जनवाणी, उत्‍तराखंड के हेड बने योगेश भट्ट

मेरठ से लॉच हो रहे दैनिक अखबार जनवाणी ने अमर उजाला, देहरादून को तगड़ा झटका दिया है. अमर उजाला के चीफ सब एडिटर योगेश भट्ट को उत्तराखंड स्टेट हेड बनाकर अपने साथ्‍ा जोड़ लिया है. वे तीन-चार दिनों में जनवाणी ज्‍वाइन करने वाले हैं. उन्‍होंने जनवाणी के साथ नई पारी शुरू करने की पुष्टि की.

योगेश की पहचान जनसरोकारी पत्रकार के रूप में की जाती है. उनकी खबर का ही असर था कि मामला पीआईएल के रूप में हाईकोर्ट में जाने के बाद उत्‍तराखंड सरकार को अरबों रुपये के 56 हाइड्रो पावर प्रोजेक्‍ट का आवंटन रद्द करना पड़ा. योगेश ने अपने करियर की शुरुआत दून दर्पण के साथ 1998 में की थी. इसके बाद वे आठ सालों तक जागरण के साथ रहे. पिछले दो साल से वे अमर उजाला को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

 

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “जनवाणी, उत्‍तराखंड के हेड बने योगेश भट्ट

  • योगेश अच्छे पत्रकार हैं। उनमें उतावलापन जरूर ह,ै मगर उन्होंने उत्तराखण्ड की पत्रकारिता में कई विष्फोटक समाचार ब्रेक किये हैं। योगेशजी की सबसे बड़ी खूबी यह है कि वह कभी किसी के चाटुकार नहीं रहे। इसी कारण उनका अक्सर अपने ही सहयोगियों से कन्फ्रण्टेशन हो जाता था। प्रेस क्लब देहरादून में भी यही हुआ। जागरण जैसे जनसंघियों और व्यापारियों के अखबार में रहते हुये भी वह अपने अन्दर के पत्रकार को नहीं दबा सके। लेकिन लगता है कि ये प्रतिकृयाऐं किसी ने फर्जी दे रखी हैं। इसका सबूत यह है कि धीरेन्द्र प्रताप को धीरेन्द्र प्रताप सिंह लिखा गया है। वह भदोला हैं। कोई भी व्यक्ति अपना नाम इतना पलट कर नहीं लिख सकता। अग्निहोत्री योगेश जी के बहुत करीबी साथी हैं।एक प्रतिकृया श्री नारायण परगाई की है। परगांईजी कितने पढ़े लिखे हैं वह देहरादून में सभी जानते हैं। इस तरह की भड़ास पत्रकारिता के पीछे भी अपना उल्लू सीधा करने का ही मकसद हो सकता है। एक बार इसी तरह एक शख्श उमेश शर्मा को भारत का महानतम् पत्रकार के रूप में शायद परगाईं ने ही पेश किया था। जबकि श्री उमेश जी पर कई मुकदमे विचाराधाीन हैं। धन्य हैं ये भड़ासी पत्रकार। योगेश जी निसन्देह इस पद के काबिल हैं मग रवह कभी-कभी धरती छोड़ देते हैं। सिनिक भी हैं।अपनी कमियां पहचाने तो बहुत आगे जा सकते हैं। परगाईं जैसे चाटुकारों और रैकेटियरों से भी उन्हें दूर रहना होगा

    Reply
  • योगेश अच्छे पत्रकार हैं। उनमें उतावलापन जरूर ह,ै मगर उन्होंने उत्तराखण्ड की पत्रकारिता में कई विष्फोटक समाचार ब्रेक किये हैं। योगेशजी की सबसे बड़ी खूबी यह है कि वह कभी किसी के चाटुकार नहीं रहे। इसी कारण उनका अक्सर अपने ही सहयोगियों से कन्फ्रण्टेशन हो जाता था। प्रेस क्लब देहरादून में भी यही हुआ। जागरण जैसे जनसंघियों और व्यापारियों के अखबार में रहते हुये भी वह अपने अन्दर के पत्रकार को नहीं दबा सके। लेकिन लगता है कि ये प्रतिकृयाऐं किसी ने फर्जी दे रखी हैं। इसका सबूत यह है कि धीरेन्द्र प्रताप को धीरेन्द्र प्रताप सिंह लिखा गया है। वह भदोला हैं। कोई भी व्यक्ति अपना नाम इतना पलट कर नहीं लिख सकता। अग्निहोत्री योगेश जी के बहुत करीबी साथी हैं।एक प्रतिकृया श्री नारायण परगाई की है। परगांईजी कितने पढ़े लिखे हैं वह देहरादून में सभी जानते हैं। इस तरह की भड़ास पत्रकारिता के पीछे भी अपना उल्लू सीधा करने का ही मकसद हो सकता है। एक बार इसी तरह एक शख्श उमेश शर्मा को भारत का महानतम् पत्रकार के रूप में शायद परगाईं ने ही पेश किया था। जबकि श्री उमेश जी पर कई मुकदमे विचाराधाीन हैं। धन्य हैं ये भड़ासी पत्रकार। योगेश जी निसन्देह इस पद के काबिल हैं मग रवह कभी-कभी धरती छोड़ देते हैं। सिनिक भी हैं।अपनी कमियां पहचाने तो बहुत आगे जा सकते हैं। परगाईं जैसे चाटुकारों और रैकेटियरों से भी उन्हें दूर रहना होगा

    Reply
  • त्‍तराखंड सरकार को अरबों रुपये के 56 हाइड्रो पावर प्रोजेक्‍ट का आवंटन रद्द करना पड़ा. ye yogesh ki khabar ka sara nahi hai. ye aajtak ki khabar ka sar tha. aajtak main dikhaane ke baad ise akhbaaron ne chaapa tha. nahi to akhbaar ise chaap bhi nahi rahe the

    Reply
  • ratan negi time tv says:

    [i]sir saflta aapke kadm chume … or aapse umeed hi nahi viswash hain ki aap janvaani k maadyam se gar gar tak pahuchaege uttarkhnad main lagtaer ho rage gootalo pe gootalo ki Khaber ..

    Reply
  • deepak kandari says:

    bahut bahut shubhkamnayen bhai sahab..
    asha hai apke anubhaw ka laabh apke netritwa wale janwani ke jariye janta ko milega..

    Reply
  • Yogesh Bhai ko apne choote bhai Hari ki taraf se janvaani utterakhand ka had banne par dair saari shubahkamnaye. ^^^^^~~~~~******* Brother aap se ek chooti se Prarthna thi ki aap mujhe D.Dun m kahi par set kar do.kahi office ya kisi news papper ya kisi gov, job m pleezeeeeee. and one more time congratulations. hari

    Reply

Leave a Reply to Hari***** Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *