स्वराज एक्सप्रेस के संचालकों ने सेलरी हड़प ली, 70 मीडियाकर्मी भुखमरी की कगार पर!

-पंकज कुमार झा-

कोविड से जान और रोज़गार जाने के इस समय में एक और बुरी ख़बर। एक चैनल था कल तक ‘स्वराज एक्सप्रेस न्यूज़’ (नेशनल) के नाम से। दिग्विजय सिंह का था, ऐसा कहा जाता है। अमृता सिंह उसे हेड कर रही थी। राज्यसभा चैनल के एक पूर्व सीईओ गुरदीप सिंह सप्पल भी इसमें काम कर रहे थे।

विनोद दुआ भी वहीं काम कर रहे थे, अनुमानतः पचास लाख सालाना के पैकेज पर। कांग्रेस की सरकार वाले राज्यों में कार्यालय भी था। कांग्रेस का इसे नवजीवन/हेराल्ड समझिये। बहरहाल।

विनोद दुआ और श्रीमती दिग्विजय के लिए पैसे की कोई कमी नहीं है। इसलिए इन लोगों के लिये चैनल चले या बंद हो, किसी किस्म के संकट जैसी कोई बात नहीं है। लेकिन… लेकिन तकलीफ़ यह है कि जिनके लिए यह चैनल दाल-रोटी था, ऐसे क़रीब 70 लोग एक झटके में बेरोज़गार हो गए।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार कोई नोटिस या मोहलत आदि की बात तो छोड़िए, पिछले कई महीनों का वेतन भी नही मिला है इन लोगों को। मकान किराया, राशन, दवा… आदि कैसे चलेगा इससे प्रभावित होने वाले वास्तविक श्रमजीवियों का, सोचिये ज़रा।

दिग्विजय सिंह को अपना दिल बड़ा करते हुए इसमें कार्यरत पत्रकारों/कर्मचारियों के पुराने बक़ाया समेत कम से कम छः महीने के वेतन के बराबर राशि सबको देना चाहिये। राजा राघोपुर की अथाह सम्पत्ति में से इससे कुछ नही घटेगा लेकिन, जिन पत्रकारों की बदौलत दिग्गी सुर्ख़ियों में रहते आए हैं, उनमें से कुछ का भी दुःख दर्द बाँट कर दिग्विजय ज़रा प्रायश्चित कर सकते हैं।

राइट विंग के चिंतक पंकज कुमार झा की एक एफबी पोस्ट के संपादित अंश.

स्वराज एक्सप्रेस चैनल के संचालक गुरदीप सप्पल का जवाब पढ़ें-

स्वराज एक्सप्रेस बंदी पर संचालक गुरदीप सप्पल ने तोड़ी चुप्पी, पढ़ें उनका पक्ष

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

One comment on “स्वराज एक्सप्रेस के संचालकों ने सेलरी हड़प ली, 70 मीडियाकर्मी भुखमरी की कगार पर!”

  • स्वराज के सप्पल, विनोद दुआ देश भर के मोदी विरोधियों को जुटा कर ऐसे बकैती बतियाते थे कि मोदी दे बड़ा भर्स्ट भारत मे न कोई हुआ है ना कोई होगा। मोदी ने पूरे देश, समाज, किसान, युवा, उद्योग, अर्थ व्यवस्था, विदेश में साख, देश की सुरच्छा सब बर्बाद कर दिया।
    और खुद सबसे बड़े चोर निकले। सभी स्टाप का पैसा मार बैठे। मारा तो बेचारा कर्मचारी गया। कहा जायेगा नोकरी मांगने। जहाँ जाएगा वहाँ लोग यही कहेंगें वो देश को नीचा दिखाने देने वाले चैनल से आया है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *