‘न्यूज वर्ल्ड इंडिया’ चैनल भी बंद हो गया, 200 बेरोजगार

मोदी राज में मीडिया इंडस्ट्री बुरी तरह मंदी की चपेट में है. एक के बाद एक नए पुराने मीडिया समूह बंद होते जा रहे है. आज खबर आई है कि जी ग्रुप से भिड़ने के लिए नवीन जिंदल द्वारा शुरू किए गए न्यूज वर्ल्ड इंडिया चैनल का प्राण हरण कर लिया गया है. फिलहाल ये चैनल बिजेंदर सिंह के हाथों में था जो खुद अब लंदन रह रहे हैं.

बताया जा रहा है कि चैनल के बंद होने से 200 लोग बेरोजगार हो गए हैं. इन कर्मियों को न तो तीन महीने की एडवांस सेलरी दी गई और न ही उन्हें पहले से सूचित किया गया. बताया जा रहा है कि इन्हें पिछली तनख्वाह भी कई महीने से नहीं मिली है.

सूत्रों के मुताबिक प्रबंधन के लोग सैकड़ों कर्मियों को गुमराह करते हुए सिर्फ एक हस्ताक्षर वाला चेक पकड़ा रहे हैं जो बैंक में भुनेगा ही नहीं क्योंकि बैंक एकाउंट के साइनिंग अथारिटी दो लोग हैं. माना जा रहा है कि प्रबंधन बेरोजगार हुए चैनल कर्मियों का गुस्सा शांत करने के लिए यह गुमराह करने वाला आपराधिक कवायद कर रहा है.

इस चैनल में रमन पांडेय, माधव तिवारी आदि संपादकीय कार्यों को देखते थे. रोहित सक्सेना सीईओ के बतौर काम देख रहे थे. इनके अलावा करीब दो सौ लोग प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से चैनल से जुड़े थे. जिलों में जो लोग बतौर स्ट्रिंगर जुड़े थे, उनकी सैकड़ों की लिस्ट अलग है.

ऐसी चर्चा है कि बाइक बोट घोटाले के कर्ताधर्ता संजय भाटी की भी इस चैनल में अप्रत्यक्ष हिस्सेदारी रही है. एक स्कैम में नामजद सुधीर गिरी को चैनल से जोड़ा गया था. माना जा रहा है कि देर सबेर इस चैनल को बंद होना ही था क्योंकि धीरे धीरे जांच एजेंसियों के हाथ चैनल प्रबंधन की ओर बढ़ते जा रहे हैं.

इस पूरे प्रकरण पर प्रतिक्रिया के लिए चैनल के सीईओ रोहित सक्सेना से संपर्क करने की कई बार कोशिश की गई पर उन्होंने फोन नहीं उठाया.

इन्हें भी पढ़ें-

Opera News भी बंद हो गया, 150 होंगे बेरोजगार, पढ़ें कर्मियों की अपील

सर्किल न्यूज एप्प ने दर्जनों ऑफिस बंद किए, पढ़े ये आंतरिक पत्र

‘सर्किल’ ने एक झटके में सौ मीडियाकर्मियों को निकाला, दो आफिस बंद किए



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करें-  https://chat.whatsapp.com/JYYJjZdtLQbDSzhajsOCsG

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



One comment on “‘न्यूज वर्ल्ड इंडिया’ चैनल भी बंद हो गया, 200 बेरोजगार”

Leave a Reply to Sanjay Cancel reply

Your email address will not be published.

*

code