यदि वोट देने का पैमाना विकास है तो फिर बिहार में नीतीश को वोट क्यों नहीं?

मैं स्पष्ट कर दूं कि बिहार के एक ऐसे इलाके से आता हूं जहां विकास की लौ अब पहुंचनी शुरु हुई है। 2007 से मैं बिहार में नहीं रहता लेकिन इन सात सालों में जो कुछ भी परिवर्तन दिखा उसमें नीतीश कुमार का अक्स सामने आता है। सोचता हूं कि वो वहीं बिहार है जहां गड्ढ़े को सड़क कहा जाता था, ये वही स्कूल है जिसके छत नहीं होते थे, ये वही अस्पताल है जहां दवाएं तो दूर डॉक्टर नजर नहीं आते थे, ये वही पगडंडियां हैं जहां सैकड़ों बच्चियां साइकिल चला रही हैं।

सोनिया गांधी ने किया चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन

कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमति सोनिया गांधी 4 अप्रैल को अपने चुनावी दौरे में सरकारी उपक्रम एनटीपीसी के हैलीकॉप्टर का इस्तेमाल कर खुले आम न केवल चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया है बल्कि अपने राजनीतिक रसूख की दबंगई कर सरकारी साधन व पैसों का दुरुपयोग किया है। चुनाव आयोग को मामले को संज्ञान लेकर तत्काल चुनाव प्रचार में सरकारी साधनों के इसेतेमाल पर सख्त अंकुश लगाना चाहिए तथा इस्तेमाल करने वाले प्रत्याशी का नामांकन रद्द कर देना चाहिए।

सहारा ने सुप्रीम कोर्ट में दायर निवेशकों की रकम वापसी का प्रस्ताव वापस लिया

नई दिल्ली: सहारा ने सुप्रीम कोर्ट में दायर निवेशकों की रकम वापसी का अपना प्रस्ताव वापस ले लिया है। सहारा ने अपने प्रस्ताव में कहा था कि वह सेबी को तत्काल 2500 करोड़ देने को तैयार है और 2500 करोड़ की दूसरी किस्त वह तीन हफ्ते में दे देगा।

अपने अस्तित्व की आखिरी लड़ाई लड़ रहे है अजीत सिंह

देश के राजनैतिक परिदृश्य में कुछ चेहरे और उनके कृत्य हमेशा से ही आवाम के लिए बेहद दिलचस्प रहे हैं। राष्ट्रीय लोक दल के मुखिया और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जाट अस्मिता के वाहक चैधरी अजीत सिंह इस देश के राजनैतिक परिदृश्य में एक ऐसी ही शख्सियत रहे हैं जिन्होंनें, विचारधारा से हटकर किसी भी दल के साथ गठबंधन करने और, उस गठबंधन को अपने हित के लिए कभी भी खत्म करने में कतई गुरेज नहीं किया। अगर पिछले लोकसभा चुनाव की ही बात की जाए तो, उन्होंने भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था लेकिन भाजपा गठबंधन के चुनाव हार जाने के बाद वे कांग्रेस का दामन थाम कर केन्द्र में मंत्री बन गए। अपने गढ़ पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इस बार का आम चुनाव वे कांग्रेस के साथ मिलकर लड़ रहे हैं लेकिन, अतीत के अनुभवों को देखते हुए यह दावे से नही कहा जा सकता कि चुनाव के बाद उनकी राजनैतिक प्रतिबद्धता किस दल के साथ जाकर हाथ मिला लेगी।

राजगढ़ के डीएम ने दो मीडियाकर्मियों को जिला बदर किया

मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले के  कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी आनंद कुमार शर्मा ने आज दो मीडिया कर्मियो के खिलाफ़ जिला बदर के आदेश जारी कर दिए है। मध्यप्रदेश राज्य सुरक्षा अधिनियम के तहत यह कार्रवाही की गई है। जारी आदेश के मुताबिक आपराधिक गतिविधियों में लगातार लिप्त रहने, समाज विरोधी गतिविधियां घटित करने, अधिकारियो और आम जनता को भयभीत एवं आतंकित करने के कारण मीडिया कर्मी अनूप सक्सेना और लखन जाटव निवासी राजगढ़ को 6 माह के लिए राजगढ़ जिले और इससे लगे सीमावर्ती जिले गुना, शाजापुर, आगर मालवा, भोपाल, सीहोर, विदिशा जिले की सीमाओ के बाहर चले जाने के आदेश पारित किये है।

साधना न्यूज और जिया न्यूज के मालिकाना हक में बदलाव

दो न्यूज चैनलों के मालिकाना हक में बदलाव की अपुष्ट सूचना है. साधना न्यूज के मालिक अब तक दिनेश गुप्ता और मयंक गुप्ता हुआ करते थे. कहा जा रहा है कि अब इसके मालिक राकेश गुप्ता हो गए हैं जो पहले से ही साधना नामक धार्मिक चैनल संचालित कर रहे हैं. दिनेश गुप्ता और राकेश गुप्ता भाई भाई हैं. दिनेश गुप्ता के जिम्मे साधना न्यूज नामक रीजनल न्यूज चैनल हुआ करते थे तो राकेश गुप्ता साधना नामक धार्मिक चैनल चलाया करते थे. अब खबर आ रही है कि दिनेश गुप्ता ने साधना न्यूज को राकेश गुप्ता के हवाले कर दिया है.

कोयला घोटाले में लिप्त प्रतिष्ठान के हेलीकॉप्टर से सोनिया गांधी कर रहीं चुनाव प्रचार

: सोनिया ने एनटीपीसी का हेलीकॉप्टर तो रीता ने हाईकोर्ट के वाहन का किया इस्तेमाल : घोटाले के उडऩखटोले पर उड़ते हुए रोकेंगे भ्रष्टाचार! : घोटाले के उडऩखटोले पर विचरण करते हुए सोनिया-राहुल और उनकी कांग्रेस पार्टी भ्रष्टाचार रोकेगी। चुनाव आचार संहिता का छोटा-मोटा उल्लंघन तो चलता रहता है। आरोप-प्रत्यारोप भी चलते रहते हैं। लेकिन यह खबर आचार संहिता के छोटे-मोटे उल्लंघन या आरोप-प्रत्यारोप का हिस्सा नहीं है। यह गम्भीर अपराध है, जिस पर चुनाव आयोग को ध्यान देना चाहिए। वैसे, इसकी कोई उम्मीद नहीं है, फिर भी भारतवासियों को उम्मीद करने और नाउम्मीद हो जाने की आदत है।

मीडिया कर्मियों को दिलाउंगा जीवन बीमा : मनोज तिवारी

नई दिल्ली : फिल्म एक्टर, भोजपुरी गायक और उत्तर पूर्वी दिल्ली से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी ने विशेष रूप से शनिवार शाम क्राइम रिपोर्टर्स एसोसिएशन से मुलाकात की। उन्होंने पत्रकारों से उनकी समस्याओं पर गहन चर्चा की। इसके बाद उन्होंने ऐलान किया कि वह क्राइम रिपोटरों का बीमा करवाने का प्रयास करेंगे। तिवारी ने कहा कि पत्रकार कई तरह की परेशानियों का सामना कर जनता तक खबरें पहुंचाते हैं। उनका जीवन हमेशा जोखिम भरा होता है।

तीन दलित राम बने भाजपा के हनुमान : आनंद तेलतुंबड़े

बाबासाहेब आंबेडकर का झंडा ढोने का दावा करने वाले तीन दलित रामों ने – रामदास आठवले, राम विलास पासवान और राम राज (हालांकि उन्होंने कुछ साल पहले अपना नाम बदल कर उदित राज कर लिया था), सत्ता के टुकड़ों की आस में पूरी बेशर्मी से रेंगते हुए अपनी ठेलागाड़ी को भाजपा के रथ के साथ जोत दिया है. इनमें से पासवान 1996 से 2009 तक अनेक प्रधानमंत्रियों – अटल बिहारी बाजपेयी, एचडी देवेगौड़ा, आईके गुजराल और मनमोहन सिंह – के नेतृत्व में बनने वाली हरेक सरकार में केंद्रीय मंत्री (रेलवे, संचार, सूचना तकनीक, खनन, इस्पाद, रसायन एवं उर्वरक) रहे और उन्होंने खुद को एक घाघ खिलाड़ी साबित किया है.

धन्य हैं मोदी जी आप… सुभाष चंद्रा जी आप भी…

Sanjaya Kumar Singh : आज ज़ी न्यूज पर मोदी की रैली लाइव देख-सुन रहा था और इस बारे में पहले लिख चुका हूं, “भाषण बहुत ही घटिया और स्तरहीन था। ऊबाऊ ऊपर से। दोहराव इतना ज्यादा कि क्या कहने।” ज़ी न्यूज पर मोदी की खास बातें हाईलाइट की जा रही थीं, एक समय मुझे लगा नवीन जिन्दल के चुनाव क्षेत्र की रैली मैं ज़ी न्यूज पर क्यों सुन रहा हूं।

मनु पंवार एबीपी न्यूज से इंडिया टीवी पहुंचे, प्रमोद और मृदुल नई हिंदी मैग्जीन से जुड़े

एबीपी न्यूज से इस्तीफा देकर मनु पंवार इंडिया टीवी पहुंच गए हैं. मनु पंवार व्यंग्य लेखन में भी माहिर हैं. वे इन दिनों इंडिया टीवी में दिलचस्प प्रोग्राम 'वोट यात्रा' के प्रोड्यूसर हैं. इस शो को बॉलीवुड के कॉमेडियन हेमंत पांडे एंकर कर रहे हैं. शो का आइडिया इंडिया टीवी के एडिटोरियल डायरेक्टर कमर वहीद नकवी (जो पहले आज तक के बॉस थे) का है. वोट यात्रा के 15 से ज्यादा एपीसोड प्रसारित होने हैं जोकि देश के अलग-अलग इलाकों में शूट हुए हैं. आधे घंटे का ये शो इंडिया टीवी पर प्राइम टाइम में शाम 8.30 बजे आता है. इसे अगले दिन सुबह 11.30 बजे रिपीट भी किया जा रहा है.

अजय दयाल हिंदी पायनियर से इस्तीफा देने के बाद ‘इंडिया इमोशंस डाट कॉम’ के संपादक बने

आदरणीय, यशवंत भाईसाहेब, प्रणाम! मैंने साढ़े तीन बरसों की नौकरी के बाद पिछले दिनों हिन्दी पॉयनियर से त्यागपत्र दे दिया है। बरसों बाद कुछ छोड़ देने से दिल व्यथित है लेकिन कुछ नया करने को लेकर मन पुलकित भी हो रहा है। व्यथित इसलिए हूं कि प्रिंट मीडिया की निरंतर 19 बरसों की नौकरी के बाद अब मैं इससे मुक्त हो रहा हूं। …और पुलकित इसलिए कि 'इंडिया इमोशंस डाट कॉम' के संपादक के रूप में मैं वेब-जर्नलिज़म की एक नई दुनिया में प्रवेश कर रहा हूं।

यूपी का एक मंत्री दलाल टाइप पत्रकारों की मान्यता कराता है

उत्तर प्रदेश का एक मंत्री दलाल टाईप पत्रकारों की मान्यता भी करवाता है। चूंकि चुनाव सिर पर है, ऐसे में इस मंत्री की तूती बोलती है प्रदेश में। चुनाव बाद सबको पता है कि वह भगा दिया जाएगा। इसी वजह से यह मंत्री पत्रकारों के साथ अपने व्यवहार खराब नहीं करना चाहता। यही वजह है कि इस मंत्री ने सूचना विभाग में फोन कर कई लोगो को मान्यताएं दिलवाई हैं।

भोला पांडेय, उमा शंकर चौरसिया और संदीप वर्मा के बारे में सूचनाएं

हिंदुस्तान पलवल से खबर है कि यहां नियुक्त ब्यूरो प्रमुख भोला पांडेय ने फरीदाबाद में अमर उजाला ज्वाइन कर लिया है. पलवल में अब हिंदुस्तान अखबार में विनोद शर्मा रह गए हैं. 

मोदी की रैली में बीबीसी की दो महिला पत्रकार भीड़ में घिरीं

अलीगढ़ में नरेन्द्र मोदी की चुनावी जनसभा को कवर करने पहुंची बीबीसी न्यूज की यूनिट पर जान की बन आई। जनसभा में जैसे ही नरेन्द्र मोदी मंच पर संबोधन के लिये पहुंचे, बीबीसी न्यूज की दो महिला पत्रकार भीड़ में घिर गयी। हजारों की भीड़ में घिरी पत्रकार पर मोदी की नजर पड़ी तो एक महिला रिपोर्टर को सुरक्षा घेरा डी के अन्दर कर लिया लेकिन दूसरी सहयोगी महिला पत्रकार भीड़ में गुम हो गयी।

कर्मचारियों का हक मारना चाहते हैं अखबार मालिक

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिशों के अनुरूप वेतन और एरियर देने का वक्त जैसे-जैसे करीब आता जा रहा है, प्रिंट मीडिया के मालिकान इससे बचने की तरकीब बैठाने में बेहद खामोशी से जुट गए हैं। मजीठिया मंच को ऐसी जानकारी मिली है कि कई अखबार मालिक खासकर जागरण समूह ऐसे समय पर पुनर्विचार याचिका (रिव्‍यू पिटिशन) दाखिल करने वाले हैं, जब सुनवाई लटक सकती है और तब तक मुख्‍य न्‍यायाधीश और सरकार बदल जाएंगे।

बारह मई तक ओपिनियन पोल, एक्जिट पोल और चुनावी सर्वेक्षण पर रोक

चुनाव आयोग ने सभी मीडिया हाउसों को निर्देश दिया गया है कि वे 7 अप्रैल से 12 मई तक न तो एक्जिट पोल, न ही ओपिनियन पोल और न ही किसी भी तरह के चुनावी सर्वेक्षण का प्रकाशन कर सकेंगे. इस बाबत सभी जिलों के रिटर्निंग अधिकारियों को निर्देश भेज दिया गया है. गुड़गांव से खबर है कि जिले की सीट से लोकसभा चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी भी कोई सर्वेक्षण नहीं करा पाएंगे. इस संबंध में गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी व डीसी शेखर विद्यार्थी ने आदेश जारी किए हैं, जो उन्हें भारत निर्वाचन आयोग की तरफ से मिले थे.

यशवंत की पहाड़ यात्रा : भयों से पार, भयों के पार (कुछ तस्वीरें, कुछ वीडियो)

पहाड़ यात्रा-1 : भाग निकला बेसुरी दिल्ली से… गर्मियों भर पहाड़ों पर ठीहा… आध्यात्मिक अनुभूति के वास्ते… आत्मिक शांति के लिए… आज दोपहर पहुंच गया… इधर अदभुत शांति है, असीम सुंदरता है… मौन में ढेर सारे स्वर और रंग हैं… हर कुछ में एक सात्विक एहसास, ध्यान धारण सा आनंद… लोग गिने चुने, बस इतने कि शोर शब्द अप्रासंगिक है…

प्रेस क्‍लब में मोदी के खिलाफ अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाने वाले अपने स्‍टैंड पर कायम रहेंगे!

Deepak Sharma : HATE MODI ..but do not under rate him. आप अपनी ही बात कहना चाहें और दूसरे की बात सुनना ना पसंद हो तो ये किसकी प्रॉब्लम है? आप खुद की सोची समझी दुनिया में जी रहे हों तो फिर संवाद की जगह कहाँ बचती है? दरअसल ये लक्षण बताते हैं कि आप तटस्थ नहीं हैं. दुर्भाग्य से आप टीवी एंकर हैं और इससे बड़ा दुर्भाग्य ये कि मैं आपको जानता हूँ.

दैनिक भास्‍कर, अजमेर के 18वें स्‍थापना दिवस पर कई कर्मचारी सम्‍मानित

अजमेर : दैनिक भास्कर अजमेर संस्करण का 18वां स्थापना दिवस रविवार को भास्कर परिसर में आतिशबाजी के साथ धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम में भास्कर समूह से जुड़े लोगों के साथ आमंत्रित अतिथियों ने भाग लिया। यूनिट हेड जीके पांडे ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया इस दौरान भास्कर कर्मचारियों को उनके साल भर में किए गए उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित किया गया।

कनाट प्लेस में अखबारों-पत्रिकाओं की फुटपाथीय दुकान और मोदी-केजरीवाल पर छिड़ी आम-खास में बहस महान

Shailesh Bharatwasi : आज की शाम। कनॉटप्लेस में अख़बारों-पत्रिकाओं की एक फुटपाथीय दुकान। 6-7 लोग जिसमें से दो इस दुकान को चलाते हैं, एक व्यक्ति ऑटो चलाता है, एक कनॉट प्लेस में ही फुटपाथ पर 100 रुपये वाली शर्ट बेचता है। 1-2 शायद अख़बार-पत्रिका खरीदने पहुँचे हैं। सब यही चर्चा कर रहै हैं कि इस बार वोट किसको दें। तमाम बहस के बाद इनका निष्कर्ष यही है कि केजरीवाल बहुत ईमानदार आदमी है। उसे ही देना चाहिए।

नोएडा में महिला पत्रकार पायल शर्मा से हुई लूट, बदमाश गिरफ्त से बाहर

नोएडा में मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने एक महिला पत्रकार का हजारों रुपए और पर्स लूट लिया. लुटेरों ने सेक्टर-25 में इस घटना को उस समय अंजाम दिया जब महिला पत्रकार रिक्‍शा पर सवार होकर अपने घर जा रही थी. कोतवाली सेक्टर-20 पुलिस ने इस मामले की रिपोर्ट दर्ज कर ली है. अब तक कोई आरोपी अरेस्‍ट नहीं हुआ है. 

बनारस, रामबदन पटेल और दिल्ली वाली पार्टी

Kumar Sauvir : दिन में तो काशी भड़भड़िया और बकवादी बन जाती है। आपको अगर जब कभी वाराणसी से बात करना हो तो उससे मस्‍त टाइम होता है रात का। तब काशी दिल खोल कर बतियाती है, पूरी खामोशी के साथ। खाली सड़कों से गंगा की से बहती हवाओं के झोंके किसी अभिन्‍न प्रेयसि के दुपट्टे और उसके बालों की लटें आपके गालों को रह-रह कर सहलाते रहेंगी। और यही तो होता है कि काशी का भीतरी अनुभव।

दीपक चौरसिया ने इंडिया न्यूज पर ‘आप’ का फर्जी प्रवक्ता बिठा रखा है… शेम शेम

India News पर केजरीवाल और 'आप' की खिंचाई चल रही है. मंच पर 'आप' की टोपी पहने जो व्यक्ति बैठा है वह शिवसेना का प्रभात वालिया है. जंतर-मंतर पर दर्जनों प्रदर्शन शिवसेना के लिये कर चुका है. पता चला है कि यह प्रभात वालिया कई बार तिहाड़ आ-जा चुका है धोखाधड़ी के मामलों में. इंडिया न्यूज चैनल बीजेपी के लिये फर्जी विरोध फर्जी विद्रोह और फर्जी खबरें गढ़ता रहता है.

पूर्वी दिल्ली के तीन प्रत्याशी राजमोहन गांधी, महेश गिरि और संदीप दीक्षित पेड न्यूज के घेरे में

दिल्ली मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय ने लोकसभा चुनाव में पेड न्यूज की लिस्ट जारी की है। खास बात यह कि लिस्ट में सिर्फ पूर्वी दिल्ली संसदीय सीट के तीनों प्रमुख दलों के उम्मीदवारों का नाम शामिल हैं। आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार राजमोहन गांधी के नाम से सबसे ज्यादा तीन बार खबरें प्रकाशित हुई हैं। वहीं, खर्च की राशि के मामले में भाजपा प्रत्याशी सबसे आगे है।

समाचार प्लस चैनल में वाइस प्रेसीडेंट (न्यूज आपरेशन) बने ऋषि दत्त तिवारी

ऋषि दत्त तिवारी ने न्यूज एक्सप्रेस चैनल से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने नई पारी की शुरुआत समाचार प्लस न्यूज चैनल के साथ की है. उन्हें यहां वाइस प्रेसीडेंट न्यूज आपरेशन बनाया गया है. ऋषि कई न्यूज चैनलों में वरिष्ठ पदों पर काम कर चुके हैं. लखनऊ निवासी ऋषि दत्त तिवारी ने अपनी नई ज्वायनिंग के बारे में फेसबुक के जरिए अपने जानने-चाहने वालों को सूचित कर दिया है.

मोदी के खिलाफ ‘द इकोनॉमिस्ट’ के संपादकीय पर भड़के सुब्रमण्यम स्वामी

तिरुवनंतपुरम। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने लंदन की पत्रिका द इकोनॉमिस्ट में नरेंद्र मोदी के खिलाफ लिखे संपादकीय पर कड़ा एतराज जताया है। उन्होंने इसे भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करार दिया है।

कर्नाटक के वरिष्ठ हिन्दी साहित्यकार रंगनाथराव राघवेन्द्र को “गोइन्का हिन्दी साहित्य सम्मान”

जैन ग्रप ऑफ इंस्टिट्यूशन्स के चेयरमैन डॉ. चेनराज रॉयचंद जी की अध्यक्षता में गुलबर्गा के सुप्रसिद्ध साहित्यकार कमला गोइन्का फाउण्डेशन द्वारा घोषित इक्कीस हजार राशि का "पिताश्री गोपीराम गोइन्का हिन्दी कन्नड़ अनुवाद पुरस्कार" से डॉ. काशीनाथ अंबलगे जी को उनकी अनुसृजित कृति "सुमित्रानंदन पंत अवरा कवितेगळू" के लिए पुरस्कृत किया गया।

सुब्रत राय को बेसहारा छोड़ गई उनकी ‘सेलीब्रिटी ब्रिगेड’

आसाराम बापू और सुब्रत राय सहारा के मामले में एक गजब की समानता देखी गई। वह यह कि अपने-अपने क्षेत्र के इन दोनों दिग्गजों पर जब कानून का शिकंजा कसना शुरू हुआ, तो दोनों ने पहले इसे काफी हल्के में लिया। उनके हाव- भाव से यही लगता रहा कि इनकी नजर में ऐसी बातों का कोई महत्व नहीं है। उनके प्रताप से कानून की सारी कड़ाई धरी रह जाएगी। लेकिन कमाल देखिए कि एक बार ये कानून के शिकंजे में फंसे तो फिर इससे बाहर निकलने का कोई रास्ता फिलहाल इन्हें या इनके कुनबे को नहीं सूझ रहा। कुछ ऐसा ही हाल 1990 के दशक में फिल्म अभिनेता संजय दत्ता का रहा था। मुंबई दंगों के दौरान घर में अवैध असलहा रखने के मामले में कानून ने जब संजय को गिरफ्त में लेना शुरू किया, तब  शुरू में संजय बिल्कुल बेपरवाह नजर आते रहे। पुलिस, अदालत औऱ जेल आदि उन्हें किसी फिल्म की शूटिंग जैसा लगता रहा।

न्यूज इंडिया राजस्थान से जुड़े दिनेश कुमार डांगी

दिनेश कुमार डांगी अब अपनी नई पारी न्यूज इंडिया राजस्थान में खेलेंगे। इस चैनल में उन्होंने बतौर रिपोर्टर ज्वाइन किया है। दिनेश इससे पहले पत्रिका टीवी और भास्कर टीवी में काम कर चुके हैं।

चुनावी बिसात पर सजी मोहरें और हिन्दू राष्ट्र का सपना

16वीं लोकसभा के लिये चुनाव की सरगर्मी अपने चरम पर है और 7 अप्रैल से मतदान की शुरुआत भी हो चुकी है। इस बार का चुनाव इस दृष्टि से अनोखा और अभूतपूर्व है कि समूची फिजा़ं में एक ही व्यक्ति की चर्चा है और वह है नरेंद्र मोदी। भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी जिन्हें बड़े जोर-शोर से प्रधानमंत्री पद के लिये आगे किया गया है। इनके मुकाबले में हैं कांग्रेस के राहुल गांधी और एक हद तक ‘आम आदमी पार्टी’ के अरविंद केजरीवाल। केजरीवाल ने अभी कुछ ही दिनों पहले अपनी पार्टी बनायी है और देखते-देखते उनकी हैसियत इस योग्य हो गयी कि वह राष्ट्रीय राजनीति में जबर्दस्त ढंग से हस्तक्षेप कर सकें। कांग्रेस और भाजपा के बीच भारतीय राजनीति ने जो दो ध्रुवीय आकार ग्रहण किया था उसे तोड़ने में ‘आप’ ने एक भूमिका निभायी है और दोनों पार्टियों के नाकारापन से ऊबी जनता के सामने नए विकल्प का भ्रम खड़ा किया है।

इंडिया टीवी का जर्नलिस्ट निकला राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता

नवी मुंबई। अभी तक टीवी व प्रिंट मीडिया से जुड़े पत्रकारों पर पेड न्यूज़ लिखने का आरोप कुछ लोग लगाते रहे हैं। हालांकि इसकी कहीं भी पुष्टि नहीं हो पाई है। पर देश में सबसे अधिक टीआरपी वाले प्रतिष्ठित न्यूज़ चैनेल इंडिया टीवी (श्री रजत शर्माजी जिसके एडीटर हैं) की तरफ से नवी मुंबई, पनवेल व रायगढ़ क्षेत्र से न्यूज़ भेजने वाला गोपाल शाह नामक उनका टीवी जर्नलिस्ट राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता के रूप में सामने आया है। विभिन्न सूत्रों से यह भी पता चला है और खुद इस संवाददाताता ने देखा है कि गोपाल शाह अपनी टाटा इंडिगो कार पर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता का लेबल लगाकर पूरे शहर में घूमता है। इसके अलावा वह खुद का अपना परिचय इसी रूप में देता है व साथ में इंडिया टीवी का टीवी जर्नलिस्ट बताते हुए सबको कहता है कि मैं अब इंडिया टीवी में परमानेंट हो चुका हूँ।

द इकोनोमिस्‍ट ने लिखा – क्या कोई नरेंद्र मोदी को रोक सकता है?

Om Thanvi : कल 'द इकोनोमिस्ट' के बहुचर्चित लेख पर बात हुई थी। मैंने लिखा था काश कोई इसका अनुवाद कर देता। दो मित्रों ने तुरंत कर भेजा। एक मित्र का सन्देश था कि कि वे भी भेज रहे हैं। वे कृपया मेहनत न करें, मित्रवर मनोज खरे Manoj Khare का उम्दा अनुवाद मिल गया है। समाजी सरोकार वाले तमाम मित्रों की ओर से उनका आभार।

जी ने लांच किया पंजाब-हरियाण-हिमाचल चैनल

टीआरपी में लगातार हिचकोले खाते जी मीडिया कॉरपोरेशन ने जी पंजाब हरियाणा हिमाचल चैनल की लांचिंग शुक्रवार को की. इसे कुरुक्षेत्र से शुरू किया गया है. चैनल की लांचिंग के बाद कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आलोक अग्रवाल ने कहा कि जी मीडिया समूह की शुरुआत में पंजाब की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए 18 अक्टूबर 1999 में की गई थी. जी मीडिया समाचार जगत में अग्रदूत रहा है तथा इसने विभिन्न राज्यों की जरूरतों की पूर्ति के लिए कई क्षेत्रीय चैनल लांच किए हैं.

सामना के पूर्व संपादक बाल ठाकरे के खिलाफ अपील खारिज

मुंबई : बंबई हाईकोर्ट ने 1998 में सामना के तत्‍कालीन संपादक व शिवसेना संस्थापक दिवंगत बाल ठाकरे को मानहानि के मुकदमे से बरी करने के खिलाफ दायर समाजवादी पार्टी नेता अबु आसिम आजमी की अपील खारिज कर दी है. कोर्ट में जब यह मामला पेश किया गया तो सपा नेता आजमी पेश नहीं हुए. इसके चलते न्‍यायमूर्ति मृदुला भटनागर ने आजमी की अपील खारिज कर दी. आजमी इसके पहले भी कई तारीखों पर कोर्ट के सामने पेश नहीं हुए थे.

समाचार प्लस (यूपी-उत्तराखंड) से जुड़े विकास शर्मा

ख़बर है कि विकास शर्मा ने समाचार प्लस (यूपी-उत्तराखंड) के साथ बतौर एंकर-प्रोड्यूसर नई पारी की शुरुआत की है। ऑल इंडिया रेडियों, एफएम रेडियो, डीटीएच की हिंदी प्रसारण सेवा और गोल्ड दिल्ली में रेडियो जॉकी रहे विकास टोटल टीवी, टीवी100 और जनता टीवी में बतौर एंकर काम कर चुके हैं। विकास 2011 से 2012 तक इंडिया न्यूज़ में प्राइम टाइम एंकर भी रहे हैं।

पटना की गलियों तक सिमटा भास्कर, नये ठिकानों की तलाश में कई जिला संवाददाता

दैनिक भास्कर के बिहार में आने और उसके लांच होने के बाद यहां की पत्रकारिता जगत में काफी उथल-पुथल की स्थिति बन गई थी। कई मीडिया हाउसों के लोग इधर से उधर गये थे। पटना में अखबारों की कीमत भी घटी। कई जिलों के हिन्दुस्तान और जागरण के ब्यूरो प्रभारियों ने दैनिक भास्कर का दामन थाम लिया था। लेकिन आज वे खुद को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। कारण है दैनिक भास्कर का सिर्फ राजधानी पटना में ही सिमट कर रह जाना।

पीएमओ ने कहा वाड्रा डीएलएफ की सूचना माँगना ग़ैरकानूनी और आरटीआई का दुरुपयोग है

प्रधानमंत्री कार्यालय रोबर्ट वाड्रा पर डीएलएफ से जुड़े आरोपों के बारे में कोई भी सूचना तो नहीं ही देना चाहता, वह इस सूचना मांगने को गैरकानूनी, क़ानून का दुरुपयोग और आरटीआई एक्ट का बेज़ा इस्तेमाल भी समझता है।

क्या केजरीवाल इस चुनाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभा पायेंगे?

'आधार कार्ड परियोजना के खिलाफ क्यों खामोश हैं कारपोरेट के खिलाफ जिहादी केजरीवाल?'
'केजरीवाल के साथ जनांदोलनों के चेहरे तो हैं, लेकिन उनके मुद्दे सिर से गायब क्यों हैं?'

क्या सच में केजरीवाल में है इतना दम है कि वे इस चुनाव में वाकई महत्वपूर्ण किरदार निभा पायेंगे? जिस तरह से उन्हें दिल्ली का मुख्यमंत्री पद छोड़ना पड़ा, उससे उनकी राजनीतिक साख को बट्टा लग गया है तो दूसरी ओर उन्होंने भ्रष्टाचार के मसले उठाते हुए कारपोरेट राज को बेपर्दा करते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा के बारे में सवाल तो उठा दिया लेकिन उन्होने आर्थिक सुधारों के बारे में, विनिवेश और विदेशी पूंजी निवेश के जरिये बेदखल हो गयी अर्थव्यवस्था के बारे में मौन साध रखा है।

साहित्यिक पत्रिका ‘गुफ्तगू’ के ‘नवाब शाहाबादी’ अंक का विमोचन 6 अप्रैल को

इलाहाबाद। साहित्यिक पत्रिका ‘गुफ्तगू’ के नवाब शाहाबादी अंक का विमोचन 6 अप्रैल को अपराह्न तीन बजे महात्मा गांधी अंतरराष्टीय हिन्दी विश्वविद्याल के परिसर में किया जाएगा, इस अवसर पर मुशायरे का भी आयोजन किया गया है। मीडिया प्रभारी अजय कुमार ने बताया कि कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ कवि बुद्धिसेन शर्मा करेंगे, मुख्य अतिथि वरिष्ठ शायर …

मकान कब्जाने के लिए डॉक्टर को धमका रहे डीबी स्टार जबलपुर के संपादक

जबलपुर में सबसे ज्यादा प्रसार संख्या वाले दैनिक भास्कर के डीबी स्टार के संपादक गंगा पाठक औऱ उनके सहयोगी पर मकान कब्जाने के लिए गुंडागर्दी करने का आरोप लगा है। मामले जबलपुर के डॉ. बेहरे दंपति का है जिन्होने गंगा पाठक पर उनका मकान कब्जाने की नियत से धमकी देने का आरोप लगाते हुए पुलिस अधीक्षक से लिखित में शिकायत की है। डॉ. सुरेंद्र बेहरे ने शिकायत में कहा है कि गंगा पाठक की धमकियों औऱ दवाब के कारण उनकी पत्नी डॉ. सुषमा बेहरे की तबीयत बिगड़ी औऱ उन्हे आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा। पत्रिका अखबार ने 5 अप्रैल के अंक में इस प्रकरण के बारे में खबर छापी है।

दुनिया की श्रेष्ठतम महिला राजनीतिज्ञ रही हैं इन्दिरा गांधी

'पाकिस्तान के एक लाख सैनिकों को भारत की जेल में दबोचा……..निराश निक्सन इन्दिरा गांधी को बिच, यानी कुतिया कहता था'

भारतीय संदर्भ में देखा जाए तो पूरी दुनिया में अगर कोई लाजवाब राजनीतिज्ञ रहा है, तो वह थीं, बिला-शक, इन्दिरा गांधी। हां हां, मुझ पर गालियां-लानत भेजने के बाद जब थक जाएं तो सोचियेगा कि मैं क्‍या लिख-कह रहा हूं।

वेज बोर्ड को लेकर एकजुट हो रहे बस्तर के पत्रकार

नक्सली हिंसा के लिए चर्चित छत्तीसगढ के बस्तर संभाग में कार्यरत् पत्रकार अपने अधिकारों के लिए आंदोलन के मूड में है। खबर है कि मजिठिया आयोग की सिफारिशों पर कोर्ट से आदेश पारित होने के बाद विभिन्न समाचार पत्र समूहों में वर्षों से कार्यरत् पत्रकार अपना अधिकार पाने के लिए बेचैन है। उचित पारिश्रमिक के …

पीएम, पूर्व पीएम और उनके परिवार को एसपीजी सुरक्षा के खिलाफ पीआईएल

स्पेशल सिक्यूरिटी ग्रुप अधिनयम 1988 को संविधान के अनुच्छेद 14 के विपरीत होने के कारण विधिविरुद्ध घोषित करने और एसपीजी सुरक्षा मात्र आवश्यकता के अनुसार प्रदान किये जाने हेतु सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. नूतन ठाकुर द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में एक पीआईएल दायर किया गया है।

इसीलिए कांग्रेस के सामने मैं अपना शीश झुकाता हूं

'केवल नेता ही नहीं, कांग्रेस के कार्यकर्ता तक संवेदनशील रहे हैं, आज के दौर में तो केवल लूट-खसोट में मशगूल हैं कांग्रेसी। ज्यादातर लुच्चेा-लफंगों की जमात बन गयी है कांग्रेस'

लखनऊ: तारीख की तो ठीक-ठाक याद तो नहीं है, लेकिन हल्का-सा याद है कि यह करीब सन-73 के आसपास की बात होगी। या हो सकता है कि सन-74 ही रहा होगा। तब हवाई हमलों का दौर का भले न रहा हो, लेकिन उसकी आशंकाएं लगी रहती थीं। रात में हवाई जहाज उड़ते थे, और उसी वक्तस तेज सायरन बजा करता था। हल्ला मच जाता था कि हर आदमी अपने घर की सारे लालटेन-ढिबरी-चूल्हे वगैरह बुझा दे, वरना पुलिस पकड़ लेगी।

जी न्‍यूज का पतन जारी, इंडिया टीवी की टीआरपी में उछाल

तेरहवें सप्‍ताह की टीआरपी आ गई है. आजतक लगातार नम्‍बर वन बना हुआ है, जबकि एबीपी न्‍यूज ने भी दूसरे स्‍थान पर खूंटा गाड़ रखा है. लंबे समय से तीसरे स्‍थान पर चल रहे इंडिया टीवी ने इस बार दूसरे नंबर से नजदीकी बढ़ाई है. इस सप्‍ताह न्‍यूज नेशन की टीआरपी थोड़ी गिरी है, इसके बावजूद वो इंडिया न्‍यूज को पछाड़कर चौथे स्‍थान पर बना हुआ है. जी न्‍यूज का पतन लगातार जारी है. इसकी टीआरपी लगातार दूसरे सप्‍ताह भी गिरी है. यह चैनल छठवें स्‍थान पर है. 

विकास ने जनता टीवी एवं संजय ने जिया न्‍यूज ज्‍वाइन किया

एमएच1 न्‍यूज से खबर है कि विकास राज तिवारी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर एसोसिएट प्रोडयूसर के पद पर कार्यरत थे. विकास ने अपनी नई पारी जनता टीवी के साथ शुरू किया है. उन्‍हें यहां पर प्रोडयूसर बनाया गया है. उन्‍हें चैनल में शिफ्ट इंचार्ज बनाया गया है साथ ही वे यहां हरियाणा में हो रहे लोकसभा चुनाव तथा आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान चुनाव डेस्क को भी हेड करेंगे.

जिया न्‍यूज का कार्यालय बाउंसरों के हवाले!

जिया न्‍यूज की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. खबर आ रही है कि मालिकान अब इस चैनल को लंबा चलाने के मूड में नहीं है. इसको बेचने या फिर बंद किए जाने पर विचार किया जा रहा है. खबर आ रही थी कि चैनल के कार्यालय को बंद कर दिया गया है. कार्यालय में प्राइवेट बाउंसरों को लगा दिया गया है, लेकिन एडिटर इन चीफ कम सीईओ एसएन विनोद ने इस तरह की किसी भी बात को बेबुनियाद बताया है.

अफ़ग़ानिस्तान में पुलिस अधिकारी ने महिला पत्रकारों को गोली मारी

अफ़ग़ानिस्तान में एक अफ़ग़ान पुलिस अधिकारी ने दो विदेशी महिला पत्रकारों को गोली मार दी। पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान के खोस्त कस्बे में यह घटना ऐसे समय हुई है जब शनिवार को अफ़ग़ानिस्तान में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों के लिए संभावित तालिबानी ख़तरे के मद्देनज़र देश में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी है।

कालेधन के मुद्दे पर कांग्रेस को घेरेंगे मोदी

महज चार दिनों बाद ही मतदान के चरणों की शुरुआत होने जा रही है। भाजपा नेतृत्व की कोशिश है कि ऐन वक्त पर मतदाताओं के दिल और दिमाग में यह बात अच्छी तरह से बैठा दी जाए कि सत्ता में नरेंद्र मोदी आ गए, तो देश की तस्वीर बदल जाएगी। कांग्रेस की सत्ता में कालेधन का जाल बहुत विस्तृत हो गया है। लाखों करोड़ रुपए की रकम काले धन के रूप में विदेशी बैंकों में जमा है। यह जमा रकम गलत तरीके से कमाई गई है। इसी काली अर्थ व्यवस्था ने ही देश में कई तरह के आर्थिक संकट खड़े किए हैं। यदि भारी बहुमत से मोदी आते हैं, तो यह गारंटी समझी जाए कि एक साल के भीतर यह धन वापस आ जाएगा। इस खजाने से गरीबों और वंचितों के लिए कारगर कल्याणकारी योजनाएं शुरू की जाएंगी। ताकि, पूरे देश में खुशहाली आ जाए। इन निर्णायक चुनावी क्षणों में मोदी जोर-शोर से यह राजनीतिक ‘सपना’ बेचने में जुट गए हैं। वे जगह-जगह चुनावी रैलियों में यह बताना नहीं भूलते कि विदेशों में जमा काले धन से कांग्रेस के आला नेताओं के तार जुड़े हुए हैं। केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम कई मौकों पर इस मुद्दे पर सफाई दे चुके हैं। बजट के दौरान भी उन्होंने उल्लेख किया था कि सरकार ने कालेधन को वापस लाने के लिए किस तरह की ताबड़-तोड़ कोशिशें की हैं?

जिंदल के पैंतरे से परेशान जी समूह ने लिखा पत्रकारिता का इतिहास

नवीन जिंदल के खिलाफ कोर्ट में मात दर मात खा रहा जी समूह और उसके संपादक परेशान हैं. सुधीर चौधरी द्वारा नवीन जिंदल और ग्रुप के कई लोगों पर किए गए मानहानि समेत कई मुकदमों को विभिन्‍न अदालतों ने खारिज कर दिया है. इससे परेशान समूह अब अपनी वेबसाइट पर पत्रकारिता के इतिहास से लेकर भूगोल तक की चर्चा कर रहा है. आप भी पढ़े जी की वेबसाइट पर प्रकाशित कहानी नुमा दर्द….

चाटुकारिता या पत्रकारिता : वासिंद्र ने सुभाषचंद्रा की तुलना रामनाथ गोयनका से की

जी समूह के दो संपादक सुधीर चौधरी और समीर आहलुवालिया खबरों का दबाव बनाकर जिंदल ग्रुप से सौ करोड़ रुपए का विज्ञापन वसूलने की कोशिश में लगे थे, जिंदल ने स्टिंग करा दिया. मामला पुलिस के पास पहुंचा, पुलिस को आरोपों में दम दिखा, ब्‍लैकमेलिंग करने के आरोप में उसने जी समूह के दोनों संपादकों को अरेस्‍ट किया.

आधारहीन खबरें लिखने के आरोप में वीकली का संपादक अरेस्‍ट

सिवनी। मध्यप्रदेश के सिवनी में कोतवाली थाना पुलिस ने दैनिक अखबारों के संपादकों के खिलाफ आधारहीन खबरें प्रकाशित करने के मामले में एक साप्ताहिक समाचार पत्र के संपादक को कल गिरफ्तार किया।

केवी में डीएनए की महिला पत्रकार को बनाया गया बंधक

इंदौर. पत्रकारों पर हमले और अभद्रता की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही है। इंदौर के संयोगितागंज थाना क्षेत्र में स्थित केंद्रीय विद्यालय में गुरुवार को ऐसी ही घटना घटी। केवी के अध्‍यापक एवं कर्मचारियों ने अंग्रेजी अखबार डीएनए की रिपोर्टर को घंटों तक बंधक बनाए रखा। महिला पत्रकार की शिकायत पर पुलिस ने केवी की वाइस प्रिंसिपल और कई पुरुष कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

आफगानिस्‍तान में जर्मन फोटोजर्नलिस्‍ट की हत्‍या, कनाडा की पत्रकार घायल

काबुल : अफगानिस्तान में शनिवार को होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव से ठीक एक दिन पहले दो विदेशी महिला पत्रकारों पर हमला हुआ है. हमला करने का आरोप एक पुलिसकर्मी पर लगा है. खोस्त में हुए इस हमले में जर्मनी की फोटो जर्नलिस्‍ट मारी गयी हैं और कनाडा की पत्रकार बुरी तरह जख्मी हुई हैं. मारी गई महिला फोटो जर्नलिस्‍ट को प्रतिष्ठित पुलित्‍सर पुरकार मिल चुका है.

फोटो जर्नलिस्‍ट रेपकेस : तीन आरोपियों को मौत, एक को आजीवन कारावास की सजा

मुंबई : मुंबई की एक अदालत ने शुक्रवार को पिछले साल शहर के सुनसान शक्ति मिल्स में अलग-अलग घटनाओं में दो फोटो पत्रकार एवं एक अन्‍य युवती से सामूहिक बलात्कार के दोषी पाए गए तीन आरोपियों को मौत तथा एक आरोपी को आजीवन करावास की सजा सुनाई गई। इस मामले में अदालत ने बलात्कार के कई मामले में दोषी पाए जाने से जुड़े नए कानून के तहत पहली बार सजा सुनाई।

डीएम साहब, हमका पत्रकार बना देईं

पत्रकारों के भौकाल से कुछ लोग इस कदर प्रभावित हो जाते है कि उसी भौकाल के लिए पत्रकार बनने की जद्दोजहद में जुट जाते है। ऐसे लोगों का पत्रकारिता से कोई वास्ता नही होता। उनके लिए ‘‘पत्रकार’’ शब्द सिर्फ स्वार्थ सिद्धि का पर्याय नजर आता है। उसी भौकाल के लिए ऐसे लोग तमाम अखबारों या न्यूज चैनलों में हर तरह के जुगाड़ लगाकर इन्ट्री लेना चाहते हैं। लेकिन गाजीपुर में एक शख्स ने नए तरिके से अपने नाम के साथ ‘‘पत्रकार’’ शब्द जोड़ने की कवायद शुरू की है।

मुनाफे के लालच में अपने स्कूल की किताबों का लेखक बन गया चौथी पास कोयला व्यापारी

Pradeep Mishra: इन्दौर में एक कोयले औऱ ट्रांसपोर्ट का व्यसायी है नाम है पुरषोत्तम अग्रवाल। इनकी शैक्षिक योग्यता मात्र चौथी क्लास है। पिछ्ले कुछ वर्षो से ये शहर में, अपने पैसे के बल पर तीन स्कूल संचालित कर रहे है। अग्रवाल पब्लिक स्कूल, चमेली देवी पब्लिक स्कूल पार्ट एक और पार्ट दो। चमेली देवी पब्लिक स्कूल पार्ट दो, नर्सरी से 5वीं क्लास तक है। ये, यशवंत प्लाज़ा बिल्डिंग जो रेलवे स्टेशन के पास है, उसकी तीसरी मंज़िल की दुकानो व गलियारे मे चलाया जा रहा है। जहां न खेलने का मैदान है, ना ही प्रकतिक हवा व प्रकाश की व्यवस्था है। ये तीनो स्कूल सीबीएसई से मान्यता पात्र हैं।

बस्तर को संविधान के दायरे में लाने के लिए सोनी सोरी को चुनाव में सफलता दिलाना जरुरी

सोनी सोरी का प्रचार अभियान समय के साथ साथ सघन होता जा रहा है। उन्हें विभिन्न जनजातीय समाजों के समर्थन के साथ साथ राष्ट्रीय स्तर पर जाने पहचाने चेहरों का सहयोग भी मिल रहा है। डॉक्टर सुनीलम के आज लौट जाने के बाद बस्तर लोकसभा क्षेत्र में स्वामी अग्निवेश का पहुँचाना सोनी सोरी और उनकी टीम को उत्साहित कर रहा है। साथ ही, मानवाधिकार हनन के गम्भीर मामलों के खिलाफ संघर्षरत सोनी सोरी के पक्ष में विभिन्न क्षेत्रों से मिलती चुनावी मदद से पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व का असहज होना नुकसानदेह है।

कोबरा पोस्ट का नया खुलासाः पूर्वनियोजित साजिश थी बाबरी मस्जिद विध्वंस

आम चुनाव के शुरू होने से ठीक पहले 'कोबरा पोस्ट' द्वारा बाबरी मस्जिद से जुड़ा एक नया स्टिंग ऑपरेशन सामने लाया गया है। कोबरा पोस्ट के स्टिंग के सामने आने के बाद से राजनीतिक हलकों में हड़कंप मच गया है। इस स्टिंग में दिखाया गया है कि बाबरी मस्जिद विध्वंस योजना पहले से बनाई गई थी। इसकी जानकारी बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं थी। बीजेपी इस स्टिंग औऱ इसके जारी करने की टाइमिंग का खुलकर विरोध कर रही है। वहीं विरोधी पार्टियों का कहना है कि इस स्टिंग में कुछ नया नहीं है।

मोदी के मंच से बोले सुभाष चंद्राः ‘यो ज़ी चैनल भी समझो थारा ही सै’

कुरुक्षेत्र, हरियाणा। गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी की रैली में 'ज़ी न्‍यूज' के मालि‍क सुभाष चंद्रा मोदी के साथ मंच पर बैठे। उन्‍होंने ठीक उस शहर में मोदी के साथ मंच साझा कि‍या, जो उनके वि‍रोधी कांग्रेस सांसद व उद़योगपति नवीन जिंदल का लोकसभा क्षेत्र है। इस बहाने सुभाष चंद्रा ने अपना रोना रोया कि कैसे उन्‍हे झूठे मामले में एक सेठ और राजनेता ने फंसाया है। ऊपर से ये भी कहा भाइयों कुछ और मत समझना, मैं कोई राजनीति‍क आदमी नहीं हूं।

राडिया की फोन पर पकड़ी गई बातचीत की प्रारंभिक जांच के लिए रतन टाटा और सायरस मिस्त्री से सीबीआई करेगी पूछताछ

सीबीआई कॉरपोरेट लॉबिस्ट नीरा राडिया की फोन पर पकड़ी गई बातचीत की प्रारंभिक जांच के सिलसिले में टाटा संस के पूर्व चेयरमैन रतन टाटा व मौजूदा प्रमुख सायरस मिस्त्री से पूछताछ करेगी। सीबीआई सूत्रों ने कहा कि एजेंसी टाटा व मिस्त्री से स्पष्टीकरण मांगेगी। राडिया की फोन टैपिंग मामले में एजेंसी ने दो प्रारंभिक जांच में टाटा समूह का नाम शामिल किया है।

वसुंधरा सरकार ने जिस डील को घोटाला कहा था उसे कोर्ट में फेयर का सर्टीफिकेट दे दिया

Nitin Thakur : देखिए साब… मैं कहता रहता हूँ कि देश को एक 5 हज़ारा क्लब चलाता है। अब बानगी देखिए । भीलवाड़ा में जिंदल ग्रुप ने तत्कालीन सीएम गहलोत से सांठगांठ कर किसानों की जमीनें कब्जा लीं। किसानों में आक्रोश था और उसे भुनाने की नीयत से बीजेपी ने उनका पक्ष लिया। भाजपा ने गहलोत सरकार को इस मामले में खूब घेरा। इसे सूबे का सबसे बड़ा घोटाला घोषित कर दिया। हाय-तौबा मचा दी।

एकदम छोटी-सी स्कर्ट में उर्मिला को देख हम लोग सकपकाए कि पिताजी क्या सोच रहे होंगे

Sanjay Sinha :  जिस साल आमिर खान और उर्मिला मातोंडकर की फिल्म 'रंगीला' आई थी, मेरे पिताजी जीवित थे। मैं, मेरी पत्नी, मेरा बेटा, छोटे भाई का परिवार और पिताजी, सब साथ गए थे बड़ौदा के उस सिनेमा हॉल में 'रंगीला' देखने। पीछे का टिकट नहीं मिला था, इसलिए आगे की सीट पर हमने बैठ कर 'रंगीला' नाइट शो में देखी। उर्मिला मातोंडकर का गाना आया, एकदम छोटी सी स्कर्ट में उर्मिला को देख कर हमलोग थोड़ा सकपका गए कि पिताजी क्या सोच रहे होंगे।

तेजपाल के पक्ष में लिखने पर मनु जोसेफ औऱ सीमा मुस्तफा की प्रेस काउंसिल में शिकायत

वरिष्ठ पत्रकारों मनु जोसेफ और सीमा मुस्‍तफ़ा द्वारा तरुण तेजपाल प्रकरण में लिखे गए हालिया लेखों की शिकायत कुछ लोगों ने 'नेटवर्क ऑफ वुमन इन मीडिया' की तरफ ने प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया(पीसीआई) में की है। पीसीआई को लिखे पत्र में कहा गया है कि सीमा मुस्तफा का 'द सिटिज़न' में लिखा गया लेख “Alleged victim’s testimony in the Tarun Tejpal case at variance with CCTV footage” और मनु जोसेफ का 'आुटलुक' का लेख “What the elevator saw” आरोपी तेजपाल के पक्ष में लिखे गए प्रतीत होते हैं। शिकायतकर्ताओं का कहना है कि जनभावनाओं को प्रभावित करने के लिए ये जानबूझ कर किया गया प्रयास है जिससे कि पीड़िता के आरोपों को हल्का किया जा सके। दोनो ही लेखों में घटना के एक महत्वपूर्ण साक्ष्य, सीसीटीवी फुटेज, को लेकर एक ही तरह का केस तेजपाल के पक्ष में बनाने की कोशिश की गई है। जबकि इस विषय में ट्रायल कोर्ट का स्पष्ट आदेश है कि उस सीसीटीवी फुटेज को देखना, दिखाना और उसके विषय में लिखना ग़ैर-कानूनी है।

पत्रकारिता के नीरा राडिया काल में ‘निष्पक्षता’

नत्थी पत्रकारिता के खतरे  

न्यूज चैनल– ‘आज तक’ के एंकर-पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी और आम आदमी पार्टी के नेता अरविन्द केजरीवाल के बीच ‘आफ द रिकार्ड’ बातचीत का एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया से लेकर न्यूज मीडिया और चैनलों पर सुर्ख़ियों में है। अरुण जेटली जैसे वरिष्ठ भाजपा नेताओं से लेकर कुछ न्यूज चैनल तक एंकर-पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी पर पत्रकारिता की नैतिकता (एथिक्स) और मर्यादा लांघने का आरोप लगा रहे हैं। इस ‘आफ द रिकार्ड’ बातचीत में वाजपेयी की केजरीवाल से अति-निकटता और सलाहकार जैसी भूमिका को निशाना बनाते हुए उनकी निष्पक्षता पर ऊँगली उठाई जा रही है।

पत्रकार संगठनों से अपील है, वे आगे आयें और यूएनआई को मरने से बचायें

यूएनआई और इसकी हिंदी शाखा यूनिवार्ता की हालत खस्ता है। दूसरों की खबर देने वाली यह राष्ट्रीय न्यूज एजेंसी खुद खबरों में हैं। समस्त कर्मचारियों को पिछले आठ महीने से वेतन नहीं मिला है। किराये के मकान में रह रहे कर्मचारियों को मकान मालिकों ने मकान खाली कराने की नोटिस दे दिया है। किराना दुकानदारों ने उधार देना बंद कर दिया है। फीस का भुगतान न करने के कारण बच्चों के स्कूल से नाम कट रहे है। कर्मी धन संकट के कारण बेटियों के हाथ पीले नहीं कर पा रहे हैं लेकिन निष्ठुर प्रबंधन को इसकी कोई चिंता नहीं। हाल ही में चेयरमैन के एक नोटिस से कर्मियों के होश फाख्ता है। नोटिस संलग्न है। यूनियन की क्या हालत है किसी से छिपी नहीं।

चुनाव आयोग द्वारा आईएएस, आईपीएस के तबादलों पर दायर पीआईएल में फैसला सुरक्षित

इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने चुनाव आयोग के आदेशों पर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किये गए तमाम आईएएस तथा आईपीएस अफसरों के ट्रांसफर को रद्द किये जाने हेतु सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. नूतन ठाकुर द्वारा दायर पीआईएल पर आज अपना फैसला सुरक्षित कर लिया है।

बुरा न मानो चुनाव है, बदजुबानी जायज़ है

पिछले कई सालों से परंपरा सी बन गई है कि चुनावी राजनीति में एक-दूसरे के खिलाफ बदजुबानी की जाए। कुछ अंदाज होली के माहौल जैसा हो चला है, मानो कहा जा रहा हो कि बुरा न मानो चुनाव है। पिछले दशकों में स्थानीय नेता ही एक-दूसरे के खिलाफ कठोर टिप्पणियां उछालते दिख जाते थे। लेकिन, बड़े नेता राजनीतिक शालीनता बनाए रखने का शिष्टाचार जरूर निभा लेते थे। लेकिन, अब कई दलों के बड़े नेता भी बेशर्मी से जुबानी जंग पर उतारू हो रहे हैं। ताजा मामला केंद्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा का है। उन्होंने गोंडा की एक चुनावी सभा में एनडीए के ‘पीएम इन वेटिंग’ नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी करते वक्त अपना संयम तोड़ दिया।

पवारों, कलमाड़ियों, बंसलों, राजाओं, वाड्राओं से त्रस्त एक आम आदमी का राहुल गांधी को पत्र

Mayank Saxena : ये चिट्ठी राहुल गांधी के लिए…. प्रिय राहुल गांधी जी, आप के होर्डिंग और पोस्टर भी देखता हूं, भाषण भी सुनता हूं और आपकी सरकार भी देखी, दिल में कई सवाल उठते हैं और तमाम आक्रोश भी है। आप से सभी कुछ साझा कर देने को जी चाहता है, इसलिए नहीं कि आप कुछ कर सकेंगे बल्कि इसलिए कि आपको पता हो कि जनता सब समझती है। राहुल जी, आज से 10 साल पहले जब कांग्रेस नीत यूपीए सत्ता में आया तो लोगों ने बीजेपी नीत एनडीए की नाकामियों और कारपोरेट परस्त नीतियों के खिलाफ आपको वोट दिया था। हालांकि बहुमत आपको भी नहीं मिला था लेकिन जनादेश निश्चित तौर पर एनडीए के खिलाफ था।

रेडियो पर ऐलान-ए-केजरीवाल और राग मोदी….

Vikas Mishra: एफएम सुनना इन दिनों बड़ा मुश्किल हो गया है। चुनावी प्रचार पका रहा है। केजरीवाल साहब का ऐलान सुन रहा हूं। फिर शर्त रख रहे हैं दिल्ली वालों पर कि 50 सीटें दो तब बनूंगा मुख्यमंत्री, फिर नहीं भागूंगा बढ़िया काम करूंगा। केजरीवाल 49 दिनों की सरकार चलाने के बाद भाग खड़े हुए थे, उसकी सफाई में कह रहे हैं कि लाल बहादुर शास्त्री भी ऐसा कर चुके हैं। बड़ी खुशी हुई जानकर कि देश के इतिहास में कोई तो एक नेता हुआ जिससे अपने से तुलना लायक पाते हैं केजरीवाल, शास्त्री जी ही सही। वरना तो केजरीवाल साहब अन्ना, गांधी, नेहरू, अटल बिहारी वाजपेयी को तो अपने चरणों की धूल के बराबर भी नहीं सेटते।

मैटर्निटी लीव मांगने पर महिला पत्रकारों को बर्खास्त कर देता है ज़ी न्यूज़

Yashwant Singh: मुंबई से एक वकील मित्र का फोन आया. उन्होंने एक स्वाभिमानी पत्रकार की कहानी बताई. ये महिला पत्रकार दो बरस पहले जी न्यूज में हुआ करती थी. शादी के लिए जब उसने छुट्टी मांगी तो उसे छुट्टी देने में बहुत परेशान किया गया. जब प्रीगनेंट हुई और मैटर्निटी लीव की बात जुबानी की तो उसे टर्मिनेट कर दिया गया. उसने कोर्ट का सहारा लिया. मुंबई में अपने पत्रकार पति के सहयोग से उसने लेबर कोर्ट में जी ग्रुप के खिलाफ मुकदमा किया. तारीख पर तारीख. सुनवाई पर सुनवाई. जी वालों की तरफ से प्रलोभन दर प्रलोभन. पर वह झुकी नहीं. लालच में नहीं आई. हार नहीं मानी.

फोटो जर्नलिस्‍ट रेप केस: तीनो आरोपी पुनरावृत्तिक अपराध के दोषी पाये गये

मुम्बई के शक्ति मिल परिसर में दो बार सामूहिक दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को अंजाम देने वाले कासिम बंगाली, विजय जाधव और मोहम्मद सलीम अंसारी को अदालत ने आईपीसी की धारा 376(ई) के अपराध का भी दोषी पाया है। इस धारा के अंतर्गत आजीवन कारावास, जिसमें व्यक्ति अपना शेष जीवन कारावास में बिताएगा, या मृत्यु दण्ड का प्रावधान है।

शगुन चैनल पर भी अपशगुन, कई लोग हुए बाहर

नोएडा : टीवी चैनल शगुन का शगुन आज गड़बड़ा गया। गड़बड़ा क्‍या, सत्‍यानाश हो गया। खबर है कि अनुरंजन झा की जुगाड़-टेक्‍नालॉजी से खड़ा हुआ यह चैनल आपसी बंटवारा के बवाल के चलते बंटाधार हो गया। देर शाम को ही इस चैनल के सारे कर्मचारियों को नोटिस थमा दी गयी कि :- दुकान बंद हो चुकी है, अब कल से आफिस मत आना। कहने की जरूरत नहीं कि इससे इस चैनल के दर्जनों कर्मचारियों पर जबर्दस्‍त बज्रपात हुआ है। हालत इतनी टाइट है कि यह कर्मचारी भुखमरी की शिकार होते जा रहे हैं। वजह यह कि दो महीनों से ही यह चैनल अपने कर्मचारियों को वेतन तक वेतन नहीं दे पाया था।

फोटो जर्नलिस्‍ट रेप केस : मुंबई की कोर्ट आज सुना सकती है फैसला

मुंबई : शक्ति मिल में फोटो पत्रकार से सामूहिक बलात्कार के मामले में सुनवाई कर रही सत्र अदालत मामले के तीन दोषियों की सजा की घोषणा आज कर सकती है। एक अन्य सामूहिक दुष्कर्म कांड में भी दोषी ठहराये गये तीनों शख्सों पर बलात्कार के मामले में एक नयी धारा लगाई गयी है जिसमें मृत्युदंड तक की सजा का प्रावधान है।

सुधीर चौधरी को कोर्ट में झटका, जिंदल के खिलाफ मानहानि का मुकदमा खारिज

: जिंदल से जुड़े कार्यक्रमों में एनबीए की गाइड लाइन अनुसरण करने का निर्देश : नयी दिल्ली : राजधानी की एक निचली अदालत ने कांग्रेस सांसद एवं उद्योगपति नवीन जिंदल के खिलाफ जी न्यूज के संपादक एवं बिजनेस हेड सुधीर चौधरी की मानहानि याचिका खारिज कर दी है.

सहारा ने सुप्रीम कोर्ट में कहा – नहीं हैं जमानत के लिए दस हजार करोड़ रुपए

नई दिल्ली : सहारा ग्रुप ने सुप्रीम कोर्ट से गुरुवार को कहा है कि सहारा के पास सहारा प्रमुख सुब्रत राय की जमानत के लिए 10 हजार करोड़ रुपये नहीं है। सहारा समूह की तरफ से सर्वोच्‍च अदालत को बताया गया है कि वह इतनी बड़ी जमानत राशि दे पाने में असमर्थ है। सहारा ने कोर्ट को एक नया प्रस्‍ताव दिया है। समूह की तरफ से कहा गया कि वह 5000 करोड़ रुपए दे सकता है, जिसमें 2500 करोड़ रुपये तुरंत तथा शेष 2500 करोड़ की राशि अगले 21 दिन के भीतर जमा करा देगा।

जनादेश के जश्न से पहले कद्दावर नेताओं की तिकड़म

1977 में देश की सबसे कद्दावर नेता इंदिरा गांधी को राजनारायण ने जब हराया तो देश में पहली बार मैसेज यही गया कि जनता ने इंदिरा को हरा दिया। लेकिन राजनारायण उस वक्त शहीद होने के लिये इंदिरा गांधी के सामने खड़े नहीं हुये थे बल्कि इमरजेन्सी के बाद जनता के मिजाज को राजनारायण ने समझ लिया था। लेकिन इंदिरा उस वक्त भी जनता की नब्ज को पकड़ नहीं पायी थीं। और 52 हजार वोट से हार गयीं। राजनारायण 1971 में इंदिरा से हारे थे और 1977 में इंदिरा को हरा कर इतिहास लिखा था। लेकिन उसी रायबरेली में इस बार सोनिया गांधी के खिलाफ किसी कद्दावर नेता को कोई क्यों खड़ा नहीं कर रहा है यह बड़ा सवाल है। तो क्या 2014 के चुनाव में जनता की नब्ज को हर किसी ने पकड़ लिया है इसलिये कद्दावर नेताओ के खिलाफ कोई शहीद होने को तैयार नहीं है या फिर जिसने जनता की नब्ज पकड़ ली है वह कद्दावर के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरने को तैयार है। यह सवाल पांच नेताओं को लेकर तो जरुर है। रायबरेली में सोनिया गांधी, बनारस में नरेन्द्र मोदी,लखनऊ में राजनाथ सिंह, आजमगढ़ में मुलायम सिंह यादव और अमेठी में राहुल गांधी।

चुनावी पैंतरा: टीम मोदी अब सेक्यूलर क्षत्रपों की भी लेने लगी ‘खबर’

चुनाव की घड़ी नजदीक आती जा रही हैं। ऐसे में, सियासी संग्राम तेज होता जा रहा है। होड़ लगी हुई है कि कैसे राजनीतिक रूप से नहले पर दहला मार दिया जाए। इधर, टीम मोदी ने भी अपनी रणनीति में एक बड़ा बदलाव किया है। अभी तक भाजपा के वरिष्ठ नेता अपना मुख्य राजनीतिक निशाना कांग्रेस पर ही साधते रहे हैं। लेकिन, अब रणनीति में कुछ बदलाव किया गया है। अलग-अलग राज्यों के लिए कई रणनीतियां बना ली गई हैं। कांग्रेस के साथ ही धुर-खांटी सेक्यूलर क्षत्रपों को भी निशाने पर रखा जा रहा है। इसकी आक्रामक शुरुआत खुद एनडीए के ‘पीएम इन वेटिंग’ मोदी ने शुरू की है। बिहार में वे पहले से ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधते आए हैं। वे बिहार के दौरे पर जाते हैं, तो चुनावी सभाओं में कांग्रेस से ज्यादा नीतीश पर बरसते हैं। उनकी सेक्यूलर राजनीति पर कटाक्ष के तीखे तीर चलाने से नहीं चूकते। शुरुआती दौर में वे उत्तर प्रदेश में सपा नेतृत्व पर सीधा निशाना साधने से बचते नजर आ रहे थे। लेकिन, अब उन्होंने सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और उनके सुपुत्र मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर तीखे कटाक्ष शुरू कर दिए हैं। मंगलवार को बरेली की रैली में तो उन्होंने सीएम अखिलेश यादव पर कई कटाक्ष किए। कह दिया कि सपा और बसपा का राज उत्तर प्रदेश को कंगाली के सिवाए और कुछ नहीं दे सकता।

कोई भी व्यक्ति मुझ पर खबर न लिखने का दबाव नहीं बना सकता

आपके वेब पोर्टल भडास पर अपने बारे में पढ़ा। धांधली के संबंध में पशुपालन विभाग के  प्रमुख सचिव का कहना था कि बिना लिखित शिकायत के कोई कार्यवाही संभव नहीं है। इस पर मैंने स्वयं शिकायत की। मेरे द्वारा की गई शिकायत पर उप्र के मुख्य सचिव श्री जावेद उस्मानी ने स्वंय जांच के आदेश दिए हैं, जोकि प्रचलित है। साथ ही पशुपालन विभाग के अधिकारियों को हिदायत भी दी गई है कि बसपा नेता की माताजी के नाम पर हाल ही में बने विवि से कापी जांचने का कार्य नहीं कराया जाएगा। किस हद तक गड़बड़ी की जा रही है, इसका अंदाजा मेरी संलग्न् खबर पढ़कर ही लग जाएगा।

शिवराज ने किया जनता से धोखा, रिलायंस को दिलाया २९००० करोड़ का फायदा

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने अनिल अम्बानी की कंपनी RPL को 29000 करोड़ का फायदा पहुँचाया है एवं मध्य प्रदेश कि जनता को ठगा है. एक तरफ तो शिवराज सिंह खुद को गरीबों का हमदर्द बताते है और दूसरी तरफ RPL जैसी कम्पनियों को फायदा पहुचाने के लिए सिफारिशी पत्र तक लिखते हैं. 2006 में कोयला मंत्रालय ने सासन UMPP के लिए २ कोल् ब्लाक (मोहेर एवं मोहेर अमलोहरी) सासन UMPP के लिए आवंटित किये थे। २ माह बाद ही 9th-अक्टूबर-2006 को ऊर्जा मंत्रालय ने यह कहते हुए कि २ कोल् ब्लाक सासन के लिए पर्याप्त नहीं होंगे, छत्रसाल कोल् ब्लाक NTPC से लेकर सासन को आवंटित कर दिया।

पेड न्यूज के चक्कर में अमर शहीद की कुर्बानी भूल गया पंजाब केसरी!

अमर शहीद लाला जगत नारायन का पंजाब केसरी अखबार अपने स्थापना के उद्देश्यों के रास्ते से भटक गया है। देश की आजादी की लड़ाई में शामिल रहले और पंजाब में खालिस्तान समर्थकों के विरोध अपने जान गवाने वाले लाला जगत नारायण के पुत्र और पौत्र इस वक्त उनकी कुर्बानी की आड़ में गलत तरीकों से सिर्फ रुपए कमाने में लगे हैं। पिछले कई चुनावों से पेड न्यूज छापने वालों के अग्रणी पंक्ति में शामिल रहने वाले इस अखबार ने तो इस बार हद ही कर दिया है।

सहारा ने मुझे बर्बाद कर दिया… तो सहाराश्री खुद को मुजरिम मानते हैं?

मैं रजनीश कुमार। एक मामूली सा इंसान। पटना के बाढ़ अनुमंडल का रहने वाला हूं। कभी मैं पटना के मीडिया में जाना-पहचाना नाम हुआ करता था। दैनिक जागरण में लंबे अरसे तक रहा। फिर राष्ट्रीय सहारा का दामन थाम लिया। लेकिन, यह मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी भूल थी। जिस सहारा को मैंने सहारा समझ कर थामा था, उसी ने मुझे डुबो कर बदनामी के एक ऐसे दलदल में धकेल दिया, जहां से निकलना मेरे लिए अब नामुनकिन हो गया है।

साठ लाख जिंदगियों के लिये नासूर बन गये हैं सुब्रत रॉय

नयी दिल्‍ली । भारतीय रेल के बाद दूसरा सबसे बड़ा नियोक्‍ता और मासूम लोगों के 20 हजार करोड रुपये हड़पने वाले सहारा सुप्रीमो सुब्रत रॉय आज 60 लाख जिंदगियों के लिये नासूर बने हुए हैं। सहारा में काम करने वाले कर्मचारियों को एक आदेश जारी किया गया है कि वो सुब्रत रॉय को तिहाड़ से बाहर निकालवाने के लिये पैसे एकत्र करें। सहारा में 12 लाख कर्मचारी काम करते हैं जिसमें 50 हजार फूल टाइमर है और 11 लाख 50 हजार कर्मचारी रीटेनर, एजेंट और फील्ड वर्कर हैं।

देहरादून के ‘राजसत्ता एक्सप्रेस’ में संपादक बने डॉ. बर्तवाल

उत्तराखंड के वरिष्ठ पत्रकार डॉ.वीरेंद्र बर्तवाल ने देहरादून में न्यूज ट्रेस्ट आफ इंडिया मीडिया ग्रुप ज्वाइन कर लिया है। एन.ट़ी.आई. ग्रुप के हिंदी ओर अंग्रेजी में दैनिक और साप्ताहिक समाचार पत्र के अलावा अतुल्य उत्तराखंड मासिक पत्रिका भी है। इस समूह में डॉ. बर्तवाल को राजसत्ता एक्सप्रेस में संपादक का दायित्व मिला है। डॉ. बर्तवाल डेढ़ दशक से अधिक समय से मीडिया में हैं।

पश्चिम बंगाल में मीडिया कर्मियों पर हमला, किसी की गिरफ्तारी नहीं

पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर शहर से खबर है कि प्रांतिका बस पड़ाव पर एक महिला मीडिया कर्मी का फोटो बस चालक ने मोबाइल में ले लिया. इसका विरोध करने पर बस कर्मियों ने मीडिया कर्मियों की पिटाई कर दी. इस संदर्भ में थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाई गई है. हालांकि पुलिस किसी को गिरफ्तार नहीं कर सकी है.

तेजपाल के समर्थन में क्‍यों उतर गए अनुराग कश्‍यप?

दिल्‍ली : फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप अब रेप के आरोपी तहलका के फाउंडर एडिटर तरुण तेजपाल का बचाव करने कूद पड़े हैं. अनुराग ने फेसबुक पर तेजपाल के पक्ष में लिखकर अपनी बात रखी है. उनके इस कदम से उनके समर्थकों में भी नाराजगी है, जबकि विरोधियों को मौका मिल गया है.  अनुराग ने फेसबुक पर लिखा कि मैंने सीसीटीवी फुटेज भी देखी है और इसमें वैसा कुछ भी नहीं है, जैसा वह लड़की तरुण तेजपाल के बारे में कह रही है.

महिला प्राचार्य से रंगदारी मांग रहे पांच मीडियाकर्मियों पर आपराधिक मामला दर्ज

मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले की ब्यावरा थाना पुलिस ने शासकीय बुनियादी प्राथमिक विधालय ब्यावरा की महिला प्राचार्य को धमका कर 25 हजार रुपए मांगने के आरोप में पांच मीडियाकर्मियों के खिलाफ़ आपराधिक मामला दर्ज किया है।

सोनभद्र का सूचना विभाग बना लायज़निंग का अड्डा, दस साल से सूचना अधिकारी की तैनाती नहीं

सोनभद्र। एक दशक से जिला सूचना अधिकारी की नियुक्ति की बाट जोह रहा जिला सूचना विभाग, सोनभद्र इन दिनों जिले में तैनात अधिकारियों की कारगुजारियों को छिपाने में मशगूल है। इनमें मजदूरों की हत्या तक के मामले शामिल हैं। ऐसे ही एक मामले का खुलासा दैनिक जागरण ने बुधवार को किया।

शूद्र मोदी का उभार हुआ तो सारे नालायक ओबीसी दलित नेताओं की खटिया खड़ी हो जाएगी

चुनावी समर की शुरुआत हो चुकी है। भारत की महान जनता सोलहवीं लोकसभा के गठन के लिए तय तारीखों पर अपने वोट डालेगी। हर चुनाव की कुछ न कुछ खासियत होती है। लेकिन यह चुनाव, जैसा कि अनुमान है, अपने नतीजों को लेकर लंबे अरसे तक जाना जाएगा और उम्मीद यह भी है कि यह भारत की भावी राजनीति का प्रस्थान बिंदु बनेगा। अर्थात् कई दृष्टियों से यह चुनाव ऐतिहासिक महत्व का होगा। परंपरानुसार, हम अपने वोट का दान करते हैं-मतदान। इसका इस्तेमाल हम हथियार या औजार की तरह कुछ गढ़ने या संघर्ष करने के लिए नहीं करते। शायद ऐसा इसलिए भी है कि हमारा समाज और लोकतंत्र आज भी मध्ययुगीन या उससे भी प्राचीन जमाने की मानसिकता में पल-बढ़ रहा है।

पिंकसिटी के पत्रकारों ने पेपर लैस चुनाव जरिए जनता को दिया संदेश

पिंकसिटी प्रेस क्‍लब जयपुर के हाल ही हुए चुनावों में पत्रकारों ने जनता को एक संदेश भी दिया है। क्‍लब की प्रबंध कार्यकारिणी के 15 पदों के लिए हुआ चुनाव पूरी तर‍ह पेपर लैस रहा। इस पूरे चुनाव में प्रत्‍याशियों की तरफ से पोस्‍टर, बैनर, पम्‍पलैट और पर्चो का कोई उपयोग नहीं किया गया। प्रत्‍याशियों ने केवल फोन, मोबाईल और सोशल मीडिया के जरिए ही मतदाताओं से वोट देने की अपील की थी। इस चुनाव प्रक्रिया में जो सुधार किया गया, उनकी चहुंओर तारीफ हो रही है। गुलाबी नगर के अनेक संगठनों ने प्रक्रिया में सुधार की तारीफ करते हुए उसे अपनाने की बात कही है।

हाय यूपी, हाय गरीबीः पांच रूपए खर्च करने पर पत्नी को मार डाला

यूपी का भगवान ही मालिक है। नेता-अफसर दिनरात मालामाल होते जा रहे हैं और आम आदमी गरीबी और मुफलिसी का शिकार। यहां आमदनी अठन्नी, खर्चा रूपैया की हालत है। सरकारी फाइलों में गरीबों के लिए कई योजनाएं दौड़ रही हैं। हुक्मरान उसी कागजी आंकड़ों को उपलब्धि मान इतरा रहे हैं, बलखा रहे हैं। यूपी में आखिर यह कैसा समाजवाद है जहां गरीब मर रहे हैं और अफसर-नेता गरीबों का हक मार करोड़ों से खेलते, जमुहाई लेते तोंद पर हाथ फेर रहे हैं। नेताओं पर लक्ष्मी की कृपा बरस रही है। मुट्ठीभर नेता सैकड़ों नहीं हजार-हजार करोड़ रूपए के मालिक बन बैठे हैं।

क्या वोट डालने भर से हमें बेहतर जिंदगी, वास्तविक आजादी मिल जायेगी?

16वीं लोकसभा के चुनावों की घोषणा हो चुकी है। सभी पार्टियां अपनी पूरी ताकत के साथ मैदान में उतर गयी है। चुनाव आयोग ने भी अपनी कमर कास ली है "आदर्श" आचार संहिता के नाम पर। जनता को वोट डालने के लिए समझाया जा रहा है ताकि "महान" लोकतंत्र की गरिमा को बचाया जा सके। जनता को बताया जा रहा है कि कैसे उनका एक वोट देश कि तस्वीर बदल सकती है? कैसे उनका एक वोट उनके पसंद का नेता चुन सकती है? कैसे उनका एक वोट उसके सरे समस्याओं का हल कर सकती है? और जनता को ये भी समझाया जा रहा है कि कैसे उनके वोट नहीं डालने से इस "महान" लोकतंत्र पर दाग लग सकता है और दुनिया के सबसे "बड़े" लोकतंत्र की बेइज्जती हो सकती है?

ढाई दर्जन पत्रकारों की रोज़ी छीनने वाले प्रभात रंजन दीन पत्रकारों के हितैषी कैसे?

लखनऊ: खासकर ब्यूरोक्रेसी पर भण्डा-फोड़ी खबरों के लिए शुरू हुए नये पोर्टल हल्लाबोल4यू के विमोचन समारोह पर बात क्या शुरू हुई कि सवालों की बौछारें शुरू हो गईं। पत्रकारिता पर बाहरी और भीतरी दबावों और खतरों को सूंघने और पत्रकारिता के भीतर पनप रहे दावों और उनके खोखलेपन पर खुलकर बातचीत शुरू हो गयी। गनीमत है कि मामला हल्की गर्मी से ज्यादा नहीं भड़क सका। इसी के साथ नये तेवर के साथ ताजा और विश्‍लेषणात्मक खबरों की एक नयी दुनिया शुरू करने का संकल्प लिया गया।

एनडीटीवी के खिलाफ जांच से सूचना मंत्रालय ने पल्ला झाड़ा

इन्कमटैक्स कमिश्नर एसके श्रीवास्तव के बारे में एनडीटीवी के चैनल्स पर झूठी खबर चलाए जाने के मामले में एडवोकेट एसके गुप्ता द्वारा सूचना और प्रसारण मंत्रालय में शिकायत की गई थी। मंत्रालय ने उनकी शिकायत को न्यूज़ ब्रॉडकासेटर्स एसोसिएशन(एनबीए) को अग्रेतर कार्यवाही के लिए भेज दिया है।

Journalist moves Labor Court against Hindustan for Majithia and Manisana Wage Board.

To    The Labour Commissioner,    Haryana, Chandigarh.   Sub:- Application for directing the management of Hindustan(Hindi), 18-20 Kasturba Gandhi Marg, New Delhi for releasing the wages of the applicant on the bases of Majithia wage Award 2011 and Manisana wage board award 2000 since the time of his appointment till the retrenchment of his …

भुल्लर प्रकरण में बिट्टा के ‘विद्रोही विलाप’ को भुनाने को तैयार है भाजपा

खालिस्तानी आतंकवादी देवेंद्र पाल सिंह भुल्लर की फांसी की सजा सुप्रीम कोर्ट ने उम्रकैद में बदल दी है। अदालत ने फांसी के अमल में हुई देरी और खराब सेहत के आधार पर भुल्लर को यह राहत दी है। सितंबर 1993 में नई दिल्ली में यूथ कांग्रेस के दफ्तर के बाहर भुल्लर और उसके साथियों ने भयानक आतंकी विस्फोट किए थे। इसमें 9 लोग मारे गए थे। मारे गए लोगों में युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता और सुरक्षाकर्मी भी थे। दो दर्जन से ज्यादा लोग घायल हुए थे। घायलों में युवा कांग्रेस के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष एम एस बिट्टा भी थे। आतंकियों के खास निशाने पर बिट्टा ही थे। लेकिन, उनकी जान बाल-बाल बच गई थी। इस हादसे के बाद बिट्टा ने आतंकविरोधी संगठन बनाकर अपनी सक्रियता बढ़ाई। भुल्लर को मिली राहत के बाद वे कांग्रेस नेतृत्व पर जमकर बरसने लगे हैं। उन्हें लगता है कि कांग्रेस आलाकमान सोनिया गांधी के सलाहकार ठीक नहीं हैं। ऐसे में, वे आतंकवादियों के मामले में भी नरम पड़ गई हैं। इसी का फायदा भुल्लर जैसे आतंकियों को हो रहा है। इस चुनावी मौसम में भाजपा के रणनीतिकार कांग्रेसी बिट्टा के विलाप को राजनीतिक रूप से भुनाने के लिए तैयार हो गए हैं।

मुंबई पत्रकार रेपकांड : तीन गवाहों को दुबारा बुलाए जाने की इजाजत

मुंबई : फोटो पत्रकार सामूहिक बलात्कार मामले की सुनवाई कर रही एक सत्र अदालत ने तीन दोषियों के खिलाफ अतिरिक्त अभियोग तय करने के सिलसिले में तीन गवाहों को दोबारा बुलाए जाने और उनसे जिरह की इजाजत की मांग करने वाली बचाव पक्ष की अर्जी स्वीकार कर ली है। अदालत ने पिछले महीने आईपीसी की धारा 376 ई (बलात्कार का अपराध दोहराने को लेकर सजा) के तहत एक अतिरिक्त अभियोग तय किया था, जिसमें  अधिकतम दंड के रूप में मौत की सजा तक हो सकती है।

पणिनी बनेंगे राज्‍यसभा टीवी के सलाहकार संपादक, लक्ष्‍मण सिंह की नई पारी

आउटलुक पत्रिका से जुड़े रहे वरिष्‍ठ पत्रकार पणिनी आनंद अब अपनी नई पारी शुरू करने जा रहे हैं. वे राज्‍यसभा टीवी के साथ सलाहकार संपादक के रूप में जुड़ेंगे. पणिनी बीसीसी, एनबीटी, हिंदुस्‍तान, जनसत्‍ता और सहारा समेत कई संस्‍थानों के साथ वरिष्‍ठ पदों पर जुड़े रहे हैं. हालांकि इस संदर्भ में पणिनी से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन बात नहीं हो पाई.

ये ‘दीन’ संपादक ‘प्रभात’ बनकर अवतार ले चुके हैं

किस को पार उतारा तुम ने किस को पार उतारोगे
मल्लाहों तुम परदेसी को बीच भँवर में मारोगे,
मुँह देखे की मीठी बातें सुनते इतनी उम्र हुई
आँख से ओझल होते होते जी से ही बिसारोगे।

राजकुमार ने हिंदुस्‍तान तथा अभिषेक ने साधना से इस्‍तीफा दिया

हिंदुस्‍तान, धनबाद से खबर है कि राजकुमार सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पिछले चार सालों से कार्यरत थे. राजकुमार ने अपनी नई पारी दैनिक भास्‍कर के साथ जमशेदपुर में शुरू की है. उन्‍हें यहां डीएनई बनाया गया है. राजकुमार धनबाद में हिंदुस्‍तान के सिटी इंचार्ज की जिम्‍मेदारी भी निभा चुके हैं. आज अखबार से अपने करियर की शुरुआत करने वाले राजकुमार सिंह प्रभात खबर के साथ बारह सालों तक रांची और धनबाद में कार्यरत रहे हैं. इसके बाद ये पिछले आठ सालों से हिंदुस्‍तान से जुड़े हुए थे. चार साल रांची में काम करने के बाद इन्‍हें धनबाद भेज दिया गया था. इनकी गिनती झारखंड के सुलझे हुए पत्रकारों में की जाती है.

फर्दाफाश टीम पर हमला, गगनदीप एवं शैलेंद्र हुए घायल

लखनऊ में पर्दाफाश की टीम के दो सदस्‍यों पर हमला किया गया है. लखनऊ के गाजीपुर कोतवाली में दर्ज कराए गए एफआईआर के मुताबिक पर्दाफाश टीम के रिपोर्टर गगनदीप मिश्रा तथा कैमरामैन शैलेंद्र शर्मा खबर की रिपोर्टिंग के लिए इंदिरानगर स्थित एचएएल कैम्‍पस के भीतर गए थे. जब वे वापस फैजाबाद रोड पर पहुंचे, इसी दौरान एचआर नंबर की फार्चूनर गाड़ी पर सवाल पांच-छह लोगों ने इन लोगों की बाइक रोक ली तथा गगनदीप को रोककर उसे बुरी तरह पीटने लगे.

संजय का तबादला, राजीव मेडिकल लीव पर गए

भास्‍कर, धनबाद से खबर है कि संजय चौधरी को रांची बुला लिया गया है. संजय कई बार विवादित सुर्खियों में रहे हैं. प्रबंधन ने संजय को रांची में रीजनल हेड बना दिया है. इसके पहले भी वे रांची में ही कार्यरत थे, लेकिन प्रबंधन ने उन्‍हें धनबाद भेज दिया था.

पंजाब केसरी का पत्रकार पशुपालन निदेशक पर बना रहा दबाव, मित्‍तल से की गई शिकायत

पंजाब केसरी के ब्यूरो प्रमुख असलम सिद्दीकी की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में है। इस संबंध में पशुपालन निदेशक डा. रुद्र प्रताप ने 26 मार्च 2014 को सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के निदेशक प्रभात मित्तल को पत्र लिखकर कार्रवाई किए जाने की मांग की है। पत्र में उल्लेख किया गया है कि उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त पत्रकार एसोसियेशन के अध्यक्ष असलम सिद्दीकी पर आरोप लगाया है कि श्रीट्रॉन कम्पनी को ओएमआर शीट के मूल्यांकन कार्य दिए जाने के लिए अनैतिक रूप से दबाव बना रहे हैं।

रिश्वतखोर भाजपा नेता गणेश मालवीय उर्फ ‘मोदी का चंदा मामा’

इंदौर। भाजपा के पीएम इन वेटिंग नरेंद्र मोदी तक पहुंच बनाने वाला गणेश मालवीय मंत्री कैलाश विजयवर्गीय और विधायक रमेश मेंदोला का अभिन्न साथी है। 2009 और 2013 के विधानसभा चुनाव में कैलाश के लिए महू में संचालन का मोर्चा मालवीय ने ही संभाला था। पिछले साल कैलाश के दम पर ही गणेश दिल्ली में भोजपुर से विस टिकट की दावेदारी भी जताकर आया था। मालवीय न सिर्फ कैलाश, बल्कि भाजपा के कई बडे नेताओं का खास है।

भास्‍कर, धनबाद के नए संपादक बने अमरकांत, बसंत दिल्‍ली भेजे गए

दैनिक भास्‍कर, धनबाद से खबर है कि स्‍थानीय संपादक बसंत झा का तबादला दिल्‍ली के लिए कर दिया गया है. बसंत लगभग एक साल से इस पद पर तैनात थे. बताया जा रहा है कि स्‍थानीय प्रबंधन से मामला जम नहीं पाने के कारण उन्‍हें धनबाद से सीधे दिल्‍ली का टिकट पकड़ा दिया गया.

पंजाब केसरी वाले अश्विनी कुमार का चुनाव लड़ना और मीडिया का ‘आप’ पर पिले रहना

Yashwant Singh : पंजाब केसरी का मालिक अश्विनी कुमार भाजपा के टिकट पर करनाल सीट से लोकसभा चुनाव लड़ रहा है. इस सीट से लड़ रहे सभी प्रत्याशियों में सबसे मोटा आसामी ये अश्विनी कुमार ही है. जो बताया है, ह्वाइट में, उसके मुताबिक साढ़े 38 करोड़ रुपये का आदमी है. दो बार इसे चुनाव आयोग की तरफ से नोटिस मिल चुका है… एक बार पेड न्यूज के लिए नोटिस मिला है.. अपने अखबार में अपनी ही जय जय छपवाकर फ्री में बंटवा रहा है… देखें- http://goo.gl/zFLxFI

देवनाथ का ज़ी न्यूज़ से इस्तीफा, अमर भारती प्रकाशन समूह में की वापसी

देवनाथ ने ज़ी न्यूज़ से इस्तीफा देकर 2 अप्रैल से 'अमर भारती' प्रकाशन समूह ज्वाइन कर लिया है। वह पिछले वर्ष अगस्त में ज़ी समूह में चले गए थे। पूर्व में भी 'अमर भारती' के संचालन का अधिकतम दारोमदार उन्हीं के कन्धों पर था। अतः अपने पत्रकारिता जीवन की प्रथम पाठशाला 'अमर भारती' के पुनः विस्तारीकरण एवं सुदृणीकरण हेतु उन्हें 'प्रबन्ध सम्पादक' के पद की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है।

सागरिका घोष और गैर-जिम्मेदाराना पत्रकारिता

Abhishek Srivastava : चांदनी चौक के चुनिंदा ''शहरी मुसलमानों'' से ibnopenmike में Sagarika Ghose ने जिस किस्‍म के सवाल मुस्लिम अस्मिता को लेकर पूछे, वे बेहद गैर-जि़म्‍मेदाराना पत्रकारिता के उदाहरण थे। हर एक सवाल पर ऐसा लग रहा था गोया वे अपनी बात उनके मुंह में डालकर नरेंद्र मोदी के पक्ष में कुछ न कुछ निकलवाना चाह रही हों। अगर यही काम कोई हिंदी का पत्रकार करता, तो उसे तुरंत हिंदू सांप्रदायिक करार दिया जाता। मुकेश अम्‍बानी के पैसे से चलने वाली सीएनएन-आइबीएन की पत्रकारिता चूंकि अंग्रेज़ी है इसलिए सेकुलर है।

‘फारवर्ड प्रेस’ मैग्जीन की कहानी : बहुजन अब भाजपा-संघ-एनडीए के लिए दबाव समूह का काम करेंगे!

Abhishek Srivastava : मैग्जीन Forward Press का ताज़ा चुनाव विशेषांक देखने लायक है। मालिक समेत प्रेमकुमार मणि और एचएल दुसाध जैसे बहुजन बुद्धिजीवियों को इस बात की जबरदस्‍त चिंता है कि बहुजन किसे वोट देगा। इसी चिंता में पत्रिका इस बार रामविलास पासवान, अठावले और उदित राज की प्रवक्‍ता बनकर अपने पाठकों को बड़ी महीनी से समझा रही है कि उन्‍होंने भाजपा का दामन क्‍यों थामा।

नवीन जिंदल के ‘फोकस’ चैनल का बुरा हाल

Abhishek Srivastava : कांग्रेस के कारोबारी नेता नवीन जिंदल का फोकस चैनल अदभुत और मौलिक किस्‍म का चैनल है। जब भी गलती से रिमोट का बटन दबते-दबते फोकस होता है, या तो नवीन जिंदल की बाइट चल रही होती है या फिर उनके झंडे आदि का कोई एंकर प्रचार कर रहा होता है।

PARDAPHASH reporter and cameraman attacked, FIR lodged

Lucknow: Pardaphash has always been the torch bearer in unearthing scams from the various government departments in the Uttar Pradesh state. Practicing investigative journalism and standing true to the journalistic ethics has never been a cake walk as the unkind souls leave no stone unturned to create hindrances through verbal spats or by being violent. The same has been once again suffered by two Pardaphash team members, who were attacked by the goons of corrupt BN Tewari, who is the owner Mars Farm Equipments ltd., for uncovering the fraud cooked by its firm worth several of crores.

जिया न्यूज से एसएन विनोद के इस्तीफे की चर्चा, पाणिनी आनंद ने आउटलुक मैग्जीन छोड़ा

वरिष्ठ पत्रकार एसएन विनोद के जिया न्यूज से इस्तीफा की चर्चा है. उनके साथ उनकी टीम के कई लोगों ने भी जिया न्यूज को बाय बाय बोल दिया है, यह भी कानाफूसी है. जिया न्यूज प्रबंधन इन दिनों अपने महिलाकर्मियों से दुर्व्यवहार को लेकर बुरी तरह फंसा हुआ है. प्रबंधन से जुड़े लोगों की गिरफ्तारी के आसार हैं. चर्चा है कि एकाध लोगों को पुलिस ने हिरासत में भी लिया है, पर इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है.

तम्बाकू के दुष्प्रभावों से लोगों को बचाने के लिए अतिरिक्त उपायों की जरूरतः हाई कोर्ट

इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने सिगरेट तथा सभी प्रकार के तम्बाकू पदार्थों के कुप्रभावों और हानिपरक असर से लाखों लोगों की जान बचाए जाने हेतु भारत सरकार और उसके प्राधिकारियों को सिगरेट तथा अन्य तम्बाकू उत्पाद (विज्ञापन का प्रतिषेध तथा व्यापर तथा वाणिज्य, उत्पादन, प्रदाय तथा वितरण का विनियमन) अधनियम, 2003 (तम्बाकू अधिनियम) के प्रावधानों के अतिरिक्त अन्य आवश्यक उपाय भी अपनाए जाने हेतु निर्देशित किया है।

चुनाव आयोग द्वारा किए गए आईएएस, आईपीएस अफसरों के ट्रान्सफर के खिलाफ पीआईएल

चुनाव आयोग के आदेशों पर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा हाल में तमाम आईएएस तथा आईपीएस अफसरों के किये गए ट्रांसफर को रद्द किये जाने हेतु सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में एक पीआईएल दायर की गयी है।

एक अप्रैल से मुंबई प्रेस क्लब में खाना-पीना हुआ मंहगा

अभी तक मुंबई प्रेस क्लब द्वारा सदस्यों से कार्ड स्वाईप पेमेण्ट के लिए तीन पर्सेंट अतिरिक्त शुल्क वसूला जा रहा था। आरोप था कि मुंबई प्रेस क्लब अपने सदस्यों को ही लूट रहा है। लेकिन अब मुंबई प्रेस क्लब क्रेडिट/ डेबिट कार्ड लेनदेन पर लगाए जाने वाले 3 प्रतिशत अतिरिक्त शुल्क की वसूली सदस्यों से नहीं करेगा। एक अप्रैल से इस प्रकार लेनदेन पर लगने वाले अतिरिक्त शुल्क को क्लब द्वारा वहन किया जाएगा। इसके साथ ही सरकारी निर्देशों के अनुरूप सभी सदस्यों से फूड आइटम्स पर वैट औऱ सेवा शुल्क वसूला जाएगा। प्रेस स्लब के सचिव ने सदस्यों को सूचित किया है कि पिछले दो सालों से कैंटान के रेट्स में कोई बढ़ोत्तरी नहीं हुई है। केटरर का कहना है कि इस दौरान खाद्य पदार्थों के दाम बहुत बढ़ गए हैं। अतः अन्य कोई विकल्प न होने के चलते कैंटीन रेट्स में थोड़ी बढ़ोत्तरी की जा रही है।

एनबीए के आदेशों का पालन करे जी मीडिया : हाई कोर्ट

नई दिल्ली : दिल्ली हाईकोर्ट ने जी मीडिया हाउस को निर्देश दिया है कि वह न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करे। हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति वीके शाली की खंडपीठ ने यह आदेश सांसद नवीन जिंदल की ओर से दायर मानहानि की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया। खंडपीठ ने कहा कि न्यूज चैनल किसी भी प्रकार का कार्यक्रम प्रसारित करते हुए इस बात का ध्यान रखे कि वह किसी भी तरह से न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का उल्लंघन न करता हो।

एमजे अकबर के दादा हिंदू थे

मशहूर अखबारनवीस एमजे अकबर ने पिछले दिनों भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली और पार्टी ने उन्हें राष्ट्रीय प्रवक्ता बना दिया है. राजनीति उनके लिए कोई नया काम नहीं है. वे इससे पहले भी 1989 में कांग्रेस पार्टी की ओर से बिहार के किशनगंज लोकसभा से चुनाव जीत चुके हैं, बाद में 1991 में उन्हें यह सीट गंवानी पड़ी, इसके बाद उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के अधिकारिक प्रवक्ता के रूप में काम किया.

चुनाव के दौरान सतर्क रहना होगा, कहीं नेताजी अप्रैल फूल न बना दें

भारत में आजकल विदेश से आयातित त्यौहारों की संख्या बढ़ गई है। कैलेंडर में देखें तो रोज कोई न कोई खास दिन होता है। इधर पश्चात्य संस्कृति ने अपने पांव पसारे हैं तो लगता है कि हर दिन ही त्यौहार है। जैसे ही लोग 14 फरवरी प्रेम दिवस (वैलेंटाइन-डे) मनाकर ही निपटे थे कि 8 मार्च को महिला दिवस मनाया और अब 1 अप्रैल को मूर्ख दिवस मनाएंगे। फिर मित्र दिवस, मातृ दिवस, पितृ दिवस और नया वर्ष जैसे दिन तो हर साल आते हैं और कभी एड्स विरोधी दिवस तो कभी कैंसर निरोधी दिवस भी सुनाई देता हैं। निकट भविष्य में अगर बुखार दिवस, बेबी(बच्चा) दिवस भी मनाए जाने लगें तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होनी चाहिए।

उम्र के लपेटे में फंसे वीरेन दा की चार कविताओं से ध्याड़

पिछले साल मेरी उम्र ६५ की थी/ तब मैं तकतरीबन पचास साल का रहा होऊंगा/ इस साल मैं ६५ का हूं/ मगर आ गया हूं गोया ७६ के लपेटे में.

वीरेन दा ने अपनी कविताओं से हमें फिर से ध्याड़ लगाई है. इसमें थोड़ी निराशा है तो इसके झींने पर्दे के पीछे छुपीं ढेरों ऊर्जा और आशा भी. तमाम नाउम्मीदों को एक जीवंत पुकार से मीलों पीछे धकेल देने वाले हमारे वीरेन दा आज कह रहे हैं-

अभय चौटाला और नवीन जिंदल में हुआ गुपचुप करार!

प्रिय यशवंत जी, आपको एक ई-मेल भेज रहा हूं। आपसे एक कार्यक्रम के दौरान मिला था। आज हरियाणा के एक ऐसे सच के बारे में लिखकर भेज रहा हूं, जिसने जनता की भावनाओं को तार-तार कर दिया है। दरअसल, हरियाणा की राजनीति में घिनौना करार हुआ है। कुरुक्षेत्र से धनपशु कांग्रेस प्रत्याशी नवीन जिंदल ने अभय चौटाला के साथ एक चुप तरीके से करार किया है। इस करार के मुताबिक हिसार में स्टील प्लांट में काम करने वाले 30,000 वाटरों का समर्थन आईएनएलडी प्रत्याशी दुष्यंत चौटाला को जाएगा। तो वहीं बदले में कुरुक्षेत्र में आईएनएलडी के 30,000 वोटर्स नवीन जिंदल को समर्थन देंगे।

Towards curbing hate mongering!

India has moved closer to curbing hate speeches and hate mongering by politicians and others with the Supreme Court directing the Law Commission of India to draft guidelines to define such infarctions. In a ruling, while disposing of a Public Interest Litigation (PIL) on March 12, 2014, the apex court said the guidelines would help in fine-tuning the norms that define the hate speeches and also remove ambiguity.

समाजवादियों के राज में गन्ना किसानों का भयानक शोषण

झुर्रियों में लिपटे किसानों के चेहरों के लिए लोकतंत्र के उत्सव का अब बहुत मतलब नहीं रह गया है। कुछ वादे तो ऐसे हैं जो हर चुनाव में नेताओं की सियासी वैतरणी पार कराने के काम आते हैं। किसानों की बदहाली के लिए नेता ही सबसे अधिक कसूरवार है। कांग्रेसी नेता स्व श्री कैलाश प्रकाश ने शिक्षा व विकास की जो बुनियाद रखी, वह आज दरकती नजर आ रही है।

दिल्ली में मुक़ाबला ‘आप’ और ‘बीजेपी’ के ही दरम्यान होगा

Sheetal P Singh : कल और आज दिल्ली की नब्ज़ लेने सड़क पर विचरण हुआ। कल वरिष्ठ शेष नारायण सिंह साथ थे। हम लोग मुस्लिम आबादी का रुझान देखना चाह रहे थे। शेष भाई उर्दू के जाने माने स्तंभकार हैं और अग्रज चंचल भाई की सोहबत और सेक्यूलर होने के नाते कांग्रेस को पसंद करते हैं। हाँ जब मैं सामने होता हूँ तो थोड़ी लिफ़्ट "आप" को भी मिल जाती है।

छत्तीसगढ़ के राष्ट्रवादी मुख्यमंत्री रमन सिंह किसी को भी नक्सली होने के आरोप में गिरफ्तार करवा देते हैं!

Sanjay Tiwari :  अब तक सुना था कि छत्तीसगढ़ के राष्ट्रवादी मुख्यमंत्री रमन सिंह किसी को भी नक्सली होने के आरोप में गिरफ्तार करवा देते हैं. अब देख भी रहा हूं. हिन्दू हिटलर की रैली में विस्फोट हुआ पटना में और सिमी के "आतंकवादी" पकड़े गये छत्तीसगढ़ में. सीजी पुलिस ने कहा कि इन लोगों ने सहयोग और सामान मुहैय्या करवाया था.

आनंद पांडेय के दैनिक भास्कर, रायपुर का स्टेट एडिटर बनने के बाद 21वां इस्तीफा हुआ बरुन सखाजी का

खबर है कि रायपुर दैनिक भास्कर से बरुन के. सखाजी ने इस्तीफ़ा दे दिया है. बरुन रायपुर भास्कर में पिछले ४ साल से जुड़े थे. उन्होंने जनवरी-२०१० में भास्कर के साथ अपनी पारी की शुरुआत की थी. इस्तीफे के पीछे के कारणों में बरुन की आगे बढ़ने की ललक बताई जा रही है. वे छत्तीसगढ़ के संपादक आनंद पाण्डेय से अपनी पोजीशन बदलने की बात कह रहे थे. उन्होंने इस सम्बन्ध में नेशनल एडिटर से भी गुज़ारिश की थी, कि उन्हें अन्य संस्करणों के साथ काम करने का मौका दिया जाये. किन्तु ऐसा होता इससे पहले ही बरुन ने इस्तीफ़ा दे दिया है.

पत्रकारिता में पेड न्यूज है तो फेसबुक पर पेड व्यूज का जोर है : ओम थानवी

Om Thanvi : पत्रकारिता में Paid News है: झूठी खबर लिखने के लिए उगाही होती है; उसी तरह फेसबुक पर Paid Views हैं: विरोधियों को गाली देने, बदनाम करने, निरर्थक बहस में उलझाने के पैसे मिलते हैं। पेड न्यूज से पेड व्यूज शायद आसान काम है, क्योंकि उसे अकेले और एकांत में चुपचाप अंजाम देना होता है। पकड़े जाने पर पेड न्यूज वाले को मुश्किल पेश आ सकती है; पेड व्यूज वाले का तो कुछ न बिगड़ेगा क्योंकि उसकी पहचान ही नहीं है, ब्लॉक हुए तो सौ फर्जी आइ-डी जेब में मौजूद मिलेंगी। 62 के चीनी सैनिकों की तरह: मारते जाइए, गिनते जाइए!