पत्रकार ने बताई अपनी आपबीती, इस घटना से आप ले सकते हैं यह सबक

कल एक भाई को गुजरात से इलाहाबाद जाना था तो वह वाया दिल्ली होते हुए जा रहा था. ट्रेन पोरबंदर से दिल्ली सराय रोहिल्ला के लिए थी और उसे अगली ट्रेन आनंद विहार टर्मिनल से पकड़ना था. उन्हें रास्ते का बिल्कुल आईडिया नहीं था और ट्रेन की टाइमिंग को देखते हुए मैने यह तो अंदाजा लगा …