अमर उजाला, मैनपुरी से बलराम शर्मा की विदाई

अमर उजाला, मैनपुरी खबर है कि बलराम शर्मा को बाहर कर दिया गया है. हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि उन्‍होंने खुद इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करेंगे इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. बलराम आगरा से मैनपुरी भेजे गए थे. इसके पहले शरद शंखदार मैनपुरी के ब्‍यूरोचीफ …

प्रसार भारती में अब एसएससी करेगा भर्तियां

नई दिल्ली। प्रसार भारती में तकनीकी सहायकों, इंजीनियर्स, प्रोडक्शन असिस्टेंट सहित कई पदों की भर्ती अब कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) करेगा। दूरदर्शन एवं आकाशवाणी में लंबे समय से भर्ती नहीं होने से हर विभाग में कर्मचारियों और अधिकारियों की कमी हो गई है।

‘लोकसत्य’ बंद होने की खबर सही नहीं : राहुल शर्मा सरस

सेवा में, संपादक भड़ास 4 मीडिया डॉट कॉम, आपकी वेबसाइट पर एक खबर की सूचना मिली है जिसमें लोक्सत्य अखबार बंद होने की बात कही गई है। जो की बिलकुल निराधार और अतार्किक है। आपको जिन किन्ही सूत्रों द्वारा भी यह झूठी खबर मिली है वह बेबुनियाद है। लोक्सत्य में किसी भी कर्मचारी का न तो पिछला वेतन बकाया है और न ही अखबार बंद होने जैसी कोई खबर भी है।

निलंबित पुलिस अधीक्षक राजेश मीणा का अस्पताल जाना जेल से बचने का पैंतरा तो नहीं?

राजस्थान में अजमेर शहर के निलम्बित पुलिस अधीक्षक राजेश मीणा की प्रारंभिक मेडिकल जांच रिपोर्ट से लगता है कि वो जेल जाने से बचने के लिए जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में भर्ती हुए हैं। सूत्रों के मुताबिक मीणा की सीटी स्केन, एमआरआई, किडनी, हार्ट, लीवर, खून, ईएसआर (संक्रमण) लगभग सभी जांचें सामान्य हैं। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अधिकारी रिपोर्ट के इंतजार में हैं कि मेडिकल बोर्ड मीणा की बीमारी को लेकर कब क्लीनचिट देगा। जिससे मीणा को वापस जेल भेजा जा सके।

नोएडा से जल्‍द लांच होगा नेशनल चैनल ‘न्‍यूज प्‍लस’

मीडियाकर्मियों के लिए बड़ी खबर है. एंजल मीडिया प्राइवेट लिमिटेड एक नेशनल न्‍यूज चैनल लांच करने जा रहा है. 'न्‍यूज प्‍लस' के नाम से लांच होने जा रहे इस चैनल में सारी तैयारियां लगभग अंतिम चरण में हैं. पत्रकारों तथा गैर पत्रकार कर्मचारियों की भर्ती भी शुरू हो चुकी है. नोएडा के सेक्‍टर 110 में इस चैनल का ऑफिस तैयार हो रहा है. संभावना है कि मार्च में इस चैनल की लांचिंग कर दी जाएगी. सूत्रों का कहना है कि प्रबंधन बड़े पत्रकारों को अपने साथ जोड़ने की रणनीति पर काम कर रहा है.

साक्षी जोशी उर्फ साक्षी कापड़ी अभी तक आईबीएन7 में कार्यरत हैं?

साक्षी जोशी उर्फ साक्षी कापड़ी के आईबीएन7 से कार्यमुक्त हुए कई महीने हो गए पर ये खुद नहीं मानतीं कि वे आईबीएन7 में नहीं हैं. इन्होंने फेसबुक और ट्विटर पर अपने एकाउंट पर लिख रखा है कि अभी भी वे आईबीएन7 में कार्यरत हैं. खुद के बारे में गलत सूचना फेसबुक और ट्विटर जैसे माध्यमों पर डालना भले ही कोई कानूनी अपराध न हो लेकिन यह सोशल मीडिया यूजर्स के साथ धोखा तो है ही.

सबसे तेज : प्रधानमंत्री अर्जुन मुंडा का इस्‍तीफा!

काम का दबाव हो या जानकारी का अभाव पत्रकारों के लेखन में शाब्दिक नहीं बल्कि तथ्‍यात्‍मक गलतियां दिखने लगी है. पाठक भी अब उतना ही तेज और समझदार हो गया है. एक पाठक ने हिंदुस्‍तान की गलती को इंगित किया तो दूसरे पाठक ने आजतक के पोर्टल पर तथ्‍यात्‍मक त्रुटि को भेजा है. झारखंड के मुख्‍यमंत्री अर्जुन मुंडा ने इस्‍तीफा दिया इस खबर में अर्जुन मुंडा को प्रधानमंत्री लिखा गया है. अब इस खबर में सबसे बड़ी गड़बड़ी जानकारी की दिखती है. क्‍योंकि आज देश को पता है कि मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री हैं. और ये बात इसलिए नहीं पता है कि उन्‍होंने जनता के लिए कोई अलग या अच्‍छा काम कर दिया है बल्कि इसलिए पता है कि अमेरिका से जुड़े मामले को छोड़कर किसी भी मामले पर चुप रहने वाला आदमी ही प्रधानमंत्री है.

इंदौर के पत्रकारों को कल बंटेगी बीमा पॉलिसी

इंदौर। इंदौर प्रेस क्लब सदस्यों के लिए लागू की गई दुर्घटना बीमा योजना पॉलिसी का वितरण एवं स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन रविवार १३ जनवरी को प्रात: १०.३० बजे इंदौर प्रेस क्लब के राजेंद्र माथुर सभागृह में किया गया है। इस अवसर पर स्वास्थ्य राज्य मंत्री महेंद्र हार्डिया, अपेक्स बैंक के अध्यक्ष भंवरसिंह शेखावत, संयुक्त संचालक स्वास्थ्य सेवाएं डॉ. शरद पंडित एवं संयुक्त संचालक जनसंपर्क अशोक कुमार मिश्रा प्रमुख रूप से उपस्थित रहेंगे।

कुछ अलग : 1969 में पैदा हुए थे गांधी जी, मुरादाबाद में हिंदुस्‍तान की खोज

अखबार और लेखन की दुनिया में छोटी-मोटी गलतियां होती रहती हैं, जिसे स्लिप ऑफ पेन कहा जाता है. ये अक्‍सर सभी से हो जाती है. हमसे तो रोज ही होती है, जिस पर संपादक जी डांटते-फटकारते रहते हैं. बहुत कम पत्रकार होते हैं जो स्लिप ऑफ पेन की गलतियों से बच पाएं होंगे. पर कुछ स्लिप ऑफ पेन खबरों को तो हास्‍यास्‍पद बनाते ही हैं, इतिहास भी बदल देते हैं. साथ लिखने वाले के सामान्‍य ज्ञान की भी जानकारी देते हैं. ऐसा ही एक वाकया घटित हुआ है हिंदुस्‍तान, मुरादाबाद में. हिंदुस्‍तान में एक खबर फ्रंट पेज पर प्रकाशित हुई है. जिसे लिखा है सिटी इंचार्ज आशीष त्रिपाठी ने.

अमर उजाला, ग़ाज़ियाबाद को छठा झटका, भारत भास्‍कर गए

अमर उजाला, ग़ाज़ियाबाद से खबर आ रही है कि यहाँ के वैशाली ब्यूरो में तैनात जूनियर रिपोर्टर भारत सिंह ने प्रबंधन को अपना इस्तीफ़ा सौंपकर भास्कर समूह का दामन थाम लिया है. अंदरूनी सूत्रों के मुताबिक अभी प्रबंधन ने भारत का इस्तीफ़ा स्वीकार नहीं किया है और उनकी मान-मन्नौवल में लगा है. वे अमर उजाला के बरेली और नोएडा संस्करणों को भी अपनी सेवाएँ दे चुके हैं. बताया जाता है कि वे कुछ महीनों पहले नोएडा मेन आफिस से ट्रांसफर होकर यहाँ भेजे गए थे. वे अपने तबादले से खुश नहीं थे.

NHRC ने इम्फाल में पत्रकार की मौत पर रिपोर्ट मांगी

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने अधिकारियों से पिछले माह मणिपुर में पुलिस फायरिंग में हुई एक पत्रकार की मौत पर स्वतंत्र जांच रिपोर्ट की मांग की है। एनएचआरसी के एक कार्यकर्ता ने शनिवार को यह जानकारी दी। एनएचआरसी ने मणिपुर के पुलिस महानिदेशक, जिलाधिकारी और इम्फाल के पुलिस अधीक्षक को निर्देश देकर दिशा-निर्देशों के तहत मामले की जांच के लिए उचित कार्रवाई किए जाने की बात कही है।

जाने माने कवि विनोद कुमार शुक्‍ल को परिवार अवार्ड

मुंबई में शुक्रवार 4 जनवरी 2013 को आयोजित एक साहित्य संगम में जाने माने कवि विनोद कुमार शुक्ल को साहित्यिक-सांस्कृतिक संस्था 'परिवार' द्वारा परिवार पुरस्कार -2012 से नवाज़ा गया। इस समारोह के ज़रिए साहित्य जगत की दो मूर्धन्य हस्तियों को एक साथ एक मंच पर देखने का सुअवसर भी मिला। शुक्ल को यह पुरस्कार समारोह अध्यक्ष एवं वरिष्ठ कवि विष्णु खरे के हाथों प्रदान किया गया। पुरस्कार स्वरूप शुक्ल को शाल, श्रीफल, स्मृति चिन्ह के साथ एक लाख रुपए की धनराशि भेंट की गई।

15 फरवरी के बाद आजतक के कर्मियों की सुरक्षा सरकार के हवाले!

: फिर बंद हो जाएगा मार्निंग पिकअप : दिल्‍ली गैंगरेप के मामले को लेकर दिल्‍ली में महिलाओं की सुरक्षा के मामले को आजतक ने बड़ा जोरदार तरीके से उठाया था. अपने एंकरों को रात के अंधेरों में भेजा, पर यह शोर उस समय ढकोसला लगा जब कटौती के नाम पर मार्निंग पिकअप बंद कर दिया गया था. टीवी टुडे प्रबंधन अपने स्‍टाफ को भगवान भरोसे छोड़ दिया था. शिफ्ट को सात से बढ़ाकर साढ़े सात कर दिया गया था, परन्‍तु जिन लोगों को बाहरी दिल्‍ली या जनकपुरी, उत्‍तमनगर या पूर्वी दिल्‍ली के इलाकों से नोएडा पहुंचना था, उन्‍हें घंटों पहले निकलना पड़ता था.

महुआ न्यूज़ लाइन में काम करने वालों की राणा यशवंत से गुहार

राणा साहब, इंडिया न्यूज़ जाने से पहले दिलवा दीजिए महुआ न्यूज़ लाइन के स्ट्रिंगरों का हक… भड़ास4मीडिया के माध्यम से मेरा आदरणीय राणा यशवंत जी (ग्रुप एडिटर महुआ मीडिया) से निवेदन है कि कृपया इंडिया न्यूज़ जाने से पहले महुआ न्यूज़ लाइन उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के स्ट्रिंगरों का पिछले एक वर्ष से भी अधिक समय के मानदेय को दिलवा दीजिए जो अभी तक नहीं मिला है.

कलम के धनी वरिष्ठ पत्रकार ओम प्रकाश आर्य का निधन

हल्द्वानी : वरिष्ठ पत्रकार ओम प्रकाश आर्य नहीं रहे. उनका आज निधन हो गया. हल्द्वानी से 'खबर संसार' नामक अख़बार वे निकालते थे. वे दैनिक हिंदुस्तान के साथ लंबे समय तक जुड़े रहे. उन्होंने ढेर सारे पत्रकारों को ट्रेनिंग दी जो अब बड़े बड़े पदों पर हैं. आर्य पिछले काफी समय से अस्वस्थ थे. परिवार की आर्थिक स्थिति भी बहुत अच्छी नहीं थी. उनके पुत्र प्रदीप ने उनके द्वारा स्थापित अख़बार को किसी तरह जिंदा रखा. चलने, फिरने, लिखने और बोलने तक से लाचार हो गए थे वे.

बहुत जरुरी है भारत पाकिस्तान युद्ध​!

विश्वव्यवस्था कायम रखने के लिए बहुत जरूरी है भारत पाकिस्तान युद्ध​! हम यह कोई पहली बार बोल या लिख नहीं रहे हैं। पहले खाड़ी युद्ध के तुरंत बाद लिखे अपने धारावाहिक उपन्यास `अमेरिका से सावधान' में ​​लगातार इस पर लिखा है। तेल युद्ध के समय से सोवियत अवसान के बाद खासकर वैश्विक व्यवस्था के स्थायित्व के लिए युद्धस्थल इस ​​उपमहादेश में, हिंद महासागर के शांति क्षेत्र में स्थानातंरित होता रहा। मुक्त बाजार की अर्थ व्यवस्था दरअसल विकासशील और ​​अविकसित देशों के प्राकृतिक संसाधनों की खुली लूट की व्यवस्था है, जो बाकायदा बहिष्कार और रंगभेद के साथ साथ जलसंहार संस्कृति और मस्तिष्क नियंत्रण के बुनियादी सिद्धांतों पर आधारित है।

ढाई हजार रुपये लेकर रिपोर्टर बना रहे हैं सीन्यूज वाले (सुनें टेप)

यूपी के गाजीपुर जिले के पत्रकार कृपा कृष्णा उर्फ केके के मोबाइल फोन 9415280945 पर 8726778184 नंबर से एक एसएमएस आया. इस मैसेज में लिखा था कि सी न्‍यूज को पत्रकारों की आवश्‍यकता है. मैसेज पढ़ने के बाद केके ने सी न्यूज में पत्रकार भर्ती का तरीका जानने के लिए मैसेज में दिए गए एक अन्य नंबर 8090077004 पर बात की. उनकी बात सी न्यूज के लखनऊ आफिस में कार्यरत किन्हीं मैडम से हुई जिन्होंने उन्हें समझाया कि ढाई हजार रुपये जमा करिए और पत्रकार बनिए.

सिनेमा देखने निकली युवती के साथ बलात्‍कार होना बाजार के लिए खतरनाक है!

: बलात्कार, बाजार और मीडिया : दिल्ली गैंग रेप को लेकर हुयी अविवादी प्रतिक्रिया में बाजार और बजारू मीडिया की भूमिका को भी समझा जाना चाहिये। एक दलित, गरीब या मजदूरी करने को मजबूर महिला के साथ होने वाला बलात्कार एवं भयानक उत्पीड़न युवा पीढ़ी, मीडिया एवं ​अभिजात वर्ग को क्यों परेशान नहीं करता है। यह समझने की जरूरत है। दिल्ली गैंग रेप पर हुयी प्रतिक्रिया का चरित्र अगर समझ लें तो बाजार का खेल समझ आ जाता है।

काटजू ने गुजरात चुनाव में पेड न्‍यूज पर जारी की रिपोर्ट

जबलपुर : भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष मार्कंडेय काटजू ने गुजरात चुनावों पर एक रिपोर्ट जारी की जिसमें दावा किया गया है कि हाल ही में राज्य में हुए चुनावों में बड़े स्तर पर पेड न्यूज संबंधी धांधलियां हुईं। काटजू ने यहां मीडिया के सामने रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि टीम को गुजरात विधानसभा …

ओवैसी समर्थकों ने फिर किया हमला, मीडियाकर्मी घायल

अपने कथित नफरत भरे भड़काने वाले भाषण के लिए विधायक अकबरूद्दीन ओवैसी की गिरफ्तारी का विरोध कर रहे संदिग्ध एमआईएम समर्थकों ने पुलिस पर पथराव किया। इसमें पांच पुलिसकर्मी और कुछ मीडियाकर्मी घायल हो गए। घटना के बाद ऐतिहासिक चारमीनार के आसपास के इलाकों में तनाव व्याप्त है। पुलिस ने कहा कि चारमीनार के करीब मक्का मस्जिद में शुक्रवार की नमाज के बाद प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया, जिसके बाद पुलिस को भीड़ को तितरबितर करने के लिए आंसूगैस के गोले छोड़ने पड़े।

बदायूं में दलालों की बांछें खिली, ओमी को टेस्ट के लिए बुलाया

बदायूं के दैनिक जागरण कार्यालय से अमित सक्सेना के इस्तीफा देकर अमर उजाला चले जाने के कारण पूरे दिन पत्रकारिता के नाम पर माफियागीरी और दलाली करने वाले कथित पत्रकार दैनिक जागरण ज्वाइन करने का सपना देखने लगे हैं. वहीं कोई और रिपोर्टर छोड़ कर न भागे, इसके जागरण ने प्रयास भी शुरू कर दिए हैं.

ये देखिए.. गिफ्ट के लिए लगी पत्रकारों की लाइन

नदीम अख्तर : ''मुख्यमंत्री आवास में गिफ्ट लेने के लिए पत्रकारों की लाइन लग गयी। आज शुक्रवार (11 जनवरी 2013) को अर्जुन मुंडा ने अपने सरकारी आवास में पत्रकारों को प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए बुलाया था। वहां खाने-पीने के साथ ही पत्रकारों के लिए गिफ्ट का भी इंतेजाम था। गिफ्ट एक मारूति वैन में लाया गया, तो पत्रकार उस वैन पर टूट पड़े। यह तमाशा देखकर वहां के व्यवस्थापकों ने कहा कि आप लोग लाइन लगा के लीजिए। इस पर पत्रकार मान गये और लाइन में खड़े होकर गिफ्ट लिया।''

अमित मिश्रा सीधे कांग्रेसी नेता अहमद पटेल द्वारा भास्‍कर में रखवाए गए थे!

: दैनिक भास्‍कर इकलौता अखबार रहा जिसने इस घोटाले से जुड़ी एक भी खबर नहीं छापी : सुधीर चौधरी को लक्ष्‍मी गोयल के कोयला खादान बचाने की मंशा से जी न्‍यूज में लाया गया था : पिछले साल 7 दिसंबर को 'द इंडियन एक्‍सप्रेस' ने छत्‍तीसगढ़ सरकार के बारे में पहले पन्‍ने पर एक विस्‍फोटक रिपोर्ट छापी थी। आशुतोष भारद्वाज की लिखी इस रिपोर्ट की शुरुआत हिंदी टीवी समाचार चैनल सहारा समय द्वारा मई 2010 में राज्‍य सरकार को दिए गए पांच सूत्रीय एक कारोबारी प्रस्‍ताव से होती है, जिसके मुताबिक समाचार बुलेटिन से लेकर टीवी स्‍क्रीन के अलग-अलग हिस्‍सों में छत्‍तीसगढ़ सरकार की योजनाओं, मुख्‍यमंत्री रमण सिंह की रैलियों और सरकार समर्थक खबरों को प्रस्‍तुत करने के लिए एक निश्चित रकम मांगी गई थी। ऐसा पहली बार नहीं हुआ था। तीन साल से इस किस्‍म का परस्‍पर समझौता टीवी चैनलों और राज्‍य सरकार के जनसंपर्क विभाग के बीच चला आ रहा था, लिहाजा इस प्रस्‍ताव का स्‍वीकृत होना तय था।

देश को नहीं बल्कि खुद को बदलिए सुभाष चंद्रा जी!

: टैगलाइन बदलकर पाप छुपाने की कोशिश : नवीन जिंदल की कंपनी के खिलाफ खबरें दिखाने के नाम पर ब्‍लैकमेल करने का आरोपी जी समूह खुद की रीब्रांडिंग कर रहा है. खुद ब्‍लैकमेंलिंग के आरोपी लोग अब 'सोच बदलो देश बदलो' टैगलाइन के बहाने दूसरों की सोच बदलने और देश बदलने की बात कर रहे हैं. क्‍या सोच बदलकर आम लोग भी ब्‍लैकमेलिंग करने में जुट जाएं. सबसे बड़ी बात है कि जी न्‍यूज खुद ब्‍लैकमेलिंग करने की अपनी सोच में बदलाव लाए. टैग लाइन बदल जाने से जी के मालिकान की सोच बदल जाएगी, ऐसा लगता तो नहीं है. या फिर किसी डील के बाद जी के 'जज्‍बा सोच का' खतम हो गया है.

दिल्‍ली गैंगरेप : रिपोर्टिंग के मामले पर हाई कोर्ट पहुंचे पत्रकार

दिल्ली गैंग रेप मामले में एक स्थानीय अदालत में चल रही सुनवाई की मीडिया में रिपोर्टिंग पर प्रतिबंध के खिलाफ कुछ पत्रकारों ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाकर कार्यवाही के प्रकाशन की अनुमति मांगी है. सामूहिक बलात्कार के इस मामले में सुनवाई से पहले और सुनवाई के दौरान कार्यवाही की मीडिया में रिपोर्टिंग को लेकर दायर याचिका पर दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिल्ली सरकार और पुलिस से जवाब मांगा है. इस लड़की की सिंगापुर के अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी.

समाचार प्‍लस का विस्‍तार, शीघ्र लांच होगा राजस्‍थान चैनल

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में लोकप्रियता के शिखर पर स्थापित होने के बाद, अब 'समाचार प्लस' चैनल का विस्तार होने जा रहा है। इस नेटवर्क का दूसरा चैनल 'समाचार प्लस-राजस्थान' लॉन्च होने की दहलीज़ पर है। इसके लिए सभी तैयारियां लगभग पूरी की जा चुकी हैं। लुक एंड फील रेडी हो चुका है, न्यूज़रूम, स्टूडियो, पीसीआर-एमसीआर तैयार है और मशीनों का इंस्टालेशन चल रहा है।

जागरण से इस्‍तीफा देकर अमित अमर उजाला से जुड़े

बदायूं की पत्रकारिता में अमित सक्सेना की एक अलग पहचान है. राजनीति, गुटबाजी और छिछोरी हरकतों से बिल्कुल दूर रह कर काम करने वाले अमित सक्सेना ने दैनिक जागरण को बॉय-बॉय बोल दिया. उन्‍होंने आज ही बदायूं में अमर उजाला ज्वाइन कर लिया. अमर उजाला के शीर्ष अधिकारियों ने उन्हें आकर्षक वेतन के साथ सम्मानजनक दायित्व देने का वादा किया है. अमित के जाने से दैनिक जागरण की गुणवत्ता में गिरावट आने की संभावना है. असलियत में जागरण के बदायूं कार्यालय में जब से लोकेश प्रताप सिंह ब्यूरो चीफ बन कर आये हैं, तब सभी रिपोर्टर परेशान हैं. उन्होंने पूरे जिले के रिपोर्टर्स की बायलाइन खबर छापनी बंद कर दी है, साथ ही अपने नाम की खबर प्रतिदिन छापते हैं.

नशेड़ी इंस्‍पेक्‍टर की बेकाबू कार ने ईटीवी के कैमरामैन की जान ली, छह अन्‍य को रौंदा

: चार की हालत गंभीर : रायपुर में नशे की हालत में तेजरफ्तार गाड़ियां मौत की सबब बनती जा रही हैं…जिससे आए दिन छत्तीसगढ़ की राजधानी में हादसे होते रहते हैं..एक ऐसे ही हादसे में गुरुवार रात ईटीवी के कैमरामैन संजय दास को अपनी जान गंवानी पड़ी है..राजधानी के तेलीबांधा के एक पोल्ट्री फॉर्म के पास गुरुवार की रात 11 बजे एक तेज रफ्तार कार ने संजय दास सहित सात लोगों को कुचल दिया.. इसमें ईटीवी के कैमरामैन संजय दास की मौके पर ही मौत हो गई..कार आरपीएफ का इंस्पेक्टर राजेश वर्मा चला रहा था.. घायलों में चार की हालत गंभीर है.

भ्रष्‍टाचार के आरोपी अधिकारी राजीव कुमार के खिलाफ पत्रकार संजय शर्मा ने पीआईएल दाखिल किया

उत्तर प्रदेश में खुद को बड़े से बड़ा अखबार होने का दावा करने वाले संस्‍थान जहां अखिलेश सरकार की परिक्रमा में लगे रहते हैं। तो दूसरी ओर कुछ ऐसे अखबार भी हैं जो अपनी निष्पक्षता के चलते आम आदमी के मन में जगह तो बना ही रहे हैं साथ ही सरकार को यह आईना भी दिखा रहे हैं कि उसके गलत कृत्यों के खिलाफ बोलने का साहस भी अभी बचा है। कुछ ऐसा ही शुक्रवार को वीकएंड टाइम्स ने फिर करके दिखा दिया।

लोकसत्‍य से एनई अजीत का इस्‍तीफा, हिंदुस्‍तान छोड़ेंगे वेद प्रकाश

दिल्ली से प्रकाशित हिंदी दैनिक समाचार पत्र में शुरुआत से बतौर समाचार संपादक अपनी सेवाएं देने वाले वरिष्ठ पत्रकार अजीत कुमार पाण्डेय ने इस्तीफ़ा दे दिया है। ज्ञात रहे कि अजीत कुमार पाण्डेय की तुलना यूपी के तेज तर्रार पत्रकारों में की जाती है। विगत कई वर्षों से वह दिल्ली में जमे हुए थे। इसके पहले वे दैनिक जागरण, अमर उजाला और हिन्दुस्तान में भी अपनी सेवायें दे चुके हैं। खबर है अखबार की अंदरूनी किसी बात से नाराज़ होकर अजीत पाण्डेय ने संस्थान को छोड़ा है। हालाँकि सूत्रों का कहना है कि अखबार की हालत खराब हो जाने के चलते श्री पाण्डेय ने इस्‍तीफा दिया है। दूसरी तरफ उनके कहीं और ज्‍वाइन करने की भी चर्चा हो रही है।

ये है राजदीप की प्रतिबद्ध पत्रकारिता!!

Prakash Hindustani : वाह राजदीप! वाह!! आज के भास्कर में ओवैसी पर राजदीप सरदेसाई का लेख पढ़ा. सिर चकरा गया! राजदीप ने तो ओवैसी के बारे कुछ भी अच्‍छा नहीं लिखा. उसके सांसद भाई के यहाँ दिल्ली में बोटी-रोटी का ज़िक्र भी. परंपरानुसार तोगड़िया भी आया. अचरज ! घोर अचरज!!!…लेकिन आख़िरी पैरे में आकर राजदीप ने अपना ओवैसी प्रेम भी जाहिर कर ही दिया…..इसे कहते हैं प्रतिबद्ध पत्रकारिता!!!

तीन महीने से सैलरी नहीं मिली नेशनल दुनिया के कर्मचारियों को, संपादक जी गुजरात गए

आलोक मेहता के संपादकत्‍व में निकलने वाले नेशनल दुनिया से खबर है कि यहां काम करने वाले लोगों को तीन महीने से सैलरी नहीं मिली है. कर्मचारी बहुत परेशान हैं. मकर संक्रांति के बाद स्‍कूल खुलने वाले हैं और बच्‍चों के तीन महीने के फीस जमा करने हैं, लिहाजा बाल बच्‍चों वाले सभी पत्रकार तथा गैर पत्रकार कर्मचारी परेशान हैं. उनके सब्र का बांध टूटता जा रहा है. सूत्रों का कहना है कि तीन महीने बाद भी सैलरी न मिलने से परेशान डिजाइनिंग, ग्राफिक्‍स तथा मेट्रो एडिशन से जुड़े कम से कम पचास कर्मचारी गुरुवार को संपादक आलोक मेहता के केबिन में पहुंचे तथा पूछा कि उनकी सैलरी कब मिलेगी.

आईबी मिनिस्‍ट्री ने कहा दिल्‍ली गैंगरेप की घटना का नाट्य रुपांतरण न दिखाएं चैनल

नई दिल्ली। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने सोनी टीवी को सलाह दी है कि वह अपने शो क्राइम पेट्रोल-दस्तक में दिल्ली में गैंग रेप की घटना का नाट्य रूपांतरण न दिखाएं। मंत्रालय ने सभी टीवी चैनलों को भी इस तरह की एडवाइजरी जारी की है। मंत्रालय ने टीवी चैनलों से कहा है कि वे जमीनी हकीकत की संवेदनशीलता को समझें। गौरतलब है कि क्राइम पेट्रोल-दस्तक में दिल्ली गैंग रेप की घटना का नाट्य रूपांतरण दिखाया जाना था। चैनल का कहना था कि तीन कडियों में गैंग रेप की घटना का नाट्य रूपांतरण दिखाया जाएगा। क्राइम पेट्रोल-दस्तक मशहूर टीवी धारावाहिक है।

पराड़करजी की पुण्‍यतिथि पर बनारस में जुटेंगे दिग्‍गज पत्रकार

सम्पादकाचार्य बाबूराव विष्णु पराड़कर की पुण्य तिथि 12 जनवरी पर उनकी जन्म और कर्मस्थली वाराणसी में साहित्यकारों और पत्रकारों का जमावड़ा होने जा रहा है। सम्पादकाचार्य बाबूराव विष्णु पराड़कर स्मृति न्यास ने पराड़कर स्मृति भवन में स्मृति समारोह का आयोजन किया है, जिसमें 'हिन्दी पत्रकारिता में साहित्य की जरुरत' विषय पर चर्चा होगी। अपराह्न 3 बजे से होने वाले इस आयोजन की अध्यक्षता प्रसिद्ध साहित्यकार काशीनाथ सिंह करेंगे, जबकि मुख्य अतिथि वरिष्ठ कवि और आलोचना के सम्पादक अरुण कमल होंगे।

नईदुनिया खरीद मामले में जागरण को इलाहाबाद हाई कोर्ट से हरी झंडी

: इंदौर हाई कोर्ट में मामला पेंडिंग : नईदुनिया को खरीदने वाले जागरण प्रकाशन लिमिटेड ने बांबे स्‍टाक एक्‍सचेंज यानी बीएसई को जानकारी दी है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने नईदुनिया एवं उनके शेयरहोल्‍डर एवं ऋणदाताओं को कंपनी एक्‍ट 1956 के सेक्‍शन 391 से 394 के तहत विचार करते हुए इस सौदे को स्‍वीकृति दे दी है. जबकि मध्‍य प्रदेश में हाई कोर्ट के इंदौर बेंच में यह मामला अभी पेंडिंग है. नीचे इससे जुड़ी खबर. 

पत्रकारों को बताएंगे कैसे करें सुरक्षा मामलों की रिपोर्टिंग

मद्रास बेस्‍ड प्रेस इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (पीआईआई) पत्रकारों को राष्‍ट्रीय सुरक्षा के मामलों में रिपोर्टिंग के बारे में जानकारी देने के लिए दो दिवसीय वर्कशाप आयोजित कर रही है. इस वर्कशाप में सुरक्षा मामलों में किस तरह से रिपोर्टिंग करनी चाहिए इस पर जानकारी दी जाएगी. पीआईआई यह वर्कशाप बंगलोर बेस्‍ड इंस्‍टीट्यूट और कंटेमपोरेरी स्‍टडडीज …

ईटीवी के संतोष को मिला भिखारी ठाकुर सम्‍मान

भिखारी ठाकुर सांस्कृतिक महोत्सव में बेगूसराय के युवा पत्रकार संतोष कुमार गुप्ता को पत्रकारिता के क्षेत्र में सराहनीय योगदान के लिए "भिखारी ठाकुर सम्मान" से सम्मानित किया गया. यह सम्मान भिखारी ठाकुर के गाँव कुतुबपुर दियारा में आयोजित जयंती समारोह के दौरान प्रदान किया गया. संतोष फिलहाल बेगूसराय में ई टीवी के जिला संवाददाता हैं और गंभीर विषयों पर रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं.

बिना टैम बक्‍सा वाले छत्तीसगढ़ में रेप का मामला भी कोई खबर है क्या?

ये आप भी कहां-कहां की बात सामने ले आते हैं छत्तीसगढ़ वालों..? आपके पूरे राज्य में टैम का एक भी बक्सा नहीं है.. किस मुंह से आप हाई टीआरपी वाले दिल्ली मुंबई की बराबरी करने चले आए..? आप भ्रष्टाचारियों, बलात्कारियों के बीच रह रहे हैं तो इसमें टीवी चैनलों का क्या कुसूर..?

पत्रकारिता का पेशा आपको बोर नहीं होने देता

Shambhunath Shukla : पत्रकारिता का पेशा आपको बोर नहीं होने देता। कुछ न कुछ करने को हर समय रहता है। भले आप डेस्क पर हो या फील्ड में। रोज नया कुछ करने को है, यह सोच-सोच कर आपके अंदर उत्साह बना ही रहता है। इतना कुछ घूमना है और इतना कुछ जानना है कि एक जीवन कम पड़ जाता है। मैंने १९७२ में बीएससी पार्ट वन करने के बाद ही घर छोड़ दिया था। मुझे लगता था कि घर में रहा तो मैं कुछ भी नया नहीं कर पाऊंगा। या तो परिवार के तमाम लोगों की तरह हल चलाऊंगा या फिर कहीं किसी जगह आढ़त खोलकर बैठ जाऊंगा और यही चिढ़ मुझे एक ऐसे पेशे में ले गई जहां अनंत संभावनाएं थीं और हर जगह के रास्ते खुले थे।

अब नेताओं को भी भाने लगा सोशल मीडिया

इंटरनेट की ताकत और उसके व्यापक प्रभाव को मद्देनजर रखते हुए राजनीतिक दलों और मंत्रियों के बीच विशेष सोशल मीडिया टीम रखने का चलन जोर पकड़ रहा है। दरअसल राजनीतिक दल और उनके नेता सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, ट्विटर और अन्य ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर चल रही चर्चाओं पर नजर रख रहे हैं, साथ ही अपनी लोकप्रियता का पारा भी देखना चाहते हैं। पूरी कवायद इसी के इर्द-गिर्द घूमती है।

सुब्रत राय को फिर झटका : पुणे स्‍टेडियम से नाम हटेगा

पुणे स्थित अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम अब ‘सुब्रत राय सहारा स्टेडियम’ के नाम से नहीं जाना जाएगा, क्योंकि सहारा ग्रुप ने महाराष्ट्र क्रिकेट संघ (एमसीए) के साथ विवाद के चलते नाम हटाने का फैसला किया है। सहारा ने स्टेडियम से संबंधित कुछ समझौतों के उल्लंघन के कारण एमसीए के खिलाफ मंगलवार को बंबई उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। उसे स्टेडियम का नाम काले कपड़े से ढंकने के एमसीए के फैसले के खिलाफ अंतरिम राहत भी मिली थी।

सुधीर चौधरी ने नवीन जिंदल के खिलाफ कोर्ट में बयान दर्ज कराया

जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी द्वारा नवीन जिंदल पर किए गए मानहानि के मामले में कोर्ट में बयान दर्ज किया गया. अपने बयान में सुधीर ने कहा कि नवीन जिंदल और उनकी कंपनी के 16 अन्य अधिकारियों ने उनकी छवि धूमिल करने के लिए उनके खिलाफ गलत आरोप लगाए हैं. उन्होंने मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट जय थरेजा को बताया कि जिंदल एवं अन्य ने सौ करोड़ रुपये की कथित फिरौती मामले में उनके खिलाफ गलत मामला दर्ज कराया था और एक संवाददाता सम्मेलन में उनके खिलाफ आरोप लगाकर उनको बदनाम किया. उनकी छवि को नुकसान पहुंचाया गया.

सरकार करेगी गूगल से समझौता, स्‍मार्ट फोन पर दिखेगा डीडी न्‍यूज बुलेटिन

जनता के बीच निजी टीवी न्यूज चैनलों के एकाधिकार को खत्म करने और अपना नजरिया युवाओं के बीच लाने की दिशा में सरकार ने कदम बढ़ा दिया है। इस क्रम में सरकार ने अब युवाओं पर ध्यान केंद्रित करते हुए मोबाइल फोन और सोशल मीडिया वेबसाइटों पर प्रचार अभियान और तेज कर दिया है। फेसबुक, टि्वटर, यू-ट्यूब के बाद अब मंत्रालय ने मोबाइल फोन पर दस्तक दी है।

सजायाफ्ता अफसर तक प्रमोशन पा लेते हैं, लेकिन अमिताभ ठाकुर नहीं

यूपी कैडर के आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर को सत्ता और अफसरों से पंगा लेने का सजा यूं दिया जा रहा है कि उनका जो ड्यू प्रमोशन है, वह नहीं दिया जा रहा है. उनके बैच के लोगों को प्रमोट कर दिया गया पर उन्हें नहीं. अमिताभ ठाकुर का गुनाह ये है कि वे सत्ता में बैठे नेताओं और उनकी चमचागिरी करने वाले बड़े अफसरों की करतूतों को गाहे-बगाहे सबके संज्ञान में लाते रहते हैं, कोर्ट में चुनौती देते रहते हैं. इसी कारण नेता और अफसर की भ्रष्ट सांठगांठ उन्हें प्रताड़ित कर रही है, प्रमोशन न देकर, अच्छी पोस्टिंग न देकर. अमिताभ ने अपनी पीड़ा फेसबुक पर बयान की है, जिसे हूबहू प्रकाशित किया जा रहा है.

पत्रकार शशि मल्‍होत्रा का निधन, शरीर मेडिकल कॉलेज को दान

अंबाला शहर के पत्रकार शशि मल्होत्रा का बृहस्पतिवार सुबह हृदय गति रूकने से निधन हो गया। वे 47 वर्ष के थे। मल्‍होत्रा के परिजनों ने उनकी इच्‍छा के अनुसार उनका र्पा‍थिव शरीर महर्षि मारकंडेश्वर मेडिकल कॉलेज को दान कर कर दिया। मल्‍होत्रा ने अपने जीते जी देहदान का संकल्‍प लिया था। वे अविवाहित थे।

लखनऊ में ग्रीन सिटी टाउनशिप निर्माण पर कोर्ट ने लगा दी रोक

इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने फैजाबाद रोड स्थित विराज कांस्ट्रक्शन द्वारा ग्रीन सिटी के नाम से इंटीग्रेटेड टाउनशिप विकसित करने के लिए किसानों से ली गई जमीन पर निर्माण किए जाने के बाबत रोक लगा दी है। अदालत ने कहा है कि इस भूमि पर यथास्थिति बरकरार रहेगी और कोई निर्माण कार्य नहीं किया जाएगा। इस आदेश से ग्रीन सिटी का काम खटाई में पड़ गया है।

कुंभ कवरेज करने आ रहे एनडीटीवी के दो कर्मचारी इलाहाबाद में लुटे

प्रयाग कुंभ मेला कवरेज करने आ रहे एनडीटीवी न्यूज चैनल के दो कर्मचारियों अजय पांडेय और मुनेश्‍वर मिश्रा को इलाहाबाद की सीमा पर लूट लिया गया। दोनों कर्मचारी चैनल की वैन लेकर दिल्ली से इलाहाबाद (प्रयाग) आ रहे थे। नेशनल हाइवे के रास्ते अजय पांडेय और मुनेश्‍वर मिश्रा इलाहाबाद जिले की सीमा पटना उपरहार के सामने पहुंचे। रातभर सफर करने के बाद सुबह दोनों ने श्रृंग्वेरपुर के पास रहने वाले अपने रिश्‍तेदार के घर रूककर दैनिक क्रियाओं से निपटने और थोड़ी देर आराम करने का निश्‍चय किया।

‘सोनारगांव’ की कहानी मैं टीवी पर नहीं कह सकता था : नीलेंदु सेन

मेरे उपन्यास 'सोनारगाँव' को आए अभी मुश्किल से एक महीने हुए हैं लेकिन जिस तरह उसे हाथो-हाथ लिया जा रहा है, उससे मैं बेहद उत्साहित हुआ हूँ। इस उपन्यास में जो विषय मैंने लिया है, वह विवादास्पद भी है और चुनौती भरा भी। इसीलिए अभी तक मिली प्रतिक्रियाओं को अच्छी-बुरी कहने के बजाय कहूँगा कि वे उत्तेजना से भरी रही हैं। बहुत से लोगों ने ये सवाल पूछा है कि मैंने रेड लाइट एरिया और यौनकर्मियों के बीच एड्स संबंधी जागरूकता अभियान को ही विषय क्यों बनाया। लिहाज़ा, मैं चाहता हूँ कि इस उपन्यास को लिखने के बारे में अपने विचार अपनी बिरादरी से साझा करूँ।

आनंद ने एनबीटी और विजय ने नवभारत छोड़ा, दोनों एशियन एज पहुंचे

मुंबई में हिंदी मीडिया की खस्ताहालत को देखते हुए हिंदी के पत्रकार तेजी से अंग्रेजी मीडिया की ओर आकर्षित हो रहे हैं. नवभारत टाईम्स (एनबीटी) के प्रमुख संवाददाता आनंद मिश्र व नवभारत (मुंबई) के अपराध संवाददाता विजय यादव ने अपने-अपने संस्थानों से इस्तीफा दे दिया है. दोनों ने अंग्रेजी अखबार एशियन एज ज्वाइन किया है.

रमेश चंद्र अग्रवाल, सुधीर अग्रवाल, गिरीश अग्रवाल टैक्स चोर हैं!

दैनिक भास्कर को संचालित करने वाली कंपनी डीबी कार्प के निदेशकगण रमेश चंद्र अग्रवाल, उनके पुत्र सुधीर अग्रवाल, गिरीश अग्रवाल इत्यादि के खिलाफ करोड़ों रुपये की टैक्स चोरी का एक बड़ा मामला सामने आया है. उत्पादन शुल्क की चोरी के मामले में सीमा शुल्क, केंद्रीय उत्पाद शुल्क और सेवा कर विभाग ने 58.97 करोड़ रुपये की रिकवरी निकालते हुए शिवपुरी जिले की शारदा साल्वेंट प्राइवेट लिमिटेड को कारण बताओ नोटिस थमाया है. दैनिक भास्कर समूह की इस कंपनी के डायरेक्टर रमेश चंद्र अग्रवाल, उनके पुत्र सुधीर अग्रवाल, गिरीश अग्रवाल हैं.

केजरीवाल के आरोपों के आधार पर खबर दिखाने वाले चैनलों को मुकेश अंबानी ने भेजा नोटिस

रिलायंस समूह के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कई न्यूज चैनलों को नोटिस भेजा है. मुकेश अंबानी तमाम न्‍यूज चैनलों द्वारा एक्टिविस्‍ट अरविंद केजरीवाल एवं एडवोकेट प्रशांत भूषण के प्रेस कांफ्रेंस के आधार पर रिलायंस समूह पर आरोप लगाए जाने से खासे नाराज हैं. अरविंद केजरीवाल ने बीते वर्ष अक्‍टूबर तथा नवम्‍बर में प्रेस कांफ्रेंस करके रिलायंस समूह पर कई आरोप लगाए थे, जिसे कई हिंदी तथा अंग्रेजी चैनलों ने लाइव प्रसारित किया था.

टाइम्स नाऊ और अरनब को लेकर वीर सांघवी ने कारवां मैग्जीन को स्पष्टीकरण भेजा

जनवरी 2013 के कारवां मैग्जीन के अंक में हिंदुस्तान टाइम्स के पूर्व संपादक वीर सांघवी का एक पत्र छपा है. इसमें उन्होंने कारवां के दिसंबर 2012 के अंक में प्रकाशित एक स्टोरी में खुद के बारे में उल्लखित किए जाने को लेकर अपनी सफाई दी है. उस स्टोरी में टाइम्स नाऊ और अरनब गोस्वामी के बारे में जिक्र है और किन्हीं संदर्भों में वीर सांघवी की भी चर्चा है. क्या संदर्भ है, क्या सफाई दी है सांघवी ने, यह उनके पत्र से समझा जा सकता है, जो कारवां मैग्जीन में प्रकाशित है… ये है वो पत्र….

सहारा मीडिया में स्वतंत्र मिश्रा के दिन फिरे, राव बीरेंद्र सिंह के पावर में इजाफा

सहारा मीडिया में उलटफेर हुआ है. उपेंद्र राय फिर बुरी तरह ठिकाने लगा दिए गए हैं. उनके विरोधियों को सहारा मीडिया में पावरफुल किया जा रहा है. यह काम खुद संदीप वाधवा कर रहे हैं, जो इन दिनों सहारा मीडिया और सहारा इंटरटेनमेंट के हेड हुआ करते हैं. उन्होंने आज एक सरकुलर जारी कर स्वतंत्र मिश्रा को यूपी उत्तराखंड चैनल का चार्ज सौंप दिया. साथ ही इन राज्यों में प्रिंट का काम भी स्वतंत्र मिश्रा देखेंगे.

टाइम्स नाऊ वाले शबनम हाशमी के पीछे पड़ गए हैं…

: दुखी शबनम हाशमी ने जारी किया बयान : A Public Statement by Shabnam Hashmi : I was in Gujarat for over six months and returned to Delhi two weeks ago. While in Gujarat I was asked to appear on different television channels constantly. On one such talk show on Times Now I felt that I was especially being pushed into a corner and it was an absolutely unbalanced panel, I told the Times Now guest coordinator that I will not come on the channel any longer.

सड़क हादसे में जालौन के पी7 न्यूज संवाददाता अनुज घायल

ग्वालियर। ग्वालियर में हुये सड़क हादसे में जालौन के पी7 न्यूज के संवाददाता अनुज कौशिक घायल हो गये। यह हादसा उस बक्त हुआ जब वह अपनी सिस्टर के घर जा रहे थे। बता दें कि अनुज कौशिक बुधवार को ग्वालियर के दीनदयाल नगर अपनी सिस्टर के घर दोपहर के वक्त बाइक से जा रहे थे, …

न्यूज चैनल पर दस मिनट तक चला पोर्न वीडियो

स्वीडन में एक टीवी चैनल पर समाचारों के प्रसारण के दौरान दस मिनट तक पोर्न वीडियो चलने का मामला सामना आया है. टीवी4 चैनल के न्यूज बुलेटिन के बीच में अचानक एंकर के पीछे लगी एक स्क्रीन पर ये वीडियो प्रसारित होने लगा और न्यूज एंकर को इस बात का पता भी नहीं चला. ग्लोबल पोस्ट अखबार के अनुसार एंकर के बैठने वाली जगह के पीछे कई स्क्रीनें लगी हुई थी और उसे पता ही नहीं चला कि पीछे स्क्रीन पर क्या चल रहा है. 24 घंटे के इस खबरिया चैनल के सुबह दस बजे के बुलेटिन में दर्शकों को 10 मिनट तक हार्डकोर पोर्न वीडियो दिखता रहा.

सांसद के कार्यक्रम में जागरण के फोटोग्राफर व पहरेदार के इंचार्ज में झड़प

पंजाब के बठिंडा शहर से खबर है कि वीरवार को सांसद हरसिमरत कौर बादल के कार्यक्रम में दैनिक जागरण बठिंडा कार्यालय के सीनियर फोटोग्राफर रणधीर बॉबी व पंजाबी समाचार पत्र पहरेदार के इंचार्ज अनिल वर्मा में किसी बात को लेकर झड़प हो गई। मामला उस समय बढ़ गया जब दैनिक जागरण के फोटोग्राफर ने अनिल वर्मा के गिरेबान में हाथ डाल दिया। यहीं नहीं फोटोग्राफर ने तो घूंसे तक जड़ दिए। मौके पर एएसपी साहब व पत्रकारों ने बीच-बचाव करते हुए मामले को शांत किया।

दैनिक जागरण का कुंभ स्‍पेशल लांच, कर्मचारियों का साप्‍ताहिक अवकाश निरस्‍त

दैनिक जागरण ने इलाहाबाद में अपना कुंभ स्‍पेशल एडिशन लांच कर दिया है. इसकी लांचिंग 9 जनवरी को की गई. इसकी लांचिंग के लिए नोएडा से विष्‍णु त्रिपाठी एवं लखनऊ से राजीव मिश्रा समेत कई लोग पिछले दो-तीन दिनों से इलाहाबाद में डेरा जमाए हुए थे. आठ पेज का यह एडिशन पूर्ण रूप से फीचर पर आधारित है. कुंभ चलने तक इस विशेष एडिशन का प्रकाशन किया जाता रहेगा. इसमें कुंभ से जुड़ी खबरों के अलावा फीचर भी होंगे.

सैफई के रास रंग में पूरी सरकार वहां होती है.. शहीद के लिए किसी को फुर्सत नहीं

Amitabh Agnihotri : मथुरा के शेर नगर गाँव में कल रात शहीद हेमराज का अंतिम संस्कार किया गया …. लेकिन भारत के इस वीर सपूत को नमन करने के लिए यहाँ तक आने की फुर्सत न तो मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को मिली और न उनके किसी मंत्री को …. यहाँ तक की सांसद और विधायक को भी नहीं … सैफई महोत्सव में रास-रंग हो तो पूरी सरकार वहां होती है …. आज़म खां के बेटे का निकाह हो तो पूरी सरकार रामपुर में होती है … लेकिन शहीद का सिर कटा शव आये तो उसे सम्मान देने कोई नहीं आता …. मुख्यमंत्री जी के लिए रेसलिंग टूर्नामेंट में मौजूद रहना ज़रूरी है … लेकिन शहीद की चिता तक जाना नहीं ….

पाकिस्‍तान के टीवी-अखबारों में उसकी ज्‍यादा चर्चा नहीं थी

Om Thanvi : लाहौर से लौट कर दिल्ली में कड़ी धूप मिली है। सुबह से टैरेस पर बैठा हूँ। पाकिस्तान कोहरे की गिरफ्त में है। तीन दिन लगातार धूप की राहत और चमक देखने को न मिली। गए तब यहाँ भी यही हाल था। धूप में बैठे बार-बार सरहद पर हुई वहशी वारदात के बारे में सोचता हूँ। पाकिस्तान के टीवी-अखबारों में उसकी ज्यादा चर्चा नहीं थी। पर रविवार को जो पाकिस्तान का जवान भारतीय गोलीबारी में मारा गया, उसे लेकर काफी कवरेज था। घर-परिवार तक टीवी दल सक्रिय थे।

अवैध खनन का कवरेज कर रहे पायनियर के पत्रकार को जागरण के पत्रकार ने दी धमकी

सोनभद्र में एक फिर अवैध खनन में पत्रकारों के संलिप्‍त होने की बात सामने आई है. ओबरा में पायनियर अखबार के लिए काम करने वाले जितेंद्र कुमार गुप्‍ता को अवैध खनन का कवरेज करने के दौरान देख लिए जाने की धमकी दी गई. अभद्रता, दुर्व्‍यवहार और गाली ग्‍लौज भी की गई. धमकी देना वाला कोई और नहीं बल्कि खुद को जागरण का पत्रकार कहने वाला व्‍यक्ति निकला. जितेंद्र ने डाला में दैनिक जागरण के लिए काम करने वाले एबी सिंह के खिलाफ ओबरा थाने में अपनी शिकायत दी है.

संजय तिवारी बने श्री न्‍यूज में एडिटर को-आर्डिनेशन

श्री टाइम्‍स से खबर है कि प्रबंधन ने संजय तिवारी को प्रमोट करके समूह में उनकी जिम्‍मेदारी बढ़ा दी है. संजय तिवारी वर्तमान में वरिष्‍ठ समाचार संपादक के रूप में अखबार को अपनी सेवा रहे हैं. प्रबंधन ने अब उन्‍हें एडिटर को-आर्डिनेशन बनाकर समूह के न्‍यूज चैनल श्री न्‍यूज की जिम्‍मेदारी सौंप दी है. संजय तिवारी को चैनल को पहचान दिलाने की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है क्‍योंकि काफी समय पहले लांच हुआ यह चैनल अब तक यूपी में अपनी पहचान स्‍थापित नहीं कर पाया है.

सी टीवी में डाइरेक्‍टर बने राहुल, अमर उजाला ने नीरज को जम्‍मू भेजा

सी टीवी नेटवर्क से खबर है कि राहुल मित्‍तल को चैनल में एडिटोरियल एडवाइजरी बोर्ड का डाइरेक्‍टर बना दिया गया है. उन्‍होंने अपना कार्यभार संभाल लिया है. राहुल को चैनल को पहचान देने की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. चैनल 14 जनवरी को अपने ग्रुप क्षेत्रीय कार्यालय का शुभारंभ भी जय प्‍लाजा, अबूलेन में करने जा रहा है. चैनल का प्रसारण भी डीटूएच पर होने लगा है.

समीर की याचिका पर कोर्ट ने नवीन जिंदल के खिलाफ मानहानि के मामले में संज्ञान लिया

: 8 मार्च को होगी अगली सुनवाई : नई दिल्‍ली : पिछले दिनों चर्चा में जी-जिंदल विवाद में कोर्ट ने एक और मामले को संज्ञान में लिया है. जी बिजनेस के हेड समीर आहलूवालिया द्वारा कांग्रेस सासद नवीन जिंदल व अन्य 16 लोगों के खिलाफ दायर मानहानि की शिकायत पर दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने संज्ञान ले लिया है. अदालत ने समीर की याचिका की सुनवाई करते कहा कि इस मामले को भारतीय दंड संहिता की धारा 499 यानी मानहानि के तहत संज्ञान लिया जाता है. महानगर दंडाधिकारी नवीता कुमार बग्गा ने इस मामले की सुनवाई के लिए 8 मार्च की तारीख तय की है.

खबर छपने से नाराज सपा जिलाध्‍यक्ष बलराम यादव ने दी पत्रकारों को धमकी

अभी यूपी में सरकार बने एक साल भी नहीं बीता कि सपाई अपने खोल से बाहर निकल कर सड़क पर गुंडई करने लगे हैं. आम लोगों के साथ अब पत्रकारों को भी देख लेने की धमकी दी जाने लगी है. मामला चंदौली जिले के सैयदराजा का है. बताया जा रहा है कि 29 दिसम्‍बर 2012 को चंदौली के सपा जिलाध्‍यक्ष बलराम यादव एक सफारी गाड़ी यूजीजेड -4809 से सैफई महोत्‍सव से वापस लौटे थे. सैयदराजा बाजार में उनकी गाड़ी एक ट्रक, जिसका नम्‍बर यूपी 22 – 3635 था, से गलत पास लेने के चक्‍कर में पीछे से थोड़ी टकरा गई.

चीन में प्रकाशित होता रहेगा विवादित अखबार

सरकारी सेंसरशिप के कारण पिछले दिनों सुर्खियों में आया चीनी साप्ताहिक गुरुवार को हर हफ्ते की तरह छपेगा. खबर है कि अधिकारियों और पत्रकारों के बीच समझौता हो गया है. गुआंगझू शहर से हफ्ते में एक बार छपने वाले लोकप्रिय उदारवादी समाचारपत्र के एक कर्मचारी ने नाम बताए बिना कहा है, "अखबार गुरुवार को सामान्य रूप से छपेगा." विवाद तब भड़क उठा जब साप्ताहिक साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट में नागरिक अधिकारों की सुरक्षा से संबंधित लेख की जगह सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी की तारीफ वाला लेख प्रकाशित कर दिया गया. इसके खिलाफ पत्रकार सड़कों पर उतर आए.

सहारा को झटका : सुप्रीम कोर्ट ने पुनर्विचार याचिका खारिज की

नई दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने निवेशकों को 24 हजार करोड़ रुपए लौटाने के फैसले पर सहारा समूह की पुनर्विचार याचिका खारिज की। न्यायमूर्ति केएस राधाकृष्णन और न्यायमूर्ति जेएस खेहड़ की खंडपीठ ने सहारा समूह की ओर से दायर पुनर्विचार याचिका पर बुधवार को चैंबर में विचार करने के बाद उसे खारिज कर दिया। इसी पीठ ने गत 31 अगस्त को सहारा समूह को निवेशकों का धन वापस करने का आदेश दिया था।

सपा सरकार पत्रकारों को हर संभव सहायता और सुविधाएं मुहैया कराएगी

प्रदेश की सपा सरकार पत्रकारों को हर संभव सहायता व सुविधाएं मुहैया कराने के लिए प्रयत्नशील है। पत्रकारों की समस्याओं को लेकर गठित कमेटी में विचार विमर्श हो चुका है बस इसको असलीजामा पहनाना बाकी है। उक्त बातें मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के प्रतिनिधि के रूप में पहुंचे सपा के राष्‍ट्रीय महासचिव रामआसरे कुशवाहा द्वारा लखनऊ के राय उमानाथ वली प्रेक्षा गृह में प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक जर्नलिस्ट एसोसिएशन द्वारा आयोजित एक दिवसीय राष्‍ट्रीय सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में कही।

भास्‍कर में कल्‍पेश याज्ञनिक बने समूह संपादक, कमलेश सिंह नेशनल एडिटर!

दैनिक भास्‍कर से खबर है कि नेशनल एडिटर कल्‍पेश याज्ञनिक को ग्रुप एडिटर के रूप में प्रमोट कर दिया गया है. श्रवण गर्ग के नईदुनिया चले जाने के बाद ये इस पद पर किसी की नियुक्ति नहीं की गई थी. सूत्रों का कहना है कि प्रबंधन ने कल्‍पेश को ही ग्रुप एडिटर यानी समूह संपादक के रूप में धीरे से प्रमोट कर दिया है. वहीं दूसरी तरफ अब तक नार्थ हेड के रूप में पंजाब, हरियाणा, हिमाचल की जिम्‍मेदारी देख रहे कमलेश सिंह को भी प्रमोट किए जाने की खबर है.

आजतक नम्‍बर वन, जी न्‍यूज को बढ़त, इंडिया टीवी लुढ़का

दो महीने की शांति के बाद एक बार फिर टीआरपी की हलचल शुरू हो गई है. टैम द्वारा नए साल में पहली बार जारी किए गए आंकड़े में आजतक नम्‍बर एक के पायदान पर काबिज है. वहीं पिछले दिनों की घटनाओं का जी न्‍यूज को जबर्दस्‍त फायदा हुआ है. एबीपी न्‍यूज भी अपनी बढ़त बरकरार रखने में सफलता पाई है. सबसे ज्‍यादा नुकसान इंडिया टीवी को हुआ है. ये चैनल जी न्‍यूज एवं एबीपी न्‍यूज से पिछड़ गया है. टीजी सीएस 15 प्‍लस श्रेणी में आजतक पहले नम्‍बर बना हुआ है. एबीपी दूसरे, जी न्‍यूज तीसरे तथा इंडिया टीवी चौथे पायदान पर है.

भ्रष्टाचार के आरोप में दैनिक भास्कर, रायगढ़ यूनिट के एडिटोरियल हेड अजय तिवारी और रिपोर्टर अखिलेश पुरोहित बर्खास्त

फोन रिकार्डिंग और अन्य दस्तावेजों के आधार पर एडिटोरियल हेड महोदय का भ्रष्टाचार साबित हुआ और उन्हें तुरंत सजा सुना दी गई. जी हां. दैनिक भास्कर के नेशनल एडिटर कल्पेश याज्ञनिक ने दैनिक भास्कर, रायगढ़ यूनिट के एडिटोरियल हेड अजय तिवारी को बर्खास्त करने की सजा सुना दी है. रिपोर्टर अखिलेश पुरोहित को भी नौकरी से निकाल दिया गया है. इस बाबत कल्पेश याज्ञनिक ने एक आंतरिक मेल भी जारी कर दिया है. यह मेल भड़ास4मीडिया के पास भी है, जिसे हम यहां पूरा का पूरा प्रकाशित कर रहे हैं.

आधार से ही बन जायेगा पासपोर्ट

नयी दिल्ली: अब पासपोर्ट बनवाने के लिए आपको ढेर सारे कागजात जमा नहीं करवाने होंगे. अगर आपके पास आधार नंबर है, तो इसे ही आपका एड्रेस प्रूफ और फोटो पहचान पत्र मान कर पासपोर्ट जारी किया जायेगा. विदेश मंत्रालय ने पासपोर्ट जारी करनेवाली सभी अथॉरिटीज को इस संबंध में जरूरी निर्देश जारी कर दिये हैं. इसमें आधार कार्ड को अहम बनाया गया है.

सोशल मीडिया के एक्‍सटेंशन बन गए हैं न्‍यूज चैनल

: इंटरनेट की धड़कन से टीवी चल रहा है न कि संपादक पत्रकार की हरकतों से : पल्प फिक्शन से पल्प टेलीविज़न तक : न्यूज़ चैनल अपने आस पास के माध्यमों के दबाव में काम करने वाले माध्यम के रूप में नज़र आने लगे हैं। इनका अपना कोई चरित्र नहीं रहा है। गैंग रेप मामले में ही न्यूज़ चैनलों में अभियान का भाव तब आया जब अठारह दिसंबर की सुबह अखबारों में इस खबर को प्रमुखता से छापा गया। उसके पहले हिन्दी चैनलों में यह खबर प्रमुखता से थी मगर अभियान के शक्ल में नहीं। यह ज़रूर है कि एक चैनल ने सत्रह की रात अपनी सारी महिला पत्रकारों को रात वाली सड़क पर भेज दिया कि वे सुरक्षित महसूस करती हैं या नहीं लेकिन इस बार टीवी को आंदोलित करने में प्रिंट की भूमिका को भी देखा जाना चाहिए। उसके बाद या उसके साथ साथ सोशल मीडिया आ गया और फिर सोशल मीडिया से सारी बातें घूम कर टीवी में पहुंचने लगीं। एक सर्किल बन गया बल्कि आज कल ऐसे मुद्दों पर इस तरह का सर्किल जल्दी बन जाता है।

दिल्‍ली गैंगरेप : मीडिया नहीं कर पाएगा कवरेज, रोक बरकरार

नई दिल्ली : राष्ट्रीय राजधानी में 16 दिसंबर को 23 साल की लड़की से सामूहिक बलात्कार के मामले में बंद कमरे में सुनवाई करने और मीडिया को इसकी रिपोर्टिंग से दूर रखने के मजिस्ट्रिीय अदालत के फैसले को दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को बरकरार रखा। जिला एवं सत्र न्यायाधीश आर के गाबा ने कहा कि मजिस्ट्रेट के सात जनवरी के आदेश में कुछ भी ‘अवैध’ या ‘अनुचित’ नहीं था।

सेंसरशिप के खिलाफ सड़कों पर उतर आए चीनी पत्रकार

बीजिंग। मीडिया पर सेंसरशिप के खिलाफ चीनी पत्रकार सड़कों पर उतर आए हैं। एक साप्ताहिक के पत्रकारों का यह दुर्लभ प्रदर्शन दो दिनों से जारी है, लेकिन सरकार ने साफ कर दिया है कि मीडिया पर सरकारी नियंत्रण बना रहेगा। प्रदर्शनों को दूसरे मीडिया समूहों का भी समर्थन मिल रहा है। हालांकि न्यूज वेबसाइट्स पर सरकारी संपादकीय ही चला, जिसमें पत्रकारों की आलोचना की गई है, लेकिन उन्होंने अस्वीकृति भी लगाई कि इसमें अभिव्यक्त विचारों का यह मतलब नहीं है कि वे खुद इससे सहमत हैं।

क्‍यों इंटरव्‍यू दिखाने की हिम्‍मत उसी संपादक ने दिखाई जो खुद कटघरे में है?

: स्‍व नियमन की आड़ में सत्‍तानुकुल बन गया है बीईए : अगर ब्राडकास्ट एडिटर एसोशियसेशन [बीईए] की चलती तो बलात्कार की त्रासदी का वह सच सामने आ ही नहीं पाता जो लड़की के दोस्त ने अपने इंटरव्यू में बता दिया। दिल्ली की लड़की के बलात्कार के बाद जिस तरह का आक्रोश दिल्ली ही नहीं समूचे देश की सड़को़ पर दिखायी दिया उसे दिखाने वाले राष्ट्रीय न्यूज चैनलों ने ही स्वयं नियमन की ऐसी लक्ष्मण रेखा अपने टीवी स्क्रिन से लेकर पत्रकारिता को लेकर खिंची कि झटके में पत्रकारिता हाशिये पर चली गई और चैनलों के कैमरे ही संपादक की भूमिका में आ गये। यानी कैमरा जो देखे वही पत्रकारिता और कैमरे की तस्वीरों को बड़ा बताना या कुछ छुपाना ही बीईए की पत्रकारिता।

दैनिक जागरण में प्रमोशन एवं इंक्रीमेंट के लिए परीक्षा आज से

दैनिक जागरण में एक बार फिर प्रमोशन एवं इंक्रीमेंट के लिए ऑन लाइन परीक्षा शुरू हो चुकी है. खबर है कि पिछली बार की तरह इस बार भी तीन दिनों तक ये परीक्षाएं चलेंगी. इस बार भी 35 प्रतिशत से कम नम्‍बर पाने वालों को संस्‍थान से बाहर का रास्‍ता दिखाया जाएगा. तीन घंटे की इस परीक्षा में 100 नम्‍बर के सवाल पूछे जाएंगे. बुधवार को सीनियर सब एडिटर, सीनियर रिपोर्टर एवं ट्रेनी की परीक्षा हो रही है. परीक्षा एक बजे से लेकर चार बजे तक आयोजित की गई हैं.

इंडिया न्‍यूज में वीपी सेल्‍स बनीं आरती अरोड़ा

इंडिया न्‍यूज से खबर है कि आरती अरोड़ा ने ज्‍वाइन किया है. वे बीएजी समूह के चैनल न्‍यूज24 एवं ई24 से इस्‍तीफा देकर यहां पहुंची हैं. वे बीएजी के नार्थ सेल्‍स हेड के रूप में जुड़ी हुई थीं. आरती को इंडिया न्‍यूज में वाइस प्रेसिडेंट सेल्‍स के पद पर लाया गया है. वे पूरे समूह का एडवरटाइजिंग एवं सेल्‍स का काम संभालेंगी. उनकी रिपोर्ट आईटीवी के सीईओ आरके अरोड़ा को होगी.

जनसंदेश टाइम्‍स का जनरेटर खराब, चोरी की बिजली से चल रहा है काम

जनसंदेश टाइम्‍स, लखनऊ में मुश्किलों से जूझ रहा है. नैतिकता का लबादा ओढ़ने वाला मीडिया किस तरीके से अनैतिक हो रहा है, जनसंदेश टाइम्‍स उसका उदाहरण बन गया है. सूत्रों का कहना है कि जनसंदेश टाइम्‍स अब चोरी की बिजली से काम चला रहा है. यह काम पिछले तीन दिनों से चल रहा है. जनसंदेश टाइम्‍स पर बिजली विभाग का तेइस लाख रुपये से ज्‍यादा बकाया है. लिहाजा कई महीने पहले लेसा ने बकाया बिल जमा नहीं किए जाने पर बिजली काट दी थी. बिजली बिल का बकाया जनसंदेश टाइम्‍स के कसमांडा स्थित कार्यालय एवं सरोजनीनगर स्थि‍त प्रिंटिंग यूनिट दोनों पर था, इसलिए दोनों जगहों की बिजली काटी गई थी.

वरिष्‍ठ पत्रकार शीतल सिंह की मां प्रभावती देवी का निधन

दिल्‍ली के वरिष्‍ठ पत्रकार एवं व्‍यवसायी शीतल सिंह की माता प्रभावती देवी का मंगलवार की रात निधन हो गया. वे 79 वर्ष की थीं तथा कुछ समय से बीमार चल रही थीं. उनका इलाज सुल्‍तानपुर में चल रहा था, वहीं पर उन्‍होंने आखिरी सांस ली. उनका अंतिम संस्‍कार बुधवार को सुल्‍तानपुर में होगा. मूल रूप …

ओवैसी समर्थकों का आईबीएन7 एवं आजतक की ओवी वैन पर हमला

हैदराबाद। आंध्र प्रदेश के अदिलाबाद में एमआईएम समर्थकों ने आईबीएन7 और आजतक की ओबी वैन पर हमला किया है। एमआईएम के समर्थक विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी के भड़काऊ भाषण के बाद हुई गिरफ्तारी से बिफरे हैं। उन्होंने निर्मल हेडक्वार्टर कोर्ट के बाहर खड़ी दोनों चैनलों के ओबी वैन पर हमला किया। इस हमले में किसी को चोट नहीं पहुंची है। हालांकि ओबी वैन को नुकसान पहुंचा है। ओवैसी समर्थक मीडिया कवरेज से नाराज थे। उल्‍लेखनीय है कि ओवैसी के भड़काऊ भाषण से लेकर उसकी गिरफ्तारी तक के मामले की गतिविधियों पर मीडिया रिपोर्ट दे रहा था।

आज जारी होंगे टैम के आंकड़े

दो महीने तक मा‍नसिक चिंता से मुक्‍त रहे न्‍यूज चैनलों के कर्ताधर्ता बुधवार से फिर तनाव में दिखेंगे. टेलीविजन के दर्शकों के संख्‍या की निगरानी करने वाली एकमात्र भारतीय एजेंसी टैम मीडिया समाचार चैनलों के व्‍यूअरशिप के आंकड़े आज जारी करेगी. टैम की मारामारी के चलते तमाम चैनलों पर आरोप लगते रहते हैं कि वे खबरों को सनसनी बनाकर प्रस्‍तुत करते हैं. इसके पहले सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में भी टैम को व्‍यूअरशिप के आंकड़े जारी करने से मना किया था. 

वरिष्‍ठ पत्रकार ओम प्रकाश अश्‍क बने भारत दर्पण के कार्यकारी संपादक

दैनिक हिंदुस्‍तान में धनबाद के स्‍थानीय संपादक रहे वरिष्‍ठ पत्रकार ओम प्रकाश अश्‍क ने इस्‍तीफा दे  दिया है. वे अब अपनी नई पारी कोलकाता एवं दुर्गापुर से प्रकाशित अखबार पूर्वांचल भारत दर्पण के साथ शुरू कर रहे हैं. प्रबंधन ने उन्‍हें कार्यकारी संपादक नियुक्त किया है. कोलाकाता से अश्‍क की पुरानी जान पहचान है. लगभग 36 साल पहले इन्‍होंने अपने करियर की शुरुआत ही कोलकाता से की थी. वे लम्‍बे समय तक जनसत्‍ता के साथ जुड़े रहे. जनसत्‍ता छोड़ने के बाद यहीं से उन्‍होंने बिजनेस साप्‍ताहिक कारोबार खबर लांच किया.

तीन दिन की छुट्टी देकर बलराम शर्मा की नौकरी बचा ली थी शील ने

दैनिक जागरण में अमूमन सभी जगहों की यही स्थिति होती है कि कुछ खास मौकों की खबरों में थोड़ा हेरफेर करके इनके पत्रकार लिख देते हैं. अक्‍सर ऐसे मामले पकड़ में नहीं आ पाते हैं, क्‍योंकि लोग पढ़कर भूल जाते हैं. पर कुछ पाठक ऐसे भी होते हैं, जो हर खबर को गंभीरता से पढ़ते हैं. खबर दैनिक जागरण के हिसार संस्‍करण के भिवानी से है.

राडिया मामला : फोन टैपिंग के रिकार्ड के लिप्‍यंतरण का उच्‍च न्‍यायालय करेगा जांच

नई दिल्ली : सरकार ने आज कारपोरेट घरानों के लिये संपर्क का काम करने वाली नीरा राडिया की राजनीतिकों और टाटा समूह के पूर्व मुखिया रतन टाटा सहित तमाम कारपोरेट प्रमुखों के साथ बातचीत की 5800 टेलीफोन टैपिंग का लिप्यंतरण उच्चतम न्यायालय को सौंप दिया। न्यायालय ने कहा कि इसके विवरण पर गौर करने के बाद अगली कार्रवाई के बारे में निर्णय किया जायेगा। नीरा राडिया के टेलीफोन टैपिंग के अंश मीडिया में लीक होने के बाद देश की राजनीति में उबाल आ गया था। इससे कारपोरेट लॉबींग के स्वरूप और राजनीति पर उसके प्रभाव के तथ्य सामने आये थे।

आशीष शर्मा एवं अमित अवस्‍थी की नई पारी

अमर उजाला, मुरादाबाद से खबर है कि आशीष शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे सिटी डेस्‍क के इंचार्ज थे. आशीष ने अपनी नई पारी मुरादाबाद में ही हिंदुस्‍तान के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां पर चीफ सब एडिटर बनाया गया है. आशीष को यहां भी सिटी डेस्‍क की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. लोकल खबरों पर आशीष की अच्‍छी पकड़ है, लिहाजा प्रबंधन ने उन्‍हें यह जिम्‍मेदारी सौंप कर अखबार को मजबूत करने का दायित्‍व सौंपा है. आशीष इसके पहले भी कई संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

सहारा के पैंतरेबाजी से सरकारी विभागों के भी पसीने छूटे

नई दिल्‍ली : सहारा ग्रुप की कंपनियों के डिबेंचर में पैसे लगाने वालों को पैसे कब वापस मिलेंगे इसका किसी के पास कोई जवाब नहीं है। क्योंकि सहारा ग्रुप की पैंतरेबाजी से निवेशक ही नहीं बल्कि सरकार और उससे जुड़े विभाग के भी पसीने छूट गए हैं। अब सहारा ने डिबेंचर के कागजात लौटाने के लिए 6 हफ्तों का और समय मांगा है।

पाकिस्तान में एनडीटीवी के उमाशंकर सिंह का बैग चोरी

एनडीटीवी इंडिया के पत्रकार उमाशंकर सिंह इन दिनों पाकिस्तान में हैं और पाकिस्तानियों ने उन पर हाथ साफ कर दिया है. उनका बैग चोरी चला गया है. घटना लाहौर में हुई है. लाहौर के रेसकोर्स पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज कराकर लौटे उमाशंकर ने अपने साथ हुए हादसे का जिक्र फेसबुक पर किया है. Umashankar Singh ने लिखा है- ''just returned from Race Course Police Station in Lahore. lost my bag with some valuable professional things in it. feeling low 🙁 ''

कल तक ‘चैनल हेड’ थे, आज ‘वरिष्ठ सहयोगी’ बना दिए गए

(कानाफूसी) : राशिद हाशमी. इंडिया न्यूज चैनल के हेड हुआ करते थे. कल तक उनके फोनो पर उनके नाम के नीचे चैनल हेड लिखा होता था. आज से वरिष्ठ सहयोगी जाने लगा है. दीपक चौरसिया एंड कंपनी के इंडिया न्यूज आने के बाद इंडिया न्यूज में पहले से काम कर रहे लोगों के अंदर की बेचैनी देखने लायक हैं. सबके सब अनिश्चितता के माहौल में जी रहे हैं.

मजीठिया वेज बोर्ड पर अब 5 फरवरी को होगी सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट में पत्रकारों और गैर पत्रकार कर्मचारियों के लिए न्यायमूर्ति मजीठिया वेतन आयोग की सिफारिशों के खिलाफ दायर याचिका पर मंगलवार को भी कोई निर्णय नहीं हो सका. सुप्रीम कोर्ट में आज फैसला सुनाया जाना था, परन्‍तु एबीपी के अधिवक्‍ताओं ने इस मामले में कोर्ट से कुछ समय की मांग की. कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद सुनवाई की अगली तारीख 5 फरवरी तय की है. संभावना जताई जा रही है कि बहुप्र‍तीक्षित मजीठिया वेज बोर्ड पर कोर्ट इस दिन अपना फैसला सुना सकता है.

अमर उजाला, फैजाबाद के ब्‍यूरोचीफ रामा शरण अवस्‍थी लखनऊ अटैच

: राजेंद्र पांडेय संभाल रहे हैं जिम्‍मेदारी : अमर उजाला, फैजाबाद से खबर है कि ब्‍यूरोचीफ रामशरण अवस्‍थी को लखनऊ अटैच कर दिया गया है. हालांकि उनके अचानक लखनऊ अटैच किए जाने के कारण का तो पता नहीं चल पाया है, पर चर्चा है कि कुछ खबरें छूट जाने तथा उनके व्‍यवहार को लेकर की गई शिकायतों के चलते उन्‍हें लखनऊ बुला लिया गया है. रामा शरण के आने के बाद फैजाबाद की जिम्‍मेदारी सेकेंड पर्सन रहे राजेंद्र पाण्‍डेय देख रहे हैं. राजेंद्र की गिनती फैजाबाद के तेजतर्रार पत्रकारों में की जाती है. रामा शरण अवस्‍थी दैनिक जागरण में कार्यरत संत शरण अवस्‍थी एवं सदगुरु शरण अवस्‍थी के भाई हैं.

पुष्पांजलि बिल्डर के अय्याश निदेशक के गुर्गों ने मौके पर मीडियाकर्मियों के साथ अभद्रता की थी

मामला सिर्फ इतना नहीं है कि आगरा शहर के सबसे बड़े बिल्डर्स पुष्पांजलि कंस्ट्रक्शंस का निदेशक पुनीत अग्रवाल रंगरेलियां मनाते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया। बिल्डर के लोगों ने मौके पर कवरेज के लिए पहुंचे मीडियाकर्मियों से मारपीट और अभद्रता भी की थी, जिसके कारण मीडिया के लोगों का पारा गरम हुआ और बिल्डर की करतूत का अखबारों में खुलकर प्रकाशन हुआ। पनीत अग्रवाल के लिए रविवार को रंगरेलियों की महफिल शहर के सबसे प्रमुख बाजार संजय प्लेस स्थित विज्ञापन एजेंसी के दफ्तर में सजाई गयी थी।

एनसीआर से निकलने वाला ‘लोकसत्य’ अखबार बंद, कर्मियों को दो माह से वेतन नहीं

दिल्ली-एनसीआर से लगभग दो तीन बरस से निकल रहे हिंदी दैनिक लोकसत्य का प्रकाशन आज से बंद हो जाने की सूचना मिली है. दो महीने से यहां के कर्मियों को तनख्वाह नहीं मिली है. इस अखबार के मालिक राहुल शर्मा सरस और अनूप राय प्रसाद हैं. सूत्रों का कहना है कि अखबार के जरिए मालिकों ने तो अच्छा खासा पैसा बना लिया है लेकिन स्टाफ को सेलरी देने में इन्हें कष्ट होता है. दो महीने से तनख्वाह न मिलने से नाराज कर्मियों ने आज काम बंद करने का ऐलान किया. इस पर मैनेजमेंट ने अखबार ही बंद कर देने की घोषणा कर दी.

पत्रकार की कार चोरी, तीन दिन बाद भी पुलिस को नहीं मिली सफलता

सहारनपुर। सर्दियों की ठिठुरन में पुलिसकर्मी भले ही सिकुड़ गये हों लेकिन चोरों के हौसलों में कोई कमी नहीं आ रही है। सर्दी में पुलिस सुस्त, चोर मस्त की पंक्ति चरितार्थ हो रही है और हर रोज़ एक नयी घटना सामने आ रही है। शनिवार की रात थाना कोतवाली देहात क्षेत्र के रसूलपुर में रहने वाले पत्रकार रविश अहमद की मारुती कार 800 रजि. संख्या यूपी 14 एच 0036 रोजाना की भांति घर के सामने खड़ी की गई थी। रात में किसी समय अज्ञात चोरों ने उक्त कार पर हाथ साफ कर दिया।

इंडिया न्‍यूज में मनीष अवस्‍थी बनेंगे पॉलिटिकल एडिटर, प्रशांत भी जुड़ेंगे

सीनियर जर्नलिस्‍ट मनीष अवस्‍थी इंडिया न्‍यूज से जुड़ने जा रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि मनीष को इंडिया न्‍यूज में नेशनल पॉलिटिकल एडिटर बनाया जा रहा है. संभावना है कि वे भी 14 जनवरी के बाद चैनल ज्‍वाइन करेंगे. मनीष इसके पहले टीवी टुडे के आजतक चैनल के साथ बतौर डिप्‍टी एडिटर काम कर रहे थे. उनके पास ब्‍यूरोचीफ पद की जिम्‍मेदारी थी. वे आजतक के लिए महाराष्‍ट्र और गोवा को देख रहे थे. वे आजतक के लांचिंग के समय से जुड़े हुए थे. इसके पहले वे जी न्‍यूज के साथ काम कर चुके हैं. वे पिछले 16 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं.

जी न्यूज़ की इतनी बड़ी कर्तव्यनिष्ठा भी दिल्‍ली पुलिस को गैरकानूनी दिखी!

:   संकीर्ण कानून और बदलती सोच के बीच मीडिया की समस्या : कानून और सामाजिक समझ या आकांक्षा में अक्सर सामंजस्य नहीं होता. कई बार कानून काफी आगे की सोच लेकर बनते हैं लिहाजा समाज की तात्कालिक समझ से दूर हो जाते हैं जब कि अनेक ऐसे भी वक़्त आते हैं जब कानून पुरानी दिकियानूसी सोच से बंधा रहता है जबकि समाज की समझ काफी आगे बढ़ चुकी होती है. चूँकि भारतीय समाज संबंधों पर आधारित समाज है ना कि पश्चिमी समाज की तरह संविदा (कॉन्ट्रैक्ट) पर आधारित इसलिए लोगों का आचार-विचार या नैतिकता, मूल्य बनाने वाली संस्थाओं से तय होते हैं ना कि औपचारिक कानूनों से, खासकर उन कानूनों से जो पश्चिमी व्यवस्था की नक़ल होते हैं.

‘समाचार प्लस’ के स्टिंग ऑपरेशन का असर, चित्रकूट के ‘घूसखोर थानेदार’ पर FIR दर्ज

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के सर्वाधिक लोकप्रिय न्यूज़ चैनल 'समाचार प्लस' ने किया है एक बड़ा स्टिंग ऑपरेशन। चित्रकूट ज़िले के राजापुर थाने के थानेदार विवेक उपाध्याय का स्टिंग ऑपरेशन। इसमें बालू के ठेकेदार बने अंडर कवर एजेंट ने थानेदार साहब से अवैध बालू से भरे 500 ट्रकों को चित्रकूट क्षेत्र से बेरोकटोक आने-जाने देने के लिए गुज़ारिश की थी। इसके ऐवज़ में थानेदार विवेक उपाध्याय ने 50 हज़ार रुपए की घूस मांगी थी और वो ऐसा करते हुए 'समाचार प्लस' के खुफिया कैमरे पर रंगेहाथों पकड़ लिए गए।

”मेरे नाम से टीआरपी बढ़ाना चाहता है मीडिया, तो हम क्‍या करें?”

नई दिल्ली। आध्यात्मिक गुरु आसाराम का कहना है कि दिल्ली गैंग रेप पर दिए उनके बयान को मीडिया ने तोड़मरोड़कर दिखाया है। जिससे बदनामी की बू आ रही है। वो ऐसी बदनामी से नही डरते। आसाराम आज सोलापुर जिले के पंढरपुर में सत्संग कर रहे थे। कोई मेरे नाम से टीआरपी बढ़ाना चाहता है तो हम क्या करें? हम बद नही हैं तो बदनाम कैसे होंगे।

लाइन नेता देते हैं और हम उस पर कलम भांजकर खुश हो लेते हैं

: पुराने लय में आखिर कब लौटेंगे पत्रकार : पत्रकार होने के नाते मेरे समक्ष सबसे बड़ा सवाल उठ खड़ा हुआ है कि क्या हम सब अपने पुराने लय में लौटेंगे या फिर तेज रफ्तार में भागते सतही जानकारियां ही परोसते रहेंगे? एक जमाने में पत्रकार और उसकी पत्रकारिता को किस नजर से देखा जाता था और अब लोगों का क्या नजरिया है, यह किसी से छिपा नहीं है? जरूरत इसकी काट निकालने की है क्योंकि अगर ऐसे ही सतही जानकारियों के पीछे हम सब भागते रहे तो वह दिन दूर नहीं जब हमें यह सुनने को मिलेगा, भई आप किस दल या व्यक्ति के लाइन पर काम कर रहे हो।

एनबीएसए ने उत्‍पीड़न के मामलों में चैनलों को कवरेज के लिए गाइडलाइन जारी किया

नयी दिल्ली : ‘न्यूज ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड ऑथरिटी’ (एनबीएसए) ने समाचार चैनलों से यौन उत्पीड़न के मामलों की रिपोर्टिंग करते समय संवेदनशील रहने की अपील करते हुए कहा है कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को ऐसे दृश्य या ब्योरे नहीं दिखाने चाहिए जो पीडि़तों को दोबारा आहत करते हो या उनकी पहचान का खुलासा करते हो। उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति जेएस वर्मा की अध्यक्षता में हुई बैठक में एनबीएसए ने आज चैनलों को यौन उत्पीडऩ के मामलों की रिपोर्टिंग करने के लिए दिशानिर्देश जारी किये।

नईदुनिया में कृष्‍णपाल सिंह को नई जिम्‍मेदारी

नईदुनिया के इन्दौर संस्करण में लंबे समय से रीजनल डेस्क देख रहे कृष्णपाल सिंह जादौन को कोऑर्डिनेशन डेस्क का इंचार्ज बना दिया गया है। उन्हें नईदुनिया समूह के सभी संस्करणों और ब्यूरो से मिलने वाली महत्वपूर्ण खबरों का बेहतर उपयोग सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। साथ ही वे जागरण ग्रुप की सेंट्रल डेस्क …

अब दस हजार की सैलरी पाने वाले मीडियाकर्मी भी होंगे पीएफ दायरे में!

: अब तक यह सीमा 6500 रुपये है : नई दिल्‍ली : केंद्र सरकार भविष्य निधि (पीएफ) के लिए सैलरी सीमा को मौजूदा 6,500 रुपये से बढ़ाकर 10,000 रुपये करने की तैयारी कर रही है। इससे संगठित क्षेत्र के और ज्यादा कर्मचारियों को पीएफ कवरेज के दायरे में लाया जा सकेगा। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) की फैसले लेने वाली शीर्ष संस्था सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टी  (सीबीटी) की आगामी 15 जनवरी को होने वाली बैठक में इस प्रस्ताव को हरी झंडी दी जा सकती है। सीबीटी के एजेंडे में 'वेज सीलिंग' बढ़ाने के प्रस्ताव को लिस्ट किया गया है।

राणा यशवंत बनेंगे इंडिया न्‍यूज में ग्रुप मैनेजिंग एडिटर

वरिष्‍ठ पत्रकार एवं महुआ समूह के ग्रुप एडिटर राणा यशवंत ग्रुप मैनेजिंग एडिटर के पद पर इंडिया न्‍यूज ज्‍वाइन कर रहे हैं. वे यहां पर इंडिया न्‍यूज नेशनल चैनल के साथ समूह के पांच रीजनल चैनल के भी सर्वेसर्वा होंगे. उनके करीबी सूत्रों का कहना है कि वे 14 जनवरी के बाद अपनी नई जिम्‍मेदारी संभाल लेंगे. राणा यशवंत 1996-97 बैच के आईआईएमसी पास आउट हैं. बनारस के बीएचयू से शिक्षा ग्रहण करने वाले राणा यशवंत पत्रकार होने के साथ-साथ कवि भी हैं.

हिंदुस्‍थान समाचार के राष्‍ट्रीय प्रभारी श्रीकांत जोशी का निधन

नई दिल्ली। हिन्दुस्थान समाचार के संरक्षक व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के वरिष्ठ प्रचारक मा. श्रीकान्त जोशी का मंगलवार सुबह पांच बजे मुम्बई में निधन हो गया। वह 76 वर्ष के थे। उनका अंतिम संस्कार आज सायंकाल मुम्बई में होगा। श्री जोशी के निधन से हिन्दुस्थान समाचार सहित आरएसएस को गहरी छति पहुंची है। उनके निधन पर आरएसएस, भाजपा सहित कई सामाजिक व राजनीतिक संगठनों से शोक व्यक्त किया।

सुप्रीम कोर्ट में सहारा रिफंड मामले की समीक्षा आज

नई दिल्‍ली : उच्चतम न्यायालय की तरफ से 31 अगस्त को सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन और सहारा हाउसिंग इन्वेस्ट कॉरपोरेशन के खिलाफ दिए गए फैसले की समीक्षा मंगलवार को हो सकती है। यह समीक्षा याचिका आज न्यायमूर्ति के एस राधाकृष्णन के सामने रखी गई। सहारा के वकील ने इस पर हालांकि टिप्पणी से इनकार कर दिया। न्यायमूर्ति राधाकृष्णन और न्यायमूर्ति जे एस केहर के पीठ ने इन दोनों कंपनियों को निवेशकों को 24,029 करोड़ रुपये लौटाने का आदेश दिया था। यह रकम निवेशकों से ओएफसीडी के जरिए उगाही गई थी।

विशाल बने चीफ वीडियो एडिटर, आलोक, प्रियंका, पवन, कादंबिनी, ददन व सागर की नई पारी

हमार टीवी से खबर है कि विशाल पांडेय को चीफ वीडियो एडिटर बना दिया गया है. विशाल हमार टीवी की लांचिंग के समय से जुड़े हुए थे. विशाल की गिनती हमार के सबसे अनुभवी और तेजतर्रार वीडियो एडिटरों में की जाती है. कोलकाता में एबीपी समूह की वीडियो मैगजीन सानंदिता से अपने करियर की शुरुआत करने वाले विशाल कई राजस्‍थानी सिनेमा की एडिटिंग भी की है. वे ईटीवी के यूपी तथा बिहार की लांचिंग की टीम के सदस्‍य भी रहे. यहां से इस्‍तीफा देने के बाद वे बाम्‍बे चले गए जहां कई प्रोडक्‍शन हाउसों से जुड़े रहे. मुंबई से आने के बाद वे नोएडा में स्‍टार न्‍यूज के साथ जुड़ गए. यहां से इस्‍तीफा देने के बाद पांच साल पहले वे हमार टीवी चले आए थे, तब से यहीं पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं. 

किशोर कुमार सिंह बने पॉजीटिव मीडिया के ग्रुप एसाइनमेंट हेड

: पवन मिश्रा भी जुड़े : मतंग सिंह के पॉ‍जीटिव समूह के चैनल फोकस और हमार की रीलांचिंग होने के साथ ही यहां हलचल तेज हो गई है. इसके साथ ही नियुक्तियों का दौर भी शुरू हो गया है. समूह के साथ वरिष्‍ठ पत्रकार किशोर कुमार सिंह भी जुड़ गए हैं. उन्‍हें पॉजीटिव समूह का ग्रुप एसाइनमेंट हेड बनाया गया है. वे पॉजीटिव मीडिया के सभी छह चैनलों की जिम्‍मेदारी संभालेंगे. किशोर जबलपुर से संचालित नेशनल चैनल एसएमबीवी इनसाइट के इनपुट हेड के पद से इस्‍तीफा देकर यहां पहुंचे हैं.

महिलाएं भी करती हैं बलात्‍कार : वेद प्रताप वैदिक

इंदौर। लोग सोचते हैं कि महिलाएं ही बलात्कार का शिकार होती हैं मगर यह पूरी तरह सही नहीं है। पुरुषों को भी ऐसे अत्याचार झेलने पड़ते हैं। स्त्रियों द्वारा जबरदस्ती करने के मामले भी सामने आए हैं। दरअसल बलात्कार बलशाली द्वारा निर्बल पर की गई गंभीर हिंसा का मामला है। इससे निपटने के लिए पुरुष और महिलाओं को अलग-अलग नजरिए से देखने के बजाय हमें बलशाली द्वारा निर्बलों पर किए जाने वाले अत्याचार समाप्त करने के ठोस प्रयास करने होंगे।

अमर उजाला के एक्‍जीक्‍यूटिव एडिटर शंभूनाथ शुक्‍ला नोएडा पहुंचे

वरिष्ठ पत्रकार और अमर उजाला, मेरठ में एक्जीक्यूटिव एडिटर रहे शंभूनाथ शुक्ला ने नोएडा में अखबार ज्‍वाइन कर लिया है. श्री शुक्‍ल का तबादला पिछले दिनों मेरठ से नोएडा के लिए कर दिया गया था. सूत्रों का कहना है कि उनका रिटायरमेंट अगले साल फरवरी में है. इसलिए प्रबंधन ने उन्‍हें नोएडा अटैच किया है. वहीं दूसरी ओर उनके नजदीकियों का कहना है कि पत्रकारिता में कई दशकों से सक्रिय शंभू जी ने खुद अपना तबादला नोएडा मांगा था. उनके अनुरोध पर प्रबंधन ने उन्हें नोएडा बुला लिया.

वरिष्‍ठ पत्रकार श्‍याम कौल का निधन

नयी दिल्ली। वरिष्ठ पत्रकार श्याम कौल का आज यहां संक्षिप्त बीमारी के बाद उनके आवास पर निधन हो गया। वह 79 वर्ष के थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी, दो बेटियां और दो बेटे हैं। अपनी पेशेवर क्षमताओं के लिए जाने जाने वाले कौल लंबे समय तक कश्मीर से संबंधित घटनाक्रमों की रिपोर्टिंग से जुड़े …

इलाहाबाद में आठ पन्‍ने का कुंभ स्‍पेशल एडिशन लांच करेगा जागरण

: नौ जनवरी से शुरू किए जाने की संभावना : दैनिक जागरण, इलाहाबाद में चुपचाप प्रति‍द्वंद्वी अखबारों को हतप्रभ करने की तैयारियों में जुटा हुआ है. सूत्रों का कहना है कि नोएडा से विष्‍णु त्रिपाठी एवं लखनऊ से राजीव मिश्रा समेत कुछ और लोग पिछले दो-तीन दिनों से इलाहाबाद में डेरा जमाए हुए हैं. बताया जा रहा है कि ये लोग कुंभ के दौरान एक स्‍पेशल एडिशन की लांचिंग करने की योजना को अंजाम देने में जुटे हुए हैं. विष्‍णु त्रिपाठी के सुपरविजन में इस स्‍पेशल इशु को तैयार किया जा रहा है.

आज सुप्रीम कोर्ट में होगी मजीठिया वेज बोर्ड की फाइनल सुनवाई

: आनंद बाजार पत्रिका समूह ने दायर किया है पेटीशन : लम्‍बे समय से अपने अपने संस्‍थानों में मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिशों का इंतजार कर रहे पत्रकार तथा गैर पत्रकारों के लिए मंगलवार का दिन महत्‍वपूर्ण है. लम्‍बे समय से टलते आ रहे वेज बोर्ड की सिफारिश लागू करने के मामले में कल सुप्रीम कोर्ट में फाइनल सुनवाई होनी है. आनंद बाजार पत्रिका बनाम यूनियन ऑफ इंडिया के बीच चल रहे इस मामले में 8 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुनाने जा रहा है. कल पूरे देश के प्रिंट मीडिया के कर्मचारियों की निगाह सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर लगी होगी.

पत्रकार विनय डेविड को रिवाल्‍वर से धमकाकर फिरौती मांगी

भोपाल : मध्य प्रदेश की राजधानी में आजकल खुलेआम फिरौती, अड़ीबाजी का खेल चल रहा है। शहर के गुण्डे, बदमाशों ने बिल्डरों के साथ मिलकर अड़ीबाजी का खेल खेल रहे हैं। मामला तब उठा जब गोयल बिल्डर्स ने अपने तयशुदा गुण्डों के साथ विनय डेविड पत्रकार के ‘‘टाइम्स ऑफ क्राइम’’ कार्यालय में घुसकर विनय डेविड को रिवाल्वर अड़ाकर फिरौती के जबरिया 15 लाख रूपये मांगे व नहीं देने पर जान से मार देने की धमकियां दी, लगातार कई बार अपने गुण्डों से रिवाल्वर की नोक पर धमकाया जा रहा है।

दिल्ली गैंगरेप केस: मीडिया पर रोक के आदेश को चुनौती, पुलिस को नोटिस

  नयी दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने 16 दिसंबर को 23 वर्षीय छात्रा से सामूहिक बलात्कार के मामले में सुनवाई की रिपोर्टिंग करने से मीडिया पर पाबंदी के एक मजिस्ट्रेट की अदालत के आदेश के खिलाफ याचिका पर दिल्ली पुलिस से आज जवाब मांगा है।   जिला न्यायाधीश आर के गाबा ने सोमवार …

मीडिया को भी नहीं मिलेगी दिल्ली गैंगरेप की सुनवाई में रिपोर्टिंग की इजाजत

  दिल्ली गैंगरेप मामले की सुनवाई साकेत कोर्ट में अब दस जनवरी को होगी। सोमवार 7 जनवरी को इस मामले में सभी आरोपियों को चार्जशीट भी उपलब्ध कराई गई। इसके साथ ही इस मामले में नाबालिग आरोपी की जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड में भी सुनवाई टल गई जो अब 15 जनवरी को होगी। इन सबके बीच …

अगले वित्‍तीय वर्ष में लांच होगा श्रीटाइम्‍स का दिल्‍ली-एनसीआर एडिशन

श्री मीडिया समूह अब अपने प्रकाशनों के विस्‍तार की योजना को अंजाम देने की तैयारी कर रहा है. इस समूह ने प्रिंट, इलेक्‍ट्रानिक एवं वेबसाइट तीनों माध्‍यमों के साथ अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है. इस समूह का अखबार श्री टाइम्‍स का प्रकाशन लखनऊ से किया जा रहा है. सूत्रों का कहना है कि अब इस अखबार के दूसरे यूनिट को नोएडा से लांच करने की तैयारी की जा रही है. इस यूनिट से दिल्‍ली-एनसीआर समेत आसपास के कई जिलों के एडिशन प्रकाशित किए जाएंगे.

एबीसी ने दैनिक भास्‍कर, जालंधर का मेंबरशिप टर्मिनेट किया

एबीसी यानी ऑडिट ब्‍यूरो ऑफ सर्कुलेशन ने दैनिक भास्‍कर का मेंबरशिप टर्मिनेट कर दिया है. एबीसी ने जालंधर यूनिट को एबीसी के आर्टिकल 5ए के तहत अपने मेंबरशिप से टर्मिनेट कर दिया है. हिंदी में केवल दैनिक भास्‍कर के जालंधर यूनिट को टर्मिनेट किया गया है. वहीं उडिया भाषा के चार तथा मराठी के एक प्रकाशन को एबीसी ने टर्मिनेट किया है. उडिया में भुवनेश्‍वर से प्रकाशित वीकली 'द साप्‍ताहिक समय', दैनिक 'धरितरी', दैनिक 'ओडिसा भास्‍कर' एवं दैनिक 'द दिनलिपी' शामिल हैं. जबकि मराठी में जलगांव से प्रकाशित दैनिक 'गांवकरी' का मेंबरशिप टर्मिनेट किया गया है.  

मुकेश कुमार की कविताएं (साभार- शुक्रवार)

शुक्रवार पत्रिका में वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार की कई कविताएं प्रकाशित हुई हैं. कई चैनलों के संपादक रह चुके मुकेश कुमार हंस मैग्जीन में नियमित रूप से लिखते हैं. उन्होंने किताबें भी लिखी हैं. मुकेश कुमार इन दिनों मुख्य धारा की पत्रकारिता से दूर रहते हुए लखनऊ विश्वविद्यालय से पीएचडी करने में जुटे हुए हैं. लीजिए, मुकेश कुमार की कविताओं को पढ़िए…

नोएडा गैंगरेप : छोटों को शिकार बनाने के बजाय बड़े अधिकारियों पर क्‍यों नहीं हो रही कार्रवाई?

दिल्‍ली रेप कांड को लेकर पूरा देश उबल रहा है. हर किसी के आंखों में गुस्‍सा है. इसके बाद भी नोएडा पुलिस कानों में तेल डाले हुए अपने पुराने अंदाज में काम कर रही है. इतनी बड़ी घटना के बाद  भी नोएडा पुलिस ने एक लड़की के गायब होने की घटना को गंभीरता से नहीं लिया, जिसका परिणा गैंगरेप और उसकी हत्‍या की शक्‍ल में आया. दिल्‍ली गैंगरेप की शिकार युवती की मदद करने की घोषणा करने वाले यूपी के सीएम अखिलेश यादव के कानों तक भी नोएडा में हुए गैंगरेप की आवाज नहीं पहुंची. जबकि मायावती के शासनकाल में इन्‍हीं गैंगरेपों की घटनाओं पर पैर रखकर वे सत्‍ता तक पहुंचने में सफल रहे.

क्या सारी कालिख एक बार में उतर सकती है?

कहीं पढ़ी हुई एक लाइन याद आती है “भूख हड़ताल से शरीर को तो कष्ट होता है लेकिन आत्मा एकदम झकाझक ड्राइक्लीन हो जाती है”. यह वाक्य विभिन्न धर्मों में मौजूद व्रत उपवासों के संदर्भ में कहीं गई थी. जिसमें सारे पाप या बुरे कर्मों को कोई उपरवाला केवल इसलिए माफ कर देता है, क्योंकि उसने एक दिन उसके नाम से “भूखा” रह लिया. यानी कुछ भी करने के बाद केवल एक बार हल्का सा प्रयास करने मात्र से ही सारे आरोपों से बरी हो जाते हैं. इस व्यवस्था पर सोचने के बाद मन में सवाल उठने ही लगता है क्या इस तरह के फलसफे को अच्छा और सच्चा तरीका माना जाए. जो भी हो मन और उसके तर्क इस तरीके को मानने से बगावत कर देते हैं.

”ब्रिटिश अखबार को बेटी की पहचान उजागर करने की इजाजत नहीं दी थी”

नई दिल्ली : दिल्ली गैंगरेप मामले में मृत पीड़िता के पिता ने कहा है कि उन्होंने ब्रिटिश अखबार को बेटी का पहचान उजागर करने की इजाजत नहीं दी थी। डेली मिरर के रविवार के संस्करण दी संडे पीपल ने पीड़िता के पिता के हवाले से लिखा कि हम चाहते हैं कि दुनिया लड़की का नाम जाने। उन्होंने कहा कि मेरी बेटी ने कुछ गलत नहीं किया, अपना बचाव करते हुए उसकी मौत हुई और मुझे उस पर गर्व है। ब्रिटिश अखबार ने अपनी वेबसाइट पर पीड़िता का नाम एवं परिवार की फोटो प्रकाशित की। अखबार ने पीड़िता के पिता से उनके बलिया स्थित पैतृक गांव में बातचीत की।

सहारा समय में फर्जी मार्कशीट से बन गया गंजबसोदा काका संवाददाता

क्या आप सोच सकते हैं कि सहारा समय जैसे संस्थान में कोई फर्जी मार्कशीट के सहारे पत्रकार बन सकता है। लेकिन सच्चाई है यह। मध्य प्रदेश के विदिशा जिले के गंजबासोदा में जफर मोहम्मद कुरेशी ने बीकाम थ्री की फर्जी मार्क शीट के सहारे संवाददाता बनने में सफलता हासिल कर ली। जफर लगभग 8 वर्षों से गंजबासोदा में संवाददाता हैं। अब पत्रकारिता के नाम पर इनका काम भी सुन लीजिये। ये जनाब गंजबासोदा में सरकारी उचित मूल्य की दुकानें संचालित करते हैं ओर खाद्यान की काला बाजारी करते हैं। सहारा समय न्यूज़ चैनल इनकी रक्षा का शस्त्र है पत्रकारिता का नहीं।

अमर उजाला में सिटी इंचार्ज बने अरुण चंद, शैलेश आई नेक्‍स्‍ट से जुड़े

अमर उजाला, गोरखपुर से खबर है कि रिपोर्टर अरुण चंद को सिटी इंचार्ज बना दिया गया है. हालांकि अरुण को सिटी इंचार्ज बनाए जाने से सीनियर पत्रकार अंदर से काफी नाराज हैं. वरिष्‍ठों के इसी तरह के रवैये से नाराज बस्‍ती ब्‍यूरोचीफ पुष्‍कर पांडे ने इस्‍तीफा दे दिया था. बताया जा रहा है कि प्रबंधन में कुछ लोग दुर्गेश त्रिपाठी के खिलाफ माहौल बनाए हुए हैं. इधर, काम्‍पैक्‍ट में स्थिति तनावपूर्ण हो गई है.

अजय श्रीवास्‍तव आठवीं बार बने महाराजगंज प्रेस क्‍लब के अध्‍यक्ष

महाराजगंज में रविवार को प्रेस क्‍लब का चुनाव हुआ, जिसमें अजय श्रीवास्‍तव (प्रभारी स्‍वतंत्र भारत) आठवीं बार निर्विरोध अध्‍यक्ष चुन लिए गए. महामंत्री पद पर जगदीश गुप्‍ता तथा कोषाध्‍यक्ष पद पर संजय पांडेय का चयन किया गया. इनके अतिरिक्‍त सुधेश मोहन श्रीवास्‍तव उपाध्‍यक्ष, विनोद कुमार गुप्‍त संगठन मंत्री तथा शमशुल हुदा आय-व्‍यय निरीक्षक बनाए गए.

सीएम का पीएस बनकर फोन करने वाला फर्जी पत्रकार गिरफ्तार

: आखिर ऐसे लोगों को कौन बनाता है पत्रकार? : लखनऊ। आखिर ऐसे लोगों को पत्रकार कौन बनाता है? और क्यों ऐसे लोगों को पत्रकारिता जगत में लाया जाता है। जिनका न कोई सामाजिक उद्देश्य होता है और न तो कोई मर्यादाएं। एक तरफ पत्रकारिता जगत में जहां लोग अपनी लेखनी को दबाने पर नौकरी से त्याग पत्र देने का कार्य करते हैं वही इन जैसे लोगों के कारण पत्रकारिता की छवि दिन-प्रतिदिन धूमिल होती जा रही है। दरअसल इनको पत्रकारिता से लेना-देना कुछ नही बस इनको पत्रकार का एक ठप्पा चाहिए जिससे ये अपने व्यक्तिगत कार्य को कराते रहें। पकड़े जाने पर ये पत्रकार का रौब गांठकर बड़े आराम से निकल जाते हैं। लेकिन गौर करें तो चंद अफसरों ने अपने ऊपर रिस्क लेकर इन पत्रकारों को जेल की हवा खिलाने का कार्य किया है जो अपने आप में एक अनूठा कदम है।

सहारा ने मॉरीशस के रास्‍ते भेजा लग्‍जरी होटल खरीदने का पैसा

: ईडी कर रहा है जांच : सहारा ग्रुप को विदेशी डील के लिए कैसे फंड मिलते रहे हैं, इसका पता एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट (ईडी) ने लगा लिया है। दिसंबर 2010 में सहारा ने रॉयल बैंक ऑफ स्कॉटलैंड (आरबीएस) से 47 करोड़ पाउंड लेकर लंदन में ग्रोसवेनर हाउस खरीदा था। उसकी यह विदेशी डील देशी-विदेशी मीडिया की सुर्खियों में रही थी, जिससे ईडी का ध्यान इसके फाइनेंसिंग सोर्स पर गया। ईडी आरबीआई की मंजूरी बगैर विदेशी डील करने के चलते पहले से ही इस ग्रुप के पीछे लगा था।

दिल्ली गैंगरेप: युवती का नाम बताया पिता ने, फोटो छिपाने की अपील

 

 
दिल्ली गैंगरेप मामले में इसके चश्मदीद अवींद्र पांडे के मीडिया के सामने आने के बाद अब इस घटना की भेंट चढ़ी युवती के पिता भी दुनिया के सामने आ गए हैं। उन्होंने पहली बार एक अंग्रेजी अखबार से की गई बातचीत में अपनी बेटी और उसके दर्द की सच्चाई को बयां किया है। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी ने अपनी आत्मरक्षा में प्राण गंवाए हैं। वह चाहते हैं कि उनकी बेटी का नाम दुनिया जाने और उन सभी को उससे हिम्मत मिले जो आए दिन इस तरह की घिनौनी हरकतों का सामना करती हैं।
 
एक अंग्रेजी अखबार से की गई बातचीत में उन्होंने युवती के पिता ने बताया कि उन्हें गर्व है कि उनकी बेटी ने बहादुरी से उन दरिंदों का सामना किया। उन्होंने अपनी बेटी का नाम भी बताया है और कहा है कि दुनिया को उसका नाम जानना चाहिए, क्योंकि उनकी बेटी ने कोई गलत काम नहीं किया है। वह अपनी जान की हिफाजत करते हुए मरी है और दुनिया की दूसरी औरतों के लिए प्रेरणास्त्रोत बन सकती है।
 
इस बातचीत में उन्होंने अपनी बेटी के नाम को उजागर करने की अनुमति देने के साथ उसका फोटो कहीं भी न दिखाए जाने की अपील भी मीडिया से की। उन्होंने महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों में मौजूदा कानूनों को नाकाफी बताते हुए उनमें बदलाव की आवश्यकता पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि इन अपराधों को रोकने वाले कानून को उनकी बेटी का नाम दिए जाने से उन्हें कोई एतराज नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि ऐसा होता है तो यह उसके लिए एक सम्मान की बात होगी।
 
अपनी इस बातचीत में उन्होंने उस वक्त का भी जिक्र किया जब वह जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही थी। उन्होंने कहा कि बेइंतहा पीड़ा सहने के बाद भी वह जब उसके पास होते थे, तब वह खुश होती थी। उन्होंने कहा कि उस खौफनाक रात को वह और उनकी पत्नी बेटी के ग्यारह बजे तक घर न पहुंचने से परेशान थे। उन्होंने उसके और अवींद्र के मोबाइल पर भी फोन किया लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। बाद में उन्हें करीब सवा ग्यारह बजे अस्पताल से फोन आया जिसमें बताया गया कि उनकी बेटी के साथ कोई हादसा हुआ है। वह तुरंत वहां गए और बाद में उन्होंने अपनी पत्नी और दोनों बेटों को भी वहां बुला लिया।
 
उन्होंने बताया कि जिस दौरान उनकी बेटी अपने बयान दे रही थी तो उनकी इतनी हिम्मत नहीं थी कि वह उसको सुन सकें, लिहाजा वह वहां नहीं रुक पाते थे। बाद में उनकी पत्नी उन्हें इसकी जानकारी देती थी। लेकिन वह इतने खौफनाक थे कि उन्हें यहां पर बयान नहीं किया जा सकता है। इस भारत की बेटी के पिता ने उन खबरों का भी खंडन किया जिसमें युवती के अपने पुरुष मित्र से शादी करने की बात कही जा रही थी। उन्होंने साफ कहा कि यह संभव ही नहीं था क्योंकि वह अलग अलग जाति के थे। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी डाक्टर बन कर अपने परिवार को बेहतर जिंदगी देने की ख्वाहिशमंद थी।
 
गौरतलब है कि 16 दिसंबर की रात को दिल्ली में चलती बस में गैंगरेप के बाद छह आरोपियों युवती और उसके मित्र को चलती बस से बाहर फेंक दिया था। इसके बाद दोनों को ही दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन युवती की हालत बेहद खराब होने के बाद उसको सिंगापुर के अस्पताल में बेहतर इलाज के लिए भेजा गया था, जहां उसकी मौत हो गई। इस घटना के सामने आने के बाद से ही इसको लेकर प्रदर्शन का दौर जारी है। (जागरण)

हर दिन एक न्यूज़ चैनल होता है सूचना और प्रसारण मंत्री की निगरानी में

  खबर है कि सूचना और प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी इन दिनों भारत के सभी न्यूज़ चैनलों की निगरानी में जुटे हैं। इंडियन एक्सप्रेस की वेबसाइट पर छपी खबर की मानें तो मंत्री जी हर रोज एक चैनल को अपनी निगरानी में रखते हैं और उसे ही ऑफिस या घर हर जगह देखते रहते हैं। …

कहते कहते बहुत कुछ कह गए लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार अजय कुमार (देखें वीडियो इंटरव्यू)

लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार अजय कुमार ने जीवन व पत्रकारिता के हर रंग देखे हैं. भावुक, सरल और सहज किस्म के इंसान अजय कुमार एक जमाने में माया पत्रिका के पर्याय हुआ करते थे. ब्यूरो के चीफ रूप में उन्होंने लंबी पारी माया मैग्जीन के साथ खेली. करियर की शुरुआत उन्होंने स्वतंत्र भारत अखबार से की थी. इन दिनों चौथी दुनिया के लिए काम कर रहे हैं.

आईपीएस राजेश मीणा अफसरों की धड़ेबाजी और सियासी गणित के चक्कर में फंसे!

राजनीतिक हलकों में एक सवाल यह उठ है कि क्या एसपी मीणा के मीणा समाज के प्रमुख नेता किरोड़ी लाल मीणा के साथ कोई कनैक्शन थे? यह सवाल इस वजह से उठा है क्योंकि जैसे ही वे पकड़े गए, मीणा समाज के स्थानीय नेताओं ने मौके पर पहुंच कर किरोड़ी लाल मीणा को जानकारी देने के लिए उनसे संपर्क करने की कोशिश की। क्या यह प्रयास महज समाज के एक बड़े अफसर को राजनीतिक षड्यंत्र में फंसाए जाने के सिलसिले में किया गया? इसी से जुड़ा सवाल ये भी है कि स्थानीय नेताओं ने स्वत:स्फूर्त प्रदर्शन किया अथवा किसी के इशारे पर?

तीन साल पहले जब मेरे साथ गैंगरेप हुआ (सोहेला अब्दुलाली की दास्तान)

तीन साल पहले मेरा गैंगरेप हुआ था, उस वक्त मैं 17 साल की थी. मेरा नाम और मेरी तसवीर इस आलेख के साथ प्रकाशित हुए हैं. 1983 में मानुशी पत्रिका में. मैं बंबई में पैदा हुई और आजकल यूएसए में पढ़ाई कर रही हूं. मैं बलात्कार पर शोधपत्र लिख रही हूं और दो हफ्ते पहले शोध करने घर आयी हूं. हालांकि तीन साल पहले भी जब मेरे साथ यह हुआ था, मैं रेप, रेप के अभियुक्तों और पीड़ितों को लेकर लोगों में फैली गलत धारणाओं के बारे में समझती थी. मुझे उस ग्रंथि का भी पता था जो पीड़ित के मन के साथ जुड़ जाती हैं. लोग बार-बार यह संकेत देते हैं कि अमूल्य कौमार्य को खोने से कहीं बेहतर मौत है. मैंने इसे मानने से इनकार कर दिया. मेरा जीवन मेरे लिए सबसे कीमती है.

कन्फ्यूशियस की सलाह- रेपिस्ट के चंगुल में फंसें तो विरोध करें, वे न मानें तो इंज्वाय करें

प्रसिद्ध चीनी दार्शनिक कन्फ्यूशियस बलात्कार के बारे में कहा है कि अगर कोई स्त्री बलात्कारियों के चंगुल में फंस जाये तो पहले तो उसे उन बलात्कारियों का विरोध करना चाहिये. पर जब लगे कि विरोध करने से भी उनके इरादे बदले नहीं जा सकते, तो फिर स्त्री को बलात्कार का मजा लेना चाहिये. निश्चित तौर पर यह एक बहुत क्रूर सलाह है. क्योंकि मजा तो स्त्रियां अपने पति की जबरदस्ती का भी नहीं ले पातीं. हालांकि वे अनिच्छा से बरसों इसे झेलती रहती हैं. अधिकांश मामलों में मना भी नहीं करतीं और पति समझ भी नहीं पाता कि इतने सालों तक उसने अपनी पत्नी के साथ जो किया वह प्रेम नहीं बल्कि शारिरिक अत्याचार था. खैर, वह अलग संदर्भ है, यहां संदर्भ दूसरा है.

ओम थानवी का सवाल- उस वक्त दिल्ली के साहित्यकार कहां थे?

कृष्णा सोबती हिंदी की शान हैं। उन्होंने हिंदी को नई भंगिमा दी है। उनका कथा-साहित्य भी अपनी साफगोई और ठसक के लिए पहचाना जाता है। हिंसा भरे साल की ढलती घड़ियों में जब देश जगह-जगह उम्मीद के दीये जला रहा था, कृष्णा जी ने एक दीया ‘जनसत्ता’ के पहले पन्ने पर रखने के लिए हमें भेजा। मेरे लिए संपादक के नाते वह क्षण अनमोल था।

भास्कर के पूर्व संपादक एन.रघुरमन ने हिंदी पत्रकारों से किताब लिखवाकर अपने नाम से छपवाई!

इंदौर। साहित्य के क्षेत्र में भी चोरी तो खैर पुरानी बातें हैं, लेकिन 21 वीं सदी में अब साहित्यिक धोखाधड़ी का खेल भी शुरू हो चुका है। मार्केटिंग वाले इस युग में कुछ लोग पैसे के दम पर कंटेंट खरीदकर अपना नाम चस्पा कर देते हैं। ठीक वैसे ही जैसे कई कंपनियां माल नहीं बनाती केवल अपना लेबल लगाकर बाजार में बेच देती है। हाल ही में भास्कर समूह के म.प्र. संपादकीय हेड रहे कथित मैनेजमेंट गुरु ने ऐसा गुरु घंटालपना किया कि लोग उनके शातिरपन की दाद देने लगे।

कैंसर के कारण गई एनडीटीवी जर्नलिस्ट ओम प्रकाश की जान

वरिष्‍ठ पत्रकार और एनडीटीवी इंडिया के छत्‍तरपुर (एमपी) संवाददाता ओम प्रकाश तिवारी का निधन कैंसर के कारण हुआ था. उनका 3 जनवरी को निधन हुआ.  वे 44 साल के थे. पिछले छह महीनों से उनका मुंबई में उपचार चल रहा था. उनका निधन घर पर हुआ. लगभग बीस वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय श्री तिवारी ने करियर प्रिंट मीडिया से शुरू की थी और बाद में विभिन्‍न चैनलों में रहे.

दैनिक जागरण की पीत पत्रकारिता के खिलाफ अग्रवाल महासभा की बैठक

: आज पुनीत को फंसाया, कल किसी को भी फंसा सकते हैं : ईंट का जवाब पत्थर से देंगे, मीडिया मर्यादा का पालन करें : आगरा। अग्रवाल महासभा की बैठक में दूसरे दिन भी पुष्पांजलि समूह के निदेशक पुनीत अग्रवाल के मामले पर भारी आक्रोश जताया गया। एक स्वर से कहा गया कि आज पुनीत अग्रवाल को फंसाया गया है, यदि चुप बैठे तो  कल किसी निर्दोष को फंसाया जा सकता है। समाज के लोग इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। ईंट का जवाब पत्थर से देंगे।

हिंदुस्‍तान से चेतन आनंद का इस्‍तीफा, महकार ढिल्‍लन नए ब्‍यूरो चीफ

: एनई सुनील द्विेदी ने किया बारहवां शिकार : हिंदुस्‍तान, नोएडा से खबर है कि चेतन आनंद की विदाई हो गई है. वे न्‍यूज एडिटर के अगले शिकार बने हैं. चेतन आनंद नोएडा के ब्‍यूरोचीफ थे. चेतन ने हिंदुस्‍तान को अलविदा कहते हुए गाजियाबाद से ही प्रकाशित साध्‍य दैनिक युग करवट का दामन थाम लिया है. शुक्रवार को चेतन आनंद ने युग करवट ज्‍वाइन किया. युग करवट ने बाकायदा चेतन आनंद के फोटो समेत यह खबर प्रकाशित की. इधर, हिंदुस्‍तान, नोएडा के ब्‍यूरो की कमान महकार ढिल्‍लन को सौंप दिया गया है. 

बदायूं में पत्रकारों को मिलेगा मकान, नाम लिखाने की होड़!

: नाम, नम्‍बर पाने के लिए फैलाई गई थी अफवाह : वाकई, लालच में बड़ी शक्ति होती है। असलियत में हुआ यह कि उत्तर प्रदेश के सूचना विभाग ने समस्त जिलों के सूचना कार्यालयों से सक्रिय पत्रकारों की नाम, नंबर और पते सहित सूची मांगी है। निर्धारित अवधि के अन्दर सूचना भेजनी थी, लेकिन सूचना कार्यालय बदायूं के कर्मचारी के कई-कई बार फोन करने के बावजूद पत्रकार कार्यालय आकर जानकारी नहीं दे रहे थे। इसी बीच यह अफवाह फ़ैल गई कि सपा सरकार जिलों के सक्रिय पत्रकारों को आवास देने जा रही है और आवास उन्हीं को मिलेंगे, जिनका सूचना कार्यालय की सूची में नाम होगा।

ब्रिटिश टेबलाइड संडे मिरर ने गैंगरेप पीड़िता, पिता, प्रेमी का नाम खोला, ये है लिंक

ब्रिटिश टेबलाइड संडे मिरर ने दिल्ली में दरिंदगी का शिकार बनी लड़की, उसके पि ता, उसके प्रेमी, उसके होम टाउन आदि के बारे में सब कुछ खुलासा कर दिया है. अखबार ने सिलसिलेवार तरीके से उस दिन के सारे घटनाक्रम को भी सामने रखा है. उत्तर प्रदेश में बलिया के रहनेवाले गैंगरेप पीड़िता के पिता ने बताया कि उस रात जो लड़का उनकी लड़की के साथ था वह केवल जान पहचानवाला था, इससे ज्यादा कुछ नहीं.

अजमेर का घूसखोर एसपी गिरफ्तार, एएसपी फरार और मंथली देने वाले 12 थानेदार निलंबित

: राष्ट्रपति पदक से सम्मानित होना था गंणतंत्र दिवस पर : रेप कांडों के चलते दब गई भ्रष्टचारी पुलिस की खबर : दिल्ली में हुए गैंगरेप के बाद उजागर हो रहे एक के बाद एक रेप कांडों की खबरों के बीच अजमेर में पुलिस भ्रष्टाचार की इस अनोखी गाथा की खबर राष्ट्रीय स्तर पर दब सी गई है। अजमेर संभवतः देश का पहला जिला होगा जहां का जिला पुलिस अधीक्षक राजेश मीणा भ्रष्टाचार के आरोप में रंगे हाथों रकम सहित गिरफ्तार किया गया, उसके कुछ घंटों बाद ही जिले का अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक लोकेश सोनवाल पकड़े जाने के डर से फरार हो गया। अगले दिन ही एसपी को मंथली बंधी देने वाले एक दर्जन थानाधिकारियों को लाइन हाजिर कर दिया गया। उनकी जगह दूसरे जिले से थानाधिकारी बुलाने पड़े और जयपुर पुलिस मुख्यालय से नए थानाधिकारी लगाने के लिए कहना पड़ गया।

पीएनएन से इस्‍तीफा देकर अनंत पालीवाल ने मीडिया गुरु ज्‍वाइन किया

नोएडा स्थित पर्ल्‍स समूह के पीएनएन से खबर है कि अनंत पालीवाल ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर कंपनी के वेबसाइट सेक्‍शन को अपनी सेवाएं दे रहे थे. पर्ल्‍स समूह पी7 न्‍यूज समेत कई पत्रिकाओं का भी प्रकाशन करता है. अनंत ने अपनी नई पारी मीडिया गुरु के मेरी खबर डॉट कॉम और माई न्‍यूज डॉट काम से शुरू की है. वे भोपाल में अपनी सेवाएं देंगे. अनंत को प्रिंसिपल करेस्‍पांडेंट बनाया गया है. मीडिया गुरु के साथ अनंत की यह दूसरी पारी है.

मीडिया और माफियाओं की जकड़ में है देश

: प्रेस क्‍लब में 'शील पर बयानों के शूल’ टॉक शो का आयोजन : इंदौर। इंदौर प्रेस क्लब में टॉक शो ‘शील पर बयानों के शूल’ का आयोजन किया गया। टॉक शो में तमाम वक्ताओं ने देश के नेताओं से मर्यादित आचरण रखने और सोच-समझकर बोलने का आग्रह किया। यह तथ्य भी सामने आया कि सुनियोजित तरीके से देश की युवा पीढ़ी को भ्रष्ट करने का काम किया जा रहा है।

निशांत से बातचीत में बोलीं वृंदा करात- कोलकाता और केंद्र में ज्यादा फासला नहीं

न्यूज एक्सप्रेस चैनल पर ''ये हुई ना बात'' कार्यक्रम में चैनल हेड निशांत चतुर्वेदी ने सीपीएम नेता और सांसद बृंदा करात से कई मुद्दों पर विस्तार से बातचीत की. वृंदा करात पहली महिला मेंबर हैं सीपीएम पोलित ब्यूरो की. निशांत ने जब वृंदा करात से पूछा कि आपकी पार्टी सीपीएम का अगला लक्ष्य क्या है, केंद्र या कोलकाता? तो वृंदा ने जवाब दिया- ''कोलकाता और केंद्र में ज्यादा फासला नहीं है.. हमारी पार्टी का मेन लक्ष्य है कि हम कैसे जो संर्घष चला रहे हैं उसे और तेज करके समाज के परिवर्तन को हम कैसे आगे बढ़ाएं.''

पगार किस चिडि़या का नाम है, नहीं जानते इंडिया न्‍यूज के स्ट्रिंगर

एक तरफ इंडिया न्‍यूज में बड़े-बड़े लोगों के जुड़ने की खबरें चल रही हैं. दीपक चौरसिया तथा पुण्‍य प्रसून बाजपेयी समेत तमाम लोग इंडिया न्‍यूज से जुड़ने जा रहे हैं तो दूसरी तरफ इंडिया न्‍यूज के स्ट्रिंगर पिछले 18 महीनों से अपने पगार के लिए तरस रहे हैं. दीपक चौरासिया ने बहुत बड़ा दांव खेला है. सब टकटकी लगा कर उनकी ओर देख रहे हैं. चौरासिया जी को मालिकों ने हिस्सा-पत्ती भी दी है. खैर, इससे हमें कुछ नहीं लेना देना हम तो चैनल के छोटे से सिपहसालार हैं, जिन्‍हें सुबह उठते ही रात को लिखवाए डे प्लान पर अपडेट, फिर पल पल की रिपोर्ट और ताजा से ताजा खबरें भेजनी होती हैं. ताजा टिकर भेजने होते हैं. कब शाम हो जाती है कब रात हमे कुछ नहीं पता चलता. अगले दिन वही दिनचर्या.

‘बुरा’ पत्रकार सुधीर चौधरी आया और छा गया, कहां गए महान पत्रकार… : यशवंत सिंह

Yashwant Singh : जब सारे महान, खोजी, सरोकारी और टीआरपीबाज पत्रकार सरकारी गाइडलाइन से अघोषित तौर पर आतंकित होने के कारण गैंगरेप कांड को भुलाने की तैयारी कर बैठे थे और धीरे-धीरे दूसरे मुद्दों पर शिफ्ट हो रहे थे, तभी एक 'बुरा' पत्रकार आया और ऐसा कर गया कि लोग उसकी हिम्मत की दाद दे रहे हैं. पीड़ित की पहचान उजागर न करने के सरकारी गाइडलाइन की परवाह न करने के पीछे जी न्यूज के मालिकों का भी सुधीर चौधरी को सपोर्ट रहा होगा, तभी यह संभव हो पाया पर दूसरे चैनल उस लड़के के चेहरे को ब्लर करके तो इंटरव्यू दिखा ही सकते थे.

दिलीप सिंह महुआ टीवी से जुड़े

दिलीप सिंह महुआ टीवी से जुड़ गए हैं. उन्‍हें चैनल में प्रोड्यूसर बनाया गया है. दिलीप सिंह इसके पहले भोजपुरी न्‍यूज चैनल हमार टीवी के साथ प्रोग्रामिंग में कार्यरत थे. वे हमार टीवी के लिए कई कार्यक्रम बना रहे थे. इसके पहले वे बालाजी के साथ लम्‍बे समय तक जुड़े रहे हैं. दिलीप सिंह ने …

दैनिक जागरण के पत्रकार जुबेर अहमद के गोदाम पर छापेमारी

चंदौली जिले से खबर है कि मुगलसराय में दैनिक जागरण में संवाद सूत्र के रूप में काम करने वाले जुबेर अहमद के रिहाइशी बस्‍ती में संचालित हो रहे हड्डी और चमड़े के गोदाम पर सीओ और एसडीएम सदर के नेतृत्‍व में छापेमारी हुई. इस गोदाम का संचालन जुबेर का परिवार करता है. जबकि दैनिक जागरण के ब्‍यूरोचीफ इस बात से इनकार करते हैं कि जुबेर उनके अखबार से जुड़े हुए हैं. जानकारी के अनुसार मुगलसराय के कसाब महाल में पशुओं के हड्डी और चमड़े का कारोबार होता है. इस मामले में स्‍थानीय लोगों ने दर्जनों बाद इसकी शिकायत की, परन्‍तु अखबार की हनक के चलते पुलिस एवं प्रशासन कार्रवाई करने से हमेशा हिचकता रहा है.

प्रेस की समस्‍याओं को छोड़कर सभी मामलों पर बोलते हैं जस्टिस काटजू

कुछ समय पहले तक लोगों की आम धारणा थी कि जस्टिस मार्कंडेय काटजू अच्‍छे आदमी हैं तथा अच्‍छे और कठोर फैसले सुनाते हैं. लोगों को देश के बजबजा चुके सिस्‍टम में काटजू राहत पहुंचाते नजर आते थे. रिटायरमेंट के बाद जस्टिस काटजू को जब पीसीआई यानी प्रेस काउंसिल आफ इंडिया का अध्‍यक्ष बनाया गया तो लगा कि इस नख-दंत विहीन संस्‍था से कम से कम पत्रकारों को राहत मिलेगी. जस्टिस काटजू ईमानदारी से सारी बातों को देखेंगे और गलत करने वाले अखबारों-संस्‍थानों को नसीहत देंगे, पत्रकारों के हितों की रक्षा करेंगे.

नोएडा में युवती का हो गया रेप और मर्डर, पुलिस कहती रही जवान है चली गई होगी कहीं

: ग्रेटर नोएडा में भी पुलिस के डर से गांव छोड़ चुका है रेप की शिकार छात्रा का परिवार : नई दिल्ली। दिल्ली में हुए गैंगरेप के बाद केंद्र और राज्य सरकारें भले ही पुलिस को चुस्त दुरुस्त करने का दावा करें लेकिन दिल्ली से सटे नोएडा में उसकी पोल खुल गई। यूपी के सीएम दिल्‍ली पीडिता की मदद की बातें कर रहे थे लेकिन नोएडा में एक युवती की बलात्‍कार के बाद हत्‍या कर दी गई, पर अब तक उनकी पुलिस बलात्‍कारियों एवं हत्‍यारों के बारे में पता नहीं लगा पाई है। यह लड़की नोएडा में एक निजी कंपनी में काम करती थी। बलात्कार के बाद इसकी हत्या कर दी गई। इस लड़की के शरीर पर गंभीर चोट के निशान हैं।

मीडिया की लड़ाई मुद्दों की नहीं सिर्फ टीआरपी की है

इन दिनों भीड़ कौन बनाता है- फेसबुक, ट्विटर या टीवी के खबर चैनल या अखबार? क्या मीडिया के लिए अव्याख्येय भीड़ ‘प्रश्नों से परे और पूज्य’ होती है? क्या मीडिया कथित ‘स्वत:स्फूर्त भीड़’ को अपनी व्याख्या देकर उसे दिशा देता है? क्या मीडिया के दिनों में कोई आंदोलन स्वत:स्फूर्त हो सकता है? क्या फेसबुक और ट्विटरित असहिष्णुता से प्रेरित ‘मारो-काटो’ भाववाली ‘उन्मद भीड़’ पैदा नहीं कर रहे हैं? क्या उन्माद में पनपे तुरंता फांसी देने की जिद उस अपेक्षित धैर्य और जनतंत्र के लिए जगह छोड़ती थी, जिसके बिना उस निरीह बलात्कृता या अन्य अन्यायित स्त्रियों को न्याय मिलना मुश्किल है? क्या यह क्षुब्ध भीड़ सहज स्वत:स्फूर्त थी या कि वह ‘जो तेरा है वह मेरा है’ वाली रिंग टोन जैसी साइबर हमदर्दी से पैदा हई थी?

व्‍यवस्‍था के दबाव से बचें पत्रकार : राजेश जोशी

हल्द्वानी : उत्तराखंड मुक्त विवि में शनिवार को पत्रकारिता व शोध छात्रों के लिए व्‍याख्‍यान आयोजित किया गया, जिसमें बीबीसी हिंदी सेवा के वरिष्ठ पत्रकार राजेश जोशी व टीवी-रेडियो की वरिष्ठ पत्रकार ऋचा पंत ने व्याख्यान दिया। छात्रों को संबोधित करते हुए जोशी ने मीडिया और व्यवस्था के द्वंद्व का जिक्र किया। कहा कि समाज का परावर्तन ही मीडिया में झलकता है। जैसा समाज होगा वैसी ही पत्रकारिता होगी। पत्रकारों को देश और राष्ट्रीयता से उपर उठकर काम करना होगा। शोध छात्रों से उन्होंने कहा कि अखबारों में छपी हर बात को आप सही न मानें और उसे चेक जरूर करें।

हमार-फोकस के कर्मियों को नहीं मिला बकाया पीएफ, मिल कर करेंगे कार्रवाई

    हमार टीवी और फोकस टीवी से नाता तोड़ चुके मीडियाकर्मियों ने चैनलों के मालिक मतंग सिंह से अपना बकाया पीएफ वसूलने के लिए एक साझा अभियान चलाने का फैसला किया है। ग़ौरतलब है कि दोनों चैनलों के कर्मियों का पीएफ करीब साढ़े चार साल से उनकी तनख्वाह में से कट रहा था जबकि …

जीजा पर कार्रवाई होने से नाराज साले ने छापी खबर, बवाल

: कानाफूसी : जागरण में गुरुवार को प्रकाशित एक खबर से बवाल मचा हुआ है। खुन्‍नस में इस खबर को छापने वाले सलेमपुर प्रभारी को भी काफी खरी खोटी सुननी पड़ी है। बताया जा रहा है कि पिछले शनिवार को थाने कैंपस में दैनिक जागरण सलेमपुर कार्यालय के प्रभारी संजय यादव के जीजा लार थाना क्षेत्र के हरखौली गांव निवासी दयाशंकर यादव थाने में विरेन्द्र नाम के सिपाही को गाली गालौज देते हुए थप्पड़ जड दिया था। सिपाही के तहरीर पर थानाध्‍यक्ष ने पत्रकार के जीजा पर केस दर्ज कर जेल भेज दिया। जो इन दिनों भी जेल में हैं।

आवंटित जमीन बेचने वाले पत्रकारों के खिलाफ कोर्ट जाएगा काशी पत्रकार संघ

वाराणसी। चुप्पेपुर स्थित वाराणसी पत्रकारपुरम में नियम विरुद्ध बाहरी लोगों को अपने भूखण्ड बेच रहे आवंटी पत्रकारों के खिलाफ काशी पत्रकार संघ इलाहाबाद उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाएगा। काशी पत्रकार संघ के अध्यक्ष कृष्णदेव नारायण राय और उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट एसोसिएशन (उपजा) वाराणसी इकाई के अध्यक्ष विनोद कुमार बागी की संयुक्त अध्यक्षता में शनिवार को पराड़कर स्मृति भवन में हुई आवंटियों की बैठक में यह फैसला किया गया।

एमएलए ओवैसी के खिलाफ एफआईआर हेतु कोर्ट गए तनया एवं आदित्‍य

हैदराबाद एमएलए अकबरुद्दीन ओवैसी के खिलाफ भड़काऊ भाषण मामले लखनऊ के दो विद्यार्थियों तनया ठाकुर और उसके भाई आदित्य द्वारा आज सीजेएम लखनऊ के सामने 156 (3) सीआरपीसी में प्रार्थनापत्र दिया गया. सीजेएम राजेश उपाध्याय ने गोमतीनगर थाना से 18 जनवरी 2013 को रिपोर्ट मंगवाई है. वादी के अधिवक्ता रोहित त्रिपाठी हैं. ओवैसी ने अपने भाषण में खुलेआम हिंदू-मुसलामानों में अतीव तनाव बढाने वाले अत्यंत आपत्तिजनक और भडकाऊ बातें कही थीं. तनया और आदित्य ने इस सम्बन्ध में धारा 153ए, 295ए, 298, 504, 505, 506 आईपीसी एवं धारा 66ए आईटी एक्ट 2000 में एफआईआर दर्ज करने को कहा था.

भास्‍कर के संजीव क्षितिज एवं पत्रिका के प्रमोद सोनी को पितृशोक

दैनिक भास्‍कर, दिल्‍ली के एक्‍जीक्‍यूटिव एडिटर संजीव क्षितिज के पिता वागीश चंद्र गुप्‍ता का शनिवार को दिल्‍ली में निधन हो गया. वे 82 वर्ष के थे. कुछ समय से बीमार चल रहे थे. परिजन आज तबीयत खराब होने पर इलाज के लिए हास्‍पीटल लेकर गए थे, वहीं पर उन्‍होंने अंतिम सांस ली. वे अपने पुत्र के साथ वैशाली के कोर्णाक अपार्टमेंट में रहते थे. उनका अंतिम संस्‍कार गाजियाबाद के हिंडन श्‍मशान घाट पर किया गया. इस दौरान भास्‍कर से जुड़े लोगों समेत तमाम लोग मौजूद रहे.

दिल्‍ली गैंगरेप : सुधीर चौधरी पूछताछ की वीडियो रिकार्डिंग के लिए पहुंचे कोर्ट

नई दिल्ली : सामूहिक दुष्कर्म मामले में पीड़ित युवक का बयान चैनल पर दिखाने के बाद वसंत विहार थाना की पुलिस ने जी न्यूज संपादक सुधीर चौधरी को मामले में पूछताछ के लिए नोटिस भेजा है। जिसके बाद जी न्यूज संपादक सुधीर चौधरी ने शनिवार को दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। सुधीर चौधरी ने अपनी याचिका में कोर्ट से निवेदन किया कि पुलिस के समक्ष उनके बयान तथा पूछताछ की वीडियो रिकार्डिंग की जाए। अदालत ने अपने आदेश में इस बारे में कुछ नहीं कहा कि वीडियोग्राफी की जायेगी या नहीं। अदालत ने दिल्ली पुलिस से कानून के अनुरूप कदम उठाने को कहा।

दैनिक जागरण के पत्रकार पर जानलेवा हमला

दिलदारनगर में शनिवार को पूर्वाह्न समाचार संकलन के लिए जा रहे पत्रकार पर मनबढ़ युवक ने जानलेवा हमला कर दिया। आसपास के लोगों ने मौके पर पहुंचकर पत्रकार की जान बचाई। इस मामले में पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर लिया है। इससे पत्रकारों में रोष है। दैनिक जागरण के स्थानीय संवाददाता अभिषेक श्रीवास्तव समाचार संकलन के लिए रेलवे स्टेशन जा रहे थे। इसी बीच कपड़े की दुकान पर बैठा ताजपुर कुर्रा का युवक सैयद परवेज ने रास्ते में रोक लिया और जबरिया गलत समाचार छापने का दबाव बनाने लगा।

भाजपा ने कहा जी न्‍यूज के खिलाफ कार्रवाई स्‍वीकार्य नहीं

नई दिल्ली : पिछले महीने दिल्ली में चलती बस में सामूहिक बलात्कार की शिकार लड़की के मित्र और चश्मदीद गवाह से बातचीत को प्रसारित करने वाले समाचार चैनल के विरुद्ध मामला दर्ज करने की चेतावनी की भाजपा ने शनिवार को भर्त्सना करते हुए इसे प्रेस की आज़ादी पर प्रहार बताया है। पार्टी के प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि संबंधित चैनल के खिलाफ मामला दर्ज करने की दिल्ली पुलिस की घोषणा ‘एक ऐसा आचरण है जिसे किसी तरह भी स्वीकार नहीं किया जा सकता। यह अस्वीकार्य आचरण होने के साथ ही प्रेस की आज़ादी पर भी हमला है।’

Committee to Protect Journalist asks Delhi Police not to charge TV channel for interview

WASHINGTON : A US-based eminent journalist body has asked the Delhi Police to refrain from pressing charges against a news channel which aired an interview with the friend of the Delhi gang rape victim who died last week. "This is an instance of greatly misplaced priorities. Authorities are hardly protecting the victim's rights by retaliating against news media that are bringing to light details of the horrific crime that claimed her life," said Bob Dietz, Asia programme coordinator for Committee to Protect Journalist.

पत्रकार जितेंद्र ज्‍योति एवं जीवन ज्‍योति की मां निशा वर्मा का निधन

पटना से खबर है कि पत्रकार द्वय जितेंद्र ज्‍योति एवं जीवन ज्‍योति की मां निशा वर्मा का शनिवार को निधन हो गया. उनका निधन पटना स्थित आवास पर हुआ. वे 58 साल की थीं तथा लम्‍बे समय से बीमार चल रही थीं. वे फेफड़े के संक्रमण से पीडित थीं. उन्‍हें 23 दिसम्‍बर को मगध अस्‍पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था, परन्‍तु उनकी इच्‍छा के अनुसार उनके परिजन मंगलवार को उन्‍हें पटना के डाक्‍टर्स कॉलोनी स्थित घर ले आए थे. निशा वर्मा का अंतिम संस्‍कार बेगूसराय के सिमरिया घाट पर रविवार की सुबह किया जाएगा. श्राद्ध कर्म भी बेगूसराय स्थित उनके मूल गांव बखरी बाजार में किया जाएगा.

भाई कुछ भी कहिये, इसे कहते हैं कमबैक, जो पीछे रहे गए वो सुधीर चौधरी को गरिया रहे हैं..

Ankur Vijaivargiya : भाई कुछ भी कहिये…इसे कहते हैं कमबैक…जो पीछे रहे गए वो सुधीर चौधरी को गरिया रहे हैं…NDTV वाले रवीश, अभिज्ञान और क्रांति संभव बस स्टूडियों में बैठकर ज्ञान पेलते ही रह गए…कई लोग कह रहे हैं कि सुधीर को देखने का मन नहीं कर रहा… अरे भई मत देखो…तुम्हारे ना देखने से कौनसा किसी को फर्क पड़ रहा है…जेल तो कई पत्रकार गए हैं…सुधीर तो अपने मालिक के लिए रंगदारी मांगने के चलते गए..कुछ तो अपनी करनी से पहुंचे…लोग कह रहे थे कि सुधीर चौधरी का कैरियर गर्त में गया…लेकिन गर्त में पहुंचकर ऐसी शानदार वापसी और शानदार साक्षात्कार के लिए सुधीर चौधरी को बधाई और जी न्यूज की पूरी टीम को भी…

शशांक शेखर सिंह के बिना कागज़ात नौकरी मामले में रिट याचिका दायर

पूर्व कैबिनेट सचिव शशांक शेखर सिंह के सेवा अभिलेख सम्बंधित मामले में शनिवार को एक्टिविस्‍ट डा. नूतन ठाकुर ने इलाहाबाद हाई कोर्ट, लखनऊ बेंच में याचिका दायर की है. याचिका में शशांक शेखर सिंह की जन्मतिथि, शैक्षिक योग्यताओं, तकनीकी योग्यताओं तथा उनकी प्रथम नियुक्ति से अंत तक की चरित्र पंजिका जैसी कई जानकारियों के सम्बन्ध में कोई शासकीय अभिलेख नहीं होने के बावजूद पूरी नौकरी करने की जांच कराने की मांग की है.

मैं सुधीर चौधरी को रेपकांड के पीड़ित और गवाह के इंटरव्यू पर बधाई देता हूं : दीपक शर्मा

Deepak Sharma : सच का सामना… पत्रकारिता की गरिमा और साख गिराने के आरोप सुधीर चौधरी पर लगते रहे हैं. मर्यादाओं को टेलिविज़न स्टूडियो के ताक पर रख कर उन्होंने कई ख़बरों को स्क्रीन पर उतारा है, ऐसे इलज़ाम भी उनके सर हुए हैं. कुछ लोग जो उनकी भव्यता और ऊँचे ओहदे से जलते हैं वो उनका नाम पत्रकारिता की दलाल सूची में भी शुमार करते हैं. कुछ तो लोग कहेंगे. लेकिन मैं सुधीर चौधरी को बलात्कार कांड के पीड़ित और गवाह के इंटरव्यू पर उन्हें बधाई देता हूँ.

पटना के पत्रकार विनायक विजेता के भांजे की भुवनेश्‍वर में हत्‍या

पटना : बिहार के छात्रों पर दूसरे राज्यों में होने वाले हमले रूक नहीं रहे हैं। बिहार के एक और छात्र की भुनेश्वर में वहां के स्थानीय छात्रों ने लोहे के रॉड और र्इंट पत्थरों से इतनी पिटाई कर दी कि 22 वर्षीय राहुल नयन शर्मा ने बेहोशी की स्थिति में ही शनिवार को दोपहर भुनेश्वर के ही एक नीजी अस्पताल में दमतोड़ दिया। राहुल के पारिवारिक सूत्रों से मिली खबर के अनुसार राहुल भुनेश्वर स्थित कोणार्क इंस्टीट्यूट आफ साइंस एंड टेक्नालॉजी कॉलेज में पढ़ाई कर पिछले वर्ष ही वहां से इंजीनियरिंग का फाइनल इयर पास किया था। मूल रूप से पटना जिला के धनरुआ था अंतर्गत नीमा गांव के निवासी राहुल के पिता राजीव नयन शर्मा धनबाद में व्यवसाय करते हैं।

असल पत्रकारिता कर दिखाई सुधीर चौधरी ने : हर्षवर्द्धन त्रिपाठी

Harshvardhan Tripathi : Zee News editor सुधीर चौधरी का साहसी लड़के के साथ साक्षात्कार असल पत्रकारिता है। BEA, टीवी, प्रिंट संपादक इस मामले पर जी के साथ आएं। Zee News editor सुधीर चौधरी के निजी अतीत और टीवी की पैकेजिंग को छोड़कर इस घटना की विवेचना हो तो बेहतर। सरकार भी जारी है जी न्यूज के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज कर दिया है।

लखनऊ में राज्‍य संपत्ति विभाग ने भेजा 20 पत्रकारों को रिमांइडर

लखनऊ में राज्‍य संपत्ति विभाग पत्रकारों से मकान खाली कराने के लिए कमर कस चुका है. 53 लोगों की लिस्‍ट में से कुछ लोगों ने नोटिस का जवाब देकर अपनी छत तो बचा ली है, पर 20 पत्रकार या उनके परिवार के लोग ऐसे हैं, जिन्‍हें दुबारा नोटिस यानी रिमांइडर भेजा गया है. लगभग 20 पत्रकारों को रिमांइडर भेज कर पंद्रह दिनों के भीतर सरकारी मकान खाली करने का निर्देश दिया गया गया है. अगर रिमांइडर का ये लोग जवाब नहीं देते या फिर मकान खाली नहीं करते तो इनसे जबरन मकान खाली करवाया जाएगा.

दिल्‍ली गैंगरेप : इंटरव्‍यू दिखाने पर जी न्‍यूज के खिलाफ मुकदमा

नई दिल्ली। वसंत विहार गैंगरेप पीड़ित युवती के फ्रेंड का इंटरव्यू टेलिकास्ट करने के मामले में जी न्यूज चैनल के खिलाफ रात में केस दर्ज कर लिया गया। साउथ दिल्ली के वसंत विहार थाने में दर्ज केस में कहा गया है कि युवक की पहचान उजागर करना गलत है। उसकी पहचान उजागर करने से केस पर तो असर पड़ता ही है, इससे युवती की पहचान भी सार्वजनिक होने का खतरा है। लिहाजा यह गैरकानूनी काम किया गया है।

उत्तराखंड में नहीं हो रहा पत्रकारों का कल्याण!

पत्रकार हितों की सुरक्षा का डंका पीटने वाली उत्तराखंड की विजय बहुगुणा सरकार की कार्यशैली की हकीकत यह है कि जरूरतमंद पत्रकारों की मदद के लिए बने पत्रकार कल्याण कोष से पैसा निर्गत नहीं हो पा रहा है। कारण यह कि अभी तक इसके लिए वांछित समिति गठित नहीं हो पाई है। उत्तराखंड में इसे पत्रकारिता का दुर्भाग्य ही कहे कि जरूरतमंद पत्रकारों की मदद के लिए सरकार की तरफ से ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है, जिससे उन्हें तुरंत राहत मिल सके। अपाहिज, बीमार और दुर्घटनाग्रस्त पत्रकारों और उनके आश्रितों के लिए सरकार ने कागजों में पत्रकार कल्याण कोष की स्थापना तो की है, लेकिन इसकी जमीनी सचाई यह है कि इसके संचालन के लिए अभी तक समिति का गठन नहीं हो पाया है और न ही इसके जल्द गठित होने की फिलहाल उम्मीद नजर आ रही है।

सेबी के खिलाफ सहारा फिर पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। सेबी और सहारा के बीच झगड़ा फिर से तूल पकड़ सकता है। सहारा को आज सेबी के पास 10,000 करोड़ रुपये जमा करने हैं। लेकिन सहारा ने सुप्रीम कोर्ट के पास एक और अर्जी दायर करके इस पर पुनर्विचार करने को कहा है। सहारा का कहना है कि सेबी को उसे केवल 2500 करोड़ रुपये देने हैं क्योंकि बाकी पैसा तो उसने निवेशकों को खुद दे दिया है। जबकि सुप्रीम कोर्ट ने साफ साफ कहा था कि निवेशकों का सारा पैसा सेबी के जरिए लौटाया जाएगा।

मनोरंजना सिंह, नवीन लाल, परिमल कुमार समेत दर्जनों लोग सम्‍मानित

: न्यूजपेपर्स एसोसिएशन आफ इंडिया का 20वां राष्ट्रीय अधिवेशन सम्पन्न : न्यूजपेपर्स एसोसिएशन आफ इंडिया के द्वारा पत्रकारिता व सामाजिक गतिविधियों के क्षेत्र में, एनएआई पुरस्कार 2012 के लिए न्यूजपेपर्स एसोसिएशन आफ इंडिया का 20वां राष्ट्रीय अधिवेशन सम्पन्न दिल्ली के कांस्टीटयूशन क्लब में शनिवार 29 दिसम्बर को आयोजित किया गया। न्यूजपेपर्स एसोसिएशन आफ इंडिया ने भारत के पत्रकारों व समाज सेविओं को आमंत्रित किया जिनका सहयोग भारत को विकासशील और प्रगतिशील बनाने में रहा है और उन कार्यों को लेख, समाचारपत्र, वीडियो, तस्वीरों, सामाजिक गतिविधियों, द्वारा प्रकाशित व प्रसारित किया व कृषि व ग्रामीण विकास के कार्यों मे अपना सहयोग दिया।

‘इंडिया’ और ‘भारत’ के बीच लड़ाई और भागवत की ‘छीछालेदर’

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है कि रेप की घटनाएं इंडिया में ज्यादा होती है और भारत में कम। खबर है कि इस बयान के मीडिया में आने के बाद इंडिया से महिलाओं का भारत की ओर बड़ी संख्या में पलायन शुरू हो गया है। मौके की नजाकत को देखते हुए भारत सरकार ने भी इंडिया से आने वाली महिलाओं के लिए वीजा की अनिवार्यता लागू कर दी है और इंडिया के लड़कों के भारत आने पर पूरी तरह से प्रतिबन्ध लगा दिया है।

ये है मकान खाली करने का नोटिस पाने वाले पत्रकारों की पहली लिस्‍ट

लखनऊ में राज्‍य संपत्ति विभाग ने राजधानी के 53 पत्रकारों को सरकारी मकान खाली करने के‍ लिए नोटिस जारी किया है. पहली लिस्‍ट में 24 लोगों को नोटिस जारी किया गया है, जिसमें से चार लोगों ने नो‍टिस का जवाब देकर मकान पर कब्‍जा रखने की कोशिशों में सफल रहे हैं, जबकि 20 लोगों के ऊपर अभी भी तलवार लटक रही है. बताया जा रहा है कि 53 लोगों में करीब 45 पत्रकार ऐसे हैं, जिन्‍होंने राज्‍य संपत्ति विभाग को अभी कोई जवाब नहीं दिया है और ये गैर कानूनी तरीके से मकान पर काबिज हैं. सरकार ऐसे लोगों से मकान खाली कराने के मूड में है, जो पत्रकार नहीं रहे गए हैं या किसी अखबार, मैगजीन या टीवी चैनल में कार्यरत नहीं है.

‘न्यूज एक्सप्रेस’ स्टिंग आपरेशन : कोहरे के दौरान ट्रेनों में एंटी फॉग डिवाइस और जीपीएस सिस्टम काम नहीं करता

: न्यूज एक्सप्रेस का एक और स्टिंग ऑपरेशन- 'ऑपरेशन रेल' : न्यूज एक्सप्रेस ने एक बार फिर भारतीय रेल की कलई खोली है। हमने खुलासा किया है कि रेलवे कैसे मुसाफिरों की सुरक्षा और सुविधा के नाम पर उनके साथ गंदा मजाक कर रहा है। न्यूज एक्सप्रेस के खोजी पत्रकार आयुष पंडित और प्रशांत यादव ने इस दौरान राजधानी और शताब्दी के सुपरवाइजरों और ड्राइवरों समेत 8-10 रेलवे कर्मचारियों से बात की जिसमें रेलवे कर्मचारियों ने खुलासा किया कि रेलवे में चीन के बने घटिया सामान इस्तेमाल किए जा रहे हैं.

इंकलाब के प्रिंट लाइन में अरुण कुमार सिंह एवं शकील शम्‍सी का नाम

दैनिक जागरण समूह के उर्दू अखबार इंकलाब से खबर है कि अब इसके प्रिंट लाइन में पब्लिशर तथा एडिटर का नाम जाने लगा है. अब तक उर्दू अखबार के प्रिंट लाइन में किसी का नाम प्रकाशित नहीं होता था, पर अब समूह ने इसका प्रकाशन शुरू कर दिया है. अखबार के पब्लिशर के रूप में …

एनडीटीवी के छतरपुर संवाददाता ओम प्रकाश तिवारी का निधन

मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले से खबर आ रही है कि वरिष्ठ पत्रकार और एनडीटीवी के छतरपुर संवाददाता ओम प्रकाश तिवारी का निधन हो गया है. उनका निधन तीन जनवरी को हुआ. पत्रकार ओम प्रकाश तिवारी के असमय मौत से इलाके के पत्रकारों में शोक व्याप्त है. मृत्यु के कारणों का पता नहीं चल पाया है.

दीपक चौरसिया ने शुरू की तोड़फोड़, आजतक से एक गया, इंडिया टीवी में सेलरी बढ़ी

इंडिया न्यूज जा पहुंचे दीपक चौरसिया ने कई न्यूज चैनलों में तोड़फोड़ शुरू कर दिया है. उनके निशाने पर आजतक, एबीपी न्यूज और इंडिया टीवी है. एबीपी न्यूज से तो दीपक के पीछे पीछे तीन लोग इस्तीफ दे चुके हैं. खबर है कि आजतक से भी एक ने इस्तीफा दे दिया है. एसोसिएट प्रोड्यूसर राघवेंद्र त्रिपाठी के बारे में सूचना है कि उन्होंने आजतक से इस्तीफा दे दिया है. वे करीब छह वर्षों से आजतक के साथ थे. वे सीनियर प्रोड्यूसर के रूप में इंडिया न्यूज में जुड़ सकते हैं.

आगरा में पुष्‍प सवेरा और अग्रवाल समाज ने दैनिक जागरण व इसके एनई आनंद शर्मा के खिलाफ मोर्चा खोला

आगरा के लालाओं ने दैनिक जागरण का बहिष्कार कर दिया हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ शुक्रवार को आगरा के लालाओं ने एसएसपी से मुलाकात की और उन्हें बताया कि दैनिक जागरण के समाचार संपादक आनंद शर्मा ने उन्हें व उनके समाज के अग्रणी समूह पुष्पांजलि के निदेशक पुनीत अग्रवाल को फंसाया है. इस कार्य में पुलिस की सहायता ली गयी है. बताया गया है कि इस सम्बन्ध में आगरा के बिल्डरों ने भी एक बैठक का आयोजन किया है, जिसमें दैनिक जागरण के बहिष्कार की योजना बनायी गई है.

आजतक वालों के गेट पर चौकीदार ने रोका तो खूब गरियाया अजहरुद्दीन ने

: कानाफूसी : पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद अजहरुद्दीन कल जब आजतक वालों के आफिस गए तो गेट पर उन्हें सेक्यूरिटी गार्ड ने रोक लिया. अंदर इंट्री के लिए जो मानक तय है, उस पर अजहरुद्दीन खरे नहीं उतर रहे थे सो गार्ड ने उन्हें जाने नहीं दिया. वे चिरौरी मिन्नत करते रहे पर गार्ड अड़ा रहा. तब उन्होंने बताया कि वे सांसद हैं. इस पर गार्ड ने कहा कि कार्ड दिखाइए सांसद का. अजहरुद्दीन भड़क गए और लगे गंदी गंदी गालियां देने गार्ड को.

भूमि घोटाले के आरोपी की गुरु गोविंद सिंह से तुलना की खबर छापने वाले अखबार के खिलाफ जांच के आदेश

इंदौर। इंदौर से प्रकाशित मासिक अखबार ‘खालसा टाइम्स’ में भूमि घोटाले के जानेमाने आरोपी रणवीरसिंह उर्फ बॉबी छाबड़ा की तुलना सिक्खों के 10वें धर्मगुरु गोविंद सिंहजी से करने के मामले में इंदौर की मजिस्‍ट्रेट कोर्ट ने पुलिस जांच के आदेश जारी किए है। परिवादी इंद्रजीतसिंह भाटिया (एडवोकेट) ने बताया कि उक्त अखबार में एक समाचार में बॉबी की तुलना गुरु गोविंद सिंहजी से की गई थी और उसे उनकी तरह जंग लड़ना बताया गया था।

फैजाबाद दंगा में मीडिया की भूमिका की जांच : पीसीआई की टीम को जाना था जापान, पहुंच गई चीन

: तीन महीना बीतने के बावजूद चिडि़या की पूंछ नदारद : समिति के बजाय शिकायतकर्ता कर रहे हैं गवाहों से पूछताछ : फैजाबाद : तीन महीना बीत जाने के बावजूद फैजाबाद दंगे में मीडिया की भूमिका जांचने के लिए बनी भारतीय प्रेस परिषद की एक सदस्‍यीय कमेटी का कामधाम अब तक सिफर है। हालांकि शनिवार 5 जनवरी को इस कमेटी का कार्यकाल खत्‍म होना जाना है, लेकिन पूरी आशंका है कि इसकी दुर्गति लिब्राहन-आयोग की ही तरह होगी। इतना ही नहीं, 3 महीने में ही यह कमेटी खुद ही विवादों में आ गयी है। ज्‍यादातर गवाहों ने तो कमेटी के औचित्‍य पर ही प्रश्‍न लगा दिये हैं।

सुधीर चौधरी की याचिका पर बीईए के एनके सिंह, दिबांग व राहुल कंवल को नोटिस

नई दिल्ली : कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल की कंपनी से खबर न दिखाने के नाम पर 100 करोड़ रुपये मांगने के मामले में आरोपी बनाए गए जी न्यूज संपादक सुधीर चौधरी की याचिका पर दिल्ली उच्च न्यायालय ने ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन (बीईए) के तीन सदस्यों को नोटिस जारी किया है। इन तीन सदस्‍यों की जांच रिपोर्ट के बाद ही सुधीर चौधरी को बीईए की सदस्‍या से निस्‍कासित किया गया था। जस्टिस एमएल मेहता ने इस मामले की सुनवाई करते हुए तीनों पत्रकारों को जवाब दाखिल करने के लिए उन्हें एक सप्ताह का समय दिया है। मामले की अगली सुनवाई 26 फरवरी को की जाएगी।

कुशीनगर के एसपी ने मीडियाकर्मियों को दी धमकी, पत्रकार नाराज

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में बलात्कार के एक मामले पर जिला पुलिस अधीक्षक डीके चौधरी की धमकी से मीडिया कर्मियों में आक्रोश है. चौधरी पर आरोप है कि नये साल के अवसर पर लगे एक मेले में हुए बलात्कार के सिलसिले में इलेक्ट्रानिक मीडिया के पत्रकारों के सवाल पूछे जाने पर उन्होंने भड़कते हुए कहा, ‘मैं अपनी ड्यूटी कर रहा हूं और आप अपनी ड्यूटी. यदि मुझे नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गयी तो सबक सिखा दूंगा. सारे दिन कहा जाता है कि सामूहिक बलात्कार की खबरें चला देंगे. सनसनीखेज इंटरव्यू चलाकर सारे देश का माहौल बिगाड़ रखा है. मैं यहां वोट मांगने नहीं आया हूं और ना ही मुझे एक पैसे की परवाह है.’

सुधीर चौधरी फिर प्रकट हुए जी न्यूज पर

सुधीर चौधरी जेल से रिहा होने के बाद फिर से जी न्यूज पर दिखने लगे हैं. आज वे दामिनी एपिसोड पर एक एक्सक्लूसिव इंटरव्यू की एंकरिंग कर रहे थे. दामिनी के ब्वायफ्रेंड को पहली बार टीवी पर लाने का श्रेय जी न्यूज को मिला और इस लड़के से बातचीत सुधीर चौधरी ने की. जिंदल समूह के नवीन जिंदल द्वारा जी न्यूज के एडिटर सुधीर चौधरी और जी बिजनेस के एडिटर समीर अहलूवालिया पर आरोप लगाया गया था कि इन दोनों ने सौ करोड़ रुपये मांगे ताकि जिंदल के खिलाफ कोल ब्लाक आवंटन की खबरों को न प्रसारित किया जाए.

प्रवीण तिवारी बने ‘लाइव इंडिया’ मैगजीन के चीफ एडिटर

: पंकज वर्मा एवं भरत श्रीवास्‍तव समेत कई टीम में शामिल : इसी महीने लांच होगी पत्रिका : लाइव इंडिया न्‍यूज चैनल का संचालन करने वाली कंपनी समृद्ध जीवन फूड लिमिटेड समूह की एक करेंट अफेयर्स पत्रिका लांच करने जा रही है. 'लाइव इंडिया' के ही ब्रांड नाम से प्रकाशित होने वाली यह पत्रिका जनवरी में लांच की जाएगी. यह पत्रिका मासिक होगी. इसमें सभी करेंट मामलों को विस्‍तार से समाहित किया जाएगा. इसकी डमी कॉपी प्रकाशित हो चुकी है. इस पत्रिका का प्रधान संपादक डा. प्रवीण तिवारी को बनाया गया है. डा. तिवारी लम्‍बे समय से लाइव इंडिया में वरिष्‍ठ पद पर कार्यरत हैं.

इस गलत खबर के प्रकाशन से बहुत आहत हूं : पदमपति शर्मा

वाराणसी के पत्रकारों को आवंटित हुए प्‍लाट में कई पत्रकारों ने अपने प्‍लाट बेच दिए हैं. इसमें वरिष्‍ठ पत्रकार पदमपति शर्मा का भी नाम है. पदमपति शर्मा प्‍लाट बेचने वाले पत्रकारों में नाम आने के बाद से बहुत आहत हैं. उनका कहना है कि यह सूचना और खबर पूरी तरह से बेबुनियाद है. मैंने पत्रकारपुर में आबंटित जमीन को ना तो बेची है और ना ही किसी के नाम से रजिस्‍ट्री की है.

एबीपी न्यूज से दीपक चौरसिया के बाद तीन और रिपोर्टरों के इस्तीफा देने की सूचना

सूचना है कि एबीपी न्यूज से दीपक चौरसिया के बाद तीन अन्य रिपोर्टरों ने भी इस्तीफा दे दिया है. इनके नाम प्रकाश पांडेय, रवि धीमान और आशीष कुमार सिंह बताया जा रहा है. तीनों के इंडिया न्यूज ज्वाइन करने की संभावना है. हालांकि इन इस्तीफों की अभी आधिकारिक रूप से पुष्टि नहीं हो पाई है.

रिटायरमेंट के बाद भी दैनिक जागरण, मैनपुरी के ब्यूरो चीफ बन गए अनिल मिश्रा

यूपी के मैनपुरी से खबर है कि करीब तीस वर्षों तक सेवा देने के बाद पिछले साल नवंबर लास्ट में रिटायर हुए अनिल मिश्रा ने फिर से दैनिक जागरण में वापसी करने में सफलता प्राप्त कर ली है. सूत्रों का कहना है कि उन्होंने समाजवादी पार्टी के शीर्ष नेताओं से अपने संबंधों के बल पर दैनिक जागरण, मैनपुरी का ब्यूरो चीफ पद रिटायरमेंट के बाद भी हासिल करने में कामयाबी पाई है.

अनुशासनहीनता के चलते श्री टाइम्‍स में तीन वरिष्‍ठ पत्रकार सस्‍पेंड

श्री टाइम्‍स में अजय उपाध्‍याय के समूह संपादक बनने के बाद की हनक दिखने लगी है. लखनऊ से खबर है कि मीटिंग में तीन वरिष्‍ठ पत्रकारों के अनुशासनहीनता के आरोपों को गंभीरता से लेते हुए उन्‍होंने तीनों को एक सप्‍ताह के लिए सस्‍पेंड कर दिया है. बताया जा रहा है कि गुरुवार को अखबार के वरिष्‍ठ लोगों के परिचय की मीटिंग चल रही थी. सीओओ एवं वरिष्‍ठ पत्रकार पंकज वर्मा मीटिंग में मौजूद थे तथा लोगों से परिचय ले रहे थे. मीटिंग में एचआर हेड भी मौजूद थे.

न्यूज11 में काम कर रहे हैं तो अरुप चटर्जी से सावधान रहें

न्यूज़ 11 एवं  केयरविजन से जुड़े तमाम लोग हो जाएं सावधान, नहीं तो कभी भी वे फंस सकते हैं. उन्हें फंसाने वाला कोई और नहीं बल्कि इस चैनल के कर्ताधर्ता अरूप चटर्जी होंगे. वैसे भी अरूप के जीवन का नारा रहा है- ऐसा कोई सगा नहीं, जिसको अरूप ने ठगा नहीं. न्यूज़11 के आधार स्तम्भ कहे जानेवाले और शुरुआती दिनों से न्यूज़ 11 में काम कर रहे एक वरिष्ठ सदस्य को जब महिंद्रा फायनांस के लीगल डिपार्टमेंट से फोन आया तब उनके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गयी.

हाई कोर्ट ने कहा सुधीर हिलसायन को संपादक नियुक्‍त करे सरकार

दिल्ली हाई कोर्ट ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सह अध्यक्ष, डॉ0 अम्बेडकर फाउंडेशन को फाउंडेशन की मासिक पत्रिका ‘सामाजिक न्याय संदेश’ के संपादक के रिक्त पद पर सुधीर हिलसायन को नियुक्त करने का आदेश देते हुए कहा कि वर्ष 2006 से इस पद के रिक्त होने की वजह से सामाजिक न्याय संदेश व फाउंडेशन का काम प्रभावित हो रहा है, जो न तो फाउंडेशन के हित में है और न ही जन हित में। न्यायमूर्ति श्री सुरेश कैथ की एकल पीठ ने 2009 में इस पद के लिए आवेदन करने वाले सुधीर हिलसायन की याचिका स्वीकार करते हुए निर्देश दिया कि सरकार याचिकाकर्ता को पत्रिका का संपादक नियुक्त करे।

लाइव इंडिया खरीदने वाला प्रोस्‍पर्टी समूह लांच करेगा पत्रिकाएं

लाइव इंडिया चैनल को खरीदने वाली महेश मोटेवार की कंपनी प्रोस्‍पर्टी एग्रो अब प्रिंट के क्षेत्र में भी उतरने की तैयारी कर रही है. कंपनी प्रिंट मीडिया में अखबार नहीं बल्कि पत्रिका के जरिए अपना कदम रखेगी. सूत्रों का कहना है कि यह समूह एक साथ कई विषयों पर पत्रिका लांच कर सकता है. इसमें राजनीतिक, सामाजिक तथा कृषि आधारित पत्रिकाएं शामिल हो सकती हैं. सूत्रों का कहना है कि जल्‍द ही इन पत्रिकाओं को लांच करने की योजना पर काम चल रहा है. यह कंपनी भी पर्ल समूह की तरह चैनल और मैगजीन के क्षेत्र में कदम जमाने की कोशिश में है. 

रेप टेस्ट के दौरान भी रेप! मध्यकालीन ‘दो उंगली’ प्रथा खत्म करने की मांग उठी

लंदन के अखबार डेलीमेल की वेबसाइट dailymail.co.uk में Jill Reilly की एक रिपोर्ट प्रकाशित हुई है. इसमें बताया गया है कि किस तरह भारत में रेप के बाद पीड़िता के साथ अस्पताल में फिर रेप जैसा ही कुछ किया जाता है. ऐसा रेप टेस्ट के नाम पर जांच करने वाले डाक्टर द्वारा किया जाता है. पीड़िता के साथ रेप हुआ है या नहीं, उसका कौमार्य भंग हुआ है या नहीं, यह जांचने के लिए डाक्डर पीड़िता की योनि में अपनी दो उंगलियां प्रवेश कराता है. इस तरह पीड़िता को एक बार फिर यातना और शर्मनाक स्थिति से गुजरना पड़ता है. इस मध्यकालीन दो उंगली प्रथा को खत्म करने के लिए महिला एक्टिविस्टों ने मोर्चा खोल दिया है. पूरी रिपोर्ट इस प्रकार है…

फोटोग्राफर सीमा के मौत वाले दिन हिंदुस्‍तान के खिलाफ फैसला आना क्‍या महज संयोग है?

मुंगेर! ‘‘सर् जी! बर्दास्त नहीं होता है जब दैनिक हिन्दुस्तान से जुड़े लोग मेरे बारे में दुष्प्रचार सरेआम करते हैं। सर् जी! मैंने जिस अखबार में नौकरी की, उस अखबार ने भी मेरी मृत्यु की खबर तक नहीं छापी। मेरी मृत्यु पर शोक व्यक्त करने और मेरी आत्मा की शांति की प्रार्थना अखबार की ओर से हो, वह भी मेरी किस्मत में नहीं थी। सर जी! मुझे कोई देख नहीं सकता है और न मेरी बात कोई सुन सकता है इस धरती पर। परन्तु मैं तो सभी की बात सुन सकती हूं। मैं सभी को पहचान सकती हूं। मैं सब कुछ समझ सकती हूं। केवल फर्क है कि मैं मनुष्य शरीर में नहीं हूं।‘‘ यह तड़पती और लड़खड़ाती आवाज दैनिक हिन्दुस्तान के मुंगेर कार्यालय की प्रेस फोटोग्राफर स्वर्गीय कुमारी सीमा की आत्मा की है। मृत्यु के बाद वर्षों तक उस तड़पती आत्मा का सम्पर्क इस लेख के लेखक के साथ बना रहा। वह अपनी सहेली रेणु के शरीर पर हाजिर होकर इस लेखक से अपनी पीड़ा बयान करती थी।

भड़ास का होगा विस्तार, उत्तर प्रदेश के हर जिले में चाहिए पत्रकार

वेब जर्नलिज्म में इतिहास रचने और लोकप्रियता के शिखर को छूने के बाद भड़ास का विस्तार अब देश के प्रत्येक जिले तक करने की योजना को मूर्त रूप देने का समय आ गया है. भड़ास पर अभी तक किसी पूंजीपति का नियंत्रण नहीं है. इसी कारण यह हर किसी से टकराने और हर किसी की पोल खोलने का माद्दा रखता है. फिलहाल इसे एक छोटी टीम दिल्ली से आपरेट करती है. धन और संसाधन की जगह समर्पण और त्याग की आग से भड़ास का संचालन किया जाता है.

महुआ न्‍यूज में अनवारुल होदा बिहार तथा संतोष पाठक झारखंड के प्रभारी बने

महुआ न्‍यूज बिहार-झारखंड से खबर है कि मार्केटिंग हेड के रूप में जिम्‍मेदारी संभाल रहे विमलेश झा समेत मार्केटिंग टीम के तीन सदस्‍यों का चैनल से नाता समाप्‍त हो गया है. सूत्रों का कहना है कि प्रबंधन ने कुछ शिकायतों के बाद इन लोगों से इस्‍तीफा मांग लिया है. जिन लोगों को चैनल से बाहर …

इंडिया टीवी के सीनियर वीपी बने सुदीप्‍तो चौधरी

इंडिया टीवी से खबर है कि सुदीप्‍तो चौधरी ने यहां पर सीनियर वीपी के पद पर ज्‍वाइन किया है. उन्‍हें गौतम शर्मा के स्‍थान पर लाया गया है, जो हाल ही में यहां से इस्‍तीफा देकर एबीपी समूह से जुड़ गए हैं. चौधरी ने बीते 2 जनवरी को अपना पद संभाला है. वे इंडिया टीवी …

क्या ऐसे महिला विरोधी अधिकारी को सस्पैंड नहीं होना चाहिए?

और जैसे कि दिल्ली पुलिस की अभी तक की बर्बरता काफ़ी नहीं थी…गुरुवार शाम एक नया मामला सामने आया…इंडिया गेट की ओर जाना चाह रहे कुछ युवक युवती जिनकी उम्र 18-25 साल के बीच थी को पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने पर रोक लिया गया…लेकिन जब वे लौट कर रीगल सिनेमा के पीछे से इंडिया गेट की ओर जाने लगे तो वहीं पर पुलिस ने उनको रोका…एक निकलते जुलूस के निकल जाने के बाद बेहद शांति से फुटपाथ पर खड़े इन युवक युवतियों को दिल्ली पुलिस ने बेदर्दी से मारा पीटा…बात यहीं नहीं थमी, लड़कियों को ग़ैरक़ानूनी ढंग से सूरज ढल जाने के बाद भी डीटेन किया गया…लेकिन बात इतनी भी नहीं रही…इन लोगों को बस के अंदर भी मारा पीटा गया…यहां तक कि बस में लड़कियों के होने के बाद भी बस की लाइट बुझा कर इनके साथ मारपीट की गई…गालियां बकी गईं…पुलिस ने इनको पार्लियामेंट स्ट्रीट या बाराखंभा थाने जो कि उस इलाके में पड़ते हैं न ले जाकर मंदिर मार्ग थाने ले जाकर बिठाया.

गैंगरेप पीडिता का नाम उजागर करने पर हो सकती है दो साल की सजा

नई दिल्‍ली। दिल्‍ली गैंगरेप केस की पीडिता के लिए आज सारा देश उसके काल्‍पनिक नाम “दामिनी” के नाम से इंसाफ मांग रहा है। उसे यह नाम मीडिया ने दिया, क्‍योंकि कानून के मुताबिक, पीडिता का असली नाम उजागर नहीं किया जा सकता था। हर इंसान देश को हिला देने वाले इस गैंगरेप की पीडिता के नाम से अनभिज्ञ है। ऐसे में केंद्रीय मानव संसाधन राज्‍यमंत्री शशि थरूर ने उसका नाम सार्वजनिक करने की मांग कर दी। इसके बाद अब रेप पीडि़ता की पहचान उजागर किए जाने संबंधी मुद्दे पर बहस छिड़ गई है। इस बारे में निजी तौर पर किसी की जो भी राय हो, पर कानून इसकी इजाजत नहीं देता।

पढि़ए.. पुष्‍प सवेरा ने कैसे इन खबरों से किसी का ”आनंद” खराब किया

आगरा की मीडिया में एक बड़ी दिलचस्‍प लड़ाई शुरू हो चुकी है. दैनिक जागरण एवं हिंदुस्‍तान ने पुष्‍प सवेरा अखबार के मालिक के पुत्र पुनीत के खिलाफ बड़ी खबर क्‍या छापी इस अखबार ने भी अपनी तोप का मुंह उसी तरफ घुमा दिया है. इशारों ही इशारों में अखबार ने एक बड़े अखबार के बड़े पत्रकार को मीडिया माफिया बताते हुए उनके पुराने इतिहास को नए सिरे से लिखने की कोशिश शुरू कर दी है. जिस तरह की स्थिति है उसमें स्‍पष्‍ट है कि अब यह लड़ाई लम्‍बी चलने वाली है. आप भी देखिए पुष्‍प सवेरा में प्रकाशित समस्‍त खबरों को.

प्रमोद त्रिवेदी बने जबलपुर में सिटी भास्‍कर के एडिटर

प्रमोद त्रिवेदी ने भोपाल के एलएन स्टार से इस्‍तीफा दे दिया है। उन्‍होंने अपनी नई पारी जबलपुर में भास्कर ग्रुप के साथ शुरू की है। अपनी सिस्टम को हिला देने वाली कई बड़ी स्पेशल स्टोरी देने वाले और मध्यप्रदेश की आक्रामक पत्रकारिता में खासी पहचान रखने वाले प्रमोद त्रिवेदी अब सिटी भास्कर, जबलपुर की बागडोर संभालने जा रहे हैं। 2010 में नईदुनिया में रह चुके त्रिवेदी जबलपुर की तासीर से भली -भांति परिचित हैं। नईदुनिया के बाद दूसरी पारी खेलने के लिए सिटी भास्कर के एडिटर बनाए गए हैं।

अमर उजाला, हल्‍द्वानी राजीव, ब्रजेंद्र और निशांत को प्रमोशन

: कई सब एडिटर मायूस : अमर उजाला हल्द्वानी यूनिट से खबर है कि वहां हालिया प्रमोशन लिस्ट जारी होने के बाद प्रमोशन नहीं पाने वाले लोगों में बेचैनी और हताशा की स्थिति है। हालात यहां तक हैं कि प्रमोशन की आस लगाए एक सब-एडिटर तो डिप्रेशन तक में चले गए हैं। प्रमोशन को लेकर मैनेजमेंट की भी आलोचना हो रही है। सालों से जमे कई सब-एडिटर ताक पर हैं जो प्रमोशन की आस लगाए बैठे थे। इनमें से कई तो सालों से सब-एडिटर पदों पर ही दिन काट रहे हैं। प्रमोशन पाने वालों में राजीव पाण्डेय, ब्रजेंद्र श्रीवास्तव और निशांत खनी शामिल हैं।

”पत्रकार को निकाला नहीं गया बल्कि उनका आवेदन ही सही नहीं है”

चीन में एक दशक से ज्यादा समय से काम कर रहे न्यूयॉर्क टाइम्स के पत्रकार का वीजा नवीकरण नहीं होने पर उन्हें देश से बाहर जाने को मजबूर होने की खबरों को बीजिंग ने गुरुवार को खारिज किया है। अखबार ने लगातार प्रधानमंत्री वेन च्याबो के परिवार के पास कथित तौर पर अरबों डॉलर की संपत्ति होने के संबंध में खबरें प्रकाशित की थीं। अखबार ने अपनी खबर में कहा था कि वर्ष 2000 से चीन में बतौर संवाददाता काम कर रहे 45 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई नागरिक क्रिस बकली सोमवार को अपने परिवार के साथ बीजिंग से हांगकांग चले गए। उन्होंने हाल ही में द न्यूयॉर्क टाइम्स के साथ काम करना शुरू किया था।

बीते साल 141 पत्रकारों की कर दी गई हत्‍या

जिनेवा : स्विट्जरलैंड स्थित मीडिया निगरानी समूह प्रेस एम्बलेम कैम्पेन (पीईसी) ने आज कहा कि वर्ष 2012 पत्रकारों के लिए सबसे घातक रहा। गत वर्ष 29 देशों में 141 पत्रकारों की हत्या हुई है। इनमें सबसे ज्यादा हत्याएं सीरिया में हुई हैं। पत्रकारों के अधिकार के लिए काम करने वाली संस्था पीईसी ने एक बयान में कहा कि वर्ष 2011 के मुकाबले पत्रकारों की हत्या की संख्या में 31 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। बयान में कहा गया है कि सीरिया में कम से कम 37 पत्रकार मारे गए जिनमें से 13 विदेशी मीडिया के लिए काम करते थे।

अतुल माहेश्वरी की आज दूसरी पुण्यतिथि है… नमन

Pankaj Shukla : पत्रकारिता में प्रवेश के वक्त मेरी अंगुली थामने वाले पूज्य अतुल माहेश्वरी की आज दूसरी पुण्यतिथि है। वह ऐसे मालिक-संपादक रहे, जिन तक किसी भी कर्मचारी-पत्रकार को सीधे संवाद बना सकने की सुविधा हासिल थी। मुरादाबाद में था तो बहुत हिम्मत करते हुए उन्हें एक बार मैंने ख़िलाफ़त और मुख़ालिफत शब्दों के प्रयोग को लेकर पत्र लिखा।

जी न्‍यूज प्रकरण : नवीन जिंदल के खिलाफ चलेगा मानहानि का मुकदमा

दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल और उनकी कंपनी जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड के 16 अधिकारियों के खिलाफ जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी की आपराधिक मानहानि की शिकायत पर संज्ञान लिया। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट जय थरेजा ने कहा कि आईपीसी की धारा 499 (मानहानि) के तहत अपराध को धारा 34 (समान इरादे) के साथ पढ़ते हुए इस पर संज्ञान लिया जाता है। आपराधिक प्रक्रिया संहिता के प्रावधानों और दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले के मद्देनजर फरियादी और उनके गवाहों से पूछताछ शुरू की जा रही है। पूछताछ सात जनवरी को शुरू होगी।

अमर उजाला, गाजियाबाद को बड़ा झटका, पांच लोग बरेली में हिंदुस्‍तान से जुड़े

हिंदुस्‍तान ने अमर उजाला, गाजियाबाद को बड़ा झटका दिया है. गाजियाबाद में कार्यरत पांच लोगों ने इस्‍तीफा देकर हिंदुस्‍तान, बरेली ज्‍वाइन कर लिया है. सिटी इंचार्ज के रूप में कार्यरत अनुरोध भारद्वाज ने हिंदुस्‍तान में डीएनई के रूप में ज्‍वाइन किया है. वे अमर उजाला में चीफ रिपोर्टर के पद पर कार्यरत थे. वे लगभग 16 सालों से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं. वे इसके पहले वे गाजियाबाद में आज, दैनिक जागरण, हिंदुस्‍तान को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. पिछले दो सालों से अमर उजाला से जुड़े हुए थे. 

सड़क हादसे में दैनिक जागरण, मैथन के प्रभारी सतीश सिंह की मौत

दैनिक जागरण, धनबाद एडिशन के मोडम प्रभारी सतीश सिंह की एक सड़क हादसे में मौत हो गई. सतीश 46 वर्ष के थे. वे पिछले कई सालों से दैनिक जागरण को मैथ्‍न में अपनी सेवाएं दे रहे थे. उनके निधन से पत्रकारों में शोक व्‍याप्‍त है. सतीश गुरुवार को अपनी बाइक लेकर समाचार कवरेज के लिए गए थे. इसके बाद वे खबर संकलन के लिए मैथन थाने पहुंचे वहां से निकलकर वे आफिस की तरफ जा रहे थे. इसी बीच धनबाद से कोलकाता की तरफ जा रहे चौदह चक्‍के वाले गैस लदे टैंकर एचआर 38 आर – 8541 ने उन्‍हें टक्‍कर मार दिया.

यूपी में नौकरी पाने के लिए सपाई बनना पड़ेगा! शिवपाल की बुद्धि शुद्धि के लिए गाजीपुर में सत्याग्रह

Braj Bhushan Dubey : सम्‍मानित साथियों। आज दैनिक जागरण, गाजीपुर के मुख्‍य पेज पर यह समाचार प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है कि सपा के कार्यकर्ताओं को परिवार पीछे एक सदस्‍य को नौकरी देगी प्रदेश सरकार। यह बयान लोक निर्माण व सहकारिता मंत्री श्री शिवपाल सिंह यादव के हवाले से प्रकाशित था। यानि कि मुख्‍य मंत्री जी के चचा व मुलायम सिंह जी के छोटे भाई।

”आगरा में इन्हें इनकी पत्नी ने ही रंगे हाथ “आनंद” करते पकड़ा था”

Shivam Bhardwaj : पिछले दिनों हुये पुष्पांजलि के डायरेक्टर से सम्बंधित प्रकरण को बढ़ा चढ़ाकर छापे जाने के बाद अब "पुष्प सवेरा" ने फ्रंट खोल दिया है. इसी क्रम में आज के अखबार में आधा पन्ना भरकर एक खबर प्रकाशित की गयी है जिसका मुख्य शीर्षक है "मीडिया माफिया ने तिल का ताड़ बनाया". इसी खबर के साथ "दैनिक जागरण" की प्रतियाँ जलाते हुये महिला जन जागृति समिति की तस्वीर भी प्रकाशित की गयी है. कुछ जनप्रतिनिधियों के वक्तव्य भी अखबार में प्रकाशित किये गये हैं जिनका कहना है कि मीडिया में कुछ लोग सीमा का उल्लंघन कर इसका प्रयोग निज स्वार्थ, रंजिश निकालने व ब्लैकमेलिंग के लिए कर रहे हैं.

जिस विनोद शर्मा – कार्तिक शर्मा ने इतने संपादक खाए, वे क्या दीपक एंड अदर्स को छेड़ेंगे नहीं?

: कानाफूसी : गिनती शुरू करें. एसएन विनोद. मधुकर उपाध्याय. किशोर मालवीय. अनुरंजन झा. राहुल देव, एमजे अकबर… लंबी लिस्ट है. कई नाम छूटे भी हैं. इनके बीच में समानता ये है कि ये सभी इंडिया न्यूज या आज समाज के हिस्से बने और वहां से फिर इन लोगों को हटना पड़ा. कांग्रेसी नेता विनोद शर्मा और उनके पुत्र कार्तिक शर्मा की फितरत है कि इन्हें नया आदमी तुरंत पसंद आ जाता है और बहुत जल्द दिल भी उब जाता है. प्रचुर पैसे के स्वामी ये पिता-पुत्र अपने मीडिया हाउस के जरिए मीडिया से जुड़ी शख्सियतों को अपने छांव तले लाने को उत्सुक रहते हैं और छांव में आते ही फिर उसे उसकी औकात बता दिखा देते हैं.

क्या दीपक चौरसिया का नाम सीबीआई की चार्जशीट में आया है?

(कानाफूसी) दीपक चौरसिया के एबीपी न्यूज छोड़कर इंडिया न्यूज के साथ जुड़ने के दौरान ही एक नई चर्चा बाजार में सरगर्म है. वह यह कि दीपक ने एबीपी न्यूज खुद नहीं छोड़ा बल्कि वहां से उन्हें जाना पड़ा है. ऐसा इसलिए क्योंकि उनका नाम सीबीआई की एक चार्जशीट में आया हुआ है. अपुष्ट सूत्रों के मुताबिक मुलायम सिंह यादव के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में सीबीआई जांच के दौरान दीपक ने स्टार न्यूज पर सीबीआई के खिलाफ एक स्टोरी चलाई थी, जिसका संज्ञान लेते हुए सीबीआई ने दीपक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया.

लखनऊ में अमर उजाला के दो पत्रकारों के बीच जमकर मारपीट

लखनऊ से सूचना है कि अमर उजाला के दो पत्रकारों में आपस में ही जमकर मारपीट हो गई है. इसका कारण आपसी राजनीति और इगो का हर्ट होना है. एक पत्रकार महोदय काफी समय से दूसरे से खार खाए हुए थे. जब दोनों आमने-सामने हुए तो एक ने दूसरे से हाथ मिलाना चाहा. दूसरे ने हाथ मिलाए बगैर भला बुरा कहना शुरू कर दिया.

पुण्य प्रसून बाजपेयी, राणा यशवंत, दिबांग, अभिसार शर्मा समेत कइयों के इंडिया न्यूज से जुड़ने की चर्चा

दीपक चौरसिया के इंडिया न्यूज ज्वाइन करने के बाद कई लोगों के इंडिया न्यूज में देर-सबेर जुड़ने की चर्चा शुरू हो गई है. इसमें प्रमुख नाम हैं- पुण्य प्रसून बाजपेयी, राणा यशवंत, दिबांग, अभिसार शर्मा समेत कई जर्नलिस्ट. पुण्य प्रसून बाजपेयी को जी न्यूज करीब दस दिनों बाद रिलीव कर रहा है. उन्होंने 31 दिसंबर को इस्तीफा दे दिया था. माना जा रहा है कि रिलीव होने के बाद पुण्य इंडिया न्यूज के हिस्से बनेंगे. हालांकि इस बारे में पूछने पर पुण्य का कहना है कि वे कोई भी फैसला रिलीव होने के बाद लेंगे, उसके पहले टिप्पणी करना वे उचित नहीं समझते.

विजय लक्ष्‍मी ने नईदुनिया से शुरू की अपनी नई पारी

न्यू इंडियन एक्‍सप्रेस चेन्नई, राजस्थान पत्रिका व जागरण समूह में अपनी सेवाएं देने के बाद विजय लक्ष्मी ने अब नई दुनिया ज्वाइन कर लिया है। विजय लक्ष्मी नई दुनिया के दिल्ली ब्यूरो में बतौर संवाददाता काम करेंगी। विजय लक्ष्मी इससे पहले एसवन न्यूज चैनल में विशेष संवाददाता थी। एसवन में काम करने के बाद एक बार फिर विजय लक्ष्मी ने प्रिंट की रूख किया है। विजय लक्ष्मी ने पत्रकारिता की शुरुआत चेन्नई से की। चेन्नई में उन्होंने न्यू इंडियन एक्सप्रेस में बतौर संवाददाता काम किया। उनकी कई रिपोर्ट ने चेन्नई में उन्हें एक साल में ही स्थापित कर दिया। उनकी रिपोर्टिंग ने ही उन्हें राजस्थान पत्रिका में मौका दिलाया और उन्होंने राजस्थान पत्रिका में बतौर वरिष्ठ संवाददाता ज्वाइन किया।

रायबरेली के डीएम और अफसरों ने बसपा नेताओं संग लगाए ठुमके

: बीडीओ, डॉक्‍टर, एसओ समेत कई से हुई आयोजन के लिए उगाही : पत्रकारों की पिटाई करने वाले पुलिसवाले भी जमकर नाचे : रायबरेली : बीते साल को विदा करने के लिए डीएम साहेब ने जश्‍न मनाया। जिले भर के आला अफसरों के साथ छुटभैया अफसरों को न्‍यौता दिया गया। लेकिन शर्त यह कि आयोजन में वे अपना आर्थिक सहयोग पहले ही पहुंचा दें। लखनऊ के एक बड़े आर्केस्‍ट्रा को बुलाया गया। झमाझम आयोजन हुआ, आर्केस्‍ट्रा की सुरीली आवाज वाली नाजनीनों ने मेहमानों का दिल खुश किया और बेहतरीन दावत उड़ायी गयी। लेकिन इससे पहले डीएम साहेब ने कई बसपाई नेताओं के साथ मौज मनाते हुए उनके साथ ठुमके लगाये। खास बात यह कि डीएम साहेब ने इस आयोजन में बसपा के अलावा किसी दूसरी पार्टी अथवा जनसंगठन, ट्रेड यूनियन के नेताओं को पूरी तरह परहेज किया।

बड़े पुलिस अधिकारी और खिलाड़ी मंत्री जी के स्विस बैंक एकाउंट के डिटेल टीम केजरीवाल के हाथ लगे!

(कानाफूसी) अरविंद केजरीवाल ने अगर अपना कोई मीडिया हाउस खोला होता तो अब तक वह सबको पछाड़ चुका होता. पर उन्हें राजनीति करने की पड़ी है, और वह भी सिर्फ दिल्ली विधानसभा की, इसलिए वह भंडाफोड़ करके सारा मसाला मीडिया वालों के हाथों में थमा देते हैं और मीडिया वाले पूरे दिन इसी मसाले पर खेलते रहते हैं. काफी दिनों से केजरीवाल ने भंडाफोड़ नहीं किया है. लेकिन उनके यहां डाक्यूमेंट्स पहुंचने का क्रम जारी है.

चार सौ करोड़ रुपये का कमीशन न्यूज चैनल के रुट से डकारेंगे मंत्री जी?

एक चर्चा बहुत तेज है. इसके प्रमाण में डाक्यूमेंट्स भी सामने आ रहे हैं. बताया जा रहा है कि पहली जनवरी से मंत्री जी के एक न्यूज चैनल के मार्केटिंग का राइट किसी दूसरे चैनल को दे दिया गया है. ऐसा इसलिए क्योंकि एक बड़ी डील में चार सौ करोड़ से ज्यादा का कमीशन मंत्री जी का बना है, सो वह इस रकम को अपने तक लाने के लिए अपने न्यूज चैनल के रुट का इस्तेमाल कर रहे हैं.

लखनऊ के सरकारी मकान पर काबिज 53 पत्रकारों को खाली करने का नोटिस

लखनऊ से खबर है कि राज्य संपत्ति विभाग की तरफ से करीब 53 पत्रकारों को नोटिस जारी किया गया है. नोटिस में उनसे मकान खाली करने को कहा गया है. पहले तीस लोगों को नोटिस जारी किया गया. फिर तेइस लोगों को. इनमें से दर्जन भर से ज्यादा पत्रकारों ने जवाब देकर बता दिया है कि वे अवैध रूप से नहीं बल्कि सही तरीके से मकान पर काबिज हैं. पर करीब 45 ऐसे पत्रकार हैं जिन्होंने अभी कोई जवाब नहीं दिया है और ये गैर-कानूनी तरीके से मकान पर काबिज हैं.

दीपक चौरसिया की इंडिया न्यूज संग नई पारी शुरू, विधिवत ज्वायनिंग 14 जनवरी को

एबीपी न्यूज से इस्तीफा देने वाले चर्चित टीवी पत्रकार दीपक चौरसिया ने इंडिया न्यूज के साथ नई पारी शुरू कर दी है. उन्होंने इंडिया न्यूज आफिस जाना प्रारंभ कर दिया है. पूरे इंडिया न्यूज समूह को यह संदेश दे दिया गया है कि अब दीपक चौरसिया ही इंडिया न्यूज में सब कुछ फाइनल करेंगे. विभागाध्यक्षों को दीपक चौरसिया को रिपोर्ट करने के लिए भी कह दिया गया है.

फेम इंडिया का पटना कार्यालय शुरू, चंदन झा बने बिहार प्रमुख

FAME INDIA PUBLICATION का बिहार संस्करण बहुत जल्द आ रहा है। प्रबंध संपादक सुश्री श्वेता श्री के निर्देशन में यह संस्करण बहुत जल्द बिहार में देखने को मिलेगा, जिसकी तैयारी जोरों पर चल रही है। फेम इंडिया की टीम ने काम करना शुरू कर दिया है। हाल ही में आर्यन टी.वी से इस्तीफा देने वाले ब्यूरो प्रमुख चंदन झा ने बिहार प्रमुख के रूप में फेम इंडिया को ज्वाइन किया है।

सरकार से सस्ता प्लाट लेकर महंगे दाम में बेचने के मामले में बनारस से बहुत आगे है लखनऊ

यशवन्तजी, पत्रकार और पत्रकारिता के नाम पर लूट की एक बहुत गम्भीर खबर देने के लिए धन्यवाद. मित्र, पर प्रदेश का ‘सांस्कृतिकधानी’ वाराणसी इस मामले में राजधानी लखनऊ से बहुत पीछे है. राजधानी में तो अमूमन सभी बड़े-छोटे पत्रकारों का यह बाकायदा पेशा हो गया है. उन्हीं की आड़ में उनके लगुये-भगुये भी यही कर रहे हैं. अलबत्ता इनमें से अनेक छोटे-बड़े पत्रकार लखनऊ में राज्य सम्पत्ति विभाग के सस्ते आवासों में अपने और परिजनों के नाम भवन आवण्टित करा कर रह रहे हैं. यह और बात है कि उनमें से बहुत से दो-ढाई दशक से लखनऊ से बाहर, यहाँ तक कि प्रदेश से भी बाहर नौकरी कर रहे हैं.

पत्रकार को दिन की शिफ्ट में 6 घंटे और रात में 5.5 घंटे काम करना चाहिए

लगभग समूचे हिंदी प्रिंट मीडिया में जनसंदेश टाइम्स, बनारस जैसा हाल है। बड़े अखबार भी मजीठिया वेतन आयोग अपने कर्मचारियों को नहीं दे रहे। भड़ास का कोई पाठक किसी एक हिंदी अखबार का नाम बताए जो अपने कर्मचारियों को मजीठिया वेतनमान दे रहा है। इससे पाठकों को नई जानकारी मिलेगी। साथ ही अखबारों में काम करने वालों को यह पता चलेगा कि उनके साथ कितना अन्याय हो रहा है। अखबारों में पदों को सिलसिलेवार ढंग से समाप्त कर दिया गया है और मनमाने तरीकों से नए नए पद ईजाद किए जा रहे हैँ। ग्रूप एडीटर, डिप्टी एडीटर, डिप्टी न्यूज एडीटर, जूनियर सब एडीटर आदि इसी खुराफात का नतीजा है। इस तरह के पदों का जिक्र मजीठिया में नहीं है।

पूरे उत्‍तराखंड में ‘आत्‍मोत्सर्ग की पत्रकारिता के सौ साल’ के आयोजन के साथ सालाना कार्यक्रम शुरू

उत्तराखंड श्रमजीवी पत्रकार यूनियन ने हिंदी पत्रकारिता के पुरोधा अमर शहीद गणेश शंकर विद्यार्थी जी द्वारा संपादित "प्रताप" के यह सौवां साल के मौके पर "आत्मोत्सर्ग की पत्रकारिता के सौ साल" कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत कर दी है। नए साल की पहली तारीख को उत्तराखंड श्रमजीवी पत्रकार यूनियन ने प्रदेश के अनेक जिलों और नगरों में "प्रताप" और गणेश शंकर विद्यार्थी जी के आदर्श पत्रकारीय जीवन को लेकर विचार-गोष्ठियों का आयोजन किया।

हिंदी साप्‍ताहिक ‘जीएनए’ का लोकार्पण

गाजियाबाद। भारतीय कृषक समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष व अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर कृषि मामलों के विशेषज्ञ डा. कृष्णबीर चौधरी ने कहा कि पत्रकारिता के पेशे को मिशन के रूप में अपनाना चाहियें, जब पत्रकारिता को पत्रकार कमाई से जोड़ लेते हैं तो उसी दिन से पत्रकारिता अपने पथ से भटक जाती है। श्री चौधरी आरडीसी राजनगर स्थित विरचूओसिक इंस्टीटयूट आफ प्रोफेशनल स्टेडीज के प्रेक्षागृह में आयोजित हिंदी साप्ताहिक ''ग्रेट नेशनल अचिएवमेंट'' (जीएनए) के लोकार्पण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप मे उपस्थित पत्रकारों को सम्बोधित कर रहे थे।

एसएमबीसी के सीईओ मनीष मिश्रा का इस्‍तीफा, आसिम की नई पारी

एसएमबीसी इनसाइट चैनल से खबर है कि मनीष मिश्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीईओ के पद पर कार्यरत थे. बताया जा रहा है कि प्रबंधन से मतभेद के बाद मनीष ने इस्‍तीफा दिया है. वे चैनल की लांचिंग के समय से जुड़े हुए थे. मनीष के निर्देशन में ही चैनल लांच हुआ. मनीष प्रबंधन के अप्रोफेशनल रवैये से खुश नहीं थे. मनीष सिम्‍बायोसिस से एमबीए हैं. उन्‍हें फार्मा और मीडिया में काम करने का लम्‍बा अनुभव रहा है. वे एमएमबीसी से पहले नईदुनिया के साथ वरिष्‍ठ पद पर काम कर चुके हैं.

अमन वर्मा बने मेट्रो बाइट्स के कार्यकारी सम्पादक

: पवन एवं जितेंद्र भी जुड़े : जयपुर। गुलाबी नगरी के जाने-माने पत्रकार अमन वर्मा जयपुर से ही प्रकाशित होने वाले साप्ताहिक अखबार मेट्रो बाइट्स से जुड़ गए हैं। उन्हें यहां कार्यकारी सम्पादक बनाया गया है। अमन वर्मा इससे पहले राजस्थान पत्रिका, आज जयपुर, दैनिक अम्बर आदि संस्थानों में भी काम कर चुके हैं। इसके अलावा वे अंग्रेजी में प्रकाशित होने वाले लाइफस्टाइल अखबार मेट्रो स्टाइल के भी सम्पादक हैं।

सुधीर चौधरी के मानहानि वाले मामले में कोर्ट आज सुनाएगी फैसला

नई दिल्ली : जी न्यूज संपादक सुधीर चौधरी द्वारा कांग्रेस सांसद एवं उद्योगपति नवीन जिंदल व अन्य के खिलाफ दायर मानहानि के मामले में संज्ञान लिया जाए या नहीं, इस पर पटियाला हाउस कोर्ट बृहस्पतिवार को अपना फैसला सुनाएगी। नवीन जिंदल ने जी न्‍यूज के संपादक सुधीर चौधरी एवं जी बिजनेस के संपादक समीर आहलूवालिया पर कोल ब्‍लाक आबंटन घोटाले में खबर ना दिखाने के लिए सौ करोड़ रुपये मांगे जाने के आरोप में एफआईआर दर्ज कराया था, जिसके बाद पुलिस ने दोनों संपादकों को गिरफ्तार कर लिया था।

सड़क हादसे में पत्रकार हरजिंदर गंभीर रूप से घायल

अमृतसर के जंडियाला गुरु क्षेत्र में जीटी रोड पर एक कैंटर की चपेट में आकर एक पत्रकार गंभीर रूप से घायल हो गया. उसे लोगों ने उठाकर इलाज के लिए गुरु रामदास अस्‍पताल में भर्ती करवाया गया है. जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है. पुलिस ने कैंटर को अपने कब्‍जे में ले लिया है. जानकारी के अनुसार पत्रकार हरजिंदर सिंह कलेर अपनी मोटरसाइकिल से जांडियाला गुरु की तरफ आ रहे थे. जब वे जीटी रोड अनाज मंडी के सामने से आ रहे तेज रफ्तार कैंटर उनकी मोटरसाइकिल में जोरदार टक्‍कर मार दी, जिससे वे मोटरसाइकिल समेत सड़क पर गिर पड़े. उन्‍हें गंभीर चोटें आईं.

जालसाज संपादक प्रभा वर्मा का गैर कानूनी खेल!

: सूचना विभाग के अभिलेखों में 9 समाचार पत्रों का संचालन करने की पुष्टि : देहरादून। उत्तराखण्ड में बिना प्रसार के समाचार पत्रों की विभिन्न विभागों में विज्ञापन के नाम पर लूट जारी है। नियम कानूनों को ताक पर रखकर ऐसे समाचार पत्रों को विज्ञापन जारी किए जा रहे हैं जिनका वजूद सिर्फ फाइलों तक सीमित है। कई विभागों में अधिकारियों की मिली भगत से ऐसे समाचार पत्रों को विज्ञापन जारी किए जा रहे हैं, जिनका डीएवीपी तक जारी नहीं है और उनकी प्रसार संख्या सिर्फ सरकारी कागजों में मौजूद है। उत्तराखण्ड को शुरू से ही दुधारू गाय के रूप में बाहरी लोग इस्तेमाल करते आए हैं और अधिकारियों से लेकर बाहरी लोग यहां एनजीओ, समाचार पत्रों व कई योजनाओं में लाखों के वारे न्यारे चुके हैं, जिनकी जांच विजय बहुगुणा सरकार वर्तमान समय में कर रही है।

अमर उजाला के नार्थ हेड उदय कुमार नोएडा तबादला, बने न्‍यूज नेटवर्क हेड

अमर उजाला से बड़ी खबर है कि नार्थ रीजन हेड एवं वरिष्‍ठ पत्रकार उदय कुमार को चंडीगढ़ से नोएडा बुलाया जा रहा है. प्रबंधन ने उनका तबादला नोएडा के लिए कर दिया है. वे जल्‍द ही नोएडा में अपनी जिम्‍मेदारी संभाल लेंगे. फिलहाल प्रबंधन ने उन्‍हें पूरे ग्रुप का न्‍यूज नेटवर्क हेड बनाकर नोएडा बुलाया है. पर सूत्रों का कहना है कि प्रबंधन नार्थ में अमर उजाला का झंडा गाड़ने वाले उदय कुमार की उपयोगिता का फायदा अब नेशनल स्‍तर पर उठाना चाहता है.

पंकज ने अमर उजाला एवं विवेक ने आईबीएन7 ज्‍वाइन किया

हिंदुस्‍तान, बरेली से खबर है कि पंकज सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर रिपोर्टर के पद पर कार्यरत थे. पंकज ने अपनी नई पारी मेरठ में अमर उजाला के साथ शुरू की है. पंकज को यहां चीफ रिपोर्टर की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. पंकज बरेली में छावनी, मेडिकल, क्राइम समेत कई बीटों की रिपोर्टिंग कर चुके हैं. हिंदुस्‍तान से पहले भी पंकज कई संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

समकालीन सरोकार के चौथे अंक में जबरदस्त भंडाफोड़… साहित्य में नकल, पैरोडी और चोरी का धंधा

लेखक संगठनों की लीला और विश्वविद्यालयों में शोध लेखन की रामलीला पर देश भर के श्रेष्ठ रचनाकारों, लेखकों, साहित्यकारों के विचारोत्तेजक विचार लखनऊ से प्रकाशित समकालीन सरोकार के चौथे अंक में है. इंटरनेट के लुभावने और डरावने संसार पर भी एक नजर है. इस अंक में कामतानाथ, राजेश जोशी, हरीचरण प्रकाश, नरेश सक्सेना, प्रमोद जोशी, वीरेंद्र सेंगर, विमल कुमार, रमेश दीक्षित, प्रेम कुमार, वेद प्रकाश अमिताभ, शिवशंकर मिश्र, सुभाष गाताडे, पीयूष पांडेय, नील कमल, हरपाल सिंह अरुष, अमितेश, मुकुल श्रीवास्तव, विनोद तिवारी, राजेंद्र दानी, जय प्रकाश कर्दम, चंद्रकांत देवताले, रवींद्र वर्मा, पवन कुमार और प्रियंवद समेत अनेक श्रेष्ठ रचनाकारों की उपस्थिति है. ताजा अंक बाजार में आ चुका है.

एनडीटीवी पर मयंक सक्सेना : वीर तुम बढ़े चलो…

पत्रकारिता में ज्यादातर लोग पेट पालने आते हैं…. पत्रकारिता में आने वालों की जब नौकरियां चली जाया करती हैं या ये लोग कभी क्रांतिकारी मनोदशा में नौकरियां छोड़ दिया करते हैं तो वे फिर नई नौकरी तलाशने की अघोषित मुहिम में जुट जाते हैं…. पत्रकारिता में नौकरी करने वाले क्रांतिकारी पत्रकार कई झटके खुद खाने और कई झटके दिए जाने के बाद अंतत क्रांतिकारिता को चुपचाप त्याग कर चुपचाप समझौतावादी बन जाते हैं और नौकरी करते रहने के लिए तर्क व स्थितियां अपने दिल-दिमाग में पैदा कर लेते हैं….

सैलरी को लेकर जनसंदेश टाइम्‍स, बनारस में पेजीनेटरों का हंगामा

जनसंदेश टाइम्‍स, बनारस में फिर एक बार सैलरी को लेकर बवाल देखने को मिला. प्रबंधन ने अपने उन कर्मचारियों की सैलरी तो दे दी, जिनकी सैलरी खाते में जाती है, परन्‍तु नगद पैसा पाने वालों को सैलरी नहीं मिल पाई. बताया जा रहा है कि यहां पर दो तरह की व्‍यवस्‍था लागू है. कुछ कर्मचारियों की सैलरी सीधे उनके खाते में जाती है, जबकि तमाम को नकद पैसा दिया जाता है. हालांकि इसके बारे में आरोप लगाया जाता है कि यह ब्‍लैकमनी को सफेद करने की कोशिश में होता है. खैर.

जल्‍द रायपुर से लांच होगा पीपुल्‍स समाचार, फिर यूपी की बारी

रामेंद्र सिन्‍हा के पीपुल्‍स समाचार का समूह संपादक बनते ही इसके विस्‍तार की योजनाएं शुरू हो गई हैं. पीपुल्‍स समाचार जल्‍द ही रायपुर से अपना नया एडिशन लांच करने जा रहा है. इसके बाद इसका विस्‍तार यूपी में होगा. फिलहाल छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से इसका प्रकाशन शुरू कर दिया गया है, लेकिन अभी तक इसकी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है. रायपुर में तीस हजार कॉपियों के साथ अखबार को लांच किए जाएगा. यहां से आधिकारिक तौर लांच होते ही पीपुल्‍स समाचार को यूपी के झांसी तथा लखनऊ में लांच करने की तैयारी शुरू कर दी जाएगी.

चीन ने प्रधानमंत्री के संपत्ति का खुलासा करने वाले पत्रकार को देश से बाहर निकाला

बीजिंग : चीन में एक दशक से ज्यादा समय से काम कर रहे न्यूयॉर्क टाइम्स के पत्रकार का वीजा की अवधि नहीं बढ़ाए जाने पर उन्हें देश से बाहर का रास्ता देखना पड़ा है। ऐसा माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ के परिवार के पास कथित तौर पर 2.7 अरब डॉलर की संपत्ति होने के संबंध में अखबार में प्रकाशित खबर के कारण उनकी वीजा अवधि नहीं बढ़ाई गई है। वर्ष 2000 से चीन में बतौर संवाददाता काम कर रहे 45 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई नागरिक क्रिस बकली सोमवार को अपने परिवार के साथ हांगकांग से चले गए।

प्रदेश भर में पत्रकारों पर सितम, यूपी प्रेस क्‍लब में दारू-मुर्गे का जश्‍न

लखनऊ : यूपी के कई जिलों में पत्रकारों की पुलिस पिटाई और प्रदेश भर में बलात्‍कारों की ताबड़तोड़ भरमार के माहौल में लखनऊ के नामचीन पत्रकारों ने जमकर जश्‍न मनाया। बीते साल की विदाई और नये साल के पावन मौके के नाम पर इन पत्रकारों ने अपने-अपने गले में शराब की दरिया बहाया और मुर्गों की अंत्‍येष्टि का जश्‍न मनाया। इसी दौर फोटो-सेशन भी हुआ। जाहिर है कि बात खुली और फिर शुरू हो गया आलोचनाओं और निंदाओं का दौर। पार्टी में कुछ बड़े पुलिस और प्रशासनिक अफसरों ने भी शिरकत की। हालांकि करीब एक सैकड़ा पत्रकारों की इस पार्टी के आयोजकों का दावा है कि यह इन-हाउस मामला था।

अनिल धूपर होंगे दबंग दुनिया में सलाहकार

किसी जमाने में दैनिक भास्‍कर के मार्केटिंग हेड रहे अनिल धूपर अब दबंग दुनिया से जुड़ने जा रहे हैं. वे दबंग दुनिया के सलाहकार बनने जा रहे हैं. खबर है कि वे एकाध सप्‍ताह में दबंग दुनिया से जुड़ जाएंगे. वे ग्रुप एडिटर पंकज मुकाती के सहयोगी के रूप में काम करेंगे. वाधवानी अपने सहयोगियों को इसकी जानकारी दे चुके हैं. एक दौर था जब इंदौर के अखबार जगत में धूपर की तूती बोलती थी और भास्‍कर में तो उनके बिना एक पत्‍ता भी नहीं हिलता था.

बनारस में इलेक्‍ट्रानिक मीडिया की लगाम गुंडों-माफियाओं के हाथ में

मैं राम सुंदर मिश्र 'राजू', काशी हिन्दू विश्व विद्यालय से स्नातक करने के उपरांत मार्केटिंग में नौकरी करके अपना और अपने परिवार के जीवन का भरण पोषण करता था. इसके बावजूद मैं टीवी पत्रकारिता से काफी प्रभावित रहता था. उसी का परिणाम रहा कि मेरे एक मित्र ने स्थानीय केबल चैनल की शुरुआत की और मुझे मार्केटिंग की जिम्मेदारी सौप दी. मैं मार्केटिंग के साथ साथ रिपोर्टिंग भी करने लगा. कुछ साल बाद मेरे मित्र ने चैनल बंद कर दी. उसके बाद मैं दूसरे लोकल केबल चैनल में काम करने लगा. अपने मेहनत और कर्मठता के बल पर शहर में अलग छवि बना ली.

मुकेश अंबानी की भांजी बनेगी शोभना भरतिया की पुत्रवधू

एक शादी दो कारपोरेट घराने को नजदीक लाने वाली है. मुकेश व अनिल अंबानी तथा देश की एक बड़े मीडिया संस्‍थान हिंदुस्‍तान मीडिया वेंचर्स की मालकिन शोभना भरतिया का परिवार रिश्‍तेदार बनने जा रहा है. धीरुभाई अंबानी की पुत्री नीना कोठारी की पुत्री नयनतारा कोठारी तथा कांग्रेसी सांसद शोभना भरतिया एवं बिजनेसमैन श्‍याम भरतिया के पुत्र समित भरतिया एक दूसरे के साथ परिणय सूत्र में बंधने जा रहे हैं. यह शादी चेन्‍नई में होने जा रही है.

”हरियाणा न्‍यूज के मालिक गोपाल कांडा की नौकरानी थी गीतिका शर्मा”

सिरसा : गीतिका शर्मा को हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल कांडा की नौकर कह कर प्रदेश के मंत्री शिव चरण शर्मा विवादों में घिर गए है। विमान परिचारिका गीतिका शर्मा आत्महत्या मामले में कांडा मुख्य आरोपी हैं। हरियाणा के श्रम एवं रोजगार मंत्री शर्मा ने यह भी कहा कि जिस मामले में कांडा को आरोपी बनाया गया है वह मामला इतना बड़ा भी नहीं है। भाजपा और महिला संगठनों ने शर्मा की टिप्पणी की तीखी आलोचना करते हुए इसे असंवेदनशील, अपमानजनक और शर्मनाक बताया।

आज समाज से एचआर हेड रविकांत का इस्‍तीफा

आज समाज से खबर है कि रवि कांत दरार ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे चंडीगढ़ में आज समाज और इंडिया न्‍यूज दोनों के एचआर डिपार्टमेंट के हेड थे. बताया जा रहा है कि उन्‍होंने निजी कारणों से इस्‍तीफा दिया है. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने वाले हैं इसकी भी जानकारी नहीं …

धर्मेद्र एवं योगेश ने कल्‍पतरु एक्‍सप्रेस ज्‍वाइन किया

आगरा से प्रकाशित होने वाले द सी एक्सप्रेस को अलविदा कह सब एडिटर के तौर पर सेवाएँ दे रहे धर्मेन्द्र पाराशर, योगेश शुक्‍ला ने कल्‍पतरु एक्‍सप्रेस ज्‍वाइन किया है. दोनों ने सब एडिटर के पद पर ज्‍वाइन किया है. योगेश इसके पहले सी एक्‍सप्रेस को अपनी सेवाएं दे रहे थे. इसके पहले वे राजस्‍थान पत्रिका …

जेल में पत्रकारों की संख्‍या रिकार्ड स्‍तर पर पहुंच गई

पत्रकारों के लिए साल 2012 हमलों का रहा। जेल में पत्रकारों की संख्या रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गई। 132 संवाददाता अपने कर्तव्य निबाहने के दौरान मारे गए। हममें से अधिकांश ने साल 2012 में एक नई तरह की संधि को देखा- लगभग 89 देशों ने इंटरनेट पर सरकारी प्रतिबंध का समर्थन किया। चीन से सीरिया तक की दमनकारी सत्ताओं ने महूसस किया कि कैसे डिजिटल मीडिया सरकारी झूठ, अत्याचार व भ्रष्टाचार को उजागर करता है।

अब जिलों में रोज मारी जा रही है स्‍थानीय पत्रकारिता

जिलों के स्तर पर होने वाली स्थानीय पत्रकारिता से सोच समझ और किसी भी विजन की उम्मीद तो कभी मिली ही नहीं. लेकिन पत्रकारिता के नाम पर जो तमाशे अक्सर देखने को मिलते हैं वह उसके बारे में मौजूद हर किताबी या पढ़ी लिखी बातों को झुठलाते नज़र आ रहे हैं. “वायस आफ वायसलेस” यानी जिनकी आवाज़ सत्ता प्रतिष्ठानों तक ना पहुँच रही हो उनकी आवाज़ बनना पत्रकारिता का मूल सिद्धांत माना जाता है. इसी सिद्धांत के बदौलत पत्रकारिता को वह मुकाम हासिल हुआ कि उसे लोकतंत्र के चौथे खम्भे के रूप में गिना या माना जाता है.

संत बन चुके पत्रकार माधवकांत मिश्रा महाकुंभ रवाना

नववर्ष का पहला दिन तो मस्त रहा। काश ऐसे ही मिलते रहें लोग। शाम जब खबरों में उलझा था तभी फोन आया। सोचा कोई खबर होगी लेकिन वहीं पुराना स्टाइल कहां हैं? कैसे हैं मान्यवर? मैं समझ नहीं पाया। बोले माधवकान्त मिश्रा बोल रहा हूं। मैंने कहा कि सर प्रणाम। नया वर्ष मंगलमय हो। बोले कि ऐसे नहीं काम चलेगा। आ जाइये तब होगा नव वर्ष मंगलमय। मैंने कहा कि समय निकाल कर दिल्ली आउंगा तो जरूर मिलूंगा। पहले भी आर्शीवाद लेता था अब तो पत्रकार से संत हो गये हैं तो संत का आशीर्वाद लूंगा।

गैंगरेप : विशेष सरकारी अभियोजक मीडिया से नहीं करेंगे बात

दिल्ली : दिल्ली सामूहिक बलात्कार मामले में विशेष सरकारी अभियोजक बनाए गए दयन कृष्णन ने कहा कि इस घटना के बारे में वह मीडिया से कोई बात नहीं करेंगे। कृष्णन ने एक बयान में कहा,‘सरकारी अभियोजक के तौर पर यह मेरा फर्ज है कि कानून के उच्च मानदंडों के अनुसार इस पूरी प्रक्रिया में निष्ठावान बना रहूं ताकि न्याय सुनिश्चित हो सके।’ उन्होंने कहा, ‘आपके निरंतर मिल रहे सहयोग के लिए मैं आप सभी का आभारी हूं।’ पुलिस ने इस मामले में गुरुवार को आरोप पत्र दायर करने की योजना बनाई है।

आमंत्रण के बाद भी मीडियाकर्मियों से नहीं मिले सीएम, पत्रकारों ने किया बायकाट

लखनऊ : यूपी में समाजवादी पार्टी की सरकार का अभी एक साल भी पूरा नहीं हो पाया है, पत्रकारों का दिल मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव के प्रति फट चुका है। नये साल के पहले दिन की दोपहर पत्रकारों ने आज अखिलेश यादव और उनके अफसरों के रवैये पर ऐतराज जताते हुए उनके बुलावा को बाकायदा ठुकरा दिया। हालांकि इसके बावजूद चंद पत्रकार मुख्‍यमंत्री की चौखट पर अरदास लगा ही गये। बाद में बायकाट करने वाले पत्रकारों और उनके विरोधियों के बीच खासी तू-तू मैं-मैं भी हुई।

पत्रकारों के नाम सीएम बहुगुणाजी की चिट्ठी… कितनी सच्ची, कितनी झूठी….

देहरादून : नए साल में हर साल मुख्यमंत्री का बधाई सन्देश लिखा कार्ड डाक से आता है. इस बार कार्ड नहीं, एक पत्र आया है. बहुगुणा जी का. हमारे को बधाई दी गयी है. मेरा दावा है ये बधाई सन्देश मुख्यमंत्री ने नहीं भेजा. बहुगुणा जी को ये तक नहीं पता कि राज्य में कौन पत्रकार हैं? किस चैनल में हैं? कौन रिपोर्टर हैं?

बनारस के कई पत्रकारों ने सस्ते दर पर मिले प्लाट को बेच कर लाखों कमाया

वाराणसी के पत्रकारों के लिए लम्बे संघर्ष के बाद चुप्पेपुर पत्रकारपुरम आवासीय योजना के तहत सैकड़ों पत्रकारों को प्लाट आवंटित हुए। पत्रकार संघ के निवर्तमान अध्यक्ष विकास पाठक, प्रदीप कुमार आदि ने इसे मूर्त रूप देने के लिए लम्बी लड़ाई लड़ी और अंतत: लोगों को महज लगभग 4 लाख में दो सौ वर्गफीट के प्लाट आवंटित हुए। आवंटन के समय ही लोगों को यह महसूस हो चुका था कि तमाम लोग पत्रकारों की आड़ में सस्ते प्लाट लेकर महंगे दामों पर बेचने के जुगाड़ में हैं। इसे रोकने के लिए बाकायदा रजिस्ट्री के समय बीस वर्षों तक प्लाट न बेचने का अनुबंध भी खरीदारों से हुआ था पर इसकी खुलेआम धज्ज्यिां उड़ रही हैं।

जागरण व हिन्दुस्तान समेत कई अखबारों पर मानहानि का मुकदमा ठोंकेगा पुष्पांजलि समूह

बीते दिनों आगरा में पुष्पांजलि समूह के निदेशक पुनीत अग्रवाल आगरा के संजय प्लेस  इलाके में रंगरेलियां मनाते हुए रंगे हाथों पकड़े गये. इसकी खबरें आगरा के दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान सहित अन्य समाचार पत्रों में प्रकाशित हुयी. इसमें बताया गया कि समूह के निदेशक के साथ आये लोगों ने मीडिया कर्मियों से भी हाथापाई की थी. इसलिए सभी अखबारों ने इसे प्रमुखता के साथ अपने प्रथम पेज पर प्रकाशित किया था. हालांकि इस दौरान अमर उजाला ने संयमित व्यवहार का परिचय दिया. उसने समूह का नाम न उजागर करते हुए इस खबर को छापा.

5 साल में एक IIMCian की कमाई- दस मुख्‍यमंत्री, 200 पत्रकार और कम्‍युनिस्‍ट ‘शिष्‍य’

कल यानी 31 दिसंबर की रात अचानक फेसबुक चैट पर पहली बार एक अनजान शख्‍स ने हरे कृष्‍ण कह कर संबोधित किया, जो पता नहीं क्‍यों और कैसे मेरी मित्र सूची में था। मैंने जवाब दिया और बात आगे बढ़ी। पता चला कि वह कोई ज्‍योतिषी है। फिर मैंने उसका प्रोफाइल देखा तो वह भारतीय जनसंचार संस्‍थान का पूर्व छात्र निकला। मेरी दिलचस्‍पी बढ़ी, सो मैंने बात जारी रखी। पता चला कि अपने भविष्‍य को लेकर बहुत से ऐसे लोग न सिर्फ चिंतित हैं बल्कि बाकायदे ज्‍योतिष सलाह लेते हैं, जिनसे उनके जानने वाले ऐसी उम्‍मीद नहीं रखते।

पुलिस ने प्रार्थी बन थाने पहुंचे पत्रकार को ही जेल में कर दिया बंद, गृह सचिव से जवाब-तलब

बिलासपुर। हाईकोर्ट ने एक पत्रकार की याचिका पर प्रारंभिक सुनवाई के बाद नोटिस जारी कर प्रदेश के गृह सचिव,डीजीपी व रायपुर के आईजी एवं एसपी से जवाब-तलब किया है। सूत्रों के अनुसार जनपद पंचायत अभनपुर के ग्राम पंचायत विरोदा के सरपंच ने अपने हित के लिए ग्राम में बने सरकारी डेम को तोड़वा दिया।

थरूर का अंग्रेजी ट्विट दो-तीन बार पढ़िए, मतलब समझ में आ जाएगा

Atul Agrawaal : शशि थरूर के ट्वीट को बेवजह तूल दिया जा रहा है। उनकी बात का तो सम्मान होना चाहिए। उन्होने कहा, "दिल्ली गैंग-रेप की पीड़िता की मौत के बाद, बलात्कारियों के खिलाफ जो कड़ा कानून बनाया जा रहा है उसका नाम पीड़िता के नाम पर रखा जाना चाहिए, अगर उसके मां-बाप को ऐतराज़ ना हो तो।" (Unless her parents object, she should be honoured & the revised anti-rape law named after her. She was a human being w/a name, not just a symbol.)

पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने के एसएचओ दिनेश कुमार के कुछ लोकप्रिय डायलाग

Mayank Saxena : दिल्ली पुलिस के एक एसएचओ साहब है…जो अपने आप को ख़ुद में क़ानून समझते हैं…दिनेश कुमार नाम है और पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने में तैनात हैं…मुग़ालता ये है कि जो एक बार थाने में आया वो इनकी दया पर आश्रित है…पहले Alok Dixit को ज़बरन डीटेन करने के बाद फिर 7 महिलाओं को देर रात तक थाने में बेवजह बिठाए रखा…और अब उस छात्रा शांभवी के साथ जो दुर्व्यवहार ही नहीं मारपीट भी इन्होंने की, उसके बारे में कहना भी शर्मसार करता है…एसएचओ दिनेश कुमार के कुछ ख़ुदाई जुमले हमने शेयर किए थे…बाकी भी सुनिए…

आज शाह सर (रवींद्र शाह) का जन्मदिन है : कुछ किस्से, कुछ यादें

दिन आज-कल के ही थे। ठीक एक साल पहले ठण्ड भी कुछ ऐसी ही थी। इंदिरा नगर के पत्रकार विहार का मकान नम्बर 702। रात के आठ-साढे आठ बज रहे थे। शाह सर मिक्सी में हरी मिर्च-धनिया-देसी टमाटर की चटनी पीस चुके थे। आधा नींबू काटकर निचोड़ रहे थे। थोड़ा उचक्कर उन्होंने रसोई की अलमारी से नीले कांच के दो गिलास निकाले और टीचर्स उड़ेलते हुए बोले-

हनी सिंह का गाना और शीला दीक्षित का नाचना… देखें वीडियो

बेहूदे और महिला विरोधी गानों के लिए कुख्यात हनी सिंह के गाने पर सीएम शीला दीक्षित ठुमके लगाएं, यह सुनने में अजीब लगता है, लेकिन सच है. नीचे दिया गया वीडियो गवाह है. यह संभव है कि शीला दीक्षित को हनी सिंह के 'मैं बलात्कारी हूं' जैसे कई अश्लीलतम गानों के बारे में न पता रहा हो. इन दिनों जब हनी सिंह अपने महिला विरोधी और अश्लील गानों के कारण जनाक्रोश के निशाने पर है तो शीला दीक्षित का उसके गाने पर नाचने का वीडियो प्रकाश में आना चर्चा का विषय बना हुआ है.

अजीत अंजुम का आह्वान- आफिसों के रेपिस्ट मानसिकता वाले बासेज, सीनियरों, जूनियरों को एक्सपोज करें लड़कियां

Ajit Anjum : सुनो लड़कियों ….अब वो तो लड़ते लड़ते चली गई लेकिन क्या आप सब लड़ने को तैयार हैं …..सिर्फ कैंडिल मार्च निकालने और नारे उछालने से कुछ नहीं होगा….सिर्फ कानून बनाने से कुछ नहीं होगा. मानसिकता भी बदलनी होगी. अपने आस-पास मौजूद रेपिस्ट मानसिकता वालों पर चोट करनी होगी …आप अपने दफ्तरों में ऐसे लोगों का सामना करती होंगी …उन्हें अब एक्सपोज करने की हिम्मत जुटाइए …

जनसत्ता अखबार में प्रकाशित इस खबर को पेड न्यूज न कहा जाए तो क्या कहा जाए?

प्रतिष्ठित जनसत्ता अखबार में अगर इस तरह की खबर छपती है तो इसके गंभीर पाठकों को दुख पहुंचना स्वाभाविक है. जनसत्ता के दिल्ली एडिशन में पेज नंबर आठ पर टॉप में दो कालम की एक खबर छपी है. इस खबर में खबर क्या है, पहले तो यही तलाश पाना मुश्किल होता है. दूसरे, अगर इसे आप समाजवादी पार्टी की प्रेस विज्ञप्ति मानकर पढ़ते हैं तो पूरी खबर में यह कहीं नहीं जिक्र है कि ये सारी बातें सपा की एक प्रेस विज्ञप्ति के हवाले से है. लखनऊ डेटलाइन से जनसत्ता ब्यूरो के हवाले से प्रकाशित खबर को आप भी पढ़िए और सोचिए कि क्यों न इसे पेड न्यूज की कैटगरी में रखा जाए. खबर नीचे है. -एडिटर, भड़ास4मीडिया

हिंदुस्‍तान के रिपोर्टर ने किया युवती का यौन शोषण, इज्‍जत की कीमत लगाई एक लाख

: यूपी पुलिस से भी नहीं मिला पीडिता को न्‍याय : दिल्‍ली गैंगरेप पर तमाम मीडियावालों ने नैतिकता, संस्‍कार और पता नहीं क्‍या क्‍या बातें लिखीं, कहीं, पर ये लोग उसका क्‍या करेंगे जो गंदगी खुद मीडिया के अंदर पल रही है. क्‍या ये लोग इतने ताकतवर हो गये हैं कि इनके दबाव से मजलूमों को इंसाफ भी नहीं मिल सकता. या यूपी की सरकार और पुलिस ही ऐसी हो गई है कि वो आरोपियों के साथ खड़ी दिख रही है. कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है गोरखपुर से. गोरखपुर के हिंदुस्‍तान अखबार में काम करने वाले पत्रकार शशिकांत जायवाल पर एक युवती ने आरोप लगाया है कि शादी के नाम पर यौन शोषण किया और अब पुलिस से मिलकर मेरी इज्‍जत की कीमत एक लाख रुपये लगवा दी.

धीमान चट्टोपाध्‍याय बने मिड डे में एडिटर, विशाल सी न्‍यूज से जुड़े

सीएफओ इंडिया मैगजीन से धीमान चट्टोपाध्‍याय ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर मैनेजिंग एडिटर के पद पर कार्यरत थे. उन्‍होंने मिडे डे ग्रुप के साथ अपनी नई पारी शुरू की है. उन्‍हें मिड डे ऑनलाइन एवं संडे मिड डे का एडिटर बनाया गया है. वे 12 जनवरी को अपनी नई जिम्‍मेदारी संभाल लेंगे. धीमान सीएफओ से लगभग ढाई साल पहले जुड़े थे. सन 1994 में एबीपी समूह के साथ फ्रीलांस जर्नलिस्‍ट के रूप में अपने करियर की शुरुआत करने वाले धीमान बाद में एशियन एज से जुड़ गए. यहां ब्‍यूरोचीफ की जिम्‍मेदारी निभाने के बाद वे टाइम्‍स आफ इंडिया, अहमदाबाद में एडिटर बने. उसके बाद मैंस वर्ल्‍ड मैगजीन में ग्रुप डिप्‍टी एडिटर बना. यहां से इस्‍तीफा देकर बिजनेस टुडे के साथ भी सीनियर एडिटर के रूप में काम किया. इसके बाद सीएफओ से जुड़ गए थे.

सुनिए लम्हों की दस्तक

17 दिसम्बर से देश एक बेजोड़ कोलाहल के भंवर में है। वीभत्स सामूहिक बलात्कार की घटना ने तो बस चिन्गारी का काम किया। विस्फोटक पदार्थ तो ना जाने कब से दिल्लीवासियों के ज़हन में जमा हो रहा था! शायद, पहली बार मीडिया के बताये बगैर ही वहशीयाना वाकये की बारीक़ बातें हर ख़ास-ओ-आम तक पहुंच गयीं। इससे निपटने के लिए क्या किया जाना चाहिए? इस यक्ष प्रश्न को लेकर ‘जितने मुँह, उतनी बातें’। सबसे सतही रवैया हमारे हुक़्मरानों का है। टेलीविज़न की चर्चाएं भी महज़ रस्म अदायगी भर हैं। बीमारी के सारे लक्षण महामारी के हैं, लेकिन नुस्ख़ें वही ‘लकीर का फ़कीर’वाले।

हनी सिंह के खिलाफ एफआईआर की ये है कॉपी

: Copy of FIR against Honey Singh : सेवा में, थाना प्रभारी, थाना गोमतीनगर, जनपद लखनऊ, विषय- श्री हनी सिंह नामक एक गायक द्वारा गाये गए और खुलेआम प्रसारित होने वाले अत्यंत भद्दे, अश्लील, स्त्री की लज्जा का अनादर करने वाले गानों के सम्बन्ध में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करने हेतु…