Categories: टीवी

नविका कुमार ने तो चापलूसी की हद पार कर दी!

Share

मनीष दुबे-

टाइम्स नाउ वाली नविका कुमार पर स्वर्ग से हुई फूलों की बारिश… यूपी में आगामी विधानसभा चुनाव 2022 के मद्देनजर देश के बड़े मीडिया समूह टाइम्स ने अपना हिंदी वर्जन मार्केट में उतारा है.कल इसकी विधिवत लॉन्चिंग हुई है.पूत के पांव कल पालने में ही दिख गए थे.जब तब कमान सम्हाल रही नविका कुमार अपने रिपोर्टर्स का परिचय करवा रही थीं.इस परिचय में ही सत्तादल भाजपा के लिए सॉफ्ट कॉर्नर दिख रहा था.परिचय में साफतौर पर मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को कोसा जा रहा था.जबकि पत्रकारिता में दोनों को समान नजरिये से देखा जाना चाहिए था.

संपादिका महोदया ने आज तो बगैर मधुबाला बने ही गज्जब कर डाला.कितने मैडल आये ओलंपिक में भारत के.सबसे टॉप पर चीन ही है, जबकि भारत के बमुश्किल 2 मैडल निकल सके हैं. ऐसे में नविका कुमार ने खेल मंत्री अनुराग ठाकुर की तारीफ में इस कदर कसीदे गढ़े की देश के खिलाड़ियों बे अगर सुना होगा तो जितनी निराशा उन्हें हारने पर नहीं हुई होगी, उससे कहीं ज्यादा नविका की यह बकवास पचीसी सुनकर हुई होगी.उनका मनोबल टूट गया होगा. हां इस बीच अगर पीएम ने यह सुना होगा तो दो-चार करोड़ का फालतू विज्ञापन जरूर मिल जाएगा.वैसे भी इस गवर्मेंट को फोटू और विज्ञापन की भूख कुछ जादा ही है.

हां तो, टाइम्स नाउ की नविका कुमार ने खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से कहा -‘आपके आते ही ओलंपिक में मेडल्स की बौछार हो रही है।’ जिसपर ठाकुर भी मुस्कुराए बगैर न रह सके.आखिर झूठी प्रशंशा किसे अच्छी नहीं लगती.वो भी तब जब सामने फर्जी राष्ट्रवाद के बैनर तले वाले लोग हों. तो भईया यह सुनकर देवताओं तक मे हर्ष की लहर दौड़ गई.पत्तलखोरों ने संख निकाल लिए….और फिर..

इतना सुन कर चंदर बरदाई ने स्वर्ग से नविका कुमार पर जबरदस्ती फूल बरसाने शुरू कर दिए।

View Comments

  • अमर उजाला दिल्ली के संपादक से बड़ा पत्ते चाट चमचागीरी करने वाला कोई नहीं होगा। अठन्नी भर भी अखबार के ट्रेंड की जानकारी नहीं है। मालिकों और उनके परिवार की फुल पट्टेचाटी करता है। अखबार के प्रसार को कहा से कहाँ ला दिया। नोएडा आफिस में भी 2-3 चेले रखता है। जो दिनभर की खबर उसे देते हैं। अगर किसी ने इसकी नहीं मानी तो ट्रांसफर करा देता है।

  • जब तक इस देश में चाटुकार पत्रकारिता जिंदा रहेगी बीजेपी सरकार का कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता है। इन्हें जरा भी शर्म भी नहीं आती तलबे चाटने में।

Latest 100 भड़ास