नरेन्द्र मोदी के इस इंटरव्यू ने अब एक नए पैटर्न का जन्म दे दिया है

Vineet Kumar : जनता और मीडिया से सीधे मुंह बात नहीं करने औऱ उन्हें लगातार इग्नोर करके कैसे नयी मीडिया स्ट्रैटजी बनती है, इसे आप नरेन्द्र मोदी के संदर्भ में बेहतर समझ सकते हैं. नरेन्द्र मोदी ने मीडिया के लिए अपने को इस तरह एक्सक्लूसिव बनाया कि कोई लाख कोशिश कर ले, अगर चैनल का मालिक स्वयंसेवक (रजत शर्मा जैसे) नहीं है तो उससे बात ही नहीं करेंगे. ऐसे में अच्छा-खराब, क्रिटिकल सवाल करने से कई गुना ज्यादा पूरा मामला इस बात पर आकर टिक गयी कि जो बात कर ले वही सबसे बड़ा पत्रकार. अब देखिए स्ट्रैटजी.

जब नरेन्द्र मोदी मीडिया के लिए इतने दुर्लभ हो जाते हैं और दूसरी तरफ मीडिया को किसी भी तरह दिखाने की तलब बनी रहती है तो किसी एक चैनल को इंटरव्यू देने के बजाय एक एजेंसी को इंटरव्यू देते हैं और बाकी चैनल उस एजेंसी के इंटरव्यू को दबाकर दिन-रात ऐसे चला रहा है जैसे कि उसके लिए भी राजनीतिक विज्ञापन की तरह पैसे दिए गए हों. आप ये नहीं कह सकते कि ये पेड न्यूज है लेकिन इंटरव्यू है, ये भी कहीं से नहीं लगता. ब्रांड बनने की प्रक्रिया में आपको ऐसे ही निरुत्तर किया जाता है.

नरेन्द्र मोदी के इस इंटरव्यू ने अब एक नए पैटर्न का जन्म दे दिया है और नेताओं के आगे बिछने की जो कवायद अब तक चैनलों तक सीमित थी, अब उसमे न्यूज एजेंसी भी शामिल हो गए. कल को राहुल गांधी का इंटरव्यू भी इसी तरह आए और सब चैनलों पर विज्ञापन की तरह धुंआधार चले तो कोई आश्चर्य नहीं. उपर से चैनल छाती चौड़ी करके कहेंगे- लो जी हमने तो फेकू, पप्पू दोनों को बराबर मौका दिया. 70 मिनट के इस इंटरव्यू में मोदी ने बीजेपी का कितना पैसा बचा लिया और विज्ञापन की एवज में चैनलों का कितने का चूना लगा, अंदाजा है आपका. 10 सेकण्ड के विज्ञापन की एवरेज कीमत चालीस हजार यहां सत्तर मिनट जोड़ लीजिए.


Vineet Kumar : Ani द्वारा जारी नरेन्द्र मोदी के इंटरव्यू को इंटरव्यू कहने से बेहतर है प्रवचन को इंटरव्यू का पर्यायवाची शब्द मान लिया जाये. नरेन्द्र मोदी करन थापर के इंटरव्यू को बीच में छोड़कर, विजय त्रिवेदी को हड़का क्या दिया था कि उसका असर साफ़ दिख रहा है. इंटरव्यू लेनेवाले की पूरी कोशिश इस बात पर होती है की वो आखिर तक बने रहें न कि क्रिटिकल सवाल करें.

मीडियाकर्मी की पूरी योग्यता आखिर तक किसी तरह रोकने तक सीमित हो जाती है. नतीजा इंटरव्यू लेनेवाले की मौजूदगी का कोई मतलब नहीं रह जाता और पूरा प्रवचन देने की मुद्रा में नरेन्द्र मोदी आ जाते हैं. जिस तरह एक न्यूज़ एजेंसी का ये इंटरव्यू सारे चैनलों पर एकतरफा चल रहा है,दर्शक को भ्रम न हो जाये कि ये अबकी बार की ही सीरीज है. अगर ऐसे ही इंटरव्यू लिये जाते रहें तो बेहतर है इसका नाम मोदी दरबार हो. अभी से ही मोदी को लेकर मीडिया इतना सहमा हुआ है तो आगे तो लोटने लग जायेगा.

मीडिया विश्लेषक विनीत कुमार के फेसबुक वॉल से.

संबंधित पोस्ट…

एएनआई से नॉन स्टॉप इंटरव्यू में मोदी जी की अक्ल और समझ दिख गई

xxx

इतने सारे न्यूज चैनलों पर एक साथ मोदी का इंटरव्यू! अदभुत है मीडिया मैनेजमेंट!!

B4M TEAM

Recent Posts

गाजीपुर के पत्रकारों ने पेड न्यूज से विरत रहने की खाई कसम

जिला प्रशासन ने गाजीपुर के पत्रकारों को दिलाई पेडन्यूज से विरत रहने की शपथ। तमाम कवायदों के बावजूद पेडन्यूज पर…

4 years ago

जनसंदेश टाइम्‍स गाजीपुर में भी नही टिक पाए राजकमल

जनसंदेश टाइम्स गाजीपुर के ब्यूरोचीफ समेत कई कर्मचारियों ने दिया इस्तीफा। लम्बे समय से अनुपस्थित चल रहे राजकमल राय के…

4 years ago

सोनभद्र के जिला निर्वाचन अधिकारी की मुख्य निर्वाचन आयुक्त से शिकायत

पेड न्यूज पर अंकुश लगाने की भारतीय प्रेस परिषद और चुनाव आयोग की कोशिश पर सोनभद्र के जिला निर्वाचन अधिकारी…

4 years ago

The cult of cronyism : Who does Narendra Modi represent and what does his rise in Indian politics signify?

Who does Narendra Modi represent and what does his rise in Indian politics signify? Given the burden he carries of…

4 years ago

देश में अब भी करोड़ों ऐसे लोग हैं जो अरविन्द केजरीवाल को ईमानदार सम्भावना मानते हैं

पहली बार चुनाव हमने 1967 में देखा था. तेरह साल की उम्र में. और अब पहली बार ऐसा चुनाव देख…

4 years ago

सुरेंद्र मिश्र ने नवभारत मुंबई और आदित्य दुबे ने सामना हिंदी से इस्तीफा देकर नई पारी शुरू की

नवभारत, मुंबई के प्रमुख संवाददाता सुरेंद्र मिश्र ने संस्थान से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपनी नई पारी अमर उजाला…

4 years ago