मोहनलाल जोशी बने यूएनआई यूनियन अध्यक्ष

: सभी सदस्य निर्विरोध निर्वाचित : नयी दिल्ली। यूनाइटेड न्यूज आफ इंडिया (यूएनआई) के कर्मचारियों के संगठन यूएनआई वर्कर्स यूनियन की 2010-11 के लिये नई कार्यकारिणी के चुनाव में मोहन लाल जोशी अध्यक्ष के पद के लिये तथा एके बनर्जी उपाध्यक्ष पद के लिये निर्विरोध निर्वाचित हुए। मुकेश कौशिक महासचिव पद के लिए निर्विरोध चुने गए।  यूनियन चुनाव के 21 अगस्त को घोषित परिणाम के अनुसार समरेन्द्र कांत पाठक, स्वराज सर्मा सचिव तथा बिशन सिंह नेगी कोषाध्यक्ष बने हैं। कार्यकारिणी के 12 सदस्य निर्विरोध निर्वाचित घोषित किये गये।

इन 12 सदस्यों में आरती कपूर के अलावा विनोद कुमार, मुकेश शर्मा, विक्रम सिंह सिंह बिष्ट, इमरान खान, मनोरंजन दास, उमेश धर द्विवेदी, अभिषेक कुमार, बिशंम्भर दत्त, अशोक कुमार गुप्ता, अशोक कुमार सिंह और मथुरा प्रसाद तिवारी निर्वाचित हुए हैं। चुनाव की प्रक्रिया पांच अगस्त को शुरू हुई। 19 अगस्त को नामांकन भरने की अंतिम तिथि थी। 19 को ही नामांकन पत्र की जांच की गयी तथा उम्मीदवारों की सूची को कार्यालय स्थित सभी नोटिस बोर्डों पर चिपकाया गया।

चुनाव 26 अगस्त को कराया जाना था। चुनाव के लिये कुल 30 नामांकन पत्र भरे गए थे और जांच के बाद सभी वैध पाये गए। नाम वापसी की अंतिम तिथि 21 अगस्त थी। नामांकन वापस लेने के बाद सभी पदों के लिए निर्विरोध चुनाव हुआ। इस चुनाव में राजेश कुमार के गुट ने भाग नहीं लिया। श्री राजेश कुमार पूर्व की कार्यकारिणी में महासचिव थे लेकिन वह चुनाव के लिये अनुकूल माहौल नहीं होने के आधार पर चुनाव टालना चाहते थे। उन्होंने चुनाव को अवैध घोषित कराने तथा चुनाव पर रोक लगाने के लिये पटियाला कोर्ट में याचिका दायर की थी लेकिन अदालत ने चुनाव पर रोक लगाने से इंकार कर दिया।

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “मोहनलाल जोशी बने यूएनआई यूनियन अध्यक्ष

  • uni journalist says:

    all is wrong ..yashwant …pl check the facts…this is an example of 100 % bias reporting by u …do not play with b4m good image as well as of u …

    Reply
  • this is 200 percent correct, lagata hai rajesh verma nein apni parajay se andhe hokar facts ko nahi dekh pa rahe hai, rajesh verma ke adalat mein har jane tha uni employees ke bich unpopular ho jane ke karan sachchai badal nahi jati. rajesh verma ko ab bhi ankhe khol leni chahiye aur sachchai ka samana karna chahiye,

    Reply
  • Yashwant jee , mera haq toh nahin lekin kartaya hai aapko yeh batane ka ki aapko yeh public karna chahiye ki yeh khabar aapko kisne di- Vinod Kumar ho sakte hain – Rajesh Kumar group ne yeh ‘Chunav’ mein bhag nahin liya kyonki woh illegal aur invalid hai aur unke petition par court ka faisla aana shesh hai. aapko yeh khabar dene wale ne yeh nahin bataya hoga ki ish farji chunav ke theek pehle Joshi jee aur unke goondon ne UNION ROOM mein rajesh kumar aur unke saathiyon par hinshak hamala kiya tha jiski medico-legal FIR parliament mein darj hai – maine khud aapko kai sms bheje hain pure prakran ke bare mein , aap toh mujhe jaante hain – yakin karein ki union aur chunav hamare liye madhyam hai , aant nahin – UNI jab bik rahi thi toh tab bhi union par joshi jee ka gut kaabij tha aur uske bikne ki khabar jab maine Mumbai se sab ko sms kar di toh us rat Vinod Kumar ke saath Delhi mein Joshi gut ne kya kiya yeh unhi se pata kar lein – UNI aandolan ki ladai ka yathartha chote se comment mein nahin kahi ja sakti – main chahunga ki aap Rajesh aur Joshi group dono ko apna -apna paksha likhit roop mein aapko dein – main khud koi neta nahi UNI ki ladai ka ek sadharan sipahi hoon jiske liye jeet ya haar se aham ladna hai

    Reply
  • ramesh pathak says:

    dear s jain…pl note that court has adjurned the case upto 7 of september…honorable court has asked for election procedure detail…the new union is fake..

    Reply
  • Rajesh verma is totally biased, undemocratic and mindless leader who has ignored the interests of uni and uni employees. he has no supporter in UNI and hence he has to go to court to stop democratic process of election. He has done nothing during last two years, he has misused the fund of uni emplyees union for his personal interest.

    Reply

Leave a Reply to S jain Cancel reply

Your email address will not be published.