उपेंद्र राय ने भी की थी नीरा राडिया से बातचीत

उपेंद्र रायनीरा राडिया से बातचीत के नए टेप जारी होने के बाद मीडिया जगत के कई नए रहस्यों पर से परदा उठता जा रहा है. कई नई परतें खुलती जा रही हैं. ताजा नाम उपेंद्र राय का आया है. जिस टेप में नीरा राडिया आईएएस अधिकारी और राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया के परसनल सेक्रेट्री रहे सुनील अरोड़ा से बात कर रही हैं, उसमें जिस शख्स उपेंद्र का नाम आ रहा है, वह कोई और नहीं बल्कि सहारा मीडिया के डायरेक्टर न्यूज उपेंद्र राय ही हैं. मेल टुडे में आज इस बारे में एक स्टोरी प्रकाशित की गई है, JOURNALIST FIGURED IN TALKS WITH IA EX-CHIEF शीर्षक से.

इस खबर में बताया गया है कि उपेंद्र राय और राजीव सिंह जैसों से राडिया की बातचीत होती रहती थी. खबर में सुनील अरोड़ा और उपेंद्र राय का पक्ष भी प्रकाशित किया गया है. इसमें सुनील अरोड़ा तो टेपों पर ही संदेह जाहिर करके पल्ला झाड़ लेते हैं जबकि उपेंद्र राय स्वीकार करते हैं कि उनकी राडिया से बातचीत हुई थी पर वह बातचीत एक स्टोरी के सिलसिले में हुई थी, स्टार न्यूज में रहते हुए एयरलाइंस पर स्टोरी की थी. नीरा राडिया मैजिक एयरलाइंस और क्राउन एयरलाइंस की चेयरपर्सन थीं, सो उनसे एयर इंडिया पर स्टोरी के मामले में वार्ता हुई थी. नीरा राडिया से बातचीत के बारे में जानकारी मैंने स्टार न्यूज के अपने संपादकों को दे दी थी. राडिया और सुनील अरोड़ा की बातचीत के टेप को सुनिए जिसमें उपेंद्र राय और राजीव सिंह का जिक्र आ रहा है. क्लिक करें…

There seems to be an error with the player !

Comments on “उपेंद्र राय ने भी की थी नीरा राडिया से बातचीत

  • avanindra pandey says:

    Upendra Rai ji ki tarakki se kaio ko badhajmi ho rahi hogi ki yah kam umra ka ladka kaise rise kar gaya. yah to apni mehnat ka pratiphal hai.
    Jalne se kuch nahi hoga. talent ko roka nahi ja sakta.
    Avanindra Pandey
    Rabareli

    Reply
  • विनीत कुमार says:

    इस खबर पर हमें कोई आश्चर्य नहीं हुआ. बल्कि आश्चर्य हो रहा था कि अभी तक उपेन्द्र राय का नाम क्यो नहीं आया?

    Reply
  • Upendra Babu ki choice ka andaaz isi se laga sakte hain ki kis tarah ke dalalon ki bhartee ho rahee hai.

    Flag this message
    urgent letterTuesday, 23 November, 2010 5:55 AM
    From: “Anil Mountabu” Add sender to Contacts
    To: samayassignment@gmail.com
    Cc: upendra.rai@sahara.co.in
    आदरणीय सर,
    बहुत ही दुःख के साथ लिख रहा हूँ की सहारा परिवार के नए प्रभारी जी श्री अजय शर्मा के साथ काम करना मेरे लिए ही नहीं,सभी स्ट्रिंगर्स और रिपोर्टर्स के लिए मुश्किल हो गया है.वो आये दिन गली गलोच तो करते ही हैं,यह भी चेतावनी देते रहते हैं की चाहे जिसे शिकायत करें,उनका कुछ बिगड़ने वाला नहीं है क्योंकि वह जूता मारकर संस्थान में आये है,किसी की मेहरबानी से नहीं.उनके मुताबिक जब तक सी बी आई में तैनात उनके मित्र गल्होत्रा साहब प्राईम मिनिस्टर ऑफिस में हैं,तब तक न कोई राय साहब उसका बाल बांका कर सकते हैं और न ही कोई चेनल हेड या रिपोर्टर.ऐसे में हमारी तो उनके सामने औकात ही क्या है की उनकी शिकायत करें.
    लेकिन अब उनके गंदे व्यव्हार को बर्दाश्त करना मुश्किल हो गया है.चाहे खबर को लेकर माउन्ट आबू की एस डी एम तीन सोनी से हुआ मेरा विवाद हो चाहे श्रीमती सोनी द्वारा मेरा मकान तोड़ देने की घटना.हर बार सोनी जहाँ सहारा परिवार और खुद अजय शर्मा के बारे में जहाँ उलटा सुलता बकती रही ,वहीं अपनी अश्लील सी डी के बाज़ार में मौजूद होने की चर्चाओं के बीच श्री शर्मा न जाने क्यों टीना सोनी का समर्थन और मेरी खिलाफत में जुटे रहे.माउन्ट आबू में तापमान के अचानक गिराने की खबर आपको बताने के बाद तो उनका पारा इतना गरम हुआ है की वह न केवल जन्मा से मिले संस्कारों को भूल गए है,बल्कि सहारा परिवार की मां मर्यादाओं को भी भूल गए हैं.आये दिन गली गलोच करने और उसे सुनाने तक ही बात सिमित होती तो भी बात अलग थी.अब तो वह यह भी चेतावनी देने लगे हैं की सहारा को अपना जहाज सही सलामत रखना है तो उनसे बनाकर रखना ही पड़ेगा.शर्माजी यह सब पता नहीं किस अभिमान और प्राईम मिनिस्टर ऑफिस में तैनात पता नहीं किस अधिकारी की धोंस में कह रहे हैं.लेकिन मेरा निवेदन यही है की में पर बेंकिंग हो चाहे सहारा होउसिंग या मीडिया,हर जगह सहारा की परमपराओं को कायम रखते हुए काम करता रहा हूँ.और अब आये दिन सहारा परिवार,सहारा श्री और हमारे बारे में कुछ भी सुनाने की स्थिति में नहीं हूँ.हो सकता है प्राईम मिनिस्टर ऑफिस में बैठे गल्होत्रा साहब उपयोगी हों या पवार फुल हों.लेकिन इसका अर्थ यह भी नहीं की एक अश्लील सी डी के कारन छः साल तक मीडिया से बाहर रहकर किसी बिल्डर के लिए काम करता रहा व्यक्ति सहारा मिडिया का राजस्थान प्रभारी बनकर माननीय सहारा श्री तक को चेलेंज करे और आये दिन हमें जलील करे.
    मैंने पांच सालों में संस्थान की सेवा में न पहले कोई कमी रखी है और न ही रखना चाहता हूँ.बस एक अनुरोध है की हमें इस अमानवीय व्यवहार और सी बी आई के अधिकारी की धोंस देने वाले व्यक्ति की जलालत से बचाएं.यदि इस शख्स के रसूखात सच मच इतने ही बड़े हैं तो संस्थान के हित में मुझे अलग होने में कोई दिक्कत नहीं है.लेकिन यह जांच फिर भी होनी चाहिए की सी बी आई में अपनी पकड़ और संस्थान की मजबूरी की बात कह कह कर यह व्यक्ति कितने लोगों को परेशान कर चुका है और कितने लोग अब तक ज्वाइन करने के साथ ही नौकरी छोड़ कर जा चुके हैं.
    उम्मीद है इस मामले में उचित जांच कर हमें प्रधान मंत्री कार्यालय में तैनात सी बी आई के अधिकारी की धोंस और अजय शर्मा की बादतमीजी से निजात दिलाएंगे.मेरे काम और व्यवहार को लेकर सहारा के रीजनल हेड बन्नाशिजी समेत पर बेंकिंग के अधिकारीयों से ही नहीं सहारा मिडिया में जिम्मेदार पदों पर दिल्ली और जयपुर में रहे प्रमुख लोगों से भी जांच की जा सकती है.गलती होने पर कान पकड़ कर गलती मानने में भी मैंने कोई हिचक नहीं रखी और संस्थान के सम्मान और काम के लिए जान लगा देने में भी मैंने कसार नहीं छोड़ी लेकिन अब पानी सर के ऊपर जा रहा है,इसलिए आपको लिखना मजबूरी हो गया है.
    आपका ही ,
    अनिल एरन

    Reply
  • Amit kumar singh says:

    सहारा मिडिया के न्यूज़ डाइरेक्टर उपेन्द्र राय का नाम जिस तरह से अब निरा राडिया के साथ जुडने की बात सामने आ रही है ,उससे एक बात तो बिल्कुल साफ है कि जोड़-जुगाड़ कर किसी मिडिया हाउस के शीर्ष पर काबिज हो जाना तो आसान है,लेकिन अपनी वास्तविकता को ज्यादा दिनों तक छिपा कर रख पाना उतना ही कठिन है.सहारा में आते ही जिस तरह से इन्होंने शीर्ष पर अपनी जगह सुनिश्चित करने की नियत से अपने प्रतिद्वंदियों को एक-एक कर ठिकाने लगाना शुरू किया,उसी समय इनकी महत्वाकांक्षा स्पष्ट हो गई थी और अपनी इस मुहिम में यह व्यक्ति कुछ हद तक सफल भी रहा है.आज अपने कुछ चहेतों के माध्यम से इनके द्वारा जिस तरह सहारा मिडिया हाउस का दुरूपयोग किया जा रहा है ,वो पहले शायद कभी नहीं हुआ. नीरा राडिया से इनके सम्बन्ध की बात तो महज ट्रेलर भर है ,पूरी फिल्म तो अभी आनी शेष है.जो भी हो सहारा इंडिया परिवार की वर्षों की अर्जित छवि को इससे जो धक्का लगा है ,उसकी भरपाई शायद ही हो पायेगी.

    Reply
  • बिल्‍लू says:

    पहले तो अनिल एरन जी आप सीधे हाईकोर्ट पहुंच जाओ और अपना पक्ष मजबूती से रखों ताकि आजकल अदालते जिस तरह कार्य कर रही है उसमें अजय शर्मा और जिस गुंडे के बल पर वे नाच रहे हैं उनकी अकल वही सीधी हो सकती है। साथ ही राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री और सूचना एवं प्रसारण मंत्री के पास भी अपनी शिकायत भेजो एवं मुख्‍यमंत्री के आवास के पास ही भूख हडताल पर बैठ जाओ।
    अब बात राडिया और उपेंद्र राय की बातचीत का। फैसला तो अदालत एवं सुब्रत राय का करना होगा। हालांकि, पत्रकारिता में जो प्रदुषण फैला है वह वाकई बेहद खराब है। राडिया पर अब यह आरोप है कि भारत के खिलाफ किसी दूसरे देश की एजेंट थी तो मामला और भी गंभीर है। ऐसे में सभी दोषी पत्रकारों का इस पूरी बिरादरी से बायकाट होना चाहिए। इन्‍हें किसी भी संस्‍थान में नौकरी नहीं मिलनी चाहिए। राडिया ने कहा और एयरइंडिया के खिलाफ स्‍टोरी कर डाली, वाह क्‍या खूब बात है। टाटा का खुद भी इंटरेस्‍ट एयरलाइन में है। इन दोषी पत्रकारों ने पिछले कई सालों में पैसा कैसे बनाया और इनके पास कितना धन है, सब की जांच होनी चाहिए। उपेंद्र है जुगाड़ी इसमें कोई अचरज नहीं। और राडिया के साथ कुछ अलग अनुभव लिया हो तो शायद यह उनकी आखिरी नौकरी रहेगी। वैसे भी सहारा में चर्चा है कि उपेंद्र एवं उनकी पलटन की विदाई मार्च में संभव है।

    Reply
  • anurag.patrakar says:

    upendra rai sahab ke unche kad se sabhi paresaan hai aur is bakwas ko mudda bana kar badnaam karne ki kosis kar rahe hai:)

    Reply
  • प्रभु चावला(aaj tak)=प्रणय रॉय(NDTV)=बरखा दत्त(NDTV)=सांघवी=उपेंद्र राय (Sahara)==========>>>>>नीरा राडिया(head of journalism)(दलाल लाबिस्ट)

    Reply
  • लमी says:

    DIAN WIKILEAKS
    The bhadas4media
    bhadas4media@gmail.com पर मेल करें या 09999330099 पर
    बेस्ट performance ऑफ़ the year …..congrtas येस्वंत जी —बेस्ट journalist
    -……………………RADIA दलाल एंड कंपनी……PVT LTD .
    corrupted journalist उर्फ़ दलाल एंड SONS
    प्रभु चावला(aaj tak)=
    प्रणय रॉय(NDTV)=
    बरखा दत्त(NDTV)=
    सांघवी=
    उपेन्द्र राय :सहारा मिडिया के न्यूज़ डाइरेक्टर उपेन्द्र राय

    Reply
  • अजीब है,भाई आजकल तो दलाल लोगों को ही बोलबाबा है …है दलाल लेकिन कहलाते पत्रकार है…शर्मनाक है कि ये बात सहाराश्री तक नहीं पहुंचती वरना ऐसे दलालों की कब की छुट्टी हो गई होती …

    Reply
  • अरे भाई नाम कैसे आयेगा जुगाड़ु जो हैं………… उपेद्रं का नाम मतलब;………..D डान को पकड़ना मुश्किल ही नही नामुमकिन है………………

    Reply
  • अरे भाई……
    डान को पकड़ना मुश्किल ही नही नामुमकिन है….

    Reply

Leave a Reply to anurag.patrakar Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *