Categories: बनारस

नरेंद्र मोदी के मुक़ाबले में अरविंद केजरीवाल ध्रुव बन रहे हैं

Anand Pradhan : बनारस में हूँ. कल रात ट्रेन में साथ आ रहे बनारसी सह-यात्रियों से लेकर सुबह आटोवाले हरिलाल तक और दूसरे कई लोगों से बातचीत के बाद इस नतीजे पर पहुँचा हूँ कि बनारस में मुक़ाबला इकतरफ़ा नहीं है.

असली वोटर ख़ामोशी से सबको तौल रहा है. वह दूर से नमो समर्थकों की ओर से एक जन उन्माद पैदा करने की उत्पाती कोशिशों को देख रहा है. बातचीत से लगा कि मोदीमय माहौल बनाने की कोशिशों के बावजूद वोटरों में अरविंद केजरीवाल के प्रति उत्सुकता और आकर्षण है. इस कारण नरेंद्र मोदी के मुक़ाबले में अरविंद ध्रुव बन रहे हैं.

आम वोटर ख़ासकर बनारस का ग़रीब, मेहनतकश और साथ ही, पढ़ा-लिखा तबक़ा उन्हें सुन रहा है. मोदी के समर्थकों में लंपट तत्वों की बड़ी तादाद को देखकर वोटरों में स्वाभाविक चिंता है. यह मुक़ाबला दिलचस्प होता दिख रहा है. ऐसा ही चला तो बनारस के अपने मिज़ाज के मुताबिक़ गली आगे मुड़ती दिख रही है. आख़िर अभी तीन सप्ताह बचे हैं. आगे और अनुभव लिखता रहूँगा लेकिन पहले दिन के अनुभव ने चौंकाया है क्योंकि दिल्ली में बैठे हुए तो बनारस में इकतरफ़ा मैच की रिपोर्टें पढ़-देख रहा था.

प्रोफेसर, विश्लेषक और स्तंभकार आनंद प्रधान के फेसबुक वॉल से.

B4M TEAM

Share
Published by
B4M TEAM

Recent Posts

गाजीपुर के पत्रकारों ने पेड न्यूज से विरत रहने की खाई कसम

जिला प्रशासन ने गाजीपुर के पत्रकारों को दिलाई पेडन्यूज से विरत रहने की शपथ। तमाम कवायदों के बावजूद पेडन्यूज पर…

जनसंदेश टाइम्‍स गाजीपुर में भी नही टिक पाए राजकमल

जनसंदेश टाइम्स गाजीपुर के ब्यूरोचीफ समेत कई कर्मचारियों ने दिया इस्तीफा। लम्बे समय से अनुपस्थित चल रहे राजकमल राय के…

सोनभद्र के जिला निर्वाचन अधिकारी की मुख्य निर्वाचन आयुक्त से शिकायत

पेड न्यूज पर अंकुश लगाने की भारतीय प्रेस परिषद और चुनाव आयोग की कोशिश पर सोनभद्र के जिला निर्वाचन अधिकारी…

The cult of cronyism : Who does Narendra Modi represent and what does his rise in Indian politics signify?

Who does Narendra Modi represent and what does his rise in Indian politics signify? Given the burden he carries of…

देश में अब भी करोड़ों ऐसे लोग हैं जो अरविन्द केजरीवाल को ईमानदार सम्भावना मानते हैं

पहली बार चुनाव हमने 1967 में देखा था. तेरह साल की उम्र में. और अब पहली बार ऐसा चुनाव देख…

सुरेंद्र मिश्र ने नवभारत मुंबई और आदित्य दुबे ने सामना हिंदी से इस्तीफा देकर नई पारी शुरू की

नवभारत, मुंबई के प्रमुख संवाददाता सुरेंद्र मिश्र ने संस्थान से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपनी नई पारी अमर उजाला…