हिंदुस्‍तान, वाराणसी में एनई बनेंगे रजनीश त्रिपाठी

दैनिक जागरण, वाराणसी से रजनीश त्रिपाठी जल्‍द ही इस्‍तीफा दे देंगे. वे यहां डीएनई हैं. खबर है कि वे जल्‍द हिंदुस्‍तान, बनारस के साथ अपनी नई पारी शुरू करने जा रहे हैं. वहां वे न्‍यूज एडिटर के पद पर ज्‍वाइन कर रहे हैं. पिछले 23 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय रजनीश त्रिपाठी को तेजतर्रार पत्रकार माना जाता है.

रजनीश त्रिपाठी ने अपने करियर की शुरुआत सन 88 में आज, वाराणसी के साथ शुरू की थी. सन 97 में इन्‍होंने अमर उजाला ज्‍वाइन कर लिया. 2006 तक ये इलाहाबाद तथा बनारस में अखबार को अपनी सेवाएं देते रहे. 2006 में ये दैनिक जागरण, वाराणसी के साथ जुड़ गए. काफी समय तक यहां सिटी इंचार्ज भी रहे. फिलहाल हिंदुस्‍तान, बनारस में अनिल मिश्रा एनई की जिम्‍मेदारी संभाल रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि रजनीश के ज्‍वाइन करने के बाद अनिल मिश्रा को किसी दूसरी यूनिट भेजा जा सकता है. हालांकि इस संदर्भ में स्थिति पूरी तरह स्‍पष्‍ट नहीं हो पा रही है कि उनका तबादला किस यूनिट के लिए किया जाएगा. अनिल मिश्रा भी काफी समय से हिंदुस्‍तान, बनारस के साथ जुड़े हुए हैं.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “हिंदुस्‍तान, वाराणसी में एनई बनेंगे रजनीश त्रिपाठी

  • Nitesh Mishra says:

    badhiya hai Rajneesh sir ji hardik shubhkaamnaaye…. saath me yadi Anil Mishra ji Varanasi unite se chale jaate hain to kam se kam waha karyarat Patrakaaro aur anya ko warsho ki ghatiya Rajneeti aur tanashahi se mukti mil jayegi… waise is kram me pahle Sandeep Tripathi se bhi Varanasi Ht unit ko chhutkaara mil chuka hai……. kahte hain naa ki jo hota hai achha hota hai… aur buraayi ka ant kabhi na kabhi to hota hi hai…. Pahle sandeep ji aur ab anil ji…

    Reply
  • sir ko nayi pari k liye shubhkamnaye
    umeed hai k hindustan k nyi umar k patrakar us vidha ka gyan apse le sakenge jiski antim pankti k roop me aap log bache hai. sir patrakar aur dalal me fark jaruri hai. aue ye tabi sambav ho sakega jb nayi pidi k ladko ko aapka margdarshan mile

    Reply
  • ajay kumar tiwari says:

    भाई साहब बहुत अच्छी खबर है; लेकिन यह खबर देर से मिल रही है। अखबार बदलना तात्कालिक विकल्प है आपको स्थानीय सम्पादक होना चाहिए। जल्द ऐसा हो आमीन

    Reply

Leave a Reply to pradeep srivastava Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *