साध्‍वी चिदर्पिता ने स्‍वामी चिन्‍मयानंद पर लगाया रेप का आरोप

शाहजहांपुर से एक बड़ी तथा चौंकाने और हतप्रभ करने वाली खबर आ रही है। भाजपा के शासन काल में गृहराज्‍य मंत्री रहे तथा मुमुक्ष आश्रम (परमार्थ आश्रम हरिद्वार के अध्यक्ष) के अधिष्‍ठाता स्‍वामी चिन्‍मयानंद सरस्‍वती के खिलाफ उनकी शिष्‍या साध्‍वी चिदर्पिता ने बलात्‍कार का आरोप लगाया है। पूर्व गृह राज्यमंत्री के विरुद्ध शाहजहांपुर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मुमुक्षु आश्रम शाहजहांपुर की प्रबंधक साध्वी चिदर्पिता के सनसनीखेज संगीन आरोपों की तहरीर एक सप्‍ताह पहले ही पुलिस को दी थी, जिसकी जांच एसपी सिटी कर रहे थे,  बुधवार को साध्‍वी के बयान दर्ज करने के बाद कई धाराओं में रिपोर्ट लिखने की कार्रवाई की गई।

इंडिया टुडे से जुड़ेंगे दिलीप मंडल

आईआईएमसी से जुड़े दलित चिंतक एवं लेखक दिलीप मंडल अपनी नई पारी इंडिया टुडे के साथ शुरू करने जा रहे हैं. सूत्रों ने बताया कि वे जल्‍द ही इस मैगजीन के साथ जुड़ रहे हैं. बेबाक ब्‍लॉगर और कई किताबों के लेखक दिलीप फिलहाल आईआईएमसी से संबद्ध हैं. दिलीप मंडल के अपने करियर की शुरुआत नवभारत टाइम्‍स से की थी. इसके बाद दैनिक जागरण, अमर उजाला, जनसत्‍ता, इंटर प्रेस सर्विस के लिए काम किया.

‘मंत्रालय में उल्लू’ का लोकार्पण

नागपुर : व्यंग्यकार टीकाराम साहू 'आजाद' के ताजातरीन व्यंग्यसंग्रह 'मंत्रालय में उल्लू' (समय प्रकाशन, दिल्ली) के लोकार्पण और समीक्षण के अवसर पर महात्मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा के कुलपति विभूति नारायण राय ने अध्‍यक्षता करते हुए कहा कि व्यंग्य लेखन बेहद गंभीर कर्म है। व्यंग्य के मानी केवल हंसाना नहीं है। बात तो तब है जब व्यंग्य पढ़ते हुए हंसते-हंसते आंखों से आंसू छलक आए। हास्य कवि की भांति व्यंग्यकार की भूमिका मात्र मनोरंजनात्मक नहीं है।

प्रशांत भूषण ने अखबार के संपादक को नोटिस भेजा

अन्‍ना टीम के प्रमुख सदस्‍य प्रशांत भूषण ने राजस्‍थान के भिलवाड़ा से प्रकाशित अखबार डायमंड इंडिया के संपादक को लीगल नोटिस भेजा है. प्रशांत अन्‍ना टीम के दूसरे सदस्‍य अरविंद केजरीवाल के वकील के तौर पर यह नोटिस भेजा है. नोटिस डायमंड इंडिया में प्रकाशित एक खबर पर भेजी गई है. खबर में बताया गया है कि अन्‍ना के आंदोलन को आरएसएस का पूरा समर्थन था तथा अरविंद केजरीवाल अंदरुनी तौर पर आरएसएस और भाजपा के संपर्क में थे.

लोकपाल से बाहर हो मीडिया : अरविंद

टीम अन्ना के अहम सदस्य अरविंद केजरीवाल ने मीडिया को लोकपाल से बाहर रखने की वकालत करते हुए कहा कि इसके लिए प्रेस काउंसिल सक्षम संस्था है। फिर भी अगर काम नहीं चल रहा है तो उसके लिए अलग से कानून बनाया जा सकता है। हालांकि उन्होंने स्वीकार किया कि तमाम सामाजिक संस्थाओं और मीडिया में भ्रष्टाचार है। उन्होंने सीबीआई को भी सरकार के नियंत्रण से बाहर रखने की मांग उठाई।

चेतन आनंद नोएडा एवं गौरव त्‍यागी गाजियाबाद के ब्‍यूरोचीफ बनाए गए

हिंदुस्‍तान, नोएडा से खबर है कि दो ब्‍यूरोचीफों को आपस में बदल दिया गया है. यह बदलाव गाजियाबाद के ब्‍यूरोचीफ चेतन आनंद के खिलाफ रिपोर्टिंग टीम में फैले असंतोष को देखते हुए किया गया है. सूत्रों का कहना है कि चेतन आनंद गाजियाबाद को ठीक से संभाल नहीं पा रहे थे, जिसके चलते उन्‍हें अंतिम चेतावनी देते हुए गाजियाबाद से हटाकर नोएडा का ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. यह कार्रवाई उन पर ज्‍यादा निगरानी रखने के लिए की गई है.

जागरण, बनारस : चीफ सब एडिटर करेंगे जिले में नौकरी, राजाराम का हस्‍ताक्षर से इनकार

दैनिक जागरण, वाराणसी से दो खबरें हैं. शुरुआत करते हैं चीफ सब एडिटर श्‍याम बिहारी श्‍यामल के तबादले की खबर से. श्‍यामल को बनारस से सोनभद्र भेज दिया गया है. यह सजा दी गई है वेबसाइट पर हुई एक गलती के चलते. हालांकि सूत्रों का कहना है कि यह गलती से ज्‍यादा आंतरिक राजनीति का परिणाम है. इसी कारण चीफ सब एडिटर श्‍यामल को सोनभद्र भेजा गया है. सबसे बड़ी बात यह है कि उन्‍हें प्रभारी बनाकर नहीं बल्कि सोनभद्र के ब्‍यूरोचीफ राकेश पाण्‍डेय का सहयोगी बनाकर भेजा गया है, जो पद में उनसे जूनियर हैं. लिखने-पढ़ने में माहिर श्‍यामल यहां की लॉबी को काफी समय से खटक रहे थे. पहले उन्‍हें सिटी चीफ से डाक पर लाया गया. अब सजा का बहाना बनाकर जंगल-पहाड़ पर लिखा-पढ़ी करने के लिए भेज दिया गया है. गलती तो एक बहाना है.

नेटवर्क18 ने बी साई कुमार को सीईओ बनाया, विगनेश न्‍यू इंडियन एक्‍सप्रेस में वीपी बने

नेटवर्क18 से खबर है कि सीओओ एवं फोर्ब्‍स इंडिया के पब्लिशर बी साई कुमार को प्रमोट करके सीईओ बना दिया गया है. उन्‍हें हरेश चावला की जगह सीईओ बनाया गया है, जिन्‍होंने कुछ समय पहले इस पद से इस्‍तीफा दे दिया था. श्री कुमार पिछले बारह सालों से नेटवर्क18 के साथ जुड़े हुए हैं. वे पहले वॉयकॉम18 और होमशॉप18 बोर्ड में सदस्‍य पद पर ज्‍वाइन किया था. श्री कुमार के जिम्‍मे स्‍ट्रैटजिक एवं ऑपरेशन मैनेजमेंट होगा. वे ग्रुप की खबरों, वेब, प्रकाशन एवं बिजनेस की जिम्‍मेदारी देखेंगे.

आपरेटरों ने बीबीसी चैनल दिखाना बंद किया

पाकिस्तान में केबल ऑपरेटरों ने बीबीसी के अंतरराष्ट्रीय टीवी चैनल बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ को 'ब्लॉक' करना शुरु कर दिया है यानी कई शहरों में अब ऑपरेटर अब इस चैनल को नहीं दिखा रहे हैं. संवाददाताओं का कहना है कि पाकिस्तान के अधिकतर शहरों में बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ को देखना संभव नहीं है और संभावना है कि इस प्रतिबंध को बुधवार तक ग्रामीण इलाक़ों में भी लागू कर दिया जाएगा. ऑपरेटरों का कहना है कि ये क़दम बीबीसी की टीवी डॉक्यूमेंटरी 'सीक्रेट पाकिस्तान' को प्रसारित किए जाने के बाद उठाया गया है.

पेज बनाने के फरमान के बाद रिपोर्टर परेशान

वॉयस ऑफ लखनऊ के रिपोर्टर परेशान हैं. उनकी परेशानी का कारण प्रबंधन का नया फरमान है. प्रबंधन ने रिपोर्टरों को फरमान सुना दिया है कि जिसे पेज बनाना नहीं आएगा उन्‍हें अपनी नौकरी खोनी पड़ेगी. यह फरमान एक दिसम्‍बर से लागू होगा. वैसे ही कम सेलरी मिलने को लेकर पत्रकारों में नाराजगी है, जब से नया फरमान सुनाया गया है तब रिपोर्टर और अधिक तनाव में आ गए हैं. कितने तो नौकरी जाने के डर से रात में आकर पन्‍ना बनाना सीख रहे हैं.

चप्पल फेंक कर मारने वाली महिला पत्रकार

कलकत्ता से प्रकाशित अंग्रेज़ी दैनिक टेलीग्राफ के दिल्ली ब्यूरो के प्रमुख शेखर भाटिया थे. वह अखबार के राजेन्द्र नगर गेस्ट हाउस में कभी-कभी बैठक बुलाकर समस्याओं को दूर करते, साथ साथ खाना भी खाते रहते. एक दिन एक महिला पत्रकार तवलीन सिंह ने गुस्से में आकर न जाने किस कारण उन्हें मारने के लिए चप्पल फेंका. इतने में एक पत्रकार उठे जिनका नाम जगमीत उप्पल था. जगमीत उप्पल ने वह चप्पल उठाकर एक प्लेट में रखा और शेखर भाटिया के सामने रख दिया और कहा कि सर यह आपके लिए तवलीन सिंह का तोहफा है.

सुनील एवं अभिषेक ने हिंदुस्‍तान के साथ नई पारी शुरू की

दैनिक जागरण, इलाहाबाद से खबर है कि सुनील गिरी ने इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपनी नई पारी इलाहाबाद में ही हिंदुस्‍तान के साथ शुरू की है. वे काफी समय से दैनिक जागरण को अपनी सेवाएं दे रहे थे. बताया जा रहा है कि संपादकीय प्रभारी से परेशान सुनील ने मौका मिलते ही जागरण को अलविदा कह दिया.

पूर्व महिला पत्रकार ने आत्‍महत्‍या की

A 30-year-old assistant manager of Infosys allegedly committed suicide in her house in Geddalahalli on Monday. The deceased has been identified as Smitha Rao, an ex-journalist. Preliminary investigation suggested that she took the extreme step due to harassment by her husband Rohith Anantha Krishna, an employee of Google. The police have taken Rohith into custody for interrogation. A suicide note was not found in the house.

मुंबई प्रेस क्‍लब के अध्‍यक्ष गुरबीर सिंह गिरफ्तार, आज होगी पेशी

मुंबई से खबर है कि मुंबई प्रेस क्‍लब के अध्‍यक्ष गुरबीर सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. गुरबीर के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद पुलिस ने उन्‍हें गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि कुछ साल पहले रास्‍ता रोको आंदोलन के दौरान उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया गया था. इस मामले में उन्‍हें कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया गया था. कई सुनवाइयों के बाद भी गुरबीर सिंह सुबुर्बन दिनदोषी की कोर्ट में हाजिर नहीं हुए, जिसके बाद उनके विरुद्ध कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी कर दिया था.

विश्‍वविद्यालय के कर्मचारी ने की पत्रकार से अभद्रता, मामला दर्ज

आगरा में पत्रकारों के साथ बुरे बर्ताव का सिलसिला जारी है. मंगलवार को हिंदुस्‍तान एक्‍सप्रेस के पत्रकार नीरज सिंह से विश्‍वविद्यालय के कुलपति के यहां तैनात एक चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी ने अभद्रता कर दी, जिसके बाद एकजुट होकर पत्रकारों इसका विरोध किया है. नीरज सिंह किसी खबर को लेकर कुलपति का वर्जन लेने के लिए उनके कार्यालय गए थे. वो कुलपति के बारे में पूछताछ कर ही रहे थे कि यहां तैनात कर्मचारी विनोद अग्निहोत्री ने नीरज के साथ अभद्रता कर दी.

फरार नागेंद्र से महुआ ने किनारा किया!

अपनी रसिक मिजाजी के लिए कुख्यात और फिलहाल फरार चल रहे महुआ न्यूज के कथित टेक्निकल हेड नागेंद्र मिश्र की ताजा लोकेशन अब इलाहाबाद बतायी जा रही है। बताते हैं कि लखनउ में हुए बवंडर के बाद से महुआ न्यूज के दिल्ली में बैठे उनके आकाओं की हालत खुद ही पतली हो गयी है. मामले की आग भड़कती देखकर नागेंद्र को आनन-फानन नोएडा से चलता कर दिया गया. आकाओं को डर है कि नागेद्र की नोएडा या दिल्ली में मौजूदगी खुद उनके चेहरे भी झुलसा सकती है.

प्रेस एसोशियेशन का चुनाव और कैसे-कैसे उम्‍मीदवार

नई दिल्ली में पीआईबी के मान्यता प्राप्त पत्रकारों की एक संस्था है, प्रेस एसोशियेशन. बहुत पहले इसके बाकायदा चुनाव हुआ करते थे. आजकल तो एक ही व्यक्ति इस पर जमा हुआ है, चुनाव को अपने हिसाब से मैनेज कर लेता है. बहुत पहले एक बार प्रेस एसोशियेशन के चुनाव के दौरान कुछ लोगों ने मुझसे कहा कि कल आप प्रेस क्लब आकर प्रेस एसोशियेशन के चुनाव को देखें और हम लोगों को थोड़ा सहयोग करें. मैंने उन लोगों से कहा कि भाई लोगों, मैं तो आपके एसोशियेशन का सदस्य नहीं हूँ. उन्होंने कहा कि इस से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता.

मुख्‍य सचिव करेंगे अमिताभ के आरोपों की जांच, चार माह में देनी होगी रिपोर्ट

: दो सदस्‍यीय खंडपीड ने दिया आदेश : आईपीएस अधिकरी अमिताभ द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों कुंवर फ़तेह बहादुर, प्रमुख सचिव (गृह), विजय सिंह, सचिव, मुख्यमंत्री एवं अन्य पर स्वयं को एक लंबे समय से प्रताडित करने के आरोप लगाते हुए दायर रिट याचिका में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के लखनऊ बेंच ने यह आदेश निर्गत किया है कि अमिताभ मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश को अपने समस्त शिकायतों को बताते हुए एक प्रत्यावेदन देंगे जिस पर मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश चार माह के अंदर अपनी जांच पूरी करेंगे.

टीसीरीज वालों की गुंडई, गाना बजाने पर भिजवा रहे जेल

टी सीरीज वाले खुद कितने बड़े चोर हैं, यह बालीवुड या संगीत की दुनिया से जुड़ा कोई भी शख्स बता सकता है. दूसरों की धुनें, गाने, लाइनें चुराकर और गायकों-संगीतकारों आदि से लगभग मुफ्त में काम करवाकर अरबपति-खरबपति बने ये टीसीरीज वाले आजकल कापीराइट कानून को लेकर बड़े सजग-सतर्क नजर आ रहे हैं. जो भी इनकी कंपनी से निकले गानों को बजाता मिल जा रहा है, उसे ये पुलिस के जरिए पकड़वाकर जेल भिजवा रहे हैं.

चैनल-अखबार के मालिक कार्तिक की शादी में मीडिया की मैच फिक्सिंग

यशवंत भाई, नमस्कार.. आपको जेसिका लाल हत्‍या मामले में सजा काट रहे मनु शर्मा के भाई की शादी में मीडिया ने किस तरह का खेल खेला, इसकी जानकारी दे रहा हूं. चूंकि ताकतवर नेता के बेटे की शादी थी तो बड़े-बड़े अफसर वहां बेयरे की तरह तीमारदारी की और पांच जिलों की पुलिस हरियाणा के अंबाला में हुई इस शादी की रिसेप्‍शन में तैनात रही. जिसे कि सिर्फ टाइम्‍स ऑफ इंडिया ने प्रकाशित किया कि पार्टी में मनु शर्मा की पुलिस वालों ने भी खूब‍ तीमारदारी की. और कैसे अफसरों ने खुद को लायल दिखाने के लिए सब्जियों के भगोने तक उठाए.

बढ़ रहे हैं कदम अराजकता की ओर!

पिछले दिनों दिल्ली में था. संसद के शीत सत्र के गरम होने की चर्चाओं के बीच संसद भवन के गलियारों के रंग-रोगन का काम जोर-शोर से चल रहा था. विपक्ष महंगाई और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर सरकार को घेरने और हंगामा खड़ा करने की रणनीति में और सत्तापक्ष उसकी काट के उपाय ढूंढने की रणनीति तैयार करने में जुटा था. भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी देश के विभिन्न हिस्सों में तकरीबन 7600 किमी की ‘जन चेतना यात्रा’ कर लौट रहे थे. लगा कि इस बार संसद का शीत सत्र गंभीर और उग्र चर्चाओं से वाकई गरम होगा. लेकिन जैसा कि हाल के संसदीय सत्रों में देखने को मिलता रहा है, इस बार भी संसद में हंगामा खड़ा करने के नाम पर संसद की कार्यवाही को ही जाम करने का शुरुआती नजारा देखने को मिला. लगातार चार दिन संसद की कार्यवाही ठप सी रही.

गोरखपुर में शर्मिष्‍ठा शर्मा ने ली आई-नेक्‍स्‍ट वालों की क्‍लास

: दैनिक जागरण, बरेली में साइन करने को लेकर मामला गरम, कई ने किया इनकार : आई-नेक्स्ट, लखनऊ की एडिटर व अन्य यूनिटों की कोआर्डिनेटर शर्मिष्‍ठा शर्मा ने अपने 26 एवं 27 नवम्‍बर के गोरखपुर दौरे के दौरान आई-नेक्स्ट अखबार की कार्यप्रणाली को देखा. जागरण में मजीठिया वेज बोर्ड लागू ना करने की कवायद के तहत पहले ही आई नेक्‍स्‍ट के कर्मचारियों से साइन कराया जा चुका है. कर्मचारियों के असंतोष को देखते हुए उन्‍हें समझाने या पुचकारने की बजाय शर्मिष्‍ठा ने जमकर हड़काया. काम ठीक से करने की नसीहत भी दी. और कहा कि अब किसी का इंक्रीमेंट नहीं होगा. सभी का इंक्रीमेंट और प्रमोशन अप्रैल माह में किया जाएगा.

हिंदुस्‍तान के समाचार संपादक कर रहे हैं जिले में नौकरी!

हिंदुस्‍तान, कानपुर में अपनी-अपनी नौकरी बचाने को लेकर हड़कम्‍प मचा हुआ है. प्रबंधन ने आला अफसरों को अखबार सुधारने के लिए लाइन पर लगा रखा है. सूत्रों का कहना है कि अगर जल्‍द हालात नहीं सुधरे तो कुछ लोगों की छुट्टी भी हो सकती है. पिछले दिनों दिल्‍ली एवं लखनऊ से एचएमवीएल के आला अधिकारियों ने अखबार की गुणवत्‍ता पर नाराजगी जताई थी. बताया जा रहा है कि इसके लिए न्‍यूज एडिटर अंशुमान तिवारी को जिम्‍मेदार माना गया.

आईपीओ लाकर बाजार से दस अरब डॉलर जुटाएगी फेसबुक

न्यूयार्क : अमेरिकी मीडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार सोशल नेटवर्किंग इंटरनेट वेबसाइट फेसबुक अप्रैल और जून, 2012 के बीच अपना प्रथम सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) लाने का विचार कर रही है। रिपोर्ट के अनुसार शेयर बेचकर बाजार से 10 से 12 अरब डालर की पूंजी जुटाने की उसकी योजना है। अखबार वालस्ट्रीट जर्नल की रपट के अनुसार, फेसबुक के अंदर इस समय चर्चा चल रही है कि इस निर्गम के लिए प्रतिभूति एवं विनिमय आयोग (अमेरिकी शेयर बाजार नियामक) के सामने आवेदन पेश करने का समय क्या रखा जाए। रिपोर्ट के अनुसार कंपनी का इरादा अप्रैल-जून 2012 के बीच बाजार में उतरने का है।

बिग बॉस का प्रदर्शन बंद करने के लिए कोर्ट में याचिका

जोधपुर : कलर्स चैनल पर दिखाए जा रहे सीरियल बिग बॉस के निर्माताओं व कलाकारों के खिलाफ राजस्थान हाईकोर्ट में याचिका दायर कर इसका प्रदर्शन बंद करने की गुहार की गई है। याचिका में सीरियल में कथित रूप से अभद्र भाषा का प्रयोग करने व कलाकारों की अश्लील हरकतों पर ऐतराज जताते हुए इसे समाज विरोधी व लोगों की भावनाओं को भड़काने का आरोप लगाया गया है।

महुआ ने शत्रु से भी की ठगी, नहीं दिया केबीसी भोजपुरी का मेहनताना

प्रसिद्ध अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने सिने एंड टीवी कलाकार संघ (सिंटा) में महुआ चैनल के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। उनका अरोप है कि चैनल ने 'कौन बनेगा करोड़पति' शो के भोजपुरी संस्करण का संचालन करने के लिए उनके मेहनताना की रकम अदा नहीं की है। मुहआ चैनल पर प्रसारित हुए प्रसिद्ध शो कौन बनेगा करोड़पति के भोजपुरी संस्करण का संचालन शत्रुघ्न ने ही किया था।

वरिष्‍ठ पत्रकार गीत दीक्षित ने प्रदेश टुडे ज्‍वाइन किया

मध्‍य प्रदेश के वरिष्‍ठ पत्रकार गीत दीक्षित अब प्रदेश टुडे से जुड़ गए हैं. उन्‍होंने भोपाल में ज्‍वाइन किया है. अपने दो दशक के करियर में गीत कई अखबारों के संपादक रहे हैं. पत्रकारिता एवं राजनीति में समान पकड़ रखने वाले गीत क्रिकेट के अच्‍छे खिलाड़ी भी हैं. स्‍वदेश से करियर की शुरुआत करने वाले गीत दीक्षित इसके बाद नवभारत जबलपुर को भी अपनी सेवाएं दी. इसके बाद वे भोपाल में दैनिक जागरण से जुड़ गए.

इन्हीं कागजातों पर जागरणकर्मियों से कराया जा रहा है हस्ताक्षर

ये उस कागज़ की मोबाइल से ली गई तस्वीरें हैं, जिस पर दैनिक जागरण वाले मजीठिया बोर्ड के खिलाफ ज़बरन हस्ताक्षर करवा रहे हैं. हस्ताक्षर न करने वाले कर्मचारियों को धमकाया जा रहा है. धमकी के ऑडियो को भी इकट्ठा कराया जा रहा है. शायद जल्द आ जाए. फिलहाल तो हस्ताक्षर कराए जाने वाले कागजों की फोटो देखें. इन कागजों पर साइन न करने वालों के लिए भी अलग से कागज़ बनाया गया है, जिस पर साइन कर देने को इस्तीफा माना जाएगा।

पहलवान को पटखनी देकर भी क्यों रो रहे हैं कांडा!

: कांग्रेस को काँटा बन के चुभने लगे हैं कांडा : जूता विक्रेता से जहाज़ कंपनी के मालिक, निर्दलीय विधायक और फिर फटी में पच्चर की तरह हरियाणा की लुंज पुंज सरकार में गृह (राज्य) मंत्री हो गए गोपाल कांडा अब कांग्रेस को कांटे की तरह चुभने लगे हैं. पहले हरियाणा की राजनीति में उनका अतीत, वर्तमान और भविष्य जान लें फिर बताते हैं कि कांग्रेस को वे आज किस भाव पड़ रहे हैं.

इंडिया न्यूज और आज समाज में शीर्ष स्तर पर जिम्मेदारियों में बदलाव, मेल जारी

एक दिसंबर से इंडिया न्यूज चैनल और आज समाज अखबार में कामकाज में विभाजन कर दिया गया है. इस दिन से रवीन ठुकराल इस समूह के हिस्से नहीं रहेंगे. वे द ट्रिब्यून ज्वाइन करेंगे. तब इंडिया न्यूज चैनल और आज समाज अखबार में काम कौन देखेगा, इस बाबत एक विस्तृत आंतरिक मेल जारी कर दिया गया है.

पोल खोलने वाले पत्रकारों का हो रहा पुलिसिया उत्‍पीड़न

: मनपावृत्‍त स्‍नेह सम्‍मेलन में पत्रकारों ने उठाई आवाज : मुंबई से प्रकाशित मराठी दैनिक मनपावृत्त की ओर से 26 नवंबर को गोवंडी के शिवाजी नगर में पत्रकारों का एक स्नेह सम्मेलन आयोजित किया गया, जिसमें मुंबई के अनेक पत्रकार, लेखक, सामाजिक कार्यकर्ता व राजनीतिज्ञ मौजूद थे। कार्यक्रम के आरंभ में 26 नवंबर, 2008 को आतंकवादियों द्वारा मुंबई पर हुए हमले के दौरान शहीद हुए पुलिस अधिकारियों हेमंत करकरे, विजय सालसकर, अशोक कामटे आदि को श्रद्धांजलि दी गई और उस हमले की रिपोर्टिंग करने वाले पत्रकारों की चुनौतियों पर चर्चा की गई।

जेडे की हत्‍या के लिए जिग्‍ना ने राजन को उकसाया था!

: पुलिस कर रही मुख्‍य आरोपी बनाने की तैयारी : नई दिल्ली। मुंबई के क्राइम रिपोर्टर जे डे की हत्या में महिला पत्रकार जिग्ना बुरी तरह फंस चुकी हैं। मुंबई पुलिस के क्राइम ब्रांच के सूत्रों की मानें तो जिग्ना ने सबूत मिटाने की काफी कोशिश की। लेकिन पुलिस के हाथ उसके खिलाफ काफी कुछ है। आईबीएन7 को मुंबई क्राइम ब्रांच के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जे डे हत्याकांड के पहले और बाद में अखबार एशियन एज की इस डिप्टी ब्यूरो चीफ ने बहुत से ऐसे काम किए हैं जिनकी वजह से वो इस केस की सबसे अहम आरोपी बन चुकी है।

इलेक्‍ट्रानिक मीडिया को पीसीआई के दायरे में लाने की तैयारी

: पेड न्‍यूज को लेकर सरकार गंभीर : सरकार इलेक्‍ट्रानिक मीडिया को अपने अधिकार क्षेत्र में लाने की तैयारी कर रही है. पिछले काफी समय से इलेक्‍ट्रानिक मीडिया की आजादी पर प्रहार करने वाली सरकार अब इसे कानूनी चाबुक से हांकने की तैयारी में जुटी हुई है. सरकार की तरफ से सूचना एवं प्रसारण राज्‍य मंत्री सीएम जातुया ने बताया कि भारतीय प्रेस परिषद (पीसीआई) ने प्रेस परिषद कानून, 1978 में संशोधन कर इलेक्ट्रोनिक मीडिया को भी अपने अधिकार क्षेत्र में लाने का तथा अपना नाम बदलकर मीडिया परिषद किए जाने का प्रस्ताव भेजा है. इस कानून में संशोधन का प्रस्‍ताव विचाराधीन है और यदि जरूरी समझा गया तो विभिन्‍न पक्षों के साथ व्‍यापक विचार विमर्श करके तथा मीडिया से संबंधित मुद्दों पर सर्वसम्‍मति बनाने के बाद इसका प्रारुप तैयार किया जाएगा.

अगले साल 30 जून तक महानगरों में बंद हो जाएगा केबल सर्विस

अगर आप भी केबल टीवी की सेवाओं का लुत्फ उठाने वालों में से हैं तो यह खबर सीधे तौर पर आपसे जुड़ी हुआ है। दरअसल देश में 2014 तक एनालॉग केबल टीवी सेवाएं पूरी तरह बंद हो जाएंगी और उसका स्‍थान डिजिटल सेवाएं लेंगी। सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री सीएम जातुया ने कहा कि सरकार ने चरणबद्ध तरीके से देश में केबल टीवी सेवाओं में डिजिटलीकरण को लागू करने का फैसला किया है जिससे 2014 के अंत तक एनालॉग टीवी सेवाएं पूरी तरह बंद हो जाएंगी।

फोटोग्राफर शिव ने लांच की अपनी वेबसाइट

देश-विदेश में अपनी फोटोग्राफी से कई पुरस्‍कार पा चुके शिव कुमार ने अपनी फोटो वेबसाइट लांच की है. शिव वेडिंग फोटोग्राफी नाम से लांच इस वेबसाइट में शिव की खींची गई तमाम तस्‍वीरें मौजूद हैं. शिव  लंदन के रायल फोटोग्राफी सोसायटी से एआरपीएस तथा पेरिस के फेडरेशन ऑफ इंटरनेशनल डे ला आर्ट फोटोग्राफिक से सम्‍मान भी पा चुके हैं. राष्‍ट्रीय एवं अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर 1000 से ज्‍यादा बेहतरी फोटो खींचने का श्रेय भी शिव को हैं. वे सौ से ज्‍यादा छोटे-बड़े पुरस्‍कार अपने फोटोग्राफी के लिए पा चुके हैं.

मशहूर साहित्‍यकार इंदिरा गोस्‍वामी का निधन

गुवाहाटी : प्रख्यात असमिया लेखिका इंदिरा गोस्वामी का लम्बी बीमारी के बाद मंगलवार सुबह यहां एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 69 साल की थीं। गोस्वामी ने प्रतिबंधित युनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (उल्फा) और केंद्र सरकार के बीच शांति वार्ता में अहम भूमिका निभाई थी। गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज अस्पताल के चिकित्सकों का कहना है कि गोस्वामी के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था, जिसके चलते सुबह पौने आठ बजे उनका निधन हो गया।

सहारा और मौर्य टीवी ने गलत खबर चलाकर दहशत फैलाई

बिहार-झारखंड के दो खबरिया चैनल सहारा समय और मौर्य टीवी ने आगे निकलने की होड़ में गलत खबर दिखाकर लोगों के बीच दहशत फैलाने का काम किया. दरअसल 27 नवम्‍बर की देर रात गिरीडीह जिले के हजारी बाग रोड रेलवे स्‍टेशन के समीप रेलवे ट्रैक पर केन बम होने बात आरपीएफ को पता चली. इसके बाद महुआ, ईटीवी एवं कशिश पर ट्रैक पर केन बम होने की आशंका का ब्रेकिंग देर रात को चला. इस खबर को देखकर सहारा समय और मौर्य टीवी ने खुद ही ये खबर चला दी कि ट्रैक पर तीन-चार केन बम हैं, जिसे निकाला गया.

अजय कुमार की लड़ाई से घबरा गया है राजस्‍थान पत्रिका

: अन्‍य अखबार के पत्रकारों के लिए भी सबक : प्रबंधन को कोर्ट में घसीट रखा है इस पत्रकार ने : अपने हक की आवाज उठाना राजस्‍थान पत्रिका के वरिष्‍ठ पत्रकार अजय कुमार बिहारी को मुश्किल में डाल गया है. इसके बावजूद यह पत्रकार अपने तथा राजस्‍थान पत्रिका के तमाम पत्रकारों के हितों को देखते हुए पीछे हटने को तैयार नहीं है. अजय की आवाज दबाने के लिए अखबार प्रबंधन ने उन्‍हें गलत तरीके से टर्मिनेट कर दिया, जिस पर उन्‍होंने कोर्ट की शरण ली और मुंबई लेबर कोर्ट में प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा दायर किया है, जो अब भी चल रहा है.

इरफान, कार्टून, जनसत्ता, भोपाल और मेरी भड़ास

किसी अखबार में सबसे छोटी जगह लेकर सबसे बड़ी बात कहने का मादा रखता है कार्टून और इसी कार्टून जगत की एक हस्ती हैं इरफानजी, पत्रकारिता जगत में बड़ा नाम है। लेकिन ना जाने क्यों अपने भोपाल आगमन पर ये नाम अपनी गूंज को थोड़ा कम कर गया या यूं कहिये कि उनके बारे में कुछ लाउड बातें हुईं कि उनके नाम की गूंज स्वतः ही कम सी सुनाई दी। भूमिका को ही लेख की शक्ल ना देते हुये सीधा पांइट पर आता हूँ।

आजतक के रिपोर्टर से युवकों ने की मारपीट

जालौन से खबर है कि आजतक न्‍यूज चैनल के पत्रकार अलीम के साथ कुछ लड़कों ने बदतमीजी की एवं मारपीट करने की कोशिश की. इस घटना की जानकारी जब अन्‍य मीडियाकर्मियों को हुई तो वो भी मौके पर पहुंच गए तथा घटना से पुलिस को अवगत कराया. जानकारी के अनुसार अलीम रविवार को किसी काम से जालौन से उरई जा रहे थे. रास्‍ते में कुछ युवा ने उनकी गाड़ी में टक्‍कर मार दी. उन्‍होंने ठीक से गाड़ी चलाने को कहा तो वे अलीम से उलझ गए.

पत्रकारिता विश्वविद्यालय के सांध्यकालीन पाठयक्रमों में आवेदन करने की अंतिम तिथि कल

भोपाल । माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय द्वारा प्रारम्भ किये गये सांध्यकालीन पाठयक्रमों के इच्छुक उम्मीदवार कल सायं 5 बजे तक प्रवेश हेतु आवेदन कर सकते हैं। विश्वविद्यालय द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार सांध्यकालीन पाठयक्रमों में आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 नवम्बर 2011 निर्धारित की गई है। विश्वविद्यालय ने शैक्षणिक सत्र 2011-12 में वेब संचार, वीडियो प्रोडक्शन, पर्यावरण संचार, भारतीय संचार परम्पराएँ तथा योगिक स्वास्थ्य प्रबंधन एवं आध्यात्मिक संचार जैसे विषयों में सांध्यकालीन पी.जी. डिप्लोमा पाठयक्रम प्रारम्भ किये गये हैं। यह पाठयक्रम विभिन्न विश्वविद्यालयों में अध्ययनरत विद्यार्थियों के साथ-साथ नौकरीपेशा व्यक्तियों, सेवानिवृत्त लोगों, सैन्य अधिकारियों तथा गृहणियों के लिए भी उपलब्ध होंगे।

फर्जी प्रकाशन स्‍थल के सहारे लाखों के विज्ञापन डकारे

देहरादून। दूसरों को आईना दिखाने वाला चौथा खम्बा अगर खुद फर्जी तरीके से अधिकारियों को गुमराह कर लाखों डकाराने शुरू कर दे तो उसकी विश्वसनीयता कितनी होगी इसका आंकलन खुद ही किया जा सकता है। इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य में इसी सम्पादक मंडल द्वारा डीएवीपी रेट गलत तरीके से प्रस्तुत कर लाखों का घोटाला किया जा चुका है, जिसके चलते समाचार पत्र से अधिक वसूल किए गए धन की रिकवरी भी हो चुकी है।

आर्यन टीवी से जुड़े संजय कुमार एवं अंकुर झा

मौर्य टीवी को यूपी में लांच करने की योजना अधर में लटक गई है. मौर्य को यूपी में लांच करने के लिए लगाए गए ज्‍यादातर लोग चैनल से विदा हो गए हैं. ताजा खबर है कि मौर्य टीवी यूपी के ब्‍यूरो कोआर्डिनेटर संजय कुमार ने भी इस्‍तीफा दे दिया है. अब वे आर्यन टीवी के साथ जुड़े गए हैं. उन्‍हें यूपी का ब्‍यूरो चीफ बनाया गया है. संजय अपने साथ मौर्य टीवी को सेवा दे रहे कई जिलों के स्ट्रिंगरों को भी आर्यन टीवी ले गए हैं.

गरीब पत्रकारों के शोषण के लिए तैयार है सी न्‍यूज

सेवा में संपादक महोदय भड़ास पर आपने कल सी न्यूज़ आगरा के बारे में एक खबर प्रकाशित की थी जिस पर मैं आपको एक जानकारी देना चाहता हूँ । आज से केवल चंद मात्र कुछ साल पहले इस चैनल के मालिक पंकज जैन और नीरज जैन आगरा के एक लोकल चैनल मून न्यूज़ के केबल के ऑपरेटर हुआ करते थे। इसके बाद धीरे-धीरे इन्‍होंने अपना एक लोकल चैनल सी न्यूज़ खड़ा किया और यह केबल चलाने लगे। चूंकि उस समय आगरा में मून केबल का साम्राज्य हुआ करता था सो यह मून केबल का स्टार प्लस चुरा चुरा कर चलाने लगे।

खंडूरी का असली चेहरा दिखाने वाला संपादक

अमर उजाला, देहरादून के एडिटर विजय त्रिपाठी ने वो काम कर दिया जो देहरादून में बड़े बड़े संपादक नहीं कर पाए. मुख्यमंत्रियों की लल्लो-चप्पो में लगे रहने और विज्ञापन पाते रहने की प्रवृत्ति को ब्रेक करते हुए इस शख्स ने जनपक्षधर पत्रकारिता का वो मानक स्थापित किया है जिसकी चर्चा उत्तराखंड में बहुत दिनों तक रहेगी. भाजपा नेता खंडूरी को सीएम की कुर्सी इसलिए मिली क्योंकि भाजपा नेता निशंक के कार्यकाल में बहुत भ्रष्टाचार था और इस भ्रष्टाचार के मुद्दे की वजह से भाजपा की लुटिया प्रदेश में डूब रही थी. खंडूरी कुर्सी संभालते ही भ्रष्टाचार के खिलाफ ''घोषणा-बहादुर'' बन गए, जमीनी लेवल पर कोई काम नहीं किया.

सहारा को फिलहाल थोड़े दिनों की राहत

सर्वोच्च न्यायालय ने सहारा समूह को राहत देते हुए आज कहा कि प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (एसएटी) के उस आदेश पर अमल के लिए अगले साल 8 जनवरी तक इंतजार किया जा सकता है, जिसके तहत सहारा समूह की कंपनियों से निवेशकों के 17,400 करोड़ रुपये लौटाने को कहा गया था। शीर्ष अदालत ने कहा कि निवेशकों की रकम वापसी के लिए एसएटी की ओर से दिए गए 6 सप्ताह की अवधि को फिलहाल ठंडे बस्ते में रखा जाएगा और इस मामले में अगला आदेश 8 जनवरी को सुनवाई के बाद दिया जाएगा।

चौबीस घंटे में बदल गए राष्‍ट्रीय सहारा के संपादक के तेवर!

वाह रे सहारा! गोरखपुर के राष्ट्रीय सहारा के संपादकीय विभाग में कैसे काम होता है इसका एक नमूना शनिवार को और दूसरा रविवार को देखने को मिला. संपादक ने शनिवार को चेकिंग की तो संपादकीय विभाग के 11 में से 8 बंदे गायब मिले. संपादक मनोज तिवारी ने गायब मिले आठों पर रेड लगा दिया, मतलब लेट आए तो अनुपस्थित हो गए. काम किये लेकिन उस दिन की तनख्‍वाह नहीं बनेगी. लेकिन वही संपादक रविवार को इतने नार्मल हो गये कि लोगों को विश्‍वास ही नहीं हुआ.

फौजी सीएम ने दिखाया हिटलरी चेहरा, अमर उजाला का विज्ञापन रोका

: अपनी आलोचना बर्दाश्‍त नहीं कर पा रही भाजपा सरकार : उत्‍तराखंड में रमेश पोखरियाल निशंक द्वारा की गई भ्रष्‍टाचार की गंदगी साफ करने के लिए भाजपा ने बीसी खंडूरी को कमान दी. बिल्‍ली के भाग्‍य से टूटे छींके के सहारे एक बार फिर सीएम की कुर्सी पर बैठे खंडूरी जमकर भ्रष्‍टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने का ऐलान किया. लोकायुक्‍त कानून बनाकर वाहवाही भी लूटी. पर इस रिटायर्ड फौजी के दिखाने के दांत कुछ और खाने के दांत कुछ और हैं. अब असलियत सामने आने लगी है. निशंक ने जिस जगह भ्रष्‍टाचार को छोड़ा था अब खंडूरी उसी जगह से उठाकर चलने लगे हैं. निशंक से दो कदम आगे बढ़कर खंडूरी अब मीडिया को अपने मायावी हुनर से सरकारी पेरोल पर बंदी बना लिया है.

कुंवर फतेह बहादुर और आरएन सिंह की लोकायुक्‍त से शिकायत

मेरे द्वारा लोकायुक्त, उत्तर प्रदेश को कुंवर फ़तेह बहादुर, प्रमुख सचिव, गृह, उत्तर प्रदेश शासन और आरएन सिंह, एडीजी, ईओडब्ल्यू के विरुद्ध एक परिवाद दायर किया गया है. यह परिवाद दो आपराधिक मुकदमों में जानबूझ कर सोची-समझी साजिश के तहत पूर्व में नियमानुसार किये गए समस्त विवेचनाओं को एक सिरे से दरकिनार करते हुए उन अभियुक्तों की गलत ढंग से मदद पहुंचाये जाने सम्बंधित है जिन्हें इससे पूर्व स्वयं ईओडब्ल्यू विभाग ही लगातार मुल्जिम बता रहा था.

पेमा का विवाद बढ़ा, दो पत्रकारों ने जनरल बाडी में शामिल होने से इनकार किया

जालंधर में टीवी मीडिया द्वारा हाल ही में गठित की गयी पत्रकारों की संस्था पंजाब इलेक्ट्रानिक मीडिया एसोसिएशन (पेमा) में चुनाव के दिन से पैदा हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा ..जालंधर के दो वरिष्ठ पत्रकारों ने पेमा की जनरल बाडी में शामिल होने से इनकार कर दिया है ..सीएनबीसी के पत्रकार नरेश अरोड़ा और एनडीटीवी के पत्रकार अश्वनी मल्होत्रा ने पेमा की बाडी में किसी भी तरह का पद लेने से साफ़ मना कर दिया..

पत्रिका से चीफ रिपोर्टर का इस्‍तीफा, संपादकीय प्रभारी का तबादला

: भारतेन्‍दु, हरीमोहन, राजेश, बॉबी एवं नितिन की नई पारी  : राजस्‍थान पत्रिका, जयपुर से खबर है कि चीफ रिपोर्टर मनीष गोधा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे काफी समय से पत्रिका से जुड़े हुए थे. उन्‍होंने दैनिक भास्‍कर के सेकेंड ब्रांड डीएनए से अपनी नई पारी शुरू की है. अभी कुछ दिन पहले ही पत्रिका ने जयपुर संस्‍करण के संपादकीय प्रभारी राजीव तिवाड़ी को हटाकर अपने सेकेंड ब्रांड डेली न्‍यूज भेज दिया है. इसे पत्रिका में दोयम दर्जे का अखबार माना जाता है. कहा जा रहा है कि यह तिवाड़ी का डिमोशन है. खबर है कि राजस्‍थान पत्रिका, जयपुर में अंदरखाने सबकुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा है. 

आर्यन टीवी : इस्‍तीफा देंगे समीर रंजन, श्‍वेता, मंजूल एवं अरशद जुड़े

आर्यन टीवी से खबर है कि कई लोगों ने अपनी नई पारी शुरू की है. वहीं आउटपुट हेड संस्‍थान से विदाई लेने वाले हैं. खबरों के अनुसार आउटपुट हेड समीर रंजन आर्यन टीवी से 30 नवम्‍बर को विदा हो जाएंगे. उन्‍होंने संस्‍थान को अपना नोटिस दे दिया है. खबर है कि वे दिल्‍ली आने वाले हैं, पर किस चैनल से जुड़ेंगे इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है.

जातिवादी है मीडिया, दिल्‍ली प्रेस क्‍लब में ब्राह्मणवाद को बढ़ावा

2जी घोटाले की एफआईआर में देश के कई दिग्गज पत्रकारों का नाम दलाल के रूप में आया तो मीडिया जगत में हंगामा हो गया। कहा जाने लगा कि  मेकअप में चमकने वाले इन चेहरों का असली रंग अब देश की जनता देखेगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ, इन चेहरों पर अभी भी मेकअप पुता है, हां इनकी दलाली की कहानी जरूर पुरानी हो गई है। जस्टिस काटजू ने प्रेस परिषद का अध्यक्ष बनते ही मीडिया को आईना दिखा दिया। कई सालों बाद अपना चेहरा देखकर मीडिया भी घबरा गई। कुछ के जहन तो कुछ के अहंकार पर चोट हो गई। जस्टिस काटजू द्वारा उठाए गए गंभीर सवालों की आलोचना तो कई ने की लेकिन जवाब (सही या गलत) कोई नहीं दे सका।

दैनिक भास्‍कर, रतलाम में हड़कम्‍प, नीमच के सिटी चीफ हटाए गए

दैनिक भास्‍कर, रतलाम में हड़कम्‍प मचा हुआ है. भ्रष्‍टाचार के आरोपों के बाद प्रबंधन ने जांच के लिए भोपाल के स्‍थानीय संपादक आनंद पांडे को रतलाम भेजा था. उनकी रिपोर्ट के बाद खबर है कि नीमच जिले के सिटी चीफ मूलचंद खिची को हटा दिया गया है. वे काफी समय से भास्‍कर के साथ जुड़े हुए थे. डेस्‍क इंचार्ज कैलाश नागर से भी मैनेजमेंट ने त्‍याग पत्र देने को कह‍ दिया है. इतना ही नहीं विनोद सिंह सोमवंशी से पहले यहां के संपादक रहे तथा वर्तमान में भंटिडा में एक्‍जीक्‍यूटिव एडिटर का काम देख रहे महेंद्र कुशवाहा की भी जांच कराई जा रही है.

धमकी, चमकी और दस्‍तखत : दैनिक जागरण ने पंद्रह साल पुराना खेल दोहराया

मजीठिया वेतन बोर्ड की संस्‍तुतियों की अधिसूचना के बाद प्रेसकर्मियों को दबाने कुचलने का खेल और तेज हो गया है। दैनिक जागरण को नई संस्‍तुतियों से सर्वाधिक परेशानी है। पिछले चार दिनों के भीतर एक फर्जी सहमति पत्र पर आनन-फानन दस्‍तखत कराए गए हैं। जागरण के अधिकांश कर्मी तो जानते भी नहीं सहमति पत्र का मजमून क्‍या है। मजमून अंग्रेजी में लिखा हुआ था और इस पर दस्‍तखत संस्‍थान के सफाईकर्मियों , चतुर्थ श्रेणी कर्मियों और मशीन के ऐसे कर्मियों ने भी किया है जो अंग्रेजी भाषा नहीं जानते।

अनुराग बत्रा ने की Abusive and Repeated Calls की शिकायत

: Abusive and Repeated Calls from Aegon Religare Staff : Dear All, I am hereby mentioning a case study of DND, were a Insurance Company regularly does promotional calls to a customer, despite of the fact that the customer always mentioned that the number is registered under DND. The most shocking part was once when the customer care executive of the company ended up the call by abusing. The mobile was a default call recording mobile and the stuff got recorded. I would like you all to escalate this issue in public interest which will help me for the legal case in future.

मशहूर खेल पत्रकार सुभाष कुमार शाम का निधन

मुंबई : मशहूर खेल पत्रकार सुभाष कुमार शाम का सोमवार को दादर पारसी कालोनी स्थित अपने आवास पर निधन हो गया। वह 71 वर्ष के थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी हैं। शाम की पत्नी लता ने बताया, ‘मैं सुबह छह बजे लाफ्टर क्लब की मीटिंग में गई थी जब वह सो रहे थे। मैंने लौटकर घंटी बजाई पर उन्होंने दरवाजा नहीं खोला। मैं भीतर गई तो उन्हें मृत पाया।’

प्रेस क्लब की नई लिस्ट में छाए हैं संदीप दीक्षित के “ब्राह्मण”

: प्रेस क्लब की मेंबरशिप मैनेज कर रहे हैं संदीप दीक्षित : प्रेस क्लब की सदस्यता की दूसरी लिस्ट बाहर आ गई है। इसमें एक तरफ से संदीप दीक्षित के खासमखास और खासतौर पर ब्राह्मणों को जगह दी गई है। इस लिस्ट में 90 फीसदी ब्राह्मण हैं और ये वे ब्राह्मण हैं जो दीक्षित जी के गुट के हैं। संदीप दीक्षित प्रेस क्लब के महासचिव हैं। पिछले एक साल के कामकाज की पूरी चाभी संदीप दीक्षित के ही हाथ में रही है। प्रेस क्लब की नई लिस्ट में संदीप दीक्षित की ही मनमानी चली है।

श्रीश्री को फर्जी तरीके से लाइव दिखाने पर सीएनएन-आईबीएन ने मांगी माफी

पिछले दिनों मुंबई के विनय जोशी ने श्री श्री रविशंकर को फर्जी तरीके से लाइव दिखाने पर सीएनएन-आईबीएन के उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा था. पत्र का जवाब सीएनएन-आईबीएन की तरफ से जो आया है, उसे नीचे प्रकाशित किया जा रहा है. इस जवाब में साफ साफ बताया गया है कि सीएनएन-आईबीएन ने अपनी गलती के लिए श्रीश्री से माफी मांग ली है.

हिन्दी फिल्म अध्ययन : ‘माधुरी’ का राष्ट्रीय राजमार्ग (दो)

'रिकार्ड तोड़ फीचर' स्तंभ में गानों की पंक्तियों से अटपटे सवाल पूछे जाते थे, या कटुक्तियाँ चिपकाई जाती थीं, कुछ इस बेसाख़्तगी से कि बोल के अपने अर्थ-संदर्भ गुम हो जाते थे, उनमें असली जीवन की छायाएँ कौंध जाती थीं। कुछ मिसालें मुलाहिज़ा फ़रमाएँ:

यूपी महुआ न्‍यूज के कथित प्रोग्रामिंग हेड नागेंद्र मिश्रा को तलाश रही है यूपी पुलिस

: तलाश में तीन बार पुलिस ने की छापामारी : लड़कियों के शोषण का आरोप : लखनऊ : महुआ न्‍यूज में यूपी के कथित प्रोग्रामिंग हेड के तौर पर तैनात नागेद्र मिश्र आजकल फरार हैं। मामला है लड़कीबाजी का। बताते हैं कि नागेंद्र एक लड़की के साथ रफूचक्‍कर हो चुके हैं। उधर खबर है कि लड़की की तलाश में नागेंद्र के घर पुलिस तीन बार छापा मार चुकी है। लखनऊ से लेकर दिल्‍ली तक के मीडिया जगत में यह खबर इस समय बेहद गर्म है।

बाबू सिंह कुशवाहा बसपा से निकाले गए

लखनऊ : बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य ने यहां बताया कि अनुशासनहीनता एवं पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त रहने के कारण बाबू सिंह कुशवाहा, पूर्व मंत्री को बीएसपी से हमेशा के लिये निष्कासित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि श्री कुशवाहा ने कभी सीधे चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं दिखायी। उन्होंने कहा कि श्री कुशवाहा ने पार्टी से अनुरोध किया था कि यदि उन्हें एमएलसी बना दिया जाये तो मुझे अपने समाज को जोड़ने में थोड़ी मदद मिल जायेगी। उनके इस अनुरोध पर पार्टी ने उन्हें दो बार एमएलसी बनाया।

चपरासी से रिपोर्टर बने शख्स ने दलाली का इतिहास रचा

देश के एक बड़े अखबार की एक यूनिट में एक चपरासी के रिपोर्टर बनने का सफ़र काफी घिनौना है. चपरासी का रिपोर्टर बनना अच्छी बात है लेकिन यह बंदा जिस सोच व मानसिकता से काम कर रहा है, वह काफी घिनौना है. यह चपरासी लगभग 4 साल पहले तक यूनिट के ही एक कार्यालय में स्टाफ के लोगों को पानी और चाय पिलाता था. एक पूर्व संपादक की सनक ने इससे चपरासी की जगह रिपोर्टर का काम लेना शुरू कर दिया.

हिन्दी फिल्म अध्ययन : ‘माधुरी’ का राष्ट्रीय राजमार्ग (एक)

बहुतेरे लोगों को याद होगा कि टाइम्स ऑफ़ इंडिया समूह की फ़िल्म पत्रिका माधुरी हिन्दी में निकलने वाली अपने क़िस्म की अनूठी लोकप्रिय पत्रिका थी, जिसने इतना लंबा और स्वस्थ जीवन जिया। पिछली सदी के सातवें दशक के मध्य में अरविंद कुमार के संपादन में ''सुचित्रा'' नाम से बंबई से शुरू हुई इस पत्रिका के कई नामकरण हुए, वक़्त के साथ संपादक भी बदले, तेवर-कलेवर, रूप-रंग, साज-सज्जा, मियाद व सामग्री बदली तो लेखक-पाठक भी बदले, और जब नवें दशक में इसका छपना बंद हुआ तो एक पूरा युग बदल चुका था।

ये है ‘सी न्यूज’, इन्हें भी हर खबर पर विज्ञापन चाहिए

मैं भी एक नए न्यूज़ चैनल के बारे में शिकायत करना चाहता हूँ. शायद आपके जानकारी में "सी न्यूज़" होगा. ये न्यूज़ चैनल आगरा से लॉन्च हो रहा है. इसमें चैनल हेड कल्याण कुमार बनाये गए हैं. ये इससे पूर्व में वोइस ऑफ़ इंडिया में एसाईनमेंट हेड हुआ करते थे. फिलहाल चैनल की बात करते हैं. इस चैनल का भी वही हाल है जो यूपी न्यूज़ का है. इन्हें भी हर खबर के पैसे चाहिए. कल्याण जी फ़ोन करते हैं तो अपने हर रिपोर्टर और स्ट्रिंगर से सिर्फ ये बात करते हैं कि चुनाव करीब है, आपको एक-एक विधायक से कम से कम पच्चीस लाख रूपए का विज्ञापन लेना है.

टूजी केस में दो हजार करोड़ के हेरफेर में एनडीटीवी और चिदंबरम का भी नाम!

: दिल्ली में कार्यरत एक इनकम टैक्स कमिश्नर ने दायर की सीबीआई कोर्ट में याचिका : An application is said to have been filed in the CBI court, Patiala House, in reference to in 2G Scam case, by a serving Income Tax Commissioner seeking examination as prosecution witness in the case and alleging involvement of NDTV and Chidambaram in money laundering (in excess of Rs. 2000 crores), misuse/abuse of power, etc. (embedded document). Some excerpts are provided from an application which detail…

अदम गोंडवी का लीवर डैमेज, अस्‍पताल में भर्ती

: हालत गंभीर : दुष्यंत के बाद हिंदी के बहुचर्चित गज़लकार श्री अदम गोंडवी यानी रामनाथ सिंह की हालत नाजुक है. अदम साहब को गोंडा के आर्यन पांडेय हास्‍पीटल में भर्ती कराया गया है. दो महीने से बीमार अदम गोंडवी लम्‍बे इलाज के बाद कुछ समय पहले ही अस्‍पताल से घर आए थे. अब एक बार फिर उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती होना पड़ा है. उनका लीवर डैमेज कर गया है. डाक्‍टरों की टीम उनका इलाज कर रही है. उनके तमाम चाहने वाले शुभचिंतक अस्‍पताल में मौजूद हैं.

धोखेबाज है एसवन न्यूज चैनल का सीईओ समीर दीक्षित

: मैं बेचारा, एस1 का मारा : श्रीमान यशवंत सिंह जी, संपादक भड़ास4मीडिया। महोदय, मैं सतेंद्र कुमार एसवन न्यूज चैनल में सीनियर आरएफ इंजीनियर के पद पर कार्यरत था। मैंने एसवन से जून 2011 में इस्तीफा दे दिया था और चैनल वन ज्वाइन कर लिया था। इस्तीफा देते समय एसवन के सीईओ समीर दीक्षित ने मुझसे कहा था कि जरूरत होने पर हम बुलाए तो आते रहना, इसलिए जून से सितंम्बर के बीच जब-जब भी किसी एसवन के टेलीकॉस्ट में दिक्कत आई और मुझे बुलाया गया तो मैं बिना किसी भेद-भाव या लालच के एसवन की प्रॉब्‍लम ठीक करता रहा। सितंबर में एसवन को रिज्वाइन करने के लिए फिर से बुलाया गया। मैंने से अपने पीएफ, ईएसआई और ईएल, सीएल के समायोजन की शर्त पर रिज्वाइन कर लिया।

हरियाणा न्‍यूज के मालिक एवं राज्‍यमंत्री गोपाल कांडा के सत्रह सहयोगियों को कारावास

सिरसा। फास्ट ट्रैक न्यायालय ने हरियाणा के गृहराज्यमंत्री गोपाल कांडा के 17 सहयोगियों को आयकर विभाग के अधिकारियों व मीडिया कर्मियों से मारपीट व दुर्व्‍यवहार करने के मामले में पांच-पांच वर्ष के कारावास की सजा सुनाई है। दोषियों को एक-एक हजार रुपये अर्थदंड भी लगाया गया है। अर्थदंड की अदायगी न करने पर सभी दोषियों को दो-दो माह अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। इस दौरान एक आरोपी की मौत हो चुकी है।

कुमार सौवीर को जर्नलिस्‍ट ऑफ द इयर से सम्‍मानित किया खंडूरी ने

: नीरज उत्‍तराखंडी एवं अनिरुद्ध सिंह को भी सम्‍मान : देहरादून : उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री और रिटायर्ड मेजर जनरल भुवन चंद्र खंडूरी ने यहां आयोजित एक समारोह में पत्रकार कुमार सौवीर, नीरज उत्‍तराखंडी और अनिरूद्ध सिंह को सम्‍मानि‍त किया। इन सभी को पत्रकारिता के क्षेत्र में किये गये उनके योगदान के लिए सम्‍मानित किया गया। समारोह का आयोजन पंडित हरिशंकर द्विवेदी फाउंडेशन और विजन-2020 द्वारा संयुक्‍त रूप से किया गया था।

क्‍या चैनलों को संयम बरतने के लिए हर बार सामूहिक कसम खानी पड़ेगी?

न्यूज चैनलों की दुनिया में इन दिनों खासी उथल-पुथल है. प्रेस काउंसिल के नये अध्यक्ष जस्टिस मार्कंडेय काटजू के बयानों और इरादों से हड़कंप है. ऐसा लगता है कि चैनलों को जस्टिस काटजू के डंडे का डर सताने लगा है. नतीजा, काटजू के भूत से निपटने के लिए चैनलों के अंदर कुछ कम लेकिन बाहर कुछ ज्यादा आत्मानुशासन और आत्मनियमन का जाप होने लगा है.

एक पत्रकार का इंटरव्‍यू

एक पत्रकार का यह इंटरव्‍यू पाकिस्‍तान के महान कामेडियन उमर शरीफ ने लिया है. ड्रामा 'उमर शरीफ हाजिर हों' से लिए गए इस भाग को जी टीवी से जुड़े वरिष्‍ठ पत्रकार पुण्‍य प्रसून बाजपेयी ने अपने ब्‍लॉग पर प्रकाशित किया है. इस भाग को वहीं से साभार लिया जा रहा है. आप भी इस इंटरव्‍यू का आनंद लीजिए.

कांग्रेस विधायक ने पीटीसी चैनल के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई

कपूरथला : कांग्रेस के भोलथ से विधायक सुखपाल खैरा ने सुखबीर बादल एवं उनके पंजाबी चैनल पीटीसी समेत नौ लोगों के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज कराई. यह शिकायत चैनल पर हाल में उस खबर के प्रसारण के बाद दर्ज कराई गई है जिसमें आरोप लगाया गया था कि राजपुरा में जो हवाला का धन बरामद किया गया वह उन्हें दिया जाना था. इसके बाद से ही खैरा ने दावा किया था कि वो कोर्ट की शरण लेंगे.

यूजर्स की सूचनाएं विज्ञापनदाताओं को बेच रही फेसबुक!

लंदन : लोकप्रिय सोशल नेटवर्किग साइट फेसबुक विवादों में घिर गई है। उस पर यूजर्स की निजी सूचना निकालने और उसे विज्ञापनदाताओं को बेचने का आरोप लगा है। ब्रिटिश अखबार द संडे टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक, फेसबुक अपने यूजर्स के राजनीतिक विचार, लैंगिक पहचान, धार्मिक आस्थाएं और यहां तक कि उनका अता-पता भी जमा कर रही है। यूरोपीय आयोग इस मुद्दे पर फेसबुक केखिलाफ कार्रवाई की तैयारी में है।

पटना के वरिष्‍ठ पत्रकार मुरली मनोहर मिश्रा का निधन

: राष्‍ट्रीय सहारा के पत्रकार रामदेव को पितृशोक : पटना के वरिष्‍ठ पत्रकार तथा हिंदुस्‍तान से चार दशक तक जुड़े रहे मुरली मनोहर मिश्रा का गुरुवार को निधन हो गया. उन्‍हें सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ होने के बाद पटना सिटी स्थित एनएमसीएच में भर्ती कराया गया था, जहां उन्‍होंने अंतिम सांस ली. वे 72 साल के थे. इस समय वे प्रदैप अखबार से जुड़े हुए थे. वे अपने पीछे पत्‍नी सुनैना मिश्रा, चार पुत्र एवं एक पुत्री का भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं. उनके बड़े पुत्र रमेश कुमार मिश्रा प्रभात खबर के पटना सिटी इंचार्ज हैं तथा दूसरे पुत्र मुकेश कुमार मिश्रा हिंदुस्‍तान टाइम्‍स से जुड़े हुए हैं. मुरली मनोहर का अंतिम संस्‍कार पटना सिटी के खाजेकलां श्‍मशान घाट पर किया गया. मुखाग्नि उनके बड़े पुत्र रमेश कुमार मिश्रा ने दी. इस अवसर पर पीडब्‍ल्‍यूडी मिनिस्‍टर नंद किशोर यादव समेत तमाम गणमान्‍य लोग मौजूद रहे.

भास्‍कर के नेशनल ब्‍यूरो से स्मिता मिश्रा का इस्‍तीफा

: यतीश राजावत के व्‍यवहार से नाराज हैं पत्रकार : दैनिक भास्‍कर के नेशनल ब्‍यूरो में स्थितियां बहुत खराब हो चुकी हैं. बिजनेस भास्‍कर के संपादक एवं मैनेजिंग एडिटर यतीश राजावत के व्‍यवहार से पत्रकारों में नाराजगी है. खबर है कि राजावत के व्‍यवहार से क्षुब्‍ध दैनिक भास्‍कर की स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट स्मिता मिश्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. स्मिता का जाना भास्‍कर के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है. स्मिता ने भास्‍कर के लिए कई खबरें ब्रेक की हैं. सूत्रों का कहना है कि स्मिता के बाद कुछ और सीनियर पत्रकार यतीश राजावत के रवैये से नाराज चल रहे हैं और जल्‍द ही इस्‍तीफा दे सकते हैं.

बाकी सूचनाएं तो ठीक, इंडिया न्यूज पंजाब के बंद होने वाली बात गलत

यशवंत जी सबसे पहले तो मैं आपकी वेबसाईट पर छपी उस खबर के बारे में आपसे बात करना चाहता हूं जो कि इंडिया न्यूज़ से रवीन ठुकराल के जाने और इंडिया न्यूज़ पंजाब के बंद होने से संबंधित है…आपकी वेबसाईट हमेशा ही हम मीडियाकर्मियों के लिए सही मार्गदर्शक बनती आई है… असली खबर ये है कि रवीन ठुकराल तो संस्थान को अलविदा कह ही रहे हैं…पर उनकी सलाह पर चैनल लगातार चलता रहेगा….वहां तक तो आपकी खबर सही है..लेकिन जहां तक सवाल पंजाब चैनल के बंद होने का है वहां आकर आप और आपकी वेबसाईट गलत साबित होती है…इंडिया न्यूज़ पंजाब बंद नहीं हो रहा है..कुछ दिनों के लिए डिले हो रहा है…

यशवंतजी, क्या आपने ‘सी न्यूज’ से पैसा लिया है?

: sea news uttarpradesh – uttarakhan – kalyan kumar ya satyanash kumar :  hi yashwant ji, aap agra main chal rahe sea news uttar pradesh, uttarakhand ki khabar kyun nahin chhapte? kya aapne neeraj jain, vivek jain ya kalyan kumar se paisa liya hai? sea news uttarpradesh, uttarakhan ka hal kitna bura hai ki aap soch bhi nahin sakte. yahan pehle vivek jain channel head tha. wo zee news up main bhi kaam karta hai……dohri naukri karta hain. wo malik neeraj jain ka chachera bhai hai. khud to moti kamai karta hai par yahan employees ko paisa dene main iski nani marti hai. ab ise news director bana diya gaya hai.

काटजू को पत्र लिख सौवीर ने किया चैनल के पेड न्यूज का खुलासा

श्री काटजू चाचा, सादर प्रणाम, पेड न्‍यूज के खिलाफ आपका जेहाद जायज है, आप सही लड़ रहे हैं। मैं प्रशंसक हूं आपका। और ताजा शिकार भी हूं पेड न्‍यूज के धंधेबाजों का। नीचे दो लिंक हैं, जिनका खुलासा मैंने किया है, साथ ही उन्‍हें नोटिस भी भेजी है। यह नोटिस मैं मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त, सूचना सचिवों, निदेशकों के साथ ही सभी राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों को भी भेज रहा हूं। ताकि वे ऐसे धंधेबाजों से परिचित हों और सावधान रहें- अगर चाहें तो।

हिन्‍दुस्‍तान वाराणसी से गयी दो वरिष्‍ठों की नौकरी

: लारी ने की नौकरी से तौबा : कंप्‍यूटर लिट्रेट न होने का आरोप : वाराणसी: कर्मचारियों की कत्‍लगाह बनते जा रहे हिन्‍दुस्‍तान के वाराणसी कार्यालय में दो वरिष्‍ठ लोगों को बाहर का रास्‍ता दिखा दिया गया है। जबकि एक ने खुद ही नौकरी छोड़ने का फैसला करते हुए प्रबंधन को नोटिस दे दी है। बताया जाता है कि नोटिस देने वाले पत्रकार को अपने नये कार्यदायित्‍व रास नहीं आ रहे थे। साहित्यिक मिजाज के सियाराम यादव और अरविंद चौबे का नाम अब हिन्‍दुस्‍तान वाराणसी के इतिहास में दर्ज होने जा रहा है।

वेबसाइट संपादक और उनके पति को जान से मारने की धमकी

: भाजपा नेता ने दी धमकी, सीएम से लगाई रक्षा की गुहार : देहरादून से खबर है कि समाचार पत्र भड़ास4इंडिया की संपादक रंजना परगाई और उनके पति नारायन परगाई को उत्‍तराखंड भाजपा के प्रदेश उपाध्‍यक्ष राजू भंडारी ने जान से मारने की धमकी दी है. नारायन ने इसकी लिखित शिकायत मुख्‍यमंत्री बीसी खंडूडी समेत कई लोगों से की है. नारायन ने सीएम को लिखे पत्र में आरोप लगाया है कि राजू भंडारी ने फोन पर उन्‍हें तथा उनकी पत्‍नी को गालियां देते हुए जान से मारने की धमकी दी है.

अमर उजाला में डाइरेक्‍टर बने वीरेन डंगवाल

मशहूर कवि, वरिष्ठ पत्रकार, शिक्षक, बेहतरीन इंसान यानी बहुमुखी प्रतिभा के धनी वीरेन डंगवाल एक बार फिर अमर उजाला परिवार से जुड़ गए हैं. दो साल पहले अमर उजाला, बरेली के संपादक के पद से इस्‍तीफा देने वाले वीरेन दा को अमर उजाला का डाइरेक्‍टर बना दिया गया है. वे इसके पहले लगभग 27 वर्ष से अमर उजाला के ग्रुप सलाहकार, संपादक और अभिभावक के तौर पर जुड़े रहे हैं. उनका अमर उजाला से अलग होना एक बड़ा झटका माना गया था.

अखबारों ने निभाई स्‍टाफगीरी, नहीं छपी सुब्रत राय वाली खबर

स्टाफगीरी के चलते चालक, परिचालक बसों में फ्री चलते हैं, इसी तरह एक नाई दूसरे नाई से शेव करने के पैसे नहीं लेता। ऐसी ही स्टाफगीरी अखबार की दुनिया में निभाई जाने लगी है। यह स्टाफगीरी सही है या गलत, इस पर मैं कुछ नहीं कह सकता, पर सहारा ग्रुप के चेयरमैन सुब्रत राय के मामले में अखबारों की स्टाफगीरी देख कर वाकई आश्चर्य हुआ।

राजस्थान के वरिष्ठ पत्रकार परमेश्वर द्विरेफ का निधन

झुंझुंनू। राजस्थान के वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार एवं कवि परमेश्वर द्विरेफ का शनिवार को निधन हो गया। वे 83 साल के थे तथा पिछले कुछ समय से वे बीमार चल रहे थे। शनिवार की सुबह तबीयत अधिक बिगडऩे पर उपचार के लिये उन्हें जयपुर ले जाते समय रास्ते में चौमू के पास उनका निधन हो गया। उनके निधन का समाचार मिलने के बाद पत्रकारों व साहित्यकारों में शोक की लहर दौड़ गई।

आकाशवाणी के महानिदेशक ने दी निर्मम छंटनी की धमकी

आकाशवाणी दिल्ली का अत्यंत लोकप्रिय ऍफ़ एम गोल्ड चैनल पिछले दो वर्षों से विवादों के घेरे में रहा है. फिर चाहे वह कार्यक्रम प्रस्तोताओं के पारिश्रमिक में भारी विलम्ब का मामला हो, कार्यक्रम अधिशासियों के तानाशाही पूर्ण रवैये का मसला हो या फिर एक बड़े घोटाले के तौर पर देखा जाने वाला ऍफ़ एम गोल्ड की फ्रीक्वेंसी बदले जाने का विवाद हो. हालांकि ये सभी मामले मीडिया की सुर्खियाँ बनने के चलते समय रहते सुलझा लिए गए मगर कार्यक्रम प्रस्तोताओं की कई गंभीर समस्याएं ज्यों की त्यों बनी रहीं.

थप्‍पड़ की कीमत पचास हजार

: इंदौरी वकील ने सिखाया पार्षद पति को सबक : इंदौर। इंदौर के एक वकील महाशय पूर्व पार्षद पति को सबक सिखाते हुए राजीनामा करने को तैयार तो हुए किंतु इस शर्त पर कि 50 हजार की राशि हर्जाने के तौर पर दी जाएं यही नहीं उन्होंने यह राशि हाईकोर्ट व जिला बार एसोसिएशन को आधी-आधी दान करवा दी। माजरा इस प्रकार है कि 25 जुलाई 2008 को एडवोकेट रोमेश दवे अपने चार पहिया वाहन से आरएनटी मार्ग पर ट्राफिक प्‍वाइंट पर खड़े थे चूंकि उस समय रेड बत्ती थी इसलिए वे रूके थे। तभी उनके पीछे एक टाटा गाड़ी में सवार पूर्व पार्षद संध्या अजमेरा के पति सुनील अजमेरा पहुंचे और आगे निकलने की बात पर तू-तू, मैं-मैं करने लगे।

पत्रकारों पर हमले से क्षुब्‍ध काटजू ने मांगा जवाब

नई दिल्ली : श्रीनगर में आयोजित विरोध-प्रदर्शनों का समाचार संकलित करते पत्रकारों व छायाकारों की केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों द्वारा पिटाई का प्रेस परिषद ने संज्ञान लिया है। अखबारों ने भी जवानों द्वारा बर्बर पिटाई से संबंधित खबरें प्रकाशित की हैं।

मैं इप्टा की सदस्य नहीं हूँ, मेरे माता-पिता इप्टा में थे

: बिहार इप्टा का 14वां राज्य सम्मेलन : फासिस्टवादी फिरकापरस्त ताकतों से मानवता की रक्षा करने का आवाह्न : सहरसा के एमएलटी महाविधालय के मैदान में रंगकर्मियों का बेहतरीन जमावड़ा ‘इप्टा के 14 वें राज्य सम्मेलन’ में दिखा। देश के विभिन्न हिस्से से आये रंगमंच   के नामचीन शख्सियतों का यह समागम कोसी इलाके के लिए ऐतिहासिक था। तीन दिनों (25, 26, और 27 नवम्बर) तक चलने वाला यह सम्मेलन फैज, नगार्जुन और शमशेर की विरासत को समर्पित रहा।

अमर उजाला पर मायावती की नजर टेढ़ी!

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की सरगर्मी के साथ सरकार अपने विपक्ष में उठने वाली हर आवाज को दबाने के लिए येन-केन-प्रकारेण जुट गयी है। पूर्वमंत्री बाबू सिंह कुशवाहा के बगावती बोल के बाद उनको पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने के साथ बंगला खाली करने की नोटिस भी थमा दी गयी है। मीडिया में मनमाफिक खबर न छपने पर प्रदेश सरकार का नजरिया किस तरह बदल जाता है, इसका नमूना है अमर उजाला के प्रदेश के सभी संस्करणों के भवन व दफ्तरों की जांच-पड़ताल का।

हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं टूटा करते… सन्दर्भ : शरद पवार थप्पड़ प्रकरण

मेरे एक परिचित की नौकरी पुणे में एक निजी बैंक में लगी थी. काले धन को देश में ही गोरा बना देने में वह बैंक काफी प्रसिद्ध है. तो उस बैंक ने मेरे उस मित्र सहित अपने कुछ अधिकारियों को महाराष्ट्र के कुछ धनिकों की सूची देते हुए आंतरिक रूप से एक आकलन पेश किया था. उस आकलन के अनुसार शरद पवार की संपत्ति भारत के कुछ राज्यों के सकल घरेलू उत्पाद से भी ज्यादे आंकी गयी थी. उपरोक्त आकलन के पक्ष में इस लेखक के पास कोई सबूत नहीं है और न ही वह बैंक कोई सबूत देने की बात करता था. ज़ाहिर है बैंक की तो बस अपने कर्मचारियों से यही उम्मीद रही होगी कि वे इनलोगों पर ध्यान रखें और कोशिश करें कि ऐसे लक्ष्मी पुत्रों को अपना ग्राहक बनाया जाय. खैर.

Delhi’s best theatre directors to showcase their masterpiece work during Bhartendu Natya Utsav

New Delhi : To promote progressive and dynamic theatre among the city’s literati and culture enthusiasts, Sahitya Kala Parishad (SKP), the cultural wing of the Delhi Government, will be presenting eight theatre performances as part of the Bhartendu Natya Utsav from 28th November to 8th December, 2011 (except 2nd, 3rd and 4th December, 2011).  These plays will be staged at Shri Ram Center for Performing Arts (SRCPA), 4, Safdar Hashmi Marg, Mandi House, New Delhi.

केनेडी मर्डर को रिपोर्ट करने वाले एनटी के जर्नलिस्ट की मृत्यु

राष्ट्रपति जॉन एफ़ केनेडी की 22 नवंबर 1963 को हत्या के समय उनके काफ़िले में मौजूद वरिष्ठ अमरीकी पत्रकार-स्तंभकार की मृत्यु हो गई है. न्यूयॉर्क टाइम्स (एनटी) अख़बार के लिए रिपोर्टिंग करते रहे टॉम विकर 85 साल के थे. केनेडी की हत्या के बाद अफ़रा-तफ़री के माहौल में विकर ने पब्लिक फ़ोन के ज़रिए न्यूयॉर्क टाइम्स अख़बार को केनेडी पर गोली चलने, ऑपरेशन टेबल पर उनकी मृत्यु और लिंडन जॉनसन को राष्ट्रपति बनाए जाने का पूरा ब्यौरा दिया था.

डॉ. खलील चिश्ती की रिहाई के लिए काटजू ने लिखा सोनिया गांधी को पत्र

रिश्तेदार की हत्या के मामले में अजमेर सेंट्रल जेल में सजा काट रहे पाकिस्तान के माइक्रो बायोलॉजिस्ट डॉ. खलील चिश्ती को रिहा करने की अपील कई लोगों और संगठनों ने की लेकिन फिलहाल इन अपीलों-अनुरोधों का कहीं कुछ असर होता नहीं दिख रहा है. नौकरशाहों ने डा. खलील चिश्ती की फाइल को ठंढे बस्ते में डाल रखा है. पर पढ़े-लिखे और संवेदनशील लोगों का तबका नाउम्मीद नहीं है. ये लोग डा. खलील की रिहाई के लिए सक्रिय है.

डा. कुमार विमल नहीं रहे

साहित्य-सृजन के क्षेत्र में जाने माने शख्सियत डा. कुमार विमल का कल पटना में निधन हो गया। उन्होंने 13 अक्टूबर 2011 को अपना 80वां जन्म दिन मनाया था। 80 साल के हो जाने के बावजूद साहित्य-सृजन करते रहे। ''आजकल'' के दिसंबर अंक में उनका लेख प्रकाशित हुआ है। विभिन्न विधाओं में उनकी दर्जनों पुस्तकें जहां चर्चित हैं वहीं साहित्य के क्षेत्र में धरोहर के रूप में स्थापित भी हैं। डा. कुमार विमल के निधन पर साहित्य जगत में शोक की लहर दौड़ गयी है।

कई पत्रकारों ने अपने-अपने दर बदले

नवभारत टाइम्‍स से खबर है कि अनुराग अन्‍वेषी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे समाचार संपादक बनकर अमर उजाला से जुड़ने जा रहे हैं. अनुराग नोएडा स्थित कारपोरेट आफिस में अपनी सेवाएं देंगे. अमर उजाला, नोएडा से दूसरी खबर यह है कि रवि राव ने यहां से इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी नोएडा में ही दैनिक जागरण के साथ शुरू कर रहे हैं. दैनिक जागरण, नोएडा से खबर है कि यहां से विप्‍लव चतुर्वेदी ने विदाई ले ली है. वे सब एडिटर के रूप में अमर उजाला, नोएडा से जुड़ रहे हैं.

बनारस में हस्‍ताक्षर का मामला अपर श्रमायुक्‍त के पास पहुंचा, हड़कम्‍प

: पत्रकार नेता योगेश गुप्‍ता पप्‍पू एवं अजय मुखर्जी दादा ने की शिकायत : दैनिक जागरण, बनारस में म‍जीठिया वेज बोर्ड मामले में पत्रकारों की अनिच्‍छा के बावजूद जबरिया हस्‍ताक्षर करा रहे प्रबंधन के विरुद्ध समाचार पत्र कर्मचारी यूनियन ने मोर्चा खोल दिया है. दैनिक जागरण की चिरकुटई से भलीभांति अवगत काशी पत्रकार संघ के अध्‍यक्ष योगेश गुप्‍ता पप्‍पू एवं समाचार पत्र कर्मचारी यूनियन के मंत्री अजय मुखर्जी दादा ने वाराणसी परिक्षेत्र के अपर श्रमायुक्‍त को पत्र लिखकर कर्मचारियों के उत्‍पीड़न का आरोप लगाया है.

किरण बेदी के खिलाफ चौबीस घंटे के भीतर एफआईआर दर्ज करने का निर्देश

नई दिल्ली। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए टीम अन्ना की प्रमुख सदस्य किरण बेदी और उनके एनजीओ इंडिया विजन फाउंडेशन के खिलाफ 24 घंटे के अंदर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है। याचिकाकर्ता ने किरण बेदी की एनजीओ और मुंबई की वेदांता फाउंडेशन के खिलाफ विदेश से मिले दान के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाया था।

शाहजहांपुर के पत्रकार शमिंदर सिंह को मातृशोक

शाहजहांपुर में महामंघा के जिला संवाददाता शमिंदर सिंह वेदी की माता श्रीमती कैलाश कौर का बीते मंगलवार को निधन हो गया। वह अस्‍सी साल की थीं तथा पिछले कुछ समय से सांस की बीमारी से पीडि़त थी। मृदुभाषी पत्रकार शमिन्दर सिंह की माता के निधन का समाचार सुनते ही पत्रकारों व उन के तमाम मिलने वालों में शोक की लहर दौड़ गई। बताते चले कि पत्रकार शमिंदर के पिता सुभाष चन्द्र बोस की आजाद हिन्द फौज के एक वरिष्ठ सैनिक के रूप में कार्य कर चुके हैं। 

औरेया-इटावा में हिंदुस्‍तान दो रुपये का हुआ, हालत फिर भी खराब

इटावा और औरैया में हिंदुस्‍तान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. कानपुर से लेकर दिल्‍ली तक के आला अफसर यहां अखबार के अच्‍छे प्रदर्शन के लिए नाक रगड़ रहे हैं, तमाम उपाय कर रहे हैं, बावजूद इसके यह अखबार लोगों की पसंद नहीं बन पा रहा है. अखबार की कीमत कम करने के बावजूद हिंदुस्‍तान को लाभ मिलता नहीं दिख रहा है. औरैया-इटावा में हिंदुस्‍तान प्रबंधन ने अखबार की कीमत साढ़े तीन रुपये से घटाकर दो रुपये कर दिया है इसके बाद भी प्रसार संख्‍या में कोई खास इजाफा देखने को नहीं मिल रहा है.

सुब्रत राय पर कोर्ट ने कसा शिकंजा, भगोड़ा घोषित करने की तैयारी

बदायूं। न्यायालय के आदेशों को गंभीरता से न लेने पर सहारा ग्रुप के चेयरमैन सुब्रत राय को मजिस्ट्रेट ने भगोड़ा घोषित करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। मामले की अगली सुनवाई अब 18 दिसंबर को होगी, जिसमें सुब्रत राय हाजिर नहीं हुए तो उनके विरुद्ध कुर्की के आदेश भी हो सकते हैं। सहारा ग्रुप के नेतृत्व में संचालित कंपनी द्वारा पच्चीस साल पहले गोल्डन की एकाउंट नाम की योजना चलाई गयी थी, जिसके तहत देश भर से करीब दस हजार लोगों से पच्चीस सौ रुपये प्रति व्यक्ति जमा कराये गये थे।

इंडिया न्‍यूज से 30 को विदा हो जाएंगे रवीन ठुकराल, पंजाब चैनल होगा बंद

: यूपी चैनल लांच करने की तैयारियां तेज : राहुल देव के एडिटर इन चीफ बनने की चर्चा : इंडिया न्‍यूज से खबर है कि रवीन ठुकराल अब यहां से फाइनली विदा हो जाएंगे. इंडिया न्‍यूज ग्रुप के एडिटर इन चीफ के रूप में संस्‍थान को खड़ा करने वाले रवीन ठुकराल के बारे में शनिवार को सामूहिक मीटिंग करके बता दिया गया कि अब वे इंडिया न्‍यूज से जाने वाले हैं. खबर है कि रवीन 1 दिसम्‍बर से दैनिक द ट्रिब्‍यून के एसोसिएट डिप्‍टी एडिटर के रूप अपना कार्यभार ग्रहण कर लेंगे. तमाम मुश्किलों और विवादों के बीच रवीन ने इंडिया न्‍यूज एवं आज समाज को एक ब्रांड के रूप में खड़ा किया था.

समाज और देश के हितों को ध्‍यान में रखकर होनी चाहिए पत्रकारिता

: आईजेयू का सातवां प्‍लेनम शुरू : हैदराबाद : इंडियन जर्नलिस्ट्स यूनियन का सातवां प्लेनम आज यूनियन के प्रथम सेक्रेटरी जनरल मरहूम कल्याण चौधरी के नाम पर बसाये गए हॉल में हैदराबाद में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन किरणकुमार रेड्डी के उद्घाटन के साथ शुरु हुआ. अपने उद्घाटन भाषण में मुख्यमंत्री ने कहा कि आज पत्रकारिता के बारे में उठ रहे बहुत सारे सवालों के बीच यह सम्मेलन हो रहा है और आज पत्रकारिता के बीच से ही यह सवाल उठ रहा है कि क्या प्रेस क़ी आज़ादी का मतलब अख़बार मालिकों क़ी आज़ादी है या फिर पत्रकारों क़ी आज़ादी.

मीडिया पर चला सरकारी हथौड़ा

सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति पी.बी. सावंत का खबरिया चैनल टाइम्स नाउ के खिलाफ अभूतपूर्व 100 करोड़ रु. का मानहानि का दावा ठोकना मीडिया को खरा-खोटा कहने के इस मौसम में दंडात्मक कार्रवाई का सबसे ताजा उदाहरण है. न्यायमूर्ति सावंत के नजदीकी सूत्रों के मुताबिक, वे चाहते हैं कि पुणे की सिविल अदालत के एक न्यायाधीश वी.के. देशमुख के 26 अप्रैल को दिए गए एक फैसले से मीडिया को आचारनीति के बारे में एक कड़ा संदेश दिया जाए.

प्रेस भूखण्‍ड पर दैनिक सतपुड़ा वाणी ने बना दी बहुमंजिला इमारत

: पत्रकार ने भेजा नोटिस : भोपाल के प्रेस काम्प्लेक्स में प्रेस चलाने और पत्रकारिता व्यवसाय के प्रायोजन में दी गई जमीनों में कई आबंटनकारियों ने अनुमति का दुरुपयोग कर नियम विरूद्ध बहुमंजिला बिल्डिंगें बनाकर करोड़ों रुपये का खेल खेला है। वहीं इस कार्य से शासन द्वारा दी गई मिट्टी के भाव कीमत की जमीन पर शासन को करोड़ों की हानि हुई है। कई प्रेस मालिकों ने बड़े-बड़े काम्प्लेक्स बनाकर बेच दिए है। जिसमें से एक है दैनिक सतपुड़ा वाणी प्रेस काम्प्लेक्स का 23 और 24 नम्बर का प्लॉट, जिसमें आज गोयल निकेत काम्प्लेक्स सीना ताने खड़ा है। जिसके सम्बन्ध में पत्रकार अवधेश भार्गव ने सम्बन्धित दैनिक सतपुड़ा वाणी, गोयल बिल्डर्स एवं डेवलपर्स, भोपाल कलेक्टर, सी.ई.ओ. भोपाल विकास प्राधिकरण सहित नगर निगम कमिश्‍नर को नोटिस दिया है। जिसमें सिलसिलेवार आरोप लगाये गये हैं।

नैतिक धारा ही मीडिया की पूंजी है.. आत्‍मनिरीक्षण भी जरूरी

प्रेस काउंसिल के अध्यक्ष जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने पत्रकारों और भारतीय पत्रकारिता के बारे में जो टिप्पणी की है, उसे लेकर भारी प्रतिक्रिया है. यह स्वाभाविक है. स्वाभाविक इसलिए है कि पत्रकारिता आज जिस तरह से पूरी व्यवस्था में एक शक्तिशाली स्थान हासिल कर चुकी है, ऐसे में उसे जब कोई आईना दिखाने की कोशिश करेगा, तो उसे स्वीकार तो नहीं ही होगा. और फिर यदि आईने पर ही धूल हो और वह पहले से ही टूटा हुआ हो, तो प्रतिबिंब और भी खराब दिखेगा. कुछ ऐसा ही हुआ है जस्टिस काटजू के बयान को लेकर. लेकिन ऐसा भी नहीं है कि उनकी सारी टिप्पणी ही गलत है.

अमर उजाला में स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट बनेंगे बृजेश सिंह

: जीतेंद्र मौर्य टीवी से जुड़े : दैनिक जागरण, नोएडा से इस्‍तीफा देने वाले डीएनई बृजेश सिंह के बारे में खबर है कि वे अमर उजाला से जुड़ने जा रहे हैं. तेजतर्रार पत्रकारों में गिने जाने वाले बृजेश को अमर उजाला अपने नेशनल ब्‍यूरो में स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट बनाने जा रहा है. हालांकि इस खबर की पूर्ण रूप से पुष्टि नहीं हो पा रही है, पर सूत्रों का कहना है कि बृजेश सिंह इसी पद पर अमर उजाला से जुड़ने वाले हैं. बृजेश सिंह काफी लम्‍बे समय से जागरण को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

आजतक शीर्ष पर कायम, न्‍यूज एक्‍सप्रेस टॉप टेन में पहुंचने को आतुर

टैम वालों ने 47वें सप्‍ताह में भी कोई बड़ा धमाका नहीं किया है. शुरू के चार स्‍थानों में कोई बदलाव नहीं हुआ है. आजतक ने जहां एक नम्‍बर की कुर्सी पर अपनी पकड़ मजबूत की है. वहीं न्‍यूज24 भी अपना चौथे स्‍थान पर खंभा गाड़े रखा है. पिछली बार पांचवें स्‍थान पर रहे जी न्‍यूज को आईबीएन7 ने खिसका कर इस स्‍थान पर अपना कब्‍जा जमाया है. अन्‍य चैनल सदाबहार तरीके से अपने-अपने कुर्सी पर काबिज हैं. न्‍यूज एक्‍सप्रेस तेजी से कदम बढ़ाते हुए टाप टेन में पहुंचने की दिशा में अग्रसर है. 

गोरखपुर जर्नलिस्‍ट प्रेस क्‍लब का हाल बेहाल, वेलफेयर फंड के पैसे में भी लूट

एक कहावत है कि जिस खेत को उसकी मेड़ ही खाने लगे, तो उस खेत का भगवान ही मलिक होता है। कुछ ऐसा ही गोरखपुर में गोरखपुर जर्नलिस्ट प्रेस क्लब नामक संस्था में हो रहा है, जहां और कुछ हो या ना हो, पत्रकारों के हित पर डाका तो जोरदार पड़ रहा है। यहां अभी 16 अक्तूबर को चुनाव हुए हैं, पर नयी कार्यकारिणी अभी नया कुछ कर ही नहीं पायी, उसे तो पिछली कार्यकारिणी के कारनामों को ही भुगतना पड़ रहा है। तीन मामले ही पूरी कहानी बयां करने को काफी हैं।

यह जागरण का विज्ञापन दाता है, इसकी खबर लगनी चाहिए

कभी कभी लाख चालाकी के बावजूद व्‍यक्ति अथवा संस्‍था का असली चरित्र सामने आ ही जाता है. पेड न्‍यूज को लेकर सबसे ज्‍यादा बदनाम रहे दैनिक जागरण किस तरह की पत्रकारिता करता है, उसकी एक ऑन लाइन खबर से साफ नजर आ जाता है. अखबार में जनसरोकार से ज्‍यादा विज्ञापन देने वालों को कितना महत्‍व दिया जाता है इसका प्रमाण है चंदौली की एक खबर. बनारस यूनिट से जुड़े इस जिले से एक खबर भेजी गई है, जिसमें शायद हेडिंग के आगे विज्ञापनदाता लिखकर खबर को महत्‍व देने के बारे में पेज देखने वाले को बताया गया है, पर विडम्‍बना कि इस खबर को नेट पर डालने वाले ने कुछ नहीं देखा और जस का तस उसे वेबसाइट पर डाल दिया.

अल जजीरा अंग्रेजी चैनल भारत में, हिंदी चैनल भी लाने की योजना

नई दिल्ली। कतर के अल जजीरा नेटवर्क ने गुरुवार को डिश टीवी पर देशभर में समाचार चैनल अल जजीरा अंग्रेजी लॉन्च करने का एलान किया। इसके अलावा उसने पहुंच बढ़ाने के लिए दूसरे डायरेक्ट-टु-होम प्लेटफॉर्म से जुड़ने की योजना भी तैयार की है। यह नेटवर्क देश में हिंदी समाचार चैनल लॉन्च करने पर भी विचार कर रहा है। अल जजीरा इंग्लिश के मैनेजिंग डायरेक्टर अल एंस्ते ने कहा, 'अल जजीरा इंग्लिश ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पांच साल पूरे कर लिए हैं और भारत में राष्ट्रीय स्तर पर चैनल लॉन्च करना यहां के बाजार को देखते हुए एक महत्वपूर्ण कदम है।'

पत्रकारिता विश्‍वविद्यालय के छात्र-कर्मचारी में मारपीट का मामला दर्ज

रायपुर। कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय में 23 नवम्‍बर कर्मचारी और छात्र के बीच हुई मारपीट में पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। इसमें दोनों पक्षों की ओर से थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है, जिसमें विवि के कुलसचिव की रिपोर्ट पर दो छात्रों के खिलाफ मारपीट, गाली-गलौज व शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने का मामला टिकरापारा थाने में दर्ज किया गया है। वहीं पीएचडी के छात्र कमल ज्योति की रिपोर्ट पर अजाक थाने में शिकायत दर्ज कर जांच चल रही है।

एक दिसम्‍बर तक पुलिस हिरासत में रहेंगी जिगना बोरा

मुंबई में पत्रकार ज्योतिर्मय डे की हत्या के मामले में गिरफ्तार एशियन एज की महिला पत्रकार जिगना वोरा को कोर्ट ने एक दिसम्‍बर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है। जिगना को कड़े कानून महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (मकोका) के तहत गिरफ्तार किया गया है। मकोका कोर्ट के न्यायाधीश एसएम मोदक को उनके वकील ने एक आवेदन दिया, जिसमें जिगना ने आशंका जताई कि पुलिस उन पर अपराध स्वीकार करने के लिए दबाव डाल सकती है, लेकिन वे इस तरह का कोई खुलासा नहीं करना चाहतीं क्योंकि उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है।

आगरा में जागरण के हस्‍ताक्षर अभियान के खिलाफ भगत सिंह बने रवि प्रकाश मौर्य

: बनारस में भी कराया गया पत्रकारों से सिग्‍नेचर : आगरा से खबर है कि यहां पर भी मजीठिया वेज बोर्ड को लेकर चलाए गए हस्‍ताक्षर अभियान का काम पूरा कर लिया गया है. पर यहां पर एक कर्मचारी ने जागरण प्रबंधकों के इस मंशा का विरोध कर दिया है. सूत्रों का कहना है कि समाचार संपादक आनंद शर्मा लोगों को समझा बुझाकर हस्‍ताक्षर अभियान पूरा करवा लिए. उन्‍होंने आफ द रिकार्ड सहयोगियों से यह भी कहा कि इससे कुछ होना जाना नहीं है, कोई पत्रकार सुप्रीम कोर्ट जाएगा तो हम सभी का भला हो जाएगा. मतलब जागरण के तमाम वरिष्‍ठ पत्रकार यह भी चाहते हैं कि उनको मजीठिया वेज बोर्ड का लाभ मिले और वो प्रबंधन की नजर में भी हीरो बने रहें यानी भगत सिंह कोई और बने.

”हम अपने चैनल की गलती के लिए क्षमा मांगते हैं”

Dear Mr. Joshi, Thank you for your email to us. Face The Nation, is a late night–10pm–show. Often our esteemed panelists cannot come to our studio or OB location at that time as they are in remote locations or unavailable at 10pm at night. We thus record small interviews with them, after taking their consent that this will be played in the Face The Nation debate. This was done with Sri Sriji as he was in Mirzapur, UP, and not able to come to our studio at 10pm.

हिंदी लेखकों और पत्रकारों के साथ घटतौली की अनंत कथा

हिंदी में अजब घटतौली है। कमोवेश हर जगह। क्या प्रकाशक, क्या संपादक, क्या अखबार या पत्रिकाएं। सब के सब एक लेखक नाम के प्राणी को गरीब की जोरु को भौजाई बनाने का सुख लूट रहे हैं। जाने कब से। पहले जब लिखना शुरू किया था तब लगता था कि लिख कर हम अपने को कागज पर रख रहे हैं। सब के सामने आने के लिए। एक स्वर्गानुभुति भी कह सकते हैं। छपने का तो शुरू में सोचते भी नहीं थे। लिखना ही लिखना था। बाद के दिनों में कहीं छपना भी एक सपना हुआ करता था। छपना ही। पैसा नहीं। पैसे का सपना नहीं। लिख कर पैसा भी मिलेगा ऐसा कभी तब सोचा भी नहीं था। पर जब पहली बार एक कविता आज अखबार में छपी तो लगा कि क्या पा गए हैं।

इंडियन एक्‍सप्रेस में सीनियर असिस्‍टेंट एडिटर बने श्‍यामलाल यादव

इंडिया टुडे के सीनियर एडिटर श्‍यामलाल यादव को लेकर पिछले काफी दिनों से चल रही चर्चाएं आखिर सच साबित हुई. उन्‍हों ने फाइनली इंडिया टुडे से इस्‍तीफा दे दिया है. अब वे इंडियन एक्‍सप्रेस में सीनियर असिस्‍टेंट एडिटर बन गए हैं. उन्‍होंने आज ही इंडियन एक्‍सप्रेस ज्‍वाइन किया है. अपनी खोजी पत्रकारिता के लिए अलग पहचान बनाने वाले श्‍यामलाल यादव का जाना इंडिया टुडे के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है.

आदिवासी प्रदेश के विवि में आदिवासियों के लिए जगह नहीं

: रायपुर के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विवि के पीएचडी प्रवेश प्रक्रिया में सामने आयी गडबड़ी : इसे विवि की लापरवाही कहिये या फिर शासन की कमजोरी कि आदिवासी बाहुल्य वाले राज्य छत्‍तीसगढ़ में आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को अपने ही प्रदेश में संविधान में वर्णित आरक्षण का लाभ नहीं मिल पा रहा है। शासन द्वारा विशेष वर्गों में उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के तमाम प्रयासों पर किस तरह पानी फेरा जा रहा है इसका उदाहरण पत्रकारिता विवि में पीएचडी कोर्स के  प्रवेश में बरती गई लापरवाही से सामने आ रही है। आरक्षित वर्ग के अनेक अभ्यर्थियों ने पीएचडी प्रवेश में आरक्षण रोस्टर का पालन नहीं करने के साथ धांधली का आरोप लगाया है। चयन से वंचित छात्रों ने छग राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग और राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग में मामले की शिकायत की है।

अमर उजाला के प्रति लोगों में फूटा आक्रोश, नहीं उतरने दी प्रतियां

जालौन में एक गल्‍ला व्‍यापारी की पुत्री के अपहरण और बाद में उसकी हत्‍या के मामले में पुलिस के पक्ष में और भ्रामक खबर छापने पर जालौन के व्‍यापारी और क्षेत्रीय लोगों का गुस्‍सा अमर उजाला के खिलाफ फूट पड़ा. मंगलवार को लोगों ने जालौन नगर में अमर उजाला की प्रतियां उतरने ही नहीं दी. लोगों में इतना गुस्‍सा था कि उन्‍होंने अखबार के खिलाफ नारे भी लगाए.

चेतन शारदा, मुकेश टंडन, विजय झा एवं राजन मिश्र ने शुरू की नई पारी

दैनिक भास्‍कर से सूचना है कि हिमाचल के संपादक एवं वरिष्‍ठ पत्रकार चेतन शारदा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी पंजाब से जल्‍द लांच होने जा रहे अखबार नया सवेरा से शुरू करने जा रहे हैं. इन्‍हें कार्यकारी संपादक बनाया गया है. बताया जा रहा है कि चेतन शारदा के नेतृत्‍व में ही यह अखबार लांच किया जाएगा. चेतन शारदा इसके पहले दैनिक जागरण और पंजाब केसरी को भी वरिष्‍ठ पदों पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

पत्रकारिता के छात्र ने मांगी जानकारी, कुलसचिव ने शुरू कर दी मारामारी

: रायपुर के अनुसूचित जाति थाने में दिया तहरीर : डा. अम्‍बेडकर अस्‍पताल में चल रहा है इलाज : कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्‍वविद्यालय, रायपुर से पीएचडी कर रहे छात्र कमल ज्‍योति जाहिरे को आरटीआई के तहत सूचना मांगना महंगा पड़ गया. यूनिवर्सिटी के कई वरिष्‍ठ पदस्‍थ लोगों ने सूचना मांगे जाने से नाराज होकर कमल की जमकर पिटाई की तथा गाली-ग्‍लौज, जाति सूचक शब्‍दों का प्रयोग करते हुए जान से मारने की धमकी भी दी. कमल ने इस संबंध में रायपुर के अनुसूचित जाति थाने में एक लिखित तहरीर दी है. कमल का इलाज रायपुर के डा. भीमराव अम्‍बेडकर अस्‍पताल के ट्रामा सेंटर में चल रहा है.

न्यूज एक्सप्रेस पर मनोज प्रभाकर से मुकेश कुमार की बातचीत कल शाम सात बजे से

: प्रभाकर बोले- कांबली नाटकबाज नहीं : पूर्व क्रिकेटर मनोज प्रभाकर का मानना  है कि कांबली ने 1996 विश्व कप सेमीफाइनल में मैच फिक्सिंग के बारे में जो भी खुलासा करने की कोशिश की है उसको गंभीरता से लिया जाना चाहिये।  प्रभाकर ने कहा कि कांबली अच्छे क्रिकेट खिलाड़ी  हैं और उनकी बात संजीदगी  से लेनी चाहिये… प्रभाकर  ने जोर देकर कहा कि कांबली नाटकबाज नहीं हैं और जो सच है वो सामने आना चाहिये।

‘आपके चैनल से जुड़कर मेरा भविष्‍य ही अंधकारमय हो गया’

: अपने बकाये की मांग के लिए कुमार सौवीर ने चैनल प्रबंधन को लिखा पत्र : 15 दिन के भीतर भुगतान न करने पर कोर्ट जाने की दी चेतावनी : From: kumarsauvir@yahoo.com, Subject: फुल ऐंड फाइनल पेमेंट के संदर्भ में। कृपया इसे प्रबंधन तक पहुंचा दें…, To: hr.stvnews@gmail.com, Cc: input.upnews@gmail.com, assignment.ankit@gmail.com, Date: Thursday, 24 November, 2011, 9:06 PM,

पेड न्यूज के लिए मेरे चैनल ने मुझ पर इस तरह दबाव बनाया

: यूपी में इलेक्शन से पहले लांच होने वाले चैनल की कहानी, उसके ब्यूरो चीफ कुमार सौवीर की जुबानी : चाहे वह अफीम के स्‍वर्ग यानी बाराबंकी का टेरा-टिकरा गांव का आपराधिक माहौल रहा हो, या अयोध्‍या विवाद के दौरान कारसेवकों के खून से सना फैजाबाद में तब छावनी बन चुका अवध क्षेत्र रहा हो। जून की दोपहरिया में गर्म रेत के थप्‍पड़ मारते राजस्‍थान में खबरें खोदने का काम रहा हो, या चित्रकूट में घनश्‍याम केवट नाम के इकलौते डकैत से निपटने के लिए मौजूद हजारों पुलिसवालों की ताबड़तोड़ गोलियों के बीच दो दिन की लगातार रिपोर्टिंग रही हो। बदमिजाज नेताओं-अफसरों से निपटना रहा हो, या किसी की भी प्रेस कांफ्रेंस में सवालों के गोले दाग कर उन्‍हें सच बोलने पर मजबूर करना।

‘दर्शकों और श्रीश्री को चीट करने वाले चैनल पर कार्रवाई करो’

Dear Ms. Kshipra Jatana, EVP & Head Legal, TV18 Broadcast Limited, Hello, CNN-IBN has broacasted programme titled "Face the Nation" on November 9, 2011,the topic of the discussion was, "Should spiritual leaders participate in anti-corruption campaign?" Sagarika Ghosh was an anchor conducting the episode. A prerecorded interview of Sri Sri RaviShankar, the spiritual head of Art of Living, was passed on as a live one.The manner in which the various quotes of Sri Sri Ravishankar were used clearly showed that there was a malicious attempt to demonise Sri Sri. Ravishankar.

Harbhajan Singh ready for trip to Australia

New Delhi: Out of favor off-spinner Harbhajan Singh has said that he has another 5-6 years of cricket left in him and hopes to be back in the Indian team for the forthcoming trip to Australia. Talking to News 24 editor-in-chief Anurradha Prasad on her weekly show ‘Aamne Samne’, Harbhajan said “I do have another 5-6 years of cricket in me, ‘picture abhi baaki hai’. I think I can still contribute to the side for some time. I don’t know anything other than cricket and people know me for this only. It’s my passion”.

जिगना वोरा ने जानबूझ कर नहीं दी थी जेडे के बारे में सूचनाएं!

मुंबई के कुछ तटस्थ क्राइम रिपोर्टरों की बातों पर भरोसा करें तो एशियन एज की महिला पत्रकार जिगना वोरा ने जेडे की हत्या के इरादे से कोई सूचना पास नहीं की. उससे घुमा-फिरा कर अनजाने में जानकारी ले ली गई. उसकी जगह कोई और भी होता तो वो भी वही करता जो जिगना ने किया. सूत्रों के मुताबिक छोटा राजन से जुड़ा एक शख्स जिगना वोरा का सूत्र था. इस सूत्र के जरिए जिगना को कई खबरें मिला करती थीं.

छह लोगों ने बारह घंटे तक किया महिला पत्रकार का यौन शोषण

काहिरा :  मिस्र में रिपोर्टिंग के लिए गई एक अमेरिकी मूल की पत्रकार ने अपने साथ यौन शोषण की बात उजागर की है। मोना एल्टाहावी नाम की इस महिला पत्रकार का दावा है कि काहिरा में मिश्र सुरक्षा बल ने बुधवार रात को उन्हें जबरदस्ती कैद में रखा और उनका यौन शोषण किया। मोना पिछले दिनों से भड़के विद्रोह की रिपोर्टिंग के लिए काहिरा आई हुई हैं। मोना ने बताया कि उन्हें 12 घंटे तक आंतरिक मंत्रालय और मिलिट्री इंटेलिजेंस ने हिरासत में रखा। इस दौरान उनके साथ पांच से छह आदमियों ने उनका यौन शोषण किया।

जेडे मर्डर : एशियन एज की महिला पत्रकार ने की थी मुखबिरी, गिरफ्तार

मुंबई: मुंबई के मिड डे अखबार के सीनियर जर्नलिस्‍ट ज्‍योतिर्मय डे की हत्‍या के मामले में नया मोड़ आ गया है. इस मामले में एक महिला पत्रकार को गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तार  पत्रकार जिग्ना वोरा अंग्रेजी अखबार एशियन एज की पत्रकार है. इसके ऊपर आरोप है कि उसने छोटा राजन को जेडे से संबंधित कई महत्वपूर्ण जानकारियां उपलब्‍ध कराई. महिला पत्रकार पर जेडे की बाइक नम्‍बर भी बताने का आरोप है.

नाबालिग का फोटो छापकर कानूनी पचड़े में फंसा भास्‍कर

: जिला कपूरथला (पंजाब) के सीजेएम की कोर्ट करेगी सुनवाई : मानव अधिकार आयोग का सख्‍त आदेश है कि पुलिस प्रत्येक आपराधिक मामले में नामजद होने वाले आरोपी का चेहरा छुपाकर रखे और यह आदेश समाचार पक्षों पर भी लागू होता है कि वह आरोपियों का चित्र प्रकाशित न करे। वहीं, दूसरी तरफ आपराधिक मामलों में संलिप्त पाए जाने वाले नाबालिग बच्चों के लिए अलग से एक खास कानून है, जिसके तहत नाबालिग बच्चों का मात्र चेहरा नहीं बल्कि नाम, पता तथा वह सभी जानकारियां छापने पर प्रतिबंध लागू है, जिससे उसकी पहचान उजागर हो।

विनय मिश्र और सूरज सनवाल नए ठिकानों पर पहुंचे

देश लाइव न्‍यूज, पटना से खबर है कि बिहार के ब्‍यूरो प्रमुख विनय मिश्र ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी दैनिक जागरण के साथ शुरू करने जा रहे हैं. देश लाइव आने से पहले विनय भुवनेश्‍वर में सन्‍मार्ग के संपादकीय प्रभारी थे तथा स्‍थानीय संपादक के रूप में कामकाज देख रहे थे. दैनिक जागरण से करियर शुरू करने वाले विनय की जागरण संग दूसरी पारी है. वे प्रभात खबर में सिटी इंचार्ज भी रहे. बांग्‍ला न्‍यूज चैनल 'चैनल टेन' से भी जुड़े रहे.

थप्पड़ मार डीएम और बागी होता आईपीएस… दो चेहरे – दो वीडियो

नीचे दो वीडियो के लिंक दिए जा रहे हैं. इन दी वीडियो में दो नजारे हैं. एक में है एक डीएम द्वारा एक व्यक्ति को थप्पड़ मारना. डीएम ने जिसे थप्पड़ मारा उसका जो कुसूर दिख रहा है, वो ये कि उसने बंदूक पकड़ रखी है और दूसरा वह साहब सुब्बा लोगों के इलाके में उनके मकानों के आसपास फटक रहा था.

वेतनबोर्ड लागू नहीं करने वाले अखबारों का सरकारी विज्ञापन बंद किया जाए

नई दिल्ली : अखबार उद्योग के पत्रकार और गैर-पत्रकार कर्मचारी संगठनों ने नए वेतनमान लागू न करने के मालिकान के रवैए की तीखी निंदा करते हुए उनके खिलाफ देश भर में जोरदार धरना और प्रदर्शन आयोजित करने का फैसला किया है और सरकार से मांग की है कि उन अखबारी संगठनों के खिलाफ सख्त दंड का प्रावधान किया जाए जो सरकार द्वारा अधिसूचित मजीठिया वेतनबोर्ड की सिफारिशों को लागू नहीं करके कानून का उल्लंघन कर रहे हैं।

कुमार सौवीर और नीरज उत्तराखंडी का सीएम खंडूरी करेंगे सम्मान

हिन्दी पत्रकारिता के पुरोधा पंडित हरि शंकर द्विवेदी की स्मृति में पंडित हरि शंकर द्विवेदी फाउन्डेशन एंव विज़न 2020 राष्ट्रीय पत्रिका द्वारा ‘पत्रकार सम्मान’ का आयोजन 26 नवम्बर, 2011 को देहरादून मे किया जा रहा है। ‘‘जर्नलिस्ट ऑफ द इयर 2011’’ का सम्मान हिन्दी के प्रमुख पत्रकार कुमार सौवीर को एवं ‘‘यंग जर्नलिस्ट ऑफ द इयर 2011’’ का सम्मान नीरज उत्तराखण्डी को उत्तराखण्ड के माननीय मुख्यमंत्री मेजर जनरल (रिटायर्ड) श्री बी.सी. खन्डूरी द्वारा दिया जाएगा।

शैलेंद्रमणि का चौदह साल का राज खत्‍म, अब प्रिंट लाइन में सीकेटी का नाम

चौदह साल तक गोरखपुर में दैनिक जागरण की गद्दी संभालने वाले शैलेंद्र मणि को वनवास पर भेजे जाने की तैयारी शुरू कर दी गई है. अखबार को गोरखपुर में नई उंचाई देने वाले शैलेंद्रमणि के वनवास की खबरें तभी से आनी शुरू हो गई थी, जब चंद्रकांत त्रिपाठी उर्फ सीकेटी से बरेली की गद्दी छीनकर गोरखपुर भेजा गया था. पहली बार शैलेंद्रमणि को संपादकीय से हटाकर केके शुक्‍ला को प्रभारी बनाकर वनवास पर भेजने की शुरुआत की गई थी. इसके बाद भी प्रकाशक के रूप में शैलेंद्रमणि का नाम दैनिक जागरण के प्रिंट लाइन में जा रहा था.

अब एक महीने में विज्ञापन का पेमेंट नहीं हुआ तो देना पड़ेगा ब्‍याज

नई दिल्ली। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया (पीसीआई) के चेयरमैन और सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज मार्कंडेय काटजू ने केंद्र/राज्य सरकारों, संघ शासित प्रदेशों और विधिक प्राधिकरणों (स्टैचुअरी अथॉरिटी) को एक पत्र जारी किया है। पत्र में इन सभी को सरकारी विज्ञापनों/नोटिसों के प्रकाशन की तारीख से एक महीने के भीतर अखबार प्रबंधनों को पेमेंट करने के निर्देश गए गए हैं। ऐसा नहीं करने की सूरत में पेमेंट समेत उस पर 12 फीसदी ब्याज भी देना होगा। हालांकि पत्र में कहा गया है कि पेमेंट पर लगने वाला ब्याज किसी भी तरह से जुर्माना या दंड नहीं है।

दैनिक जागरण देहरादून लखनऊ मेरठ के कई पत्रकारों ने की बगावत

खबर है कि मजीठिया वेज बोर्ड को लेकर हस्ताक्षर अभियान चला रहे दैनिक जागरण के खिलाफ देहरादून और लखनऊ में आधा दर्जन से अधिक पत्रकारों ने बगावत कर दी है। संभवतः पहली बार ऐसा हुआ है जब जागरण के दमघोटू माहौल में खबरें बांचने वाले पत्रकारों ने इतनी बड़ी संख्या में अपने ही मैनेजरनुमा संपादकों को आंखे दिखाने का बहादुरीपूर्ण प्रदर्शन किया है। कोरे पेपर और शपथयुक्त पेपर में हस्ताक्षर न करने वाले पत्रकार डेस्क व रिपोर्टिंग दोनों के हैं।

साढ़े तीन दशक में कई नई प्रतिभाएं तराश गए धीरेंद्र अवस्‍थी

कानपुर। पत्रकारिता के एक आयाम का आज सुबह तब अंत हो गया जब इस क्षेत्र में हमेशा ही नई प्रतिभाओं को निखारने और तराशने में तन्मयता से जुटने वाले शिल्पी, दैनिक जागरण समेत देश के कई प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में महत्वपूर्ण पदों पर काम कर चुके, मौजूदा समय में 'खोजी नारद' सांध्य दैनिक के स्थानीय संपादक, देश के वरिष्ठतम पत्रकार धीरेंद्र अवस्थी का असमय निधन हो गया।

पत्रकारों के साथ धोखाधड़ी के आरोपी सतीश जोशी को गिरफ्तार किया जाए

इन्दौर। संवादनगर एक्सटेंशन की सदस्य श्रीमती इंदिरा राठौर ने मांग की है कि संवादनगर में धोखाधड़ी करके पत्रकारों के प्लाट गैर पत्रकारों को बांटने के आरोपी सतीश जोशी को गिरफ्तार किया जाए। उल्लेखनीय है कि सहकारिता विभाग ने अपनी जांच में यह पाया है कि सदस्यों के पास जो रसीदें हैं उन रसीदों के नंबर रिकार्ड में मौजूद रसीदों से मेल नहीं खा रहे हैं, इसका मतलब यह है कि अलग-अलग रसीद कट्टों का इस्तेमाल किया गया।

दिल्‍ली सूचना विभाग में खुलेआम लूट

दिल्ली सरकार के सूचना एवं प्रचार निदेशालय में विज्ञापन एजेंसियों की सूचीबद्धता के नाम पर खुलेआम लूट का खेल जारी है। समाचार पत्रों में छपी खबरों के बाद भ्रष्ट अधिकारी मनी भूषण मल्होत्रा को आखिरकार डीआईपी से जाना पड़ा, जिसके बाद विभाग में अकेली पड़ी निदेशक साहिबा को विभाग के अधिकारियों की सुध आई, जो इस लूट में शामिल न किए जाने से खासे नाराज़ थे। मामला बिगड़ते देख आई.ए.एस. निदेशक रीता कुमार ने अभी तक किनारे किए हुए विभाग के अधिकारियों से भी सलाह-मशविरा करना शुरू कर दिया है। अब इन अधिकारियों की भी बांछे खिल गई है, अभी तक निदेशक को पानी पी-पी कर कोसने वाले यह अधिकारी बड़े गोलमाल की फिराक हैं।

फिर भी यह देश चल रहा है, यह तो चमत्कार ही है न!

यह स्थिति सिर्फ़ कुछ राज्यों, कुछ जगहों पर ही नहीं है. कुछेक अपवाद छोड़ दें, तो जो जहां ताकतवर है, उसी का दबदबा है. नक्सली लोगों का अलग भय है. एक सामान्य आदमी कैसे जीये? वह राज्य सत्ता को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष बड़ा कर देता है. इस मंहगाई में अपना पेट काट कर सरकार चलाने का भारी भरकम खर्च उठाता है, पर उसी आम आदमी का जीवन बंधक है और सरकारें मूकदर्शक. क्या देश की रातनीति में यह सवाल मूल एजेंडा है? क्यों अशासित है देश?

कोटा सलाम करता है इंडिया न्यूज और नवज्योति को

भड़ास4मीडिया से मैं एक सवाल पूछना चाह रहा था, आज मौका मिला। क्या पत्रकारिता राजनेताओं के भरोसे चलती है। मैं अपने बारें में बताता हूं, वैसे तो मैं पत्रकारिता से नहीं जुड़ा हुआ हूं लेकिन इसमें रूचि जरूर रखता हूं, इसलिए मैं अखबार और चैनल को ज्यादा महत्व देता हूं। सवाल करने का मकसद मेरा एक अनुभव है, जो मैंने राजस्थान के टीवी चैनल की खबरों में महसूस किया है। क्योंकि ज्यादातर ईटीवी को राजस्थान में देखा जाता है, लेकिन ये चैनल कौन नेता कहां जा रहा है, क्या कर रहा है, किस अधिकारी का जन्मदिन है, ये सब जानकारी ब्रेक्रिंग की पट्टी में देता है।

हिन्दी-बंगला के दो शीर्ष कवियों ने किया ‘खुशी ठहरती है कितनी देर’ का लोकार्पण

कोलकाताः  अभिज्ञात कविता में गद्य और गद्य में कविता का बेहतरीन प्रयोग करते हैं। एक अच्छे कवि के लिए अच्छा गद्यकार होना ज़रूरी है। यह अतिरिक्त बात है जो उनके काव्य-व्यक्तित्व को अधिक अर्थवान बनाती है और उन्होंने कई विलक्षण कविताएं लिखी हैं। वे कविता में क्रीड़ा-कौतुक के साथ भाषा व भावों के साथ खेलते …

पत्रिका प्रबंधन से परेशान व्यास के पास अब इस्तीफा देने के अलावा कोई चारा नहीं

राजस्थान पत्रिका पत्रिका प्रबंधन ने वरिष्ठ पत्रकार साथियों को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का नया हथकंडा अपना लिया है। यह हथकंडा है प्रबंधन की मनमर्जी से जहां चाहे वहां तबादला, ताकि बेबस पत्रकार खुद ही बाय-बाय कह दे। बेरहम पत्रिका प्रबंधन को न तो अपने पत्रकार कार्मिकों की पारिवारिक मजबूरियों की कोई परवाह है, न ही उनके भविष्य से कोई सरोकार। इसी का खामियाजा राजस्थान पत्रिका जोधपुर संस्करण से जुड़े कई पत्रकार उठा रहे हैं।

अमर उजाला, मुरादाबाद से सेल्‍स हेड एवं एकाउंट हेड का इस्‍तीफा, दोनों हिंदुस्‍तान पहुंचे

: अपोजिशन न्‍यूज से जुड़े तौसीफ : अमर उजाला, मुरादाबाद से खबर है कि सेल्‍स डिपार्टमेंट से जुड़े दो लोगों ने इस्‍तीफा देकर हिंदुस्‍तान का दामन थाम लिया है. दोनों लोगों ने मुरादाबाद में ही अपनी नई पारी शुरू की है. अमर उजाला में सेल्‍स ऑपरेशन हेड के रूप में सेवा दे रहे नरेंद्र सिंह इसी पद पर हिंदुस्‍तान पहुंच गए हैं. वे यहां पर सेल्‍स की पूरी जिम्‍मेदारी देखेंगे. नरेंद्र सिंह पिछले सात सालों से अमर उजाला से जुड़े हुए थे. सेल्‍स एकाउंट हेड अभिषेक गुप्‍ता ने भी अमर उजाला को बाय बोलकर हिंदुस्‍तान का दामन थाम लिया है. उन्‍हें हिंदुस्‍तान में भी सेल्‍स एकाउंट हेड का पद दिया गया है. वे पिछले छह सालों से अमर उजाला को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

दर्डा के अखबार का भाजपा और कांग्रेस से स्ट्रेटजिक प्रेम!

भाजपा के आन्दोलन को समर्थन दे रहा है लोकमत समाचार. कपास को 6000 रुपया का भाव दिलाने की मांग को लेकर भाजपा द्वारा महाराष्ट्र के जलगाँव शहर में शुरू किये गए आन्दोलन को लोकमत समूह के हिंदी अख़बार लोकमत समाचार के जलगाँव संस्करण का खुला समर्थन मिल रहा है. प्रदेश के शिक्षा मंत्री अशोक दर्डा और उनके राज्यसभा सांसद भाई विजय दर्डा के लोकमत ग्रुप के मराठी और हिंदी अखबार में और भाजपा आन्दोलन के कवरेज में कोई समानता नहीं है.

एनई के रवैये से छुब्ध रिपोर्टर ऋषि मिश्र ने छोड़ा दैनिक जागरण, इलाहाबाद

दैनिक जागरण, इलाहाबाद में समाचार संपादक द्वारा उपसंपादक अजहर अंसारी को कार्यमुक्त किये जाने के बाद यहां पर कार्यरत फीचर इंचार्ज ऋषि मिश्र ने भी जागरण को बाय कह दिया है. अजहर के निकलने के मात्र 23 दिनों के बाद की इस घटना को इलाहाबाद दैनिक जागरण के लिए महत्वपूर्ण हानि समझा जा रहा है. दरअसल ऋषि का जागरण छोड़ना भी यहां के समाचार संपादक की आपत्तिजनक कार्यशैली का नतीजा है.

डीएसी की तरफ से मीडिया क्विज नौ दिसंबर को

: DAC- Advtg, Marketing & Media Quiz on 9/12/2011: Delhi Advertising Club (Regd.) is a professional body and Members of this Club are Executives from Advertising Agencies, Advertisers, Print Media, Outdoor Media & Electronic Media. This club is functioning since 1969. Today we have 600 members of this club. As part of our numerous Professional Activities, we are planning to have a DAC- Advertising, Marketing & Media Quiz on 9/12/2011 in Hotel The Connaught, Connaught Place, New Delhi.

शोभना भरतिया, शशि शेखर, अमित चोपड़ा, अकु श्रीवास्तव और विनोद बंधु नामजद अभियुक्त बने

: हिन्दुस्तान का फर्जीवाड़ा :  पुलिस ने एफआईआर लिखकर जांच शुरू कर दी : मुंगेर । देश की जानी-मानी मीडिया मालकिन एचटी व हिंदुस्तान वाली और बिड़ला खानदान वाली शोभना भरतिया के खिलाफ नामजद एफआईआर लिख दी गई है. सिर्फ इन्हीं के खिलाफ नहीं, इनके कंटेंट व बिजनेस के प्रमुखों का नाम भी एफआईआर में है.  मीडिया कोरपोरेट हस्ती और दैनिक हिन्दुस्तान की प्रमुख शोभना भरतिया, प्रकाशक अमित चोपड़ा, प्रधान संपादक शशि शेखर, पटना संस्करण के संपादक अकु श्रीवास्तव और भागलपुर संस्करण के उप-स्थानीय संपादक बिनोद बंधु अब बिहार के मुंगेर के कोतवाली थाना की कांड संख्या -445।2011 के नामजद अभियुक्त बन गए हैं.

बनारस के बाद गोरखपुर में भी जागरण का हस्‍ताक्षर करो अभियान पूरा

वाह रे दैनिक जागरण! कितना फर्क है इस अखबार के कथनी और करनी में. कहने को तो अखबार अपने पन्‍नों पर सरोकार को लेकर लम्‍बी-चौड़ी बातें करता है. अपने सात सरोकार को लेकर अक्‍सर कहीं ना कहीं लम्‍बी चौड़ी भाषण झाड़ता है, जिसमें गरीबी उन्‍मूलन, बराबरी समेत तमाम बातें लिखी रहती हैं. पहल जैसी संस्‍था के बैनर तले तमाम सामाजिक सरोकार के आयोजन करता रहता है, पर हकीकत में यह अखबार और इसका प्रबंधन कितना गिरा हुआ है, इसे मजीठिया वेज बोर्ड की अधिसूचना लागू करने के केंद्र सरकार के फैसले के बाद देखा जा सकता है.

सरकारी विज्ञापनों-नोटिसों के भुगतान में देरी पर काटजू ने लिखा बड़े अफसरों को पत्र

प्रेस काउंसिल आफ इंडिया के अध्यक्ष और जाने-माने न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू के बारे में फिलहाल मीडिया मालिक और कई संपादक लोग यही भ्रम फैलाने में लगे हैं कि ये आदमी मीडिया के खिलाफ है. लेकिन मार्कंडेय काटजू अपनी आलोचनाओं की परवाह किए बिना वही कर रहे हैं, जो उन्हें करना चाहिए. जहां उन्हें लगता है कि आलोचना करनी चाहिए तो वे आलोचना करने से नहीं हिचकते. जहां उन्हें लगता है कि कंधे से कंधा मिलाकर लड़ाई लड़नी चाहिए तो इससे भी पीछे नहीं हट रही.

विक्रम चंद्रा बने एनडीटीवी के एक्‍जीक्‍यूटिव डाइरेक्‍टर

: हिंदुस्‍तान, वाराणसी से असद कमाल लारी का इस्‍तीफा : एनडीटीवी से खबर है कि बोर्ड आफ डायरेक्‍टर्स ने विक्रम चंद्रा को एक्‍जीक्‍यूटिव डाइरेक्‍टर नियुक्‍त किया है. यह नियुक्ति एक नवम्‍बर से लागू की गई है. श्री चंद्रा अगले पांच साल तक इस पद पर बने रहेंगे. बीते अगस्‍त महीने में ही एनडीटीवी प्रबंधन ने विक्रम चंद्रा को प्रमोट करके ग्रुप सीईओ बनाया था. वे एनडीटीवी से सन 1994 से जुड़े हुए हैं. विक्रम चंद्रा की पहचान बिग फाइट कार्यक्रम से बनी. इसके अलावा भी वे एनडीटीवी के लिए कई कार्यक्रमों की एंकरिंग करते रहे हैं.

ओबामा के नाम पर न्‍यूज एंकर ने किया अश्‍लील इशारा

लंदन. एक रूसी न्यूजरीडर ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का नाम लेते समय अभद्र इशारा कर सनसनी मचा दी है। अपनी इस हरकत से जानीमानी पत्रकार तात्याना लिमानोवा ने एक संदेश दिया है। तात्याना रूसी टीवी चैनल रेन टीवी की मशहूर पत्रकार हैं। उन्होंने एशिया पेसिफिक इकॉन्मिक कोऑपरेशन सम्मेलन पर खबर पढ़ते समय जब बराक ओबामा का नाम लिया, तो साथ ही अपनी मिडिल फिंगर दिखाकर अश्लील इशारा भी किया।

पत्रकार बन कर घुसे युवक ने शरद पवार को थप्‍पड़ मारा

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के एनडीएमसी सेंटर में कृषि मंत्री शरद पवार को एक युवक ने चांटा जड़ दिया। ये चांटा पवार के सीधे गाल पर लगा। हमलावर युवक का नाम हरविंदर बताया जाता है। ये वही हरविंदर है जिसने पिछले दिनों पहले पूर्व दूरसंचार मंत्री सुखराम को चांटा मारा था। हरविंदर पत्रकार बनकर कार्यक्रम में घुसा था। दिल्ली के जंतर मंतर के पास एनडीएमसी सेंटर में इफको का कार्यक्रम था। इस कार्यक्रम में शरद पवार अतिथि थे। हरविंदर को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया और उन्हें संसद मार्ग पुलिस थाने ले जाया गया।

जी ग्रुप के सुभाष चंद्रा को मिला इंटरनेशनल एम्‍मी अवार्ड

मुंबई : भारत के सौ अमीरों में शामिल ज़ी समूह और देश के प्रथम हिंदी सैटेलाइट चैनल के संस्थापक एवं चेयरमैन श्री सुभाष चंद्रा को 2011 के इंटरनेशनल एम्‍मी डायरेक्टरेट अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। भारतीय टेलीविजन उद्योग में सहयोग के लिए उन्हें यह पुरस्कार दिया गया। भारतीय मूल की अमेरिकी अदाकारा आर्ची पंजाबी और सिटीग्रुप के अध्यक्ष रिचर्ड पार्सन्ज ने सोमवार रात चंद्रा को इस पुरस्कार से सम्मानित किया।

दैनिक जागरण से इस्‍तीफा देंगे डीएनई बृजेश सिंह

दैनिक जागरण, नोएडा में तैनात डीएनई बृजेश सिंह अब संस्‍थान से अलग होने जा रहे हैं. जागरण के तेजतर्रार पत्रकारों में‍ गिने जाने वाले बृजेश सिंह का जाना जागरण के लिए बड़ा नुकसान माना जा रहा है. वे जागरण में प्रथम पेज की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. उन्‍होंने प्रबंधन को इस्‍तीफे का नोटिस थमा दिया …

वाराणसी में भी हस्‍ताक्षर : आई नेक्‍स्‍ट के पत्रकारों को नहीं चाहिए ज्‍यादा वेतन

: आई नेक्‍स्‍ट, वाराणसी के ग्रोथ पर नाराजगी जताई आलोक सांवल ने :  दैनिक जागरण के बाद इस ग्रुप के बच्चा अखबार आई नेक्स्ट में भी प्रबंधन ने मजीठिया आयोग के मुताबिक वेतनमान ना देने का प्रबंध कर लिया है. आई नेक्स्ट में काम करने वालों से इस सम्बन्ध में एक पेपर पर साइन कराया गया है. बुधवार को वाराणसी में आई नेक्स्ट के मैनेजिंग एडिटर आलोक सांवल की मौजूदगी में अदालती भाषा में लिखे इस पेपर पर सभी के साइन लिए गए.

पी7 न्‍यूज : प्रियंक न्‍यूज एक्‍स गए, राकेश सहारा से आए

पी7 न्‍यूज से खबर है कि क्राइम रिपोर्टर प्रियंक त्रिपाठी ने इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपनी नई पारी न्‍यूज एक्‍स के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां भी क्राइम रिपोर्टर बनाया गया है. प्रियंक काफी समय से पी7 न्‍यूज से जुड़े हुए थे. सहारा से खबर है कि यहां से सीनियर रिपोर्टर राकेश सिंह …

तीन सालों में सरकार ने 201 न्‍यूज चैनलों को दी मंजूरी

नई दिल्ली. देश में इस समय कुल 430 खबरिया चैनल हैं जबकि 201 समाचार चैनलों को मंजूरी मिल चुकी है और 208 समाचार चैनलों के आवेदन पर विचार किया जा रहा है। सूचना और प्रसारण राज्यमंत्नी सी एम जतुआ ने मंगलवार को लोकसभा में एक लिखित सवाल के जवाब में बताया कि इस साल 17 नवंबर तक देश में समाचार एवं समसामयिक विषयों पर आधारित 430 चैनल थे जिनमें दूरदर्शन के 35 चैनल भी शामिल हैं। इसके अलावा सूचना एवं प्रसारण मंत्नालय के दिशा निर्देशों के अनुसार विभिन्न भाषाओं में 415 गैर समाचार चैनलों को मंजूरी दी गई है।

जेम्‍स मर्डोक ने बोर्ड से इस्‍तीफा दिया

मीडिया मुगल रुपर्ट मर्डोक के पुत्र एवं ब्रिटेन में अखबार चलाने वाले जेम्स मर्डोक ने अपनी कंपनियों के बोर्ड से इस्तीफा दे दिया है। ब्रिटेन का सबसे पापुलर टैबलॉयड द सन और टाइम्स अखबार जेम्स मर्डोक के ही हैं। जेम्स मर्डोक के ऊपर फोन हैकिंग का मामला चल रहा है। इस विवाद के चलते ही मर्डोक को 168 साल पुराने अखबार न्‍यूज आफ द वर्ल्‍ड को बंद करना पड़ा था।

गठन से पहले विवाद में ‘पेमा’

जालंधर में टीवी पत्रकारों द्वारा गठित की गयी संस्था 'पंजाब इलेक्ट्रोनिक मीडिया एसोसिएशन' उर्फ 'पेमा' अपने गठन से पहले ही विवाद के घेरे में है. ए2जेड चैनल के रिपोर्टर पवन धूपर ने संस्था के चुनाव की प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए आरोप लगाया है कि संस्था के चुनाव में वह लोग वोट डाल गए जो आधिकारिक रूप से किसी चैनल के प्रतिनिधि नहीं हैं जबकि उनके पास चैनल की रिपोर्टिंग का आधिकारिक लैटर होने के बावजूद उन्हें वोट का अधिकार नहीं दिया गया.

छत्तीसगढ़ के पत्रकार अनिल द्विवेदी को पत्रकारिता सम्मान

छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार अनिल द्विवेदी को इस वर्ष का 'चंदूलाल चंद्राकर पत्रकारिता पुरस्कार' दिया गया है. चार सदस्यीय जूरी ने उनके नाम पर मुहर लगाई और 'राज्योत्सव' के समापन अवसर पर राजधानी रायपुर में पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरलीमनोहर जोशी, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और संस्कृति मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने उन्हें सम्मानस्वरुप राज्य अलंकरण, श्रीफल-शाल तथा पचास हजार रूपए देकर सम्मानित किया.

ऋतु मिश्र समेत कई के इस्तीफे, आईएमसीएल को भोपाल शिफ्ट करने की तैयारी

दैनिक भास्कर, भोपाल के सिटी पुलआउट सिटी भास्कर की प्रभारी ऋतु मिश्र ने इस्तीफा दे दिया है। ऋतु मिश्र इससे पहले पत्रिका इंदौर में थीं, जहां से इस्तीफा देकर भोपाल सिटी भास्कर ज्वाइन किया था। एक अन्य सूचना के मुताबिक दैनिक भास्कर के वेब विभाग आईएमसीएल से लगातार इस्तीफे हो रहे हैं। हाल ही में हिंदी टीम के विनय झा ने इस्तीफा दे दिया है। उनके अलावा नोएडा में बैठने वाली हिंदी टीम से कई सदस्य इस्तीफा देने की तैयारी कर चुके हैं।

एक अधूरी पटकथा के लिये

कल सुबह-सुबह यह मनहूस खबर मिली कि शरीफ भाई एक सड़क दुर्घटना में चल बसे। देर तक उनका चेहरा जेहन में मंद-मंद मुस्कुराता रहा। उन्हें हमेशा इसी तरह मुस्कुराते हुए ही देखा था। बहुत धीमे। शाइस्तगी के साथ। कभी खुलकर ठहाके लगाते भी नहीं देखा। बोलते भी बहुत कम थे-, उतना ही जितनी जरूरत हो। या इससे कम में भी काम चला लेते थे। ‘‘बात बोलगी हम नहीं’ की तर्ज पर उनका काम बोलता था। अभिनय हो, पटकथा लेखन हो, मंच आलोकन हो या निर्देशन, उनके हर काम में परफेक्शन होता था। ये बात और है कि उन्होंने इनमें से किसी भी चीज का औपचारिक प्रशिक्षण प्राप्त नहीं किया था।

दैनिक सांध्य मिड-डे की आगरा से लांचिंग जल्द, कई लोग जुड़े

मध्य प्रदेश, राजस्थान संस्करण के बाद आगरा से नई पारी खेलने जा रहे दैनिक सांध्य मिड-डे ने आगरा में अपने संस्करण की नींव रखी है। इस अखबार के साथ कई लोग जुड़े हैं। कई अखबारों में योगदान दे चुके सौरभ वार्ष्णेय को दैनिक सांध्य मिड-डे आगरा संस्करण का स्थानीय संपादक बनाया गया है। संयुक्त संपादक श्याम अनजान हैं। समाचार संपादक के पद पर पीके गुप्ता की तैनाती की गई है।

ANI opens media school

New Delhi : In view of the growing demand of competent media professionals in the ever-expanding media industry, Asian News International (ANI), India’s only multimedia news agency, has recently opened ANI School of Media Studies in New Delhi. The school has been established with the objective of providing practical training in various streams of media such as print, online, broadcast and photo, apart from technical courses like audio-video editing. The school’s endeavour is to give trained and talented professionals to the industry.

जनता टीवी के साथ यूपी में कई लोग जुड़े

सूचना है कि उत्तर प्रदेश में जनता टीवी के साथ कई लोगों ने नई पारी की शुरुआत की है. जनता टीवी, यूपी के डिप्टी ब्यूरो चीफ संजय पाठक हैं. वे कई चैनलों में काम कर चुके हैं. ब्यूरो स्टाफ में संतोष कुमार, प्रवेश रावत, विक्रम राव तथा कवि तिवारी शामिल हैं. संतोष कुमार इससे पूर्व यूएनआई न्यूज एजेंसी समेत कई चैनलों में रिपोर्टर तथा स्ट्रिंगर के रूप में अपनी सेवाएं दे चुके हैं.  प्रवेश रावत इससे पूर्व महुआ न्यूज़ में बतौर कैमरामैन कार्यरत थे.

सुभाष त्रिपाठी ‘हर शनिवार’ और यतीश ‘द सी न्यूज एक्सप्रेस’ से जुड़े

वरिष्ठ पत्रकार एवं कई वर्षों तक दैनिक हिन्दुस्तान, इटावा के ब्यूरो प्रमुख रहे सुभाष त्रिपाठी राष्ट्रीय पत्रिका हर शनिवार में पहुच गये हैं। नवम्वर माह के ताजा अंक में 'उत्तर प्रदेश चुनाव की दस्तक से यूपी में उबाल', 'सत्ता पाने की छटपटाहट', 'अंधेरे में दौड़ते रथ'… जैसी कई खबरें-विश्लेषण कई चित्रों के साथ प्रमुखता से प्रकाशित हुई है। त्रिपाठी ने पिछले महीने हिन्दुस्तान से इस्तीफा दिया था। वह स्वतंत्र भारत; पायनियर ग्रुप, जनसत्ता व राष्ट्रीय सहारा आदि में कार्य कर चुके हैं।

जागरण के टॉप अधिकारी का तीन दिन का एकांतवास

शिमला  से  थोड़ी  देर  से  ये  खबर  आई  है. कुछ  दिनों  पहले  हिमाचल  प्रदेश  की सरकार  की  तरफ  से विभिन्न अख़बारों  के  एडिटर्स  के  लिए  एक  मीट  रखी  गयी  थी. ये  मीट  तीन  दिन  की  थी  और  इसमें  तमाम  अख़बारों  के  एडिटर्स  शामिल  हुए. खुद  को  नम्बर वन का झूठा सच्चा मनगढंत दावा करने  वाले  अख़बार  के  भी  एक उच्च अधिकारी  इसमें  शामिल  होने  आये  थे.

पूरे दैनिक जागरण में हड़कंप, जबरन कराए जा रहे कर्मियों के हस्ताक्षर

दैनिक जागरण, कानपुर में पत्रकारों का एक शपथपत्र पर जबरन हस्ताक्षर कराने के बाद प्रबंधन यह कुकृत्य अन्य आफिसों में कराने लगा है. पानीपत से होते हुए आंधी नोएडा व अन्य कई सेंटरों तक पहुंच चुकी है. मजेदार यह है कि दूसरों की आवाज जोरशोर से उठाने का दम भरने वाले दैनिक जागरण के पत्रकारों में से कोई भी ऐसा नहीं निकला जिसने प्रबंधन की इस हरकत का खुलेआम विरोध करते हुए इस्तीफा दिया हो.

एनके सिंह और काटजू के बीच आए-गए मेल के संपूर्ण टेक्स्ट

ये है एनके सिंह का काटजू को लिखा गया पहला पत्र : From: N K Singh, To: Markandey Katju, Subject: Media control: Throwing the baby out with the bath water, Date: Saturday, 19 November, 2011, 12:03 PM, I hv tried to present the case against govt regulation of electronic media and the efforts made by the Broadcast Editors' association. If we could get your appreciation for the arguments given in this article, it will be a measure of our success.

फतेह बहादुर और विजय सिंह मुझे जान-बूझ कर परेशान कर रहे : अमिताभ

: हाईकोर्ट में याचिका दायर : खुद के साथ अन्याय के खिलाफ लगातार संघर्ष कर रहे उत्तर प्रदेश के आईपीएस अधिकरी अमिताभ फायर सर्विस के पूर्व डीआईजी डीडी मिश्रा के बाद यूपी के दूसरे ऐसे अधिकारी हो गए हैं जिन्होंने यहाँ के वरिष्ठ अधिकारियों पर प्रताड़ना और व्यक्तिगत विद्वेष का सीधा-सीधा आरोप लगाया गया है. अमिताभ ने यूपी के प्रमुख सचिव (गृह) कुंवर फ़तेह बहादुर, सचिव, मुख्यमंत्री और आईपीएस अधिकारी विजय सिंह जैसे बहुत ही ताकतवर और रसूखदार अधिकारियों पर स्वयं को एक लंबे समय से प्रताड़ित करने के आरोप लगाते हुए एक रिट याचिका इलाहाबाद उच्च न्यायालय के लखनऊ बेंच में दायर की है.

केन्द्रीय इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा

: पूर्व कारागार मंत्री राकेश वर्मा सहित दस अज्ञात भी शामिल : बाराबंकी। नगर कोतवाली पुलिस ने कांग्रेसी नेता शिवशंकर शुक्ला द्वारा की गयी शिकायत के आधार पर केन्द्रीय इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा व उनके पुत्र पूर्व मंत्री राकेश वर्मा सहित दस अज्ञात लोगों के खिलाफ मारपीट व जान से मार डालने की धमकी देने का मुकदमा दर्ज किया है। दर्ज मुकदमे के बाद पुलिस ने अपनी कार्यवाही को आगे बढ़ा दिया है। यह मुकदमा कप्तान बाराबंकी के आदेश के बाद दर्ज हो सका है।

एनके का मेल और काटजू का जवाबी ईमेल

: क्या आप सचमुच आपको नौकरी देने वाले कॉरपोरेटों के बीच स्वतंत्र हैं? : मीडिया पर नियंत्रण के लिए स्वतंत्र निकाय जरूरी : नई दिल्ली। भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष न्यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू ने सोमवार को सवाल करते हुए कि क्या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सचमुच स्वतंत्र है या फिर उन्हें नौकरी देने वाले कॉरपोरेटों के नियंत्रण में है, कहा कि वह समाचार चैनलों पर नियंत्रण के लिए सरकार के नियंत्रण से मुक्त एक स्वतंत्र निकाय का गठन चाहते हैं। 'ब्रॉडकास्ट एसोसिएशन महासचिव' एन के सिंह द्वारा एक लेख में काटजू के खिलाफ टिप्पणी करने के बाद न्यायमूर्ति ने यह प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

मजीठिया न देने का जागरण प्रबंधन का प्रबंध, हस्ताक्षर कराओ अभियान जारी

दैनिक जागरण, कानपुर से खबर है कि यहां के मीडियाकर्मियों को एक कागज पर दस्तखत करने को कहा गया और सबने कर भी दिया. कुछ लोगों ने कहा कि वे पहले पढ़ लेना चाहते हैं फिर साइन करेंगे लेकिन उन्हें भी पढ़ने नहीं दिया गया. अलग अलग लोगों ने सरसरी निगाह से कागज में अंकित अक्षरों को देखा और जोड़ा तो पता चला कि यह मजीठिया न देने का जागरण प्रबंधन का प्रबंध कौशल है. जिस कागज पर साइन कराया गया उस लिखा था कि…

इंडिया टुडे वाले जगदीश उपासने रिटायर

खबर है कि इंडिया टुडे हिंदी के इंचार्ज जगदीश उपासने रिटायर हो गए हैं. लोगों को भरोसा था कि प्रबंधन जगदीश उपासने को एक्सटेंसन दे देगा क्योंकि वे बेहतरीन जर्नलिस्टों में माने जाते हैं पर ऐसा हुआ नहीं. जर्नलिस्ट की कोई उम्र नहीं होती, ऐसा कहा जाता है. इस बात में इंडिया टुडे के मालिक अरुण पुरी भी यकीन करते हैं. लेकिन जगदीश उपासने को 58 साल की उम्र का हवाला देकर रिटायर कर दिया गया.

मीडिया खुद को सत्ता समझने लगा है : पुण्य प्रसून

हरिद्वार । जब कोई मीडिया का बड़ा नाम मीडिया पर ही चोट करे तो समझ लेना चाहिए कि कहीं ना कहीं तो मीडिया में गिरावट आ रही है। मीडिया खासकर टीवी पत्रकारिता के क्षेत्र के दिग्गज पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी का मानना है कि आज के दौर में मीडिया भी खुद को सत्ता समझने लगा है। मीडिया मुनाफे के चक्कर में आम आदमी से दूर होता जा रहा है और अब तो ज्यादातर मीडिया घराने कारपोरेट घरानों की तरह चल रहे हैं। यही वजह है कि देश के आम आदमी से सीधे जुड़े अन्ना के आंदोलन को भी मीडिया ने मुनाफे का जरिया बना लिया। वाजपेयी हरिद्वार में हरिद्वार प्रेस क्लब के 25 साल पूरे होने पर आयोजित रजत जयन्ती समारोह में बोल रहें थे।

सीकेटी की प्रिंटलाइन से भी विदाई, अनुग्रह नारायण सिंह का नाम जुड़ा

बरेली। पिछले डेढ दशक तक एकछत्र राज करने वाले मुख्य महाप्रबंधक चन्द्रकांत त्रिपाठी उर्फ भइया उर्फ पंडित जी उर्फ सीकेटी की मंगलवार को दैनिक जागरण बरेली से पूरी तरह विदाई हो गयी। वैसे तो सीकेटी का बरेली से साम्राज्य सितम्बर में ही खत्म हो गया था, लेकिन जागरण में प्रिंट लाइन सीकेटी की ही जा रही थी। सीकेटी के लोगों का बरेली शहर में प्रचार था कि भइया गोरखपुर जरूर चले गए हैं लेकिन बरेली जागरण में उनका ही दखल रहेगा।

‘यूपी न्यूज’ को चाहिए पेड न्यूज करने वाले पत्रकार!

: लांच होने से पहले ही विवादों में आया चैनल : अंशुमान त्रिपाठ, कुमार सौवीर समेत कई पत्रकारों के इस्तीफा देने के आसार : हरियाणा के गृह मंत्री गोपाल कांडा के नए लांच होने वाले न्यूज चैनल 'यूपी न्यूज' के ग्रह-नक्षत्र गड़बड़ाने लगे हैं. सूचना है कि इस चैनल के प्रबंधन ने अपने रिपोर्टरों से यूपी चुनाव में पैसे बनाने के लिए पार्टी पकड़ने को कहा है. इस डेवलपमेंट से खफा होकर कई लोगों ने इस्तीफा देने की तैयारी कर ली है.

हरे प्रकाश उपाध्याय के उपन्यास ‘बिआह की पढ़ाई’ के कुछ अंश (1)

हरे प्रकाश उपाध्याय देश के जाने-माने युवा कवि, साहित्यकार और पत्रकार हैं. हरे प्रकाश लंबे समय तक कादंबिनी, दिल्ली में कार्यरत रहे. इन दिनों लखनऊ में जनसंदेश टाइम्स अखबार में बतौर फीचर एडिटर कार्यरत हैं. उनके द्वारा लिखित उपन्यास ''बिआह की पढ़ाई'' के कुछ अंश यहां पेश किए जा रहे हैं.

‘प्रेरणा अंशु’ की लघुकथा प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरित

दिनेशपुर। उत्तराखंड राज्य के छोटे से कस्बे दिनेशपुर से प्रकाशित लघु पत्रिका ‘प्रेरणा-अंशु’ द्वारा आयोजित ‘अखिल भारतीय लघु कथा प्रतियोगिता 2011’ का पुरस्कार वितरण समारोह और ‘साहित्य और समाज के लिए सावधिक पत्र-पत्रिकाओं का महत्व’ विषय पर संगोष्ठी यहां माता साहिब कौर गुरुद्वारे में स्थित एमएसके अकैडमी परिसर में आयोजित किया गया। इसमें वक्ताओं ने कहा कि सभ्य, सुसंकृत और संवेदनशील आदमी के निर्माण के लिए साहित्य और लघु पत्र-पत्रिकाएं आवश्यक हैं।

लखनऊ स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट एसोसिएशन के नए पदाधिकारी चयनित

Lucknow : Today Lucknow Sports Journalist Association Election held at Tusli Lawn and the following office bearer are selected : Life President: Aseem mukherjee (Times of India),  Chairman: Santosh suri (Times of India), President: Rajendra Katyayan  (Rashtriya sahara), Sr. Vice President: Sufal Bhattacharya (Hindustan), Vice President: Saboor Ahmad (Times of India), Vice President: Gulshan dwiedi …

”विजन 2020” के एक साल पूरे, ट्रैवल अपडेट की लांचिंग 26 को

देहरादून : ''विज़न 2020'' राष्ट्रीय हिन्दी समाचार पत्रिका ने अपने प्रकाशन का एक वर्ष पूरा कर लिया है। आगामी 26 नवंबर को देहरादून में आयोजित ''विज़न 2020'' पत्रिका की पहली वर्षगांठ कार्यक्रम में सूबे के मुख्यमंत्री मे.ज. (सेवानिवृत्त) भुवन चन्द्र खंडूड़ी बतौर मुख्य अतिथि शामिल होंगे। ''विज़न 2020'' पत्रिका के संपादक एसएस तोमर ने बताया कि इस मौके पर उत्तरप्रदेश तथा उत्तराखण्ड की कई राजनीतिक हस्तियों के साथ-साथ राष्ट्रीय स्तर के कई नामचीन पत्राकार मौजूद रहेंगे।

मार्कंडेय काटजू को सुहेल हाशमी जोक्स के आधार पर सज़ा मिलेगी

जो लोग सत्तर के दशक में दिल्ली में मुनीरका के पास वाली पहाड़ियों में बनी यूनिवर्सिटी में रहे हैं, उन्होंने इमरजेंसी के आतंक को बहुत करीब से देखा है. उनको मालूम है कि हरमीत सिंह नाम का दरोगा जब प्रधानमंत्री के परिवार की किसी सदस्य के साथ आरके पुरम को पार करता था, तो वह क्या क्या कर सकता था.  उन लोगों को मालूम है कि आततायी से पंगा लेना कितना आसान होता है. उन्हें बहुत सारी ऐसी बातें मालूम हैं जो देश की बहुत सारी यूनिवर्सिटियों में रहने वालों को मालूम है.  बस एक बात ऐसी है जो वे लोग जानते हैं जिसे देश की किसी यूनिवर्सिटी के लोग नहीं जानते. सत्तर के दशक की उस पीढी ने सुहेल हाशमी जोक्स का आनंद लिया है जो जेएनयू के सत्तर के कैम्पस को तीन लोक से न्यारा कर देता है.

फिल्म का प्रमोशन हो गया और संपादक भी बन लिए

"जब इमरान हाशमी और तुषार कपूर आई-नेक्स्ट, पटना के आफिस पहुंचे" – खबर पढ़कर चौंक गया। खबर में ऐसा कोई कारण नहीं बताया गया है जिससे लगे कि ये दोनों कलाकार आई नेक्स्ट के बुलावे पर या अपनी ओर से सिर्फ आई-नेक्स्ट पर मेहरबानी दिखाने या तुषार कपूर का जन्म दिन मनाने मुंबई से पटना गए होंगे और शाम की फ्लाइट से फिर वापस भी हो गए। खबर ऐसे लिखी गई है जैसे इमरान हाशमी के साथ तुषार कपूर यूं ही लटक लिए हों।

भास्कर का कारनामा : सोलह मिनट, दस मिनट और पच्चीस सेकेंड

दैनिक भास्कर खुद को भारत का सबसे बड़ा समाचारपत्र समूह बताता है. आज भास्कर के ई-एडिशन पर गौर किया तो तीन अलग-अलग संस्करणों में एक ही समाचार को लेकर भ्रम पैदा हो गया. भास्कर के दिल्ली संस्करण में खबर है कि “महज 16 मिनट में उप्र बांटने का फैसला''. भोपाल संस्करण में इसी समाचार का शीर्षक है, “10 मिनट में पास हुआ उप्र के चार टुकड़े करने का प्रस्ताव”.

अमन व शांति का पैगाम देकर पाकिस्तान से लौटे मुंबई के पत्रकार

मुंबई प्रेस क्लब की ओर से 22 सदस्यों की एक टीम पाकिस्तान के ऐतिहासिक दौरे से सोमवार, 21 नवंबर, 2011 को दोनों देशों के बीच अमन  व शांति का पैगाम देकर मुंबई वापस लौट आई है।  इस दौरान मुंबई के पत्रकारों ने पाकिस्तान के पत्रकारों, राजनीतिज्ञों, समाजसेवकों, शिक्षिविदों, आदि के बीच परस्पर संवाद किए और भारत पाकिस्तान के बीच किस प्रकार अमन व शांति स्थापित हो, किस प्रकार शिक्षा पद्ध्ति में बदलाव लाया जाए, दोनों देशों के बीच उत्पन्न होने वाले भ्रम को कैसे दूर किया जाए और दोनों देशों के बीच वीजा की संख्या बढ़ाकर आवाजाही को सामान्य बनाया जाए, इन सारे मुद्दों पर चर्चा हुई। करांची प्रेस क्लब और मुंबई प्रेस क्लब के बीच वार्ता के दौरान इस बात पर सहमति हुई कि दोनों देशों की मीडिया की भाषा शालीन हो और बढ़ाचढ़ाकर हिंसात्मक रिपोर्ट प्रकाशित न किया जाए।

राकस्टार, हीर और जार्डन उर्फ जंगली जवानी, देसी दारू और गंध

नादान परिंदे घर आ जा..घर आ जा..घर आ जा.. : रॉकस्टार फिल्म देखने के बाद आपका भी दिल कुछ यूं ही गुनगुनाने लगे तो इसे रोकिए मत। गुनगुनाने दीजिएगा बरसों बाद। नादान परिंदे घर आ जा..घर आ जा..घर आ जा..। लेकिन कुछ परिंदे जब एक बार उड़ जाते हैं तो कभी नहीं आते। वे कहीं और अपना बसेरा बना लेते हैं। या कहें कि मजबूरी होती है एक अदद आशियाने की। कभी परिंदे इस लिए उड़ जाते हैं, क्योंकि जिंदगी की जंग में हार जाते हैं।

हरे प्रकाश उपाध्याय के उपन्यास ‘बिआह की पढ़ाई’ के कुछ अंश (2)

: (पार्ट एक से आगे) : ज्वाला सिंह के खेतों की कटनी के लिए हार्वेस्टर आया है. नोनार के रघु मिसिर का है हार्वेस्टर. वे इलाके के सबसे बड़े खेतीहर हैं. दो सौ बीघा के करीब खेत है उनके जिम्मे. उन्होंने समय पर मजूर न मिलने और हर साल उनके मजूरी बढ़ाते जाने से तंग आकर हार्वेस्टर ले लिया है. उनका अपना भी काम आसान हो गया है और वह भाड़ा अलग कमा रहा है. जवार भर में हाथी की तरह रौंदता हुआ घूम रहा है हार्वेस्टर. जवार भर के मजूरों ने उसका नाम राकस रख दिया है. वह राक्षस ही तो है, मजूरों की रोजी को हड़प रहा है. उसने किसान-मजदूरों के आपसी रिश्ते को तहस-नहस करने की ठान ली है. यह तो भला कहो छोटी जोत वालों का कि वे अभी भी हाथों से कटनी करा रहे हैं पर कब तक?

उचित का स्वागत, अनुचित पर प्रहार ही पत्रकारिता का मूल धर्म : प्रो. निशीथ राय

: जनजागरण मीडिया मंच का विमोचन समारोह सम्पन्न : लखनऊ : पत्रकारों के हितार्थ समाजसेवा, साहित्य एवं संस्कृति को समर्पित जनजागरण मीडिया मंच द्वारा राजधानी लखनऊ स्थित इस्लामिया डिग्री कालेज के लाइब्रेरी हाल में आयोजित विमोचन एवं सम्मान समारोह में रेड फाइल पत्रिका के सम्पादक रिजवान चंचल द्वारा सम्पादित ‘जनजागरण मीडिया मंच ‘न्यूज पोर्टल’ का विमोचन डेली न्यूज एक्टिविस्ट अखबार के चेयरमैन प्रो. निशीथ राय द्वारा किया गया। समारोह में विभिन्न प्रदेशों से आये पत्रकारों, साहित्यकारों, समाजसेवियो ने ''सत्ता, साहित्य व मीडिया'' विषयक गोष्ठी पर चर्चा करते हुये पत्रकारिता के क्षेत्र में आयी गिरावट को एक चुनौती बताया तथा मीडिया के वर्तमान स्वरूप पर गंभीर चिंता भी जताई।

शैलेश और डा. ब्रजमोहन की किताब- ”स्मार्ट रिपोर्टर”

'स्मार्ट रिपोर्टर' हिन्दी में लिखी पहली किताब है, जो टीवी रिपोर्टिंग के हर पहलू से आपको रू-ब-रू कराती है। इस किताब में रिपोर्टिंग की बारीकियों पर विस्तार से चर्चा की गई है और खास कर उन विद्यार्थियों के लिए तो ये किताब बहुत ही उपयोगी है, जो पत्रकारिता की पढ़ाई कर रहे हैं और टीवी रिपोर्टिंग को ही करियर बनाना चाहते हैं। इस किताब में उसी भाषा का इस्तेमाल किया गया है,जो आमतौर पर न्यूजरूम में इस्तेमाल होती है।

जब इमरान हाशमी और तुषार कपूर आई-नेक्स्ट, पटना के आफिस पहुंचे

: इमरान हाश्मी बने आई नेक्स्ट के सेलिब्रटी एडिटर : बॉलीवुड एक्टर और अपने किस को लेकर में चर्चा में रहे इमरान हाश्मी रविवार को आई नेक्स्ट के सेलिब्रटी एडिटर बने. रविवार की शाम करीब चार बजे आई नेक्स्ट पटना ऑफिस में पंहुचे. इमरान के साथ dirty फिल्म के एक और एक्टर तुषार कपूर भी थे. इमरान के प्रशंषकों का हुजूम एयरपोर्ट से ही उनके पीछे लग गया था. किदवईपुरी स्थित रश्मि काम्प्लेक्स बिल्डिंग के बाहर युवाओं की भारी भीड़ जामा हो गयी.

जैगम मुर्तजा राज्यसभा टीवी पहुंचे, दीपक डोभाल भी जाएंगे

जैगम मुर्तजा अपनी नयी पारी राज्य सभा टीवी के साथ शुरू कर रहे हैं. फरवरी में हिंदुस्तान टाइम्स को बाय बोलने के बाद से वह दिल्ली में फ्रीलांसिंग कर रहे थे. इस से पहले वह ईटीवी में यूपी डेस्क और न्यूज़ रूम के साथ 6 वर्ष रिपोर्टिंग भी कर चुके हैं. राजनैतिक पत्रकार के रूप में वह ख्याति रखते हैं और विभिन्न राजनीतिक मुद्दों पर उनके लेख प्रकाशित होते रहते हैं. इसके अलावा उन्हें मध्य एशिया मामलो पर भी जानकारी है.

पोर्नस्टार और वेश्या में बहुत फर्क होता है : सनी लियॉन

कलर्स के बहुचर्चित शो बिग बॉस 5 की गिरती टीआरपी को बचाने के लिए शो में एक बहुचर्चित पोर्न स्टार सनी लियॉन को शामिल किया जा रहा है। लेकिन इस नाम को लेकर चारों ओर हल्ला हो रहा है लेकिन लियॉन के बारे में आधे से ज्यादा लोगों को पता ही नहीं। लियॉन को लोग कातिल हसीना कहते हैं क्योंकि उनकी अदाएं वाकई जानलेवा होती है जिसके आगे हर कोई नतमस्तक हो जाता है। मात्र 30 साल की पॉर्न स्टार सनी लियॉन के बचपन का नाम करेन है और वो मूल रूप से मल्होत्रा परिवार से संबधित है।

मीडिया के कामकाज पर कानूनी नियंत्रण चाहते हैं हेगड़े

बेंगलूर : कर्नाटक के पूर्व लोकायुक्त और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायमूर्ति संतोष हेगड़े मीडिया के कामकाज पर कुछ कानूनी नियंत्रण चाहते हैं। उन्होंने इसके पीछे पेड न्यूज जैसे कारणों का उल्लेख करते हुए कहा कि प्रजातंत्र के चौथे खंभे का इस्तेमाल निहित स्वार्थो के लिए किया जा रहा है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश और प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष मार्कंडेय काटजू ने भी मीडिया के कामकाज को कानूनी नियमों के दायरे में लाने की वकालत की थी।

जेएनयू पहुंचा मोरल पुलिसिंग का डंडा

दिल्ली विश्वविद्यालय के दौलतराम कालेज छात्रावास में मोरल पुलिसिंग के तहत छात्रों के मोबाइल व लैपटाप के प्रयोग पर प्रतिबंध मामले पर मचा बवाल अभी शांत भी नहीं हुआ था कि इसका डंडा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) तक पहुंच गया। छात्र-छात्राओं की स्वतंत्रता के लिए विख्यात इस विश्वविद्यालय के एक महिला छात्रावास में छात्राओं के मनचाहे कपड़े पहनने, इंटरनेट कनेक्शन लगवाने, देर रात तक किसी से मिलने-जुलने आदि पर पाबंदी लगा दी गई है।

‘सच का सामना’ करने से मना किया कुमार विश्वास ने

टीम अन्ना के कोर कमेटी सदस्य और कवि डा. कुमार विश्वास को स्टार टीवी और इस चैनल के लिए रियलिटी शो 'सच का सामना' बनाने वाली कंपनी बिग सिनर्जी की तरफ से बुलावा आया है. लेकिन डा कुमार विश्वास ने खुद को इस से अलग रखने का फैसला किया है. स्टार टीवी और बिग सिनर्जी को भेजे अपने मेल में डा कुमार विश्वास ने लिखा है कि टीम अन्ना कोर कमेटी सदस्य होने के नाते वो ऐसा कोई भी फैसला नहीं लेना चाहते जिससे अन्ना जी के आन्दोलन पर कोई अवांछित प्रभाव पड़े.

चिदंबरम वाकई चोर हैं!

: उनकी सहमति से कंपनियों ने अरबों रुपये कमाए : दैनिक जागरण अखबार में आज नीलूरंजन की एक बाइलाइन खबर प्रकाशित हुई है. खबर 2जी स्कैम और चिदंबरम से जुड़ी है. खबर में साफ-साफ बताया गया है कि चिदंबरम गड़बड़-घोटाले को रोक सकते थे. पूरी खबर इस तरह है-

जगजीत की अनमोल यादों की कीमत महज ग्यारह करोड़?

अगर आप ‘कादम्बिनी’ की ओर कभी -कभार भी नहीं झांकते हैं या इसके नियमित पाठक नहीं हैं, तो आपके लिये एक खबर है कि हिंदुस्तान टाइम्स प्रकाशन समूह की इस पत्रिका ने अपना नवंबर अंक जगजीत सिंह की स्मृतियों को समर्पित किया है। इस ‘‘अनफॉरगेटेबल’’ अंक में गुलजार, गुलाम अली, खैयाम, ओमपुरी, हंसराज हंस, तलत अजीज, चंदन दास, निदा फाजली, आबिदा परवीन, पंकज उधास आदि अनेक फिल्म व संगीत से जुड़ी हस्तियों ने जगजीत साहब के बारे में अपनी यादों का साझा किया है।

अपने खासमखास रहे कुशवाहा को नसीहत दी बसपा ने

: बसपा ने कहा- बाबू सिंह कुशवाहा का प्रलाप घटिया, जांच से बचने के लिए अनर्गल आरोपों पर उतरे कुशवाहा, नहीं रके तो उनसे नाराज हो जाएंगे बसपा कार्यकर्ता, मायावती को अब तक नहीं मिला ऐसा कोई भी खत :  लखनऊ : कभी बसपा सुप्रीमो मायावती के दाहिना हाथ रहे बाबूसिंह कुशवाहा से बहुजन समाज पार्टी ने किनारा कर लिया है। मंत्री नसीमुद्दीन सिददीकी, कैबिनेट सचिव शशांक शेखर सिंह और प्रमुख सचिव गृह कुंवर फतेह बहादुर से अपनी जान का खतरा बताने वाले बाबूसिंह कुशवाहा के आरोपों को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष  स्वामी प्रसाद मौर्य घटिया बताया है और कहा है कि अपने खिलाफ जांच और मुकदमों से बचने के लिए अब कुशवाहा बेहूदा आरोप लगा रहे हैं।

रवीन ठुकराल आज समाज छोड़कर जाएंगे दी ट्रिब्यून!

चर्चा है कि रवीन ठुकराल आज समाज अखबार और इंडिया न्यूज चैनल को अलविदा कहकर नई पारी दी ट्रिब्यून के साथ शुरू करेंगे. सूत्रों के मुताबिक रवीन ठुकराल दी ट्रिब्यून में सीनियर एसोसिएट एडिटर के तौर पर ज्वाइन करेंगे. वे एडिटर इन चीफ राज चेंगप्पा के बाद दूसरे नंबर पर होंगे. हाल फिलहाल निधीश त्यागी ने दी ट्रिब्यून से इस्तीफा देकर दैनिक भास्कर की वेबसाइट को ज्वाइन किया.

अजीज बर्नी की हो गई विदाई, असद रजा व हसन कमाल देख रहे काम

सहारा मीडिया के उर्दू अखबार और उर्दू मैग्जीन से अजीज बर्नी के हटाए जाने की खबर पक्की निकली. सूत्रों के मुताबिक उन्हें सहारा से तो बाहर अभी नहीं किया गया है लेकिन जो हालात उनके लिए पैदा कर दिए गए हैं उनमें बर्नी का बहुत दिन तक टिके रह पाना संभव नहीं है. सूत्रों के मुताबिक खुद को उर्दू अखबार व मैग्जीन से हटाए जाने की भनक मिलते ही अजीज बर्नी ने दैनिक जागरण के संपादक संजय गुप्ता से इंकलाब उर्दू दैनिक के प्रधान संपादक पद के लिए संपर्क साधा. पर दैनिक जागरण वालों ने बर्नी को मना कर दिया.

सीएम के ओएसडी की टिप्पणी पर पत्रकारों को नहीं, कुत्तों को खफा होना चाहिए

पत्रकारिता और पत्रकारों को लेकर लगभग आम लोगों में उसी तरह की धारणा विकसित हो रही है जिस तरह से नेताओं के बारे में। हाल ही में प्रेस कौंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष जस्टिस काटजू ने कहा कि पत्रकारिता में पढ़े लिखे लोग नहीं हैं। इधर उत्तराखंड में एक पत्रिका के हवाले से बताया गया कि मुख्यमंत्री के ओएसडी जेपी ममगांई ने उस पत्रिका के पत्रकार को संबोधित करते हुए कहा कि पत्रकार तो कुत्ते होते हैं।

भंवरी सेक्‍स सीडी कांड में फंसा मदेरणा अस्पताल से भागा

जोधपुर से खबर है कि भंवरी देवी कांड के मुख्‍य आरोपी और राजस्थान के पूर्व मंत्री मदेरणा बिना डिस्चार्ज हुए ही अस्पताल से भाग निकले हैं. बताया जा रहा है कि वे चुपचाप अपने घर चले गए. वह व्हील चेयर पर आईसीयू से निकले और मेडीसिन ओपीडी के आगे आकर खड़ी हुई एक सफारी गाड़ी में बैठकर घर चले गए. इस पूरी प्रक्रिया में एक मिनट से भी कम समय लगा. मदेरणा को मीडिया से बचाने के लिए उनके समर्थक घेरे रहे, इस दौरान पुलिस सुरक्षा भी तगड़ी रही.

कोर्ट के नए आदेश से सीबीआई के फंदे में मायावती के बाद मुलायम भी फंसे

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले छवि सुधारने में जुटी मुख्यमंत्री मायावती मुश्किल में पड़ गई हैं। दो सीएमओ और एक डिप्टी सीएमओ की हत्या के बाद संकट में रही सरकार पर अब नेशनल रूरल हेल्थ मिशन (एनआरएचएम) में हुए करोड़ों के घोटाले ने संकट खड़ा कर दिया है। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने अब पूरे प्रदेश में हुए घोटाले की जांच के आदेश सीबीआई को दिए हैं। यह जांच 2005 से लेकर 15 नवंबर 2011 तक की जाएगी। इन आदेशों ने अब तय कर दिया है कि इस घेरे में सिर्फ तीन मंत्री ही नहीं बल्कि खुद मुख्यमंत्री का कार्यकाल भी होगा। इसके साथ ही जांच के घेरे में मुलायम सरकार का एक मंत्री भी होगा।

पांच साल की सजा पाए भ्रष्टाचारी सुखराम के कोर्ट से निकलते ही हुआ हमला

नई दिल्ली से खबर है कि पूर्व संचार मंत्री सुखराम को भ्रष्टाचार के मामले में पांच साल की सजा हो गई है. वे सजा सुनकर बाहर निकल रहे थे कि तभी कोर्ट परिसर में एक युवक ने हमले की कोशिश की. युवक को मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने हिरासत में ले लिया. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है.  उधर, सजा सुनने के बाद सुखराम ने कहा कि कांग्रेस सबसे बड़ी भ्रष्टाचारी पार्टी है. 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले पर भी फैसला जल्द होना चाहिए और इसके लिए दोषी चिदंबरम को भी जेल जाना चाहिए.

माया के करीबी रहे बाबूलाल कुशवाहा को माया के करीबियों से ही जान का खतरा

लखनऊ। एनआरएचएम घोटाले की सीबीआई जांच शुरू होते ही मायावती सरकार के पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा ने अपनी जान को खतरा बताकर सनसनी फैला दी है। बाबू सिंह को सीएमओ मर्डर कांड और एनआरएचएम घोटाले के बाद अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था। यूपी के पूर्व परिवार कल्याण मंत्री बाबू सिंह ने जिन लोगों से खुद की जान को खतरा बताया है उनमें नसीमुद्दीन सिद्दीकी, कैबिनेट सचिव शशांक शेखर सिंह और प्रमुख सचिव (होम) कुंवर फतेह बहादुर शामिल हैं। बाबू सिंह ने मुख्यमंत्री मायावती को पत्र लिखकर कहा है कि ये लोग उनसे जलते हैं और उनसे बदला लेना चाहते हैं।

अमर उजाला को मुरादाबाद में भी झटका, पांच गए

बरेली में पांच पत्रकारों के इस्तीफे से अमर उजाला अभी उबरा भी नहीं था कि मुरादाबाद से भी पांच पत्रकारों द्वारा अमर उजाला को गुडबाय कहने की सूचना मिली है. ये सभी पांच हिंदुस्तान अखबार के मुरादाबाद में नए लांच होने वाले एडिशन के हिस्से बन गए हैं. सभी पांच अमर उजाला में रिपोर्टिंग टीम में शामिल थे. अमर उजाला की रिपोर्टिंग टीम से पांच लोगों के हटने के बाद अब केवल चार लोग ही बच गए हैं. मतलब आधी से ज्यादा रिपोर्टिंग टीम को हिंदुस्तान ने अपने पाले में कर लिया है.

रोहिताश महेरा द सी एक्सप्रेस और अरुण कुमार दैनिक जागरण पहुंचे

रोहिताश महेरा ने द सी एक्सप्रेस, आगरा में डिप्टी मैनेजर सेल्स के पद पर ज्वाइन किया है. वे इससे पहले डीएलए, आगरा में असिस्टेंट मैनेजर सेल्स के पद पर थे. रोहिताश अमर उजाला, आगरा के साथ भी काम कर चुके हैं. द सी एक्सप्रेस का प्रकाशन जल्द ही आगरा से किया जाने वाला है.

अखबार संचालक अखबार की आत्मा को न मरने दें

वाराणसी। संपादकाचार्य बाबूराव विष्णु पराड़कर अपने क्षेत्र के गांधी थे। वह समाचारों की शुचिता के पक्षधर थे। तब बाजारवाद का इतना विस्तार नहीं था। लेकिन आज बाजारवाद का इतना विस्तार इतना हो गया है कि उससे सामाजिक दायित्व नदारद है। उद्देश्य और बाजारवाद में सामंजस्य होना जरूरी है काशी पत्रकार संघ के तत्वावधान में पराड़कर जी की 128वीं जयन्ती के अवसर पर पराड़कर स्मृति भवन में आयोजित ‘‘पराड़कर जी बनाम बाजारवाद“ विषयक संगोष्ठी में प्रबुद्ध वक्ताओं ने उपरोक्त विचार व्यक्त किये।

बड़े अखबार के रिपोर्टरों का छोटा ज्ञान और पत्रकार दीर्घा में बैठने पर महामंत्री को लताड़

: यार भाईसाहब, खबर का इंट्रो क्या बनाएं? : जनचेतना यात्रा लेकर निकले भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी की अजमेर यात्रा के दौरान पत्रकारों के सामान्य ज्ञान की परीक्षा हो गई। यहां पटेल मैदान में रात करीब साढे़ नौ बजे आडवाणी का भाषण शुरू हुआ। उन्हें कवर कर रहे स्थानीय पत्रकार बड़ी तल्लीनता से सुन रहे थे और अपनी नोट बुक में दर्ज भी कर रहे थे। दस बजने से कुछ मिनट पहले भाषण खत्म हो गया। सभा विसर्जित होने लगी।

कंजूस प्रकाशक-संपादक के चालीस लाख चुरा ले गए नौकर

: नौकर चुरा ले गए संपादक जी के घर का माल : जो करना चाहिए था, वो तो उन्होंने किया नहीं और जो नहीं करना चाहिए था, वो कर बैठे। मामला राजस्थान के एक पुराने दैनिक अखबार के संपादक-प्रकाशक का है। पिछले दिनों उनके घर में चोरी हो गई। चोरी भी कोई छोटी-मोटी नहीं बल्कि लाखों में। चर्चा के मुताबिक 35-40 लाख रुपए की। चोर भी अनजान नहीं थे। घर के नौकर ही थे। इन विश्वासपात्रों ने घर की हर तिजोरी-आलमारी-संदूक की डुप्लीकेट चाबियां बनवाई और सामान निकालकर चलते बने।

भास्करवाले रमेश चंद्र अग्रवाल हाजिर हों!

पटियाला की एक अदालत ने डीबी कार्प वाले दैनिक भास्कर के चेयरमैन रमेश चंद्र अग्रवाल के नाम एक नोटिस प्रकाशित कराया है. अंग्रेजी दैनिक दी ट्रिब्यून में प्रकाशित इस नोटिस में अदालत ने दैनिक भास्कर के रमेश चंद्र अग्रवाल और गौरव शर्मा का नाम-पता देते हुए इनसे कहा है कि ये लोग 21 नवंबर को अदालत में खुद या अपने वकील के माध्यम से मौजूद रहें अन्यथा वारंट जारी कर दिया जाएगा. ये लोग अभी तक जो सम्मान जा रहे हैं, उसे इगनोर कर रहे हैं.

सीएम का संपादकों को संदेश- तारीफ में खबर छापिए, हम उसे फुल पेज विज्ञापन मानेंगे!

: बिहार में पत्रकारिता का सच – खबर को विज्ञापन के रूप में लिखने की मजबूरी : पत्रकार यानी पत्र करने वाला। पत्र करने का मतलब लिखने वाला। वह इंसान जो समाज में घटित होने वाली घटनाओं को लिखता है और फ़िर उसे समाज के सुपुर्द कर देता है। हालांकि यह काम वह अकेले नहीं करता है। इसके लिये अनेक लोगों और मशीनों की आवश्यकता होती है। एक घटना के खबर बनने की यात्रा बड़ी लंबी है। इस लंबी यात्रा के अत्यंत ही महत्वपूर्ण पड़ावों में एक महत्वपूर्ण पड़ाव वह है जब कोई खबर पत्रकार द्वारा लिखे जाने के बाद डेस्क पर पहुंचता है।

बंपर सेलरी इनक्रीमेंट देकर सहारा प्रबंधन ने की अपनी ब्रांडिंग

आज कई अखबारों में सहारा की तरफ से विज्ञापन प्रकाशित करवाया गया है. इस विज्ञापन में सहारा प्रबंधन ने अपने स्टाफ को साठ फीसदी सेलरी इनक्रीमेंट दिए जाने की घोषण की है. कहा गया है कि इस इनक्रीमेंट के बाद सहाराकर्मियों की सेलरी केंद्रीय कर्मचारियों के स्तर की हो गई है. विज्ञापन में दावा है कि पिछले तीन साल में तीन बार इनक्रीमेंट लगा और इसके जरिए वेतन वृद्धि सौ फीसदी को पार कर गई है.

गैंगस्टर प्रकरण में थानेदार है जिम्मेदार, अंधेरे में रखा एसएसपी को!

: चल रही है दुबारा जांच : दोषी थानेदार पर कार्रवाई संभव : चचेरे भाई का नाम गैंगस्टर से हटना संभव : यशवंत जी, आपके चचेरे भाई रविकांत सिंह पर गैंगस्टर लगाए जाने वाले प्रकरण से मैं पूरी तरह परिचित हूं. मैं आपके गाजीपुर जिले का एक पत्रकार हूं. अपना नाम यहां नहीं देना चाहता इसलिए अनुरोध है कि मेल आईडी आदि का प्रकाशन नहीं करेंगे. बताना चाहूंगा कि गैंगस्टर लगाने की जो प्रक्रिया होती है उसमे सबसे बड़ा रोल थानेदार का होता है.

धमका रही है पत्नी- झुको वरना सबको दहेज में अंदर करा दूंगी!

यशवंत जी, मेरा नाम प्रकाश चंद कुकरेती है. मैं उत्तराखंड का मूल निवासी हूँ. मैं देल्ही मैं नौकरी करता हूँ. मैं देल्ही मैं  गोविंदपुरी कालकाजी में रहता हूँ  है. व  मेरा फोन नंबर +91- 9818851861 है. मेरी शादी मैं कुमारी मीना निवासी पानीपत के साथ सन 2007 में हुई थी. शादी के कुछ समय बाद सन 2008 में मैं अपनी पत्नी को देल्ही लेकर आ गया. मगर बहुत जल्दी लड़की की अनैतिक मांगों के कारण हमारे बीच तनाव रहने लगा. जब मैंने लड़की की अनैतिक मांगों से समझौता करने से इंकार कर दिया तो लड़की मार-पीट का आरोप लगाकर अपने माँ के साथ पानीपत चली गयी.

टीआरपी के दुष्चक्र में फंसा बुद्धू बक्सा

 लोकतंत्र के चौथे स्तंभ प्रेस की भूमिका, कार्यशैली और व्यवहार में तीव्र गति से परिवर्तन आ रहा है। एक ओर जहां जन अपेक्षाओं का बोझ है तो वहीं दूसरी ओर बाजार में टिके रहने की जद्दोजहद और पेशागत मजबूरियां भी हैं। बाजारीकरण, उदारीकरण ने जहां पत्रकारिता के स्वरूप और आत्मा को हिलाया-डुलाया और बदला है तो वहीं टीआरपी के मीटर ने ख़बरची चैनलों को खिचड़ी कार्यक्रम पेश करने को विवश किया है।

कल्पनाथ राय के दामाद बना रहे हैं ‘दास कैपिटल’ नाम से फिल्म

मुंबई से उड़ती-उड़ती खबर आ रही है कि काफी दिनों बाद दास कैपिटल नाम से एक दमदार हिंदी फिल्म बन रही है। इस फिल्म का निर्माण दिग्गज कांग्रेसी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वर्गीय कल्पनाथ राय के दामाद मुक्तिनाथ उपाध्याय जी कर रहे हैं। बॉलीवुड के जानकारों के मुताबिक फिल्म मानव जीवन के यथार्थ पर आधारित है। इसमें मावन उत्पीड़न को ब्यंगातमक तरीके से पेश करने की कोशिश की गई है। फिल्म में मनोरंजन का भी भरपूर मशाला है।

अरुण शौरी और दिलीप पडगांवकर के खिलाफ विनोद मेहता की भड़ास

हाल ही में आउटलुक के संपादक विनोद मेहता की जीवनी प्रकाशित हुई है जिसमें उन्होंने कुछ नामचीन पत्रकारों को उनके काम के लिए आड़े हाथ लिया है। मेहता की जीवनी का नाम है-लखनऊ ब्वाय। मेहता ने दो बार शादी की लेकिन उनका कोई बच्चा नहीं है। मेहता ने स्वीकार किया है कि जब वे उम्र के दूसरे दशक में थे तो एक स्विस लड़की से उनका संबंध था और इस संबंध से एक बच्चा भी पैदा हुआ था। उस जमाने में वे किसी अखबार में कॉपी राईटर थे। उन्होंने एक कॉलगर्ल के ब्वॉयफ्रेंड होने का भी नाटक किया था क्योंकि उसे अपने बहन की शादी करनी थी। इसके एवज में उन्हें 500 रुपये मिले थे! अपनी आत्मकथा में मेहता ने भारतीय पत्रकारिता के दो दिग्गज अरुण शौरी और दिलीप पडगांवकर पर तीखे कटाक्ष किए हैं। मेहता ने दोनों के दिखावटी चरित्र और दोहरी मानसिकता की आलोचना की है।

चैनल मालिकों-संपादकों की बातों को गंभीरता से न लें काटजू

: क्या इलेक्ट्रानिक मीडिया में "पूअर इंटेलेक्चुअल लेवल" के पत्रकार नहीं हैं? : हमें गर्व है कि हम उसी देश में रहते हैं जहां जस्टिस मार्कंडेय काटजू रहते हैं. 17 नवम्बर के दिन प्रेस काउन्सिल की बैठक में जिस तरह से कुछ अखबारों के मालिकों ने उनका बहिष्कार करने की कोशिश की, हम अपने आप को उससे पूरी तरह से अलग करते हैं. मार्कंडेय काटजू ने पिछले दिनों कुछ टीवी पत्रकारों को कम बौद्धिक स्तर का व्यक्ति बताकर टीवी पत्रकारिता के मठाधीशों को नाराज़ कर दिया था. उन्होंने इस बात पर भी एतराज़ किया था कि ज़्यादातर टीवी चैनल गैरज़िम्मेदार तरीकों से खबर का प्रसारण करते हैं.

अजीज बर्नी और रवीन ठुकराल के इस्तीफे की चर्चा

दो कानाफूसियां जोरो पर हैं. अजीज बर्नी जो सहारा मीडिया में उर्दू अखबार और मैग्जीन के हेड हैं, को उनके इस काम से बेदखल किए जाने की सूचना है. कुछ लोगों का कहना है कि उन्हें किसी कम महत्वपूर्ण काम में लगा दिया गया है तो कुछ कहते हैं कि उन्हें हटाने का फरमान जारी कर दिया गया है. कुछ का कहना है कि वे सहारा प्रबंधन के फैसले से आजिज आकर इस्तीफा दे चुके हैं. जितने मुंह उतनी बातें हैं पर सच्चाई क्या है, यह कनफर्म नहीं हो पा रहा है. सहारा मीडिया से जुड़े लोगों का कहना है कि अजीज बर्नी न तो निकाले गए हैं और न ही उन्होंने इस्तीफा दिया है. उनसे उर्दू अखबार और मैग्जीन का काम छीन लिया गया है और उनका तबादला ऐसी जगह कर दिया गया है जहां कोई काम नहीं है यानि पनिशमेंट पोस्टिंग की गई है.

गंभीर रूप से घायल पत्रकार को मदद की दरकार

भोपाल के वरिष्ठ पत्रकार अरुण बंछोर पिछले दिनों एक सड़क हादसे में  गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. यह दुर्घटना उस वक़्त घटी  जब वे विजय मार्केट, बरखेडा से अपने घर जा रहे थे. तभी  एक अनियंत्रित गति से जा रही  कार ने टक्कर मार दी, जिसमें उनके कंधे पर घातक चोटें आई हैं. घटना के बाद कार चालक भाग गया है, जिसके कारण उन्हें दुर्घटना बीमा नहीं मिल पा रहा है.

ऐश्वर्या को बेटी होने की ब्रेकिंग न्यूज कई घंटे दिखाता रहा यह न्यूज चैनल

सुनने में आया है कि मुंबई बेस्ड चैनल टीवी9 ने ऐश्वर्या को बेटी होने की खबर को करीब डेढ़ दो घंटे तक चलाया. इस घटना को दस बीस मिनट में निपटाने के टीवी संपादकों के फैसले का टीवी9 पर कोई असर होता नहीं दिखा. ऐश्वर्या को बेटी होने की सूचना को इसने ऐसे ब्रेक किया, फ्लैश किया, प्रसारित किया जैसे भारत पर परमाणु बम गिरा दिया गया हो. ऐश्वर्या को बेटी होने के बाद बच्चन परिवार की हर गतिविधि को इस चैनल ने लगातार दिखाया. यहां तक कि अमिताभ ने ट्वीट किया, इसे भी प्रसारित किया.

सहारा मीडिया वालों की लाटरी लग गई, साठ फीसदी इनक्रीमेंट

आज राष्ट्रीय सहारा अखबार में सहारा प्रबंधन की तरफ से एक विज्ञापन छपने जा रहा है. इसमें बताया गया है कि सहारा मीडिया के सभी कर्मियों के वेतन में साठ फीसदी की बढ़ोतरी कर दी गई है. इसमें यह भी दावा किया जा रहा है कि सहारा प्रबंधन ने मंदी के बावजूद किसी की नहीं छंटनी की. सेलरी इनक्रीमेंट के बारे में कहा गया है कि इस बढ़ोत्तरी के बाद सहारा कर्मियों की तनख्वाह सरकारी कर्मियों जितनी हो जाएगी. जो जिस ग्रेड पद पर है उसी अनुरूप उसके वेतन में साठ फीसदी वृद्धि की गई है.

उत्तराखंड : फ्री के सरकारी काम के लिए पैसा वसूल कर लाखों रुपये आपस में बांट लिए

: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को भ्रष्टाचार से पीड़ित एक विभाग का इलाज करने के लिए किसान नेता ने लिखा पत्र : प्रति, श्रीमान मुख्यमंत्री महोदय, (मंत्री-सुराज, भ्रष्टाचार उन्मूलन और जनसेवा मंत्रालय), उत्तराखंड शासन, देहरादून.  महोदय, उत्तराखंड सरकार लगातार ये घोषणा करती रही है कि उत्तराखंड प्रदेश को ‘हर्बल स्टेट’ यानि जड़ी-बूटी प्रदेश बनाना सरकार के प्राथमिकताओं में है. इस तरह भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने को भी आपकी सरकार ने अपनी प्राथमिकता बताया है. परन्तु जड़ी-बूटी के क्षेत्र में जो सब कुछ चल रहा है, उससे तो इसमें संदेह है कि प्रदेश-हर्बल स्टेट बन पायेगा और शासन भ्रष्टाचार मुक्त हो, इस प्रयास पर भी पलीता लग रहा है.

खूब काम कराया और बीमार हो गया तो नौकरी से निकाल दिया

: आज समाज में पत्रकारों का जमकर हो रहा है शोषण : आज समाज अखबार, अंबाला में कार्यरत हरेंद्र प्रताप सिंह को इसलिए नौकरी से निकाल दिया गया क्योंकि वो लंबी बीमारी के कारण काफी समय बाद काम पर लौटे. हरेंद्र ने मेडिकल सर्टिफिकेट भी दिए थे लेकिन प्रबंधन ने उनकी एक न सुनी और बाहर जाने का फरमान सुना दिया. हरेंद्र सब एडिटर के पद पर कार्यरत थे. उन्हें न्यूज एडिटर आशुतोष ने हटाया है, ऐसा लोगों का कहना है.

इनपुट एडिटर डबास और एंकर दीपकमल ने हरियाणा न्यूज को टाटा कहा

रोहतक : 'हरियाणा न्यूज' चैनल के इनपुट एडिटर प्रदीप डबास ने संस्थान को टाटा कह दिया है। वे पिछले साढ़े छह साल से भी ज्यादा समय से इस चैनल से जुड़े हुए थे। उन्होंने दिसम्बर माह से लांच हो रहे चैनल 'खबरें अभी तक' में ज्वाइन किया है। वहीं, चैनल के एंकर और दिल्ली के विशेष संवाददाता दीपकमल सहारण ने भी इस संस्थान को अलविदा कह दिया है। वे सात साल से ज्यादा समय से हरियाणा न्यूज में कार्यरत थे।

‘महुआ न्यूज’ चैनल का नाम बदलकर ‘न्यूजलाइन’ हो जाएगा

एक अपुष्ट खबर है. महुआ न्यूज का नाम बदलने वाला है. नया नाम होगा न्यूजलाइन. महुआ चैनल सिर्फ इंटरटेनमेंट चैनल के रूप में रहेगा और न्यूजलाइन न्यूज चैनल के रूप में इस्टैबलिश किया जाएगा. संभवतः यूपी के चुनाव में भी महुआ वाले न्यूजलाइन के नाम से ही काम करेंगे. सूत्रों के मुताबिक इस संबंध में औपचारिकता अपने अंतिम चरण में है. बताया जा रहा है कि प्रबंधन को यह समझाया गया है कि महुआ न्यूज के नाम से नेशनल चैनल शुरू इस्टैबलिश कर पाना कठिन है क्योंकि इस नाम के जरिए भोजपुरी इलाकों तक ही विस्तार किया जा सकता है.

एडीजी के पद पर हैं और खुलेआम झूठ बोलते हैं

: जिस प्रदेश में एडीजी रैंक का अफसर झूठ बोले, उस प्रदेश का भगवान ही मालिक : मैं आप लोगों के सामने दो ऐसे प्रकरण रख रही हूँ जिससे पता चलेगा कि एडीजी स्तर के एक अधिकारी अकारण खुलेआम झूठ बोल रहे हैं, वह भी मामूली सी बात में, बिलावजह. ये अधिकारी हैं सुबेश कुमार सिंह, जो इस समय उत्तर प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (क़ानून और व्यवस्था) हैं और इसके साथ प्रथम अपीलीय अधिकारी, पुलिस महानिदेशक कार्यालय, उत्तर प्रदेश भी हैं.

विधानसभा चुनावों के लिए भाकपा, माकपा और भाकपा (माले) में गठजोड़

हल्द्वानी : भाकपा, माकपा और भाकपा(माले) साझा कार्यनीति के साथ एकताबद्ध रूप से आगामी विधानसभा चुनाव लड़ेंगी। माकपा के राज्य सचिव का. विजय रावत, भाकपा के राष्ट्रीय परिषद के सदस्य का. समर भण्डारी व भाकपा(माले) के उत्तराखण्ड प्रभारी का. राजा बहुगुणा ने एक संयुक्त बयान में यह बात कही। भाकपा(माले) राज्य कार्यालय में हुई बैठक के बाद तीनों नेताओं ने कहा कि,‘‘उत्तराखण्ड में भाजपा-कांग्रेस के खिलाफ कोई भी कारगर विकल्प बिना वामपंथी पार्टियों के नहीं बन सकता है। बिना वामपंथी दलों को केन्द्र में लिये बना कोई भी मोर्चा लम्बे समय तक नहीं टिक पायेगा।‘‘

हिंदुस्तान अखबार में भी निर्दोष युवक पर गैंगस्टर लगाने की खबर प्रकाशित

यूपी के गाजीपुर जिले के पुलिस अधीक्षक डा. मनोज कुमार की मनमानी के खिलाफ हर ओर से आवाज उठनी शुरू हो गई है. लखनऊ से लेकर गाजीपुर की मीडिया और वेब से लेकर प्रिंट-टीवी तक में यह मुद्दा उठने-गरमाने लगा है. अगले चरण में इस मुद्दे को राजनीतिक दलों तक ले जाया जाएगा. निर्दोष युवकों पर गैंगस्टर लगाने के घृणित कारनामों को अंजाम देने वाला आईपीएस डा. मनोज कुमार अपनी गल्ती सुधारने की बजाय इस बात से खफा और दुखी दिख रहा है कि उसके खिलाफ खबरें मीडिया में क्यों प्रकाशित हो रही है.

“Khabar Bharti” Hindi News Channel launched by Sai Prakash Group

: Laced in local flavour for various states the Channel aims to offer news with unparalleled passion, accuracy and speed : New Delhi, November 18th, 2011: Sai Prakash Group, an eminent and diversified business group from Madhya Pradesh with businesses running across telecommunications, organic farming and financial services, and more, more today entered into the media industry with the launch of its News Network – “Khabar Bharti”.

बोलो संजय गुप्ता के अखबार की जय, पढ़िए ये खबर…

काटजू ने यही तो कहा था कि मीडिया में ज्यादातर कम बुद्धिमान लोग भरे हुए हैं. क्या गलत कहा था. काटजू का कथन सौ फीसदी सही है. बिलकुल यथार्थ है.  यकीन न हो तो एक सुबूत कम से कम यहीं पर ले लीजिए. दैनिक जागरण में प्रकाशित हुई ये खबर कम दिमाग पत्रकारों की बेवकूफी का जीता-जागता नमूना है. सिर्फ लिखने वाले की गलती से यह खबर नहीं प्रकाशित हुई है. इसे चेक करने वाले, पेज पर लगाने वाले, पेज को ओके करने वाले समेत कई महानुभावों ने इस खबर को सच मानकर प्रकाशित किया है.

गाजीपुर पुलिस पर नागपुर में भी थू-थू

गाजीपुर जिले में निर्दोष युवक रविकांत सिंह पर पुलिस द्वारा फर्जी तरीके से गैंगस्टर लगाए जाने की खबर अब उत्तर प्रदेश के बाहर भी चर्चा का विषय है. नागपुर से प्रकाशित हिंदी दैनिक 1857 में रविकांत सिंह प्रकरण को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है. इस अखबार के प्रधान संपादक एसएन विनोद हैं. एसएन विनोद हमेशा से जनता के मुद्दों को प्रमुखता से उठाते रहे हैं और शासन-सरकारों के अत्याचार, साजिशों आदि का खुलासा करते रहे हैं.

संजय गुप्ता पहले अपने पाप धोएं फिर काटजू की ओर उंगली उठाएं

आज अखबारों में छपी एक खबर पर आपकी निगाह गई होगी. नयी दिल्ली डेटलाइन से इस खबर में कहा गया है कि भारतीय प्रेस परिषद की कल हुई बैठक हंगामेदार रही जिसमें सदस्यों ने इसके अध्यक्ष न्यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू के पत्रकारों के संबंध में दिये गये बयान पर कड़ी आपत्ति प्रकट की और काटजू ने बयान वापस लेने से इनकार कर दिया जिसके बाद चार प्रकाशक सदस्य बैठक छोडकर बाहर चले गये.

महुआ न्यूज के साथ दूसरे चैनलों के दर्जनों पत्रकार जुड़े

: यूपी-उत्तराखंड के लिए बनाई यूथ ब्रिगेड, ड्राई रन शुरू :  महुआ न्यूज के लिए खुशखबरियों का दौर एक बार फिर शुरू हो गया है। इस हफ्ते महुआ न्यूज बिहार में एक बार फिर से नम्बर वन हो गया है। यही नहीं अब महुआ यूपी-उत्तराखंड की तैयारियां भी जोरों पर हैं। इसके लिए महुआ ग्रुप ने बड़ी तेजी से नियुक्तियां कर डालीं। यूपी के लिए ग्रुप एडिटर राणा यशवंत ने यूथ ब्रिगेड बनाई है। दूसरे चैनलों से काफी होनहार नौजवानों और अनुभवी पत्रकारों को उन्होंने तोड़ा है। साथ ही चैनल का ड्राई रन भी शुरू हो चुका है।

अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट भारत के गरीबों के सुख से दुखी!

: ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के खिलाफ गिरोह बना रहे हैं धन्नासेठ :  नामी अमरीकी अखबार, वाशिंगटन पोस्ट में आज एक दिलचस्प खबर छपी है. लिखा है कि भारत सरकार के ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के कारण औद्योगिक सेक्टर को अब ज़रूरी मजदूर नहीं मिल रहे हैं. पंजाब और महाराष्ट्र में दूर गाँव से आकर मजदूरी करने वाले लोग नहीं पंहुच रहे हैं इसलिये औद्योगिक इस्तेमाल के लिए गन्ना भी मिलों तक नहीं पंहुच रहा है. बताया गया है कि अखबार के रिपोर्टरों ने देहातों में घूम घूम कर रोजगार गारंटी योजना (नरेगा) में काम करने वाले जिन मजदूरों से बात की, उन्होंने बताया कि यह काम उन्हें दो जून की रोटी तो देता ही है, सम्मान के साथ अपनी ही ज़मीन पर रह कर जीने का अवसर भी देता है.

निर्दोष युवक पर गैंगस्टर जैसी जघन्य कार्रवाई पर बड़े अफसर क्यों है चुप!

: ऐसे लोकतंत्र के मुकाबले तो गोरों का ही शासन बेहतर :  भारतीय संविधान में स्पष्ट निर्देश दिये गये हैं कि अपराध करने वाला बच निकलने में कामयाब हो जाये, तो कोई बात नहीं, पर निर्दोष किसी कीमत पर नहीं फंसना चाहिए, क्योंकि फर्जी मामले में फंसने वाले व्यक्ति की कई पीढिय़ां सामाजिक व आर्थिक दृष्टि से बेकार हो जाती हैं, जो सदियों बाद भी सही से उबर नहीं पाती। एक गलती का इतना बड़ा दुष्प्रभाव होता है, फिर भी जिम्मेदार लोग इस ओर गंभीरता से ध्यान नहीं देते, साथ ही स्वार्थ के चलते परिवारों को तबाह करते रहते हैं। कोई माने या न माने, पर भ्रष्टाचार की भी सीमा पार कर चुके ऐसे भ्रष्ट लोगों को ईश्वर किसी कीमत पर क्षमा नहीं करेगा और ऐसे लोग कुकर्मों की सजा अवश्य भोगेंगे, पर शक्ति के मद में मस्त लोगों का अक्सर इस ओर ध्यान जाता ही नहीं है।

80 करोड़ लगाकर 500 करोड़ में टीवी9 को बेच दिया राजू ने!

न्यूज चैनल टीवी9 के बारे में खबर आ रही है कि इसके मालिक बदल गए. करीब 500 करोड़ रुपये में डील हुई है. इस संबंध में दो खबरें दो मीडिया माध्यमों में प्रकाशित हुई है जिसे नीचे दिया जा रहा है. इस डील को लेकर तरह तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. बिक्री की औपचारिकताएं चल रही हैं. मीडिया कैसे मुनाफे का धंधा होता जा रहा है, यह खरीद बेच के इन घटनाक्रमों से साबित है. पहले पैसे लगाकर मीडिया खोलो, फिर उसे ब्रांड बनाओ और बेच डालो. जैसे अन्य फैक्ट्रियों और उद्योगों के साथ होता है, वैसा ही मीडिया के साथ भी हो रहा है.

दैनिक जागरण ने गाजीपुर के डीएम और एसपी को कटघरे में खड़ा किया

गाजीपुर जिले में बेकसूर युवक रविकांत सिंह पर गैंगस्टर लगाए जाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है. गैंगस्टर लगाने के लिए आधार तैयार करने वाले थानेदार के साथ-साथ गैंगस्टर की फाइल पर आंख मूंदकर साइन करने वाले गाजीपुर के डीएम और एसपी की नीयत-निष्पक्षता भी शक के घेरे में आ चुकी है. दैनिक जागरण में प्रकाशित खबर में आखिर में साफ साफ लिखा गया है कि बेकसूर युवक पर गैंगस्टर लगाए जाने की कार्रवाई को मंजूरी देकर डीएम और एसपी ने अपनी निष्पक्षता पर सवालिया निशान लगा लिया है.

अमर उजाला में निर्दोष युवक पर गैंगस्टर लगाने के खिलाफ खबर प्रकाशित

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले में पुलिसिया अत्याचार के खिलाफ स्थानीय मीडिया ने भी साहस का परिचय दिया है. अमर उजाला अखबार में निर्दोष युवक रविकांत सिंह पर पुलिस द्वारा गैंगस्टर लगाए जाने की पूरी कहानी विस्तार से प्रकाशित हुई है. इस खबर में आखिर में गैंगस्टर लगाने की संस्तुति करने वाले थानेदार हरेराम मौर्या का बयान दिया गया है. इस बयान में कहा गया है कि हत्याकांड में शामिल पांचों रहे पांचों आरोपियों पर गैंगस्टर की कार्रवाई तथ्यों के आधार पर की गई है.

रिश्वत न देने पर गैंगस्टर लगाने की धमकी मई महीने में ही दे चुका था थानेदार!

: बिना वारंट रविकांत को उठाकर थाने ले जाकर मारपीट की थी और दस हजार रुपये की मांग की थी : पीड़ित ने अफसरों, संस्थाओं को पत्र लिखकर अपने साथ हुई ज्यादती की गुहार की थी : छह माह बीतते बीतते आखिरकार गैंगस्टर लगा ही दिया गाजीपुर पुलिस ने : वरिष्ठ पत्रकार और भड़ास४मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह के चचेरे भाई रविकांत सिंह पर गैंगस्टर लगाने के प्रकरण में कुछ नई जानकारियां मिली हैं. रविकांत सिंह के साथ गाजीपुर के नंदगंज थाने की पुलिस ने मई माह में ही मारपीट की थी और दस हजार रुपये की मांग की थी. न देने पर गैंगस्टर लगाने की धमकी दी थी.

पंजाब प्रैस क्लब, जालंधर को डिप्टी सीएम से मिला लालीपॉप

: प्लाट, बीमा लाभ और टोल टैक्स से छूट का किया था वादा : जालंधर : पंजाब में 2007 के विधानसभा चुनाव में शिरोमणि अकाली दल (ब) का जोर था मगर फिर भी हर वर्ग को लुभाया जा रहा था। कमल का साथ तो था ही पर कलम को भी साथ करने के लिए शिअद (ब) ने चुनावी घोषणा पत्र में यह शामिल किया कि अकाली-भाजपा सरकार बनने पर पत्रकारों को विशेष कालोनी में प्लाट व बीमा लाभ दिया जाएगा जिससे पत्रकारों के मुंह में पानी भी आया और इसी क्रम में मीडिया सिटी ऑफ पंजाब के पत्रकार फटाफट पंजाब प्रैस क्लब के सदस्य बने।

एटा में मुलायम की रैली के दौरान पत्रकार गैलरी पर सपाइयों ने किया कब्जा

एटा में कल सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव की विशाल चुनावी रैली को कवरेज करने आये दिल्ली, लखनऊ एवं जनपदीय मीडिया के बैठने हेतु बनाई गई गैलरी पर सपा  कार्यकर्ताओं ने कब्जा कर लिया. इस गैलरी में सपा कार्यकर्ता जबरन घेर कर बैठ गये. दूरदराज से आये मीडियाकर्मी जब सपाइयों से बैठने के लिए जगह मांगने लगे तो सपा कार्यकर्ताओं ने खाली करने से यह कहकर इनकार कर दिया कि उन्हें उनके नेताओं ने यहां बैठाया है, इसलिए यहां से नहीं उठेंगे. इस कारण मीडियाकर्मी बैठ नहीं पाए और इधर उधर भटक कर कवरेज करते हुये नजर आये. सपा के किसी राष्ट्रीय एवं जनपदीय नेता ने कार्यकर्ताओं से मीडिया गैलरी को खाली कराने की जहमत नहीं उठाई.

‘बताने के बावजूद टाइम्स नाऊ ने गल्ती सुधारने में कोई तत्परता नहीं दिखाई’

टाइम्स नाऊ चैनल को परशुराम बाबाराम सावंत केस में सौ करोड़ रुपये बम्बई उच्च न्यायालय में जमा करने ही होंगे. इस बात को ले के मीडिया संस्थानों में रोष और भय व्याप्त है. Editors Guild of India, Foundation for Media Prefessionals(FMS), Broadcast Editors Association (BEA) आदि संस्थाओं का कहना है के जज साहब का फोटो गल्ती से दिखा दिया गया वो भी सिर्फ 15 सेकण्ड के लिए. जब चैनल को गल्ती का एहसास हुआ तो 5 दिनों तक 'सॉरी' जज साहब बोला गया. ऐसा करने से मान की जो हानि हुई थी उसकी भरपाई हो गयी. ऐसे में सौ करोड़ का जुर्माना उचित नहीं…… 'सॉरी' बड़ा ही सुन्दर शब्द है.

नेहरू ने कहा था- खराब प्रेस स्वीकार लेकिन नियंत्रण वाला प्रेस कुबूल नहीं

मेरठ : स्वामी विवेकानंद सुभारती विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार संकाय में बुधवार को राष्ट्रीय प्रेस दिवस (१६ नवंबर) के अवसर पर  ‘प्रेस की स्वतंत्रता और मीडिया की भूमिका’ विषयक संगोष्ठी आयोजित की गई। ज्ञातव्य हो कि १६ नवंबर, १९६६ से प्रेस परिषद ने नैतिक प्रहरी के प्रतीक के  रूप में पत्रकारिता के उच्च आदर्शों की देख-रेख और स्वतंत्रता सुनिश्चित करने के लिए कार्य करना शुरू किया। वक्ताओं ने इस अवसर पर प्रेस की स्वतंत्रता, निर्भींकता और राष्ट्र निर्माण में मीडिया की भूमिका और समकालीन चुनौतियों पर प्रकाश डाला। साथ ही भारतीय प्रेस परिषद को स्वतंत्र एवं प्रभावशाली मीडिया परिषद बनाने पर जोर दिया गया।

कार्तिक शर्मा की शादी में नाचेंगे लेकिन नाइट क्लबों व डिस्कोथेक में नाचे तो मनु शर्मा की पैरोल होगी रद

नई दिल्ली : दिल्ली हाईकोर्ट ने 1999 में हुई मॉडल जेसिका लाल की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे मनु शर्मा को पांच दिन के पैरोल पर रिहा करने का आग्रह बुधवार को स्वीकार कर लिया। अदालत ने उसे इस शर्त के साथ पैरोल प्रदान किया है कि वह इस दौरान नाइट क्लबों और डिस्कोथेक नहीं जाएगा।

मैं भी पेड न्यूज का मारा हूं : हुड्डा

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि वे भी पेड न्यूज के भुक्तभोगी रहे है। वर्ष 2004 के लोकसभा चुनावों के दौरान उन्हें पहली बार खबरनुमा विज्ञापनों के चलन का पता चला। ऐसे पेड न्यूज यानि खबरों का विज्ञापन पाठकों के साथ धोखा है। उन्होंने कहा कि टीवी चैनल भी टीआरपी के चक्कर में नाकारात्मक खबरों पर ज्यादा तवज्जो देते हैं जो आदर्श पत्रकारिता के लिए सही नहीं है।

चैनलों के मुद्दे पर नाराजगी के कारण इस्तीफा तैयार कर लिया था : अंबिका सोनी

नई दिल्ली। सूचना और प्रसारण मंत्री बनने के बाद लोकसभा में टीवी चैनलों की जवाबदेही को लेकर सांसदों की नाराजगी का सामना करने के बाद अंबिका सोनी इस कदर आशंकित हो गई थीं कि उन्होंने उसी शाम को अपना त्यागपत्र तैयार कर लिया था। अंबिका ने उस समय के घटनाक्रम को याद करते हुए कहा कि सांसद टीवी चैनलों के लिए आचार संहिता के मुद्दे पर नाराज थे।

मीडिया के नियामक तंत्र के लिए बहस शुरू करने के लिए काटजू बधाई के पात्र हैं : अंबिका सोनी

नई दिल्ली। सरकार ने कहा कि मीडिया को जवाबदेह होना चाहिए लेकिन इस विषय में तब तक स्वनियमन सर्वश्रेष्ठ उपाय है जब तक इस विषय पर लोग व्यापक चर्चा नहीं करते और बहुमत के विचार सामने नहीं आ जाते। सूचना एवं प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी ने कहा कि सभी लोग यह समझते हैं कि प्रिंट या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर अगर किसी तरह का नियंतण्रकरने की कोशिश की गई तो इसका विरोध न केवल मीडिया करेगा बल्कि स्वतंत्र विचार रखने वाले देश के सभी लोग इसका विरोध करेंगे।

मीडिया बताए, ये पेड न्यूज क्या है, ये राडिया टेप क्या है…. : काटजू

: मीडिया किसी नियामक के अधीन आए या फिर प्रस्तावित लोकपाल जैसे किसी निकाय को चुने : नई दिल्ली। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया द्वारा प्रस्तावित स्व नियामक तंत्र को मानने से इंकार करते हुए भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष न्यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू ने बुधवार को जोर दिया कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को निश्चित तौर पर किसी नियामक प्राधिकार के तहत आना चाहिए और यह प्राधिकार उनकी पसंद का हो सकता है।

आपात स्थिति में पत्रकारों को भी मिलेगी ग्रुप ए के समकक्ष उपचार की सुविधा

नई दिल्ली । दिल्ली सरकार से मान्यता प्राप्त पत्रकारों व उनके परिवार के सदस्यों को अब निजी अस्पतालों में भी ग्रुप ए अधिकारियों के समकक्ष उपचार की सुविधा मिलेगी। यह सुविधा केवल जानलेवा स्थिति व आपात कालीन हालत में ही दी जाएगी। इस प्रस्ताव को उपराज्यपाल की मंजूरी के बाद दिल्ली सरकार के प्रमुख सचिव …

हामिद अंसारी और मार्कंडेय काटजू दोनों ने मीडिया पर अंकुश लगाने की पैरवी की

नई दिल्ली। राष्ट्रीय प्रेस दिवस के बहाने मीडिया पर अंकुश लगाने के मसले पर बुधवार को एक बार फिर बहस गरमा गई। उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी और प्रेस काउंसिल के चेयरमैन मार्कंडेय काटजू ने मीडिया के लिए नियामक प्राधिकरण (रेगुलेटरी अथॉरिटी) बनाने की पैरवी की है, वहीं सरकार ने कहा है कि सबसे अच्छा तरीका तो यह है कि मीडिया खुद ही अपना नियमन करे।

काटजू ने टाइम्स नाऊ पर सौ करोड़ के जुर्माने को गलत करार दिया

प्रेस काउंसिल के चेयरमैन जस्टिस मरकडेय काटजू ने टाइम्स नाऊ चैनल के मामले में सुप्रीम कोर्ट और बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेशों को गलत बताया और उन पर पुनर्विचार का आग्रह किया है। कल प्रेस दिवस के मौके पर बुधवार को एक सेमिनार में उन्होंने कहा कि इन दोनों आदेशों के प्रति पूरा सम्मान रखते हुए मेरा मत है कि ये गलत हैं और इन पर फिर से विचार की जरूरत है।

जेडे को इसलिए मरवाया क्योंकि वो मेरे खिलाफ लिख रहा था : छोटा राजन

: लेकिन अब अफसोस है उसे मरवाने का क्योंकि पत्रकार होने के नाते उसे हक था किसी के भी बारे में लिखने का : मुंबई: अंडरवर्ल्ड सरग़ाना छोटा राजन ने मुंबई के प्रख्यात क्राइम रिपोर्टर ज्योतिर्मय डे यानी जे. डे को मरवाने की बात कबूल की. स्टार न्यूज के संवादादता जीतेंद्र दीक्षित से बात करते हुए डॉन छोटा राजन ने जे. डे को मरवाने की बात कबूल करते हुए कहा है कि उसने शक में जे. डे को मरवा दिया. हालांकि अब उसे अफसोस है.

प्रभात के खिलाफ बरेली में बगावत, पांच का इस्तीफा

अमर उजाला, बरेली के संपादक प्रभात सिंह के खिलाफ लंबे समय से कायम दबे-छिपे आक्रोश ने बगावती तेवर अख्तियार कर लिया है. खबर है कि अमर उजाला के शिशु अखबार कांपैक्ट के न्यूज एडिटर आलोक समेत पांच पत्रकारों ने इस्तीफा दे दिया है. इस्तीफा देने वालों के नाम हैं- आलोक तिवारी, निधि गुप्ता, अशोक आर्या, अविनाश चौबे और आशीष सक्सेना.

कुछ पत्रकार अपने साथ चरित्रहीन महिलाओं को लाते हैं

: पत्रकारिता की आड़ में धंधे कैसे-कैसे… सुनिए देश के जाने-माने फोटोग्राफर बिजेंदर त्यागी की जुबानी : 1. नई दिल्ली के आईएनएस भवन के एक कमरे में चर्चा चल रही थी कि एक अखबार का मालिक अपनी बेटी को लेकर केरल चला गया है क्योंकि उसकी बेटी को एक पत्रकार तत्कालीन कृषि मंत्री बलराम जाखड़ के शयन कक्ष में लेकर जाता था. इस बात की सूचना मालिक के विश्वासपात्र  ड्राइवर ने ही मालिक को दी थी. पत्रकार का नाम सुनील डांग था और लड़की ले जाने के एवज में मंत्री ने उसके साप्ताहिक समाचारपत्र को छपवाने का ज़िम्मा ले रखा है.

आन एयर प्रोग्राम में पुण्य प्रसून बाजपेयी और वाशिंद्र मिश्र के बीच क्या हुआ?

पंद्रह नवंबर को जी न्यूज पर सुबह नौ से दस बजे के बीच एक पैनल डिस्कशन के दौरान जी न्यूज यूपी के एडिटर वाशिंद्र मिश्र और जी न्यूज में वरिष्ठ पद पर कार्यरत मशहूर टीवी जर्नलिस्ट पुण्य प्रसून बाजपेयी के बीच क्या हुआ था, यह सवाल आजकल दिल्ली में टीवी जर्नलिस्टों के बीच एक दूसरे से पूछा जा रहा है. जिसने उस वक्त प्रोग्राम देखा, उसे तो बहुत मजा आया लेकिन जो लोग चूक गए उन्हें इधर उधर से नमक मिर्च लगी बातें सुनने को मिल रही हैं.

निशीथ राय, यशवंत सिंह समेत कई लोग मीडिया परिचर्चा में शरीक होंगे

: जनजागरण मीडिया मंच की तरफ से लखनऊ में 20 को आयोजन : लखनऊ : पत्रकारों के हितार्थ साहित्य, संस्कृति एवं समाजसेवा को समर्पित जनजागरण मीडिया मंच द्वारा राजधानी लखनऊ स्थित इस्लामियां डिग्री कालेज के लाइब्रेरी हाल में 20 नवम्बर रविवार को अपरान्ह 3 बजे विमोचन समारोह का आयोजन किया गया है. समारोह में सत्ता साहित्य व मीडिया विषयक परिचर्चा में विभिन्न प्रदेशों से आ रहे विद्वान पत्रकार व साहित्यकार अपने अपने विचार रखेंगे.

‘न्यूज एक्सप्रेस’ चैनल के रिपोर्टर को बसपा विधायक ने जान से मारने की धमकी दी

यूपी के संत कबीर नगर जिले के न्यूज़ एक्सप्रेस राष्ट्रीय समाचार चैनल के जिला संवाददाता अजय कुमार श्रीवास्तव को बसपा के बाहुबली विधायक ने जान से मारने की धमकी दी है. बाहुबली विधायक का नाम है मोहम्मद ताबिश खां. ये बहुजन समाज पार्टी के विधायक हैं. अजय का कुसूर ये है कि उन्होंने तमाम दस्तावेजों-आंकड़ों-जानकारियों के आधार पर मो. ताबिश के खिलाफ एक स्टोरी की और वह स्टोरी उनके चैनल पर चल गई.

मायावती जी, ये बेइमान अफसर आपकी लुटिया डुबो चुके हैं

: उत्तर प्रदेश में सरकारी मशीनरी की माफियागर्दी : उत्तर प्रदेश में मौजूदा सरकार और उसके प्यादे यूं तो रात दिन लूटपाट में जुटे हैं लेकिन कब किस शरीफ आदमी की इज्ज़त को तार तार कर दें ये कोई नहीं जानता। रिश्वतखोरी और निर्माण कार्यों से उगाही के दम पर लूट में जुटी उत्तर प्रदेश की सरकारी मशीनरी के खिलाफ जब जब किसी ने आवाज़ उठाई तब तब सरकारी मशीनरी ने माफिया की तर्ज पर करप्शन को उजागर करने वालों के साथ बर्ताव किया है।

कानपुर के वरिष्ठ पत्रकार धीरेंद्र अवस्थी का निधन

दुखद खबर कानपुर से है. वरिष्ठ पत्रकार धीरेंद्र अवस्थी नहीं रहे. उनका निधन शनिवार को हुआ. धीरेंद्र अवस्थी को गले का कैंसर था. करीब साल भर से उनका इलाज चल रहा था. कभी मुंबई में भर्ती हुए तो कभी कानपुर के कैंसर हास्पिटल में. उनका निधन हैलट अस्पताल के आईसीयू में हुआ. धीरेंद्र अवस्थी की उम्र करीब 59 साल थी.

बैचू बाबा की शाम की पाली खतरनाक होती है

एक हिंदी दैनिक के रांची संस्करण के कर्मी अपने नए प्रधान संपादक बैचू बाबा की तानाशाही और गैर संसदीय भाषा से त्रस्त हैं. अभी तक सम्पादकीय विभाग से लेकर विज्ञापन और प्रशासनिक विभाग तक के आधे दर्जन लोग निकाले जा चुके हैं या फिर इस्तीफा देकर संस्थान छोड़ चुके हैं. हद तो यह है कि संस्थान को एक व्यवस्थित रूप देने वाले महाप्रबंधक को भी आजिज़ आकर इस्तीफा देने को विवश हो गए.