Categories: लखनऊ

सुंदर ने अपनी पहली मोहब्‍बत को अपनाया है, बीवी के साथ

लखनऊ: आर सुंदर ने आखिरकार पत्रकारिता को टाटा बाय-बाय कर दिया है। मतलब यह नहीं कि वह अब अभिव्‍यक्ति के असीम क्षेत्र को छोड़ने जा रहा है, बल्कि उसने पत्रिकारिता के परम्‍परागत क्षेत्र को छोड़कर अध्‍यापन को अंगीकार कर लिया है। वह भी फोटोग्राफी। लखनऊ के रामस्‍वरूप विश्‍वविद्यालय में अब वह सहायक प्रोफेसर के तौर पर अपने छात्रों को कैमरे के कमाल और बारीकियों-तकनीकियों से रू-ब-रू करायेगा।

कैमरा तो सुंदर की पहली मोहब्‍बत थी। बचपन से ही उसे कैमरे से बेइंतेहा मोहब्बत थी। लेकिन उसने अपनी इस पहली-पहली मोहब्‍बत को अब अपनाया है। पत्रकारिता में करीब 26 साल खपाने के बाद। हालांकि इसके पहले वह दो बैंक में भी काम कर चुका था, लेकिन जल्‍दी ही उसे इलहाम हो गया था कि बैंक की नौकरी उसका अभीष्‍ट नहीं है, और यहां रकम की जमा-निकासी का धंधा करने के लिए ही नहीं जन्‍मा है। आर सुंदर वैसे तो चेन्‍नई में जन्‍मा था। उसके पिता सेना में थे और बचपन में ही अपने पिता के साथ कानपुर में बस गया था। वहीं पढ़ाई की। एमकाम तक।

सन-82 में उसे बैंक आफ इंडिया में जुड़े। बाद में केनरा बैंक में क्‍लर्की मिल गयी। इसी बीच बैंक की हाउस मैग्‍जीन में उसका एक लेख छपा। उसी अंक में फतेपुर के जहानाबाद की रहने वाली और बैंक ऑफ इंडिया की ही कर्मचारी नमिता सचान की कविता छपी थी। दोनों से आपसी बातचीत की और मामला इतना ज्‍यादा बिगड़ गया कि आखिरकार इन दोनों ने शादी कर ली। अरे एक-दूसरे से ही यारों।

लेकिन सुंदर की सुंदरता तो पत्रकारिता में ही थी। सो, सन-88 में उसने टाइम्‍स इंस्‍टीच्‍यूट में प्रवेश लिया और 89 में उसका सलेक्‍शन लखनऊ के नवभारत टाइम्‍स में हो गया। सब एडीटर के तौर पर। सन-90 में उसने जयपुर के राजस्‍थान पत्रिका में काम शुरू किया और फिर 92 में कानपुर के स्‍वतंत्र भारत में नौकरी कर ली। फिर सन-94 में लखनऊ के राष्‍ट्रीय सहारा में और उसके बाद सन-2001 में हिन्‍दुस्‍तान के बाद उसने सन-2004 मुम्‍बई में सीएनबीसी आवाज ज्‍वाइन कर लिया। सन-2007 में बिजनेस स्‍टैंडर्ड में काम किया लेकिन सन2009 में नौकरी छोड़ दी। उसे लग चुका था कि परम्‍परागत पत्रकारिता के लिए वह नहीं जन्‍मा है। काफी उहापोह के बाद अब उसने शिक्षण का काम शुरू कर दिया है।

उधर नमिता अब बैंक की नौकरी से निवृत हो चुकी है। नमिता की कविताएं अभी भी सुंदर और उसके बेटों के साथ ही उनके मित्रों को ऊर्जा देती रहती हैं। न न, कभी भी इन लोगों में कोई बड़ा झगड़ा नहीं किया। अगर कोई काम पूरी शिद्दत के साथ किया तो इकलौता काम वह था सिर्फ एक-दूसरे से बेपनाह मोहब्‍बत। दो बेटे हैं, एक संकल्‍प और दूसरा शुभम। दोनों ही बैंगलोर में सेटल हैं, जबकि यह पुरानी जोड़ी लखनऊ में।

करीब बीस साल बाद आर सुंदर से मेरी मुलाकात आज दोपहर वाराणसी के हरीशचंद्र घाट के पास एक इडली की दूकान पर हुई। नमिता साथ ही थी। हमारे एक संयुक्‍त मित्र भी हमारे साथ मौजूद थे। यह परिवार अपनी माता-पिता के श्राद्ध के सिलसिले से काशी आया था। बातचीत का दौर चला तो सुंदर ने माना कि आज के कैमरे किसी सब्‍जेक्‍ट को केवल यथावत पेश करते हैं, उनमें तकनीकियों का तानाबाना बेहद न्‍यूनतम हो चुका है। उसने बड़ी निराश स्वर में कहा 'अरे! थ्रिल ही नहीं बची है आज के कैमरों में।'

 

लेखक कुमार सौवीर यूपी के वरिष्ठ और बेबाक पत्रकार हैं। संपर्क 09415302520

Bhadas Desk

Share
Published by
Bhadas Desk

Recent Posts

गाजीपुर के पत्रकारों ने पेड न्यूज से विरत रहने की खाई कसम

जिला प्रशासन ने गाजीपुर के पत्रकारों को दिलाई पेडन्यूज से विरत रहने की शपथ। तमाम कवायदों के बावजूद पेडन्यूज पर…

5 years ago

जनसंदेश टाइम्‍स गाजीपुर में भी नही टिक पाए राजकमल

जनसंदेश टाइम्स गाजीपुर के ब्यूरोचीफ समेत कई कर्मचारियों ने दिया इस्तीफा। लम्बे समय से अनुपस्थित चल रहे राजकमल राय के…

5 years ago

सोनभद्र के जिला निर्वाचन अधिकारी की मुख्य निर्वाचन आयुक्त से शिकायत

पेड न्यूज पर अंकुश लगाने की भारतीय प्रेस परिषद और चुनाव आयोग की कोशिश पर सोनभद्र के जिला निर्वाचन अधिकारी…

5 years ago

The cult of cronyism : Who does Narendra Modi represent and what does his rise in Indian politics signify?

Who does Narendra Modi represent and what does his rise in Indian politics signify? Given the burden he carries of…

5 years ago

देश में अब भी करोड़ों ऐसे लोग हैं जो अरविन्द केजरीवाल को ईमानदार सम्भावना मानते हैं

पहली बार चुनाव हमने 1967 में देखा था. तेरह साल की उम्र में. और अब पहली बार ऐसा चुनाव देख…

5 years ago

सुरेंद्र मिश्र ने नवभारत मुंबई और आदित्य दुबे ने सामना हिंदी से इस्तीफा देकर नई पारी शुरू की

नवभारत, मुंबई के प्रमुख संवाददाता सुरेंद्र मिश्र ने संस्थान से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपनी नई पारी अमर उजाला…

5 years ago