सुनील जी की कर्म स्थली केसला में 5 मई को अस्थि विसर्जन

सुनीलजी की कर्म स्थली केसला में (इटारसी से २० किमी) ५ मई को उनकी अस्थियों का विसर्जन  उनके निवास स्थान पर स्थित जलाशय में किया  जाएगा.  इस दिन उनके और उनके साथी जनारायण और किशनजी की याद में एक सम्मेलन भी रखा है. इस सम्मलेन में उनके काम को आगे बढ़ाने के बारे में विचार होगा. आप लोग ५ मई सुबह या ४ मई की रात तक केसला पहुंचें. स्थानीय साथियों का हौसला बढ़ाएं.  केसला इटारसी स्टेशन से २० किमी दूर है. अपने आने और जाने के समय की  सूचना दें. अपने साथ ओढने के लिए चादर ले आएं,  यहाँ हल्की-फुल्की व्यवस्था रखेंगे.

सुनील आधुनिक युग के गांधी थे. जो कहा, वही जिया.   ३४ साल पहले, १९८० में  अपने राजनैतिक गुरु किशन पटनायक के साथ समता संगठन में जुड़  'वैकल्पिक राजनीति'  का सपना देखा. जब शहर का बुद्धिजीवी और कार्यकर्ता इसे समझने और अपनाने को तैयार नहीं था, तब वो अपने साथी  राजनारायण के साथ इस प्रयोग को करने के लिए १९८४ से स्थायी रूप से केसला आकर रहने लगे. १९९० में राजनारायण और २००४ में किशनजी की मृत्यु हो गई.  और भी कई साथियों ने कई कारणों से उनका साथ छोड़ा, लेकिन वो अपने पथ पर अविरल चलते रहे. उनकी तमन्ना थी, लोकसभा चुनाव के बाद देश के बदलते राजनैतिक हालत को लेकर देश के जनसंगठन एक बार फिर एक हों. इस बात को लेकर वो अपने अंतिम दिनों तक बैचैन थे.  इस पत्र को उनसे जुड़े साथियों तक प्रसारित  करें.

अनुराग मोदी  

sasbetul@yahoo.com

09425041624

fagram 07869717160

rajendra 0942447101
 
अग्रेसित :

किसान आदिवासी विस्थापित एकता मंच।

सिंगरौली, मध्य प्रदेश।  

प्रेस विज्ञप्ति

B4M TEAM

Share
Published by
B4M TEAM

Recent Posts

गाजीपुर के पत्रकारों ने पेड न्यूज से विरत रहने की खाई कसम

जिला प्रशासन ने गाजीपुर के पत्रकारों को दिलाई पेडन्यूज से विरत रहने की शपथ। तमाम कवायदों के बावजूद पेडन्यूज पर…

5 years ago

जनसंदेश टाइम्‍स गाजीपुर में भी नही टिक पाए राजकमल

जनसंदेश टाइम्स गाजीपुर के ब्यूरोचीफ समेत कई कर्मचारियों ने दिया इस्तीफा। लम्बे समय से अनुपस्थित चल रहे राजकमल राय के…

5 years ago

सोनभद्र के जिला निर्वाचन अधिकारी की मुख्य निर्वाचन आयुक्त से शिकायत

पेड न्यूज पर अंकुश लगाने की भारतीय प्रेस परिषद और चुनाव आयोग की कोशिश पर सोनभद्र के जिला निर्वाचन अधिकारी…

5 years ago

The cult of cronyism : Who does Narendra Modi represent and what does his rise in Indian politics signify?

Who does Narendra Modi represent and what does his rise in Indian politics signify? Given the burden he carries of…

5 years ago

देश में अब भी करोड़ों ऐसे लोग हैं जो अरविन्द केजरीवाल को ईमानदार सम्भावना मानते हैं

पहली बार चुनाव हमने 1967 में देखा था. तेरह साल की उम्र में. और अब पहली बार ऐसा चुनाव देख…

5 years ago

सुरेंद्र मिश्र ने नवभारत मुंबई और आदित्य दुबे ने सामना हिंदी से इस्तीफा देकर नई पारी शुरू की

नवभारत, मुंबई के प्रमुख संवाददाता सुरेंद्र मिश्र ने संस्थान से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपनी नई पारी अमर उजाला…

5 years ago