाल के जरिए बड़ी डरावनी तस्वीर खड़ी की है। लेकिन सच्चाई इससे बिलकुल उल्टा है। मेरे या मेरे भाई राजेश कड़वे के साथ कोई बिल्डर माफिया या प्रॉपर्टी डीलर माफिया नहीं है, जिसका प्रशांत जी डर दिखा रहे है। मेरे भाई राजेश कड़वे को वैशाली का बदनाम प्रॉपर्टी डीलर बताने वाले प्रशांत जी से कहना चाहूंगा कि राजेश भी अपनी सत्यता प्रमाणित करेगा और आपके झूठ को बेनकाब करेगा, यहीं भड़ास पर लिखकर।

बताना चाहूंगा कि मैं और राजेश बचपन से साथ है। सन 2000 में NCR में साथ में आये और शक्तिखंड इंद्रापुरम में किराये पर रहे। 2004 से उक्त फ्लैट (जिस पर प्रशांत जी ने कब्ज़ा किया है) में 2014 तक साथ रहे। दिसंबर 2014 में राजेश ने अपना लघु उद्योग इंदौर में इंडिया पॉलीमर्स के नाम से प्रारम्भ किया।

व्यापार में उतार चढ़ाव के बाद राजेश पुनः JANUARY 2019 में NCR आ गया। मैं भी 2016 से अब तक इंदौर में हूँ और पुनः NCR में आने के लिए प्रयासरत हु। जैसा प्रशांत जी ने बताया की वैलिड रेंट एग्रीमेंट पर हैं, किराया समय पर देते है, जबरदस्ती मेरे घर में नहीं घुसे हैं, सही है पर समय से सुचना देने के बाद टेनेन्सी एक्सटेंड करने की रिक्वेस्ट कर रहे हैं, क्यों?

अगस्त २०१८ से आज तक प्रशांत जी ने यह जानने की कोशिश नहीं की कि मकान मालिक कहां रहता है, क्यों? जबकि उन्हें रेंट एग्रीमेंट के समय बताया गया था कि मैं इंदौर में रहता हूं। प्रशांत जी के मन में खोट आ गयी कि ये आम लोग, साधारण व्यक्ति का मकान हड़प लेते हैं।

यशवंत जी आप मेरे फ़ोन की डिटेल चेक करें, सत्य सामने आ जाएगा। प्रशांत जी कभी कहते हैं कि लवलेश मुझे फ़ोन नहीं करता। कभी कहते हैं कि सिर्फ फ़ोन पर संपर्क होता है। मैं कहना चाहता हूं कि मेरा मकान कोई बिल्डर नहीं हड़पना चाहता, जैसा प्रशांत आरोप लगाते हैं। सच्चाई तो ये है कि मेरा मकान प्रशांत जी हड़पना चाहते हैं, इसलिए खाली नहीं कर रहे हैं एवं मुझे और मेरे भाई को बदनाम कर रहे हैं।

मैं कोई प्रभावशाली व्यक्ति या पत्रकार नहीं हूं कि एक्सपोज़ हो जाऊँगा। मैंने व्हाट्सप्प के माध्यम से अपने लिए मीडिया, समाज, अपने सहयोगी और सोसाइटी मेंबर्स से मदद की गुहार लगाई है। प्रशांत जी का झूठ बोल रहे हैं कि लवलेश कड़वे अप्रैल 2019 में डीलर के साथ उनकी अनुपस्तिथि में घर आया और उनकी पत्नी बच्चों को डराया। मैं प्रशांत जी से अगस्त 2018 में सुनील प्रॉपर्टी डीलर की शॉप पर मिला था। रेंट एग्रीमेंट, पुलिस वेरिफिकेशन पर हस्ताक्षर किये, जिसकी ओरिजिनल कॉपी मेरे पास है। इसके बाद से मैं आज तक दिल्ली या इंद्रापुरम नहीं गया, आप जांच करवा लें।

मेरे भाई राजेश कड़वे पर २ लाख की मांग करने का आरोप एक और झूठ है। कोई बिना-लिखा पढ़ी कैसे किसी से 2 लाख रुपये मांग सकता है और कैसे 2 कोई दो लाख रुपये दे सकता है, यह आश्चर्य है। यह पूरा आरोप ही फर्जी और बनावटी है। खोट प्रशांत जी में है, मेरे भाई में नहीं है। प्रशांत जी से अब कहना चाहूंगा कि मेरा फ्लैट खाली कर दें, कोई बहाना ना बनायें। सब कुछ बहुत सीधा और सरल है। इसे उलझाइए नहीं। आप मकान में किराएदार बनकर आए। हम तीन महीने पहले बता दिए कि मकान खाली करना है आपको। आप मकान पर कब्जा करना चाहते हैं, इसलिए तरह-तरह के बहाने बना रहे हैं। तरह-तरह के आरोप लगा रहे हैं।

फ़ोन डिटेल से पता चल जायेगा कि मैंने कभी प्रशांत को रेंट के लिए फ़ोन नहीं किया। एग्रीमेंट के अनुसार हर महीने की 15 तारीख को एडवांस जमा करना होता है, जो कि कभी 23 तारीख से पहले प्रशांत ने नहीं किया। इस साल मार्च का किराया तो 2 अप्रैल 2019 को जमा कराया। अप्रैल में फ्लैट खाली करने की बात राजेश जी ने कही तो मई में किराया 16 जून को जमा कराया। जून में सूचित होने के बाद भी बिना जानकारी के किराया जमा करा दिया। प्रशांत जी के ज्यादा रकम की बात भी झूठी है। आप मेरा बैंक स्टेटमेंट चेक करवा लें।

आप बिजली बिल और सोसाइटी चार्ज की जांच करा लें, जो कभी समय पर जमा नहीं किया। प्रशांत जी बार बार आग्रह कर रहे हैं कि सज्जनता से बैठकर बात करें। आप सभी को पता है कि एक बार अगर हम उनसे मिलने चले गए तो प्रशांत जी मेरे या मेरे भाई के ऊपर गलत व घिनौना आरोप लगा देंगे। वे कह देंगे कि मुझे जान से मारने की धमकी दिया और पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करा देंगे। इस वजह से हम लोग उनसे नहीं मिल रहे हैं क्योंकि मुझे और मेरे भाई को उनकी पत्रकारिता से खतरा है, उनकी खराब नीयत से डर है। वे मकान कब्जाना चाहते हैं इसलिए अपना पूरा ताकत पुलिस में लगाए हैं।

यशवंत जी, प्रशांत जी ने अपने 20 साल की पत्रकारिता के अनुभव में सबसे पहले आपके बारे में लिखा है, ताकि आप जो सत्य का साथ दे रहे हैं, उससे पीछे हट जायें। पत्रकार महोदय को अनुभव अनुसार पता है कि कानूनी कार्यवाही में समय लगता है, इसी बात का फायदा उठाना चाहते हैं कि आप कदम पीछे हटाएं ताकि प्रशांतजी को पर्याप्त समय मिले, मुझे और मेरे भाई को प्रताड़ित कर मकान पर कब्ज़ा कर सकें। पर विजय हमेशा सत्य की होती है।

लवलेश कड़वे
{प्रभावशाली पत्रकार प्रशांत देव श्रीवास्तव (किरायेदार) से पीड़ित मकान मालिक}
lavleshkadwe@gmail.com


संबंधित पोस्ट….

मकान कब्जाने के आरोपों पर न्यूज24 के पत्रकार प्रशांत देव का ये है विस्तृत जवाब, पढ़ें

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “मकान कब्जाने के आरोपी न्यूज24 वाले प्रशांत देव के स्पष्टीकरण का मकान मालिक ने दिया जवाब, पढ़ें

  • Naresh Soni says:

    प्रशांत की सत्यता पूरी तरह से संदेह के घेरे में है। बहुत सीधा सा मामला है, मकान मालिक घर खाली कराना चाहता है, तो किरायेदार को खाली कर देना चाहिए। अब चाहे माफिया लगा हो या गुंडे मकान कब्जाना चाहते हों, उससे तो तकलीफ मकान मालिक को होना चाहिए। प्रशांत ऐसी बातों से सिर्फ मामले को उलझाते दिखते हैं।

    Reply
  • Puneet kumar singh says:

    प्रशांत देव एक अच्छे विनम्र साफ सुथरी छवि वाले व्यक्ति है और हंसमुख व्यक्ति हैं। यह फर्जी न्यूज़ चैनल केवल प्रचार और अपमानजनक छवि बना रहा है प्रशांत देव का। झूठे मनगढंत कहानी बना के प्रशांत क छवि को खराब करने के लिए साजिश कर रहा है। कृपया इस झूठे खबर फैलाने वाले न्यूज़ मीडिया को नज़रंदाज़ करे।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *