आगरा के दो आदमखोर पत्रकार

मीडिया में यौनाचार (5) :  उदारीकरण के बाद मीडिया का जो रूप बदला है, अब किसी से छिपा नहीं है। मीडिया का चरित्र बदला तो हम पत्रकार भी बदले। इस बदलाव में हम अपनी शुचिता, इमानदारी, प्रतिबद्धता, चरित्र और सामाजिक कर्त्तव्य को दफनाते चले गए। बावजूद इसके, न पूरा समाज गंदा है और न ही पूरी पत्रकारिता और न ही पूरे पत्रकार। प्रेस को जब लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ माना गया था तो उसके पीछे की बात यह थी की प्रेस के लोग समाज को दिशा देंगे और लोकतंत्र के तीनो स्तंभों पर नजर रखेंगे ताकि हर हाल में राष्ट्र और जनता का भला हो। इसके पीछे का सच यह भी था कि जो लोग मीडिया में आयेंगे, वे समाज के लिए आदर्श होंगे। इसका मतलब ये है कि मीडिया और मीडिया के लोग आम नहीं, खास लोग हैं और खास लोगों से अपेक्षा की जाती है कि उनका दामन साफ़ हो।

इस बहस में कई लोगो ने सवाल उठाया है कि किसी के निजी जीवन पर सवाल उठाना ठीक नहीं है। इसमें सच्चाई भी है। लेकिन जो सार्वजनिक लोग हैं, उन्हें अपने पद की मर्यादा का भी ख़याल रखना होता है। यहां किसी से प्यार-मोहब्बत करने की बात नहीं है, मामला पद के दुरुपयोग का है। और फिर, प्यार किसी एक से ही संभव है। क्या मान लिया जाय की हम पत्रकारों के बारे में जो बातें कही जा रही हैं, और पिछले कुछ सालों में जो हम करते आ रहे हैं, सब बकवास है। आज हमें इस पर सोचने की जरूरत है नहीं तो आने वाला कल और भयावह हो सकता है।

आज हम कुछ और जानकारी आप तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश के लखनऊ में एक ऐसे पत्रकार के वरिष्ठ पत्रकार हैं जो बिना आचमन किये हुए किसी का प्रमोशन नहीं करते। कई लोगों की शिकायत है कि वे ऐसा कर-करा के ही प्रमोशन पा सके हैं। इसी शहर के एक पुराने अखवार में कम से कम दो लड़कियों को इसलिए नौकरी छोड़नी पड़ी थी कि उसके साथ समाचार सम्पादक कुछ हरकत करना चाह रहे थे। इस बाबत शिकायत होने पर इस सज्जन की मरम्मत भी हुयी थी। इसी शहर में एक चैनल के इनपुट हेड मार खा चुके हैं। इनकी पिटाई किसी खबर को लेकर नहीं, गलत आचरण को लेकर हुयी थी। एक चैनल में काम करने वाले उस पत्रकार को क्या कहेंगे जो खुद तो काम करते नहीं, लेकिन महिला पत्रकार इनके पीछे जमी रहती हैं। कहते हैं कि यह भीड़ को बॉस से मिलवाने के लिया जाता है।

आगरा में भी दो पत्रकार भाई ऐसे हैं जिन्हें आदमखोर तक कहा जाता है। ये पत्रकार आजकल टीवी में जाने के लिए तड़प रहे हैं। उधर उत्तराखंड की पत्रकारिता को कई पत्रकारों ने लज्जित कर रखा है। इनमें से दो पत्रकार अखबार से आते हैं। ये लोग नई-नई महिला पत्रकारों को लाते हैं और जब इनका मकसद पूरा हो जाता है या फिर पूरा नहीं होता है तो उसे निकाल देते हैं। देहरादून की कई महिला पत्रकारों ने एक बार इनकी बेइज्जती भी की थी। यहीं के चैनल में काम कर रही कई पत्रकार नौकरी के नाम पर विवश होकर रहने को मजबूर हैं। एक चैनल के बॉस अक्सर कहते हैं कि नौकरी संबंधों से मिलेगी, न की पत्रकारिता करके। हरिद्वार में एक चैनल के बड़े आदमी महिला पत्रकार के साथ आये थे। शाम ढलते ही महिला जाने की जिद करने लगी और पत्रकार महोदय पीने में जुटे रहे। लड़की लौट गयी। दूसरे दिन उसकी नौकरी चली गयी। दो साल पहले उसी हरिद्वार में दो लड़की एक व्यापारी को ब्लैकमेल करने के लिए खुद का स्टिंग आपरेशन कर लिया।

चरित्रहीनता की कहानी बंगाल की मीडिया में भी काफी है। यहां शोषण का बाजार कुछ ज्यादा ही गर्म है। एक पुराने अखबार के फोटोग्राफर के बारे में वहां चर्चा है कि उसने नैतिकता की सारी सीमाएं तोड़ दी हैं। फोटोग्राफी सिखाने के नाम पर महिला पत्रकारों के साथ यह किसी भी हद तक चला जाता है। कोलकाता में एक महिला पत्रकार इतनी कड़क है कि कामी पत्रकार रास्ता छोड़ देते हैं। इस महिला पत्रकार ने कई लोगों को रास्ता दिखाने का काम किया है। लेकिन एक स्थानीय चैनल की दो महिला पत्रकार अपने साथी पत्रकारों के शोषण से तंग आकर कोलकता छोड़ने पर मजबूर भी हुयीं।

कोलकता से हमारे एक साथी ने कई लोगों की सूची भेजी है जो यौनाचार में लिप्त रहते हैं। इनमें से कई लोगों की उम्र ४० के पार है। यहीं के एक अखिलेश अखिलचैनल के एक वरिष्ट पत्रकार दार्जिलिंग में नौकरी देने के नाम पर तीन लड़कियों के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देखे गए थे। बाद में इन्हें नौकरी से हाथ धोना पड़ा। उधर झारखंड में भी कई ऐसे पत्रकार हैं जो महिला पत्रकारों का शोषण करते रहे हैं। रांची के एक पत्रकार तो इसीलिए कई बार पिटाई भी खा चुके हैं। धनबाद और जमशेदपुर में कुछ नेता और पत्रकार मिलकर कई असामाजिक गतिविधियों में शामिल रहे हैं। … जारी ….

वरिष्ठ पत्रकार अखिलेश अखिल बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के निवासी हैं. पटना-दिल्ली समेत कई जगहों पर कई मीडिया हाउसों के साथ कार्यरत रहे. मिशनरी पत्रकारिता के पक्षधर अखिलेश अखिल से संपर्क mukheeya@gmail.com के जरिए किया जा सकता है.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “आगरा के दो आदमखोर पत्रकार

  • mazhar husain says:

    Bhai saheb Patrkarita me aise hi Gande Chartra ke Logo ke aajane ki wajah se hi patrkaar aur patrkarita Badnaam ho gayi hai. kyonki wahi kahawat is par sateek baithti hai ki TALAAB KI EK MACHLI POORE TALAAB KO GANDA KAR DETI HAI
    aisa nahi hai ki achhe log nahi hai Achhe log agar na hote to Patrlarita kaha hoti iska Andaza nahi lagaya ja sakta kich log to Hamre Basti zile ko hi le lein jo wase to bahut chhto aur pichda zila hai lekin yaha bhi ek patrakar har waqt apne saath ek Ladki ko lekar ghoomte hai. khasi badnami kara rahe hai lekin unhe shyad isi mein anand milta hai..aur kuch aise bhi hai jo har waqt Adhikariyon ki Chatukarita mein hi lage rahte hain…aise hi logo ki wajah se Patrakar aur Patrikarita kafi Badnaam ho gayi hai…aisa nahi hai upar baithe log is baat ko nahi jaante.lekin kyon wah aise logo ko sanrachhan diye huye hai wahi jaane Lekin yah sab dekh sun kar bahut dukh hota hai. lekin kya kare kuch bas nahi chalta..bas Ptrkaar aue Patrikarta ke Liye Allah se Duaa hi kar sakta hoon wahi inki sahi Raaste par la sakta hai

    Reply
  • Bhai,jee lagta hay logo ke gali sun-sun kar aap ke lekhne par kafe farak para hay,ya phir kise ka dabao may hay kya ? koe bat nahe aap na or yashwant je na bahut sahash ka kam kiya hay jiska leya phir sa badhai.aap ke report sa bhadash ka T.R.P lagta hay ke kafe badha hay. Regards….Anant Amit

    Reply
  • KALAMWALA-GUNDA says:

    bhai mere parnam………… patrkarita k liye dil se kam mat karo vanha k patrkar ese vanha k patrkar ese kahne se kuchh nahi hoga sach sach chilana chhodo sach ko samne lane wali tasweer bhi sath me atech karo taki log aap ki bato ko tarzeeh de………………… bura lage to chhota bhai samjh kar maf kar dena………… per kichad me sane logo per kichad uchhal ne se baz aakkar unhe saf pani se dho kar unki asali tasweer janta ko dikha sako to behater hoga ………. chief editor RAJASTHAN-MEGHDOOT

    Reply
  • Chandan ( Cine Editor,Patna) says:

    100% Right

    Sahi kaha apne ye jo kuchh badchalan type ke jo media house mai kam kar rahe hai ye sare system ko apne anusar chalata hai…. inka network jo hai wo girls ke uper nirvar karta hai….. ko akela ye kam nahi kar raha hai….

    In sare dalalo ko pakar kar aisa kuchh karna chahiye jise Media jo 4th pillor jo mana jata hai wo bach sake …….

    AKHILESH JEE Ye ajib bat hai ki ko boy kitna bhi mehanat karta hai es industriers mai usko puchhne wala kio nahi…

    kas koi samjhta inhe…..vi…..

    kher apko thank u apse pahle mai es site ke sanchalak jee ko dhanyvad dete hai…jo ki sabhi news colletect karte hai

    BAST OF LUCK 4 BHADAS4MEDIA

    Reply
  • Pradeep Kumar says:

    Yashwant Bhai Aap ko Or Aap k in Saathe Akhil ji ko es Article k liye Badhaaye. Aap Sach likhtey hai Acheebat hai lekin Yashwant ji ye Bataye k Aaj kon Doodh ka Dhola hai. Shaayad he Esa koi media House ho Jahaa Par Sosan na hota ho. meney khud 2 -3 publication mai nokaree k Doran dekha hai k Seniors Apnee Kaleeg k Saath…? Aaj kal to Kai Chut Bhaiye Media k Naam Par Gumraah kar k Ladkiyo k Saath Sab kuch…? ye koi Nai bat nahe hai… jab tak hum log koi Dhos kadam nahe uthaaeyegey tab tak ye sab esehe Chalta Raheyga.. Yashwant Bhai Es par Aap ney Bhe bahut Lkha hai or likh bhe rahey hai… Yashwant ji Soch Badalne Padeyge Tabhee kuch Badlav ho Sakta hai… Aap ese topic par likh rahey hai Achee bat hai lekin kya Maharasta mai itna Sab kuch ho rahaa hai us k liye bhe Aap ke Kalam or es Bhadas4media k bas Space or Samay hai. Yashwant bhai ese mudoo Par bhe Kabe charcha ho jai to Achaa. hum bhe Bharat k Nagrik hai hum ko bhe Desh k lise kuch Soochna chaaheye…? Aap ka Ak Subh Chintak.

    Reply
  • rajesh ranjan says:

    Bhai Akhileshjee, Itne kameeno me se kuch super kameeno ka naam to bata hi sakte hai, jinke bare me aapke paas pukhta saboot hain ya jinhe sari duniya jan chuki hai. yaad dila du ki ek bade channel se haal hi me ek kameene ki chutti bhi ho chuki hai. uske paas ladkon ke liye kabhi jagah nahi rahi lekin roz raat ko ek ladki ke sath sone ki khwahish rakhta raha. Itna dar kar likhne se to accha ki na likhen.

    Reply
  • वरिष्ठ पत्रकार अखिलेश अखिल बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के निवासी हैं. पटना-दिल्ली समेत कई जगहों पर कई मीडिया हाउसों के साथ कार्यरत रहे. मिशनरी पत्रकारिता के पक्षधर अखिलेश अखिल से संपर्क mukheeya@gmail.com This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it के जरिए किया जा सकता है.
    काहे की मिशनरी पत्रकारिता? जो देह से ऊपर नहीं उठ पाए वो खाक मिशनरी पत्रकारिता करेंगे।

    Reply
  • satish pranami says:

    kewal patrakarita me hi nahi, har jagha mahilao ka shoshan hota hai.
    ye alag baat hai ki kuch mahilaen khud shoshan kara rahi hai to kuch shoshan ka shikar ho rahi hai.
    rahi media me yonachar ki baat to aaj adhikansh media karmi aise hai jo kewal aur kewal kami hote hai. unhe patrakarita se koi matlab nahi hota. mahila ptrakar ki baat to bahut door, yadi koi mahila neta ya kisi anya sanghathan se judi hoti hai to uske saath bhi ye kaami patrakar sambandh banane se nahi chukte. phir jab koi mahila aise kaami patrakaron ke saath kaam kare to bhala kaise bach sakti hai.aaj jaroorat hai aise kaami patrakaron media se bahishkar karne ki, tabhi media samaj ko sahi disha de sakta hai. varna baat bemaani hai.
    SATISH PRANAMI (REPORTER)
    MEERUT

    Reply
  • satish pranami says:

    aaj media me adhikanshkaami log gus aaye hai.
    jo patrakarita kabhi mishan hua karti thi aaj dhandha ban gai hai. rahi baat media me mahilao ke shoshan ki to kuch mahilayen apne aap ko boss ke aage paroskar aage bhad rahi to kuch ko boss log bhogkar aage bhada rahe hai. ye sab kuch media ki chakachond ke karan ho paa raha hai.
    haan itna avashay hai ki aaj media me adhiktar galat log aa gaye hai jo kisi bhi had tak jaane ko taiyar rahate hai. mera manna hai ki aise logo ka media se bahishkar kiya jaye.

    Reply
  • anuj somania says:

    Bhai sahab aajkal media jagat jo azadi se pehle hamare desh ko azad karwane mein sabse bada sahayak sidh hua tha aaj log ushi media ke naam par itna ghinoni harkatein karte hain sayad unko pata nahin hai ko aaj media ki wajah se hi wo apne hi desh mein jahan pehle wo gulami bhari jindagi ji rahen the. aur apne hi desh mein gulam the media jahan tak mera sawal hai desh ko azad karwane mein media ka 50 percent hath hai par aajkal log uski ka galat istemal kar rahe hai. aaj media ke naam par kafi galat Karya ho rahen hain. koi kisi ko job ke naam par to koi kisi ko unche path ke naam par utpidit kar raha hai.

    Reply

Leave a Reply to Reporter Cancel reply

Your email address will not be published.