सुधांशु महाराज उर्फ यशपाल का असली चेहरा

आलोक तोमरयशपाल नाम के एक आदमी के खिलाफ चोरी, ठगी और आयकर घोटालों के कई मामले दर्ज हैं। एक मामले में गैर जमानती वारंट जारी हो चुका है लेकिन बंदा ताकतवर हैं और दिल्ली में एक विराट आश्रम चलाता है और धार्मिक चैनलों पर अक्सर प्रकट होता है और उसने अपना नाम आचार्य श्री सुधांशु जी महाराज रख लिया है। सुधांशु महाराज के नाम से परिचित इस आदमी के बारे में बहुत सारी सरकारी फाइलों में बहुत सारे रहस्य छिपे हुए हैं।

बहुत सारी अदालतों में इसके खिलाफ मामले दर्ज हैं मगर भारत में धर्म को ले कर जो नौटंकिया चलती है उनका एक सबसे शानदार उदाहरण यही सुधांशु महाराज है जो नई दिल्ली में विश्व जागृति विषय के नाम से आश्रम चलाता है और दस दस साल पुराने मामले अब उसके खिलाफ निकल कर आ रहे हैं। यह ऐसा धर्म गुरु हैं जो फर्जी रसीदों से चंदा लेता हैं और जब शिकायत के बाद वारंट निकलते हैं तो उनमें एक दो नहीं, कई नाम होते हैं जिनमें उन रिचा सुधांशु का भी वर्णन होता है जिनसे यशपाल ने सुधांशु महाराज बनने के पहले 23 साल की उम्र में किसी गुरुकुल में ही शादी कर ली थी।

जब दूसरे धर्म गुरु चर्चित होने लगे और आसाराम बापू की तरह माल और गले काटने लगे तो सुधांशु जी महाराज के नाम से इस यशपाल ने विश्व जागृति मिशन एक भक्त से जमीन दान ले कर दिल्ली के एकदम बाहरी इलाके में बना दिया है। दान आता रहे इसके लिए इस सोसायटी को एनजीओ भी बना दिया गया और इसमें तमाम तरह के उद्देश्यों की पूर्ति कर दी गई ताकि दान देने वालों को सहूलियत हो और सुधांशु बाबा देश और विदेश में काली रकम को सफेद करते रहे। टीवी चैनल आज तक ने सुधांशु को ऐसे प्रस्ताव करते हुए रंगे हाथों पकड़ा था और यशपाल उर्फ सुधांशु के पास जवाब नहीं था।

सुधांशु के भक्त कहते हैं कि महाराज ने हिमालय में तपस्या की है और फिर योगी सदानंद ने उन्हें भगवान के दर्शन करवाए। इसके बाद तो सुधांशु जी खुद ही भगवान हो गए। सत्संग करना सीखा, नरेंद्र चंचल की तरह गाने भी लगे और जब बाबा रामदेव का योग मशहूर हो गया तो योग की कलाएं भी दिखाने लगे। जाहिर है कि यशपाल सुपर मार्केट में सब कुछ मिलता है। दिल्ली, मुंबई और मध्य प्रदेश में उन पर करोड़ों लुटाने वाले कम नहीं हैं लेकिन यह किसी को पता नहीं कि जिस आदमी को पुलिस और अदालतें तलाश रही हो वह आखिर उनको मोक्ष कैसे दिलवा सकता है?

लेखक आलोक तोमर देश के जाने-माने पत्रकार हैं. कैंसर जैसी भयानक बीमारी से जूझने के बावजूद वे देश-समाज के तमाम मुद्दों पर प्रतिदिन अपनी बेबाक राय रखने की परंपरा को कायम किए हुए हैं. देश के सभी मीडियाकर्मी आलोक तोमर के जल्द स्वस्थ हो जाने की कामना कर रहे हैं.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “सुधांशु महाराज उर्फ यशपाल का असली चेहरा

  • अमित बैजनाथ गर्ग. जयपुर. राजस्थान. says:

    बहुत खूब लिखा तोमर जी. उम्मीद है इस आलेख के बाद लोगों की बाबा-मुल्लाओं के प्रति दिखाई जा रही अंधभक्ति में थोड़ी कमी जरूर आएगी. वैसे आज बाबा बनना भी उसी तरह का व्यापार है जैसे कि भू माफियाओं और नेताओ का अखबार निकालना और मीडिया समूह चलाना.

    Reply
  • कमल शर्मा says:

    सुंधाशु महाराज अकेले ही नहीं है इस जमात में। ढ़ेर सारे खासकर टीवी पर आने वाले बाबाओं ने इसी तरह दुकानें जमा रखी हैं एवं लोगों को धर्म के नाम लूटकर धंधा चला रहे हैं। स्‍वामी नित्‍यानंद तो नित्‍य सेक्‍स के लिए प्रसिद्ध हो गए। आसाराम भी कम आस लेकर नहीं चले। खूब आसाओं के साथ मस्‍ती की है। पैसा तो खूब बनाया। इन सब बाबाओं ने अपने अपने उत्‍पाद बेचने से लेकर प्रवचन और भगवान से मिलवाने का वादा कर जनता को खूब चुतिया बनाया है। इन सभी की संपदाओं की जांच के साथ इनके कारनामे जनता के सामने लाने चाहिए ताकि जनता ही इनहें कूडे के ढेर में डाल सके। आलोक जी ने काफी शानदार लिखा और उनके जल्‍द स्‍वस्‍थ होने की कामना।

    Reply
  • hariom to you all……….guys,please do not deduce on hearsay and judge anyone.If one has never taken sugar,then how can he tell about the taste of sugar,neither he has right to analyze it.our society has totally become cynical.If you think everyone is bad and only tomar ji is fair then its not fair at all.Now recall the story about aarushi murder case and shiney ahuja case,they had clean chit now but what about their reputation spoiled by media and journalists.What about the trust of you innocent peoples.For highlighting their news and to increase their TRP they can do everything.Once Aamir khan was also blamed.There are too many TV channels and reporters and the cutthroat competition is there too.So how can u say that they aren`t involving in corruption and only showing the truth.TRUTH is only in our holy book `THE GITA` and leave all other truths to god.This is the only way of living happily throughout the life,otherwise suffer as u wish………………..hariom again

    Reply
  • hariom to you all……….guys,please do not deduce on hearsay and judge anyone.If one has never taken sugar,then how can he tell about the taste of sugar,neither he has right to analyze it.our society has totally become cynical.If you think everyone is bad and only tomar ji is fair then its not fair at all.Now recall the story about aarushi murder case and shiney ahuja case,they had clean chit now but what about their reputation spoiled by media and journalists.What about the trust of you innocent peoples.For highlighting their news and to increase their TRP they can do everything.Once Aamir khan was also blamed.There are too many TV channels and reporters and the cutthroat competition is there too.So how can u say that they aren`t involving in corruption and only showing the truth.TRUTH is only in our holy book `THE GITA` and leave all other truths to god.This is the only way of living happily throughout the life,otherwise suffer as u wish………………..hariom again

    Reply
  • Lokenath Tiwary Kolkata says:

    बाबा बनना भी उसी तरह का व्यापार है जैसे कि भू माफियाओं और नेताओ का अखबार निकालना और मीडिया समूह चलाना…[b][/b]
    well said by Amit baijnath garg.
    May god cure Alok very soon, we need a jhanda bardaar journalist like him.

    Reply
  • प्रमोद वाजपेयी says:

    आलोकजी हमारी कामना है कि आप शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण स्वास्थ्यलाभ करें एवं अपनी बेबाक टिप्पणियों से लाभान्वित करते रहें।

    Reply
  • Late Alok Tomar !!! Hum asha karte hain ki Bhagwan apko agle janma mein thodi si buddhi zaroor de, taki tum SudhanshuJi aur AsaramJi Bapu jaise mahaan santo ki ninda naaa karo

    Reply
  • Naveen Singla says:

    Education lack in India, Vote and Election, Who is the religious minister in India?
    People of India from diversity lot, there is no peace in India; although we say land of peace. Troubles of all kind on socio-medico-economic-lego in minds encourage them to find this; we accept these preachers from their controlling waves of words that we do not possess, but at last we want peace of mind. Hence, the search of this peace of mind motivate us to listen the religious verses. Women herself becomes naked in front of them, probably ASSA Ram Bapoo is the victim of another preacher conspiracy, girls less than 18 should not be allowed sit or approach near to them the conclusion and after 18 woman should be taken in custody as well for a thorough grill. Concerning corruption, new minister is required to eradicate the roots, people of India have to find themselves.

    Reply
  • अजय कुमार says:

    ऐसे बाबाओ का बस काम होता हैं । ठगी को बढ़ावा देना । अब वो दिन दूर नही जब ढोंगी बाबाओ पर शिकंजा कसा जा सके ।

    बाबा भोगबिलसिता से दूर रहते हैं । लेकिन इनके आश्रम में सारे साधन भोग विलासिता के मिल जायेंगे ।

    आप और हम मिलके इनके खिलाफ कोई ठोस कदम नही उठाया तो असली महर्षि के रूप में ये ढ़ोंगी चोला पहनकर बैठ जायेगे ।
    अगर ये असली में महर्षि है तो क्यों नही अपने धन का त्याग कर देते ।।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.