सुभाष त्रिपाठी इटावा में कैनविज टाइम्‍स के ब्‍यूरोचीफ बने, सुशील की नई पारी

पिछले दिनों हिंदुस्‍तान, इटावा से इस्‍तीफा देने वाले वरिष्‍ठ पत्रकार सुभाष त्रिपाठी ने अपनी नई पारी कैनविज टाइम्‍स के साथ शुरू की है. प्रबंधन ने उन्‍हें इटावा का ब्‍यूरो चीफ बनाया है. लगभग दो दशक तक हिंदुस्‍तान के तेजतर्रार रिपोर्टर रहे श्री त्रिपाठी ने अखबार की आंतरिक राजनीति से आजीज आकर इस्‍तीफा दे दिया था. सुभाष त्रिपाठी की राजीनतिक खबरों पर जबर्दस्‍त पकड़ मानी जाती है.

पंजाब प्रेस क्‍लब, जालंधर भी आरटीआई के दायरे में आया

जालंधर : विधानपालिका, कार्यपालिका व न्यायपालिका के बाद अब लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ माने जाते प्रेस-मीडिया को भी सूचना अधिकार कानून 2005 ने अपने दायरे में ले लिया है। पंजाब राज्य सूचना आयोग के मुख्य सूचना आयुक्त रमेश इन्द्र सिंह ने अपने 31 जनवरी 2012 के फैसले में देश की सबसे पुरानी मीडिया सिटी जालंधर के प्रेस क्लब (पंजाब प्रेस क्लब, जालंधर) को सूचना अधिकार कानून 2005 के तहत क्लब में तत्काल सूचना अधिकारी की नियुक्ति करने व इस एक्ट के तहत मिलने वाले आवेदनों को नियमानुसार डील करने का आदेश दिया है।

माया ने काटा स्टिंग में फंसे प्रत्‍याशी का टिकट, शगुफ्ता खान नए उम्‍मीदवार

बसपा अध्‍यक्ष एवं यूपी की मुख्यमंत्री मायावती ने इंडिया टीवी के स्टिंग आपरेशन में फंसे पार्टी प्रत्याशी नाहिद मुनव्वर हसन का टिकट काट दिया. बसपा के सूत्रों ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष मायावती ने स्टिंग आपरेशन के मामले को गम्भीरता से लेते हुए हसन का टिकट काटने जैसा सख्त कदम उठाया तथा उनके स्थान पर शगुफ्ता खान को गंगोह क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया है. गौरतलब है कि स्टिंग आपरेशन में हसन समेत 11 प्रत्याशियों को कारपोरेट घरानों से रिश्वत मांगते हुए दिखाया गया था.

दैनिक जागरण के पटना कार्यालय में आपस में भिड़े इनपुट हेड और रिपोर्टर

: संपादक और जीएम के सामने हुई जमकर जूतम पैजार : दैनिक जागरण, पटना से खबर है कि सोमवार की शाम यहां दो संपादकीय कर्मियों में जमकर मारपीट हुई. संपादक शैलेंद्र दीक्षित एवं जीएम आनंद त्रिपाठी के सामने भी ये लोग ए‍क दूसरे से निपटते रहे. मामला सिर्फ मारपीट नहीं बल्कि यूपी-बिहार का भी बताया जा रहा है. इसकी जानकारी प्रबंधन ने ऊपर तक दे दी है. लेकिन कार्यालय में अब भी तनाव बना हुआ है. कार्यालय में प्रांतीय व्‍यवस्‍था बना हुआ है. यूपी लॉबी एक तरफ और बिहार की लॉबी दूसरी तरफ टाइट है.

डा. नूतन ठाकुर ने मुख्‍य सचिव को पत्र लिखकर आईपीएस अधिकारियों के दोहरे रवैये की निंदा की

सेवा में, मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश शासन, लखनऊ. विषय- उत्तर प्रदेश में पुलिस विभाग के विभिन्न पदों पर हो रहे भेदभाव विषयक. महोदय, लखनऊ स्थित सामाजिक संस्था इंस्टीट्यूट फोर रिसर्च एंड डोक्युमेंटेशन इन सोशल साइंसेज (आईआरडीएस) मानव अधिकारों और प्रशासनिक सुधार के क्षेत्र में लंबे समय से कार्यरत है. हम इस पत्र के माध्यम से एक महत्वपूर्ण प्रकरण आपके संज्ञान में लाना चाहते हैं.

जनसंदेश टाइम्‍स : शेषनारायण सिंह बने रोविंग एडिटर, अशोक वानखेड़े ब्‍यूरोचीफ

जनसंदेश टाइम्‍स, दिल्‍ली से खबर है कि ब्‍यूरोचीफ के रूप में कार्यरत रहे वरिष्‍ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह को प्रमोट करके अखबार का रोविंग एडिटर बना दिया गया है. अब वे देश भर की खबरों को दे सकेंगे. शेष नारायण सिंह एनडीटीवी समेत कई बड़े संस्‍थानों में काम कर चुके हैं. दूसरी खबर है कि आवाम-ए-हिंद के संपादक अशोक वानखेड़े को जनसंदेश टाइम्‍स, दिल्‍ली का पॉलिटिकल एडिटर कम ब्‍यूरोचीफ बना दिया गया है. वानखेड़े पिछले कई दशक से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं.

मेरठ में काम्‍पैक्‍ट आज से बंद, इंचार्ज चंद्र गौरव सिटी डेस्‍क पर भेजे गए

मेरठ में अमर उजाला को बड़ा झटका लगा है. खबर है कि अमर उजाला ग्रुप का बच्‍चा अखबार काम्‍पैक्‍ट आज से बंद हो गया है. अब यह अखबार आज के बाद प्रकाशित नहीं होगा. काम्‍पैक्‍ट का सर्कुलेशन लगातार गिर रहा था तथा उसे तमाम कोशिशें के बाद भी यहां पर अपेक्षित सफलता नहीं मिल पा रही थी. बताया जा रहा है कि काम्‍पैक्‍ट का सर्कुलेशन घट कर एक हजार के आसपास पहुंच गया था. इस कारण प्रबंधन ने इस अखबार को बंद करने का निर्णय ले लिया. काम्‍पैक्‍ट में इंचार्ज चंद्र गौरव को अमर उजाला के सिटी डेस्‍क की जिम्‍मेदारी सौंप दी गई है. जबकि डेस्‍क पर कार्यरत भूपेश उपाध्‍याय को पहले पन्‍ने पर भेज दिया गया है.

हिंदू के विज्ञापन में निशाना टीओआई पर और चोट डीएनए को

बड़े ब्रांड विज्ञापनों के जरिए अपनी चादर दूसरे से सफेद दिखाने का काम आमतौर पर करते ही रहते हैं, इनको लेकर ब्रांडों में टकराव भी होती रहती है. कारपोरेट कंपनियां विज्ञापनों के सहारे एक दूसरे का मजाक भी उड़ाती रहती हैं, पर पत्रकारिता में इस तरह के मामले कम देखने में आते हैं. संस्‍थान एक दूसरे का मजाक नहीं बनाते हैं, पर इस बार ऐसा हुआ है और इस कारनामे को अंजाम दिया है द हिंदू ग्रुप ने. गंभीर पत्रकारिता का पर्याय माने जाने वाले इस अंग्रेजी अखबार के विज्ञापन में टाइम्‍स ऑफ इंडिया को निशाना बनाया गया है.

द हिंदू ने केरल में अपना तीसरा एडिशन लांच किया

द हिंदू दक्षिण भारत में अपने विस्‍तार अभियान को बढ़ाते केरल तीसरा संस्‍करण लांच किया है. हिंदू का यह संस्‍करण कोझिकोड़ से 29 जनवरी को लांच हुआ है. केरल में अब तक तिरुअनंतपुरम और कोयंबटूर से अखबार का प्रकाशन हो रहा था. प्रबंधन कोयंबटूर एडिशन के जरिए ही कोझिकोड़ और कलीकट्ट का इलाका कवर करने की कोशिश कर रहा था, पर अपेक्षित सफलता नहीं मिल पा रही थी, जिसके बाद प्रबंधन ने कोझिकोड़ से नया एडिशन लांच करने की योजना तैयार की थी.

हिंदुस्‍तान में छपा गलत फोटो कैप्‍शन, मचा बवाल, भाजपाई करेंगे शिकायत

हिंदुस्‍तान, फर्रुखाबाद में पुलिस‍कर्मियों के हमला का मामला ठण्‍डा भी नहीं पड़ा था कि एक और विवाद खड़ा हो गया है. खबर है कि अखबार ने दो भाजपा प्रत्‍याशियों की फोटो अखबार में छापी है, पर उसके नीचे कैप्‍शन गलत लिख दिया गया है. इसके बाद से ही बवाल मचा हुआ है. भाजपाई स्‍थानीय पत्रकार तथा संपादक विशेश्‍वर कुमार पर आरोप लगा रहे हैं कि इन लोगों ने विपक्षी प्रत्‍याशियों से पैसा लेकर जानबूझकर ये गलती की है. इसकी शिकायत प्रधान संपादक से लेकर प्रेस परिषद से भी किए जाने की बात भाजपाइयों ने कही है.

न्‍यूज11 से हरिनारायण सिंह का इस्‍तीफा, सन्‍मार्ग पहुंचे

न्‍यूज11 से खबर है कि वरिष्‍ठ पत्रकार एवं एडिटर इन चीफ हरिनारायण सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अब सन्‍मार्ग से जुड़ गए हैं. खबर है कि उन्‍हें संपादक के पद पर लाया गया है. हालांकि ये पता नहीं चल पाया है कि अब तक सन्‍मार्ग के संपादक की जिम्‍मेदारी निभा रहे वैद्यनाथ मिश्रा …

एकल बोली की भेंट चढ़ गईं 11 चीनी मिलें, करोड़ों का हुआ घाटा

 : नीलामी में नहीं दिखी प्रतिस्पर्धा, दो कंपनियों ने एक ही बैंक से बनवायी गारंटी : सीरियल नम्बर में हैं टेंडर के लिए जमा ड्राफ्ट, पोंटी चड्ढा ग्रुप से जुड़ी हैं बोली लगाने वाली कंपनियां : इलाहाबाद। भारत के नियंत्रक एवं महालेखाकार (सीएजी) ने हजारों करोड़ के चीनी मिल बिक्री घोटाले में अपनी रिपोर्ट में कहा गया है कि चीनी मिलों के विनिवेश में पारदर्शी तरीके नहीं अपनाए गए, नतीजतन चीनी मिलों को खरीदने की बोली में पर्याप्त संख्या में खरीदार नहीं आए, नतीजतन बोलियों में प्रतिस्पर्धा नहीं रही। घपले-घोटालेबाजी को केवल एक ही तथ्य से समझा जा सकता है कि 11 चीनी मिलों के लिए केवल एकल बोली ही प्राप्त हुई।

आजतक, स्टार, एनडीटीवी, जी न्यूज, जागरण समेत नौ मीडिया संस्थानों को नोटिस

: पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने भेजा नोटिस : CHANDIGARH :  The Punjab Chief Electoral Officer Ms. Kusumjit Sidhu, today thanked the people of Punjab for their overwhelming participation in the election process and keeping the elections relatively incident free.

पत्रकार से हाथापाई करने वाले विधायक पर मुकदमा दर्ज

अपने चुनाव क्षेत्र में एक पत्रकार के साथ हाथापाई करने के आरोप में अजनाला ग्रामीण क्षेत्र से विधानसभा चुनाव लड़ रहे शिरोमणि अकाली दल विधायक अमरपाल सिंह बोनी के खिलाफ सोमवार को मामला दर्ज किया गया। अमृतसर एसएसपी सुरिन्दर पाल सिंह परमार ने बताया कि बोनी ने चुनाव की रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकार सुखदेव सिंह के साथ कथित रूप से हाथापाई की।

न्यूज एक्सप्रेस में कार्यकारी संपादक बनेंगे कुमार राकेश

एनई टीवी समूह के उपाध्यक्ष (समाचार) और समूह के वरिष्ठ संपादक पद से कुछ महीने पहले इस्तीफा देने वाले कुमार राकेश अब न्यूज एक्सप्रेस से जुड़ने जा रहे हैं. खबर है कि उन्हें चैनल का कार्यकारी संपादक बनाया जा रहा है. संभावना जताई जा रही है कि वे एक—दो दिन में अपना कार्यभार ग्रहण कर लेंगे.

माधुरी दीक्षित ने लांच की अपनी आधिकारिक वेबसाइट

अभिनेत्री माधुरी दीक्षित अपनी आधिकारिक वेबसाइट शुरू करने वाले बॉलीवुड कलाकारों में शामिल हो गई हैं। माधुरी से पहले रितिक रोशन, प्रियंका चोपड़ा, गुल पनाग जैसे कलाकारों की अपनी आधिकारिक वेबसाइट मौजूद हैं। हालांकि तकनीकी खामियों के चलते फिलहाल यह वेबसाइट खुल नहीं रही है।

जनसंदेश टाइम्स के प्रधान संपादक बने डा.सुभाष राय

: गोरखपुर यूनिट के तीन जिलों में आज बांटा गया अखबार : जनसंदेश टाइम्स से खबर है कि वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार डा.सुभाष राय को अखबार का प्रधान संपादक बना दिया गया है. इस अखबार की लांचिंग डा.राय के नेतृत्व में ही लखनउ से हुई थी. इसके बाद कानपुर एडिशन भी उनके निर्देशन में लांच हुआ था. अखबार के दर्जनों सब एडिशन भी डा. राय के नेतृत्व में लांच कराए जा चुके हैं.

दोहरा व्यवहार अपना रहे हैं यूपी के आईपीएस

प्रशासनिक सुधार के क्षेत्र में कार्यरत सामाजिक संस्था इंस्टीट्यूट फार रिसर्च एंड डोक्युमेंटेशन इन सोशल साइंसेज (आईआरडीएस) वर्तमान समय में कमिश्नर बस्ती एवं एसपी सिद्धार्थनगर के मध्य हुए विवाद के बाद कई आईपीएस अफसरों द्वारा आईपीएस एसोशियेशन को भेजे गए इस्तीफे को आईपीएस अधिकारियों का दोहरा व्यवहार मानती है. संस्था की जानकारी के अनुसार प्रदेश के आईपीएस अफसर उत्तर प्रदेश पुलिस के अराजपत्रित अधिकारियों द्वारा किसी भी प्रकार के संस्था के गठन का विरोध करते हैं. उनके द्वारा कई पुलिस कर्मियों पर पुलिस कर्मचारियों के लिए संस्था बनाने का प्रयास करने पर उनके विरुद्ध आपराधिक मुकदमे दर्ज करा कर उन्हें गिरफ्तार तक कराया गया. इसमें चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी परशुराम कश्यप, आरक्षी बिजेन्द्र सिंह यादव, बैलिस्टर राय आदि शामिल हैं.

वरिष्ठ पत्रकार विजय सिंह सेंसर बोर्ड के सदस्य नियुक्त

हिंदी दैनिक नवभारत के वरिष्ठ राजनितिक संवाददाता व फिल्मों में गहरी अभिरुचि रखने वाले विजय सिंह को सेंसर बोर्ड का सदस्य नियुक्त किया गया है. विजय सिंह की नियुक्ति सेन्ट्रल फिल्म सर्टिफिकेशन एडवाइजरी बोर्ड ने की है. मूलतः जौनपुर निवासी विजय सिंह मुंबई में लम्बे समय से पत्रकारिता से जुड़े रहे हैं. भोजपुरी फिल्मो में भी उनकी काफी रूचि रही है.

पत्रकार एवं साहित्यकार रामनारायण त्रिपाठी पंचतत्व में विलीन

लखनऊ। पत्रकार और साहित्यकार रामनारायण त्रिपाठी पर्यटक आज दोपहर गोमती तट स्थित भैंसाकुण्ड श्मशान घाट पर पंचतत्व में विलीन हो गए। उनके शव को अनुज ने मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार के अवसर पर भारी संख्या में पत्रकार, साहित्यकार, राजनेता और सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित थे। रामनारायण त्रिपाठी का कल अपरान्ह निधन हो गया था। वे लगभग 55 वर्ष के थे।

पेड न्यूज जस्टिस काटजू सख्त, दी कड़ी कार्रवाई की चेतावनी

नई दिल्ली। पांच राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनाव में पेड न्यूज की शिकायतों का हवाला देते हुए भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष न्यायमूर्ति मार्कन्डेय काटजू ने सभी मीडिया कर्मियों, उम्मीदवारों और चुनाव अधिकारियों को आगाह किया यदि वे कदाचार में संलिप्त पाये गये तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। जस्टिस काटजू का यह बयान विधानसभा चुनावों में पेड न्यूज की लगातार मिल रही शिकायतों के बाद आया है। 

पंजाब में ट्रिब्यून की महिला पत्रकार पर हमला

नाभा। पंजाब में विधानसभा चुनाव में मतदान के दौरान एक कांग्रेसी नेता के बेटे ने एक पत्रकार पर हमला कर उसे घायल कर दिया। पंजाब विधानसभा के लिए सोमवार को मतदान हो रहा था, इसी दौरान नाभा जिले में एक कांग्रेसी नेता के बेटे ने पंजाबी ट्रिब्यून की महिला पत्रकार पर हमला कर दिया।

वरिष्ठ साहित्यकार एवं पत्रकार धर्मस्वरुप गुप्ता का निधन

प्रसिद्ध साहित्यकार व पत्रकार डॉ. धर्म स्वरूप गुप्त (76 वर्ष) का 29 जनवरी रविवार को निधन हो गया। वह साहित्य के के अलावा शिक्षा, पत्रकारिता व नाट्य कला के क्षेत्र से जुड़े रहे हैं। इस उम्र में भी वे सक्रिय थे और यदा-कदा साहित्य के कार्यक्रमों में हिस्सा लेते रहते थे। मुखर और अपनी बात कहने वाले गुप्त के बारे में मशहूर था कि उन्हें जब अपनी बात रखनी होती तो वे उसे रखने में कोई संकोच नहीं करते थे।

इंडिया टीवी के स्टिंग में पैसा मांगने वाले 11 प्रत्याशियों पर मुकदमा

चुनाव आयोग ने स्टिंग आपरेशन में कारपोरेट घरानों से चुनाव के लिये ‘रिश्वत’ मांगते दिखाये गये उत्तर प्रदेश के तीन मौजूदा विधायकों सहित 11 प्रत्याशियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करवाया है. प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी उमेश सिन्हा ने बताया, ‘समाचार चैनल इंडिया टीवी के स्टिंग आपरेशन में कारपोरेट घरानों से चंदा मांगते दिखाये गये तीन मौजूदा विधायकों सहित विधानसभा चुनावों में 11 प्रत्याशियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करा दी गयी है.’

शशांक शेखर से संबंधित याचिका क्यों न सुप्रीम कोर्ट स्थानांतरित कर दी जाए

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार व कैबिनेट सचिव शशांक शेखर को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। शीर्ष कोर्ट ने पूछा है कि क्यों न शशांक शेखर की कैबिनेट सचिव पद पर नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका की सुनवाई इलाहाबाद हाई कोर्ट से सुप्रीम कोर्ट स्थानांतरित कर दी जाए। न्यायमूर्ति एचएल दत्तू व न्यायमूर्ति सीके प्रसाद की पीठ ने ये नोटिस गैरसरकारी संगठन 'लोकप्रहरी' की स्थानांतरण याचिका पर सुनवाई के बाद जारी किए।

यूपी सरकार झुकी, थानेदारों की तैनाती में पुरानी व्यवस्था लागू

लखनऊ : नौकरशाही का आईपीएस बनाम आईएएस विवाद थमता नहीं दिख रहा है। आईपीएस अफसरों की एसोसिएशन के लगातार दबाव के आगे राज्य सरकार ने उनके पक्ष में कार्रवाई किए जाने की बात कही है। इसके तहत थानेदारों की तैनाती में पुरानी व्यवस्था लागू किए जाने संबंधी आदेश को तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है।

सत्ता की हनक : बसपा प्रत्याशी ने कैलेंडर बांटा, प्रशासन बेखबर

 बदायूं। दबंग के सामने कोई नियम-कानून नहीं चलता। जी हां! यह बात विधान सभा चुनाव में स्थानीय प्रशासन की कार्यप्रणाली को देखते हुए एक दम सच साबित हो रही है। आचार संहिता लगने के बाद से स्थानीय पुलिस व प्रशासन के अधिकारी आम आदमी से सीधे मुंह बात नहीं कर रहे हैं। आयोग का भय दिखा कर सीधे डंडे से बात की जा रही है। शुरू में तो लग रहा था कि आचार संहिता नहीं, बल्कि इमरजेंसी लगा दी गयी है, पर आयोग की कड़ाई के बाद पुलिस का रवैया कुछ हद तक बदला है।

टिकट के बदले इज्जत मांग रहे थे पीस पार्टी के मुखिया

उत्तर प्रदेश में पीस पार्टी की बढ़ती संभावनाओं के साथ उसके मुखिया पर गंभीर आरोपों का सिलसिला भी शुरू हो गया है. लखीमपुर खीरी की पार्टी कार्यकर्ता सुनीता मित्रा न केवल पीस पार्टी के मुखिया डॉ. अय्यूब पर यौन शोषण का आरोप लगाया है बल्कि उनके खिलाफ लखीमपुर की अदालत में यौन उत्पीड़न का मामला भी दर्ज करा दिया है.

अलीगढ़ में पत्रकारिता पर कलंक लगा रहा है दैनिक जागरण

अपनी पीत पत्रकारिता के लिए बदनाम दैनिक जागरण के अलीगढ़ संस्करण ने पत्रकारिता के मानक को ताख पर रख दिया है. बताया जा रहा है कि अलीगढ़ नगर निगम के महापौर आशुतोष वाषर्णेय के बेटे की कंपनी का विज्ञापन को लेकर जागरण से कुछ विवाद चल रहा है, जो न्यायालय में विचाराधीन है. आशुतोष भाजपा के नेता हैं. भाजपा ने इस बार उन्हें अलीगढ़ शहर सीट से विधानसभा का प्रत्याशी बनाया है.

राज्यसभा तथा लोकसभा टीवी पर आज प्रसारित होगा मनोज रघुवंशी का ‘डज गांधी मैटर’

सत्य एवं अहिंसा को अपना हथियार बनाने वाले गांधीजी भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में स्वीकार्य हैं. गांधीजी के जीवन और दर्शन से लोग उत्प्रेरित होते रहे हैं. गांधी के जन्म दिन 2 अक्टूबर को यूएन ने शांति दिवस के रूप स्वीकार कर लिया है, पर भारत में गांधी की स्थिति कैसी है, इसको लेकर गांधी जी पर एक डाक्युमेंट्री बनाई गई है. आज तीस जनवरी है यानी गांधी जी की शहादत दिवस. इसी मौके पर राज्यसभा टीवी और लोकसभा टीवी वरिष्ठ पत्रकार मनोज रघुवंशी की डाक्युमेंट्री 'डज गांधी मैटर' प्रसारित करने जा रहे हैं.

गिरोहबाजों की राजनीति में माया खराब तो अच्छा कौन?

: बेहाल किसान युवा हलकान : कौन सी राजनीतिक पार्टी मैदान मार लेगी और कितने गिरोह मिलकर सरकार को ‘हांकने’ का काम करेंगे, इस पर सूबे की जनता की कोई दिलचस्पी नहीं रह गई है। नोएडा से लेकर पूर्वांचल के गोरखपुर तक के दर्जनों शहरों और गांवों के जनमानस को देखकर ऐसा कहा जा सकता है कि चुनाव के प्रति लोगों के मन में उत्साह नहीं है। गिरोहबाज नेताओं की धमाचौकड़ी, नेताओं के बड़े-बड़े वादों और गिरगिट की तरह बदलते उनके रंगों को देखकर सूबे की जनता हतप्रभ है। चुनाव के इस झमाझम माहौल में पानी की तरह बहते धन से भले ही कुछ पार्टी समर्थित लोगों के घर-परिवार, बाल-बच्चों की मुरादें पूरी हो रही हों, लेकिन भीतर ही भीतर एक उबाल सा दिख रहा है।

चौखंडी और पाठा के लोगों का नारा- पानी नहीं, तो वोट नहीं

इलाहाबाद का त्रिवेणी संगम। वेद-पुराणों में इस संगम के महात्म पर बड़ी-बड़ी बातें कही गई हैं। हिंदुओं का ये पवित्र तीर्थ स्थल है। कहते हैं, यहां समुद्र मंथन के बाद अमृत की कुछ बूंदे गिरी थीं, जिसे आधुनिक समाज या कलयुग के लोग आचमन कर मोक्ष प्राप्त करते हैं। कुंभ मेला उसी का प्रतीक है। गंगा और यमुना का यह संगम स्थल हिंदू समाज के लिए चाहे जितना भी पवित्र क्यों न हो, वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में यहां जनता, नेताओं और पार्टी के बीच संगम दिखाई कहीं नहीं पड़ रहा है। संगम तट पर लगे माघ मेले में हजारों-लाखों की भीड़ को आप देख सकते हैं। पंडों, पुजारियों, दुकानदारों, फेरीवालों, ग्राहकों और दर्शकों समेत मेले में घूम रहे दलालों, ठगों और राजनीतिक एजेंटों से भी आप यहां मिल सकते हैं।

फिर तो बलात्कार नौकरी पाने का जरिया बन जाएगा!

सत्ता हथियाने के लिए नेता क्या—क्या नहीं करते। प्रदेश की सत्ता बसपा के हाथ से खिंचती नजर आई तो उन्होंने प्रदेश को चार हिस्सों में बांटने की बात कह डाली थी। वहीं विपक्ष के सपा मुखिया ने बलात्कार पर अपने बेतुके बयान से राजनीतिक हलचल पैदा कर दी है, लेकिन यह बयान किसी व्यक्ति की मुर्खता से कम नहीं है। सपा के मुखिया मुलायम सिंह ने प्रदेश में महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों पर मगरमच्छ के आंसू बहाने का काम किया है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में बसपा की सरकार के कार्यकाल में महिला उत्पीड़न और बलात्कार के मामले अधिक बढ़े हैं, लेकिन वह यह भूल गए कि उनके कार्यकाल में भी महिलाओं की स्थिति कहां बेहतर थी।

आईएएस अनुराग को कमिश्नर पद से हटवाने के बाद भी शांत नहीं है आईपीएस एसोसिएशन

वैसे तो आईएएस आईपीएस समेत नौकरशाही के सभी पदों के लिए कहा जाता है कि ये लोग अपनी और आपसी बात पब्लिक में नहीं ले जाते लेकिन आईपीएस मोहित गुप्ता ने अपने साथ जो कुछ हुआ उसे सार्वजनिक करके पब्लिक को आईएएस-आईपीएस के सुख दुख बतियाने बहसियाने का नया मुद्दा दे दिया. कौन सही कौन गलत जैसी बातें होने लगीं. दुर्व्यवहार करने वाले आईएएस अनुराग को कमिश्नर पद से हटवाने के बाद भी आईपीएस एसोसिएशन सक्रिय है. अपने संगठन के बैनर तले आईपीएस अफसर आईएएस अफसरों की दादागिरी को लेकर आरपार की लड़ाई के मूड में हैं.

पुलिसिया गुंडागर्दी के खिलाफ फर्रुखाबाद में 2 फरवरी को मौन जुलूस निकालेंगे पत्रकार

फर्रुखाबाद में हिंदुस्तान के पत्रकारों से पुलिसवालों का मारपीट करना तूल पकड़ लिया है. पत्रकार अब आर पार की लड़ाई लड़ने की मूड में आ गए हैं. पत्रकारों ने पुलिससिया गुंडागर्दी के खिलाफ 2 फरवरी को मौन जुलूस निकालेंगे तथा हाथों पर काली पट्टी बांधकर विरोध करेंगे.

इतनी दुरात्माओं में से एक घनघोर दुरात्मा को चुनना आसान नहीं

: मुझे बस मतदान करना है!!! : राधे-राधे यश जी, राधे-राधे. आशा है सकुशल होंगे. अपन की भी मौज है. विगत दो दिनों से आनंदित हूँ. मन बहुत हल्का है. मुझे शपथ दिलाई गयी. मतदान करो. राजनीति करो. मैंने शपथ ले ली. एक उछाह उठ रही है. बस चुनाव हों और मैं मतदान करूँ. पूरा दिन मन इसी भाव में रमा रहता है. अनामिका मध्यमिका बरबस उठ जातीं हैं. उठी ही रहती है. लोग बुरा मान जाते हैं. आपत्ति करते है. मेरे मन में लेश मात्र भी छिछोरपन नहीं है. अनामिका मध्यमिका का उठना मतदान की तीव्र इच्छा का प्रकटीकरण है.

अमरनाथ तिवारी पर हमले और पुलिस की निष्क्रियता को लेकर सीएम से मिलेंगे पत्रकार

पटना : वरिष्ठ पत्रकार एवं पायनियर के असिस्टेंट एडिटर अमरनाथ तिवारी पर जानलेवा हमले के मामले में पुलिस की निष्क्रियता और पक्षपात के सन्दर्भ में पटना के वरिष्ठ पत्रकारों की एक बैठक रविवार २९ जनवरी को फ्रेज़र रोड स्थित एनडीटीवी के दफ्तर में हुई. इस मामले में पुलिस के दो पदाधिकारियों की पक्षपातपूर्ण भूमिका को लेकर सभी वरिष्ठ पत्रकारों ने गंभीर चिंता और आपत्ति दर्ज की.

आलोक तोमर के कर्जदार डा. जेके जैन को सुप्रिया ने चेताया

डा. जेके जैन को मीडिया वाले अच्छी तरह जानते होंगे. जैन टीवी के मालिक हैं. डाक्टर भी हैं. नेता टाइप चीज भी हैं. टिकट पाने, चुनाव लड़ने और मंत्री बनने की अदम्य इच्छा लिए इधर उधर नेताओं के यहां मुंह मारते घूमते फिरते रहने वाला यह डाक्टर कई मामलों में बहुत बदनाम है. जैसे, अपने चैनल में काम करने वालों को पैसे न देना. ठगी कर करके भारी मात्रा में पैसे बनाते जाना. दो नंबर का काम करके पैसे इकट्ठे करते जाना. चैनल के नाम पर दाएं बाएं से पैसे उगाहते जाना.

सुब्रत रॉय सहारा ने मैरिएट होटल्स खरीदने के लिए लगाई बोली

लंदन: भारतीय अरबपति व्यवसायी और लंदन के सम्मानित ग्रोसवेनर हाउस होटल के मालिक सुब्रत रॉय का बिजनेस समूह सहारा यहां के एक बहुत नामी होटल मैरियट होटल्स को खरीदने की तैयारी कर रहा है। संडे टाइम्स के मुताबिक सहारा ने इस होटल की कीमत लगाई है 75 करोड़ पाउंड (लगभग 5808 करोड़ रुपए)। इसके लिए अंतर्राष्ट्रीय रीयल एस्टेट एजेंसी जोन्स लांग ला साल तथा एक कॉर्पोरेट फाइनेंस कंपनी हॉक प्वाइंट उनकी मदद कर रहे हैं।

जनसंदेश टाइम्स, वाराणसी पहुंचे रवींद्र, राकेश, परितोष एवं कैलाश

बनारस से जल्द लांच होने जा रहे जनसंदेश टाइम्स ने एक बार फिर हिंदुस्तान को झटका दिया है. आईटी सेक्शन से जुड़े चार वरिष्ठ हिंदुस्तान से इस्तीफा देकर जनसंदेश टाइम्स पहुंच गए हैं. सभी को सेम पद पर लाया गया है. इस्तीफा देने वालों में कम्यूनिकेशन इंचार्ज रवींद्र नारायण सिंह, सीटीपी इंचार्ज राकेश राय, इंजीनियर परितोष त्रिपाठी एवं कम्युनिकेशनकर्मी कैलाश शामिल हैं. उल्लेखनीय है कि इनके पहले भी हिंदुस्तान के कई वरिष्ठ जनसंदेश टाइम्स ज्वाइन कर चुके हैं.

सरकार में खबरों के लिए जिम्मेदार हरीश खरे को अपने ही जाने की खबर नहीं थी

अजब हालत है कि जो व्यक्ति सरकार में खबरों के लिए जिम्मेदार था, उसे खुद अपनी छुट्टी होने की खबर नहीं थी. प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार पद से हरीश खरे को हटाने का फैसला छह महीने पहले किया जा चुका था. सरकार के विचारों को जनता में पहुंचाने में उनकी नाकामी से कांग्रेस नेतृत्व खफा था.

पंजाब में एचटी ने कैप्टन से करोड़ों की डील की थी!

चर्चा है कि पंजाब में हिंदुस्तान टाइम्स और हिंदुस्तान अखबार ने संयुक्त रूप से कांग्रेस के कैप्टन अमरिंदर सिंह से चुनावी डील के तहत दो करोड़ रुपये लिए. इसके एवज में कांग्रेस के लिए छह लाख कापियों का सप्लीमेंट छपवाया गया. कांग्रेस के घोषणा पत्र को बंटवाने की जिम्मेदारी एचटी ने ली थी और बंटवा भी दिया. मतलब, एचटी ने करोड़ों की डील करके कांग्रेस के पंफेलट, घोषणापत्र, सप्लीमेंट आदि के छापने और बांटने का काम अपने जिम्मे ले लिया. ये है नए दौर का मीडिया मैनेजमेंट जिसे मीडिया हाउस खुद कर रहे हैं.

चीनी मिल बिक्री घोटाला : करोड़ों में कराया आधुनिकीकरण और बेच दिया कौड़ियों में

इलाहाबाद। बसपा सरकार ने सरकारी चीनी मिलों को अपने चहेते शराब माफिया पोंटी चड्ढा ग्रुप को व अन्य कंपनियों को कौडिय़ों के मूल्य पर बेचकर हजारों करोड़ रुपए का घोटाला किया है। अमरोहा, बुलंदशहर, खड्डा, मोहिद्दीनपुर, रोहनकला, सहारनपुर, सरखैनी, टांडा, सिसवां बाजार, बिजनौर, जरवल रोड व चांदपुर की चालू हालत में चीनी मिले हैं, जिनके आधुनिकीकरण पर प्रदेश सरकार करोड़ों रुपए खर्च कर चुकी है मगर बसपा सरकार ने पहले इनका कम मूल्यांकन कराया फिर मूल्यांकन राशि में कटौती की और मात्र 615 करोड़ रुपए में इन्हें बेच दिया गया। इन चीनी मिलों के पास हजारों एकड़ भूमि भी थी जिसकी कीमत इस राशि से कई गुना ज्यादा है।

पत्रकार परिषद के राज्य स्तरीय सम्मेलन में कई पत्रकार सम्मानित

: समर्पण की भावना से समाजसेवा में योगदान दें पत्रकार — प्रो. धूमल : बिलासपुर : हिमाचल प्रदेश के मुख्यमन्त्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने पत्रकार वर्ग से आह्वान किया है कि वे समाज सेवा के लिए समर्पित होकर अपना योगदान दें। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार सदैव पत्रकारों के कल्याण के लिए समर्पित रही है और उनके कार्य निष्पादन को सुगम बनाने के लिए अनेकों सुविधाएं एवं प्रोत्साहन दिए जा रहे हैं। मुख्यमन्त्री ने कल बिलासपुर में हिमाचल प्रदेश पत्रकार परिषद् के राज्य स्तरीय सम्मेलन में अपने अध्यक्षीय सम्बोधन में यह बात कही।

डेटिंग कर रहे जोड़ों को अनैतिक कहने वाली एंकर माया खान पर गिरी गाज

इस्लामाबाद : टीवी पर सुबह दिखाए जाने वाले एक कार्यक्रम में कराची के पार्कों में डेटिंग कर रहे जोड़ो को ‘अनैतिक’ कहने के कारण पूरे पाकिस्तान में नाराजगी का शिकार हुई प्रस्तोता के खिलाफ चैनल ने कार्रवाई की है। शमा चैनल ने इस कार्यक्रम के लिए पाकिस्तानी जनता और मीडिया विश्लेषकों की आलोचना झेल रही माया खान के बिना शर्त माफी मांगने में नाकाम रहने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की। कई लोगों की हस्ताक्षरित याचिकाओं में चैनल से माया के खिलाफ उनके कार्यक्रम ‘सुबह सवेरा माया खान के साथ’ पर कार्रवाई करने को कहा गया था।

नई दुनिया से अशोक सिंह एवं हर्ष का इस्तीफा, अशोक जायसवाल की नई पारी

नई दुनिया, जबलपुर से खबर है कि सर्कुलेशन विभाग में कार्यरत अशोक सिंह एवं हर्ष ने इस्तीफा दे दिया है. इसके अलावा भी कुछ और लोगों के इस्तीफे की खबर है. बताया जा रहा है कि कुछ आतंरिक तनातनी के बाद सभी ने इस्तीफा दे दिया है. ये लोग अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है.

इंडिया टीवी ने किया 100 नेताओं का स्टिंग, दिखाया केवल 11 : इमरान

सहारनपुर। कांग्रेस की चुनावी पर्यवेक्षक नूरी खान की मौजूदगी में रविवार को घंटाघर स्थित महारानी होटल सभागार में गुर्जर समाज के कई नेता कांग्रेस में शामिल हुए। विधायक इमरान मसूद ने कहा कि इंडिया टीवी चैनल ने 100 नेताओं का स्टिंग ऑपरेशन किया है जिसमें वे पैसा मांग रहे हैं। चैनल ने केवल 11 को ही दिखाया है। चैनल को सभी को बेनकाब करना चाहिए।

सब टीवी एवं लापतागंज की टीम के खिलाफ मामला दर्ज

नकोदर। स्थानीय पुलिस ने राष्ट्रीय स्तर पर प्रसारण करने वाले चैनल सब टीवी के खिलाफ मामला दर्ज किया है। यह मामला पुलिस ने भगवान वाल्मीकि सर्व सेवा दल के प्रधान रोनी गिल की शिकायत पर दर्ज किया है। थाना सदर नकोदर के प्रभारी हरप्रीत सिंह ने मामला दर्ज को करने की पुष्टि की है।

महाराष्ट्र टाइम्स के कार्यालय पर हमला करने वाले 16 शिवसैनिक गिरफ्तार

: शिवसेना सांसद ने कहा – अखबार पर करेंगे 100 करोड़ की मानहानि का दावा : मुंबई. मुंबई पुलिस ने टीओआई के वेंचर एवं मराठी दैनिक ‘महाराष्ट्र टाइम्स’ के कार्यालय पर हमला और तोड़फोड़ करने के मामले में 16 लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस के हत्थे चढ़े सभी आरोपी शिवसेना सांसद आनंद अडसूल के समर्थक बताये जाते हैं. पुलिस का कहना है कि अखबार में शिवसेना सांसद अडसूल के राक्रांपा में जाने की संभावना संबंधी एक खबर के प्रकाशन से ये लोग नाराज थे.

औरैया में डिप्टी एसपी ने की पत्रकारों से बदतमीजी, सूचनाधिकारी से भी मांगा पास

उत्तर प्रदेश में पांचवें चरण के लिए होने वाले चुनाव की आज अधिसूचना जारी होते ही प्रत्याशियों के  नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो गयी. इस दरम्यान उत्तर प्रदेश के औरैया की कलेक्ट्रेट में समाचार कवरेज करने गए पत्रकारों को पुलिस की अभद्रता से दो-चार होना पड़ा. अपराधियों के सामने दुम हिलाने वाले पुलिस के एक डिप्टी एसपी छेदा लाल शर्मा की भाषा सुन पत्रकार हक्के बक्के रह गए. कलेक्ट्रेट के अन्दर प्रवेश कर रहे पत्रकारों को अपमानजनक शब्दों का प्रयोग कर रोकने वाले इस पुलिस अफसर को जब जिले के सूचना अधिकारी ने अपना परिचय बताकर पत्रकारों को अन्दर जाने के लिए अनुरोध किया और अपर जिला अधिकारी से बात करानी चाही तो यह बेलगाम पुलिस अफसर सूचना अधिकारी पर भी रोब ग़ालिब कर उनसे भी पास माँगने लगा.

आईपीएस अमिताभ ने उठाई ऐकिक पुलिस एसोशियेशन बनाए जाने की मांग

1992 बैच के आईपीएस अधिकारी अमिताभ, जिन्होंने पूर्व में सितम्बर 2011 में आईपीएस एसोशियेशन से इस्तीफा दे दिया था, ने आज प्रमुख सचिव (गृह, उत्तर प्रदेश को एक बार पुनः उत्तर प्रदेश पुलिस के विभिन्न रैंकों के समस्त पुलिस कर्मियों के लिए ऐकिक पुलिस एसोशियेशन बनाए जाने के लिए पत्र प्रेषित किया है. उन्होंने यह पत्र आयुक्त, बस्ती एवं एसपी, सिद्धार्थनगर के बीच हुए विवाद के बाद आईपीएस एसोशियेशन द्वारा उठाये गए कदम एवं कई आईपीएस अधिकारियों द्वारा पद से इस्तीफा देने की मांग के सन्दर्भ में लिखा है.

गोमांस तस्करी मामले से बरी हुआ अमर उजाला का रिपोर्टर

: जागरण के पत्रकार पर पहले ही गिर गई थी गाज : मेरठ। गत दिनों मेरठ जनपद के फलावदा कस्बे में दैनिक जागरण एवं अमर उजाला के रिपोर्टरों पर गोमांस तस्करी के लगे आरोप जांच पड़ताल में गलत साबित हुयी। अमर उजाला ने रिपोर्टर को क्लीन चिट दे दी है, लेकिन दैनिक जागरण के संवाददाता पर संस्थान ने खबर मिलने के बाद ही गाज गिरा दी थी।

जम्मू कश्मीर के वरिष्ठ पत्रकार सुरेश एस डुग्गर को पितृशोक

जम्मू कश्मीर के वरिष्ठ पत्रकार सुरेश एस डुग्गर के पिता का लंबी बीमारी के बाद आज निधन हो गया. उनका काफी समय से इलाज चल रहा था. वे अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं. आज दिन में शक्तिनगर श्मशान घाट पर उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया. इस दौरान उनके शुभचिंतकों समेत भारी …

आईपीएस अधिकारियों के इस्तीफे का दबाव आया काम, दो सदस्यीय कमेटी बनी

लखनऊ। बस्ती में कमिश्नर अनुराग श्रीवास्तव और एसपी मोहित गुप्ता के बीच शुरू हुए विवाद ने तूल पकड़ लिया है. यूपी में आईएएस और आईपीएस अफसरों के बीच तनातनी काफी बढ़ गई है. हाल ये है कि मोहित गुप्ता के साथ हुए अभद्र व्यवहार के बाद अब तक राज्य के 24 आईपीएस अफसरों ने अपना इस्तीफा भेज दिया है. सारे इस्तीफे आईपीएस एसोसिएशन को भेजे गए हैं. इन अफसरों ने फतेह बहादुर को हटाने की मांग की है. राज्य सरकार ने इस विवाद पर संज्ञान लेते हुए मामले की जांच के आदेश दिए हैं. वरिष्ठ आईएएस वीएन गर्ग, आईपीएस अरुण कुमार की जांच समिति बनाई गई है, जिसको तीन दिन के अंदर जांच रिपोर्ट सौंपनी है.

पोंटी के लिए सर्किल रेट की अनदेखी कर स्टांप ड्यूटी में लगाया 600 करोड़ का चूना

इलाहाबाद। भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक(सीएजी)की रिपोर्ट में कहा गया है कि जिन 35 चीनी मिलों को बसपा सरकार ने औने-पौने दामों में बेचकर सरकारी खजाने को हजारों करोड़ का चूना लगाया, उनकी मूल्यांकन प्रक्रिया अत्यंत त्रुटिपूर्ण थी। यह मूल्यांकन प्रक्रिया विभिन्न चीनी मिलों की संपत्तियों को भी चीनी मिलों के साथ खरीदारों को भारी एवं अनुचित लाभ देने के उद्देश्य से बनाई गई थी। दरअसल यह सारा खेल मायावती सरकार के चहेते शराब माफिया पोंटी चड्ढा ग्रुप को लाभ पहुंचाने के लिए खेला गया। यहां तक कि कर काटने के बाद भी फायदे में चल रही तीन चीनी मिलों बिजनौर, बुलंदशहर एवं चांदपुर को बेच दिया गया।

यूपी में आईएएस—आईपीएस एसोसिएशन आमने—सामने, छह आईपीएस अफसरों ने की इस्तीफे की पेशकश

: कुंवर फतेह बहादुर और अनुराग श्रीवास्तव के खिलाफ कार्रवाई की मांग की : यूपी चुनावी सरगर्मियों के बीच बस्ती में घटित एक घटनाक्रम ने यूपी में आईएएस एवं आईपीएस अफसरों के बीच गहरी खाई बना दी है. बस्ती मंडल के मंडलायुक्त अनुराग श्रीवास्तव द्वारा मंडल के अफसरों की मीटिंग के दौरान सिद्धार्थनगर के पुलिस अधीक्षक मोहित गुप्ता को फटकार लगाना और मीटिंग से जाने को कहना अब तूल पकड़ लिया है. आईपीएस एसोसिएशन ने बस्ती मंडल के मंडलायुक्त अनुराग श्रीवास्वत और कुंवर फतेह बहादुर पर कार्रवाई की मांग की है. बताया जा रहा है कि इस घटना से नाराज छह आईपीएस अधिकारियों ने अपने इस्तीफे की भी पेशकश की है.

इंडिया टीवी के स्टिंग में फंसे नरेंद्र सिसोदिया पर मुकदमा, 10 अन्य पर आज कसेगा शिकंजा

दिल्ली। इंडिया टीवी के स्टिंग में पैसा मांगते पाए गए 11 प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव आयोग ने रिपोर्ट दर्ज करने के निर्देश दिए हैं. आयोग ने यूपी के जिला निर्वाचन अधिकारियों को यह निर्देश दिए हैं. आयोग के अधिकारियों के निर्देश के बाद शनिवार की रात गाजियाबाद प्रशासन ने नरेंद्र सिसोदियाके खिलाफ मोदीनगर थाने में एफआईआर दर्ज करा दी है. अन्य दस प्रत्याशियों के खिलाफ रविवार की शाम तक रिपोर्ट दर्ज करा दी जाएगी.

जागरण के पत्रकार को दी गई जान से मारने की धमकी

अमृतसर : गांव रामपुरा में एक नेता के समर्थकों ने पंजाबी जागरण से संबद्ध पत्रकार रमेश रामपुरा को जान से मारने की धमकियां दी हैं। घटना के संबंध में रमेश रामपुरा ने बताया कि बीते दिनों गांव रामपुरा में किसी अज्ञात व्यक्ति ने विधानसभा हलका अटारी के कांग्रेस प्रत्याशी तरसेम सिंह डीसी के चुनाव के संबंध में लगे होर्डिंग को फाड़ दिया। कवरेज के लिए रमेश रामपुरा ने फटे होर्डिंग की तस्वीरें लीं। इस पर एक नेता के समर्थकों ने रमेश रामपुरा के घर के आ कर धमकी दी व गाली गलौच की।

जब पीएमओ ट्विटर पर आ गया तो चुनाव आयोग को क्यों परहेज!

: योगेश कुमार शीतल ने मुहिम शुरू की : चुनाव आयोग से लोग बहुत उम्मीद करते हैं. और, चुनाव आयोग अक्सर उम्मीदों पर खरा उतरता भी है. चुनाव को धनबल, बाहुबल आदि से मुक्त कराने में चुनाव आयोग की भूमिका प्रशंसनीय है. पर इधर के दिनों में खुद मीडिया वाले जब पेड न्यूज करने लगे और भ्रष्ट लोगों से मिलकर चुनाव आयोग को चकमा देने की चाल चलने लगे तो स्थिति बहुत जटिल हो गई. मीडिया वालों की पेड न्यूज की हरकत पर नजर रखने के लिए चुनाव आयोग ने नियम कानून बनाए और प्रशासन को कई तरह के निर्देश दिए. इसका नतीजा यह हो रहा है कि पेड न्यूज अब नए नए शक्ल में सामने आ रहा है.

पत्रकार दिनेश चंद्र मिश्र ने टिकटार्थी बनकर एक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का किया स्टिंग

लखनऊ। काले धन की महिमा अपरंपार है। नेताओं का काला धन भले ही विदेश से नहीं आ पाया लेकिन राजनीति और काले धन में किस कदर गठजोड़ है इसका अंदाजा चुनाव आयोग की सख्ती से पकड़़े गए करोड़ों रुपए को देखकर लगाया जा सकता है। टिकट बेचने की बात राजनीतिक गलियारों में अब खेल नहीं है, लेकिन काले धन का सियासी गणित समझने के लिए कैनविज टाइम्स के विशेष संवाददाता दिनेश चंद्र मिश्र पहुंच गए टिकटार्थी बनकर राजनीतिक पार्टियों की मंडी में। यह संवाददाता जब टिकटार्थी बनकर उत्तर प्रदेश विधानभवन के सामने दारुलशफा जाने वाले गेट के रास्ते सत्याग्रह मार्ग पर पहुंचा तो चंद कदम चलते ही नजर पड़ी विकास पार्टी के बोर्ड पर।

कैनविज टाइम्स दैनिक के रूप में हुआ प्रकट, पढ़ें दीन का विशेष संपादकीय

लखनऊ : कैनविज टाइम्स नामक अखबार अब लखनऊ शहर में दैनिक के रूप में प्रकट हो गया है. इस री-लांचिंग पर इस अखबार के प्रधान संपादक प्रभात रंजन दीन ने पहले पेज पर लंबा चौड़ा संपादकीय लेख लिख मारा है. क्या कुछ समझाया सिखाया बताया है उन्होंने, खुद पढ़िए और जानिए…

डीबी कॉर्प : मुनाफा घटा, राजस्व बढ़ा

वित्त वर्ष 2012 की तीसरी तिमाही में डीबी कॉर्प का मुनाफा 29 फीसदी घटकर 55.4 करोड़ रुपये हो गया है। पिछले वित्त वर्ष की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में डीबी कॉर्प का मुनाफा 77.8 करोड़ रुपये रहा था। मौजूदा वित्त वर्ष की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में डीबी कॉर्प का राजस्व 13.6 फीसदी बढ़कर 396.5 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। वहीं वित्त वर्ष 2011 की तीसरी तिमाही में डीबी कॉर्प का राजस्व 348 करोड़ रुपये रहा था।

स्वर्गीय नरेंद्र मोहन गुप्ता जी अखबार में संपादक से लेकर स्वीपर तक को ट्रेनी रखते थे!

अर्थकाम डॉट कॉम एक हिंदी वेबसाइट है, आर्थिक मामलों पर केंद्रित. इसे वरिष्ठ पत्रकार अनिल रघुराज मुंबई से संचालित करते हैं. हिंदी में आर्थिक मामलों की एक सरल, सहज व जनपक्षधर वेबसाइट है अर्थकाम डॉट कॉम. इसमें कुछ दिन पहले, यानि 24 जनवरी को राज शेखर का लिखा एक विश्लेषण छपा है. इसमें बताया गया है कि जागरण प्रकाशन के शेयर खरीदने से लाभ मिलने वाले हैं. इस लेख में जागरण के शेयर के आने वाले अच्छे दिनों की बात करते करते लेखक ने नरेंद्र मोहन के बारे में भी कुछ चर्चाएं की हैं. क्या कहा लिखा है उन्होंने, नीचे पढ़ें. -एडिटर, भड़ास4मीडिया

महोबा में उमा भारती के नामांकन के दौरान प्रशासन व मीडियाकर्मियों में झड़प

महोबा : नामांकन के दौरान मीडिया के लोगों को भी बिना परिचय पत्र दिखाये कलेक्ट्रेट में घुसने की इजाजत नहीं थी। सूचनाधिकारी की पहल पर जैसे तैसे परिसर में घुसने का मौका मिला तो पुलिस ने नामांकन कक्षों से दस मीटर पहले ही सभी को रोक लिया। उमा भारती नामांकन करने पहुंची तो उनका पर्चा दाखिल करते हुये फोटो लेने को सभी बेताब हो गये। जिला ही नहीं राजधानी लखनऊ से भी इलेक्ट्रानिक मीडिया के तमाम लोग कवरेज करने यहां आये थे।

नोएडा के सेक्टर 71 में मीडियाकर्मी की पत्नी की चेन छीन ली बदमाशों ने

नोएडा । बाजार से खरीदारी कर लौट रही मीडिया कर्मी की पत्नी से मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने चेन छी ली। मामले की जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस मामले की जांच कर रही है। मीडिया कर्मी संजय शाह परिवार के साथ सेक्टर 71 में रहते हैं। उनकी पत्नी पूनम शाह शनिवार को खरीदारी करने सेक्टर …

गाजियाबाद में प्रेस फोटोग्राफरों पर जानलेवा हमला

गाजियाबाद : गाजियाबाद के मोदीनगर में प्रेस फोटोग्राफरों द्वारा गैस की कालाबाजारी की कवरेज करने से गुस्साये नगर के एक गैस एजेंसी मालिक ने अपने लोगों के साथ मिलकर जानलेवा हमला किया और फोटोग्राफरों से कैमरे छीन कर तोड़ डाले। फोटो पत्रकार ने इस बात की रिपोर्ट कोतवाली में दर्ज कराई है। पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) ने बताया कि एक दैनिक अखबार में फोटो पत्रकार सुशील सोनी व एक अन्य दैनिक में सहयक फोटोग्राफर सुमित कुमार भारत गैस के वितरक हैप्पी होम गैस सर्विस के मालिक अरूण मदान द्वारा गैस की कालाबाजारी के विरोध में जिला पंचायत सदस्य संदीप जीनवाल द्वारा किये जा रहे प्रदर्शन की कवरेज कर रहे थे। इसी दौरान उन पर हमला बोल दिया गया।

जब ‘खंडूड़ी हैं जरूरी’ तो 2009 में उन्हें हटाया क्यों गया!

देहरादून। कांग्रेस महासचिव व प्रदेश प्रभारी चौधरी वीरेंद्र सिंह ने कहा कि भाजपा के पास कोई चुनावी मुददा नहीं रहा इसलिए ‘खंडूडी हैं जरूरी’ का नारा देकर अपनी मजबूरी दिखा रहे हैं। भाजपा का यह नारा बेअसर हो चुका है क्योंकि मतदाता पूछ रहे हैं कि जब खंडूड़ी जरूरी हैं तो 2009 में उन्हें हटाया क्यों गया? उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जो मुद्दे उठाए हैं उसका व्यापक असर हो रहा है। इससे आम मतदाता कांग्रेस से जुड़ रहा है। शनिवार को वीरेंद्र सिंह ने कहा कि पार्टी ने चुनावों में जो भी मुद्दे उठाए हैं उन्हें मतदाताओं का पूर्ण समर्थन मिल रहा है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता कि कांग्रेस की रैलियों में भारी संख्या में लोगों ने शिरकत की जबकि भाजपा के स्टार प्रचारकों की रैलियों में सन्नाटा रहा।

सपा सरकार बनी तो बसपा राज में बने स्मारक और पार्कों की नीलामी होगी : अखिलेश

देवरिया । समाजवादी पार्टी के उत्तरप्रदेश इकाई के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में पार्टी की सरकार आने पर बसपा के कार्यकाल में बने स्मारक और पार्क नीलाम किए जाएंगे। श्री यादव ने यहां से बीस किलोमीटर दूर भटनी में जनसभा में कहा कि मुख्यमंत्री मायावती ने स्मारक .पार्क और मूर्तियों में जनता की गाढी कमाई का करोडों रूपया खर्च किया है। सपा की सरकार राजधानी लखनऊऔर नोएडा में बने इन पार्क और स्मारक को नीलाम पर मिले पैसे को जनहित के काम में लगाएगी।

‘ऑपरेशन इल्वेडॉन’ के तहत ‘द सन’ अखबार के चार पत्रकार गिरफ्तार

लंदन । ब्रिटिश पुलिस ने ‘द सन’ समाचार पत्र के चार पूर्व और मौजूदा पत्रकारों तथा एक पुलिस अधिकारी को शनिवार को गिरफ्तार किया। इन्हें रूपर्ट मडरेक के न्यूज कॉपोरेशन के मालिकाना हक वाले अखबारों में फोन हैकिंग से संबंधित विवाद को लेकर जारी जांच के तहत गिरफ्तार किया गया है। पांचों को ‘ऑपरेशन इल्वेडॉन’ के तहत गिरफ्तार किया गया है।

जिस जिले का कलक्टर बना उस जिले को बार-बार घटिया कहा, विरोध में जिला बंद

अभी सप्ताह भर पहले छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले के कलेक्टर ने पूरे जिले को ''घटिया'' कह दिया. एक नहीं अनेक बार कहा. वहां लोग गुस्से मे आ गए और 'जशपुर बंद'. 'जशपुर जिला' बंद रहा. खबर तो छपी मगर जैसा प्रतिकार होना था, नहीं हुआ. यहाँ की पत्रकारिता सत्ता-प्रशासन से आतंकित रहती है. मेरा एक शेर है- ''जिसे चाहिए सुविधाएँ वो, सच कहने से डरता होगा''. कलेक्टर अभी तक वहीं है. कम से कम उसका तबादला तो होता, यही सजा काफी होती उसके लिए. 'बड़ा' पद मिल जाये तो घमंड आ जाता है. रायगढ़ जिले के एक कलेक्टर ने एक वरिष्ठ पत्रकार को पिछले साल भद्दी गाली दे कर 'गेटआउट' कह दिया था. 

बेशर्मी के महाकुंभ में स्नान करते अखबार व पत्रकार

पंजाब के किन्हीं सज्जन ने media.facts.in@gmail.com मेल आईडी से कई लोगों को ग्रुप में मेल भेजा है. इस मेल में एक फोटो फाइल अटैच है. इस फोटो फाइल में कोई तस्वीर नहीं बल्कि एक खबर है. पंजाब विधानसभा चुनाव से संबंधित इस खबर में पेड न्यूज की महिमा का बखान किया है. आप भी पढ़िए बंदे ने क्या खुलासा किया है और क्या बताने की कोशिश की है. अगर आप भी विधानसभा चुनावों में मीडिया की भूमिका पर नजदीक से नजर रखे हुए हैं तो अपनी बात bhadas4media@gmail.com के जरिए भड़ास तक पहुंचा सकते हैं. अनुरोध करने पर आपका नाम और आपकी मेल आईडी को गोपनीय रखा जाएगा.

राष्ट्रीय सहारा, पटना में संपादक के चहेत हुए लाभान्वित, बाकियों में नाराज़गी

राष्ट्रीय सहारा के पटना यूनिट के संपादकीय विभाग में वेतन पर्ची बंटते ही असंतोष व्याप्त हो गया है. स्थानीय सम्पादक हरीश पाठक के चहेतों को सबसे अधिक लाभान्वित होने को लेकर सम्पादकीय विभाग के एक बड़े खेमे में व्यापक नाराजगी है. लोगों का कहना है कि पाठक के इस व्यवहार से उत्पादक कार्यकर्ताओं के भावनाओं पर ठेस पहुँची है. अरूण पांडेय, संजय त्रिपाठी, किशोर केशव, अमित पार्थ सारथी, अवध, स्वप्निल तिवारी जैसे सम्पादक के करीबी माने जाने वाले लोगों की वेतन वृद्धि 30 प्रतिशत तक कर दी गयी है, जबकि अधिकांश लोग सहारा के अंतिम मानक पर ही अटक कर रह गए हैं. लोगों का आरोप है कि बार-बार इन्हीं लोगों का वेतप वृद्धि और प्रोन्नति क्यों की जाती है.

राज एक्सप्रेस के प्रोडक्शन मैनेजर को लूटने वाले को सजा

इंदौर। डेढ़ साल पहले राज एक्सप्रेस के प्रोडक्शन मैनेजर व एक कर्मचारी को लुटनेवाले आदतन लुटेरे लखन जाट व उसके साथी को इंदौर की सेशन कोर्ट ने 28 जनवरी को सजा सुनाई है। उसने इस वारदात के अलावा तीन अन्य वारदातें की थी। घटना 26 जून 2010 की रात सवा दो बजे की है। राज एक्सप्रेस के प्रोडक्शन यूनिट का एक कर्मचारी यशवंत विश्वकर्मा बाईक से तत्कालीन प्रोडक्शन मैनेजर नितिन श्रीवास को उनके संचारनगर स्थित घर पर छोड़ने जा रहा था। जब वे बंगाली चौराहे पर पहुंचे तो स्कीम नंबर 78 में लूट व हत्या की वारदात को अंजाम देकर काली बाईक पर गुजर रहे लखन पिता रमेश जाट (19 साल) व अमित उर्फ भय्यू पिता अशोक आदीवाल (20 साल) दोनों निवासी परदेशीपुरा की नजर इन पर पड़ी।

सहारा से विदा हुए मनोज दुबे, कई तरह की चर्चाएं

सहारा समय चैनल के एसएनबी हेड (टीवी) मनोज दुबे को सहारा मीडिया से हटाए जाने की सूचना मिली है. बताया जाता है कि मनोज दुबे सहारा मीडिया के हेड स्वतंत्र मिश्रा के करीबी थे. सूत्रों के मुताबिक मनोज को सहारा से हटाए जाने की सूचना मेल के जरिए जारी कर दी गई है और नोटिस बोर्डों पर चस्पा कर दी गई है.

पत्रिका ग्रुप में कई पत्रकारों का इधर-उधर तबादला

राजस्थान पत्रिका समूह से कुछ लोगों के तबादले की सूचना है. जयपुर रीजनल से टोंक ब्यूरो इंचार्ज बनाए गए सुरेंद्र चतुर्वेदी को सवाई माधोपुर भेजा गया है. जयपुर से हरविंदर को टोंक भेजा गया है. सवाई माधोपुर के धैर्य मिश्रा को पहले प्रतापगढ़ भेजा गया. फिर एक दिन में ही ट्रांसफर आर्डर में बदलाव करते हुए उन्हें करोली जाने के लिए कह दिया गया है.

अंग्रेजी दैनिक पायोनियर के पत्रकार अमरनाथ पर भाजपा नेत्री मधु ने इसलिए कराया हमला!

बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के महासचिव एवं भारतीय पत्रकार परिषद् सदस्य अरुण कुमार ने बिहार की राजधानी पटना में अंग्रेजी दैनिक पायोनियर के वरिष्ठ पत्रकार अमरनाथ तिवारी पर शुक्रवार को भाजपा नेता मधु वर्मा और उनके पुत्र ऋतुराज के गुंडों के जरिये राजेन्द्र नगर के चारमीनार अपार्टमेन्ट परिसर में जानलेवा हमले की सख्त निंदा की है. चिंता की बात यह भी है कि कदमकुआं थाना में जब घायल अमरनाथ मामला दर्ज करने पहुंचे तो वहाँ के थानेदार ज्योति प्रसाद ने उनको मुकदमा दर्ज करने से रोकने की कोशिश की और जब उनके मना करने के बावजूद उन्होंने मुकदमा दर्ज किया तो उन्हें ऍफ़आइआर का नंबर भी नहीं दिया गया. कुमार ने इस सन्दर्भ में पुलिस के इस रुख पर गंभीर चिंता व्यक्त की है.

टीओआई, मुंबई आफिस पर हमले के खिलाफ काटजू ने महाराष्ट्र के सीएम को पत्र लिखा

Dear Chief Minister, I have come to know through various sources about the attack and vandalism in the Mumbai office of Times Of India. This is totally unacceptable in a democracy. Under Article 19 (1 ) (a ) of the Constitution of India, the media enjoys freedom, and under section 13 of the Press Council of India Act, it is the duty of the Press Council to maintain the freedom of the Press. If mediapersons or media offices are physically attacked it is gross violation of the media's Constitutional right.

आई-नेक्स्ट को प्रभात कुमार तिवारी ने अलविदा कहा

आई-नेक्स्ट में पिछले दो वर्षों से कार्यरत रिपोर्टर प्रभात कुमार तिवारी ने इस्तीफा दे दिया है. प्रभात बरेली यूनिट में कार्यरत थे लेकिन उनका तबादला रांची के लिए कर दिया गया था. सूत्रों के मुताबिक प्रबंधन को गुमराह करके प्रभात का तबादला रांची के लिए कराया गया. प्रभात रांची पहुंचे लेकिन उन्हें वहां कोई सपोर्ट नहीं मिला. वे वहां 31 दिसंबर तक रहे.

राजस्थान के मशहूर कार्टूनिस्ट और रंगकर्मी अभय वाजपेयी का निधन

जयपुर से एक दुखद समाचार है रंगकर्मी, कलाकार और बरसों तक राजस्‍थान पत्रिका के लिए 'झरोखा' में कार्टून रचने वाले त्रिशंकु, यानी परमप्रिय अभय वाजपेयी का दिल का दौरा पड़ने से कल देर शाम निधन हो गया. अभय वाजपेयी पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ चल रहे थे और उनका इलाज एक अस्पताल में चल रहा था. वे अस्पताल में इलाज के बाद पूरी तरह स्वस्थ हो गए थे. वे अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर रवाना होने की तैयारी कर रहे थे.

निशंक के खिलाफ खबर दिखाने पर वीओएन चैनल के आफिस में तोड़फोड़

देहरादून से खबर है कि न्यूज चैनल वायस आफ नेशन पर भीड़ के एक झुंड ने धावा बोलकर तोड़फोड़ की है. यह घटना बीती शाम दस बजे के आसपास की है. पता चला है कि वायस आफ नेशन चैनल पर किसी भाजपा नेता के बारे में कोई खबर चल रही थी. उसी दौरान कुछ लोगों ने हंगामा करते हुए चैनल के आफिस पर हमला कर दिया. भीड़ ने तोड़फोड़ की. भीड़ की तरफ से पेट्रोल बम भी फोड़े जाने की खबर है.

पत्रकार के हमलावर को मनपा चुनाव में उतारेगी कांग्रेस

मुंबई : यहाँ हो रहे महानगर पालिका चुनाव में कांग्रेस का एक ऐसा भी उम्मीदवार चुनाव मैदान में होगा, जो पत्रकार का हमलावर रहा है. इस भावी उम्मीदवार के खिलाफ मुंबई पुलिस में मामला दर्ज है. हालाँकि इसकी उम्मीदवारी के खिलाफ कांग्रेस का ही एक घटक मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष कृपाशंकर सिंह से लेकर सोनिया गाँधी तक आवाज उठा रहा है, लेकिन मुंबई कांग्रेस है कि उसे एक बार फिर से उम्मीदवार बनाने पर अमादा है.

हिंदुस्तान, इटावा ब्यूरो चीफ संतोष पाठक को प्रतिभा सर्टिफिकेट

हिंदुस्तान, इटावा के ब्यूरो चीफ संतोष पाठक को प्रधान संपादक शशि शेखर ने प्रतिभा सर्टिफिकेट के साथ पुरस्कार राशि भेजी है। एक साल पहले इटावा ब्यूरो चीफ के पद पर भेजे गए संतोष पाठक को लेकर तरह तरह के कयास लगाए जा रहे थे। दिसंबर 2011 को अमर उजाला औरैया ब्यूरो चीफ के पद से इस्तीफा देकर हिंदुस्तान, इटावा में पहुंचने पर संतोष पाठक को काफी पापड़ बेलने पड़े थे। इटावा में आते ही वे बुरी तरह विवादित हो गए थे। उनके आते ही कई एजेंसी बंद हो गईं थीं और यहां आते ही कई रिपोर्टर भी काम छोड़ गए थे। लेकिन पिछले कुछ महीनों से इटावा में हिंदुस्तान अखबार ने न केवल जलबा बिखेर दिया, बल्कि कई गुना अखबार भी बढ़ गया। हिंदुस्तान के प्रधान संपादक शशि शेखर ने सर्टिफिकेट भेजकर संतोष पाठक के काम की सराहना की है।

अब कंपनी की मैनेजरी संभालेंगे सुधीर चौधरी

लाइव इंडिया के एडिटर इन चीफ और सीईओ सुधीर चौधरी को लेकर चर्चाएं अब भी खतम नहीं हुई  हैं. अब उन्हें मैनेजर बना दिया गया है. अब इसे उनका प्रमोशन कहा जाए या डिमोशन इसे आप तय करें, पर कंपनी की 20 जवरी को हुई मीटिंग में उन्हें मैनेजर का पद दे दिया गया है. इसकी जानकारी ब्रॉडकास्ट इनिसिएटिव लिमिटेड ने बीएसई तथा एनएसई को दी है. आप भी देखे सुधीर चौधरी के बारे में नई जानकारी.

Youth festival left JIMS high on zest and zeal

New Delhi : Campus of Jagan Institute of Management Studies, got a make over, when students immersed in youthful exuberance during the zonal prelims of Anugoonj, the Annual Cultural Festival of Guru Gobind Singh Indraprastha University. A number of events and competitions catering to a variety of disciplines such as music, literature, dance, poetry, theatre and fine arts were a part of this zone-2 fest. This year the topics for the events were very topical and related to the recent happenings which have left an impact on the nation. The topic for debate was “Thanks to Social Networking Sites- there is no face to face interaction”, “62 years of Republic India” for painting competition and “Politics, Corruption & Lokpal Bill” for collage competition.

बसपा ने नूरपुर से तीसरी बार बदला प्रत्याशी, वेद प्रकाश की जगह हाजी उस्मान को मिला टिकट

​बिजनौर : बहुजन समाज पार्टी ने बिजनौर की नूरपुर विधानसभा सीट से एक बार फिर प्रत्याशी बदल दिया है. नूरपुर से उसने पूर्व विधायक डॉ वेद प्रकाश चौहान का टिकट काट कर अब इस सीट पर मुस्लिम कार्ड खेलते हुए हाजी उस्मान अंसारी को अपना उम्मीदवार बनाया है. इस सीट पर सबसे पहले बसपा ने मौजूदा विधायक और माया सरकार में मंत्री रहे यशपाल सिंह को टिकट दिया था. बाद में उन्हें मंत्री पद से बर्खास्त कर उनका टिकट भी काट दिया गया था और भाजपा से आये पूर्व विधायक डॉ वेदप्रकाश को प्रत्याशी घोषित किया था.

हिंदुस्तान के ब्यूरोचीफ सर्वेश पर हमला, दुर्गेन्द्र बने नए ब्यूरोचीफ

हिंदुस्तान, फर्रुखाबाद से खबर है कि कुछ लोगों ने ब्यूरोचीफ सर्वेश मिश्रा पर हमला करके उन्हें घायल कर दिया. यह हमला किसी फोटो को लेकर किया गया, पर अंदर की बात यह बताई जा रही है कि यह हमला आपसी राजनीति का नतीजा है. पत्रकार ने हमला करने के मामले में जितेंद्र चंदेल समेत कुछ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

अमर उजाला, हिमाचल के संपादक गिरीश गुरनानी का इस्तीफा

अमर उजाला को हिमाचल प्रदेश में झटका लगा है. हिमाचल में अखबार के संपादक गिरीश गुरनानी ने इस्तीफा दे दिया दिया है. बताया जा रहा है कि वे अब अपनी नई पारी ​हिंदुस्तान अखबार के साथ दिल्ली में शुरू करने जा रहे हैं. उन्हें यहां भी सीनियर पद पर लाया जा रहा है. अमर उजाला …

अमरीका की धरती पर भारतीयता की खुशबू में लिपटी कहानियां

: पुस्तक समीक्षा : हिंदी कहानी में अमरीकी आकाश के अक्स में भारतीय स्त्री की छटपटाहट को, उस की तकलीफ, उस की संवेदना की नसों में निरंतर चुभ रही नागफनी के त्रास की आंच की खदबदाहट और उस की आहट का कोई मानचित्र पाना हो, उस का पता पाना हो तो इला प्रसाद का कहानी संग्रह उस स्त्री का नाम ज़रूर पढिए। अमरीकी सफलता का नशा और उस के जादू का जो मोतियाबिंद तमाम तमाम लोगों की आंखों में बसा है, वह भी उतर जाएगा। इला प्रसाद की यह कहानियां लगातार अमरीका में भी एक भारतीय संसार रचती मिलती हैं। ऐसे जैसे वह अमरीकी समाज में भारतीयता का कोई थर्मामीटर लिए घूम रही हों।

हिंदुस्तान, अमर उजाला की नजर में सैयद अहमद नहीं सिब्ते रजी हैं झारखंड के राज्यपाल

अब ये पत्रकारों की गलती है या फिर एजेंसी की, कहा नहीं जा सकता. पर इन गलतियों से हिंदुस्तान और अमर उजाला का पाठक समुदाय असमंजस में है. उनको समझ में नहीं आ रहा है कि उनके प्रदेश का राज्यपाल सैयद अहमद हैं या फिर सिब्ते रजी. क्योंकि हिंदुस्तान और अमर उजाला ने अपने खबर में सिब्ते रजी को झारखंड का राज्यपाल बताया है जबकि वर्तमान में झारखंड के राज्यपाल सैयद अहमद हैं. सिब्ते रजी पूर्व में झारखंड के राज्यपाल रह चुके हैं.

अनुराग मुस्कान इंडिया टीवी पहुंचे, आर्यन से लाला गए, नीलेश आए

राज्य सभा टीवी से खबर है कि सीनियर एंकर अनुराग मुस्कान ने इस्तीफा दे दिया है. वे कुछ समय पहले ही स्टार न्यूज से इस्तीफा देकर राज्य सभा पहुंचे थे. अनुराग अब अपनी मुस्कान के साथ इंडिया टीवी पहुंच गए हैं. अनुराग के राज्यसभा टीवी छोड़ने के कारणों का पता नहीं चल पाया है, परन्तु बताया जा रहा है कि पत्रकारिता की आजादी ना होने के चलते उन्होंने इस्तीफा दिया है.

डेहरी के बदतमीज थाना इंचार्ज के खिलाफ डीजीपी से शिकायत, आंदोलन की तैयारी में पत्रकार

रोहतास जिले के डेहरी आन सोन के प्रेस के महासचिव क्लब सचिव एवं दैनिक जागरण के पत्रकार कमलेश कुमार ने बिहार के डीजीपी को पत्र लिखकर डेहरी आन सोन के रेल थाना पुलिस इंचार्ज पप्पू कुमार शारदा को निलंबित करने की मांग की है. बताया जा रहा है कि रेल थाने पर तैनात पप्पू की हरकतों से हर कोई परेशान है.

जी न्यूज के पत्रकार को पूर्व मंत्री ने दी देख लेने की धमकी

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री एवं जनपद फिरोजाबाद से निर्दलीय विधायक अशोक यादव, जो सिरसागंज से जदयू क़ी सीट पर चुनाव लड़ रहे हैं, ने एक पत्रकार से अभद्रता की तथा उसे धमकी भी दिया. इसके चलते फिरोजाबाद के पत्रकारों में नाराजगी है. बताया जा रहा है कि 27 जनवरी को अशोक यादव अपने चुनाव का प्रचार कर रहे थे. इसी दौरान उनके क्षेत्र के नगला कांस गाँव के पूर्व प्रधान ने उनसे पूछ लिया कि विधायक जी पिछले पांच सालों में आप कहां थे, आपने तो इस गाँव में एक डलिया मट्टी तक नहीं डलवाई अब किस हैसियत से चुनाव में वोट मांग रहे हैं, तो बताया जाता है कि पूर्व मंत्री जी को गुस्सा आ गया और उन्होंने उस पूर्व ग्राम प्रधान से अभद्रता कर दी.

टीओआई, मुंबई के आफिस पर शिव सैनिकों का धावा

मुंबई से मिल रही एक खबर के मुताबिक शिव सैनिकों ने टाइम्स आफ इंडिया के दफ्तर पर धावा बोल दिया. बताया जाता है कि ये लोग टाइम्स आफ इंडिया में छपी किसी खबर से नाराज थे. टीओआई के अखबार महाराष्ट्र टाइम्स में एक शिवसेना नेता के बारे में खबर छपी थी. करीब तीन सौ की संख्या में शिवसैनिक टाइम्स आफ इंडिया आफिस पहुंच गए और शोरगुल व नारेबाजी करने लगे.

शिक्षिका के गुप्तांग में गोली-पत्थर डलवाने के आरोपी एसपी को वीरता पुरस्कार, विरोध शुरू

छत्तीसगढ़ के आईएएस-आईपीएस अधिकारियों का विवाद के साथ गहरा नाता होता जा रहा है..जहां एक ओऱ जशपुरनगर के कलेक्टर अंकित आनंद द्वारा अपने ही जिले को देश का सबसे घटिया जिला कहने पर बवाल अभी थमा ही नहीं था कि प्रदेश के एक आईपीएस अफसर को राष्ट्रपति के पुलिस वीरता पदक दिए जाने की घोषणा के साथ ही नया बवाल खड़ा हो गया है.. दरअसल दंतेवाड़ा के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक अंकित गर्ग को वीरता के लिए दिए गए पुलिस पदक से विवाद छिड़ गया है. सामाजिक संगठन गर्ग को इस तरह का पदक दिए जाने का विरोध कर रहे हैं क्योंकि उनके खिलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में एक आदिवासी महिला शिक्षक सोनी सोढ़ी को हिरासत में प्रताड़ित करने का मामला चल रहा है.

यूपी की माया सरकार और शराब माफिया पोंटी चड्ढा ने पच्चीस हजार करोड़ का चीनी मिल घोटाला किया!

इलाहाबाद। भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक ने उत्तर प्रदेश में औने-पौने दाम में चीनी मिलें बेचने के मामले में कई हजार करोड़ रूपये के घोटाले की पुष्टि की है। अनुमानत: 25 हजार करोड़ रुपये के इस घोटाले में मूल्यांकित किये गये मूल्यों में कटौती करने के कारण जहां 864.99 करोड़ रुपये राजस्व की क्षति हुई वहीं जो चीनी मिलें बेची गयीं उनके मूल्यांकन में सर्किल रेट की अनदेखी करने के कारण 600.18 करोड़ रुपये राजस्व की क्षति हुई। दरअसल सारा घोटाला और घपला मूल्यांकन के दौरान ही किया जाता है। इस तरह कुल 35 सरकारी चीनी मिलों को मायावती सरकार ने अपने चहेते शराब माफिया पोंटी चड्ढा ग्रुप को लाभ पहुंचाने के लिए गैरपारदर्शी ढंग से बेचा और सरकारी राजस्व को लगभग 25 हजार करोड़ का चूना लगाया।

पटना में पायनियर के असिस्टेंट एडिटर पर जानलेवा हमला

पटना में राष्ट्रीय दैनिक पायनियर के असिस्टेंट एडिटर अमरनाथ तिवारी के उपर कुछ अराजक तत्वों ने जानलेवा हमला किया है. तिवारी पर यह हमला उस समय किया गया जब वे अपने राजेंद्र नगर स्थित चारमीनार अपार्टमेंट में पौधों को पानी दे रहे थे. गंभीर रूप से घायल तिवारी को उनके परिजनों ने तत्काल पास के एक अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उनका इलाज चल रहा है. इस मामले में एक भाजपा नेता के पुत्र समेत अज्ञात लोगों के खिलाफ कदमकुंआ थाने में मामला दर्ज करा दिया गया है.

अभिव्यक्ति पर नियंत्रण : कुछ ट्वीट सेंसर करेगा टि्वटर

वाशिंगटन : सोशल नेटवर्किग साइटों पर भारत में सेंसरशिप की बात करने वाले दूरसंचार मंत्री कपिल सिब्बल को यह खबर राहत दे सकती है। माइक्रो ब्लॉगिंग साइट टि्वटर ने अलग-अलग देशों में चुनिंदा ट्वीट को सेंसर (नियंत्रित) करने की घोषणा की है। अपने ब्लॉग ट्वीट्स मस्ट फ्लो में सैन फ्रांसिस्को स्थित माइक्रो ब्लॉगिंग कंपनी टि्वटर ने कहा, यदि कानूनी रूप से जरूरी हुआ तो कंपनी किसी खास देश में यूजर्स की सामग्री को रोक सकती है। यह प्रस्तावित कदम ऐसे समय आया है जब भारत और गूगल प्लस, याहू, ट्विटर व फेसबुक सरीखी सोशल नेटवर्किंग साइट पर कंटेंट की जांच और आपत्तिजनक सामग्री को हटाने को लेकर कानूनी लड़ाई चल रही है।

माधुरी सिंह होंगी फोकस टीवी की चैनल हेड!

खबर है कि माधुरी सिंह फोकस टीवी ज्वाइन करने जा रही हैं. वे डिप्टी मैनेजिंग एडिटर कम चैनल हेड के पद पर आ रही हैं. माधुरी सिंह ने जी टीवी, इनाडू टीवी और सहारा समय में काम किया है. फिलहाल वो पी7 चैनल के साथ जुड़ी हुईं थीं. सहारा समय में लंहबे समय तक काम …

यूपी चुनाव : सपा की सत्ता प्राप्ति की राह लंबी और कांटों भरी, अखिलेश की साख दांव पर

समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, ऊर्जावान नेता और सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के पुत्र अखिलेश जिस तेजी से राजनीतिक गगन में उभरे हैं, वो किसी चमत्कार से कम नहीं है। हालांकि राजनीति उनकी रगों में दौड़ती है और राजनीति का ककहरा उन्होंने पालने में ही पढ़ लिया था। वे लोकसभा सांसद हैं और लगभग एक दशक से राजनीति में सक्रिय हैं। जब से अखिलेश ने प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी संभाली है उसी दिन से वो 2012 के विधानसभा चुनावों में सपा का परचम लहराने के लिए दिन-रात एक किये हुए हैं। अखिलेश के पिछले लगभग दो सालों की मेहनत रंग लाती दिखाई भी दे रही है। जिस तरह से उनके क्रांति रथ और जनसभाओं में भीड़ उमड़ रही है उससे विरोधी खेमे में खलबली तो मची ही है, समाजवादी पार्टी समर्थकों और नेताओं ने भी अखिलेश को अपना भावी नेता मान लिया है और वो उनके नेतृत्व में सत्ता के सपने देखने लगे हैं।   

बसपा की कलंक कथा में एक और नाम दर्ज, विधायक रामसेवक पर लगे गंभीर आरोप

: लोकायुक्त से शिकायत : बदायूं। बसपा विधायकों पर आरोप लगना नई बात नहीं है। विधायकों पर मुकदमे लिखे जाने और विभिन्न गंभीर आरोपों के चलते मंत्रियों के बर्खास्त होने का रिकॉर्ड बन चुका है। बसपा विधायकों के भ्रष्टाचार खुलने के क्रम में विनाबर विधान सभा क्षेत्र के निवर्तमान विधायक रामसेवक सिंह पटेल भी आ गये हैं। आपराधिक प्रवृत्ति के साथ अन्य तमाम गंभीर आरोप लगाते हुए सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के गांव नगला शर्की निवासी योगेन्द्र सिंह ने लोकायुक्त से विधिवत शिकायत की है।

मुख्य सचिव अनूप मिश्रा के विरुद्ध कार्यवाही क्यों नहीं की गयी?

हम कई बार देखते हैं कि निर्वाचन आयोग भी आधा-अधूरा काम ही करने में विश्वास करता है अथवा शायद पक्षपातपूर्ण रवैया भी अपनाता है. मैं ऐसा इसी लिए कह सकती हूँ कि जहाँ कई बार तो चुनाव आयोग बिना किसी शिकायत के अथवा बगैर कोई कारण बताए किसी भी आईएएस अथवा आईपीएस अधिकारी को चुनाव के दौरान उसके पद से हटाने के आदेश दे देता है, जिससे उसकी प्रतिष्ठा में भारी कमी होती है. इसके विपरीत कई बार स्वयं निर्वाचन आयोग की दृष्टि में अधिकारी गलत कर रहे होते हैं पर वह उसे काफी हलके में लेता है अथवा शायद नज़रंदाज़ सा कर रहा होता है.

खेल पत्रकार रघुनाथ राव तथा आकाशवाणी के पूर्व निदेशक करतार सिंह दुग्गल का निधन

नई दिल्ली| मशहूर खेल पत्रकार रघुनाथ राव का लम्बी बीमारी के बाद गुरुवार शाम निधन हो गया। वह 67 वर्ष के थे। राव को कुछ दिनों पहले ही राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी अंत्येष्टि शुक्रवार को सुबह 11 बजे निगमबोध घाट के विद्युत शवदाह गृह में की जाएगी। राव ने अपने पत्रकार जीवन की शुरुआत 1966 में 'टाइम्स ऑफ इंडिया' से की थी, 1976 में वह 'स्टेट्समैन' में चले गए। 1989 में वह 'संडे मेल' के लिए काम करने लगे। 1990 की शुरुआत में उन्होंने स्वतंत्र पत्रकारिता शुरू की थी। अपने परिवार में वह पत्नी रत्ना और बेटी रेवती को छोड़ गए हैं।

किशनगंज में विस्फोट, पत्रकार सहित तीन घायल

पटना। बिहार के किशनगंज जिले में गुरुवार को एक मकान में कुछ लोगों ने बम फेंक दिया, जिसमें एक स्थानीय पत्रकार सहित तीन लोग घायल हो गए। पुलिस के मुताबिक यह घटना बाहरकाठा थाना क्षेत्र के चतरगढ़ में हुई। कुछ लोग एक मकान में घुसने का प्रयास कर रहे थे और विरोध होने पर उन्होंने …

पत्रकार के परिजनों पर जानलेवा हमला, पिता, भाई व पत्‍‌नी बुरी तरह जख्मी

बगहा : गुरुवार की शाम भितहां थाना क्षेत्र के मलाही टोला गांव में पत्रकार महेन्द्र सहनी के घर उनके परिजनों पर जानलेवा हमला किया गया। जिसमें उनके पिता, भाई व पत्‍‌नी बुरी तरह जख्मी हो गए। जिनका इलाज सरकारी अस्पताल में चल रहा है। जानकारी के अनुसार गुरुवार की शाम उक्त पत्रकार अपने दरवाजे पर थे। तभी कुछ असामाजिक लोग घर पर चढ़ गए और उनके परिजनों पर जानलेवा हमला बोल दिया। इतना ही नहीं जब सभी परिवार घर में छिप गए तो उनके घर पर पथराव कर तोड़फोड़ भी किया। जिसकी जानकारी मिलने के बाद भितहां पुलिस पहुंची तब जाकर लोगों की जान बची।

राष्ट्रपिता की विधिक स्थिति क्या है?

हम सभी जानते हैं कि महात्मा गाँधी हमारे देश के राष्ट्रपिता हैं. यह एक सर्वविदित तथ्य है. यह भी सर्वज्ञात है कि उनका जन्मदिवस दो अक्टूबर पूरे देश में एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में घोषित है. लेकिन महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता की उपाधि कब दी गयी है, राष्ट्रपिता की उपाधि का अर्थ क्या हुआ, इसका कानूनी मतलब क्या हुआ जैसे प्रश्नों पर मैं एक लंबे समय से चिंतन तो कर रहा हूँ पर जानकारी नहीं हासिल कर पा रहा.

स्टिंग में पैसा मांगते पाए गए 11 प्रत्याशी, चुनाव आयोग ने की शिकंजा कसने की तैयारी

मेरठ : एक न्यूज चैनल के स्टिंग आपरेशन ने पश्चिमी उप्र की सियासत में भूचाल ला दिया है। कैमरे के सामने सभी प्रमुख पार्टियों के 11 प्रत्याशी चुनाव लड़ने के लिए एक से चार करोड़ रुपये मांगते हुए पाए गए। इसके बदले में सभी ने चुनाव जीतने के बाद औद्योगिक घरानों के पक्ष में विधानसभा में लॉबिंग करने का वादा किया। यह स्टिंग ऑपरेशन औद्योगिक घरानों का प्रतिनिधि बनकर दिल्ली के कॉफी हाउस और रेस्टोरेंट्स में 30 नवंबर से 20 जनवरी के बीच किया गया।

यूपी चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी : नितिन गडकरी

: सपा-बसपा से कोई लेना-देना नहीं : मोदी पीएम पद के दावेदार, पर मैं नहीं : नई दिल्ली- भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष नितिन गडकरी मानते हैं कि हालांकि उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनावों में चतुष्कोणीय टक्कर हो रही है, और उनकी पार्टी के सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने की ठोस सम्भवनाएं हैं। न्यूज24 के खास कार्यक्रम ‘आमने-सामने’ में प्रधान सम्पादक अनुराधा प्रसाद के सवालों की बौछार का सामना करते हुए गडकरी ने दावा किया कि भले ही उत्तर प्रदेश में भाजपा, कांग्रेस, सपा और बसपा के बीच मुख्य संघर्ष है, पर उनकी पार्टी के सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने की प्रबल संभावनाएं हैं।

आईएएस अनुराग श्रीवास्तव ने आईपीएस मोहित गुप्ता को फटकार कर मीटिंग से निकाला!

यूपी की घटना है. चुनावी सरगर्मियों के बीच घटित एक घटनाक्रम ने यूपी में पदस्थ आईपीएस अफसरों को उत्तेजित कर दिया है. बताया जाता है कि बस्ती मंडल के मंडलायुक्त अनुराग श्रीवास्तव ने मंडल के अफसरों की एक बैठक के दौरान किसी बात पर सिद्धार्थनगर के पुलिस अधीक्षक मोहित गुप्ता को फटकार लगा दी और मीटिंग से जाने को कह दिया. कमिश्नर अनुराग की यह हरकत एसपी मोहित को नागवार गुजरी.

राजस्थान में पीआरओ और एपीआरओ के चालीस पदों के लिए आवेदन आमंत्रित

राजस्थान लोकसेवा आयोग की तरफ से राज्य में 40 जनसंपर्क अधिकारी और सहायक जनसंपर्क अधिकारी के पदों की भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किया गया है. सबसे खास बात ये है कि इस राज्य स्तरीय आवेदन में देश का कोई भी पत्रकार अप्लाई कर सकता है. आवेदन प्रक्रिया भी आनलाइन है. इसके लिए आपको कहीं आना जाना नहीं पड़ेगा. पूरा विवरण आप राजस्थान लोकसेवा आयोग (आरपीएससी) की वेबसाइट पर देख सकते हैं, डाउनलोड कर सकते हैं.

विवाद में फंसा आजतक का स्टिंग आपरेशन!

न्यूज चैनल आजतक और हेडलाइंस टुडे द्वारा जालंधर के केंद्रीय हलके से कांग्रेस प्रत्याशी राजिंदर बेरी के खिलाफ किये गए स्टिंग आपरेशन के बाद विवाद खड़ा हो गया है. चैनल द्वारा किये गए स्टिंग आपरेशन में दावा किया गया था कि चैनल संवाददाता ने बेरी के चुनाव कार्यालय से एक पर्ची हासिल की है जिस पर बेरी के हस्ताक्षर हैं. चैनल ने अपने स्टिंग आपरेशन में दिखाया है कि बेरी के हस्ताक्षर वाली पर्ची देने के बाद उसके संवाददाता को शराब के ठेकेदार ने छह बोतल शराब दे दी. लेकिन इस पूरे स्टिंग में कहीं भी यह नहीं दिखाया गया कि जिस पर्ची के आधार पर शराब मिलने का दावा किया जा रहा है, वह पर्ची बेरी ने या उसके किसी समर्थक ने संवाददाता को दी है.

पटना के टीओआई कर्मियों के भीषण दुख सुनकर भावुक हुईं मेधा पाटकर

: बेमियादी धरने में शरीक हुईं : टाइम्स ऑफ़ इंडिया की प्रिंटिंग प्रेस की बंदी के कारण हटाये गए 44 कर्मचारी उस वक़्त हैरान रह गए जब पटना के फ्रेज़र रोड स्थित उनके धरनास्थल पर नर्मदा बचाओ आन्दोलन की नेत्री मेधा पाटकर अपनी टीम के साथियों के साथ अचानक पहुँच गईं. मेधा लोकशक्ति अभियान के तहत बिहार यात्रा पर हैं. वे बिहार में अररिया, फारबिसगंज, कोसी, गोपालगंज, सिवान की यात्रा और सभाओं के बाद आज पटना में थीं. उनको यहां शहरी गरीबों की एक सभा को संबोधित करना था.

अंग्रेजी दैनिक डीएनए ने फ्रंट पेज पर कोड आफ एथिक्स प्रकाशित किया

छब्बीस जनवरी, पंद्रह अगस्त के दिन हर अखबार कुछ नए अंदाज में अपने पाठकों के सामने पेश आता है. राष्ट्रभक्ति की बातें करते हुए, नैतिकता की बातें करते हुए, देश और समाज के लिए कर गुजरने की बातें करते हुए, सरोकार के गीत गाते हुए…. इसी क्रम में मुंबई समेत कई शहरों से प्रकाशित जी ग्रुप और भास्कर ग्रुप के संयुक्त अंग्रेजी दैनिक डीएनए ने अपने पाठकों को अपनी पत्रकारिता के आदर्श गिनाए हैं.

अपडेट… दैनिक जागरण गोरखपुर के संपादकीय विभाग के कर्मियों से दुर्व्‍यवहार का‍ सिलसिला जारी

: कानाफूसी : इनपुट हेड केके शुक्‍ला के ताजा निशाने पर डा. विवेकानंद मिश्र : गोरखपुर। दैनिक जागरण गोरखपुर का न्‍यूज रूम जंग का मैदान बन गया है। रोज कोई न कोई संपादकीय कर्मी इनपुट हेड केके शुक्‍ला के दुर्व्‍यवहार का शिकार हो रहा है। ताजा शिकार जनरल डेस्‍क इंचार्ज डा. विवेकानंद मिश्र हैं। मृदुभाषी और काम से काम रखने वाले श्री मिश्र से दुर्व्‍यवहार की घटना ने सबको हतप्रभ कर दिया। केके शुक्‍ला ने न सिर्फ उनसे बदजुबानी की बल्कि उनके खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग किया। मामला सिर्फ एक खबर का था। बताते हैं कि केके शुक्‍ला ऐसे ही मौके की तलाश में रहते हैं और फिर इसी के बहाने अगले की ऐसी तैसी कर डालते है।

अमर उजाला, गोरखपुर के डीएनई व चीफ रिपोर्टर का तबादला

गोरखपुर आजकल कई कारणों से चर्चा में बना हुआ है. दैनिक जागरण और जनसंदेश टाइम्स चर्चा के लिए कम नहीं थे लेकिन अब अमर उजाला के कारण भी चर्चा शुरू हो गई है. बताया जा रहा है कि अराजकता की स्थिति से गुजर रहे अमर उजाला, गोरखपुर के दो वरिष्ठ लोगों पर गाज गिरी है. ये हैं डिप्टी न्यूज एडिटर संजय तिवारी और चीफ रिपोर्टर दीपेंद्र पांडेय. भड़ास4मीडिया को एक मेल के जरिए मिली जानकारी के अनुसार पिछले दिनों गोरखपुर में अमर उजाला के एक्जीक्यूटिव एडिटर उदय कुमार जांच पड़ताल करने के उद्देश्य से आए थे.

वंदना और मोहन ने साधना को बोला बाय-बाय

: वंदना ने नई पारी इंडिया न्यूज संग शुरू की तो मोहन ने बंसल का हाथ थामा : साधना न्यूज से खबर है कि साधना न्यूज मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ में काम करने वाले दो युवा और तेजतरार्र कर्मियों ने संस्थान को बाय बोल दिया है. ये दोनों मीडियाकर्मी साधना न्यूज की शुरुआत के साथ ही जुड़े हुए थे. साधना न्यूज मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ की एसाइनमेंट डेस्क पर काम करने वाली वंदना रावत ने अपनी नई पारी की शुरुआत इंडिया न्यूज संग शुरू की है.

तो अबकी इस तरह पेड न्यूज कर रहे हैं ‘हिंदुस्तान’ और ‘दैनिक जागरण’!

यूपी में विधानसभा चुनाव के दौरान चुनाव आयोग की सख्ती और पेड न्यूज को लेकर कड़ी निगरानी के कारण चोट्टे अखबारों ने पेड न्यूज करने का तौर-तरीका बदल लिया है. ताजी सूचना के मुताबिक गोरखपुर समेत कई सेंटर्स पर दैनिक जागरण और दैनिक हिंदुस्तान के मैनेजरों ने पोलिटिकल कैटगरी में एक स्पेशल चुनावी विज्ञापन पैकेज शुरू किया है. इसका घोषित रेट 18 रुपये प्रति कालम सेंटीमीटर रखा गया है और इसी हेट पर बिल भी प्रत्याशियों को दिया जा रहा है लेकिन टेबल के नीचे से इसके बदले 155 रुपये प्रति कालम सेंटीमीटर लिया जा रहा है.

क्यों ऊब रहे हैं युवा सोशल साइटों से… दो पत्रकारों के विचार

: इनका नकलीपन खुल गया है : पत्रकार अमित कुश के विचार : एसोचैम के एक सर्वे में कहा गया है कि युवाओं को सोशल नेटवर्किंग साइटों से ऊब होने लगी है। सर्वे में शामिल 55 फीसदी युवाओं का कहना था कि उन्होंने जानबूझकर इन पर लॉग-इन करने का समय कम कर दिया है, जबकि 30 फीसदी युवाओं ने अपना अकाउंट ही डिएक्टिवेट कर दिया है। ये नौजवान किसी छोटे नगर-कस्बों के नहीं, बल्कि दिल्ली और लखनऊ जैसे महानगरों के हैं। अक्सर बड़े शहरों में ही तकनीक से जुड़े फैशन सबसे पहले और तेजी से फैलते हैं।

‘हिंदुस्तान’ में जज को चोर लिखा गया

मात्राओं की जरा से हेरफेर से कितना अनर्थ हो जाता है, इसे आप हिंदुस्‍तान में प्रकाशित एक खबर में देख सकते हैं. हिंदुस्‍तान, खगडि़या में कोर्ट से संबंधित एक खबर छपी है, जिसमें जज ने एक हत्‍या के मामले में सात लोगों को आजीवन करावास की सजा सुनाई है. इस खबर में हिंदुस्‍तान ने 'फास्‍ट ट्रैक कोर्ट चोर' लिख दिया है. इस खबर से ऐसा प्रतीत हो रहा है जैसे जज को चोर लिखा गया हो, जबकि सच्‍चाई यह है कि यह एक मात्रात्‍मक गलती है, जिसने अर्थ का अनर्थ कर दिया है. पत्रकार ने 'चार' की जगह 'चोर' लिख दिया है. आप भी देखें हिंदुस्‍तान में प्रकाशित खबर.

दैनिक जागरण ने गोरखपुर में हॉकरों से की धोखाधड़ी, संजय गुप्‍त को भेजी शिकायत

गोरखपुर में हॉकर दैनिक जागरण के प्रसार प्रबंधन से परेशान हैं. हॉकरों का आरोप है कि स्‍थानीय प्रसार प्रबंधन ने उनके साथ धोखाधड़ी की है. इस मामले की जानकारी हॉकर दैनिक जागरण के प्रधान संपादक संजय गुप्‍त को भी दे चुके हैं. हॉकरों का कहना है कि मेल पर भेजी गई शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं होने के बाद अब वे भड़ास के माध्‍यम से अपनी बात कानपुर, दिल्‍ली, नोएडा में बैठे दैनिक जागरण के वरिष्‍ठ अधिकारियों तक पहुंचाना चाहते हैं. नीचे हॉकरों की दुख-दर्द में लिपटा हुआ पत्र.

विकास के मलबे में दबे एक सितार का राग

घने जंगलों व पहाड़ों से घिरा यह कस्बा हबीब तनवीर साहब को कुछ ज्यादा ही पसंद था, इसलिये जब कभी भी मौका मिलता वे यहां अपने परममित्र चुन्नीलाल डोंगरे जी के यहां चले आते। स्थानीय इप्टा इकाई के जनक डोंगरे जी हबीब साहब की खिदमत में तंदूरी मुर्ग पेश करने के अलावा बांसुरी की तान अथवा सितार के तार छेड़ते थे। अब न हबीब साहब हैं न डोंगरे जी। डोंगरे जी के सितार को खामोश हुए कोई 15 बरस से ज्यादा अरसा गुजर चुका है। तब से उनके सुपुत्र सुधीर डोंगरे इस सितार को उसी खामोशी के साथ संभाले हुए थे। कल यह सितार विकास के मलबे में दब कर चूर हो गया।

विपक्षियों के लिए मुश्किल है बसपा के सांगठनिक तिलिस्‍म को भेद पाना

उत्तर प्रदेश के चुनाव में सत्ताधारी पार्टी की खामोशी सबको आश्चर्यचकित कर रही है क्योंकि न कहीं प्रचार दिख रहा है और न ही कहीं राजनैतिक बयानबाज़ी। कुछ लोग भले ही इसे पार्टी का अतिआत्मविश्वास कहें या फिर चुनाव परिणाम आने से पहले हार मान लेना कहें। लेकिन हकीक़त कुछ और है, दरअसल बसपा ने पांच साल तक शासन करने के साथ-साथ अपने संगठन को भी मजबूत करने का काम किया है। मायावती ने एक ऐसा मायावी जाल अपने भरोसेमंद कोऑर्डिनेटर का बुना है जिसके तिलिस्म को भेदना विपक्षी दलों के साथ-साथ उनके ही पार्टी के नेताओं के लिए भी बेहद मुश्किल है।

कामनवेल्थ गेम्स की सीएजी रिपोर्ट में आईबीएन और एनडीटीवी का भी नाम!

कामनवेल्थ गेम्स घोटाले पर खूब चर्चा हुई. बहुत कुछ लिखा गया. लेकिन यह कम लोगों को पता होगा कि कामनवेल्थ गेम्स घोटाले की सीएजी रिपोर्ट में आईबीएन और एनडीटीवी का भी नाम है. किस संदर्भ में है, क्या कहा गया है रिपोर्ट में, उसे आप पढ़कर जान सकते हैं. चैनल वाले बहती गंगा में हाथ धोने के लिए हर वक्त तैयार रहते हैं. भले ही चैनलों का बिजनेस मार्केटिंग डिपार्टमेंट यह काम करता हो, लेकिन है तो चैनल का ही विभाग. सीएजी रिपोर्ट के पेज नंबर 221 के पैरा नंबर 14.4.2 में जो कुछ कहा गया है, वह इस प्रकार है….

आईआईएमसी प्रशासन एक छात्रा को फर्जी डिग्री दिलाने में लगा है!

सर, इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ मास कम्‍युनिकेशन के हिंदी जर्नलिज्‍म डिपार्टमेंट में कीर्ति चौहान नाम की लड़की अभी भी पढ़ाई कर रही है. वो इस साल ग्रेजुएशन में फेल हो गई है. 31 अक्‍टूबर तक पासिंग सर्टिफिकेट आईआईएमसी में जमा करना था. उसने अभी तक जमा नहीं किया है. क्‍योंकि वो ग्रेजुएशन में फेल हो गई है. आईआईएमसी एडमिनिस्‍ट्रेशन ने अभी तक उसका नाम कैंसल नहीं किया है.

आई नेक्स्ट, पटना में दो लोगों को नोटिस

: राजेश ठाकुर का तबादला जमशेदपुर : जागरण ग्रुप के बच्चा अखबार आई नेक्स्ट, पटना में दो लोगों को एक महीने का नोटिस दिया गया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ आई नेक्स्ट के पटना एडिशन के चीफ रिपोर्टर सुनील राज और फोटोग्राफर मनीष सिन्हा को आई नेक्स्ट हेड ऑफिस से मेल आया है. शर्मिष्‍ठा शर्मा द्वारा भेजे गए इस मेल में लिखा गया है कि आप लोगों का परफामेंस ठीक नहीं है, इसलिए आप अपने काम में सुधार लाएं. 23 फरवरी तक आपके काम का लेखा-जोखा किया जाएगा, जिसके बाद आगे का फैसला लिया जायेगा.

109 लोगों में मात्र एक पत्रकार को पुरस्‍कार के काबिल समझा सरकार ने

देश के सर्वोच्‍च नागरिक पुरस्‍कार पद्म सम्‍मान में 109 लोगों का चयन किया गया है. सभी क्षेत्रों में कला, विज्ञान, राजनीति, समाजसेवा समेत कई क्षेत्रों जमकर पुरस्‍कार बांटें गए हैं, पर पत्रकारिता के क्षेत्र सरकार ने लगभग पद्म कंजूसी ही बरती है. इन 109 लोगों में मात्र एक पत्रकार पुरस्‍कार के लायक समझा गया है. सरकार ने मध्‍य प्रदेश के वरिष्‍ठ पत्रकार विजयदत्‍त श्रीधर का चयन पद्म श्री पुरस्‍कार के लिए किया है.

उत्‍तराखंड में दलालों के हाथों में गिरवी हुई पत्रकारिता

इस बात को कोई नकार नहीं सकता कि आज के दौर में मीडिया का प्रभाव यत्र-तत्र-सर्वत्र है. देश के कई बड़े घोटाले, झूठ के पुलिंदे सिर्फ और सिर्फ मीडिया के दबाब के चलते ही लोगों के सामने आ पाए. शुरू से ही पत्रकारों को बुद्धिजीविओं की श्रेणी में पहला स्थान दिया जाता है. सोचने की ताक़त और समाज को सच का आईना दिखाना पत्रकारिता का पहला उसूल है. यह वो सिद्धांत हैं जिसके बिना पत्रकारिता मृत है. यह समाज का कड़वा सच है कि आज के युग में भ्रष्‍टाचार के दलदल ने लगभग सब कुछ निगल लिया है. ऐसे में सच्चाई, ईमानदारी की बात करने वाले को लोग बेवक़ूफ़ से ज्यादा कुछ नहीं समझते. 

सियासी भंवर में छटपटा रहा उत्तर प्रदेश का आदिवासी समुदाय

कांग्रेस के महासचिव और नेहरू-गांधी परिवार के युवराज राहुल गांधी ने 21 जनवरी, 2012 को उत्तर प्रदेश के आदिवासी बहुल विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र दुद्धी में पहली बार कदम रखा। अंग्रेजों के जमाने में क्राउन स्टेट के नाम से नवाजे गए इस आदिवासी बहुल इलाके की एक सभा से उन्होंने एक साथ कई निशाने साधने की कोशिश की, लेकिन उनकी ये कोशिश सियासी भंवर में फंसे उत्तर प्रदेश के आदिवासियों की छटपटाट को शांत कर पाएगी, ऐसा दिखाई नहीं देता है। इसके पीछे कई वजहें हैं, जिनमें कई कांग्रेस की गलत नीतियों के ही परिणाम हैं।

मनोज, अमित, प्रियंका, नवीन एवं हरिओम नक्षत्र न्‍यूज से जुड़े

बिहार और झारखंड से जल्‍द शुरू होने जा रहे नक्षत्र न्‍यूज से खबर है कि बिहार में कई लोगों ने चैनल ज्‍वाइन किया है. ए2जेड को सेवा देने वाले ब्‍यूरोचीफ मनोज नारायण सिंह ने यहां से इस्‍तीफा देकर नक्षत्र न्‍यूज ज्‍वाइन कर लिया है. उन्‍हें पटना में चैनल का ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. मनोज इसके पहले हमार टीवी को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. अमित कुमार सिंह भी पटना में नक्षत्र न्‍यूज के साथ जुड़ गए हैं. प्रियंका सिंह ने सीनियर प्रोड्यूसर के रूप में रांची में नक्षत्र चैनल ज्‍वाइन किया है. इसके पहले वे देश लाइव से जुड़ी हुई थीं.

‘ढाई साल से राष्‍ट्रीय सहारा ने नहीं दिया मानदेय या खर्चा’

वाराणसी जिले के राष्ट्रीय सहारा के ग्रामीण संवाददाताओं को ढाई साल से कोई मानदेय व किसी प्रकार का भत्ता, खर्चा नहीं मिल रहा है, जिससे कि ग्रामीण संवाददाताओं में काफी रोष है। परन्तु निकाले जाने के भय से कोई आवाज नहीं उठा रहा है। जब भी अखबार की मीटिंग होती है तो सिर्फ विज्ञापन का मांग होता है व मानदेय के बारे में पूछने पर कहा जाता है कि आप लोगों के लिए अच्छा सोचा गया है, लेकिन विज्ञापन बिना अखबार नहीं चल सकता।

क्‍यों नहीं बन पाता भ्रष्‍टाचार चुनाव का प्रमुख मुद्दा?

विख्यात न्यायविद सॉलमण्ड ने कहा था- “वह समाज जो कि गलत कार्यों को भोगने के बाद भी अपने अंदर क्रोध नहीं पैदा कर पाता उसे कानून की एक प्रभावी पद्धति कभी नहीं मिल सकती”। राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन में उत्तर प्रदेश में 8800 करोड़ में से 5000 करोड़ सरकारी अमला और मंत्री से लेकर संतरी तक, हजम कर गए लेकिन यह चुनावी मुद्दा नहीं बन सका। भ्रष्टाचार को लेकर पूरे देश में कुछ महीनों पहले लगा था कि एक जबर्दस्त जनाक्रोश फूट पड़ा है और अब यह आक्रोश ठंडा नहीं पड़ने जा रहा है। लेकिन उत्तरप्रदेश, उत्तराखण्ड या अन्य तीन राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों में शायद ही भ्रष्टाचार एक मुद्दा बन पाया है। ऊपर से तुर्रा यह कि राजनीतिक दलों ने फिर वही हिमाकत दिखाते हुए आपराधिक छवि के लोगों को टिकट दिया है। बड़ी पार्टियों द्वारा खड़ा किया गया हर तीसरा उम्मीदवार आपराधिक पृष्ठभूमि का है।

दैनिक जागरण की ये पहल तो अच्‍छी है

अपनी बनियागीरी सोच और पत्रकारों का शोषण करने के लिए कुख्‍यात दैनिक जागरण ने एक अच्‍छा पहल किया है. गणतंत्र दिवस पर जागरण ने अपने कई एडिशनों में पुराने पत्रकारों से बातचीत कर तब की पत्रकारिता और बदलते पत्रकारिता पर प्रकाश डाला है. कई वरिष्‍ठ पत्रकारों के विचारों को अपने अखबार में जगह दी है. इन पत्रकारों की जिंदगियों के बारे में अपने पाठकों को बताया है. जागरण अगर देर से ही सही अगर सरोकार के मुद्दों पर थोड़ी भी लौटने की कोशिश कर रहा है तो यह उसकी अच्‍छी पहल कही जा सकती है. नीचे हम जागरण में प्रकाशित तीन वरिष्‍ठ पत्रकारों के शब्‍दों, उनके अनुभवों को आप तक पहुंचा रहे हैं.   

कुशीनगर में हॉकरों जागरण के सर्कुलेशनकर्मी को दौड़ाकर पीटा

: नहीं उठा अखबार : गोरखपुर। जागरण की मुश्किलों का अंत होता नहीं दिख रहा है। बुधवार को कुशीनगर में सर्कुलेशनकर्मी विनीत गुप्‍ता को हाकरों ने दौड़ाकर पीटा। पडरौना नगर में जागरण की प्रतियां डंप हो गईं। हाकरों ने कई घंटों बवाल काटा और जागरण प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की। हाकरों ने तो यहां तक कहा कि अगर ये कुशीनगर में दिख गए तो इनके हाथ पैर तोड़ देंगे। मालूम हो कि कुछ दिन पूर्व विनीत गुप्‍ता को जागरणकर्मियों ने ही पडरौना कार्यालय में पटककर मारा था। इसके बाद वह गोरखपुर भाग आया था। इसके बाद मामला दरहम हुआ तो वह वापस पडरौना पहुंचा था।

अमेरिकी टीवी एंकर के खिलाफ रणदीप ने किया मुकदमा

न्यूयॉर्क : सिखों के धार्मिक स्थल श्री दरबार साहिब यानी स्वर्ण मंदिर पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने से नाराज भारतीय मूल के अमेरिकी रणदीप ढिल्लन ने अमेरिकी टीवी शो के प्रस्तोता जे लेनो के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। लेनो ने गत 19 जनवरी को एनबीसी चैनल पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रम द टूनाइट शो के दौरान स्वर्ण मंदिर की तस्वीर दिखाई थी और इसे मिट रोमनी का संभावित समर होम बताया था। रिपब्लिकन पार्टी की ओर से अमेरिकी राष्ट्रपति पद की दौड़ में शामिल रोमनी एक अमीर बिजनेसमैन और राजनेता हैं। वह अपनी अकूत संपत्ति और टैक्स चोरी को लेकर विरोधियों के निशाने पर हैं।

सलमान रुश्‍दी खराब व निम्‍नस्‍तरीय लेखक : काटजू

नई दिल्ली : कट्टरपंथियों के बाद अब भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष मार्कडेय काटजू ने बिट्रिश लेखक सलमान रुश्दी पर निशाना साधा है। उन्होंने रुश्दी को खराब व निम्नस्तरीय लेखक बताते हुए कहा कि विवादस्पद पुस्तक सैटेनिक वर्सेज से पहले उन्हें बहुत ज्यादा लोग नहीं जानते थे। उन्होंने रुश्दी के प्रशंसकों की भी आलोचना करते हुए कहा, वे औपनिवेशिक हीनभावना से ग्रस्त हैं कि विदेश में रहने वाला लेखक महान होता है। कबीर और तुलसीदास इसलिए अच्छे नहीं क्योंकि वे बनारस के घाट पर रहते थे, जबकि रुश्दी महान लेखक इसलिए हैं क्योंकि वह टेम्स नदी के घाट पर रहते हैं। यह हमारे बौद्धिक और साहित्यिक लोगों का सोचने का स्तर है।

सावधान! अब आपकी हर हरकत पर गूगल की नजर

न्यूयॉर्क : आप इंटरनेट पर क्या करते हैं, कौन सी वेबसाइटों को खोलते हैं और कितना समय बिताते हैं, इन सब बातों की जानकारी अब गूगल के पास होगी। इनके जरिए वह अपने हर उपभोक्ता का एक प्रोफाइल बनाएगी। यह सुनने में अजीब और आजादी छिनने जैसा है पर सच यही है। दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने बुधवार को अपने सभी उत्पादों की प्राइवेसी सेटिंग में बड़े बदलाव करने की घोषणा कर दी है। इनमें जीमेल, यू-ट्यूब और गूगल सर्च भी शामिल हैं। नई प्राइवेसी सेटिंग 1 मार्च से लागू हो जाएंगी।

जातीय जिन्‍न ने जकड़ा यूपी : विकास की नहीं बिरादरी की हो रही चर्चा

उत्तर प्रदेश जातिवादी व्यवस्था का जिन्न सभी पार्टियों के ऊपर चढ़ा हुआ है। यह जिन्न पर कभी सपा के कंधे पर सवार हो जाता है तो कभी हाथी पर सवार होकर चिंघाड़ने लगता है। कमल पर मंडराने और पंजे को मरोड़ने में भी इस जिन्न को खूब मजा आता है। जातीय जिन्न की वजह से विकास के मुद्दे का पहिया जाम है। पिछले चुनाव में बिहार से भगाया गया जिन्न अभी उत्तर प्रदेश का पीछा नहीं छोड़ा है। यही वजह है कि इस समय भी उत्तर प्रदेश में कोई भी दल विकास के मुद्दे पर चुनाव नहीं लड़ रहा है। राजनीतिक दल राजनीति के बहाने प्रदेश की जनता की मूलभूत समस्याओं की अनदेखी कर ऐसे ऐसे मुद्दे उठाते हैं, जिनसे उत्तर प्रदेश सांप्रदायिकता एवं जात-पात की राजनीति का गढ़ बनता जा रहा हैं हालांकि जनता जातीय जिन्न से अब छुटकारा पाना चाहती है। वह इस परंपरा से आजिज है, परंतु सभी राजनीतिक दल अपने-अपने हिसाब से प्रदेश की जनता को हांकना चाहते हैं।

मायावती ने लखनऊ में ”माय सैंडल’ नामक नाटक को बैन किया

लखनऊ से सूचना है कि 'माय सैंडल' नाम के नाटक को बसपा सरकार ने बैन कर दिया है. इस नाटक की नायिका का नाम माया है जो विदेशों से मंगाई गई जूती पहनती है और हाथी पालती है. हाथी सिर्फ सोने चांदी खाता है. इस नाटक को बैन किए जाने और नाटक के कथ्य के बारे में विस्तृत रिपोर्ट का प्रसारण एनडीटीवी इंडिया न्यूज चैनल पर किया गया है. इस रिपोर्ट को भेजा है एनडीटीवी के लखनऊ संवाददाता कमाल ख़ान ने. देश भर के लेखकों, कलाकारों, साहित्यकारों ने नाटक प्रतिबंधित किए जाने की निंदा की है और इसे बसपा सरकार का फासिस्ट कदम बताया है.

सभी न्यूज चैनलों की एक दुकान, हर चैनल के लिए ग्राहक यहीं पधारें… देखें वीडियो

जी हां, ये दृश्य दिल्ली के दूर के जिलों में दिखने लगा है. अगर स्ट्रिंगरों को कोई चैनल पैसा न देगा तो क्या होगा, सब आपस में मिल जाएंगे और एक साझा दुकान खोल लेंगे, यही है न्यूज चैनलों की दुकान.. आ जाओ… खबर देने के लिए.. विज्ञापन देने के लिए.. सुख दुख बताने के लिए… और स्टिंग कराने के लिए. क्योंकि स्ट्रिंगरों को भी तो अपना पेट जिलाना है, बच्चे पालने हैं. केवल संपादकों के पास ही बच्चे व पत्नी तो होते नहीं. उनके स्ट्रिंगरों के पास भी होते हैं. वे खुद लेंगे कई लाख रुपये महीने और स्ट्रिंगरों को धेला भी न देंगे. ऐसे में क्या होगा.

ये अफसर खुलेआम कर रहा है चुनाव नियम का उल्लंघन

बाराबंकी। निर्वाचन आयोग के द्वारा चुनाव आचार संहिता नियमों की कितनी भी दुहाई दी जा रही हो लेकिन जिला विद्यालय निरीक्षक बाराबंकी इसका उल्लघंन करने में बाज नहीं आ रहे हैं। सावित्री बाई फूले शिक्षा बालिका मदद योजना का चेक उनके द्वारा बंटवाया जा रहा है। ऐसे में भाजपा व कांग्रेस तथा सपा ने इसकी शिकायत मुख्य चुनाव आयुक्त उ0प्र0 से कर जिविनि के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किये जाने की मांग की है। अपने कई बहुचर्चित कारनामों से चर्चा में रहे जिला विद्यालय निरीक्षक बाराबंकी अरुण कुमार दुबे ने वर्तमान में चुनाव आचार संहिता की धज्जियां उड़ाना जारी रखा है। इस वरिष्ठ शिक्षा अधिकारी की चाहत में बसपा को चुनाव में फायदा पहुंचाना है या फिर अपनी तानाशाही के ठेंगे पर चुनाव आयोग रखना, इसे लेकर कयास लगाये जा रहे हैं।

बसपा के सोशल इंजीनियरिंग का पिछला सफल प्रयोग अबकी सफल क्यों होगा

: उत्तर प्रदेश चुनाव के किंतु-परंतु :  उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव कभी भी आसान नहीं रहे, इस बार भी नहीं हैं। सबसे बड़ी दिक्कत वोटरों की चुप्पी को लेकर है। नेता सयाने हुए हैं, तो वोटर भी चालाक हो गया है। उसकी थाह लेना मुश्किल काम है। हालांकि मुख्य मुकाबला बसपा और सपा में माना जा रहा है, लेकिन कांग्रेस-रालोद गठबंधन को जोड़ दिया जाए, तो मुकाबला तिकोना कहा जा सकता है। भाजपा फिलहाल रेस से बाहर दिखाई दे रही है। भले ही कुछ चुनावी सव्रेक्षणों ने तस्वीर साफ करने की कोशिश की हो, लेकिन अतीत में सव्रेक्षण औंधे मुंह गिरते रहे हैं।

चुनाव आयोग ने एनसीआर के एडीजी समेत सात अधिकारियों को हटाया

लखनऊ : चुनाव आयोग ने बढ़ती शिकायतों के चलते मंगलवार की देर रात अहम फैसला लेते हुए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के एडीजी, गोंडा के जिलाधिकारी और मुरादाबाद के आईजी समेत राज्‍य के सात अधिकारियों को हटाने का आदेश दिया है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी उमेश सिन्हा ने बताया कि गोंडा के जिलाधिकारी राम बहादुर को हटाकर उनके स्थान पर विशेष सचिव नियुक्ति रोशन जैकब को तैनात करने का आदेश दिया गया है। राम बहादुर उस समय चर्चा में आए थे, जब अदम गोंडवी की मदद की थी।

वरिष्‍ठ फोटो जर्नलिस्‍ट आरएन सिंह का निधन

जालंधर। जालंधर स्थित पंजाब प्रेस क्लब के अध्यक्ष तथा वरिष्ठ फोटो जर्नलिस्ट आरएन सिंह का बुधवार सुबह लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 70 के साल के थे। पिछले दो महीने से वह बीमार चल रहे थे। वे ब्‍लड ज्‍वाइंडिस से पीडित थे। उन्‍हें दो सप्‍ताह पहले जालंधन के एक अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, जहां आज सुबह साढ़े सात बजे उन्‍होंने आखिरी सांस ली।

इलाहाबाद में जागरण के एनई तथा विज्ञापनकर्मी में मारपीट

दैनिक जागरण जैसे संस्‍थान में अब मारपीट भी होने लगी है. खबर इलाहाबाद से है. बताया जा रहा है कि कल रात दो बजे के आसपास संपादकीय प्रभारी सदगुरु शरण और विज्ञापन विभाग के मयंक श्रीवास्‍तव में मारपीट हो गई. इसके बाद संपादकीय प्रभारी तथा सब एडिटर विजय यादव ने मयंक को जमकर मारापीटा. इसके बाद से ही कार्यालय के अंदर तनाव का माहौल है, विज्ञापन एवं संपादकीय विभाग में तनातनी है. पत्रकार जगत में भी इस घटना को लेकर अखबार की छीछालेदर हो रही है.

अमर उजाला : अरविंद की बनारस वापसी, अंकुर इलाहाबाद गए

अमर उजाला, इलाहाबाद से खबर है कि क्राइम रिपोर्टर अरविंद उपाध्‍याय का तबादला वाराणसी के लिए हो गया है. इसके पहले अरविंद बनारस में ही पदस्‍थापित थे, परन्‍तु जमीन संबंधी एक विवाद के बाद प्रबंधन ने उनका तबादला इलाहाबाद के लिए कर दिया था. अब एक बार फिर अरविंद की वापसी बनारस हो गई है. वहीं अब तक बनारस में क्राइम रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी संभाल रहे अंकुर को इलाहाबाद भेज दिया गया है.

‘मायावती के भाई ने पांच साल में दस हजार करोड़ कमाए’

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय सचिव एवं बीजेपी की भ्रष्टाचार उजागर समिति के अध्यक्ष किरीट सोमैया ने मंगलवार को कहा कि मुख्यमंत्री मायावती के भाई आनंद कुमार ने पांच साल के भीतर 10,000 करोड़ रुपये के मालिक कैसे बन गए, इसकी जांच सीबीआई से कराई जानी चाहिए। उनका कहना था कि आखिर उनके पास ऐसा कौन सा जादुई नुस्‍खा है, जो इतने पैसे कमा लिए।

पिछले दस दिनों से ब्‍लैकआउट है भारत समाचार चैनल

: ऑफिस में लटका हुआ है ताला : भोपाल। जन्म के साथ ही विवादों में घिरा मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ का क्षेत्रीय न्यूज चैनल भारत समाचार एक बार फिर विवादों में है। लगता है कि विवादों और भारत समाचार का चोलीदामन का साथ है। पहले मनोज सैनी, वीरेन्द्र शर्मा, रिजवान खान और उनके सहयोगियों ने भारत समाचार के मालिक आदर्श कुशवाहा को जमकर चूना लगाया। एक भाई ने तो उसी कमाई से सहारा समय की बड़ी हस्ती को 5 लाख रुपये देकर पुनः सहारा में जगह बना ली और आज सहारा के मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में बिना पद और योग्यता के ब्यूरोचीफ बने हुए है।

बिटिया की परेशानी देख रवीश कुमार ने दर्द-गुस्सा प्रकट किया

Ravish Kumar : मेरे अपार्टमेंट के साथ लगी एक पुरानी इमारत गिराई जा रही है। एक एक म़ंज़िल के टूटने के साथ इमारत ज़ोर से हिलती है। डर से बेटी भागे भागे चली आती है। पुलिस से लेकर सबसे शिकायत की। कोई फायदा नहीं। हम मुफ़्त में दफ़न हो जाएं तो इस स्टेटस को लेकर इंसाफ़ की लड़ाई लड़ लीजिएगा। क्योंकि मीडिया को इंसाफ़ की लड़ाई का बहुत शौक है। बिल्डर सबका बाप है। वो लोग ठीक थे जो पत्रकारिता में आकर दलाल बन गए। उनकी जान तो बच जाएगी।

कैसे-कैसे चैनल : न्यूज पढ़ती जाती है, कपड़े उतारती जाती है, देखें वीडियो…

कौन कहता है कि क्या गलत है क्या सही है. सौदागरों ने पाप पुण्य की परिभाषा बदल डाली है. जो चीज मना है, वही बिकाऊ है, यह फंडा है सौदागरों का. कोई कल्पना कर सकता है कि न्यूज एंकर खबर पढ़ते पढ़ते अपने कपड़े भी उतारती रहेगी. पर ऐसा है. एक चैनल है. उसका नाम ही है नेक्डन्यूज. 'नेक्ड न्यूज़' दुनिया की एकमात्र टेलीविजन टेलीकास्ट वेबसाइट है, जिसमें न्यूज़रीडर्स कपड़े उतारते हुए समाचार पढ़ती हैं.

‘मीडिया मैटर्स’ कालम का सेवंती नैनन का वो लेख जिसे द हिंदू ने छापा ही नहीं…

रिलायंस, टीवी18 और ईटीवी के बीच की सौदेबाजी को मीडिया विश्लेषक सेवंती नैनन ने द हिंदू के अपने 'मीडिया मैटर्स' कालम में विषय बनाया तो द हिंदू वालों ने उसे नहीं छापा. तब 'द हूट' वेबसाइट पर उस कालम को यह लिखते हुए छापा गया कि इसे द हिंदू ने छापने से इनकार कर दिया था. इस कालम में सेवंती नैनन ने न्यूज चैनलों पर बड़े घरानों की नजर के आरपार देखने की कोशिश की है. टीवी न्यूज इंडस्ट्री में बड़े घरानों ने आकर बने बनाए स्थापित ब्रांडों को धनबल के जरिए अपने कब्जे में करने का खेल शुरू कर दिया है. पढ़िए पूरा कालम.

अमर उजाला, गोरखपुर से डीएनई संजय एवं चीफ रिपोर्टर जितेंद्र का तबादला

अमर उजाला, गोरखपुर से खबर है कि मैनेजमेंट ने डीएनई संजय तिवारी और चीफ रिपोर्टर जितेंद्र पांडेय का तबादला कर दिया है. बताया जा रहा है कि इन दोनों लोगों को फरमान सुना दिया गया है, पर इन लोगों को अभी लेटर नहीं मिला है. प्रबंधन को दोनों लोगों की काफी शिकायतें मिली थी, जिसके बाद यह कदम उठाया गया है. संजय तिवारी को बरेली यूनिट में भेजा गया है, जबकि जितेंद्र पांडेय का टिकट मुरादाबाद के लिए काटा गया है.

उपजा, फैजाबाद का नया अध्यक्ष प्रदीप श्रीवास्तव चुने गए

फैजाबाद के प्रेस क्लब में उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट एसोसिएशन के सदस्यों ने नया अध्यक्ष प्रदीप श्रीवास्तव के रूप में चुना। वरिष्ठ पत्रकार दादा जेपी तिवारी, त्रियुग नरायण तिवारी, बीएन दास, राजेंद्र पांडेय की उपस्थिति में नई कमेटी का गठन हुआ। इसमें उपाध्यक्ष के पद पर नरेंद्र सिंह, रामतीर्थ विकल, केके मिश्र, चंद्रशेखर सिंह, क्षेत्रीय सचिव के रूप में राम कुमार राय, विवेकानंद पांडेय, देवी प्रसाद वर्मा, विधिक सलाहकार के रूप में यश्वीर सिंह चिन्टू, कोषाध्यक्ष के रूप में संतोष कुमार विसारिया चुने गए।

केबल ऑपरेटरों की 26 फीसदी हिस्‍सेदारी खरीदने की तैयारी में रिलायंस

देश की दिग्गज कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) प्रमुख मल्टी सिस्टम ऑपरेटरों समेत केबल ऑपरेटरों की कम से कम 26 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की योजना बना रही है। ग्राहकों तक 4जी ब्रॉडबैंड सेवाओं की पहुंच आसान बनाने के तहत कंपनी यह कदम उठा रही है। दो स्वतंत्र सूत्रों के मुताबिक आरआईएल ने इस योजना को मूर्त रूप देने के लिए डेन नेटवर्क्‍स, डिजिकेबल नेटवर्क्‍स, हैथवे केबल, हिंदुजा प्रवर्तित इंडसइंड मीडिया ऐंड कम्युनिकेशंस लि. (इन केबल) और कई अन्य मल्टी सिस्टम ऑपरेटरों संपर्क किया है। साथ ही कंपनी की ओर से क्षेत्रीय बाजार में अच्छी पैठ रखने वाले छोटे ऑपरेटरों के साथ भी संपर्क किया गया है। मौजूदा समय में देश भर में 6,000 से ज्यादा केबल ऑपरेटर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

पंकज वर्मा साधना से निकाले गए, लोकमत से उत्कर्ष सिन्हा का इस्तीफा

लखनऊ से दो खबरें हैं. पहले साधना मीडिया से हटाए गए पंकज वर्मा को अब साधना ग्रुप से भी हटा दिया गया है. पंकज पर कई तरह के आरोप लगे हुए थे. एक अन्य जानकारी के मुताबिक लखनऊ से लोकमत अखबार निकाल रहे संपादक उत्कर्ष सिन्हा ने प्रबंधन को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. लोकमत के लखनऊ एडिशन के मालिक आनंदवर्द्धन सिंह हैं जो महाराजगंज के सांसद हर्षवर्धन सिंह के भाई हैं. आनंदवर्द्धन एनजीओ वगैरह चलाते हैं. उत्कर्ष सिन्हा के इस्तीफ के साथ ही कई और के इस्तीफे की भी खबर है. डीएनई रेखा तनवीर ने भी लोकमत को बाय बाय बोल दिया है. फैजाबाद के मुकेश श्रीवास्तव ने भी छोड़ दिया है.

उत्‍तराखंड में दुविधा और विरोधाभास के बीच झूलती रही टीम अण्‍णा

नैनीताल। टीम अण्णा का दो दिन का उत्‍तराखण्ड दौरा विरोध, सवाल और शंकाओं से भरा रहा। टीम अण्णा ने हरिद्वार, देहरादून, हल्द्वानी और रूद्रपुर में सभाएं कर केन्द्र सरकार के लोकपाल बिल को कोसा। उत्‍तराखण्ड के लोकायुक्त विधेयक और मुख्यमंत्री भुवन चन्द्र खण्डूडी़ की खुद जमकर तारीफ की और लोगों से भी कराई। लगे हाथ कांग्रेस-भाजपा समेत सभी राजनीतिक दलों को भ्रष्ट करार दे दिया। टीम अण्णा ने केन्द्र के लोकपाल बिल की कमजोरियों और उत्‍तराखण्ड के लोकायुक्त विधेयक की खूबियों को लेकर उठे सवालों का जवाब देना गैर जरूरी समझा। उत्‍तराखण्ड के लोकायुक्त विधेयक की खुली हिमायत की वजह जानने की जुर्रत करने वालों का मुंह बन्द कर बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। गोकि सवाल करना सिर्फ टीम अण्णा का ही विशेषाधिकार हो। पूरे दौरे के दौरान केन्द्र के लोकपाल और उत्‍तराखण्ड के लोकायुक्त विधेयक को लेकर उठे सवालों से कन्नी काटती टीम अण्णा खुद विरोधाभासों में फॅसी नजर आई।

एडिटर इन चीफ, द हिंदू का पद छोड़ने वाले एन. राम ने स्टाफ को लिखा लंबा-चौड़ा पत्र

इसी जनवरी महीने की अट्ठारह तारीख को नरसिम्हन राम ने द हिंदू अंग्रेजी दैनिक के एडिटर इन चीफ का पद छोड़ दिया. उन्होंने फेरयरवेल लेटर पूरे स्टाफ को भेजा जिसमें काफी कुछ उन्होंने कहा है. पूरा पत्र अंग्रेजी में है जिसे हूबहू प्रकाशित किया जा रहा है.

दिनेश पाठक का होगा तबादला!, नीरजकांत राही जाएंगे हिंदुस्तान!!

: कानाफूसी : दो चर्चाएं भड़ास4मीडिया तक पहुंची हैं. दोनों भविष्य काल यानि फ्यूटर टेंस वाली हैं. यानि गा गी गे वाली. दिनेश पाठक का तबादला होगा. नीरजकांत राही हिंदुस्तान जाएंगे. ऐसा होता है या नहीं, वक्त बताएगा. दिनेश पाठक हिंदुस्तान, देहरादून के एडिटर हैं. निशंक के अच्छे खासे यार थे. जहाज पर खूब घूमते थे. छप्पर फाड़कर उनकी तारीफ अखबार में छापते थे. लेकिन खंडूरी आए तो दिनेश पाठक की दुकानदारी बंद हो गई. हिंदुस्तान ग्रुप के विश्वविद्यालय का प्रोजेक्ट भी लटक गया. इसकी गाज दिनेश पाठक पर गिराई जा रही है. सूत्रों की मानें तो उन्हें कह दिया गया है कि बोरिया बिस्तर बांध लीजिए किसी नई जगह जाने के लिए.

मैनेज हुआ जनसंदेश चैनल का कार्यक्रम, प्रत्‍याशी के होटल में हुआ आयोजन!

आज के दौर में जब पेड न्यूज़ और राजनैतिक दलों के हाथ बिकने वाली पत्रकारिता को रोकने के प्रयास चुनाव आयोग और मीडिया के निति निर्देशक कर रहे हैं, तो उत्तर प्रदेश में मौजूदा चुनावी दौर में न्यूज़ चैनल और उनके स्वनामधन्य स्ट्रिंगर छाप पत्रकार नए नए पैंतरे अपना रहे हैं. यही कारनामा कभी बसपाई चैनल के नाम से मशहूर जन सन्देश चैनल ने दिखाया है. जनसंदेश चैनल के चुनाव क्षेत्रों में मतदाताओं के बीच होने वाले चुनावी कार्यक्रम का एक आयोजन प्रदेश के बहराइच जनपद में भी हुआ था.

हिंदुस्‍तान में सिटी चीफ बने बृजेंदर, अखिलेश एवं सुधांशु अमर उजाला पहुंचे

हिंदुस्‍तान, बरेली से खबर है कि डीएनई संजीव द्विवेदी के इस्‍तीफा देने के बाद खाली हुए सिटी चीफ का पद वरिष्‍ठ पत्रकार बृजेंदर निर्मल को सौंप दिया गया है. बदायूं निवासी निर्मल लगभग ढाई दशक से पत्रकारिता में सक्रिय हैं. वे दो दशक से ज्‍यादा समय तक अमर उजाला के साथ रहे हैं. इन्‍होंने बदायूं, रामपुर, मुरादाबाद और बरेली में लम्‍बे समय तक पत्रकारिता की है. वो पिछले एक साल से हिंदुस्‍तान में डेस्‍क पर तैनात थे. संजीव के इस्‍तीफे पंकज मिश्रा, पंकज सिंह को भी सिटी इंचार्ज बनाए जाने की बात संभावना थी, पर कुर्सी निर्मल के हाथ लगी. 

नवाब की टोपी और गरीब की झोपड़ी से दूर है चुनावी लोकतंत्र

: वोट डालने की खुशी से ज्यादा आक्रोश समाया है वोटरों में : इस चुनाव ने नेताओं को साख दे दी और वोटरों को बेबसी में ढकेल दिया। याद कीजिए चुनाव से ऐन पहले राजनेताओं की साख थी ही कहां और वोटर विकल्प का सपना संजोये राजनीतिक दलों को डरा रहा था। लखनउ के शीश महल में रहने वाले नवाब जफर मीर अब्दुल्ला का यह जवाब चुनाव को लोकतंत्र से जोड़ने के मेरे सवाल पर था। मेरी नवाबी टोपी को चाहे लोकतंत्र ना मानिये लेकिन लोकतंत्र का अर्थ नेताओं के चुनाव से भी ना जोड़िये। क्योंकि इस लोकतंत्र में हम वोटर बेबस हैं।

‘द संडे इंडियन’ की बंदी के आसार, प्रकाशन सस्पेंड, कइयों की छंटनी

: कानाफूसी : अरिंदम चौधरी के मीडिया हाउस के बुरे दिन चल रहे हैं. इनकी कई भाषाओं में निकलने वाली मैग्जीन 'द संडे इंडियन' के गैर-अंग्रेजी प्रकाशनों का प्रकाशन इस बार स्थगित कर दिया गया है. इसको लेकर तरह तरह के कयास हैं. अरिंदम चौधरी के दाहिने हाथ और 'द संडे इंडियन' के आल इन वन सुतानू गुरु ने एक पत्र भेजकर आशंकाओं को और बल दे दिया है. उन्होंने पत्र में द संडे इंडियन की खराब हालत का वर्णन किया है और कहा है कि तीन ही विकल्प हैं सबके सामने. या तो नौकरी छोड़कर चले जाएं. या अच्छे समय का इंतजार करते हुए काम करें या फिर अरिंदम चौधरी में आस्था बनाए रखें.

बसपा से उब चुकी है जनता, सपा बनाएगी बहुमत की सरकार : शिवपाल

: इंटरव्‍यू : वह चाहे महंगाई हो या फिर भ्रष्टाचार का मुद्दा हो सदन से सड़क तक लगातार मुखरता के साथ आंदोलनों की अगुवाई करने वाले नेता विरोधी दल एवं समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवपाल सिंह यादव ने बसपा और केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ जमकर हल्ला बोला। यूपी में ध्वस्त कानून व्यवस्था, भ्रष्टाचार में आरोपित मंत्रियों, अफसरों, किसानों के जमीन अधिग्रहण समेत तमाम मुद्दों पर उन्होंने न सिर्फ बसपा सरकार को कठघरे में खड़ा किया बल्कि आम आदमी की तकलीफों बिजली, सडक़, पानी, चिकित्सा को लेकर बड़े आंदोलन खड़े किए। यही नहीं श्री यादव ने पार्टी के संगठनात्मक स्तर पर भी नेताओं, पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं से सीधे संवाद स्थापित कर उन्हें चुनाव में जाने से पूर्व पूरी कुशलता के साथ गांव, गरीब, नौजवान और किसानों में समाजवादी सिद्धांतों व सपा शासनकाल की जनकल्याणकारी योजनाओं को गांव-गांव जाकर प्रचारित करने के लिए प्रेरित किया।

देश पर हावी है यूपी की राजनीति, पता नहीं किस करवट बैठेगा ऊंट

देश में सबसे बड़े राज्य का दर्जा उत्तर प्रदेश को प्राप्त है। पूरे प्रदेश में अब 75 जिले बन चुके हैं। जिसमें 403 सीटों पर चुनाव होना है। सबसे बड़ा प्रदेश होने के कारण यहां की राजनीति से पूरे देश पर फर्क पड़ता है। राजनीतिक पार्टियों से लेकर आम आदमी की नजर भी चुनावी हलचल पर टिकी हुई है। इस चुनाव में सभी राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने दांव-पेंच लड़ाने में लगी है। पर राजनीतिक पतंगबाजी में किसकी पतंग कटेगी और किसी पतंग कटेगी यह हर किसी के लिए सवाल बना हुआ है।

नई दुनिया और आलोक मेहता को लेकर दो बकवास

: कानाफूसी : बकवास का मतलब ही होता है बिना सिर पैर की बात. ऐसी ही एक बकवास भड़ास के पास आई है. वो ये कि आलोक मेहता और उनकी पूरी टीम हिंदुस्तान अखबार में जाने वाली है. ऐसा इसलिए क्योंकि इनका वक्त नई दुनिया में पूरा हो गया है और संडे नई दुनिया जैसा प्रोजेक्ट करोड़ों खर्चने के बाद बंद हो चुका है. नईदुनिया ग्रुप को लेकर ही दूसरी बकवास ये है कि इस ग्रुप को दैनिक जागरण समूह खरीदने का इच्छुक है. जागरण ग्रुप मध्य प्रदेश में जाना चाहता है लेकिन एमपी जागरण वाले जो लोग हैं वे रोड़े अटका रहे हैं, कुछ वैसी ही दिक्कत है जैसे दैनिक भास्कर की दिक्कत यूपी में जाने को लेकर है.

अवैध वसूली में पत्रकार व पुलिसकर्मियों समेत पांच पर मुकदमा

नजीबाबाद। आखिरकार तेल कारोबारी से अवैध उगाही पर पुलिसकर्मियों पर गाज गिर ही गयी। इस गोरखधंधे में संलिप्त एक पत्रकार और उसके दो साथियों पर फंदा कस गया है। जलालाबाद पुलिस चौकी के दो सिपाहियों ने पत्रकार और उसके साथियों के साथ मिलकर एक तेल कारोबारी से 30 हजार रुपए की अवैध वसूली की थी। इस मामले में उच्चाधिकारियों के निर्देश पर नजीबाबाद कोतवाली में दो पुलिस कर्मियों, एक पत्रकार तथा उसके दो साथियों पर धारा 384 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

लोकप्रियता के लिए फर्जीवाड़े कर रहा है आई नेक्‍स्‍ट

यशवंत जी, जागरण के बच्चा अखबार आई नेक्स्ट बहुत लोकप्रिय हो गया है। इस लोकप्रियता के लिए फर्जीवाड़े भी यहां खूब किए जाते हैं। ताजा मामला इस अखबार के इलाहाबाद संस्करण का है। 19 जनवरी के अंक में पेज नंबर चार पर पाठक कोने में इसने एक सवाल का जवाब मिस इंडिया 2011 प्राची मिश्रा का छाप दिया है। इसी तरह इसी अखबार के 20 जनवरी 2011 के अंक में पेज नंबर दो पर अगर मैं एमएलए बनूंगी कालम में उसी मिस इंडिया का बयान छापा गया है। उनका पता इलाहाबाद में ममफोर्ड गंज का छापा गया है।

स्‍वामी प्रसाद मौर्य को ग्रामीणों ने लाठी-झाड़ू लेकर दौड़ाया

: एक घर में घुसकर बचाई जान : गोरखपुर : कुशीनगर में मंगलवार की शाम यूपी सरकार के एक मंत्री पर चुनाव प्रचार भारी पड गया. गांव वालों ने उन्हें दौड़ा लिया. जान बचाने के लिए मंत्री महोदय को एक घर में घुसना पड़ा. मंगलवार की शाम करीब छह बजे गांव भिसवा में पंचायती राज मंत्री व सदर विधानसभा सीट से बसपा प्रत्याशी स्वामी प्रसाद मौर्य को समर्थकों समेत ग्रामीणों ने लाठी और झाड़ू  लेकर दौड़ाया और गांव से बाहर खदेड़ दिया. मंत्री समर्थकों और ग्रामीणों में हुई जबरदस्त मारपीट में तीन ग्रामीण गंभीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.

भ्रामक विज्ञापनों पर कसेगा शिकंजा, साबित करने होंगे किए गए दावे

केवल 20 दिन में कद लंबा कीजिए। मोटापा घटाने का रामबाण। मर्दाना ताकत बढ़ाएं। बच्चों का दिमाग तेज करें। समाचार पत्रों और अन्य मीडिया संसाधनों में इस तरह के विज्ञापन हर दिन बढ़ रहे हैं। अधिकतर ग्राहकों को धोखा देने वाले साबित हुए है। सरकार इस तरह के भ्रामक विज्ञापनों पर लगाम लगाने की तैयारी कर रही है। विज्ञापनों में ऐसी लाइनों का इस्तेमाल करने वाली कंपनियों को अब इसकी प्रमाणिकता भी साबित करनी होगी।

जम्‍मू में सिखों ने एनबीसी चैनल का पुतला फूंका

जम्मू। अमेरिकी चैनल एनबीसी में एक कार्यक्रम के होस्ट जेय लेनो की अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर पर छींटाकशी करने पर सिख संगठनों ने कड़ा ऐतराज जताया है। रियासत की निरभव निरवैर आर्गनाइजेशन ने मंगलवार को विरोध में अमेरिकी चैनल एनबीसी का पुतला जलाया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने अमेरिका के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। एयरपोर्ट रोड स्थित करन बाग में प्रदर्शनकारियों ने अपने गुस्से की भड़ास निकालते हुए चैनल के प्रतिनिधियों पर कार्रवाई की मांग करते हुए भारत सरकार से अमेरिका पर दबाव बनाने को कहा।

एचटी से निकाले गए 272 कर्मी अदालत में जीते, बहाली का आदेश

दिल्ली की एक अदालत ने हिंदुस्तान टाइम्स मीडिया कंपनी से सात साल पहले निकाले गए 272 कर्मचारियों को बहाल करने का आदेश दिया है. कर्मचारियों के वकील अश्विनी वैश ने बीबीसी को बताया कि लेबर कोर्ट ने इन कर्मचारियों को पिछली तारीख़ से वेतन और भत्ते देने का आदेश भी दिया है. उनका कहना है कि अक्तूबर 2004 में हिंदुस्तान टाइम्स मैनेजमेंट ने 362 कर्मचारियों को निकाल दिया था. बाद में 272 कर्मचारियों के अलावा बाक़ी ने इस फ़ैसले को स्वीकार कर लिया.

बनारस में एनई के निशाने पर रहे मदन मेहरोत्रा का तबादला जमशेदपुर

आई नेक्‍स्‍ट, बनारस से खबर है कि पिछले कई दिनों से न्‍यूज एडिटर विश्‍वनाथ गोकर्ण के निशाने पर रहने वाले फोटोग्राफर मदन मेहरोत्रा का तबादला जमेशदपुर के लिए कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि पिछले कई दिनों से विश्‍वनाथ मदन पर इस्‍तीफा देने का दबाव डाल रहे थे, जिसकी शिकायत मदन ने संस्‍थान के वरिष्‍ठ लोगों से की थी. सूत्रों का कहना है कि वरिष्‍ठों ने मदन के काम को देखते हुए उन्‍हें हटाने की बजाय उनका तबादला जमशेदपुर के लिए कर दिया.

बेरोजगारों से लाखों ठगने वाला चैनल24 का मालिक भूमिगत

शिमला : नौकरी देने के झांसे में बेरोजगार युवकों से लाखों रुपये ऐंठने वाला चैनल मालिक भूमिगत हो गया है। आरोपी की तलाश में हरियाणा से पुलिस खाली हाथ लौटी है। पुलिस आरोपी के खिलाफ कोर्ट से गिरफ्तारी वारंट लेने की तैयारी में है। राजधानी शिमला में चैनल-24 शुरू करने के लिए हरियाणा निवासी राजेन्द्र विदान ने नौकरी देने का झांसा देते हुए बेरोजगार युवकों से साढ़े तीन लाख रुपये ऐंठे। हालांकि बेरोजगारों द्वारा पुलिस थाना सदर में साढ़े पांच लाख रुपये ऐंठने की रिपोर्ट दर्ज करवाई है।

चुनाव आयोग की गाज : पत्रकारिता करने वाले चार शिक्षकों का तबादला

नवांशहर : चुनाव आयोग ने गुप्त शिकायत के आधार पर शिक्षा विभाग ने जिले के चार शिक्षकों को चंडीगढ़ मुख्यालय बुलाया है। शिक्षा विभाग कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार जिले के चार शिक्षक जो कि पत्रकारिता जगत से भी जुड़े हुए हैं, की किसी ने गुप्त शिकायत चुनाव आयोग से कर दी। इस शिकायत के आधार पर चुनाव आयोग ने तुरंत इन सभी चारों शिक्षकों को उस स्थान पर स्थानांतरित किए जाने की सिफारिश कर दी कि जहां पर चुनाव नहीं हो रहे हैं।

भाकपा ने चुनाव आयोग से न्‍यूज चैनलों की शिकायत की

लखनऊ। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने निर्वाचन आयोग से उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान प्रमुख समाचार चैनलों द्वारा किए जा रहे कथित पक्षपात की शिकायत की है। भाकपा ने आयोग से कहा है कि प्रमुख समाचार चैनल आयोग के नियमों की अनदेखी कर रहे हैं तथा इसकी धज्जियां उड़ा रहे हैं। भाकपा के राज्य सचिव गिरीश ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त एस. वाई. कुरैशी तथा राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी उमेश सिन्हा को पत्र लिखकर कहा है कि कई समाचार चैनल नियमों को ताख पर रखकर आयोग के आदेशों का उल्‍लंघन कर रहे हैं।

मीडिया बना चुनावी मुद्दों पर परिचर्चा का बड़ा विकल्‍प

इस विधानसभा चुनाव में राजनीतिक संवाद के परंपरागत साधन और तौर-तरीक़े ग़ायब हो जाने से मीडिया लोगों के बीच चुनावी मुद्दों पर परिचर्चा का एक बड़ा विकल्प बनकर उभरा है. लगभग सभी टीवी चैनल और कई अख़बार भी नगर-नगर डगर–डगर अपनी सार्वजनिक चौपाल लगा रहे हैं. इन्हीं चर्चाओं से स्थानीय चुनावी मुद्दों का अहसास होता है और जनमत की बानगी भी मिलती है.

अब नेताओं-विचारकों के साक्षात्‍कार करेंगे असांज

लंदन। विकीलीक्स के संस्थापक जुलियन असांजे ने ऐलान किया है कि वह जल्द ही एक टेलीविजन सीरिज की मेजबानी करेंगे जिसमें वह विश्व भर के महत्वपूर्ण राजनीतिक नेताओं, विचारकों और क्रांतिकारियों का साक्षात्कार लेंगे। स्वीडन को प्रत्यार्पित किए जाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई का इंतजार कर रहे असांजे ने कहा कि यह कार्यक्रम दस सीरिज में होगा।

… आखिरकार अमिताभ ने वसूल ही लिए सरकार से ढाई सौ रुपये

यह हम सभी जानते हैं कि सरकार से पैसा निकाल पाना कितना मुश्किल है. सरकार तो लोगों के टैक्स, दंड, फाइन आदि के पैसे निकलवाने में तनिक भी देर नहीं करती और कई तरीकों से सरकारी पैसा निकलवा ही लेती है. खास कर के यदि सामने वाला गरीब या साधारण आदमी हो, उसकी कोई खास पहुँच नहीं हो या उससे किसी सरकारी अधिकारी की मिलीभगत नहीं हो. लेकिन इसके विपरीत सरकार से कोई आदमी अपना पैसा निकलवा पाए, यह मामूली बात नहीं है. वह पैसा यदि सरकार पर लगाया गया दंड हो तब तो उसे निकलवाना लगभग असंभव सा होता है.

पहाड़ की जनता के साथ धोखा कर रहे हैं बीसी खडूड़ी

उत्तराखंड की बीजेपी सरकार को.. खंडूड़ी है जरूरी… का एक चुनावी नारा क्या मिला कि उसने इस पहाड़ी राज्य के जनहित के मुद्दों को ही जमीन में दफना दिया है. आज जहाँ पहाड़ी क्षेत्र में रहने वाली 60 प्रतिशत महिलायें खून की कमी के जूझ रही हों तथा 72 प्रतिशत महिलायें बिना इलाज के किसी न किसी बीमारी को ढोने को मजबूर हों, वहां करोड़ों रुपये के घोटाले हो जाने के बाबजूद मुख्यमंत्री खंडूड़ी ने उन पर एक जांच बैठानी भी जरूरी नहीं समझी. खंडूरी है जरूरी.. इसलिए उनसे कुछ सवाल करने जरूरी हैं.. खंडूड़ी जी ने मुख्यमंत्री काल के दौरान पूरे पहाड़ में घूम-घूमकर निशंक पर प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप से भ्रष्टाचार के आरोप लगाए लगाए.. तथा इन आरोपों के समर्थन में बीजेपी हाई कमान से लेकर आरएसएस नेताओं तक अपनी बात पहुंचाई. खंडूड़ी द्वारा पेश सुबूतों के आधार पर दिल्ली के नेताओं को अपने चहेते निशंक की बलि देनी पड़ी.

पैसा न देने पर सिपाहियों ने पत्रकार एवं उसके साथी को पीटा

शाहजहांपुर के थाना मिर्जापुर के दो सिपाहियों ने रविवार देर शाम दावत खाकर बाइक से घर लौट रहे एक पत्रकार की मोटरसाइकिल चेकिंग के दौरान मामूली कहासुनी पर जमकर पिटाई कर दी। जब इसकी सूचना उनके अन्य पत्रकार साथियों को हुई तो वह थाने पहुंचे और साथी की पिटाई पर एसओ से नाराजगी जताई। पीड़ित पत्रकार एसपी से मिला और आरोपी सिपाहियों पर कार्रवाई की मांग की। एसपी ने सीओ जलालाबाद को मामले की जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

दिल्‍ली-एनसीआर के पत्रकार गमला चोरी पर उतरे, सुरक्षा गार्डों ने जांची सबकी गाड़ियां

: कानाफूसी : खबर है कि दिल्‍ली-एनसीआर के पत्रकार अब गमला चोरी पर भी उतर आए हैं. हालांकि कई पत्रकारों की गाडि़यों से सुरक्षागार्डों ने गमला उतरवा लिया पर कई भागने में सफल रहे. बताया जा रहा है कि मयूर विहार फेस वन में दिल्‍ली को बिजली आपूर्ति करने वाली कंपनी बीएसईएस ने शनिवार को एक कार्यक्रम आयोजित किया था. इस कार्यक्रम की मुख्‍य अतिथि दिल्‍ली की सीएम शीला दीक्षित थीं. इस कार्यक्रम में दिल्‍ली के कई पत्रकार भी आमंत्रित थे. कई लोग बीट के चक्‍कर में पहुंच गए थे.

दैनिक भास्‍कर से अक्षय जैन एवं राजेंद्र नायक का इस्‍तीफा

दैनिक भास्‍कर से खबर है कि अक्षय जैन ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी अमर उजाला से शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍होंने नोएडा में जीएम के रूप में ज्‍वाइन किया है. वे पिछले बारह सालों से इस फील्‍ड में सक्रिय हैं. संभावना है कि उन्‍हें उजाला के टच प्‍वाइंट की जिम्‍मेदारी सौंपी जाएगी.

इलाहाबाद में कांग्रेस प्रदेश अध्‍यक्ष के भाई ने उड़ाई आचार संहिता की धज्‍जी

इलाहाबाद में फाफामऊ विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी की तरफ से आदर्श चुनाव आचार संहिता की जमकर धज्जियां उड़ाई गई। भारी भरकम जुलूस लोगों के बीच आश्‍चर्य व चर्चा का विषय बना रहा। जुलूस में साठ से ज्यादा चार पहिया वाहन और करीब दो सौ से ज्यादा लोग दो पहिया वाहनों में पार्टी झंडों के साथ शामिल रहे। इस दौरान सैकड़ों लोगों ने जमकर नारेबाजी की। विधानसभा चुनाव में फाफामऊ से शेखर बहुगुणा कांग्रेस उम्मीदवार हैं।

भड़ास4मीडिया के लिए दो पत्रकारों ने दिया 3100 रुपये

मीडिया के बनियाकरण के खिलाफ, मीडिया में शोषण के खिलाफ आम मीडियाकर्मियों के सुख-दुख की आवाज बनकर प्रतिष्ठित हुए निष्पक्ष, बेबाक और तेवरदार न्यूज पोर्टल भड़ास4मीडिया के संचालन की चिंता अब इसके संस्थापक व संपादक यशवंत सिंह के दिलोदिमाग से निकल कर आम पत्रकारों के मन-मस्तिष्क में पहुंच रही है. लेकिन सक्रिय कम लोग हो रहे हैं. इस पोर्टल के संपूर्ण संचालन में  हर महीने हो रहे लगभग डेढ़ लाख रुपये के खर्च का बोझ अगर इसके हजार पाठक भी आपस में बांट लें और हर महीने दो सौ रुपये के हिसाब से साल को बारह सौ रुपये का चेक भड़ास को भेज दें तो महीने के डेढ़ लाख रुपये की जगह हर महीने दो लाख रुपये भड़ास के पास इकट्ठा हो जाए.

प्रभु चावला ने पंकज पचौरी पर मारा तीर- मैं तो पीएम का एडवाइजर नहीं बनूंगा

प्रभु चावला ने लेख लिखकर कह दिया है कि वे पीएम के मीडिया एडवाइजर टाइप चीज नहीं बनेंगे. द न्यू इंडियन एक्सप्रेस और संडे स्टैंडर्ड के एडिटोरियल डायरेक्टर प्रभु चावला ने इस अखबार में अपने कालम में लिखा है कि उन्हें वीपी सिंह ने अपने प्रधानमंत्रित्व काल में मीडिया एडवाइजर बनने का आफर दिया था लेकिन उन्होंने ठुकरा दिया था, क्यों ठुकरा दिया था, यह खुद ही उनके मुंह से सुनें-

विवेक मल्‍होत्रा टीवी टुडे के मार्केटिंग हेड तथा संतोष चौरसिया अमर उजाला के जीएम बने

टीवी टुडे से खबर है कि विवेक मल्‍होत्रा को रिसर्च और मार्केटिंग का हेड नियुक्‍त किया गया है. मलहोत्रा टीवी टुडे के सभी मीडिया ब्रांडों के डेव‍लपिंग और कम्‍यूनिकेशन की रणनीति संभालेंगे. वे टीवी टुडे के सीईओ जॉय चक्रवर्ती को रिपोर्ट करेंगे. विवेक टीवी टुडे आने से पहले बिग एफएम के साथ मार्केटिंग हेड के रूप में जुड़े हुए थे. वे ब्‍यूमबर्ग यूटीवी, स्‍टार न्‍यूज को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वे इसके पहले भी टीवी टुडे के साथ एक पारी खेल चुके हैं. 

उत्‍तराखंड में बागियों ने बिगाड़ा भाजपा-कांग्रेस का चुनावी गणित

नैनीताल। उत्‍तराखण्ड में बागियों ने कांग्रेस और भाजपा का चुनावी गणित बिगाड़ दिया है। राज्य का मुख्यमंत्री बनने को लालायित कांग्रेस और भाजपा के क्षत्रपों के टिकट बंटवारे में अपने खासों को तरजीह देने की वजह से दोनों पार्टियों के भीतर पनपा असन्तोष राज्य की सत्‍ता में काबिज होने के भाजपा और कांग्रेस के मंसूबों में पानी फेर सकता है। टिकट बंटवारे में मुख्यमंत्री का ख्वाब पाले अघोषित दावेदारों के बीच चली शांतिपूर्ण खींचतान के कारण दोनों पार्टियों को कार्यकर्ताओं के जबरदस्त गुस्से और बगावत का सामना करना पड़ रहा है।

हिंदुस्‍तान, मुरादाबाद में फेसबुक पर प्रति‍बंध

खबर है कि दुनिया भर में मशहूर सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट "फेसबुक" पर हिन्दुतान मुरादाबाद में प्रतिबन्ध लग गया है। सूत्र बताते हैं कि रोज़-रोज़ विभिन्न जगहों से आये डेस्क स्टाफ कार्यालय में अधिकतर समय फेसबुक पर बिताने लगे थे, जिसकी भनक लगते ही हिन्दुस्तान प्रबंधन ने सख्ती से सभी को फेसबुक पर समय गंवाने की बजाय अपने कामों में ध्यान देने के लिये कहा। बताया जा रहा है कि इसमें सुधार नहीं होने पर आगे फेसबुक खोलने पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है।

हुड्डा से स्व. बीडी वर्मा के परिजनों को पांच लाख देने की मांग

हरियाणा यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के सदस्यों ने मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा से मिलकर रेवाड़ी के पत्रकार स्व. श्री बी.डी. वर्मा के परिवार को पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की मांग की है। इस बाबत यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष बलजीत सिंह के नेतृत्व में यूनियन के पदाधिकारियों द्वारा हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा को मिलकर एक ज्ञापन सौंपा गया।

शेखर टाइम्‍स के संपादक को डीएम ने लताड़ा, छापी सफाई

पत्रकारिता को पेशा मान कर लोग अखबार निकालने लगते हैं और गुण की जगह अपनी पसंद के लोगों को संपादक बना देते हैं। इन संपादकों को खबर छपने के बाद क्या प्रभाव होगा इस का भी ज्ञान नहीं होता है। यदि यह कहे कि एक अखबार के संपादक सरदार शर्मा को यह भी पता नहीं है कि फ्रंट पेज पर कौन सी खबर छापनी चाहिये और कौन सी खबर नहीं, तो गलत नहीं है। बेचारे संपादक महोदय को खाद व्यापारी की मौत के बाद चाचा के हवाले से एक विवादित खबर छापना काफी महंगा पड़ गया।

सीवोटर-आजसमाज-इंडिया न्यूज सर्वे : बसपा सबसे बड़ी पार्टी, भाजपा नंबर चार पर

चुनाव सर्वेक्षणों से जनता का मूड समझने की कोशिश की जाती है. वोटरों का मिजाज भांपा जाता है. भावी नतीजों का अंदाजा लगाया जाता है. कई बार ये सच साबित होते हैं. कई बार गलत निकल जाते हैं. कई बार सर्वेक्षण ही प्रायोजित होते हैं, मतलब, पहले से तय होता है कि हमें सर्वे का नतीजा क्या दिखाना है. लेकिन सी वोटर इस फील्ड की जानी मानी कंपनी है. इस कंपनी से प्रायोजित सर्वे की उम्मीद नहीं की जा सकती क्योंकि इसके मालिक यशवंत देशमुख हैं जो खुद अच्छे पत्रकार व विश्लेषक हैं.

दैनिक जागरण, वाराणसी के निदेशक बीरेंद्र कुमार और संपादक राघवेंद्र चड्ढा की कहानी

: एक ब्याज का धंधा कराता है तो दूसरा दवाओं की फर्जी सप्लाई का : बनारस आजकल गर्म है. दैनिक जागरण के संपादक राघवेंद्र चड्ढा और इसी अखबार के मालिक बीरेंद्र कुमार सुर्खियों में है. एनएचआरएम घोटाले में राघवेंद्र के भाई मानवेंद्र फंसे हैं. मानवेंद्र की गिरफ्तारी कभी भी हो सकती है. सीबीआई की टीम बनारस में डेरा डाले है. सीबीआई को प्रभावित करने की भी कोशिशें हो रही है. खूब आव भगत हो रही है. कभी बनारस क्लब में सीबीआई को रुकवाया जाता है तो कभी दागी स्वास्थ्य महकमे के गेस्ट हाउस में. दागी सप्लायर और दागी डाक्टर सीबीआई टीम के आगे-पीछे दांत निपोर रहे हैं. सीबीआई के प्रदेश भर के परिचित अफसरों से संपर्क साधा जा रहा है.

बदल जाएगा लाइव इंडिया का नाम, पर सुधीर चौधरी का क्‍या होगा!

खबर है कि लाइव इंडिया के किस्‍मत का फैसला होना तय हो गया है. संभावना बन रही है कि अगले एक पखवारे में इस सौदे को अंतिम रूप दे दिया जाए. पर इसके साथ ही एक बात तय नहीं हो पा रही है कि चैनल के सीईओ सुधीर चौधरी का क्‍या होगा. पहले खबर थी कि सुधीर चौधरी चैनल से जुड़े रहेंगे पर ताजा अपडेट है कि नया प्रबंधन अब अपना मूड बदल चुका है. दूसरी तरफ चैनल के नाम को बदले जाने की भी तैयारी शुरू हो गई है. इसके लिए भी नया प्रबंधन जल्‍द ही सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में आवेदन करने वाला है.

बेटा कार्तिक, अपने पिताश्री की इतनी फोटो-खबरें छपने पर भी तो लिखो

: आज समाज अखबार के एमडी ने लिखा पेड न्यूज के खिलाफ लेख, उसी अंक में चेयरमैन पिता की साधारण मीटिंग्स की कई तस्वीरें व खबरें : यशवंतजी, नमस्‍कार। मैं आपको पेड न्यूज के मामले पर बहुत ही रूचिकर मसाला भेज रहा हूं। यूं समझिए कि पेड न्यूज के लाखों चूहे खाकर और पत्रकारिता की सारी आचार संहिताओं को ताक पर रखकर उसे सिर्फ अपने घर की बपौती बनाकर बिल्ली हज को जा रही है। बात बड़ी हंसी की है, इसलिए अपनी हंसी पर काबू रखते हुए पढ़े. मामला ये है कि गत हरियाणा विधानसभा चुनाव, जो अक्टूबर 2009 में था, उसमें मीडिया के पेड न्यूज आफर का जमकर फायदा उठाने वाले यानी पेड न्यूज के माध्यम से अपनी खूब कवरेज करवाने वाले हरियाणा के राजनीतिक परिवार ने अब पेड न्यूज के खिलाफ न्याय युद्ध छेड़ा है।

साहित्यिक लंपटों का शराबोत्सव

बीस जनवरी से जयपुर में हूं। गले में जयपुर लिटरेचर फेस्टीवल का आईकार्ड लटका कर डिग्गी पैलेस में भारी भीड़ के बीच धक्के खा रहा हूं। कभी फ्रन्ट लोन, कभी मुगल टेंट, कभी दरबार हाल तो कभी बैठक के टेंट में मारा मारा फिर रहा हूं। ज्यादातर बातचीत अंग्रेजी भाषा में हो रही है वह भी विदेशी  लहजे में, सो अपनी तो समझ में कुछ आता ही नहीं। लगता है कि कल लोगों ने जो ज्यादा पी ली थी, वह अभी तक उतरी नहीं है इसलिए लड़खड़ाती भाषा बोली जा रही है। पर भाई अपना साहित्य और साहित्यकार दारू हाथ में उठाकर जैसा डिस्को कर रहा है उससे हमें परम संतुष्टि मिली।

Speech by Justice Katju at a function of the NRI Welfare Society of India

Delhi : 24.1.2012 : Friends, It is a great honour for me to be invited to speak here today. Before Independence, and for sometime thereafter, India was looked down upon as a country of sadhus, snake charmers, and backward people. However, over the last few decades, thanks mainly to the technical prowess and IT driven entrepreneurship of Indians, spearheaded from the U.S. Silicon Valley and elsewhere, India and Indians now enjoy respect globally. We Indians are proud of you NRI.s.

राष्‍ट्रीय सहारा के ‘जन गण का मन’ का प्रतिनिधियों ने निकाला दम

: खुद भरकर जमा करा रहे हैं प्रोफार्मा : सहारा ग्रुप अच्‍छा करने की कोशिश में सब गुड़ गोबर कर डालता है. इस बार भी ऐसा ही हो रहा है. राष्‍ट्रीय सहारा ने चुनावी राज्‍यों में पड़ने वाले यूनिटों में अपने प्रतिनिधियों को चुनावी सर्वेक्षण से संबंधित 'जन गण का मन' नाम का एक प्रोफार्मा सौंपा है. बताया जा रहा है कि इस प्रोफार्मा के निष्‍कर्ष के आधार पर ही वह अपने-अपने क्षेत्र तथा विधानसभाओं की तस्‍वीर प्रस्‍तुत करेंगे, हार-जीत का आधार तय करेंगे तथा बताएंगे कि किसी पार्टी की सरकार बन रही है, कौन लोगों का पसंदीदा मुख्‍यमंत्री है.

जागरण : नवीन मिश्रा का इस्‍तीफा एवं ब्रजेश का तबादला

दैनिक जागरण, रोहतक से खबर है कि नवीन मिश्रा से इस्‍तीफा ले लिया गया है. नवीन छायाकार के पद पर कार्यरत थे. उन्‍हें रोहतक प्रभारी बलराम शर्मा से बदतमीजी करने की कीमत चुकानी पड़ी है. बताया जा रहा है कि बलराम शर्मा से अभद्रता करने के बाद से ही उनके आफिस में इंट्री करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था. और अंत में उनसे इस्‍तीफा मांग लिया गया. नवीन काफी समय से जागरण से जुड़े हुए थे. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करेंगे इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है.

…तो इस कारण पीएम के सलाहकार बन गए पंकज पचौरी!

: अंग्रेजी मीडिया को तवज्‍जो देना हरीश खरे को भारी पड़ा : नई दिल्ली। राजनैतिक और मीडिया की वीथिकाओं में प्रधानमंत्री डॉ.मनमोहन सिंह के पूर्व मीडिया सलाहकार हरीश खरे की बिदाई के कारण खोजे जा रहे हैं। घपले, घोटाले और भ्रष्टाचार में घिरे और अघोषित तौर पर भ्रष्टाचार के ईमानदार संरक्षक बन चुके वजीरे आजम को दो मर्तबा चुनिंदा संपादकों की टोली और समाचार चैनल्स से रूबरू करवाने वाले हरीश खरे की बिदाई के कारणों को लेकर कयास लगने आरंभ हो गए हैं।

जागरण पहल की फोटोग्राफी प्रतियोगिता आज से

नई दिल्ली : महिला सशक्तीकरण और लैंगिक समानता की दिशा में पहल करते हुए दैनिक जागरण प्रकाशन की सहयोगी संस्था जागरण पहल राष्ट्रीय स्तर पर फोटोग्राफी प्रतियोगिता का आयोजन करेगी। प्रतियोगिता का विषय गर्ल चाइल्ड है। प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए अपनी प्रविष्टि नेशनल गर्ल चाइल्ड डे के अवसर पर 24 जनवरी से अगले बीस दिनों के अंदर भेज सकते हैं।

उत्तराखंड के लिए स्टार न्यूज का सर्वे खरीदा जा चुका है!

देहरादून : उत्तराखंड के लिए स्टार न्यूज और नेलसन के चुनाव पूर्व सर्वे के नतीजे इस प्रकार हैं- भाजपा- 39 कांग्रेस- 29 अन्य-02 । इसका सीधा अर्थ यह है कि स्टार न्यूज के मुताबिक भाजपा इन चुनावों में अभूतपूर्व जीत हासिल करने जा रही है। इस सर्वे का दूसरा नतीजा- उत्तराखंड चुनावों में बसपा और यूकेडी का सफाया । सर्वे का तीसरा नतीजा- भाजपा के सभी मंत्री और विधायक फिर से चुनाव जीतने जा रहे हैं। आप मानेंगे कि स्टार न्यूज ही ऐसा चैनल है जिसने अपनी साख दांव पर लगाकर और दुस्साहस की हद तक जाकर यह चुनाव सर्वे किया है।

भड़ास पर रिसर्च : पत्रकारिता छात्र निहाल ने प्रोजेक्ट पूरा किया

भड़ास अब शोध का विषय भी बन चुका है. खासकर मीडिया के स्टूडेंट्स के लिए. अपनी स्थापना के कुछ ही वर्षों में पूरे देश के मीडिया जगत फिर वेब संसार में चर्चा का केंद्र बन जाने वाले बेबाक और तेवरदार मीडिया न्यूज पोर्टल भड़ास4मीडिया पर रिसर्च का काम मिला था पत्रकारिता के छात्र निहाल सिंह को. वे दिल्ली विश्वविद्यालय के भीमराव अंबेडकर महाविद्यालय के हिंदी पत्रकारिता एवं जनसंचार पाठ्यक्रम के छात्र हैं. डीयू से जुड़े कालेज के पत्रकारिता विभाग ने निहाल को जो प्रोजेक्ट सौंपा उसका नाम है- ''भड़ास4मीडिया डॉट कॉम पर (अक्टूबर 2011) समाचारों के प्रस्तुतीकरण का अध्ययन.''

अशोक जनसंदेश टाइम्‍स एवं सौरभ श्रीटाइम्‍स पहुंचे

हिंदुस्‍तान, इलाहाबाद से खबर है कि अशोक शुक्‍ला ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी इलाहाबाद से शीघ्र प्रकाशित होने जा रहे जनसंदेश टाइम्‍स के साथ करने जा रहे हैं. अशोक तीन सालों से हिंदुस्‍तान के साथ जुड़े हुए थे. इसके पहले भी वे कुछ संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

सहारा को बेस्‍ट ऑफ मीडिया पुरस्‍कार मिला

सहारा न्यूज नेटवर्क को 'बेस्ट ऑफ मीडिया' के पुरस्कार से नवाजा गया है. सहारा इंडिया मीडिया के हेड श्री स्वतंत्र मिश्रा ने ये अवॉर्ड ग्रहण किया. एक बार फिर 'सहारा इंडिया मीडिया' ने साबित कर दिया कि मीडिया जगत में 'सहारा इंडिया परिवार' का अपना अलग स्थान है. कोलकाता में 'प्रयाग कलाकार अवार्ड 2012' सम्मान समारोह में 'सहारा न्यूज नेटवर्क' को  'बेस्ट ऑफ मीडिया' से नवाजा गया.

हिंदुस्‍तानी जबरदस्‍ती : आओ राजनीति करें या तो खेल बिगाड़ें

इलाकाई दबंगई कायम रखने में अपराधी या नेता ही नहीं, बुद्धिजीवियों का चश्मा कहे जाने वाले अखबार भी पीछे नहीं है। बुलंदशहर में "हिन्दुस्तान" अखबार के पत्रकारों ने मतदाता जागरूकता अभियान के तहत खेले गये एक मैत्री मैच में इसी संकुचित मानसिकता का परिचय दिया है। जिलाधिकारी बुलंदशहर के बेहतर प्रयासों के अन्तर्गत काफी समय के बाद बुलंदशहर के यमुनापुरम स्टेडियम में जिला प्रशासन और पत्रकारों के बीच एक मैत्री मैच का आयोजन किया गया जिसका मकसद था.. जिले में मतदाताओं को मतदान के लिए प्रोत्साहित करना।

देहरादून में अब राहुल गांधी पर चला जूता

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के पक्ष में प्रचार करने पहुंचे कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी की सभा में उस समय व्यवधान उत्पन्न हो गया जब एक शख्स ने उनके मंच की तरफ जूता उछाल दिया। वो शख्स मंच से काफी दूर था इसलिए जूता राहुल तक नहीं पहुंच सका। इस घटना से सन्‍न राहुल ने इसे बीजेपी की हरकत बताते हुए कहा कि वे ऐसी घटनाओं से डरने वाले नहीं। राहुल पर यह जूता उस समय फेंका गया जब वह बीजेपी के शाइनिंग इंडिया पर कमेंट कर रहे थे।

‘पंजाब केसरी’ को टक्कर देने के लिए आ गया ‘दैनिक सवेरा’

पंजाब में हिंदी का एक नया अखबार 'दैनिक सवेरा' के नाम से बाज़ार में उतरा है. अभी राज्य के ३ बड़े शहरों में उपलब्ध यह अखबार अपने लेआउट और ख़बरों के डिस्प्ले के मामले में पूरी तरह 'पंजाब केसरी' जैसा ही है. वही रंग रूप और बिलकुल वैसे ही दिखने वाले पन्ने. हालत ऐसी है कि अगर कहीं दोनों को एक साथ रख कर देखें तो पहली नज़र में पता ही नहीं चलता कि सवेरा कौन सा है और केसरी कौन सा. बताते हैं कि यह अखबार (सवेरा) पंजाब केसरी को टक्कर देने के लिए ही निकाला गया है. इसके मुख्य संपादक और मालिक शीतल विज हैं जिनको पंजाब केसरी से अपने घोर विरोध के लिए जाना जाता है. इस तरह से अब पंजाब में लोगों को पंजाब केसरी का एक ऐसा विकल्प मिलने जा रहा है जो उनकी हर उस खबर को छापेगा जो पहले सिर्फ पंजाब केसरी ही छपता था.

एनई विश्वनाथ गोकरण को गुस्सा आया, फोटोग्राफर को काम से हटाया

आई-नेक्स्ट, वाराणसी के फोटोग्राफर मदन मेहरोत्रा आजकल परेशान हैं. सूत्रों के मुताबिक वे कुछ दिन तक संस्‍थान द्वारा स्‍वीकृत अवकाश पर रहे और जब छुट्टी बीतने के बाद कार्य पर पहुंचे तो स्‍थानीय न्यूज एडिटर विश्‍वनाथ गोकर्ण ने उन्हें बिना किसी कारण के इस्‍तीफा देने को कह दिया. गोकरण को जाने क्यों गुस्सा आ गया था. सूत्रों के मुताबिक फोटोग्राफर ने जब कारण पूछा तो एनई ने कुछ भी बताने से मना कर दिया.

शोषकों के पक्ष में खड़ी मीडिया के लिए ‘जन अदालत’ में हुई चर्चा

उत्‍तर प्रदेश के चुनाव में जहां जनता की अदालत में जन प्रतिनिधि हैं, वहीं 22 जनवरी को लखनऊ में एक और अदालत लगी। इस अदालत का आयोजन अलग दुनिया ने वाल्मीकि रंगशाला में किया था। इसमें लेखक, पत्रकार, संपादक, बुद्धिजीवी, जन संगठनों के कार्यकर्ता, मानवाधिकार कार्यकर्ता आदि मौजूद थे। जनता की इस अदालत में मीडिया थी। कैसी है आज मीडिया? क्या हो इसकी भूमिका? इसका जायजा लेने के लिए शुरू हुई इस गोष्ठी में प्रिंट व इलेक्ट्रानिक मीडिया के इतिहास, उसकी परंपरा, उसके सरोकार और सामाजिक भूमिका पर चर्चा हुई।

चार महीने में 9 करोड़ लोगों की पसंद बन गया गूगल प्‍लस

इंटरनेट कंपनी गूगल की सोशल नेटवर्किंग सेवा गूगल प्लस का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या नौ करोड़ से अधिक हो गई है। कंपनी ने जून 2011 में इस सेवा की शरुआत की थी। हालांकि आम लोगों को इससे इस्तेमाल की अनुमति 20 सितंबर को प्रदान की गई। शुरुआत में गूगल प्लस सेवा से केवल आमंत्रण मिलने पर ही जुड़ा जा सकता था। सबसे आश्चर्य जनक बात यह है कि चर्चित वेबसाइट फेसबुक को नौ करोड़ लोगों को अपने साथ जोड़ने में करीब चार साल लगे थे। 2004 में शुरू किए गए फेसबुक से फिलहाल करीब 80 करोड़ लोग जुड़े हुए हैं।

अखबारों को देसी-बिदेसी कंपनियों के पैसे ने लगभग बंधक बना रखा है

फूल खिलते हैं, मुरझा जाते हैं। सूरज उगता है, डूब जाता है। सुख आता है तो दुख उसके पीछे ही खड़ा रहता है। हर्ष के हर मधुर क्षण के आगे विषाद की रेखाएं झिलमिलाती रहती हैं। जीवन है तो मृत्यु निश्चित है। यह प्रकृति का क्रम है। यही उसकी गत्यात्मकता है, यही उसका नयापन है। एक फूल के मुरझा जाने से हजारों दूसरे फूलों के खिलने की संभावना मर नहीं जाती। सूरज डूबता है तो भी उजाले की संभावना नहीं डूबती। दुख कितना भी गहरा हो, यंत्रणाकारी हो, दर्द भरा हो, वह भी सुख की संभावना को मिटा नहीं सकता। विषाद कितना भी गहन हो, प्रसन्नता की परिधि को अतिक्रमित नहीं कर सकता। मृत्यु होगी, इसलिए जीना छोड़ देना समझदारी की बात नहीं है। भारतीय दार्शनिकों ने इस द्वंद्व के पार जाने की हमेशा सलाह दी। इस पार सुख-दुख है, हर्ष-विषाद है, प्रकाश-अंधकार है, राग-द्वेष है, जीवन है, मृत्यु है, उस पार परम शांति है, निर्विकार का अनहद विस्तार है, अविकल चैतन्यलोक है, अनंत आनंद है।

विधायक के खिलाफ खबर दिखाने पर चैनल से दस दिनों के लिए निकाला गया

यशवंत जी प्रणाम, आम लोगों की आवाज़ को कलम के माध्यम से उठाने और एक मिशन के रूप में पत्रकारिता को एक दिशा देने का काम करने वाले पत्रकारिता के महानायक क्रन्तिकारी शहीद गणेश शंकर विद्यार्थी के मिशन रूपी पत्रकारिता को आज क्या हो गया है? आज टीवी चैनलों व समाचार पत्रों की पत्रिकारिता में राजनैतिक दवाब इस कदर बढ़ गया है कि राजनैतिक लोगों की पसंद के आधार पर रिपोर्टरों को मौका दिया या छीना जा रहा है.

ये अफसर साले वसूली का कोई मौका नहीं छोड़ते, चुनाव के नाम पर भी शुरू

चुनाव के नाम पर मीडिया वाले तो मीडिया वाले, अफसर भी खूब वसूली कर रहे हैं. वैसे भी अफसरों को तो बस वसूली करने का बहाना मिलना चाहिए. चुनाव के नाम पर एक अफसर ने वसूली शुरू कर दी है. किस तरह और कहां, यह जानने के लिए नीचे दी गई खबर पढ़िए जो अमर उजाला अखबार में प्रकाशित हुई. यह खबर यूपी के महाराजगंज जिले से जुड़ी है.

उपेक्षा से आहत होकर इंडिया न्‍यूज से राजेंदर सिंह नेगी का इस्‍तीफा

इंडिया न्‍यूज से खबर है कि देहरादून में कार्यरत राजेंदर सिंह नेगी ने इस्‍तीफा दे दिया है. नेगी ने भेजे गए अपने इस्‍तीफे में कहा है कि देहरादून में ब्‍यूरोचीफ पद के लिए उनकी अनदेखी की जा रही थी, जिसके चलते उनको इस्‍तीफा देना पड़ रहा है. वे चैनल की लांचिंग के समय से जुड़े हुए थे. इसके पहले भी वे जी न्‍यूज, टाइम्‍स नाउ जैसे चैनलों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं. नीचे उनके द्वारा संपादक और असाइनमेंट हेड को भेजा गया मेल. 

मेड टुडे से एसोसिएट एडिटर राजेश रामचंद्रन का इस्‍तीफा

: राज नारीसेट्टी द वाल स्‍ट्रीट जर्नल के डिजिटल नेटवर्क के मैनेजिंग एडिटर बने : मेल टुडे से खबर है कि राजेश रामचंद्रन ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर एसोसिएट एडिटर के पर पर कार्यरत थे. भारत भूषण और राहुल थापा के जाने के बाद मेल टुडे को यह तीसरा झटका लगा है. बताया जा रहा है कि राजेश अब हिंदुस्‍तान टाइम्‍स के साथ अपनी नई पारी शुरू करने जा रहे हैं. इन्‍हें सीनियर पद पर लाया जा रहा है. वे मेल टुडे के साथ पिछले चार सालों से जुड़े हुए थे. पिछले डेढ़ दशक से पत्रकारिता में सक्रिय राजेश द वीक मैगजीन समेत एनडीटीवी इंडिया तथा अन्‍य कई संस्‍थानों को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. राजेश सक्रिय ब्‍लॉगर भी हैं. राजनीतिक मामलों पर इनकी मजबूत पकड़ मानी जाती है.

राष्‍ट्रपति की मीडिया सलाहकार आईएसआई के डर से वाशिंगटन भागीं

इस्लामाबाद। पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी की मीडिया सलाहकार और अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी की पत्नी, फरहानाज इसपाहानी वाशिंगटन चली गई हैं। उन्‍होंने अपना पद छोड़ दिया है। जियो न्‍यूज द्वारा लंदन से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि फरहानाज ने पाकिस्‍तान इसलिए छोड़ा है क्योंकि उन्हें आशंका थी कि आईएसआई उनका अपहरण करवा लेगी। उन्‍होंने कहा है कि उन्‍हें डर था कि जरदारी को गुप्त संदेश मामले में फंसाने के लिए उनके पति से जबरन बातें मनवाने के लिए उन्हें (इसपाहानी को) अगवा किया जा सकता है।

बसपा ने सपा कार्यकर्ताओं पर दर्ज कराए एक लाख फर्जी मुकदमे : मुलायम

देवरिया। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने रविवार को जब चुनावी जनसभा में लोगों को सम्बोधित करना शुरू किया तो सबसे पहले उन्होंने अपने ऊपर तथा अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के ऊपर दर्ज किए गए आपराधिक मुकदमों की पीड़ा को बयां किया। उन्होंने कहा कि बसपा की सरकार ने करीब एक लाख संगीन मुकदमे उनके कार्यकर्ताओं पर नामजद दर्ज कराया है, जो सभी फर्जी हैं। करीब 46 मुकदमे तो सैफई में दर्ज कराए गए है। इतने मुकदमें एक रिकार्ड के रूप में है। जब सैफई का यह हाल है तो बाकी उत्तर प्रदेश के लोगों का क्या हाल होगा आप समझ सकते हैं।

सड़क हादसे में एक चैनलकर्मी की मौत, दूसरा घायल

नोएडा : कोतवाली सेक्टर-20 क्षेत्र के अंतर्गत सड़क दुर्घटना में एक मीडिया कर्मी की मौत हो गई। एक घायल हो गया। घायल को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मौत की सूचना की घर में कोहराम बच गया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

फेसबुक की मुहिम से जागा प्रशासन, करनी पड़ी कार्रवाई

नई दिल्ली: इंटरनेट ज्ञान का सागर ही नहीं बल्कि कई देशों में क्रांति वाहक और भ्रष्टाचार पर लगाम कसने का जरिया भी बनता जा रहा है। उत्तर प्रदेश के हरदोई परिवहन विभाग में रिश्वत नहीं देने के लिए आईआईटी खड़गपुर के एक छात्र की पिटाई के मामले को ऑनलाइन मुहिम में बदल देने से प्रशासन को 48 घंटे के भीतर कार्रवाई करनी पड़ी। इस मुहिम में जिलाधिकारी हरदोई एम के एस सुंदरम से हुई बातचीत को भी रिकार्ड कर इंटरनेट पर डाल दिया गया जिसमें उनसे कहा गया था कि यदि सात दिन के भीतर संघप्रिय राहुल की पिटाई करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती है तो लोग उनके घर पर गुलाब के फूल के साथ चप्पल और महिलाओं के अंडर गारमेंट्स भेजना शुरु करेंगे।

ब्रितानी के बाद अमेरिकी एंकर ने की देश की बेइज्‍जती, भारत ने जताई आपत्ति

वॉशिंगटन। अमेरिका में एक टीवी शो के होस्ट की सिखों के धार्मिक स्थल श्री दरबार साहिब यानी स्वर्ण मंदिर के बारे में अपमानजनक टिप्पणी को लेकर विवाद हो गया है। इस 'शरारती ' होस्ट ने अपने कार्यक्रम के दौरान इस पवित्र स्थल को रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार की 'ऐशगाह' कह डाला। अमेरिका की यात्रा पर गए प्रवासी भारतीय मामलों के मंत्री वायलार रवि ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई है।

बिना इंटरनेट चलेगी ऑलअबाउटरजनीकांत डॉट काम

: प्रशंसकों ने बनाई रजनीकांत स्‍टाइल वेबसाइट : मुंबई : सुपरस्टार रजनीकांत के लिए नामुमकिन कुछ नहीं की तर्ज पर उनके प्रशसंकों ने अभिनेता को समर्पित एक वेबसाइट लांच की है। खास बात यह है कि यह साइट बिना इंटरनेट कनेक्शन के चल सकती है। आपको यकीन नहीं होगा, लेकिन यह सच है। ऑलअबाउटरजनीकांत डॉट कॉम पर जाते ही एक स्वागत संदेश आता है। जिसपर लिखा होता है, रजनीकांत कोई आम इंसान नहीं है। यह वेबसाइट भी साधारण नहीं है। यह रजनीकांत की शक्तियों से चलती है। इस वेबसाइट से जुड़ने के लिए कृपया इंटरनेट कनेक्शन को बंद कर दें।

यूपी का आबकारी घोटाला- तीन : 16 फर्जी कंपनियों के मालिक पर नसीमुद्दीन की मेहरबानी!

एक लाख की कंपनी को अरबों का कारोबार : एक पता व एक फोन नंबर पर चार कंपनियां : इलाहाबाद। उत्तर प्रदेश के लोकायुक्त के यहां करोड़ों रुपए के आबकारी घोटाले में आबकारी मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी एवं शराब माफिया पोंटी चड्ढा के विरुद्ध पत्रकार विनय मिश्र द्वारा दाखिल किए गए अतिरिक्त दस्तावेजों में कहा गया है कि वर्ष 2007 में बसपा सरकार के गठन के बाद आबकारी मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी को बनाया गया, जिन्होंने सुनियोजित ढंग से आबकारी घोटाले की योजना बनाई और आबकारी कारोबार के तहत 16 फर्जी कंपनियां चलाने वाले गुरदीप सिंह चड्ढा उर्फ पोंटी चड्ढा उम्र लगभग 50 वर्ष पुत्र श्री कुलवंत सिंह चड्ढा निवासी बी-508, न्यू फ्रेंडस कालोनी नई दिल्ली-65 को सौंप दिया।

यूपी का आबकारी घोटाला- दो : कंपनी तीन, मुख्यालय का पता एक

: अंकित दर से अस्सी रुपए अधिक की वसूली, रफल्स ब्रांड की बिक्री से कमाया भारी मुनाफा : इलाहाबाद। उत्तर प्रदेश शासन द्वारा उप्र चीनी मिल संघ की आड़ में पहले जिस ब्लूवाटर इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड को शराब का कारोबार सौंपा गया और उच्चतम न्यायालय द्वारा मामले का संज्ञान लेने पर उसे हटाकर पुन: उप्र के मेरठ जोन के 23 जिले का कारोबार चीनी मिल संघ केजरिए फ्लोर एंड फेना लिमिटेड एवं एमकिस्ट टाउनशिप प्लानर्स प्राइवेट लिमिटेड को शराब का कारोबार सौंपा गया। उनके कंपनी निदेशक मंडल में जरूर अलग-अलग नाम हैं लेकिन सभी कंपनियों द्वारा जो बिलिंग की जा रही है उसमें उक्त तीनों कंपनियों के मुख्यालय का पता सी-6, फोज 2 नोएडा, उ.प्र. दर्ज है। आबकारी विभाग में यह दस्तावेज उपलब्ध हैं।

यूपी का आबकारी घोटाला- एक : निगल लिए गए दो लाख बत्तीस हजार करोड़

: पोंटी के खातिर सुप्रीम कोर्ट में गलत बयानी : आबकारी मंत्री के खिलाफ लोकायुक्त से शिकायत : इलाहाबाद। उत्तर प्रदेश सरकार ने पिछले पांच वर्षों के दौरान पूरे प्रदेश का आबकारी कारोबार शराब माफिया पोंटी चड्ढा को सौंप रखा है। शराब के खेल में प्रतिवर्ष करोड़ों रुपए के घोटालों को अंजाम दिया जा रहा है। यहां तक कि प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट तक में इस मामले में गलतबयानी की है।

पुलिस ने राजीव शुक्‍ला की कार से लाल बत्‍ती और हूटर उतरवाया

कानपुर। आचार संहिता के उल्लंघन पर केन्द्रीय संसदीय कार्य राज्यमंत्री एवं आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ला की कार से लाल बत्ती और हूटर नौबस्ता पुलिस ने उतरवा दिया। मामला बढ़ता देख केन्द्रीय मंत्री वहां से चले गए। बिना अनुमति लिए किया जा रहा कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन और रोड शो भी स्थगित कर दिया गया।

आई नेस्‍क्‍ट, गोरखपुर के संपादकीय प्रभारी बने विकास वर्मा

: भास्‍कर ज्‍वाइन करेंगी उपमा सिंह : आई नेक्‍स्‍ट, गोरखपुर से खबर है कि विकास वर्मा ने यहां डीएनई के पोस्‍ट पर ज्‍वाइन किया है. वे इस टैबलाइड अखबार के संपादकीय प्रभारी भी होंगे. उल्‍लेखनीय है कि संपादकीय प्रभारी रहे सुनील द्विवेदी के हिंदुस्‍तान, नोएडा से जुड़ जाने के बाद से यह पद खाली चल रहा था. आई नेक्‍स्‍ट आने से पहले विकास वर्मा इंडिया न्‍यूज को दिल्‍ली में प्रिंसिपल करेस्‍पांडेंट के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे थे. इसके पहले भी वे कई संस्‍थानों में काम कर चुके हैं.

ती‍न दिन पहले लांच नेटवर्क10 में राजनीति तेज, तीन लोग गए

सेवा में, श्रीमान यशवंत जी. इस खबर को प्रमुखता से छापें. क्यूंकि हमारे शुरू होते करियर का सवाल है. नेटवर्क10 में शुरू होते ही राजनीति होने लगी है. बसंत निगम को फिर से साइड लाइन लगाने की तैयारी में कुछ लोग हैं. हमें निगम से मतलब नहीं है. ये लोग बसंत निगम के कई लोगों को ठिकाने लगा चुके हैं और भीतर ही भीतर अपना एक गुट बना चुके हैं. हम लोग भी इनके निशाने पर हैं. हमें बेवजह अपमानित किया जाता है और अपने लोगों को ये कई गलतियाँ करने के बाद भी कुछ नहीं कहते.

सुप्रीम कोर्ट ने दिया सहारा समूह को तीन सप्‍ताह का समय

 नई दिल्‍ली : उच्चतम न्यायालय ने सहारा समूह की कंपनियों को जनता का निवेश सुनिश्चित करने के लिए ओएफसीडी योजना के तहत छोटे निवेशकों द्वारा वैकल्पिक पूर्ण परिवर्तनीय डिबेंचर (ओएफसीडी) योजना में जमा धन की सुरक्षा के मद्देनजर पर्याप्त बैंक गारंटी या 'पृथक अचल संपत्ति' सौंपने के लिए तीन हफ्तों का समय दिया है। मुख्य न्यायाधीश एस एच कपाडिय़ा की अगुआई वाले पीठ ने कहा कि सहारा समूह की दोनों कंपनियों और सेबी को मिलकर यह पक्का करना होगा कि निवेशकों को ओएफसीडी योजना में लगी उनकी रकम का नुकसान नहीं हो।

शराब + पैसा + जाति = उत्तर प्रदेश चुनाव!

: बिहार का असर फ़ैल रहा है, पर धीरे-धीरे : उत्तर प्रदेश में हो रहे इन चुनावों में एक रोशनी जरूर दिखी. वही मतदाता जो उत्तर प्रदेश में विधायकों का निर्णय करेंगे, बगल की बिहार की राजनीति से प्रभावित हैं. इस बार सिताबदियारा के उत्तर प्रदेश हिस्से के लोगों ने पूछा, क्या संविधान में कोई ऐसा प्रावधान है कि हम उत्तर प्रदेश के निवासी (सिताबदियारा), बिहार के निवासी बन जायें या बलिया जिला बिहार में मिल जाये?

आचार संहिता के उल्‍लंघन में प्रत्‍याशी के भाई का चालान, हजारों लीटर कच्‍ची शराब बरामद

गोरखपुर। चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन कर रायफल के साथ घूम रहे एक प्रत्याशी के भाई का पुलिस ने चालान कर दिया है। चिल्लूपार विधानसभा सीट से पीस पार्टी के प्रत्याशी दारा निषाद के भाई राजकुमार निषाद पुत्र राम किशोर निषाद निवासी कोइली खाल थाना बड़हलगंज और बिशुन देव पुत्र सुभाष मल्लाह निवासी सेमरा बड़हलगंज स्कार्पियो गाड़ी से जनसंपर्क में निकले थे। बड़हलगंज क्षेत्र के टेढ़िया बंधे के पास चेकिंग कर रहे पुलिस वालों ने उनकी गाड़ी रोकी और आचार संहिता का उल्लंघन करने के आरोप में वाहन का चालन कर असलहा जब्त कर लिया।

समाधान की बजाय समस्‍याएं बढ़ाने का काम कर रहा है मीडिया : काटजू

जयपुर : भारतीय प्रेस परिषद का अध्यक्ष पद संभालने के बाद से मीडिया की कार्यशैली और खबरों की गुणवत्ता की खुली आलोचना कर रहे पूर्व न्यायाधीश मार्कडेय काटजू ने एक बार फिर लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर तल्ख टिप्पणी की। काटजू ने कहा कि प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया का करीब नब्बे प्रतिशत हिस्सा लोगों की सोच को विकसित कर ज्वलंत समस्याओं का समाधान करने की बजाय उन्हें और बढ़ाने का काम कर रहा है। उन्होंने मीडिया से लोगों का बौद्धिक स्तर ऊंचा उठाने का काम करने की अपील की।

एक साल में 34 पत्रकार सलाखों के पीछे डाले गए

बीजिंग : चीन में मीडिया की आजादी पर सरकारी अंकुश की एक तस्वीर पेश करते हुए मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वाच (एचआरडब्ल्यू) ने कहा है कि साल 2011 में बीजिंग ने कम से कम 34 पत्रकारों से सलाखों के पीछे डाल दिया। कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार की ओर से सेंसरशिप के बावजूद यहां हाल के कुछ वषरें में खोजी पत्रकारिता का चलन बढ़ा है।

सहारा समय के रिपोर्टरों को फरमान- चुनाव में लाओ पैसे, नहीं तो सेवाएं समाप्त समझो!

: कानाफूसी : सहारा समय उत्तर प्रदेश-उतराखंड न्यूज चैनल के सदस्यों की बैठक के बाद नोएडा हेड ऑफिस से एक फरमान जारी हुआ है. इस फरमान के तहत रिपोर्टरों को कहा गया है कि टीवी के लिए हर विधानसभा से पांच लाख रुपये चाहिए लेकिन ध्यान रहे कि ये पैसे इस तरह से लिए जाय कि विज्ञापन नहीं लगे, बल्कि जिस प्रत्याशी की बाइट चलायें, उससे पैसे लें और यदि कोई रुपये नहीं दे तो उसकी कवरेज करने की भी जरूरत नहीं. यह भी ध्यान रखने को कहा गया कि इस काम में पारदर्शिता भी होनी चाहिए क्योंकि इस धनराशि का बिल भी नहीं दिया जायेगा लेकिन रिपोर्टरों को 15 प्रतिशत काट कर पैसे जमा करना होगा.

खाद्यान्न कालाबाजारी का आरोप गलत, एक व्यक्ति मुझे फंसाने की साजिश रच रहा

सम्मानीय बंधु यशवंत जी,  आपके लोकप्रिय पोर्टल पर खबर ‘‘खाद्यान्न कालाबाजारीः कल्पतरू एक्सप्रेस का पत्रकार आया लपेटे में’’ प्रसारित हो रही है. यह खबर वास्तव में असत्य एवं निराधार है. यह खबर जिस व्यक्ति ने आपके पोर्टल पर प्रस्तुत की है, उस व्यक्ति से मेरे व्यक्तिगत ताल्लुकात उत्तम नहीं हैं. इस व्यक्ति के विरुद्ध चेक बाउंस के मामले में मेरे द्वारा सीजेएम कोर्ट कासगंज में एक वाद डाला गया है जो लंबित है. इसी मामले की साजिश के तहत मुझे खाद्यान्न की कालाबाजारी के मामले में फंसाए जाने का प्रोपोगंडा महज उपरोक्त व्यक्ति द्वारा रचा गया है.

”मैंने प्रभाष जी के बारे में कभी कहीं एक शब्द नहीं लिखा”

कमल/यशवंत भाई, 'फुटेला प्रभाष जोशी पर…' के सन्दर्भ में मुझे ये कहना है कि आप मुझ से किसी भी मुद्दे पे असहमत हों. कोई बात नहीं. आलोचना करें. स्वागत है. अपमान करें. तो लोगों को हम दोनों के बारे में बारे में राय बनाने का मौका मिलेगा. लेकिन मेरा आग्रह है कि अपने तथ्य आप ठीक कर लें. पहली बात तो ये है कि राजीव गाँधी की हत्या या उसकी योजना से सम्बंधित मैंने कभी कहीं कुछ नहीं लिखा. सो उसके कहीं छपने या न छपने का प्रश्न ही नहीं.

अपडेटेड… ‘हिमाचल आजकल’ के एडिटर-इन-चीफ कृष्ण भानु और प्रबंध निदेशक राजेश्वर सब्रवाल

: देवभूमि का अपना पहला न्यूज चैनल ‘हिमाचल आजकल’ : शिमला से हुआ शुभारंभ : देश-विदेश में देगा राज्य को नई पहचान : अब हिमाचल का भी अपना अलग न्यूज चैनल होगा। इसका नाम ‘हिमाचल आजकल’ रख गया है। चैनल का शुभारंभ 20 जनवरी को राजधानी शिमला में मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने किया। यह चैनल देश-विदेश में देवभूमि हिमाचल को नई पहचान देगा। प्रख्यात पत्रकार कृष्ण भानु इसके एडिटर-इन-चीफ हैं, जबकि प्रबंध निदेशक राजेश्वर सब्रवाल हैं। न्यूज चैनल का पूरे राज्य में व्यापक नेटवर्क स्थापित हो गया है। बेहत गरिमापूर्ण समारोह की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि चैनल प्रदेश के वीरभूमि से जुड़े पहलु को भी प्रमुखता से उजागर करेगा।

प्रेस क्लब आफ इंडिया के चुनाव में सत्ताधारी पैनल भारी मतों से विजयी

प्रेस क्लब आफ इंडिया का इस बार का चुनाव अच्छे काम पर मुहर लगाने वाला साबित हुआ. पिछले साल परवेज अहमद और पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ के भ्रष्टाचारी पैनल को हराकर सत्ता में आई नई टीम ने इस दफे भी जो पैनल उतारा, उसी को पीसीआई सदस्यों ने भारी बहुमत से जिता दिया है. माना जा रहा है कि कमेटी के साल भर के अच्छे कामों को प्रेस क्लब आफ इंडिया के सदस्यों ने पसंद किया और इसी अंदाज में सेवा करते रहने के लिए फिर मौका दिया है. प्रेसीडेंट पद पर सत्ताधारी पैनल के रामचंद्रन उर्फ राम जीते हैं.

आईपीएस ने सुब्रत राय से शिकायत कर रिपोर्टर को डेस्क पर पहुंचाया

यह कानाफूसी पटना से है. राष्ट्रीय सहारा, पटना के एक रिपोर्टर को एक आईपीएस ने रिपोर्टिंग से हटवाकर डेस्क पर पहुंचवा दिया है. रिपोर्टर का नाम राजीव रंजन बताया जाता है. आईपीएस महोदय हैं अमिताभ दास. सूत्रों के मुताबिक राजीव रंजन ने कोई खबर प्रदेश के नौकरशाही से जुड़ी लिखी. इसमें आईपीएस अमिताभ दास समेत कई लोगों के नाम थे. इस खबरो मनगढ़ंत व झूठी बताते हुए आईपीएस अमिताभ दास ने सहारा के चेयरमैन सुब्रत राय सहारा से संपर्क साधा और रिपोर्टर की शिकायत की.

अटल के लिए लालायित लखनऊ

उत्तर प्रदेश का यह चुनाव पूर्व प्रधानमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अटल बिहारी वाजपेयी के लिए लालायित है। भाजपा के नेता, कार्यकर्ता और वोटर तो देश के इस जनप्रिय नेता को देखने के लिए बेचैन हैं ही, दूसरी पार्टी के लोगों को भी चुनाव में अटल जी की कमी महसूस हो रही है। आखिर कौन करेगा गरीबों की बात? कौन छोड़ेगा विपक्ष पर तीखे तीर? किसकी आंख और अंगुलियों के इशारे पर बजेंगी तालियां? और कौन बांधेगा चुनावी मजमा? सूबे में इस तरह की चर्चा चारों तरफ है। लखनऊ स्थित भाजपा कार्यालय में चले जाइए, तो आपको वहां सन्नाटे से ज्यादा कुछ नहीं दिखेगा। कुछेक मुरझाए नेतानुमा और मुंह लटकाए कार्यकर्ताओं को देखकर आप कह सकते हैं कि यहां सब कुछ ठीकठाक नहीं है।

हिमाचल की खबरों पर केंद्रित चैनल ‘हिमाचल आजकल’ का प्रसारण शुरू

सिर्फ हिमाचल प्रदेश की खबरों पर केंद्रित एक न्यूज चैनल शुरू हो गया है. नाम है 'हिमाचल आजकल'. शिमला में इस चैनल का उदघाटन किया हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पीके धूमल ने. उन्होंने इस मौके पर कहा कि पेड न्यूज लोकतंत्र के लिए खतरा है. इस चैनल के हेड जनसत्ता व ट्रिब्यून समेत कई अखबारों में वरिष्ठ पदों पर रह चुके भानु हैं. चैनल को अभी लाइसेंस नहीं मिला है इसलिए फिलहाल दिशा चैनल पर टाइम स्लाट लेकर 'हिमाचल आजकल' नाम से पांच छह बुलेटिन चलाए जा रहे हैं. दिशा चैनल धार्मिक चैनल है जिसे अब करेंट अफेयर्स के चैनल में तब्दील किया जा रहा है. इसके हेड माधवकांत मिश्रा हैं. 'हिमाचल आजकल' का प्रोजेक्ट तारा बिजनेस ग्रुप का है. 'हिमाचल आजकल' चैनल की लांचिंग को लेकर समाचार एजेंसी पीटीआई ने जो खबर जारी की है, वो इस प्रकार है…

‘घोटाले की खबर दिखाने पर चैनल के एडिटर को धमका रहे अखबार के एक एडिटर’

आदरणीय सर, हम लोग शहर-ए-बनारस में ''फुल वाल्यूम'' नाम से एक चैनल चलाते हैं जिसमें हमारी कोशिश रहती है कि शहर की प्रत्येक उठापठक को बेबाक और बेलौस तरीके से जनता के समक्ष रखा जाये। हमने बेबाक और निष्पक्ष पत्रकारिता करने का बीड़ा उठाया है। हालांकि हमारा दायरा सीमित है लेकिन फिर भी हमारी कोशिश रहती है की जो भी सत्य हो, वो वैसा ही लोगों के सामने पहुंचे। इसी क्रम में हमने पहले दिन से दैनिक जागरण के सम्पादक राघवेन्द्र चढ्ढा और उनके अनुज मानवेन्द्र चढ्ढा की एनआरएचएम घोटाले से जुड़ी खबरों को बेबाक तरीके से दिखाया।

महुआ में आरसी शुक्ला का कद बढ़ा, यूपी चैनल के हेड बने

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के तेज तर्रार पत्रकार और महुआ न्यूज के इनपुट हेड आरसी शुक्ला को महुआ प्रबंधन ने यूपी चैनल का नया मुखिया बनाया है। पिछले 15 जनवरी को महुआ न्यूजलाइन उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड की विधिवत लांचिंग हुई थी। आरसी शुक्ला को अब इसकी पूरी कमान दे दी गई है। आरसी शुक्ला को महुआ ग्रुप ज्वाइन किए हुए नौ महीने हो गए हैं। इस बीच उन्होंने इनपुट को मजबूत किया और उनके काम के इनाम के तौर पर उन्हें यूपी चैनल की सत्ता सौंपी गई है। ग्रुप एडिटर राणा यशवंत ने आंतरिक मेल जारी करके इसकी सूचना सभी स्टाफ को दे दी है।

मायावती का जाना तय, केवल दलित वोट से बसपा की सरकार नहीं बनेगी

लखनऊ का चर्चित अंबेडकर पार्क। 40 से 50 एकड़ में फैला यह पार्क कई मायनों में अदभुत है। अरबों की सरकारी राशि से तैयार इस पार्क और इसमें बने हाथी, मायावती, कांशीराम और स्तूपों की कलाकृतियां चाहें जो भी हो, इतना तय मानिए कि इतिहास सदा मायावती की इस कृति को याद रखेगा। माया के इस कला प्रेम के पीछे का सच चाहे जो भी हो, लेकिन एक सच तो यह है कि जब सदियां बदलेंगी, भूगोल में परिवर्तन होगा और नई सभ्यता, संस्कृति का उदभव होगा, तो माया का यह अंबेडकर पार्क तब के लोगों को आज के इतिहास, माया संस्कृति और उसके शिल्प से परिचय कराएगा। लखनऊ का यह अंबेडकर पार्क स्थानीय लोगों के लिए दर्शनीय तो है ही, यह आधुनिक राजनीतिक वाद-विवाद का केंद्र भी है।

डीएनई ने ट्रेनी पत्रकार से खुद को घोषित करवाया दिव्य पुरुष!

आज समाज की अंबाला यूनिट में तैनात डीएनई आशुतोष प्रताप सिंह के बारे में पता चला है कि डीएनई ने अपनी छवि सुधारने के लिए अपने अखबार का इस्तेमाल किया। आशुतोष ने अपने घर में शरण लिये ट्रेनी पत्रकार सैय्यद परवेज के जरिये एक लेख लिखवाया। परवेज ने अपनी टूटी-फूटी हिंदी में आशुतोष की जिंदगी पर हल्का प्रकाश डालते हुए इन्हें दिव्य पुरुष घोषित कर दिया। लेख में आशुतोष के लिए लिखा गया कि उन्होंने घर से भागकर हिमालय की कंदराओं में अध्यात्म की प्राप्ति की, इसके बाद समाजसेवा के लिए सामान्य जन-जीवन में लौट आए। वगैरह-वगैरह…..। ट्रेनी ने इस लेख को लिखने के बाद आशुतोष को दिखाया और खुद डीएनई ने लेख को संपादित करते हुए दिल्ली कॉरपोरेट आफिस भेजने के लिए कहा।

यूपी में अवैध खनन की कहानी, खनन अधिकारी की जुबानी, देखें वीडियो

एक वेबसाइट है, खबरअबतक डॉट कॉम www.khabarabtak.com. ये समय समय पर अपनी वेबसाइट पर स्टिंग प्रसारित करते हैं. यह बहुत अच्छी बात है. लेकिन गलत बात ये है कि ये केवल स्टिंग वाला वीडियो टांग देते हैं, यह जानकारी नहीं देते कि जिस अफसर का स्टिंग हुआ है, उसका नाम पद जिला क्या है. बिना इन जानकारियों के इस स्टिंग का क्या मतलब. कहानियां तो हम लोग बहुत सुनते रहते हैं कि बड़ा पाप बढ़ गया है, बहुत चोरी बढ़ गई है, बहुत वसूली हो रही है. लेकिन नाम पता ठिकाना न दिखे छपे तो फिर स्टिंग का मकसद हल नहीं हो पाता.

कोई इस सलमान को समझाए कि ये नासमझ क्यूं है!

फेसबुक पर एक सलमान अहमद साहब ने पंकज पचौरी को लेकर चल रही बहस में अपना एंगल पेला है. उन्होंने ललकारते हुए पूछा है कि कौन कहता है कि मीडिया नियोजन या प्रबंधन पत्रकारिता नहीं है? उन्होंने लिखा है कि बहुत से लोग मास काम की डिग्री लेकर पीआर का काम करने लगते हैं. अगर पंकज पचौरी पीएम का पीआर करने लगे हैं तो इसमें गलत क्या है? सलमान भाई को समझाए कि वे लोग ज्यादा अच्छे थे जिन्होंने मास काम की डिग्री लेने के बावजूद अपनी 'गल्ती' सुधार ली और पीआर की तरफ चल दिए. क्योंकि वे खुलकर पीआर कर रहे हैं, उन्होंने पीआरगिरी की नौकरी पाने के लिए अपनी पत्रकारिता का सौदा नहीं किया.

अपनी पहली टिप्पणी में पीएम मनमोहन की जय जय की पंकज पचौरी ने

: फेसबुक पर पंकज पचौरी को बधाइयों का तांता लगा : पंकज पचौरी ने मुंह खोला है. लेकिन एक सोशल नेटवर्किंग साइट पर. फेसबुक पर. उन्होंने अपनी पहली ही टिप्पणी में पीएम की गुणगान की है. पंकज के बयान पर आलोक कुमार ने अपनी टिप्पणी यूं दी है- ''आपने तो अभी से सुर में सुर मिलाना शुरू कर दिया.. ख़ैर अच्छे वाक्यांश जिस तरह आपने चिपकाए हैं, उम्मीद है गड़बड़ियों में भी आप अच्छा मैनेज करते रहेंगे… उनके लिए'. लेकिन हर कोई आलोक कुमार नहीं. फेसबुक पर सैकड़ों लोगों ने पंकज पचौरी को गरिमामय नियुक्ति पर बधाई शुभकामनाएं दी हैं.

भाजपा को रसातल में पहुंचाने के लिए राजनाथ सिंह ही जिम्मेदार हैं?

''जो राजनाथ सिंह पिछले चुनाव में यूपी की 403 सीटों के लिए उम्मीदवार तय कर रहे थे, वही राजनाथ सिंह इस चुनाव में अपने बेटे को एक अदद टिकट नहीं दिला पाए… तो क्या राजनाथ सिंह बीजेपी में इतने कमजोर हो गए हैं…. या बात कुछ और है… किसी नेता से अगर ये पूछा जाए कि अपनी पार्टी को रसालत में पहुंचाने के लिए आप ही जिम्मदार हैं तो वो तिलमिला उठेगा लेकिन राजनाथ हंसकर जवाब देते रहे….

फिर तो अरविंद केजरीवाल सोनिया गांधी से ज्यादा बड़े कांग्रेसी हैं!

टीम अन्ना आज देहरादून आई। लार्ड वेंकेटेश्वर वेडिंग प्वांइट में कार्यक्रम हुआ। चार-पांच सौ की इस भीड़ में स्कूली बच्चे लाए गय थे। कुछ स्कूलों के प्रबंधकों के सौजन्य से। अरविंद केजरीवाल बोले कि कुंभ घोटाला समेत उत्तराखंड में हुए सारे घोटाले करने वालों को हराया जाना चाहिए। साथ में वह उत्तराखंड के लोकपाल विधेयक की तारीफ करने से नहीं चूके। उन्होंने कहा कि इस लोकपाल को ज्यों का त्यों देश में लागू कर दिया जाना चाहिए। यदि उनकी बात मान ली जाय तो प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्रिमंडल के सदस्यों और सांसदों के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामलों पर तब तक सुनवाई नहीं हो सकती जब तक लोकपाल की संपूर्ण पीठ एकमत होकर इसकी मंजूरी न दे दे।

ये फुटेला प्रभाष जोशी पर कीचड़ उछाल चुका है, यशवंत क्या चीज हैं

भडस पर यशवंत भाई द्वारा लिखित एक पोस्‍ट को देखा जिसमें उन्‍होंने पत्रकार जगमोहन फुटेला के गरियाने एवं खुद के कथित भीख मांगने के आरोपों पर विस्‍तार से अपने दर्द को बयान किया। इस पोस्‍ट के कुछ देर बाद दूसरी पोस्‍ट आई जिसमें कहा गया कि जगमोहन फुटेला ने अपने सारे लेख भड़ास से हटाने की बात यशवंत भाई से कही। यह भी पता चला कि फुटेला जी अपनी साइट को पॉपुलर करने के लिए भड़ास पर बेवजह अटैक कर रहे हैं और यशवंत व भड़ास का इस तरह यूज कर रहे हैं जैसे वे खुद इनके माई-बाप हों।

रिवाल्‍वर के बल पर पत्रकार से लूट

पठानकोट : शुक्रवार देर रात अपने दफ्तर से घर जा रहे एक पत्रकार से कार सवार लुटेरों ने पिस्तौल के बल पर 18 हजार रुपये तथा मोबाइल लूट लिए। पत्रकार ने इस संदर्भ में पुलिस को शिकायत दर्ज करवाई है। उसने बताया कि विगत रात्रि वह पठानकोट स्थित अपने कार्यालय से दीनानगर के समीप स्थित अपने गांव धमराई जा रहा था तो रास्ते में समुचक्क के निकट कार में सवार पांच लोगों में से एक युवक निकला तथा उनसे रास्ता पूछने के लिए उन्हें रुकने का इशारा किया।

ये पचौरी की उपलब्धि नहीं, मीडिया को शर्मसार करने वाली वारदात है

पंकज पचौरी प्रधानमंत्री के किसी मामले में सलाहाकार बन गए ये उनके लिए या उनके नक़्शे कदम पर चलने वाले कुछ नए नवेले पत्रकारों के लिए उपलब्धि की बात भले हो, लेकिन सच कहूँ तो मीडिया तो फिर शर्मसार ही हुई है। सवाल ये नहीं है कि पचौरी का जाना उनके व्यक्तिगत स्वतंत्रता के अंतर्गत आता है। सवाल ये है कि हमारे वरिष्ठ पत्रकार आने वाली पत्रकारिता की पीढ़ी को कैसी राह दिखा रहे हैं?

Makhanlal University : Another appointment generates controversy

BHOPAL: Soon after some members of the general council of Makhanlal Chaturvedi University of Journalism took exception to ‘ arbitrary’  appointments in the university, without its sanction, managing committee of the university decided to appoint senior journalist Jagdish Upasane as advisor to the department of journalism on a year’s contract at a monthly remuneration of rupees one lakh. Like most of the other appointees in the university during vice- chancellor Prof BS Kuthiala’s stint, Upasane is supposed to be close to the Rashtrita Swayam Sevak Sangh (RSS).

प्रियंका के सामने खिंची गई ‘लक्ष्मण रेखा’

: गांधी परिवार में बेटी-बेटा एक समान नहीं : भूतपूर्व प्रधानमंत्री और कांग्रेस नेता स्वर्गीय इंदिरा गांधी का नाम आते ही जेहन में एक ऐसी बोल्ड महिला की तस्वीर अनायास सामने आ जाती है, जिसने कभी झुकना और हारना नहीं सीखा था। ताउम्र उनका विवादों से नाता रहा। देश में इमरजेंसी लगाने जैसा फैसला इंदिरा गांधी जैसा नेता ही ले सकता था, यह बात इमरजेंसी का विरोध करने वाले भी कहने से परहेज नहीं करते। भले ही इसका कांग्रेस और इंदिरा को भारी खामियाजा भुगतना पड़ा। यह सिक्के का एक पहलू था।

अपराधियों-भ्रष्‍टाचारियों को नहीं रास आ रहा सहरसा के डीआईजी का ‘सिंघम’ अवतार

: डा. परेश सक्‍सेना को परेशान करने की हर रणनीति अपनाई जा रही : सहरसा : लोकप्रिय हिंदी फिल्म "सिंघम" के दृश्य सहरसा में दोहराए जा रहे हैं और कोसी रेंज के पुलिस उप-महानिरीक्षक डा. परेश सक्सेना, १९९४ बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी, जो अपनी ईमानदारी और कर्तव्‍य-परायणता के लिए जाने जाते हैं, अपने कर्तव्य-पालन और अपराध से लोहा लेने पर फिल्म के नायक की तरह अपराधियों और उनसे सांठ-गाँठ रखने वाले पुलिस अधिकारियों और मीडिया के एक वर्ग के निशाने पर हैं.

‘जस्टिस काटजू जी, पत्रिका ने पत्रकारिता के मानकों का उल्लंघन किया है’

सेवा में, न्यायमूर्ति श्री मार्कंडेय काटजू, अध्यक्ष, भारतीय प्रेस परिषद, नयी दिल्ली. सन्दर्भ : पत्र क्रमांक 13/97/11-12, January 18, 2012. महोदय, कोई भी पद वैधानिक रूप से कितना महत्वपूर्ण है या उसके पास कितनी शक्ति है, इससे ज्यादा महत्वपूर्ण यह होता है कि उस पद पर बैठा कौन है. तभी तो बिना किसी पद के भी गांधी दुनिया पर राज कर रहे हैं और बड़े-बड़े पदों पर बैठे बौने आज समस्या बने हुए हैं. जिस तरह श्री टी. एन. शेषण के चुनाव आयुक्त बन जाने के बाद लोगों को पता चला कि चुनाव आयोग जैसी भी कोई संस्था देश में है, उसी तरह आपके प्रेस परिषद में आने पर आम लोगों को इस नख-दंत विहीन संस्था के बारे में जानकारी मिली.

कांग्रेस प्रत्‍याशी के पास सात करोड़ तो सूर्य प्रताप शाही भी करोड़ों के मालिक

देवरिया। देवरिया विधान सभा से चुनाव लड़ने वाले कांग्रेस पार्टी के जेपी जायसवाल के पास अकूत सम्पति है लेकिन उनका कोई आश्रित नहीं है। पत्नी के साथ उनका विवाह विच्छेद है। प्रत्याशी के ऊपर आपराधिक मुकदमा भी विचाराधीन है। यह जानकारी गुरुवार को चुनाव के दौरान नामांकन भरते समय उन्होंने दी है। उनके पास चल सम्पति 2 करोड़ 36 लाख 76 हजार 620 रुपये की है जबकि अचल सम्पति 2 करोड़ 93 लाख के रूप में है। इसके अलावा उनके पास बुलेट प्रुफ टाटा सूमो चार पहिया वाहन भी है।

खाद्यान्‍न कालाबाजारी : कल्‍पतरु एक्‍सप्रेस का पत्रकार आया लपेटे में

: एसडीएम ने दिए एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश : छापेमारी में 47 बोरी गेहूं बरामद : कांशीराम नगर। कासगंज क्षेत्र में जब से उपजिलाधिकारी नरेन्द्र सिंह ने कार्यभार सम्भाला है उस समय से राशन डीलरों एवं खाद्यान की कालाबाजारी करने वाले लोगों की शामत आ गयी है। नरेंद्र सिंह ने छापा मारकर 47 बोरी गेहूं बरामद किया है। इसमें जिस राशन डीलर का नाम सामने आया है वह कल्‍पतरु एक्‍सप्रेस का पत्रकार भी है। पत्रकार पुष्‍पेन्‍द्र सोनी रात से गायब हैं तथा अभी तक विभाग को आपूर्ति का कोई अभिलेख उपलबध नहीं कराया है, जिसके बाद उपजिलाधिकारी ने पुष्‍पेंद्र सोनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने का निर्देश आपूर्ति विभाग को दे दिया है।

जनसंदेश टाइम्‍स ने अपने लोगो का डिजाइन चेंज किया

जनसंदेश टाइम्‍स के लोगो का डिजाइन चेंज हो गया है. यह कोई खबर नहीं है और यह आम बात हैं कि चैनल अपने लोगो और लुक चेंज करते ही रहते हैं. पर जब लोगो का डिजाइन उसी दिन चेंज हुआ जिस दिन बाबू सिंह कुशवाहा ने भाजपा ज्‍वाइन किया तो इसको लेकर कानाफूसी होने लगी. पहले से भी चर्चा रही है कि इस चैनल में बाबूसिंह कुशवाहा का भी पैसा लगा हुआ है. इस चैनल के नाम को बदले जाने को लेकर भी चर्चा-अफवाह होने लगी. यानी कुशवाहा के भाजपा ज्‍वाइन करने का तार लोगो के बदले जाने से जुड़ गया.

आजमगढ़ में लोकल राजनीति की शिकार हो गईं डा. हेमबाला

आजमगढ़ के कांग्रेसी इन दिनों राहुल कि सभा के बाद बहुत उर्जावान लग रहे हैं. बीते दिनों हुई बीते दिनों राहुल की सभा में जनता भी जुटी और अपना चेहरा दिखाने के लिए कांग्रेसी भी. बरसात के मेढक की तरह कुर्ता-पायजामा वाला नेताओं की संख्या बढ़ सी गई हैं. यहाँ बस सपा और बसपा में हर सीटों में लड़ाई नजर आती हैं. कांग्रेस ने अभी तक एक सीट पर अपना प्रत्याशी भी घोषित नहीं किया हैं वही लोकल कांग्रेसी राजनीति की शिकार निजामबाद सीट से प्रत्याशी डॉ. हेमबाला यादव हो गई. मुख्यालय को चिट्ठियां लिख-लिख के आखिर एक महिला का टिकट कटवाकर इनदिनों कांग्रेसियों का ग्रुप बहुत खुश हैं.

फुटेला को सीरियस और सींसियर मानता था, पर बड़ा छिछोरा निकला

''यार फटेला भाई, अपनी तारीफ करने में क्या मुझे बिना वजह गरियाना जरूरी है? मैं तुम्हारी साइट आज देख रहा हूं ठीक से. फेसबुक भी देखा. कुछ स्क्रीनशाट अटैच कर रहा हूं. हालांकि कह सकते हो कि तुमने मेरा नाम नहीं लिखा है, लेकिन जो कुछ लिखा है, और अब जैसे जैसे आर्टिकल मेरे नाम लेकर पब्लिश किए हैं, उससे पता तो यही चलता है कि ये सब मेरे बारे में ही लिखा है. और मजेदार ये कि 'पांच योगदान' लिखते समय तुमने अचानक बीच में भड़ास को गालियां पेल दी हैं…  हंसी आ रही है तुम्हारी चिंतन लेखन शैली देखकर.  मैंने यार तुम्हारा भला नहीं किया होगा तो कुछ बुरा भी नहीं किया होगा. इस तरह किसी का अपमान करना ठीक नहीं होता. ये पत्र इसलिए लिख रहा हूं क्योंकि तुमसे काफी उम्मीद थी मैंने. पर तुम तो बेहद घटिया सोच वाले आदमी निकले भाई. अब जो भी लिखो, उखाड़ो, मेरे पर कोई फरक नहीं पड़ेगा क्योंकि तुम्हारे बारे में अब सही-सही धारणा बना पा रहा हूं. तुम एक मेंटल केस हो, यह राइटअप देखखर कोई कह देगा. सिर्फ अपना लिखा पढ़वाने के लिए तुम दो लाइन भड़ास को गरिया रहे हो, और वही दो लाइन फेसबुक पर डाले हो ताकि सनसनी समझकर लोग पढ़ने को क्लिक करें… हद दर्जे की नीचता का काम है भाई… तुम्हें सीनियर और सींसियर मानता था लेकिन तुम बहुत छिछोरे टाइप आदमी निकले. राइटअप व फेसबुक का लिंक अटैच कर दिया है. -यशवंत''

देव प्रकाश चौधरी को एनएफआई नेशनल मीडिया फेलोशिप

युवा पत्रकार देव प्रकाश चौधरी को नेशनल फाउंडेशन ऑफ इंडिया की ओर से 17वें नेशनल मीडिया फैलोशिप का अवार्ड दिया गया है। मूलत: चित्रकार लेकिन पेशे से पत्रकार देव प्रकाश बीएजी, आईबीएन7 और स्टार न्यूज जैसे इलेक्ट्रानिक मीडिया संस्थानों में काम करने के बाद इन दिनों अमर उजाला दिल्ली में एसोसिएट एडिटर के रूप में काम कर रहे हैं। इस फैलोशिप प्रोग्राम के तहत देव प्रकाश संथाल परगना में संथाल लड़कियों की शिक्षा और चुनौतियों पर अध्ययन करेंगे कि आखिर क्यों पीछे छूट जाते हैं स्कूल।

झूठ की राजनीति कर रही है कांग्रेस : जसंमो

दुद्धी : कांग्रेस ने अपनी राजनीति के लिए इस क्षेत्र के आदिवासियों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है। आखिर कांग्रेस की झूठ की राजनीति का भण्ड़ा फूट गया और सच जनता के सामने आ ही गया। यह बातें आज दुद्धी में उपवास पर बैठे जन संघर्ष मोर्चा के राष्ट्रीय प्रवक्ता दिनकर कपूर व प्रदेश प्रवक्ता गुलाब चंद गोड़ ने कही। नेताओं ने कहा कि यह जानते हुए भी कि दुद्धी की विधानसभा सीट इस चुनाव में आदिवासियों के लिए आरक्षित नहीं हो सकती उसने आदिवासी नेता को अपना प्रत्याशी बनाया।

इलाहाबाद से आजतक के आशीष राय का इस्‍तीफा

: प्रमोद, एनडी और नीरज की नई पारी : अपने स्ट्रिंगरों से छल करने वाले आजतक को झटका लगना शुरू हो गया है. हो सकता है कि इससे आजतक को कोई फर्क नहीं पड़े पर किसी भी घर से जब ईंटे खिसकनी शुरू होती है तो उसके कमजोर होने की प्रक्रिया प्रारम्‍भ हो जाती है. इलाहाबाद से खबर है कि आशीष राय ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे आजतक से स्ट्रिंगर के रूप में जुड़े हुए थे. आशीष टाइम्‍स नाऊ छोड़कर आजतक आए थे. अब वे अपनी नई पारी यूपी न्‍यूज के साथ शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍होंने लखनऊ में रिपोर्टर के पद पर ज्‍वाइन किया है.

यूपी में कांटों भरी है राहुल की राह, भविष्‍य भी दांव पर

कांग्रेस युवराज राहुल गांधी के लिए यूपी विधानसभा चुनाव नाक का सवाल बन गए हैं। मिशन 2012 के लिए राहुल पिछले विधानसभा चुनावों के बाद से ही पसीना बहा रहे हैं, लेकिन मौजूदा जमीनी हालात जो तस्वीर पेश कर रही है, उसने राहुल और उनकी टीम की रातों की नींद उड़ी हुई है। असल में यूपी विधानसभा चुनाव खासकर राहुल के लिए महज चुनाव भर न होकर अस्तित्व की लड़ाई भी है। इसमें उनकी कामयाबी और नाकामयाबी के कई मायने और मतलब निकलेंगे जो उनके राजनीतिक कैरियर, कांग्रेस के भविष्य और रणनीति को काफी हद तक प्रभावित करेंगे। राहुल और कांग्रेस दोनों भली-भांति इस बात को समझते हैं कि अगर राष्ट्रीय राजनीति में सम्मानजनक स्थान हासिल करना है तो देश के सबसे बड़े राज्य में सफल होना ही पड़ेगा।

उत्‍तराखंड : 70 सीटों के लिए 829 लोगों में घमासान, भाजपा-कांग्रेस आमने-सामने

देहरादून। प्रदेश में विधानसभा की चुनावी जंग धीरे-धीरे अपने शबाब पर पहुंच रही है। उत्तराखंड गठन के बाद राज्य में यह तीसरा विधानसभा चुनाव हो रहा है। इसके पहले सन 2002 और 2007 में विधानसभा के चुनाव हो चुके हैं। 2002 में जहां कांग्रेस ने सत्ता हासिल करने में बाजी मारी थी वहीं 2007 में भाजपा ने कांग्रेस से सत्ता छीन ली थी। कांग्रेस ने सत्ता की कुर्सी पर वरिष्ठ राजनेता रहे एनडी तिवारी को बैठाया और वे पांच साल तक शासन करते रहे तो वहीं भाजपा ने 2007 में सत्ता प्राप्त करने के बाद मेजर जनरल बीसी खंडूड़ी को सत्ता की कमान सौंपी।

हताश कांग्रेस बाटला हाउस पर स्थिति स्‍पष्‍ट करे : राजनाथ सिंह

देहरादून। उत्तराखंड में मार्च 2012 में भाजपा की सरकार बनेगी। कांग्रेस पार्टी हताशा का शिकार हो गई है इसीलिए उसके नेता आपस में विरोधाभासी बयान देकर अपनी हताशा प्रकट कर रहे है। कांग्रेस नेता बाटला हाउस कांड को फर्जी करार देकर अपनी ही सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहे है। ये कहना है भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और गाजियाबाद से सांसद राजनाथ सिंह का। श्री सिंह शनिवार को यहां एक होटल में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। भाजपा नेता ने कांग्रेस सरकार को महंगाई, बेराजगारी, आर्थिक और देश की सीमाओं की रक्षा करने वाली नीतियों के मोर्चे पर असफल करार देते हुए कहा कि कांग्रेस केन्द्र में सत्तासीन है जिसके परिणामस्वरूप देश में महंगाई और बेरोजगारी की बाढ़ आई हुई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता अपनी असफलता से घबरा गए हैं जिससे वे उल्टे सीधे बयान दे कर अपनी ही सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं।

”हमलोगों का मार्केट खराब कर रहे हैं जागरण, कानपुर के मैनेजर”

प्रिय यशवंत सर, आपको बताना चाहूंगा कि कानपुर में दैनिक जागरण मैनेजर हैं विकास चंद्र जी, उन्‍होंने कानपुर की विशाल एडवरटाइजिंग एंड मार्केटिंग (वीएएम) से कई लाख रुपये खाकर उस एजेंसी को 702 के रेट पर दो पर एक फ्री की स्‍कीम दे दी. जिस पर कि वो एजेंसी सभी एजुकेशन क्‍लाइंट को यही रेट कोट करके मार्केट खराब कर रही है. जबकि मैनेजर साहब यह रेट किसी और एजेंसी को नहीं दे रहे हैं.