आजतक के अलीगढ़ संवाददाता पंकज सारस्वत का यूं चले जाना स्तब्ध कर गया!

Parvez Sagar : वर्ष 2003-04 की बात है. आज तक के लिए स्टोरी कवर करने के लिए कई बार अलीगढ़ जाना होता था. तभी पहली बार पंकज सारस्वत से मुलाकात हुई थी. हमेशा कहते थे परवेज़ भाई जब अलीगढ़ आएं तो पहले ही फोन कर देना. वो हमेशा मेहमान नवाजी के लिए तैयार रहते थे. जब पहली बार पंकज से मिला तो उन्होंने अपनी क्रिकेट एकेडमी का प्लान बताया था. वो हमेशा पत्रकार होने के साथ-साथ एक अच्छे क्रिकेटर थे. जब सभी शहरों में रिपोर्टर रखने का सिलसिला शुरू हुआ तो पंकज अलीगढ़ के लिए हमारी पहली पसंद थे. उनके बारे में मुझसे पूछा गया तो मैने भी उनके लिए सहमति जताई. तभी से वो अलीगढ़ में आज तक के लिए काम कर रहे थे. इस दौरान पंकज ने वहां से कई लाजवाब ख़बरें की. कई एक्सक्लूसिव स्टोरीज में पंकज ने अलीगढ़ से विशेष योगदान दिया. अभी कुछ दिनों पहले ही पंकज ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर कुछ तलाकशुदा महिलाओं को लेकर हमारे नोएडा ऑफिस आए थे. एक लंबे अरसे बाद उनसे मुलाकात हुई थी. मगर ये नहीं पता था कि वो अचानक ऐसे दुनिया को अलविदा कह देंगे. जब-जब अलीगढ़ और कुछ खास ख़बरों को जिक्र होगा, पंकज… तुम हमेशा याद आओगे. विनम्र श्रृद्धांजलि. Pankaj Saraswat RIP

Sanjay Arya :  अलीगढ़ से आजतक के रिपोर्टर पंकज सारस्वत हम सब को छोड़कर चले गए। आजतक में ही मेरे मित्र परवेज सागर की फेसबुक वॉल पर उनके निधन का समाचार पढ़कर स्तब्ध रह गया। यकीन ही नहीं हो रहा है कि पंकज सारस्वत हमारे बीच नहीं रहे। पंकज से मेरा संबंध 2004 से था। अक्सर फ़ोन पर बात होती रहती थी। जब भी पंकज हरिद्वार आते थे तो पहले ही फ़ोन कर देते थे। पंकज खुशमिजाज, मिलनसार तो थे ही, गजब का व्यक्तित्व था उनका। हमेशा दूसरों को सहयोग करने के लिए तत्पर रहते थे। रिपोर्टर भी जबरदस्त थे। क्रिकेट उनमे जुनून की हद तक था। इसी जुनून की वजह से उन्होंने अपनी क्रिकेट एकेडमी शुरू की तो पीयूष चावला जैसे क्रिकेटर उन्हीं की अकेडमी से निकलकर टीम इंडिया पंहुचे थे। जब पीयूष चावला का चयन टीम इंडिया में हुआ था तब भी उन्होंने मुझे फ़ोन करके बताया था कि उनकी अकेडमी के पीयूष का चयन टीम इंडिया में हुआ है। अभी भी भरोसा नहीं हो रहा है कि पंकज भाई अब हमारे बीच नहीं रहे। सच में पंकज तुम हमेशा याद आओगे। ईश्वर पंकज को अपने श्री चरणों मे स्थान थे। अश्रुपूरित श्रद्धांजलि। ॐ शांति शांति शांति।

Dhirendra Pundir : पंकज सारस्वत के शांत हो जाने की दुखद खबर अभी सुनी। ईश्वर परिवार को दुख सहने की शक्ति दे। मुझे हमेशा याद रहोगे पंकज। अभी व्हाटएप्प चेक कर रहा था कि एटा के एक युवा पत्रकार का मैसेज देखा। मैसेज को पढ़ा तो एक बारगी सन्न रह गया। मैसेज में बताया गया था कि पंकज अब इस दुनिया में नहीं रहे। पकंज सारस्वत अलीगढ़ का एक ऐसा युवा पत्रकार जो हमेशा नए की तलाश में आपसे ज्यादा उत्साह दिखाता था। सालों पहले हरि जोशी जी ने फोन किया और कहा कि आप के यहां अलीगढ़ में एक जगह खाली है (उस वक्त मैं आजतक में था) एक लड़का आप रख सकते है। मैंने बायोडाटा मंगाया और आजतक में असाईंनमेंट को कह दिया। बाद में इंटरव्यू के बाद उस लड़के को रख लिया गया। कुछ दिन बाद मैं ऑफिस पहुंचा तो एक शख्स मेरी डेस्क पर बैठा था, मैंने कभी पहले नहीं देखा लेकिन वो एक दम से आदर से खड़ा हुआ और नमस्कार करके धन्यवाद कहने लगा। मैंने कहा कि दोस्त मैंने आपको पहचाना नहीं तो उसने कहा कि आप मेरे गुरू हैं इस संस्था में आपकी वजह से मैं आ पहुंचा हूं और मेरा नाम पकंज सारस्वत है। मैंने कहा कि बस यही शुभकामना है कि बेहतर काम करो। उसके बाद से पंकज के साथ काफी काम किया। ये बात अलग है कि आपको उसकी कार्यशैली से मतभेद हो सकते थे लेकिन उसकी समझ खबरों को समझने की और उस को जमीन से खोज कर लाने के लिए उसके कॉन्टेक्ट दांतों तले उंगली दबाने को मजबूर कर देते थे। हर खबर को जल्दी से जल्दी करने की उसकी आदत से कई बार मैं उन स्टिंग्स में झुंझला जाता था जिनमें पंकज मेरे साथ होता था। क्रिकेट जगत में उसके संबंधों और क्रिकेट की दुनिया में अपने कदम जमाने के उसके संघर्षों से मैं तभी रूबरू हुआ था। किस तरह से आर्थिक हालात ने उसके बचपन के सपनों को एक जगह से ऊपर जाने नहीं दिया था लेकिन उसके बाद के उसके संघर्ष ने उसको मौजूदा मुकाम तक ला दिया था। मेरे चैनल बदलने के बावजूद उसका मेरे लिए आदर कभी कम नहीं हुआ था। जब भी मैं उसको फोन करता था उसका एक वाक्य हमेशा होता था कि सर आप कभी भी फोन कर कुछ भी बोल सकते हैं, फोन के इस तरफ से आपको कभी ना नहीं मिलेगी। हाल में ही जब भी पंकज से बात होती थी वो अपने बेटे को लेकर बहुत उत्साहित रहता था। बेटा बेहतरीन क्रिकेट खेल रहा है। उसको मिले अवार्ड को लेकर कई बार चर्चा हुई। हाल ही में उत्तरप्रदेश के चुनावों के दौरान अलीगढ़ जाते ही सबसे पहला फोन पंकज को ही किया। पंकज हाजिर। सब समस्याओं के समाधान के साथ पंकज हाजिर होता था। पंकज को कहीं बेहद जरूरी काम से बाहर जाना था लेकिन पंकज ने एक दिन के लिए अपना काम टाल दिया। फिर उस दिन काफी बातें हुई। अगले दिन प्रदीप के साथ रहा और शाम को निकलने के वक्त पंकज के घर पहुंच कर चाय पी कर ही अलीगढ़ से बाहर निकला। उसके बाद एक दो बार पंकज का फोन आया लेकिन मेरी बात हो न सकी। ऐसे में ये खबर काफी दर्द से भरी हुई है। एक दम स्वस्थ और जिंदगी से भरे हुए पत्रकार, सपने देखते हुए बाप और परिवार की जिम्मेदारी संभाल रहे एक व्यक्ति को इस तरह से अचानक जाते हुए देखना काफी दुखद है। मेरे लिए ये और भी दुखद इसलिए है कि मुझे पंकज के न रहने की सूचना कई दिन बाद ही मिल पाई। मैं सिर्फ यही कह सकता हूं कि इतनी जल्दी नहीं जाना था पंकज। आपके परिवार को अभी बहुत जरूरत थी। दोनों बेटों और बेटी को तुम्हारी ऊंगिलयों के सहारे काफी सफर तय करना था। लेकिन ये सफर जैसे तुमने बहुत जल्दी खत्म कर दिया। अलविदा पंकज। जहां भी रहो खुश रहो, अपनी ऊर्जा से भरे हुए रहो। ईश्वर पंकज के परिवार को ये दुख सहने की शक्ति दे।

Saleem Saifi : दुःखद। पंकज एक अच्छे क्रिकेट कोच भी थे और अपने खिलाड़ियों को आगे लाने का प्रयास करते करते ही पत्रकारों के संपर्क में आये और पत्रकार बन गए। मुझे याद है कि पंकज ने क्रिकेट स्टार बनाने के लिए पीयूष चावला के लिए मेरे से अनुरोध किया कि एक बार पीयूष चावला को आजतक पर दिखा दो, उसका कॅरियर बन जायेगा। मैं आजतक का पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी के तौर पर कवरेज के लिए सहमत हो गया और श्वेता सिंह व विक्रांत गुप्ता की मदद से पीयूष चावला को पहली बार 30 मिनट के एक स्पेशल प्रोग्राम के रूप में किसी न्यूज़ चैनल पर देखा और पीयूष चावला देखते देखते क्रिकेट स्टार बन गया। भुवनेश और प्रवीण कुमार के लिए भी पंकज ने बहुत प्रयास किये।

Deepak Sharma : प्रिय मित्र और आजतक के अलीगढ के प्रतिनिधी पंकज सारस्वत के आकस्मिक निधन की दुखद खबर। पत्रकार होने के अलावा वे बेहतरीन क्रिकेट कोच भी थे। पियूष चावला जैसे भारतीय क्रिकेटर उनके शिष्य रहे। ईशवर उनकी आत्मा को शान्ति दे।

सौजन्य : फेसबुक



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करें-  https://chat.whatsapp.com/JYYJjZdtLQbDSzhajsOCsG

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Comments on “आजतक के अलीगढ़ संवाददाता पंकज सारस्वत का यूं चले जाना स्तब्ध कर गया!

Leave a Reply to Shahid khan Cancel reply

Your email address will not be published.

*

code