Categories: प्रिंट

सच कौन बोल रहा, पत्रिका या भास्कर? एक ने लिखा- बुरे दिन, एक ने कहा- अच्छे दिन!

Share

भीलवाड़ा के दो प्रमुख अखबारों में कल एक ही दिन एक ही विषय को लेकर दो बड़ी खबरें प्रकाशित हुईं. मगर पाठकों के सामने असमंजस की स्थिति ये है कि वे किस खबर पर भरोसा करें. किस खबर को मानें सत्य.

पत्रिका अखबार लिख रहा है कि मांग के घटने से कपड़ा कारोबार पर संकट आ गया है.

वहीं दैनिक भास्कर लिख रहा है कपड़े की मांग के बढ़ने से व्यापारियों में उत्साह का संचार हो गया है.

यानि एक ही कारोबार को लेकर विरोधाभासी रिपोर्टिंग की गई है. एक ने कपड़ा कारोबार के लिए बरे दिन बताया तो दूसरे ने अच्छे दिन आए घोषित कर दिया.

देखें दोनों अखबारों में प्रकाशित खबरें-

Latest 100 भड़ास