A+ A A-

  • Published in प्रिंट

Abhishek Srivastava : हिंदी के अखबारों के संपादकीय पन्नों के कंटेंट का जातिवार विश्लेषण किया है न्यूजलांड्री ने। इसके लिए Atul Chaurasia विशेष बधाई के पात्र हैं। Newslaundry Hindi में  ''लिंग, धर्म और जाति के खलनायक हिंदी पत्रकारिता के नायक'' शीर्षक से प्रकाशित विश्लेषण के लिए Rohin और उनके साथी पत्रकार अमित ने काफी अहम अध्ययन किया है। इसे पढ़ा जाए और संजो कर रखा जाए। आगे दिए लिंक पर क्लिक करें : hindi newspaper editorial content

मीडिया विश्लेषक अभिषेक श्रीवास्तव की एफबी वॉल से.

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found

Latest Bhadas