पत्रकारों ने बनाई महिला पत्रकार की ब्लू फिल्म

: दो पत्रकारों का कारनामा : अश्‍लील क्‍लीपिंग के बल पर शादी के बाद भी करते रहे शोषण : इलाहाबाद में पत्रकारिता को कलंकित करने वाला मामला सामने आया है. यह न केवल शर्मनाक है बल्कि मीडिया के चमकते स्‍क्रीन और सफेद पन्‍ने के पीछे का स्‍याह सच भी सामने लाया है. शहर के दो पत्रकारों ने एक नवोदित महिला पत्रकार को नौकरी दिलाने का झांसा दे कर न केवल उसके साथ नजदीकी संबंध बनाए बल्कि उसकी अश्लील क्लीपिंग भी तैयार कर ली.

इस क्‍लीपिंग के बल पर वो महिला पत्रकार को जबरदस्‍ती संबंध कायम रखने के लिए मजबूर भी करते रहे. इसकी जानकारी होने पर महिला पत्रकार के परिजनों ने डीआईजी से मामले की शिकायत की है. मामले की जांच शुरू कर दी गई है. जानकारी के मुताबिक इलाहाबाद से प्रकाशित होने वाले  एक दैनिक अखबार का पत्रकार कटरा में किराए पर रहता था. वहां मकान मालिक की बेटी को उसने अपने रुतबे से प्रभावित कर लिया. उसने मकान मालिक की बेटी को पत्रकार बनाने का सब्जबाग दिखाया तथा प्‍यार का नाटक करते हुए उससे नजदीकी रिश्ते बना लिए. काफी दिनों तक वह युवती को पत्रकार बनाने का झांसा देता रहा. इसके बाद उसने किसी तरह से युवती को अपने ही अखबार में संवाददाता की नौकरी दिलवा दी.

कुछ दिनों बाद जब युवती की शादी हो गई तो उसने अखबार की नौकरी छोड़ दी. विवाह के बाद भी पत्रकार युवती को अपने साथ संबंध रखने के लिए मजबूर करता रहा. इन दोनों के नजदीकी की खबर उसके एक सहयोगी पत्रकार को हो गई. उसने भी युवती को डरा धमकाकर संबंध बनाने के लिए मजबूर किया. इसी बीच दोनों पत्रकारों ने युवती के कोल्ड ड्रिंक में नशे की गोलियां मिलाकर उसे बेहोश कर दिया तथा उसकी अश्लील क्लीपिंग तैयार की. लगभग आठ मिनट की इस क्लीपिंग में युवती की आपत्तिजनक तस्वीरें खींची.

शादी के लगभग छह माह बाद युवती ने इच्छा जताई तो पत्रकार ने उसे दूसरे अखबार में नौकरी दिला दी. शादी के बाद सब कुछ ठीक ठाक चल रहा था मगर युवती की क्लीपिंग बाजार में आ जाने से मामला बिगड़ गया. यह क्‍लीपिंग युवती के पति के रिश्तेदार के हाथ लगी तो उसने उसे युवती के पति को सौंप दिया. पति-पत्नी में कई दिनों तक तकरार हुई. बात मायके और ससुराल में फैल गई.

मायके के लोगों ने महिला पत्रकार से बात कर मामले की पूरी जानकारी हासिल की. इसके बाद वे सभी लोग अखबार के कार्यालय पहुंचे और जमकर हंगामा किया. इसके बाद महिला पत्रकार के परिजन डीआईजी से मिले तथा उन्‍हें घटना से अवगत कराया. इसके बाद इस मामले की जांच सीओ तथा महिला थाने की एसओ को सौंपी गई है.

इस संबंध में एक आरोपी पत्रकार का कहना है कि उक्‍त खबर उसे बदनाम करने के लिए फैलाई गई है. जबकि महिला पत्रकार द्वारा दी गई तहरीर में उन दोनों का कहीं जिक्र तक नहीं है. उसका कहना है कि उससे खार खाने वाले पत्रकारों का एक ग्रुप जानबूझकर उसके खिलाफ यह भ्रामक अभियान चला रहा है ताकि मेरा करियर खराब किया जा सके.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “पत्रकारों ने बनाई महिला पत्रकार की ब्लू फिल्म

  • एक इलाहाबादी says:

    यशवंत जी….

    details..allahabad ki mahila patrkaar ka mms banaaya..

    मामला बेहद शर्मनाक है। इलाहाबाद शहर के दो अखबार के पत्रकारों की करतूतों ने मीडिया जगत को भी शर्मसार कर दिया। दोनों पत्रकारों ने एक नवोदित महिला पत्रकार को नौकरी का झांसा दे कर न केवल उसके साथ नजदीकी रिश्ते कायम किए बल्कि उसकी अश्लील क्लीपिंग भी तैयार कर ली। इसकी जानकारी होने पर महिला के परिजनों ने डीआईजी से मामले की शिकायत की है। उन्होंने घटना को गंभीरता से लेते हुए मामले की जांच शुरू करा दी है।

    शहर के एक दैनिक का पत्रकार कटरा में किराए पर रहता था। वहां मकान मालिक की बेटी से उसने नजदीकी रिश्ते बना लिए। युवती का विवाह हो जाने के बाद भी वह उसे संबंध कायम रखने के लिए मजबूर करता रहा। इस बीच पत्रकार के इस रिश्ते के बारे में उसके साथी रिपोर्टर को भी भनक लग गई। रिपोर्टर ने भी युवती को धमकाकर उसके साथ संबंध बना लिए। उसी बीच उसकी अश्लील क्लीपिंग तैयार कर ली गई। पत्रकार ने युवती को अपने ही अखबार में संवाददाता की नौकरी दिला दी। कुछ दिनों बाद शादी हो जाने पर युवती ने नौकरी छोड़ दी। शादी के लगभग छह माह बाद उसने इच्छा जताई तो पत्रकार ने युवती को दूसरे अखबार में नौकरी दिला दी। शादी के बाद सब कुछ ठीकठाक चल रहा था मगर युवती की क्लीपिंग बाजार में आ जाने से मामला बिगड़ गया। युवती के पति के रिश्तेदार के हाथ क्लीपिंग लगी तो उसने उसे युवती के पति को सौंप दिया। पति-पत्नी में कई दिनों तक तकरार हुई। बात मायके और ससुराल में फैल गई। मायके के लोगों ने महिला पत्रकार से बात कर दोनों पत्रकारों के बारे में जानकारी हासिल कर ली। सभी सोमवार रात पत्रकार के दफ्तर पहुंचे और वहां जमकर हंगामा काटा। दोनों पत्रकारों की धुनाई भी की गई। पुलिस पहुंच जाने पर महिला और उसके घरवाले हट गए। महिला के साथ उसके परिजन रात में ही डीआईजी से मिले। डीआईजी ने सीओ तथा महिला थाने की एसओ को जांच सौंप दी है।

    पत्रकार ने मकान मालिक की बेटी को तेज तर्रार पत्रकार बनाने का सब्जबाग दिखाकर उसके साथ रिश्ता कायम किया। लगभग चार साल पहले वह एमए कर रही थी तभी पत्रकार ने अपने आभामंडल से युवती को प्रभावित कर लिया। दरअसल, उसके कमरे में कार से कुछ अधिकारी भी आते थे। पत्रकार अपने रुतबे का इस्तेमाल कर युवती और उसकी सहेलियों को रेस्टोरेंट में भोजन करता और फिल्में दिखाता था। विंध्याचल, विंढम फाल, सिड़सी फाल, सीता समाहित स्थली घूमने के लिए उसने कार भी मुहैय्या करा दी। पत्रकारिता के ग्लैमर से प्रभावित युवती ने ही पत्रकार बनने की उससे ख्वाहिश जताई। किराएदार पत्रकार ने इसका फायदा उठाया।
    शातिर!

    शातिर दिमाग पत्रकार ने पीने के लिए दी कोल्ड ड्रिंक में नशे की गोलियां देकर अश्लील क्लीपिंग तैयार की। लगभग 8 मिनट की इस क्लीपिंग में सिर्फ युवती की आपत्तिजनक तस्वीरें हैं। क्लीपिंग में पत्रकार का चेहरा कहीं नहीं दिखाई दे रहा। फूट-फूट कर रो रही युवती ने इस संवाददाता से बताया कि उसे नहीं पता कि कब और कैसे उसकी क्लीपिंग तैयार की गई।
    मामला बेहद गंभीर है। जांच रिपोर्ट आने के बाद इस घटना में आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसमें कोई दबाव नहीं चलेगा। अखबार के संपादक से दोनों को नौकरी से हटाने के लिए भी बात की जाएगी।

    यशवंत जी यह स्टोरी इलाहाबाद के दो बडे अखाबरो की है यशवंत जी आप विनम्र अनुरोध है की इस कहानी को ज़रूर प्रकाशित करे..

    Reply
  • rajesh malhotra says:

    छोटे तबके के अखबारों के पत्रकार अवैध वसूली पर उतरे
    दिल्ली व आस-पास के इलाको में हर रोज नए अखबारों का जन्म हो रहा है जिनमे अधिक्त्रो के पास तो आर. एन.आई. नंबर तक नहीं होता है इनका अख़बार कही बिकता तो है नहीं लेकिन जन्हा अवैध वसूली होगी वही यह अख़बार दिखेगा इनकी कमाई का कोई जरिया तो होता नहीं ये अखबार कई महीनो में एक बार निकलते है और इन अखबारों के पत्रकार पुलिस से मिलकर इलाको में अवैध वसूली में लगे रहते है /[b][/b][b][/b][b][/b][u][/u]

    Reply
  • sageer a khaksar says:

    yashwant ji,yah kukritya patrkarita ke noble profeesion ke khilaf wa nindaniya hai,jaanch kar doshi patrkaron ke khilaf sakht karwahi honi chahiye.

    Reply
  • yashwant ji- Aisee khabro me media ko masala jaroor milta hai lekin patrakar yuvak se taanka bhida kar yuvti ko ijjat khoni padi. Savdhaan Media Me Kukarm karne wale badh rahe hai. thanedaar Nispaksh Karyavahi kare.

    Reply
  • pushpendra pandey says:

    patrakar desh ka chautha stambh hota hai, aur aise logo ko to patrakarita ya to karni hi nahi chahiye aa fir inhe samman na dete hue is field se bhaga dena chahiye.

    Reply

Leave a Reply to pushpendra pandey Cancel reply

Your email address will not be published.