आर्यन के स्ट्रिंगर हड़ताल पर, दक्षता परीक्षा ने ली पांच की बलि

आर्यन टीवी और विवाद-परेशानी का जैसे चोली और दामन का साथ है. एक मामला हल नहीं होता है कि दूसरा सर उठा लेता है. ताजा खबर है कि आर्यन के झारखंड के ज्‍यादातर स्ट्रिंगरों ने हड़ताल कर दी है. वे पीछे के बकाया पैसे नहीं मिलने तक काम करने से मना कर दिया है. दूसरी तरफ प्रबंधन ने दक्षता परीक्षा के नाम पर पांच लोगों को बाहर का रास्‍ता दिखा दिया है. जिसमें प्रोग्रामिंग के हेड भी शामिल हैं.

आर्यन की परेशानी ये है कि उसके पास बहुत परेशानी नहीं है. पहला मामला है कि आर्यन झारखंड के 22 जिलों में से ज्‍यादातर स्ट्रिंगर एकता दिखाते हुए हड़ताल पर चले गए हैं. इसके पहले भी पैसे न मिलने पर वे लोग हड़ताल पर जा चुके हैं. पिछले काफी दिनों से झारखंड के स्ट्रिंगर चैनल हेड और अन्‍य वरिष्‍ठ लोगों को मेल भेजकर अपनी समस्‍याओं से अवगत करा रहे थे. उनसे अपना मानदेय देने की गुजारिश कर रहे थे. परन्‍तु इसके बाद भी प्रबंधन ने उनके बकाये का भुगतान नहीं कराया.

झारखंड के स्ट्रिंगरों का का कहना है कि लगभग बीस जिलों के स्ट्रिंगर हड़ताल पर हैं, परन्‍तु पटना कार्यालय से जुड़े सूत्रों ने बताया कि इनकी संख्‍या एक दर्जन के आसपास है. इन लोगों ने चैनल हेड को भेजे गए 13 तारीख के अल्‍टीमेटम के पार होने के बाद से हड़ताल शुरू कर दिया है. कल से एक भी खबर इन लोगों ने नहीं भेजी, जिसके चलते रांची एवं जमशेदपुर छोड़कर अन्‍य जिलों की खबरें आर्यन पर प्रसारित नहीं हो पा रही है. स्ट्रिंगरों से सीधी चेतावनी दी है कि पैसा मिलेगा तभी काम होगा और प्रबंधन नए लोगों को रखेगा तो उसे काम नहीं करने दिया जाएगा.

सूत्रों ने बताया कि स्‍टोरी बेसिस और सेलरी बेसिस पर काम करने वाले स्ट्रिंगरों का पिछले लगभग छह माह का पैसा आर्यन पर बकाया है. काफी समय से इन्‍हें आजकल करके टरकाया जा रहा था. अंतत: जब स्ट्रिंगर आश्‍वासनों से आजिज आ गए तो उन्‍होंने यह कदम उठा लिया. इसके पहले भी इसी तरह की परिस्थितियों में स्ट्रिंगरों ने खबर देना बंद कर दिया था, जिसके बाद थोड़ा बहुत ले देकर प्रबंधन ने मामला सलटाया था. उसके बाद से ही प्रबंधन ने फिर स्ट्रिंगरों को पैसा नहीं दिया है.

दूसरी तरफ कई लोगों को निकालने के लिए दक्षता परीक्षा की रणनीति बनाकर उन्‍हें बाहर का रास्‍ता दिखा दिया गया है. संभवत: पहली बार किसी चैनल ने अपने कर्मचारियों की दक्षता परीक्षा ली है. चैनल ने दक्षता परीक्षा लेकर जिन पांच लोगों को बाहर का रास्‍ता दिखाया है उसमें इनपुट-आउटपुट से लेकर प्रोग्रामिंग हेड तक शामिल हैं. चैनल प्रबंधन द्वारा लिए गए दक्षता परीक्षा में ये लोग प्रबंधन की नजर में खरे नहीं उतरे. परीक्षा के आधार पर जिन लोगों को बाहर का रास्‍ता दिखाया गया है उसमें प्रोग्रामिंग हेड रवींद्र भारती, डेस्‍क पर काम करने वाले शक्ति कुमार, अश्‍वनी तिवारी तथा इनपुट पंकज झा और राजकुमार शामिल हैं.

इसके पहले भी आर्यन लगातार विवादों में रहा है. चाहे हेड बदले जाने का मामला रहा हो, नौकरी के नाम पर पैसे वसूलने वाले कर्मचारी का मामला रहा हो,  भागलपुर के एक युवक डा. मनीष कुमार की पत्‍नी को बंधक बनाकर लाइव करवाने का मामला हो, बड़ी बहस के नाम पर पैसे वसूलने का मामला हो, तमाम पत्रकारों को निकाले जाने का मामला रहा हो चाहे अन्‍य कई मामले रहे हों, आर्यन हमेशा विवादों की जद में रहा है. यह न्‍यूज चैनल अपनी खबरों से ज्‍यादा अंदर की खबरों को लेकर ही चर्चा में रहता है.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “आर्यन के स्ट्रिंगर हड़ताल पर, दक्षता परीक्षा ने ली पांच की बलि

  • naukari ke dauran pramotion ke lia exam to sune the lekin naukari bachane ke lia exam media me to kabhi nahi suna tha

    Reply
  • biharibabu says:

    manas ji aap shayad media mai naye hain. ravindra bharti aryan mai hi the. aur jahan tak naukri bachane ke liye exam ki baat hai to ye parampara MAurya tv mai Prakash jha ne suru ki hai. wahi per kitne besarmon ne naaukri bachane ke liye talwe chate. aur exam diya.

    Reply
  • Jharkhand media ka kalank aur Madhu koda ke samay me karoro rupaye ka gotala karnewala Bhujang Bhushan Sahara Tv ke baad aryan ko dubone me lag gaya hai…apne aap ko state head samajhta hai aur jharkhand ke stringer uski baat nahi sunte…jo paanch Aryan se nikale jane wale the usme uska saga bhagina Aswni tiwari bhi hai…jise bachane ke liye bhujang patna me dera dale huye hai…..use is baat se koi fark nahi pa raha hai ki stringer hadtal par hain ya management pareshan hai..bhujang ko to apne sambandhion ke saath milkar dalale ki dukan chalani hai…

    Reply
  • Yashwant sahib aap ko media ka jemedar sadayas mana jata hai kripa aise khabare jeska koey adhar na ho chap kar logo ke bech anargal baten bena kese adhar ke na parose…!!!choti se slah

    Reply
  • jaswant g aap chapne se pahle khabro ki janch kar le jinke v naam hai,unmai se ek ne exam hi nhi diya tha baki ke logo ko kafi achche number aaye the aur enhe htaya nhi gya hai.

    Reply

Leave a Reply to Dipak Cancel reply

Your email address will not be published.