Samruddha Jeevan Fraud : अब तो मान लीजिए ‘समृद्ध जीवन’ फ्रॉड चिटफंड कंपनी है, पढ़ें ये 30 पेज की सरकारी जांच रिपोर्ट

कथित मुख्यधारा के मीडिया घराने चिटफंड कंपनियों के हजारों करोड़ रुपये के फ्राड पर लंबी चुप्पी साधे रहते हैं, दिखाते भी हैं तो बस दो चार सेकेंड के लिए या नीचे पट्टी पर चला कर मुंह सिल लेते हैं. वैसे तो छोटे व गैर-जरूरी मसलों पर दिन भर मुंह फाड़े चिल्लाते रहते हैं लेकिन चिटफंड कंपनियों के फर्जीवाड़े के खुलासे पर इन्हें सांप सूंघा रहता है. इसकी बड़ी वजह चिटफंड कंपनियों से मीडिया हाउसों की सेटिंग हैं. हजारों करोड़ रुपये के फर्जीवाड़े में घिरी चिटफंड कंपनियां मीडिया हाउसेज को मुंहमागी कीमत देकर उनका मुंह बंद रखने का काम करती हैं. इसी कारण लुटेरी चिटफंड कंपनियों के फ्राड पर न कभी कोई ‘प्राइम टाइम’ होता है, न कभी कोई ‘विशेष’ आता है और न ही ‘आज की बात’ होती है. ‘धड़ाधड़’ और ‘फटाफट’ खबरों में भी चिटफंड कंपनियों के फ्राड की खबरों पर खूब कृपा करके उन्हें बख्श दिया जाता है.

अब जबकि सहारा के श्री महोदय जेल में हैं और छूट नहीं पा रहे हैं, पीएसीएल पर अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना लगा है, निवेशकों को पचास हजार करोड़ रुपये लौटाने के आदेश को कायम रखा गया है, साईं प्रसाद की मालकिन धोखाड़ी के आरोप में जेल जा चुकी हैं, समृद्ध जीवन फूड्स को भी पैसे लौटाने के आदेश सेबी ने दिए हैं, आपको अब एक नई खबर बताते हैं. यह खबर समृद्ध जीवन से जुड़ी हुई है. लाइव इंडिया नामक चैनल संचालित करने वाली यह कंपनी देश के कई राज्यों में अवैध तरीके से हजारों करोड़ रुपये की उगाही करने में जुटी है. सारे नेता, अफसर, एजेंसियां चुप्पी साधे हैं क्योंकि सबको महीना पहुंच रहा है. इस समृद्ध जीवन कंपनी के कारनामों को लेकर एक सरकारी संस्था ने जो जांच की है, उसकी जांच रिपोर्ट भड़ास के पास है. इस जांच रिपोर्ट में इस कंपनी के देश विरोधी, जन विरोधी, अवैध और अनैतिक कारनामों का खुलासा किया गया है. इस जांच रिपोर्ट के हर पन्ने को यहां प्रकाशित किया जा रहा है. शुरुआत पहले पन्ने से करते हैं…

अगला पेज पढ़ने के लिए नीचे लिखे Next पर क्लिक करें.

‘भड़ास ग्रुप’ से जुड़ें, मोबाइल फोन में Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “Samruddha Jeevan Fraud : अब तो मान लीजिए ‘समृद्ध जीवन’ फ्रॉड चिटफंड कंपनी है, पढ़ें ये 30 पेज की सरकारी जांच रिपोर्ट

Leave a Reply to Ajay kumar mundotiya Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *