आजतक से आखिर चले ही गए सीईओ जीके, अब चेलों की बारी

आखिरकार आजतक से सीईओ जी कृष्‍णन निपटा दिए गए. भड़ास ने पहले ही उनकी विदाई के बारे में खबर दे दी थी. उनकी विदाई पहले ही तय हो गई थी बस उसपर आफिसियली मुहर लगना बाकी थी. इस बार आफिसियली उनकी विदाई कर दी गई है. मालिक अरुण पुरी ने आंतरिक मेल जारी कर सबको सूचित कर दिया है कि अब जी कृष्‍णन यानी जीके संस्‍थान के साथ नहीं रहे. संभावना जताई जाने लगी है कि जीके के जाने के बाद बदलाव की बयार तज होगी.

आजतक के ताकतवर सीईओ को अंतत: जाना ही पड़ा. बताया जा रहा है कि इस बदलाव का वाहक बना आजतक का कंटेंट और टीआरपी लेबल पर कमजोर प्रदर्शन. आजतक पिछले काफी समय से दो नम्‍बर की कुर्सी पर ही थमा हुआ था. तमाम कोशिशों के बावजूद वो इंडिया टीवी को पीछे नहीं छोड़ पा रहा था. इसके बाद से ही बड़े लेबल पर बदलाव की सुगबुगाहट तेज हो गई थी. जीके को लेकर कई बार चर्चाएं उठी कि उन्‍हें हटाया जा रहा है, उन्‍होंने इस्‍तीफा दे दिया है, पर आफिसियली कोई कन्‍फर्म नहीं कर रहा था. पर अब अ‍ाफिसियली जीके का आजतक से रिश्‍ता टूट गया है.

जीके की विदाई उसी समय तय हो गई थी जब‍ आजतक टीआरपी के मामले में इंडिया टीवी से लगातार पिछड़ता जा रहा था. जिससे कंटेंट के साथ आजतक का बिजनेस भी प्रभावित हो रहा था. अन्‍ना आंदोलन के दौरान आजतक फिर से नम्‍बर एक के पायदान पर आ गया है, परन्‍तु जो विदाई पहले ही तय हो गई थी उसे रोका नहीं गया. वैसे भी अगर बात अगर खबरों की होती है तो आम दर्शक आजतक पर ही आंख मूंद कर भरोसा करता है. अन्‍ना आंदोलन के दौरान भूतहा टीवी भी एक नम्‍बर से खिसकर चौथे नम्‍बर पर चला गया था.

जीके की विदाई के बाद अब उनकी छत्रछाया में पलने वाले लोगों के उपर भी तलवार लटकने लगी है. पिछले काफी समय से जीके के सहारे जमे रहे नकवी, कम बोलने और गहरी मार करने वाले शैलेष और अशोक सिंघल पर भी बदलाव के बादल मंडराने लगे हैं. सूत्रों ने बताया कि अब इन लोगों का बोरिया बिस्‍तर भी समेटा जा सकता है. अरुण पुरी अब खुद आजतक के प्‍लानिंग मीटिंग में उपस्थित हो रहे हैं. जिसके चलते इस सुगबुगाहट को और अधिक बल मिल रहा है. जीके के दबाव के चलते ये लोग आजतक के इंडिया टीवी से पिछड़ने के बावजूद प्रबंधन की निगाह से लगातार बचते चले आ रहे थे. सूत्रों का कहना है कि जिस तरह से अरुण पुरी सुपरविजन कर रहे हैं उससे किसी बड़े बदलाव की संभावना बराबर दिख रही है.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “आजतक से आखिर चले ही गए सीईओ जीके, अब चेलों की बारी

  • अरुण पुरी साहब..जीके कृष्णन के जाने से आपके चैनल की टीआरपी नहीं संवरने जा रही..वो तब होगा..जब आप सालों से कुंडली मारे नकवी जैसे घाघ पत्रकार को हटाएंगे..वैसे अच्छा है आपको होश तो आया लेकिन देर से..आप ही की तरह सीएनईबी जैसे तीसरी डिग्री के चैनल को भी अब खुद उसका मालिक अमनदीप सरान देख रहा है..मालिकों के साथ दिक्कत यही है,,अमनदीप ने भी अनुरंजन झा जैसे रैकेटियर को सीईओ बनाकर गलती की थी..आप जान लीजिए..सिस्टम बनाने में वक्त लगता है बिगाड़ने में नहीं

    Reply
  • Manish Gupta says:

    अगर आज तक से नकवी जी और शैलेष जी निकल गए तो ये बात तो तय है कि आज तक फिर कभी भी नम्बर एक के पायदान पर नहीं आ पाएगा । चाहें वजह कोई भी हो ।

    Reply

Leave a Reply to ravi kumar Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *